Share
 
Comments
PM Modi expresses gratitude to the people of Nepal for their warmth towards India
PM Modi pays tribute to former PM of Nepal Shri Sushil Koirala
Very important day in the history of India-Nepal ties: PM Modi at Joint Statement with PM of Nepal
India-Nepal ties are about a shared tradition and rich culture: PM Modi
India would stand by Nepal for the country’s peace, stability and development: PM Modi
India’s economic growth can help Nepal in a big way: PM Modi at Joint Statement with PM of Nepal
Transport corridors can become highways of progress between our nations: PM
Trade and investment relations have been strong pillars between our countries. They can be further strengthened: PM
Both India and Nepal dedicated to jointly counter terrorism: PM Modi

 

Your Excellency,प्रधानमंत्री श्री K.P. Sharma Oli जी,
नेपाल से आये मंत्रीगण तथा
संसद सदस्य,
आथिति गण, तथा
मीडिया के उपस्थित प्रधिनिधी।

भारत-नेपाल मैत्री के इतिहास का आज एक महत्वपूर्ण दिन है।पद-ग्रहण के पश्चात प्रधानमंत्री ओली जी की इस प्रथम विदेश यात्रा पर मै उनका, तथा नेपाल के सम्पूर्ण शिष्टमंडल का हार्दिक स्वागत करता हूँ। भारत के प्रति नेपाल की गौरवशाली जनता के अथाह प्रेम और सद्भावनाओ का भी मैं हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ। साथ ही साथ मै नेपाल के नागरिको की आशाओं और आकांक्षाओ का;तथा उनकी जागरूकता और विवेक का भी सम्मान करता हूँ। इस अवसर पर मै नेपाल के दिवंगत नेता श्री सुशील कोइराला जी को भी श्रद्धांजली अर्पण करता हूँ।भारत-नेपाल मित्रता मे उनका योगदान सदैव स्मरणीय रहेगा।

Friends,

भारत और नेपाल दो संप्रभुत्व देश है।इन की मित्रता घनिष्ट एवम अदिवितीय है।हिमालय कि अखंडता तथा गंगा की पवित्रता हमारे सशक्त संबंधो के साक्षी है। सीमाओं के खुले द्वार हमारी जनता के आपसी सम्बन्धो को परिभाषित करते है।एक धनी संस्कृति और परंपरा के हम सांझे उत्तराधिकारी है।नेपाल मे शांति,स्थिरता और उसका आर्थिक विकास हमारा साँझा उद्धेश्य है। भारत-नेपाल संबंधों के इन सभी पहलुओं पर मैंने और प्रधान मंत्री Oli ने आज विस्तार से बात की है।

Excellency Oli,

पूरा विश्व इस बात को मानता है कि पिछले कुछ सालों में नेपाल ने लोकतंत्र और संघवाद के मार्ग पर प्रशसंनीय प्रगति की है। दशकों के संघर्ष उपरांत, नेपाल के संविधान की रचना और उसकी घोषणा एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इसके निर्माण में नेपाल की सरकार और राजनैतिक नेतृत्व का,तथा समाज के सभी वर्गो द्वारा किये गये योगदान का मैं अभिनंदन करता हूं।किंतु इसकी सफलता सहमति और संवाद पर निर्भर है। मुझे विश्वास है कि इन्हीं सिद्धांतों के आधार पर, राजनैतिक वार्तालाप के माध्यम से, नेपाल के सभी वर्गों को साथ लेकर, आप नेपाल के संविधान से जुड़े सभी मुद्दों का संतोषजनक निवारण कर नेपाल को प्रगति और स्थिरता की राह पर ले जायेंगे।



Friends,

नेपाल की आर्थिक उन्नति, विकास तथा संपन्नतामें भारत की स्थायी रुचि है। नेपाल के इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु हमारे संसाधन और संस्थाएं सदैव एक सकारात्मक साधन रहे हैं और भविष्य में भी रहेगे। इस सन्दर्भ मे,भारत की आर्थिक प्रगति नेपाल की संपन्नता का एक सहज मार्ग बन सकतीं हैं। दोनों देशों के बीच के transport corridors विकास के Highways बन सकते हैं। इसके मध्य-नजर, हमारे देशों के बीच में दो और transit points खोलने पर आज हुई सहमति महत्वपूर्ण है। इन transit points का खुलना क्षेत्रीय आर्थिक विकास तथा connectivity को भी प्रबल बनायेगा। मैंने अपनी नेपाल की 2014 की यात्रा के दौरान कहा था कि नेपाल का hydro power potential न केवल पूरे नेपाल को रोशन कर सकता है, अपितु भारत की ऊर्जा आवश्यकताओं को भी पूरा कर सकता हैं।

