KCR's promise of a Dalit CM, employment for the youth, and water for farmers remained unfulfilled: PM Modi in Telangana
PM Modi highlights BJP's commitment to making Telangana's first BC Chief Minister
KCR delivered scams instead of the promised schemes: PM Modi in Telangan

भारत माता की, भारत माता की, भारत माता की।
ना तेलांगाना कुटुंब सभ्युलंदरिकी शुभाभिनंदनलु...
मैं नाचाराम के भगवान श्री लक्ष्मी नरसिम्हा स्वामी को श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं ! आज तेलंगाना के सबसे पुराने शहरों में से एक, तूप्रान में आप सभी जनता जनार्दन के दर्शन करने का सौभाग्य मिला है। तेलंगाना इस बार एक ही संकल्प लेकर आगे बढ़ रहा है-
तेलंगाना में पहली बार...बनेगी बीजेपी सरकार।
तेलंगाना में पहली बार बनेगी...बीजेपी सरकार।
तेलंगाना में पहली बार बनेगी...बीजेपी सरकार।
मोदटि सारि... तेलंगाना लो बीजेपी प्रभुत्वम् एर्पाटु कानुंदि।
तेलंगाना के लोगों ने दुब्बका और हुज़ूराबाद में ट्रेलर देखा था। अब पूरे तेलंगाना में कमल खिलने वाला है। सकला जनुला सौभाग्य तेलंगाना के निर्माण का संकल्प सिर्फ और सिर्फ बीजेपी ही पूरा कर सकती है।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
आज 26/11 को देश बहुत बड़ा आतंकी हमले का शिकार हुआ था। इस हमले में हमने अनेकों निर्दोष देशवासियों को खो दिया। 26/11 का ये दिन, हमें ये भी याद दिलाता है कि कमज़ोर और असमर्थ सरकारें, देश को कितना नुकसान पहुंचा सकती हैं। आपने 2014 में कांग्रेस की कमज़ोर सरकार को हटाया, बीजेपी की मज़बूत सरकार बनाई, जिसके कारण आज देश से आतंकवाद का सफाया हो रहा है। चुन-चुन करके सफाया हो रहा है।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
ये तेलंगाना के सीएम, ये इसे अपनी जागीर मानते हैं। KCR को आखिर दूसरी सीट पर चुनाव लड़ने की ज़रूरत क्यों पड़ी? वहां क्यों जाना पड़ा। कांग्रेस के राहुल गांधी को भी अमेठी छोड़कर के केरल में भागना पड़ा था। केसीआर को भी भागना पड़ा है। इसका एक बड़ा कारण, बीजेपी के कद्दावर उम्मीदवार एटाला राजेंद्र जी हैं, और दूसरा कारण, किसानों और गरीबों का गुस्सा है। भगवान मल्लिकार्जुन के नाम पर सिंचाई की परियोजना बनाई। जिन किसानों ने घर खोया, ज़मीन खोई, उनको KCR ने अपने हाल पर ही छोड़ दिया। ऐसा पाप करने वालों को न तो भगवान मल्लिकार्जुन माफ करेंगे और न ही यहां के मेरे गरीब किसान भाई-बहन माफ करेंगे।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
KCR ने यहां के लोगों को धोखा देने का कोई मौका छोड़ा नहीं है। उन्होंने अगर काम किया होता तो सीएम को गजवेल के लोगों से माफी न मांगनी पड़ती। केसीआर की आदत झूठे वायदे करके उन्हें तोड़ देने की है। KCR ने दलित सीएम का वायदा करके तोड़ दिया। KCR ने दलित बंधु योजना का वायदा करके तोड़ दिया। KCR ने 2 बेडरूम वाले घर का वायदा करके उसे भी तोड़ दिया। KCR ने युवाओं को रोजगार का वायदा करके तोड़ दिया। KCR ने किसानों को पानी का वायदा करके, उसे भी तोड़ दिया। KCR ने schemes का वायदा किया था लेकिन बदले में सिर्फ और सिर्फ scams दिए, scams दिए, scams दिए। KCR ने आपके बच्चों के लिए काम करने का वायदा किया था, लेकिन सिर्फ अपने बच्चों औऱ अपने रिश्तेदारों के लिए काम किया। KCR ने आपकी आय बढ़ाने का वायदा किया था, लेकिन करोड़ों के घोटाले करके, हर साल अपनी आय बढ़ा ली। क्या तेलंगाना को ऐसा मुख्यमंत्री चाहिए जो जनता से मिलता नहीं ? आखिर फार्महाउस सीएम की तेलंगाना को क्या आवश्यकता है? क्या तेलंगाना को ऐसा मुख्यमंत्री चाहिए जो सचिवालय भी न जाए?
प्रजलनु कलवनि मुख्यमंत्रि मनकु अवसरमा...?
फार्म हाउस मुख्यमंत्रि मनकु अवसरमा...?
सचिवालयानिकि वेल्लनि मुख्यमंत्रि मनकु अवसरमा...?
10 साल तक फार्महाउस से सरकार चलाने वाले केसीआर को तेलंगाना के फार्मर, अब तो तय कर लिया है कि वो उसको पर्मानेंटली फार्महाउस ही भेज देंगे।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
कांग्रेस पार्टी हो या फिर BRS, इन दोनों की पहचान, भ्रष्टाचार, परिवारवाद, तुष्टिकरण और खराब कानून व्यवस्था यही इन दोनों की पहचाना है। इसलिए ये दोनों पार्टियां एक दूसरे की कार्बन कॉपी हैं। इसलिए मेरी बात याद रखिएगा। कांग्रेस-केसीआर एक समान, दोनों से रहो सावधान। मैं बुलाऊं, आप बोलेंगे, मैं बुलाऊं, आप बोलेंगे? कांग्रेस-केसीआर एक समान ...आप कहेंगे दोनों से रहो सावधान। कांग्रेस-केसीआर एक समान...कांग्रेस-केसीआर एक समान... बीजेपी ही बढ़ाएगी तेलंगाना का मान। कांग्रेस-केसीआर ओकटे, इद्दरितो जागरतगा उंडन्डी। बीजेपी मात्रमे तेलंगाना प्रतिष्टनु पेंचु-तुंदि। BRS जैसी एक बीमारी का विकल्प, कभी कांग्रेस जैसी दूसरी बीमारी विकल्प नहीं बन सकती। BRS और कांग्रेस इन दोनों बीमारियों का इलाज सिर्फ बीजेपी ही कर सकती है।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
कांग्रेस हो या BRS, दोनों के कुशासन में हमने देखा है कि सिर्फ कुछ परिवार ही फले-फूले हैं। कुछ परिवार के लोगों का ही भला हुआ है। वोट गरीब, SC/ST और BC को न्याय देने के नाम पर मांगे गए और सत्ता का फायदा किसी और को हुआ। कांग्रेस ने इतने वर्षों तक आंध्र प्रदेश में सरकारें चलाईं। लेकिन BC कम्यूनिटी से कितने लोगों को सीएम बनाया? तेलंगाना बना, तो फिर BC समाज के प्रतिभाशाली लोगों को अवसर नहीं मिला। इसलिए ही अब बीजेपी ने तेलंगाना से ये वायदा किया है कि तेलंगाना को पहला BC मुख्यमंत्री बीजेपी ही देगी। सामाजिक न्याय केवल भाजपा से ही संभव है। सामाजिका न्यायम् बीजेपी तोने साध्यम्...

