आज हम एक ऐसे पर्व पर इकट्ठे हुए हैं जो एक प्रकार से त्रिगुण है, त्रिवेणी है। आज ही का पवित्र दिवस बुद्ध पूर्णिमा का है, जब भगवान बुद्ध ने देह धारण किया था। आज ही का पवित्र दिवस है, जब भगवान बुद्ध ने संबोधि प्राप्त की थी और आज ही का दिवस जब भगवान ने देह मुक्ति कर दिव्यता की ओर परायण कर दिया था। लेकिन आज हम इस उमंग भरे पर्व पर कुछ बोझिल सा भी महसूस करते हैं, बोझिल सा इसलिए महसूस कर रहे हैं कि जिस धरती पर भगवान बुद्ध का जन्म हुआ, वो हमारा सबका प्यारा नेपाल एक बहुत बड़े संकट से गुजर रहा है। ये यातना कितनी भयंकर होगी उसकी कल्पना करना भी कठिन है और कितने लंबे समय तक नेपाल के इन पीड़ित बंधुओं को इन यातनाओं से जूझना पड़ेगा इसका भी अंदाज करना कठिन है। लेकिन भगवान बुद्ध ने जो करुणा का संदेश दिया है विश्व की मानव जाति के लिए उस करुणा को जीने का एक मौका भी है। उसी करुणा से प्रेरित होकर के नेपाल के बंधुओं के दुख-दर्द को हम बांटें, उनके आंसुओं को पोंछें और उन्हें भी एक नई शक्ति प्राप्त हो, इसके लिए आज हम भगवान बुद्ध के चरणों में प्रार्थना करते हैं।

जब भगवान बुद्ध की चर्चा होती है तब ये स्वाभाविक है कि आज के युग में उन्होंने जो कहा था, उन्होंने जो जिया था और उन्होंने जीने के लिए जो प्ररेणा दी थी क्या आज के मानव-जाति को, आज के विश्व को, वो उपकारक है क्या? और हम देखिए तो जीवन का कोई भी विषय ऐसा नहीं जिसमें आज भी बुद्ध प्रस्तुत न हो? अगर युद्ध से मुक्ति पानी है तो बुद्ध के मार्ग से ही मिलती है। कभी-कभार लोगों का भ्रम होता है कि सत्ता और वैभव, समस्याओं का समाधान करने के लिए पूर्ण होती है लेकिन भगवान बुद्ध का जीवन इस बात को नकारता है। भगवान बुद्ध को संबोधि प्राप्त करने का अवसर हम सबको विदित है लेकिन भगवान बुद्ध के एक-एक आचरण में ऐसा लग रहा है कि वो पहले से ही.. उनके मन की भूमि तैयार थी। बारिश आने के बाद, बीज बोने के बाद फसल होना, ये हमारे ध्यान में होता है लेकिन उस धरती की अपनी एक ताकत होती है, उसका अपना एक समार्थ्य होता है जो बाद में उर्वरा का रूप ले, तब हमारे ध्यान जाता है।

भगवान बुद्ध में लग रहा है कि जन्मकाल से ही एक प्रकार से वो संबोधि को प्राप्त होकर के आए थे और विधिवत रूप से संबोधि प्राप्त करने का अवसर जो दुनिया की नजर में कोई और था ..वरना क्या कारण था कि जो व्यक्ति स्वंय राज परिवार में पैदा हुआ हो, जो व्यक्ति स्वंय युद्ध-विद्या में पारंगत हो, जो व्यक्ति जिसके पास अपार सत्ता हो, अपार संपत्ति हो, उसके बाद भी मानव कल्याण के लिए ये पूर्ण नहीं है, कुछ और आवश्यक है, इससे भी परे कुछ ताकत है और उस ताकत की ओर जाना अनिवार्य है, ये जब दृढ़ विश्वास भीतर होता है.. कितना बड़ा conviction होगा, कितना बड़ी courage होगी कि पल भर में ये सब कुछ छोड़ देना, राज-वैभव, सत्ता, पैसे, सब कुछ छोड़ देना और निकल पड़ना। इन सबसे भी ऊपर कोई शक्ति है जो मानव के काम आएगी, मानव-कल्याण के काम आएगी। ये विचार छोटा नहीं है। जब भगवान बुद्ध की तरफ देखते हैं, एक सातत्य नजर आता है। भीतर की करुणा उनके रोम-रोम में प्रतिबिंबित होती थी, प्रवाहित होती थी। बुद्ध जो कभी सिद्धार्थ के रूप में पल रहे थे, राज-पाठ के बीच पल रहे थे।