मुझे खुशी है,कि नेपाल और भारत कई hydro power projects पर कार्यरत हैं। इन की कुल क्षमता लगभग 7000 मेगा वाट है। इन projects का शीघ्र और सफल निर्माण नेपाल की आर्थिक संपन्नता का प्रमुख मार्ग बन सकता है। मुजफ्फरपुर-धलकेवार ट्रांसमिशन लाइन जिसका हमने अभी अभी उद्घाटन किया है, यह नेपाल को लगभग 80-MW बिजली immediately उपलब्ध करायेगी।आने वाले दो सालों में यही लाइन 600-MW बिजली नेपाल को प्रदान करेगी।

Friends,

व्यापार और निवेश हमारे संबंधों के सशक्त स्तंभ हैं। इनको और प्रबल बनाया जा सकता है। इसके लिए, integrated check posts का शीघ्र निर्माण दोनों देशों के हित में है। नेपाल के तराई क्षेत्र में सड़क निर्माण पर आज हुआ समझौता trade infrastructure को और मजबूती प्रदान करेगा। पिछले वर्ष नेपाल ने एक भयंकर भूकंप से उत्पन्न त्रासदी का सामना किया था। आपदा नेपाल पे आयी, किन्तु पीड़ा हर भारतीय को भी हुई। भूंकप उपरांत नेपाल के पुर्ननिमार्ण की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए, भारत ने एक बिलियन डॉलर का assistance package announce किया था।इस क्षेत्र मे आज हुए दो समजौते, एक US $ 250 मिलियन की grant का,तथा दूसरा US $ (U.S. Dollar) 750 मिलियन line of credit का, हमारी सहभागिता को और आगे ले जायेंगे। इस सन्दर्भ मे,प्रधानमंत्री ओली की भुज यात्रानेपाल के post-earthquake reconstruction के कार्य मे लाभकारी सिद्ध होगी।

Excellency Oli,

आयुर्वेद भारत की प्राचीन सभ्यता का ऐसा प्रभावी अंग है,जिसकी छाप आज के युग में भी प्रबल है। नेपाल भी आयुर्वेद से घनिष्ठ रुप से जुड़ा हुआ है। नेपाल में आयुर्वेद का विस्तार दोनों देशों के सांस्कृतिक और व्यापारिक हित में हैं। यदि नेपाल चाहे तो भारत नेपाल में आयुर्वेदिक colleges खोल सकता है। इनको भारत के आयुर्वेदिक विश्व-विद्यालयों से जोड़ा जा सकता है।

Friends,

यह स्पष्ट है कि नेपाल की स्थिरता भारत की सुरक्षा से जुड़ी हुई हैं।प्रधान मंत्री Oli और मैं इस बात से भी सहमत हैं कि दोनों देश बढ़ते हुए अतिवाद और आतंकवाद से उत्पन्न खतरों का मिलकर मुकाबला करेंगे।हम अपने बीच खुली सीमाओं का terrorists और criminals को दुरुपयोग नहीं करने देंगे। इस संदर्भ में दोनों देशों की security agencies अपना सहयोग और मजबुत करेंगी।

Excellency Oli,

नेपाल में शांति,स्थिरता और सपंन्नता हमारा साँझा हित है। मैं और संपूर्ण भारत नेपाल के आर्थिक विकास के समर्थक हैं। भारत का सहयोग सदैव सकारात्मक रहा है। इसके अर्तगत लिये गये actions नेपाल की सरकार तथा जनता की प्राथमिकताओं के अनुरुप रहें हैं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि आपके कुशल नेतृत्व में भारत-नेपाल संबंध और सशक्त होंगे,और नई ऊंचाईयों को छुएंगे। इन शब्दों के साथ मैं एक बार पुनःआपका और आपके शिष्टमंडल का भारत में स्वागत करता हूं।

धन्यवाद

 

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
PM Modi at UN: India working towards restoring 2.6 crore hectares of degraded land by 2030

Media Coverage

PM Modi at UN: India working towards restoring 2.6 crore hectares of degraded land by 2030
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM to deliver Keynote address at the 5th edition of VivaTech on 16th June
June 15, 2021
Share
 
Comments

Prime Minister Shri Narendra Modi will deliver the keynote address at the 5th edition of VivaTech on 16th June 2021 at around 4 PM. The Prime Minister has been invited as a Guest of Honour to deliver the keynote address at VivaTech 2021.

Other prominent speakers in the event include Mr. Emmanuel Macron, President of France, Mr. Pedro Sánchez, Prime Minister of Spain and Ministers/MPs from various European countries. The event will also witness participation of corporate leaders like Mr. Tim Cook, CEO, Apple, Mr. Mark Zuckerberg, Chairman and CEO, Facebook and Mr. Brad Smith, President, Microsoft among others.

VivaTech is one of the largest digital and startup events in Europe, held in Paris every year since 2016. It is jointly organized by Publicis Groupe – a prominent advertising and marketing conglomerate and Les Echos – a leading French media group. It brings together stakeholders in technology innovation and the startup ecosystem and includes exhibitions, awards, panel discussions and startup contests. The 5th edition of VivaTech is scheduled to be held between 16-19 June 2021.