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
यहां मादिगा समुदाय के साथ जो अन्याय हुआ है, उसे भी बीजेपी अच्छे से समझती है। इस अन्याय का अंत करने के लिए, उस काम को गति देने के लिए भारत सरकार एक कमिटी का गठन करके न्याय जल्दी मिले, इस पर काम कर रही है। मादिगा समुदाय से जुड़ी एक बड़ी न्यायिक प्रक्रिया, सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। ये केस मजबूत हो सके, इसके लिए हम हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
कांग्रेस और BRS में कोई फर्क नहीं है। कांग्रेस ने देश में सुल्तानशाही को बढ़ावा दिया और केसीआर ने यहां निज़ामशाही को ही आगे बढ़ाया। कांग्रेस और BRS, दोनों ही परिवारवाद की सबसे बड़ी प्रतीक हैं। कांग्रेस के पास बोफोर्स से लेकर हेलीकॉप्टर घोटाले में कमीशन खाने का पूरा ट्रैक रिकॉर्डस है। तेलंगाना के सीएम KCR भी स्वीकार करते हैं कि उनके MLA, 30 परसेंट कमीशन लेते हैं। कांग्रेस के शाही परिवार के भी अधिकतर लोग, भ्रष्टाचार के अनेक मामलों में बेल पर घूम रहे हैं। और केसीआर के परिवार के लोगों पर भी भ्रष्टाचार के अनेक मामलों में जांच चल रही है।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
कांग्रेस ने किसान, जवान और नौजवान, सबको लूटा है। कांग्रेस के राज में किसानों की कर्ज़माफी के नाम पर घोटाले हुए। कांग्रेस शासित राज्यों में पेपरलीक के सबसे अधिक मामले आए हैं। BRS भी इन सभी विषयों में कांग्रेस से पीछे नहीं रही है। आप सभी साथियों ने “निल्लू”, 'निधुलु' और 'नियमाकालु' के लिए लंबी लड़ाई के बाद अलग तेलंगाना राज्य बनाया। लेकिन KCR सरकार के लिए नील्लू, काली कमाई का साधन बन गया। कालेश्वरम परियोजना में हुई लूट इसका बहुत बड़ा सबूत है। निधुलु के मामले में तेलंगाना को इन्होंने कर्ज के बोझ तले, डूबो दिया। नियमाकालु को लेकर जो हुआ, उससे तो तेलंगाना का हर नौजवान गुस्से में है। ग्रुप वन की परीक्षा तक KCR सरकार ठीक से नहीं करा पाई। लाखों नौजवान, KCR से पूछ रहे हैं कि उनकी नौकरियों का क्या हुआ? बेरोज़गारी भत्ते के वादे का क्या हुआ?

