PM Modi's Interview to Pallavi Ghosh of CNN News18

Published By : Admin | May 28, 2024 | 21:15 IST

पल्लवी घोष-  पहले मेरे राज्य में आपका बहुत-बहुत आगमन एंड वेलकम

पीएम मोदी- मैं बहुत आभारी हूं, आपका भी आभारी हूं, पूरे बंगाल का आभारी हूं, और मेरे जीवन की शुरुआत में बंगाल की बहुत बड़ी भूमिका रही है और आज मुझे मां के चरणों में जाकर के यहां पर आशीर्वाद लेने का मौका मिला तो मेरे लिए शुभ अवसर है। 

पल्लवी घोष- प्रधानमंत्री जी सुबह से तृणमूल का कहना है कि आप आउटसाइडर हो बीजेपी का कहना है कि बंगल मने रोदी हमारे मन में प्रधानमंत्री है आप अपने आप को आउटसाइडर तो नहीं समझते हो आपका जवाब क्या होगा तृणमूल कांग्रेस को। 

पीएम मोदी - ऐसा है शायद कुछ लोगों की इतनी बैंक्रप्सी है कि वो पोलिटिकल नैरेटिव गढ़ नहीं पा रहे हैं। आइडियोलॉजी पर, विजन पर डेवलपमेंट के प्रोग्राम पर, उस पर कोई बात करे तो उसका एक वैल्यू है जब वो कुछ नहीं होता है तो फिर ऐसी बातें करनी पड़ती है जो किसी भी देशवासी को अपमानित करती है। और उनको अंदाज नहीं है कि इसका नुकसान देश में बंगाली समाज को भी होता है। यह कभी नहीं करना चाहिए इस देश का किसी भी कोने में रहने वाला व्यक्ति उसके प्रति हमारा वही भाव होना चाहिए और वैसे तो हम लोग वसुधैव कुटुंबकम वाले हैं, पूरे विश्व को परिवार मानते हैं, तो हमें ये शोभा नहीं देता है।

पल्लवी घोष- प्रधानमंत्री जी मैं संदेशखाली से हाल ही में होकर आई हूं और वहां पर मैंने बहुत सारी महिलाओं से बात करने की कोशिश की लेकिन कुछ सहमे हुए हैं उनको उम्मीद है कि वोट से शायद उनको वो मौका मिलेगा बोलने का आप नारीशक्ति पर बहुत जोर डालते हैं संदेशखाली को लेकर आपको क्या कहना है?

पीएम मोदी- मैं बताता हूं, सबसे पहले तो मैं संदेशखाली के उन सभी बहनों का चरण स्पर्श करता हूं। उन्होंने इतनी हिम्मत दिखाई उन्होंने व्यक्तिगत प्रतिष्ठा की चिंता नहीं की, क्या परिणाम होगा उसकी चिंता नहीं की और वह इतने बड़े भयंकर षड्यंत्र को उन्होंने लोगों के सामने उजागर किया। मैंने आज मेरी एक सभा थी बहन रेखा पात्रा जी हमारी उम्मीदवार है मैंने उसका भाषण सुना मैं आश्चर्य चकित था। क्या एनर्जी थी क्या आइडियोजी थी, क्या फ्लो था शायद टीएमसी के पास रेखा पात्रा जैसा भी एक ओरेटर नहीं होगा। झूग्गी- झोपड़ी में पली हुई, मतलब वो भीतर से उसके दिल की आवाज बोल रही थी। जहां तक बीजेपी का सवाल है हमने दो दिशाओं में काम किया है। एक नारी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कानूनी जैसे हमने रेप के मामले में फांसी की सजा उस दिशा में हम लोग गए हैं। उसी प्रकार से हमने आरक्षण की व्यवस्था की महिलाओं के लिए। हम तीन करोड़ लखपति दीदी बनाने के लिए काम कर रहे हैं। हमने घर की मालकिन महिलाओं को बनाया, तो एंपावरमेंट ऑफ वूमेन, एक तरफ वो काम है, दूसरी तरफ हम देश में एक वातावरण, आपको मालूम होगा लाल किले पर मेरा पहला भाषण था मैं बिल्कुल नया था और मैंने एक सवाल पूछा कोई मुझे बताए कि बेटी अगर शाम को आने से देर हो जाए तो पूरा परिवार पूछता है कहां गई थी? क्यों देर से आई? क्या कर रही थी? लेकिन बेटा अगर रात को 11 बजे भी आ जाए तो मां पूछती बेटा खाना खाया ना? यह क्यों? ये लाल किले से मैंने बोला था। क्योंकि मैं मानता हूं हमारी सामाजिक मनःस्थिथि में में भी यह बदलाव लाना जरूरी है। और मैं कोशिश कर रहा हूं और मुझे विश्वास है कि बंगाल की महिलाओं के मन में यह जो एक असुरक्षा का भाव है, यह सबसे बड़ा चिंता का विषय है। हमारी कोशिश रहेगी कि हम उस दिशा में कानून का उपयोग स्टेट गवर्नमेंट को समझा करके या डायरेक्ट अफसरों से बात करके कोई ना कोई रास्ता खोजना पड़ेगा। 

पल्लवी घोष- बांग्ला विरोधी मोदी भी आपको कहा जाता है मैं बात कर रही हूं ओबीसी कोलकाता हाईकोर्ट का जो ऑर्डर है उस पर आपको क्या कहना है? 