सिद्धार्थ और देवव्रत दो भाई शिकार करने के लिए जाएं और बुद्ध के दर्शन वहीं हो जाते हैं कि जब शिकार करते समय देवव्रत के तीर से एक हंस मारा जाता है और सिद्धार्थ उसको बचाने के लिए अपना जीवन खपा देते हैं, उनके भाई शिकार करने के आनंद में मशगूल होना चाहते हैं.. और तब अपने सगे भाई के प्‍यार वगैरह सब छोड़ करके, अपने सिद्धांतों का रास्‍ता, बचपन में एक बच्‍चा पकड़ लेता है और कहता है कि नहीं! मारने नहीं दूंगा! अगर भीतर से करुणा प्रवाहित न हुई होती, अगर जीवन करुणा से प्रेरित न हुआ होता, प्रभावित न हुआ होता तो ये घटना संभव नहीं होती क्‍योंकि राजघराने में जिस प्रकार का लालन-पालन होता है, युद्ध की विभीषिकाओं के बीच जीने की जिनको तैयारी रखनी होती है, जिसको शस्‍त्र से सुसज्जित किया जाता है, वो व्‍यक्ति एक पंछी के लिए इतनी करुणा प्रकट करता हो और सगे भाई को छोड़ने के लिए तैयार हो जाता है, तब उस करुणा की तीव्रता कितनी ऊंची होगी, इसका अंदाज आता है। ये भाव ही तो है, यही तो ताकत है जो उसको राज-पाट छोड़ने के लिए प्रेरित करती है.. और जीवन का अंतकाल देखिए, करुणा की तीव्रता देखिए कि वे बाल्‍यकाल में राजघराने के जीवन में जीने के बाद भी करुणा को प्रकट करते हैं और जीवन के अंतकाल में कोई व्‍यक्ति अज्ञानवश उनके कान के अंदर कीलें ठोक देता है तब भी.. स्‍वयं वेदना से पीड़त थे, शरीर कराह रहा था.. कान में कीलें ठोक देना कितनी बड़ी दर्दनाक पीड़ा होगी, इसका अंदाज कर सकते हैं लेकिन तब भी वही करुणा प्रतिबिंबित होती है जो अपने सगे भाई के समय हुई थी। उस मारने वाले के प्रति भी वही करुणा प्रकट होती है। जीवन कितना एकसूत्र था, एकात्‍मता का वो आदेश देते थे। इस एकात्‍मता की अनुभूति जीवन के आखिर काल तक कैसे हुई इसका हम अंदाज कर सकते हैं।

आज पूरे विश्‍व में एक चर्चा है कि 21वीं सदी एशिया की सदी है और इसमें कोई दुविधा नहीं दुनिया में, मतभेद नहीं। इस विषय में सभी मानते है कि 21वीं सदी एशिया की है। इसमें मतभेद हो सकता है कि किस देश की होगी किस देश की नहीं, लेकिन एशिया की होगी इसमें कोई मतभेद नहीं है। जिन लोगों ने ‘21वीं सदी एशिया की सदी’ की कल्‍पना की है, शायद उन्‍होंने एक पहलू की ओर नहीं देखा। बुद्ध के बिना कभी एशिया की सदी 21वीं सदी नहीं बन सकती। बिना बुद्ध न ‘21वीं सदी एशिया की सदी’ हो सकती है.. और बुद्ध ही है जो ‘21वीं सदी एशिया की सदी’ को विश्‍व में एक प्रेरणा का कारण बना सकते हैं और वो प्रेरणा क्‍या है? विश्‍व संकटों से जूझ रहा है, एक-दूसरे की मौत पर उतारू हैं, हिंसा अपनी चरम सीमा पर है। विश्‍व का भौतिक भू-भाग रक्‍तरंजित है, तब करुणा का संदेश कहां से आएंगा? मरने-मारने की इस मानसिकता के बीच प्रेम का संदेश कौन दे पाएंगा और वो कौन ताकत है, कौन सी शख्सियत है जिसकी बात को दुनिया स्‍वीकारने के लिए तैयार होगी, तो जगह एक ही दिखती है। किनारा एक ही जगह पर नज़र आता है, वो है- बुद्ध। मानव जाति जिन संकटों से गुजर रही है उसके लिए भी, विश्‍व को भी रास्‍ता दिखाने के लिए ये मार्ग है। अपने ही जीवनकाल में कोई विचार इतना प्रभावी हो सकता है क्‍या? नहीं हो सकता है। दुनिया के ढेर सारे विचार प्रवाहों को हम देख लें, उस विचार के जनक के कार्यकाल में.. वो विचार न इतना फैला है, न इतना प्रचारित हुआ है। बाद में उनके शिष्‍यों के द्वारा फैला होगा। शासकीय व्‍यवस्‍थाओं के माध्‍यम से फैला होगा लेकिन किसी व्‍यक्ति के जीते-जी.. अगर वो कोई नाम है, तो एक ही नाम है पूरे विश्‍व में, वो है बुद्ध। विश्‍व के कितने बड़े भू-भाग पर ये विचार-प्रभाव पहुंच चुका है और जन-सामान्‍य की प्रेरणा का, श्रृद्धा का केंद्र बन चुका है। उस अर्थ में ये मानना होगा कि बुद्ध के साथ जितनी बातें जुड़ी हुई हैं.. कभी-कभार इस पहलू को देखते हैं तो लगता है कि बुद्ध ज्ञान-मार्गी भी थे। जब तक Conviction नहीं होता, जब तक विचारों के तराजू पर चीज़ें तौली नहीं जातीं, जब तक comparative study करके better decide नहीं होता है तब तक दुनिया अपने आप चीज़ों को स्‍वीकार नहीं करती है। बुद्ध की बातों में ज्ञान मार्ग की ताकत थी, तभी तो विश्‍व ने उनको स्‍वीकार किया होगा, विश्‍व ने तराजू पर तौल कर स्‍वीकार किया होगा।

उस समय सामाजिक जीवन में भी बुराइयां.. और बुराइयों को अतिरेक था। आशंकाओं का दौर चलता था। भू-विस्‍तार एक सहज राज्‍य प्र‍वृत्ति बन गई थी। ऐसे समय, यानी ऐसे विपरित समय में त्‍याग की चर्चा करना, मर्यादाओं की चर्चा करना, प्रेम और करुणा का संदेश देना और सामाजिक सुधार की बात करना.. जिन मुद्दों को लेकर आज भी हम हिन्‍दुस्‍तान में चर्चा करते हैं, ढाई हज़ार साल पहले भगवान बुद्ध ने भी इन मुद्दों को स्‍पर्श किया था।