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
केसीआर, तेलंगाना को बर्बाद करने के बाद अब देश का नेता बनने का शौक रखने लगे हैं। अपने इस शौक में BRS ने दिल्ली की कट्टर करप्ट पार्टी से हाथ मिला लिया। इन लोगों ने मिलकर शराब स्कैम किया, करोड़ों रुपए की हेराफेरी की। इस स्कैम की तेजी से जांच हो रही है। कुछ नेता जेल में हैं औऱ उन्हें जमानत तक मिलनी मुश्किल हो गई है। तेलंगाना में भी कट्टर करप्ट BRS के नेता, शराब स्कैम की जांच से बच नहीं पाएंगे। मोबाइल का जो खेल है, पैसे की डिलिवरी का जो खेल है, वो घोटालेबाज नेताओं को जेल जरूर पहुंचाएगा। और ये मोदी की गारंटी है। और मोदी की गारंटी यानि, गारंटी पूरी होने की गारंटी। मोदी गारि गारंटी अंटे, गारंटीगा पूर्ति अय्ये गारंटी।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
KCR हों या फिर कांग्रेस की सरकारें, ये किसानों को धोखा देने में हमेशा अग्रणी रही हैं। लेकिन बीजेपी सरकार ने पहली बार छोटे किसानों की चिंता की। पीएम किसान सम्मान निधि के कारण पहली बार करीब पौने 3 लाख करोड़ रुपए सीधे छोटे किसानों के अकाउंट में पहुंचे हैं। पहली बार छोटे किसानों को और पशुपालकों को बहुत नॉमिनल ब्याज से किसान क्रेडिट कार्ड के जरिये पैसे मिलने लगे। भाजपा की सरकार आज छोटे किसानों को FPOs के रूप में बड़ी ताकत बना रहा है। अपने घोषणा पत्र में तेलंगाना बीजेपी ने किसानों के हित में प्रशंसनीय घोषणाएं की हैं। इस ख़रीफ़ सीज़न में तेलंगाना के किसानों से 20 लाख मीट्रिक टन Boiled Rice अतिरिक्त खरीदा जाएगा। इस क्षेत्र में मिल्क प्रोसेसिंग इंडस्ट्री के लिए हर संभावना पर तेजी से काम किया जाएगा।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
अभी मुझे तीन राज्यों में चुनाव में जाने का मौका मिला। छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान, तीनों राज्यों में मतदान हो गया है। और मैंने तीनों राज्यों में देखा है कि इंडी अलायंस, इंडी गठबंधन, साफ हो जाएगी, साफ। वहां की महिलाएं, वहां के किसान, वहां के जवान कांग्रसे पार्टी को जड़ों से उखाड़ फेंकने वाले हैं। मैं बीसी सम्मेलन में हैदराबाद आया था, मैं मादिगा सम्मेलन में आया था। और दो दिन से मैं जा रहा हूं, मैं साफ देख रहा हूं कि बीआरस-कांग्रेस दोनों को तेलंगाना विदाई दे रहा है।