पीएम मोदी- यह बहुत महत्त्वपूर्ण मुद्दा है यह किसी के विरोध में नहीं है। भारत की संविधान सभा ने आरक्षण किसको मिले उसकी बड़ी चर्चा की थी। और भारत के बाबासाहब आंबेडकर कहो डॉक्टर राजेंद्र बाबू कहो पंडित नेहरू कहो, सबने सहमति से तय किया कि धर्म के आधार पर एक बार देश बट गया अब धर्म के आधार पर देश के टुकड़े नहीं होने चाहिए। और उसी में से आया धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होना चाहिए। अब इन्होंने क्या किया मुसलमानों को आरक्षण वोट बैंक के लिए... 

पल्लवी घोष- राहुल गांधी भी यही कहते है... 

पीएम मोदी-  ये आंध्र ने भी किया, कर्नाटक ने किया। लेकिन अदालतों ने इसको मना कर दिया कि भाई यहां नहीं कर सकते हो। तो इन्होने पिछले दरवाजे से रातोंरात मुस्लिम समाज के अलग-अलग समुदायों को ओबीसी बना दिया। और ओबीसी का जो हक था उसको लूट लिया, डाका डाल दिया। मैं कलकता हाईकोर्ट का आभारी हूं कि चर्चा चल रही थी लेकिन कोई उस पर ठप्पा नहीं मार पाया।   ज्यूटिशियरी ने ये सारे पाप को उजागर कर दिया है और इसके कारण देश में एक जो चर्चा पोलिटिकली लगती थी, वो पोलिटिकल चर्चा नहीं थी। लोगों के अधिकारों की चर्चा थी और उसको एक बहुत बड़ा बल मिला है। और इसके कारण बोखला करके अदालत को गाली देना, जजेज को गाली देना, ये तरीका शोभा नहीं देता है। 

पल्लवी घोष-  प्रधानमंत्री जी मैं ज्यादा सब टाइम आपका नहीं लूंगी मैं जानती हूं आप... एक सवाल और पूछूंगी यहां पर एक प्रॉब्लम है,  सुवेंदु दा भी अक्सर हमें बोलते थे नौकरियों की... गूगल और आमेजन जैसे बड़े इनवेस्टमेंट कंपनीज यहां दुकान नहीं खोलना चाहते... बहुत युवाओं ने मुझे ये कहा है... आपका एक सपना है, आपने कहा है एक इंटरव्यू में कि तीसरे कार्यकाल में आप इन पर जोर देंगे बंगाल के लड़कों के और लड़कियों के लिए क्या सपना है। 

पीएम मोदी - आप देखिए हिंदुस्तान का इतिहास पूरे देश को बंगाल ने लीडरशिप दी है, देश की इकोनॉमी को बंगाल ड्राइव करता था, अंग्रेजों के भी मुंह में पानी छूट गया था कोलकाता को लेकर के। पूरी दुनिया पागल होकर के कोलकाता आना चाहती थी, ये महान विरासत है इस जगह की, यहां के लोगों की टैलेंट यहां के लोगों का सामर्थ्य, यहां की भूमि की ताकत इतनी पदावर भूमि है, यहां के मिनरल्स, यानी एक प्रकार से समृद्धि का भंडार है। लेकिन इन्वेस्टर भाग गए, क्योंकि पहले लाल झंडे वालों ने बर्बाद करके रख दिया। छुट्टियां, हर दिन हड़ताल, हर दिन हड़ताल, इन्होंने आकर के उसी मॉडल को ले लिया और इन्होंने तो शुरुआत की कोई इंडस्ट्री ना आए, इसकी लड़ाइयां लड़ी। आज एक तरफ आपने इंडस्ट्री को भगाया, अब इन्वेस्टर समिट कर रही हो, तो किसी के गले नहीं उतड़ रहा है। घर आई हुई इंडस्ट्री को आपने लात मार कर के भगा दिया, अब आप इन्वेस्टर समिट का नाटक करोगी तो कौन आएगा। आज उत्तर प्रदेश में बहुत बड़ी मात्रा में इन्वेस्टमेंट आ रहा है, क्यों? उन्होंने सुरक्षा का प्रबंध किया, उन्होंने ट्रांसपेरेंसी का प्रबंध किया, उन्होंने ब्यूरोक्रेसी को मोबिलाइज किया। उत्तर प्रदेश जहां पहले आने से लोग डरते थे, आज पूरी कतार खड़ी हो गई है, ये मैं बंगाल में भी देख सकता हूं। सिर्फ पांच साल के भीतर-भीतर एक बार यहां की सरकार अपनी आदतें बदले, दुनिया यहां आने को तैयार है। 

पल्लवी घोष- वायलेंस का डर है यहां पर पोस्ट पोल वायलेंस? 

पीएम मोदी- इसलिए मैं कहता हूं सुरक्षा, सुरक्षा बहुत बड़ी बात है, वरना कोई नहीं आता है। बहुत-बहुत धन्यवाद जी...

पल्लवी घोष- थैंक यू वेरी मच हमसे बात करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
Budget 2024 Sets Template for Viksit Bharat: Centre is the Facilitator

Media Coverage

Budget 2024 Sets Template for Viksit Bharat: Centre is the Facilitator
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Social Media Corner 23rd July 2024
July 23, 2024

Budget 2024-25 sets the tone for an all-inclusive, high growth era under Modi 3.0