मैं अभी-अभी.. यहां जब मुझे किताब दी गई तो मैं पढ़ रहा था, एक चीज़ से मैं प्रभावित हुआ, मुझे लगता है कि मैं आपको बताऊं। एक स्‍थान पर लिखा है- ‘‘पर कल्‍याण के बिना भविष्‍य और परलोक जैसे तो दूर की बात है, इसी जीवन की अर्थ-सिद्धि भी नहीं हो सकती।’’ मरने के बाद के सुख की बात छोड़ो, इस जीवन में भी सुख नहीं मिल सकता। आगे कहा है- क्‍यों, कैसे- ‘‘मज़दूरी के अनुसार, काम न करने वाला मज़दूर और काम के अनुसार या समय पर मज़दूरी न देने वाला स्‍वामी, दोनों अपने ऐहिक अर्थ भी सिद्ध नहीं कर सकते हैं।’’ दुनिया में जो लोग एक मई मनाते हैं, पहली मई मनाते हैं, उन्‍होंने कभी कल्‍पना की होगी कि ढाई हजार वर्ष पहले मज़दूरों के संबंध में और मज़दूर के संबंध में भगवान बुद्ध क्‍या विचार रखते थे।

जाति प्रथा हो, ऊंच-नीच का भाव हो, अच्‍छे-बुरे की चर्चा हो, भगवान बुद्ध उस विषय में बड़े संवेदनशील थे। .. और क्‍या चाहते थे! एक जगह पर उन्‍होंने कहा है- ‘‘दूसरों से अपमानित अल्‍प ओजस्‍वी लोग महान ओजस्‍वी बनें’’ क्‍या इच्‍छा है! जो अपमानित होते है, अल्‍प ओजस्‍वी है वे लोग महान ओजस्‍वी बनें और ‘‘धूप, हवा या परिश्रम से पीडि़त कुरुप लोग सुदंर बनें’’ मज़दूरी करते-करते, पसीने से लथपथ रहते जिनका चेहरा-मोहरा मलिन हो गया है.. वो चाहते हैं कि ये लोग सुधरें, यानी हर पल.. दलित, पीडि़त, शोषित, वंचित यहीं लोग उनके दिल के अंदर जगह बनाते रहें। आगे एक जगह पर कहते हैं.. महिलाओं के गौरव की बात को किस ढंग से उन्‍होंने रखा है। आगे एक जगह पर कहते हैं.. महिलाओं के गौरव की बात को किस ढंग से उन्होंने रखा है, women empowerment की चर्चा कैसे की है, अपने तरीके से की है, युग-युग के अनुरूप कही है। उन्होंने कहा है- ‘‘इस लोक में जितनी स्त्रियां हैं, वे अगले जन्म में पुरुष बनेंगी, जिनको आज नीच जन्म वाला माना जाता है, वो अगले जन्म में उच्च जन्म-धारण करेंगे’’ और आगे बड़ा महत्वपूर्ण कहते हैं, ‘‘ये सब होने के बाद भी वे कभी अभिमान को प्राप्त न करेंगे।’’ आप देखिए, मैं तो ऐसे ही बैठे-बैठे देख रहा था लेकिन समाज का तरफ देखने का उनका रवैया क्या था? समाज में परिवर्तन चाहते थे, एक evolution चाहते थे, एक उत्क्रांति चाहते थे, व्यक्ति का जीवन भी उर्द्धवगामी पर जाए, समाज-व्यवस्था भी उर्द्धवगामी हो, ये उनका प्रयास था। बुद्ध का समयानुकूल संदेश ये ही था कि ‘एकला चलो रे’ ये परिणाम नहीं ला सकता है, वे संगठन के आग्रही थे और बाबा साहेब अंबेडकर से भी यही मंत्र दुनिया को मिला है, संगठित होने का.. और इसलिए जब भी बुद्ध की बात आती है तो- बुद्धम शरणं गच्छामि, धम्मं शरणं गच्छामि, संगम शरणं गच्छामि ये मंत्र बार-बार हमारे सामने आते हैं। संगठन की शक्ति को और इस रूप में जैसे वो ज्ञानमार्गी थे, वे एकात्ममार्गी भी थे। वे एकात्मता में विश्वास करते, जितने लोगों को जोड़ सकते हैं, जोड़ने में विश्वास रखते थे और उसी से एक संगठन की शक्ति को रूप देने का उनका प्रयास है।

भगवान बुद्ध ने व्यक्ति के विकास के लिए भी जो मंत्र दिया है, मैं समझता हूं कि इससे बड़ा कोई संदेश नहीं हो सकता है। आज दुनिया की कितनी ही management की किताबें पढ़ लीजिए, व्यक्ति विकास के लिए कितनी ही lecture, कितनी ही ग्रंथों को ऊपर-नीचे कर लीजिए, मैं समझता हूं कि बुद्ध का एक मंत्र इसके लिए काफी है। एक तराजू में व्यक्ति विकास के सारे विचार रख दीजिए, सारे ग्रंथ रख दीजिए और दूसरे तराजू में भगवान बुद्ध का एक तीन शब्द का मंत्र रख दीजिए, मैं समझता हूं तराजू बुद्ध की तरफ ही झुकेगा। वो क्या मंत्र था? व्यक्ति विकास का उत्तम मंत्र था ‘अप्प दीपो भव’ मैं समझता हूं ‘अप्प दीपो भव’ से ऊपर व्यक्ति के जीवन की उर्द्धवगामी यात्रा के लिए और कोई रास्ता नहीं हो सकता है और उस अर्थ में मैं कहूं कि स्वंय भगवान बुद्ध.. कुछ लोग कहते हैं कि वो पूर्व के प्रकाश थे, ज्यादा इस रूप से उनको वर्णित किया जाता है लेकिन मैं मानता हूं कि शायद उनको पूर्व के प्रकाश कहते समय हमारी कल्पना शक्ति की मर्यादा नजर आती है, हमारी कल्पनाशीलता की मर्यादा नजर आती है। लगता तो ऐसा है कि पूरे ब्राहमांड के लिए वो तेज पुंज थे। जिस तेज पुंज में से, समय-समय पर जिसकी जैसी क्षमता प्रवाहित होने वाले प्रकाश को वो प्राप्त करता था और इसलिए वो अपने-आप में एक तेज पुंज थे, उस तेज पुंज से प्रकाश पाकर के हम भी उस दिव्य मार्ग को कैसे प्राप्त करें, जिसमें करुणा हो, जिसमें साथ लेने का स्वभाव हो, जिसमें औरों के लिए जीने की इच्छाशक्ति हो और उसके लिए त्याग करने का मार्ग हो।