ना कुटुम्भ सभ्युल्लारा,
आप यहां बीजेपी को जिताइए। बीजेपी यहां बीसी सीएम बनाएगी, हर वर्ग को मंत्रिमंडल में उचित स्थान देगी। हम सबके साथ से, सबका विकास करेंगे। आप इतनी बड़ी तादाद में हमें आशीर्वाद देने के लिए आए हैं। आप सभी का मैं बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं!

भारत माता की जय ! आवाज पूरे तेलंगाना में जानी चाहिए, हर कोई हाथ ऊपर करके बोलिए। भारत माता की जय ! भारत माता की जय ! भारत माता की जय ! वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम।

एक काम करिए, अपना मोबाइल फोन निकालिए और उसकी फ्लैश लाइट चालू कीजिए। बीजेपी बीसी सीएम बनाएगी। ये बीसी सीएम के समर्थन में है। बताइए आप, तेलुगू में बताइए।

ये बीसी मुख्यमंत्री के समर्थन का संकल्प है। ये तेलंगाना ने बीसी मुख्यमंत्री बनाना तय कर लिया है। ये लाइट, ये लाइट मादिगा समुदाय को न्याय दिलाने के लिए भाजपा की गारंटी है। मादिगा समाज को न्याय मिलेगा।

भारत माता की, भारत माता की, भारत माता की।
बहुत-बहुत धन्यवाद।

Explore More
77వ స్వాతంత్ర్య దినోత్సవం సందర్భంగా ఎర్రకోట ప్రాకారాల నుండి ప్రధాన మంత్రి శ్రీ నరేంద్ర మోదీ ప్రసంగం పాఠం

ప్రముఖ ప్రసంగాలు

77వ స్వాతంత్ర్య దినోత్సవం సందర్భంగా ఎర్రకోట ప్రాకారాల నుండి ప్రధాన మంత్రి శ్రీ నరేంద్ర మోదీ ప్రసంగం పాఠం
India's Three-Dimensional Approach Slashes Left Wing Extremism Violence by Over 50%, Reveals MHA Data

Media Coverage

India's Three-Dimensional Approach Slashes Left Wing Extremism Violence by Over 50%, Reveals MHA Data
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
The Ashwamedha Yagya organized by the Gayatri Parivar has become a grand social campaign: PM Modi
February 25, 2024
"The Ashwamedha Yagya organized by the Gayatri Parivar has become a grand social campaign"
"Integration with larger national and global initiatives will keep youth clear of small problems"
“For building a substance-free India, it is imperative for families to be strong as institutions”
“A motivated youth cannot turn towards substance abuse"