बुद्ध ने हमें ये जो रास्ते दिखाए हैं, उन रास्ता को लेकर के जब हम चलते हैं तब.. भगवान बुद्ध ने अष्टांग की चर्चा की है और मैं मानता हूं कि अष्टांग के मार्ग को जाने बिना, पाए बिना बुद्ध को नहीं पा सकते हैं और उस अष्टांग मार्ग में भगवान बुद्ध ने जो कहा है एक सम्‍यक दृष्टि, दूसरा सम्‍यक संकल्प, तीसरा सम्‍यक वाणी, चौथा सम्‍यक आचरण, पांचवा सम्‍यक आजीविका, सम्‍यक प्रयत्न, सम्‍यक चेतना, सम्‍यक ध्यान, ये अष्ट मार्ग.. right view, right thought, right speech, right conduct, right livelihood, right effort, right conciseness, right construction ..भगवान बुद्ध ने ये अष्ट मार्ग हमारे लिए सूचित किए हैं। आज भी United Nation अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस के लिए स्वीकृति देता है। दुनिया के 177 देश योगा दिवस को समर्थन करने के लिए और UN के इतिहास में इस प्रकार के resolution को इतना भारी समर्थन कभी पहले नहीं मिला है, इतने कम समय में कभी ऐसे विचार को स्वीकृति नहीं मिली है पूरे UN के इतिहास में, वो योग भी भोग से मुक्ति दिलाने का मार्ग है और योग, रोग से भी मुक्ति दिलाने का मार्ग है और वही एक कदम आगे बढ़ें तो ध्यान की ओर ले जाता है जिसकी और जाने के लिए भगवान बुद्ध हमें प्रेरित करते हैं और इस अर्थ में देखिए, आज के युग में जिन संकटों से हम जूझ रहे हैं, जिन समस्याओं से हम जूझ रहे हैं, उन समस्याओं का समाधान इन आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। पूरे एशिया में भी, मैं जहां भी इन दिनों जा रहा हूं, वो राज्य सरकारें, वो राष्ट्र की सरकारें एक बार मेरा कार्यक्रम बनाते समय जरूर ध्यान रखती हैं और मुझे भी अच्छा लगता है, जब वो ये करते हैं.. कहीं पर भी भगवान बुद्ध का मंदिर है तो मुझे जरूर वहां ले जाते हैं।

मैं मुख्यमंत्री था तो चीन गया था तो कोई कल्पना नहीं कर सकता है चीन में, चीन सरकार ने मेरा जो कार्यक्रम बनाया, उसमें एक शाम मेरी भगवान बुद्ध के मंदिर में बिताने के लिए आयोजित किया था। मैं अभी जापान गया तो, क्योटो में तो स्वंय वहां के प्रधानमंत्री जी आए, वहां के इस भगवान बुद्ध के मंदिर के परिसर को मुझे साथ लेकर के गए थे। अभी श्रीलंका गया, सभी बौद्ध भिक्षुओं के साथ मिलने का मुझे अवसर मिला और मैं देखता हूं कि कितनी बड़ी आध्यात्मिक चेतना है लेकिन बिखरी पड़ी है। समय की मांग है कि संकट से अगर विश्व को बचाने के लिए, बुद्ध का करुणा प्रेम का संदेश काम आता है तो ये शक्तियां सक्रिय होनी चाहिए और भगवान बुद्ध ने कहा था, उसी रास्ते पर संगठित भी होना चाहिए और तभी जाकर के सामर्थ्य प्राप्त होगा और मैं, ये अच्छा हुआ कि हमारे कुछ लोगों का ध्यान नहीं गया अभी तक वरना कई चीजें हमारे देश में विवाद का कारण बनाने में देर नहीं लगती है।