गायत्री परिवार के सभी उपासक, सभी समाजसेवी

उपस्थित साधक साथियों,

देवियों और सज्जनों,

गायत्री परिवार का कोई भी आयोजन इतनी पवित्रता से जुड़ा होता है, कि उसमें शामिल होना अपने आप में सौभाग्य की बात होती है। मुझे खुशी है कि मैं आज देव संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित अश्वमेध यज्ञ का हिस्सा बन रहा हूँ। जब मुझे गायत्री परिवार की तरफ से इस अश्वमेध यज्ञ में शामिल होने का निमंत्रण मिला था, तो समय अभाव के साथ ही मेरे सामने एक दुविधा भी थी। वीडियो के माध्यम से भी इस कार्यक्रम से जुड़ने पर एक समस्या ये थी कि सामान्य मानवी, अश्वमेध यज्ञ को सत्ता के विस्तार से जोड़कर देखता है। आजकल चुनाव के इन दिनों में स्वाभाविक है कि अश्वमेध यज्ञ के कुछ और भी मतलब निकाले जाते। लेकिन फिर मैंने देखा कि ये अश्वमेध यज्ञ, आचार्य श्रीराम शर्मा की भावनाओं को आगे बढ़ा रहा है, अश्वमेध यज्ञ के एक नए अर्थ को प्रतिस्थापित कर रहा है, तो मेरी सारी दुविधा दूर हो गई।

आज गायत्री परिवार का अश्वमेध यज्ञ, सामाजिक संकल्प का एक महा-अभियान बन चुका है। इस अभियान से जो लाखों युवा नशे और व्यसन की कैद से बचेंगे, उनकी वो असीम ऊर्जा राष्ट्र निर्माण के काम में आएगी। युवा ही हमारे राष्ट्र का भविष्य हैं। युवाओं का निर्माण ही राष्ट्र के भविष्य का निर्माण है। उनके कंधों पर ही इस अमृतकाल में भारत को विकसित बनाने की जिम्मेदारी है। मैं इस यज्ञ के लिए गायत्री परिवार को हृदय से शुभकामनाएँ देता हूँ। मैं तो स्वयं भी गायत्री परिवार के सैकड़ों सदस्यों को व्यक्तिगत रूप से जानता हूं। आप सभी भक्ति भाव से, समाज को सशक्त करने में जुटे हैं। श्रीराम शर्मा जी के तर्क, उनके तथ्य, बुराइयों के खिलाफ लड़ने का उनका साहस, व्यक्तिगत जीवन की शुचिता, सबको प्रेरित करने वाली रही है। आप जिस तरह आचार्य श्रीराम शर्मा जी और माता भगवती जी के संकल्पों को आगे बढ़ा रहे हैं, ये वास्तव में सराहनीय है।

साथियों,

नशा एक ऐसी लत होती है जिस पर काबू नहीं पाया गया तो वो उस व्यक्ति का पूरा जीवन तबाह कर देती है। इससे समाज का, देश का बहुत बड़ा नुकसान होता है।इसलिए ही हमारी सरकार ने 3-4 साल पहले एक राष्ट्रव्यापी नशा मुक्त भारत अभियान की शुरूआत की थी। मैं अपने मन की बात कार्यक्रम में भी इस विषय को उठाता रहा हूं। अब तक भारत सरकार के इस अभियान से 11 करोड़ से ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं। लोगों को जागरूक करने के लिए बाइक रैलियां निकाली गई हैं, शपथ कार्यक्रम हुए हैं, नुक्कड़ नाटक हुए हैं। सरकार के साथ इस अभियान से सामाजिक संगठनों और धार्मिक संस्थाओं को भी जोड़ा गया है। गायत्री परिवार तो खुद इस अभियान में सरकार के साथ सहभागी है। कोशिश यही है कि नशे के खिलाफ संदेश देश के कोने-कोने में पहुंचे। हमने देखा है,अगर कहीं सूखी घास के ढेर में आग लगी हो तो कोई उस पर पानी फेंकता है, कई मिट्टी फेंकता है। ज्यादा समझदार व्यक्ति, सूखी घास के उस ढेर में, आग से बची घास को दूर हटाने का प्रयास करता है। आज के इस समय में गायत्री परिवार का ये अश्वमेध यज्ञ, इसी भावना को समर्पित है। हमें अपने युवाओं को नशे से बचाना भी है और जिन्हें नशे की लत लग चुकी है, उन्हें नशे की गिरफ्त से छुड़ाना भी है।