मैं गांधी नगर में मुख्यमंत्री था तो हमारा एक सचिवालय का नया परिसर बना है, उस परिसर में मैंने बहुत बड़ी एक भगवान बुद्ध की मूर्ति लगाई है, प्रवेश होते ही सामने है और मैं जिस मुख्यमंत्री के निवास में रहता था वहां पर भी प्रवेश पर सामने ही भगवान बुद्ध विराजमान हैं। अभी तक शायद इन लोगों का ध्यान नहीं गया वरना तो अब तक मेरी चमड़ी उधेड़ दी गई होती। शायद एक कारण ये है.. वो मेरे ज्ञान या जानकारियों के कारण नहीं है, कुछ बातें होती हैं, जो हमें पता भी नहीं होती है। मेरा जन्म जिस गांव में हुआ, तो जब हम बच्‍चे थे, पढ़ते थे तो यहां आए थे, यहां रहे थे.. थोड़े बड़े हुए तो पता चला कि ह्वेन सांग काफी समय मेरे गांव में रहे थे। क्‍यों रहे थे? तो फिर पता चला कि.. हमारी सामान्‍य Impression ये है कि भगवान बुद्ध पूर्वी क्षेत्र में थे लेकिन आपको यह जानकर आश्‍चर्य होगा कि भारत के दूर, सुदूर पश्चिमी क्षेत्र में, मेरे गांव में बौद्ध भिक्षुओं के लिए एक बहुत बड़ा हॉस्‍टल था और हजारों की तादात में बौद्ध भिक्षुओं की शिक्षा-दीक्षा का वहां काम होता था। तो ये सब ह्वेन सांग ने लिखा है।

मैं जब मुख्‍यमंत्री बना तो मुझे स्‍वाभाविक इच्‍छा हुई कि भई ये लिखा गया है तो यहां कुछ तो होगा। मैंने मेरे यहां पुरातत्‍व विभाग को कहा कि ज़रा खुदाई करो भई, देखों की क्‍या है। मुझे खुशी हुई कि वे सारी चीजें खुदाई में से मिल गईं। बुद्ध के स्‍तूप मिल गए, वहां के हॉस्‍टल भी मिल गए और ह्वेन सांग ने जो वर्णन किया था कि हज़ारों की तदात में लोग वहां शिक्षा-दीक्षा लेते थे। उसके बाद मैंने एक ग्‍लोबल Buddhist Conference की थी और बहुतेक बौद्ध भिक्षुओं को मैं उस जगह पर ले गया था। .. और मुझे ये भी खुशी थी कि हम एक जगह पर खुदाई कर रहे थे तो वहां से तो हमें भगवान बुद्ध के अवशेष मिले हैं। सोने की एक डिबिया मिली है जो अभी एमएस यूनिवर्सिटी में रखी गई है। भविष्‍य में सपना है कि भगवान बुद्ध के जो अवशेष हैं, वहां एक भव्‍य भगवान बुद्ध का एक मंदिर बने और विश्‍वभर में भगवान बुद्ध से प्रेरणा पाने वाले सबके लिए ये प्रेरणा का केंद्र बने।

तो मेरा नाता.. मैं हमेशा अनुभव करता हूं कि कुछ विशेष कारण से भगवान बुद्ध के साथ है, उन विचारों के साथ है, उस करुणा और प्रेम के रास्‍ते के साथ है। मुझे आज बुद्ध पूर्णिमा के इस पावन अवसर पर भगवान बुद्ध के चरणों में आ करके बैठने का अवसर मिला, उनका स्‍मरण करने का अवसर मिला और आप सबके दर्शन करने का अवसर मिला, मैं अपने आप को धन्‍य मानता हूं।

मैं फिर एक बार नेपाल के लोगों के लिए भगवान बुद्ध से प्रार्थना करता हूं कि मेरे पीडि़त भाईयों को बहुत शक्ति दें और बहुत ही जल्‍द हमारा ये प्‍यारा भाई ताकतवर बने और शक्तिशाली बन करके हि‍मालय की गोद में फले-फूले, यही प्रार्थना करते हुए मैं मेरी वाणी को विराम देता हूं।

बहुत-बहुत धन्‍यवाद

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India's Q3 GDP grows at 8.4%; FY24 growth pegged at 7.6%

Media Coverage

India's Q3 GDP grows at 8.4%; FY24 growth pegged at 7.6%
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Within 4 years, 11 crore new families across the country have got tap water facilities: PM Modi in Arambagh
March 01, 2024
Today when I came to Bengal, I can say that today's India is fulfilling his dream: PM Modi in Arambagh
India has risen from the 11th-ranked economy to the 5th-ranked economic power: PM Modi in Arambagh
Has the vote of some people become more important for you than the victims of Sandeshkhali: PM Modi targets TMC
Within 4 years, 11 crore new families across the country have got tap water facilities: PM Modi in Arambagh
West Bengal encourages corruption, encourages crime and in exchange for protection to criminals: PM Modi

तारकेश्वर महादेव की जय ! तारकेश्वर महादेव की जय !
आरामबाग वासि के आमार आंतरिक सुभेचा !
बोरोरा प्रोनाम एवं छोटो रा आमार भालोबाशा नेबेन !

सबसे पहले तो मैं मातृशक्ति को सामर्थ्य देने वाली इस भूमि को प्रणाम करता हूं। जहां बगल में ही खानाकुल में महान समाज सुधारक राजाराम मोहन राय जी ने जन्म लिया और नारीशक्ति के जीवन को नया सामर्थ्य दिया था। मैं खानाकुल की इस धरती को प्रणाम करता हूं। राजाराम मोहन राय की प्रेरणा से भारत की नारीशक्ति के कल्याण के लिए जी-जान से जुटा हुआ हूं।

भाइयों-बहनों, आप सभी इतनी बड़ी संख्या में हमें आशीर्वाद देने आए हैं, हम आपके बहुत-बहुत आभारी हैं। यहां कुछ नौजवान बहुत सुंदर-सुंदर चित्र बनाकर के लाए थे, वहां एक बेटी इतनी देर से भगवान जगन्नाथ जी का चित्र लेकर आई थी। आप सब का क्योंकि ये धरती तो रग-रग में कला आर्ट ये यहां की विशेषता है। मैं आप सबका आभारी हूं। लेकिन मैं अनुभव कर रहा हूं कि भावी पीढ़ी और वर्तमान युवा पीढ़ी आपका ये प्यार इन सबके प्यार का एक प्रतीक है। और इसीलिए मैं हृदय से आप सबका धन्यवाद करता हूं।