साथियों,

हम अपने देश के युवा को जितना ज्यादा बड़े लक्ष्यों से जोड़ेंगे, उतना ही वो छोटी-छोटी गलतियों से बचेंगे। आज देश विकसित भारत के लक्ष्य पर काम कर रहा है, आज देश आत्मनिर्भर होने के लक्ष्य पर काम कर रहा है। आपने देखा है, भारत की अध्यक्षता में G-20 समिट का आयोजन 'One Earth, One Family, One Future' की थीम पर हुआ है। आज दुनिया 'One sun, one world, one grid' जैसे साझा प्रोजेक्ट्स पर काम करने के लिए तैयार हुई है। 'One world, one health' जैसे मिशन आज हमारी साझी मानवीय संवेदनाओं और संकल्पों के गवाह बन रहे हैं। ऐसे राष्ट्रीय और वैश्विक अभियानों में हम जितना ज्यादा देश के युवाओं को जोड़ेंगे, उतना ही युवा किसी गलत रास्ते पर चलने से बचेंगे। आज सरकार स्पोर्ट्स को इतना बढ़ावा दे रही है..आज सरकार साइंस एंड रिसर्च को इतना बढ़ावा दे रही है... आपने देखा है कि चंद्रयान की सफलता ने कैसे युवाओं में टेक्नोलॉजी के लिए नया क्रेज पैदा कर दिया है...ऐसे हर प्रयास, ऐसे हर अभियान, देश के युवाओं को अपनी ऊर्जा सही दिशा में लगाने के लिए प्रेरित करते हैं। फिट इंडिया मूवमेंट हो....खेलो इंडिया प्रतियोगिता हो....ये प्रयास, ये अभियान, देश के युवा को मोटीवेट करते हैं। और एक मोटिवेटेड युवा, नशे की तरफ नहीं मुड़ सकता। देश की युवा शक्ति का पूरा लाभ उठाने के लिए सरकार ने भी मेरा युवा भारत नाम से बहुत बड़ा संगठन बनाया है। सिर्फ 3 महीने में ही इस संगठन से करीब-करीब डेढ़ करोड़ युवा जुड़ चुके हैं। इससे विकसित भारत का सपना साकार करने में युवा शक्ति का सही उपयोग हो पाएगा।

साथियों,

देश को नशे की इस समस्या से मुक्ति दिलाने में बहुत बड़ी भूमिका...परिवार की भी है, हमारे पारिवारिक मूल्यों की भी है। हम नशा मुक्ति को टुकड़ों में नहीं देख सकते। जब एक संस्था के तौर पर परिवार कमजोर पड़ता है, जब परिवार के मूल्यों में गिरावट आती है, तो इसका प्रभाव हर तरफ नजर आता है। जब परिवार की सामूहिक भावना में कमी आती है... जब परिवार के लोग कई-कई दिनों तक एक दूसरे के साथ मिलते नहीं हैं, साथ बैठते नहीं हैं...जब वो अपना सुख-दुख नहीं बांटते... तो इस तरह के खतरे और बढ़ जाते हैं। परिवार का हर सदस्य अपने-अपने मोबाइल में ही जुटा रहेगा तो फिर उसकी अपनी दुनिया बहुत छोटी होती चली जाएगी।इसलिए देश को नशामुक्त बनाने के लिए एक संस्था के तौर पर परिवार का मजबूत होना, उतना ही आवश्यक है।

साथियों,

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के समय मैंने कहा था कि अब भारत की एक हजार वर्षों की नई यात्रा शुरू हो रही है। आज आजादी के अमृतकाल में हम उस नए युग की आहट देख रहे हैं। मुझे विश्वास है कि, व्यक्ति निर्माण से राष्ट्र निर्माण के इस महाअभियान में हम जरूर सफल होंगे। इसी संकल्प के साथ, एक बार फिर गायत्री परिवार को बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!