साथियों,
अब से कुछ देर पहले मुझे यहां 7 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्ट का उद्घाटन और शिलान्यास करने का सौभाग्य मिला है। इनमें रेल, पोर्ट, पेट्रोलियम और जल शक्ति से जुड़ी परियोजनाएं शामिल हैं। मैं बंगाल के आप सभी लोगों को इन परियोजनाओं के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

साथियों,
पश्चिम बंगाल, आज़ादी के आंदोलन की प्रेरणा स्थली रही है। गुलामी के विरुद्ध प्रखर नेतृत्व देने वाली यहां की हर संतान का सपना था कि भारत, विकास की नई ऊंचाई प्राप्त करे। आज मैं जब बंगाल आया हूं, तो कह सकता हूं कि आज का भारत, उनका ये सपना पूरा कर रहा है। बीते 10 साल में भारत, 11वें नंबर की इकॉनॉमी से ऊपर उठकर 5वें नंबर की आर्थिक ताकत बना है। G20 में कैसे भारत की जयजयकार हुई, ये हम सबने देखा है। आज भारत, स्पेस सेक्टर में अग्रणी बन रहा है। जो काम दुनिया का कोई देश नहीं कर पाया, वो हमारे चंद्रयान ने किया है। आज स्पोर्ट्स के क्षेत्र में भी भारत नए रिकॉर्ड बना रहा है। अब आज स्वतंत्र भारत में देश की समृद्धि और हमारा समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर फिर से पूरे गौरव से नई ऊंचाई प्राप्त कर रही है। और ये हम सभी का सौभाग्य है कि पांच सदियों के इंतजार के बाद, 500 साल के बाद प्रभु श्रीराम अपने भव्य मंदिर में विराजे हैं। पश्चिम बंगाल में जिस तरह रामलला का स्वागत हुआ, श्रीराम के प्रति बंगाल के लोगों की जो आस्था है, उससे पूरा देश प्रभावित है, प्रेरित है।

साथियों,
देश की इन उपलब्धियों के बीच, बंगाल की स्थिति भी आज पूरा देश देख रहा है। मां-माटी-मानुष ये इसके ढोल पीटने वाली TMC ने संदेशखाली की बहनों के साथ जो किया है, वो देखकर पूरा देश दुखी है, आक्रोशित है। और मैं कह सकता हूं कि राजाराम मोहन राय की आत्मा जहां भी होगी, इन लोगों के इन कारनामों को लेकर अत्यंत दुखी हुई होगी। क्योंकि इन्होंने संदेशखाली में जो किया राजाराम की आत्मा आज रोती होगी। TMC के नेता ने संदेशखाली में बहनों-बेटियों के साथ दुस्साहस की सारी हदें पार कर दीं। जब संदेशखाली की बहनों ने अपनी आवाज़ बुलंद की, ममता दीदी से मदद मांगी, उन्हें बदले में क्या मिला? मुख्यमंत्री दीदी ने, बंगाल सरकार ने TMC के नेता को बचाने के लिए सारी शक्ति लगा दी। बीजेपी के दबाव में इन सारे नेताओं ने रात-दिन लड़ाई लड़ी, माताओं-बहनों के सम्मान के लिए लड़ाई लड़ी, लाठियां खाई, मुसीबतें झेली, बीजेपी के दबाव में आखिरकार कल बंगाल पुलिस ने आपकी ताकत के सामने झुक करके उस आरोपी को गिरफ्तार करना पड़ा। TMC के राज में TMC का ये अपराधी नेता करीब-करीब दो महीने तक फरार रहा। कोई तो होगा न जो उनको बचाता होगा। क्या ऐसी टीएमसी को माफ करेंगे? ऐसी टीएमसी को माफ करेंगे? क्या माताओं-बहनों के साथ जो हुआ है, उसका बदला लेंगे कि नहीं लेंगे। लेंगे कि नहीं लेंगे। हर चोट का जवाब वोट से देना है। आज बंगाल की जनता यहां की मुख्यमंत्री दीदी से पूछ रही है। क्या कुछ लोगों का वोट, आपके लिए संदेशखाली की पीड़ित महिलाओं से भी ज्यादा अहम हो गया है? अरे शर्म आनी चाहिए।

बंगाल के मेरे भाइयों और बहनों,
मुझे सबसे ज्यादा हैरानी इंडी गठबंधन के बाकी नेताओं को देखकर होती है। इंडी गठबंधन के बड़े-बड़े नेता, संदेशखाली पर आंख-कान-मुंह गांधी जी के तीन बंदर की तरह बंद करके बैठे हैं। पटना, बेंगलुरू, मुंबई, न जाने कहां-कहां ये साथ मिलकर बैठकें करते हैं, लेकिन क्या लेफ्ट और कांग्रेस ने यहां की सरकार, यहां के मुख्यमंत्री से जवाब मांगने की हिम्मत की क्या? इन लोगों से संदेशखाली की इन बहनों की तरफ एक नज़र देखा भी नहीं गया। और आपने देखा है, कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने क्या है? आप सुनकर के चौंक जाएंगे। मेरी मताओं बहनों जो बंगाली में मेरा ट्रांसलेशन कर सकते हैं वो इन माताओं-बहनों को जरूर बताएं। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष कहते- अरे छोड़ो बंगाल में तो ये सबकुछ चलता रहता है। क्या ये बंगाल का अपमान है कि नहीं है। बंगाल की महान परंपरा का अपमान है कि नहीं है। बंगाल की महान संस्कृति का अपमान है कि नहीं है। बंगाल के वीर पुरुषों का अपमान है कि नहीं है। बंगाल के संस्कारप्रिय नागरिकों का अपमान है कि नहीं है। यही है सच्चाई कांग्रेस की, और इंडी गठबंधन की है।

साथियों,
इंडी गठबंधन के लिए, भ्रष्टाचारियों, परिवारवादियों और तुष्टीकरण करने वालों का साथ देना ही सबसे बड़ा काम है। TMC ने बंगाल में अपराध और भ्रष्टाचार का एक नया मॉडल पैदा कर दिया है। राज्य सरकार भ्रष्टाचार को बढ़ावा देती है, अपराध को बढ़ावा देती है, इतना ही नहीं अपराधियों को संरक्षण के बदले TMC नेताओं को भर-भर पर पैसे मिलते हैं। TMC ने यहां प्राइमरी टीचर्स की भर्ती में घोटाला किया, किया कि नहीं किया। घोटाला में किया कि नहीं किया। TMC ने यहां म्यूनिसिपैलिटी में भर्तियों में घोटाला किया कि नहीं किया, TMC ने यहां सरकारी समान की खरीद में घोटाला किया कि नहीं किया, TMC ने यहां गरीब को राशन देने में घोटाला किया कि नहीं किया, गरीब और मध्यम वर्ग की जमीन पर कब्जा करना हो, चिटफंड योजनाओं में घोटाला करना हो, बॉर्डर पर जानवरों की स्मगिलिंग करनी हो, TMC ने घोटाले और भ्रष्टाचार के लिए कोई क्षेत्र छोड़ा नहीं है। इसलिए देखो, TMC के मंत्रियों के घर से नोटों के ढेर निकल रहे हैं। नोटों के ढेर। आपने नोटों के ढेर देखे कि नहीं देखे। क्या कभी पहले नोटों के इतने बड़े ढेर देखे थे कभी, सिनेमा में भी देखे थे क्या। क्या कर दिया इन लोगों ने। और ऊपर से यहां की सरकार, केंद्रीय जांच एजेंसियों को भी जांच करने से रोकने के लिए हर हथकंडा अपना रही है। यहां की मुख्यमंत्री भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए धरने पर बैठ जाती हैं। TMC चाहती है कि केंद्र की योजनाओं में भी खूली लूट हो। मोदी इनकी मनमानी चलने नहीं दे रहा, इसलिए मोदी को TMC, अपना दुश्मन नंबर एक मानती है। अब आप मुझे बता दीजिए...मैं जरा आपको पूछता हूं। क्या ये TMC की लूट मैं चलने दूं क्या। ये TMC जो करती है वो करने दूं क्या। ये पैसा आपका है कि नहीं है। ये बंगाल के लोगों का पैसा है कि नहीं है। आपकी मेहनत का पैसा है कि नहीं है। क्या औरों को लूटने दूं क्या। अगर मैं लड़ाई लड़ता हूं तो सही करता हूं कि नहीं करता हूं। ये लुटेरों के पीछे कदम उठाता हूं अच्छा कर रहा हूं कि नहीं कर रहा हूं। मैं आज बंगाल को वादा कर रहा हूं, मेरी गारंटी है। ये लूटने वालों को लौटाना पड़ेगा। ये मोदी छोड़ने वाला नहीं है। और मोदी न इनकी गालियों से डरता है, इनके हमलों से डरने वाला रुकने वाला मोदी नहीं है। मैंने पश्चिम बंगाल की बहनों, पश्चिम बंगाल के गरीब, पश्चिम बंगाल के युवाओं को गारंटी दी है। मोदी की गारंटी है कि- जिसने गरीब को लूटा है, उसको लौटाना ही पड़ेगा।

साथियों,
TMC की सरकार के रवैये के कारण, पश्चिम बंगाल का विकास प्रभावित हो रहा है। TMC सरकार की सजा, यहां का गरीब और मिडिल क्लास भुगत रहा है। मैं आपको इसके कुछ प्रमाण देता हूं।
झारिया और रानीगंज कोलफील्ड का प्रोजेक्ट हमने लगभग 6 साल पहले शुरु किया था। लेकिन यहां की सरकार इसको आगे नहीं बढ़ने दे रही। 18 हज़ार करोड़ रुपए का जगदीशपुर-हल्दिया और बोकारो धामरा पाइपलाइन प्रोजेक्ट भी 4 साल से पेंडिंग पड़ा है। राज्य सरकार का सहयोग न मिलने के कारण, तारकेश्वर से बिष्णुपुर रेल लाइन का काम भी रुका हुआ है। हज़ारों करोड़ रुपए के ऐसे अनेक प्रोजेक्ट्स हैं, जिनके लिए केंद्र सरकार ने पैसा सेंक्शन कर दिया है, लेकिन काम नहीं हो पा रहा। यहां तक की TMC सरकार गरीबों के घर तक नहीं बनने दे रही है। पूरे देश में 4 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को पक्के घर मिल चुके हैं। वो पक्के घर में दिवाली होली मना रहे हैं, दुर्गापूजा कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल के गरीब परिवारों के लिए भी केंद्र की भाजपा सरकार ने 45 लाख घर स्वीकृत किए हैं। इसके लिए 42 हज़ार करोड़ रुपए रिलीज़ भी किए गए हैं। लेकिन बंगाल में राज्य सरकार गरीबों के घर बनाने के लिए तेजी से काम नहीं कर रही। अड़ंगे डाल रही है, रुकावटें पैदा कर रही है। आप मुझे बताइए पैसे हैं तो गरीबों के घर बनने चाहिए कि नहीं बनने चाहिए। जल्दी से जल्दी बनने चाहिए कि नहीं बनने चाहिए। अच्छे से अच्छे बनने चाहिए कि नहीं बनने चाहिए। क्या ये TMC वाले बना सकते हैं क्या। अगर बनाएगा तो बीजेपी बनाएगी, अगर करेगा को मोदी करेगा। मेरी माताएं बहनें इतनी बड़ी तादाद में आई है आपको मैं बताना चाहता हूं। आप जानते हैं केंद्र सरकार हर घर नल से जल पहुंचाने का अभियान चला रही है। हर घर में पाइप से पानी। 4 साल के भीतर ही, पूरे देश में 11 करोड़ नए परिवारों को नल से जल की सुविधा मिली है। लेकिन हर घर जल देने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार कछुए की रफ्तार से काम कर रही है। बताइए ऐसे लोगों को माफ किया जा सकता है क्या। माताएं-बहनें जो आपके घर पानी नहीं पहुंचने देते हैं उनका दाना-पानी बंद करना चाहिए कि नहीं करना चाहिए। करोगे क्या। आपके आशीर्वाद रहेंगे। साथियों, उसे माताओं-बहनों-बेटियों की परेशानियों से कोई मतलब नहीं है। केंद्र सरकार पैसा दे रही है, लेकिन यहां की सरकार उसका उपयोग भी नहीं कर रही।

साथियों,
हर उस योजना से, जिससे गरीब का भला होता हो, TMC सरकार उसके सामने दीवार बनकर खड़ी हो गई है। मोदी ने हर गरीब परिवार को 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की गारंटी दी है। आयुष्मान कार्ड से देशभर में करोड़ों गरीब परिवारों का मुफ्त इलाज हुआ है। इससे इन परिवारों को लगभग 1 लाख करोड़ रुपए की बचत हुई है। लेकिन गरीब, SC/ST विरोधी TMC, यहां के सवा करोड़ परिवारों को इसका लाभ नहीं मिलने दे रही। आप मुझे बताइए गरीब को मुफ्त इलाज मिलना चाहिए कि नहीं मिलना चाहिए। अगर बीमारी में सरकार उसके पैसे दे तो उसको लाभ मिलना चाहिए कि नहीं मिलना चाहिए। अब देखिए गरीब विरोधी TMC वो भी नहीं करने देती। देश के करोड़ों लोगों को मोदी बीमारी में पैसा दे रहा है बंगाल में नहीं दे पा रहा है क्योंकि TMC मना कर रही है। TMC सरकार पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ दिलाने में भी लगातार अड़ंगे लगा रही है। भारत सरकार के प्रयासों से यहां बंगाल के छोटे किसान के बैंक खातों में सीधे 11 हज़ार करोड़ रुपए ट्रांसफर हुए हैं। लेकिन TMC सरकार की पूरी कोशिश है कि इस योजना का पैसा भी वो हड़प लें।

साथियों,
TMC सरकार, गरीब, किसान, नौजवान और नारीशक्ति के सशक्तिकरण में बहुत बड़ी रुकावट है। ये चार वर्ग जबतक सशक्त नहीं होंगे, तबतक पश्चिम बंगाल विकसित नहीं हो सकता। इसलिए आज केंद्र सरकार गरीब, किसान, नौजवान और महिला सशक्तिकरण पर सबसे ज्यादा जोर दे रही है। ये भाजपा की ही सरकार है जिसने नारीशक्ति वंदन अधिनियम करके लोकसभा और विधानसभा में महिलाओं को आरक्षण दिया। ये भाजपा की ही सरकार है जिसने नमो ड्रोन दीदी अभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत हम गांव की बहनों-बेटियों को आधुनिक ड्रोन उड़ाने की ट्रेनिंग दे रहे हैं। भाजपा की सरकार गांव-गांव में महिला स्वयं सहायता समूहों को लाखों करोड़ की मदद दे रही है जिससे उनकी आमदनी और बढ़े। हमने देश में 3 करोड़ लखपति दीदी बनाने का भी संकल्प लिया है।

साथियों,
पश्चिम बंगाल विकसित होगा, तभी भारत भी विकसित होगा। इसके लिए, ये ज़रूरी है कि आने वाले लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल की सभी सीटों पर कमल खिले। खिलेगा...खिलेगा...TMC को घमंड है कि उसके पास एक निश्चित वोटबैंक है। इस बार TMC का ये घमंड भी टूटेगा। इस बार मुस्लिम बहन-बेटियां भी TMC के गुंडाराज को उखाड़ फेंकने के लिए आगे आएंगी। इस लोकसभा चुनाव के नतीजे, पश्चिम बंगाल से TMC सरकार की विदाई का, उसके पराजय का काउंटडाउन शुरू करेंगे। मैं अभी देख रहा था सुवेंदु जी को और हमारे अध्यक्ष जी बता रहे थे अई बार...अई बार...अई बार...अई बार...
मैं आपका फिर आभार व्यक्त करूंगा कि आप हमें इतनी बड़ी संख्या में आशीर्वाद देने आए। आप अपने-अपने गांव जाएंगे, तो वहां सबको कहना कि मोदी जी ने प्रणाम कहा है। कहेंगे।
दोनों हाथ ऊपर करके मेरे साथ बोलिए...
भारत माता की जय ! भारत माता की जय ! भारत माता की जय !
वंदे, वंदे, वंदे, वंदे, वंदे, वंदे, वंदे...
बहुत-बहुत धन्यवाद।