Myanmar is special for us. It holds a unique position in India's neighbourhood: PM Modi
The longstanding cultural and historical linkages between our societies (India & Myanmar) form a solid foundation of our ties: PM
At every step of the way 1.25 billion people of India will stand by Myanmar –Both as partners and as friends: PM
India-Myanmar partnership is defined by a strong "people first” philosophy: PM Modi
India's nearly 2 billion dollar development assistance is touching the lives of the common man of Myanmar: PM
India stands ready to enhance our development partnership with Myanmar: PM Modi
A bright future for Myanmar is not just your objective. It is also our aspiration: PM

Your Excellency President U Htin Kyaw Members of the media,

I am delighted to welcome H.E U Htin Kyaw, President of Myanmar, and his distinguished delegation to India.

Excellency, we are deeply honoured that you have chosen India for your first bilateral State visit abroad.

Friends, 

Myanmar is special for us.

It holds a unique position in India's neighbourhood.

It is a land bridge that connects India with South East Asia.

The longstandingcultural and historical linkages between our societies form a solid foundation of our ties.

Buddhist principles of metta or loving kindness and Sarva Pantha Sambhava equality of all religions define our ways of life.

Excellency,

Your great nation has entered a new era.

An era defined by maturity of your leadership and commitment of your people to democracy.

And, which is accompanied by a clear vision and a strong desire of your leadership to make Myanmar a stable, and economically prosperous country in the region.

As the new government of Myanmar starts its journey to: 


• Grow its agriculture;

• Develop its industry and infrastructure;

• Strengthen its education;

• Skill its youth;

• Build new institutions and strengthen existing ones;

• Secure its society;

• Seek a firm path to economic prosperity; and above all

• Pursue an ambition to build a modern nation;

Let me assure you that at every step of the way 1.25 billion people of India will stand by you- Both as partners and as friends.

Friends,

President and I have just concluded useful discussions on the whole range of our bilateral engagement.

We recognised that our security interestsare closely aligned.

And, we agreed on the need to remain sensitive to each other’s strategic interests and concerns.

To this end, President and I agreed to work together for the safety and security of our people.

And, actively cooperate to combat the common challenges of terrorism and insurgent activity in our region.

I have also conveyed India’s full support to the peace process initiative under the ‘21st Century Panglong Conference.

Friends,

India-Myanmar partnership is defined not just by good words and pure intent.

Its extent and depth is shaped by a robust development cooperation partnership, which has a strong "people first” philosophy.

India's nearly 2 billion dollar development assistance is touching the lives of the common man of Myanmar.

Our engagement is supporting projects in connectivity, infrastructure, capacity building education, healthcare and many other sectors.

Some concrete examples of our partnership include:

• Kaladan project, with its port and waterway segment nearing completion later this year;

• India-Myanmar-Thailand Trilateral Highway;

• Myanmar Institute of Information Technology;

• Advanced Centre of Agricultural Research and Education; as well as

• Smaller projects in health, education and industrial training sector.

The two operational agreements signed today will facilitate the construction and upgrading of 69 bridges and the Kalewa-Yargi road section of the Trilateral Highway Project.

We are also determined to deepen our cooperation in agriculture, banking, power, and energy.

The MoUs on Cooperation in Renewable Energy and on Traditional Systems of medicine will operationalize our cooperation in these areas.

We have also agreed to work towards a long-term and a mutually beneficial arrangement for trade in pulses.

In April this year, we took the small step of supplying power to Tamu in Myanmar.

I have told the President that we are willing to substantially scale up our supply of power.

Excellency,

India stands ready to enhance our development partnership with Myanmar.

And, do so as per the priorities of the Myanmar Government.

Friends,

Culture is a key centrality in the foundation of our ties.

I am happy that our partnership is restoring Ananda temple in Bagan in Myanmar.

We are also ready to restore other historic monuments and pagodas, which were damaged in the earthquake which hit Myanmar just last week.

Excellency,

Your visit has been most timely.

And, our discussions today have enabled us to evolve a road map and an action agenda for our cooperation.

I look forward to working with you to take the relationship to new heights.

A bright future for Myanmar is not just your objective.

It is also our aspiration.

Once again, Excellency, a very warm welcome to India.

Thank you.

Thank you very much.

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India will contribute 1 million dollars for UNESCO World Heritage Center: PM Modi

Media Coverage

India will contribute 1 million dollars for UNESCO World Heritage Center: PM Modi
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Till 2029 the only priority should be the country, its poor, farmers, women and the youth: PM Modi
July 22, 2024
“Placing of the Budget by a third term government is being seen as a glorious event by the nation”
“This Budget will set the direction of the next five years of the current government and will lay a strong foundation for the dream of Viksit Bharat by 2047”
“Rise up above party politics and commit to the nation by making use of the dignified platform of the Parliament”
“Till 2029 the only priority should be the country, its poor, farmers, women and the youth”
“Muzzling of the elected government and its Prime Minister has no place in democratic traditions”
“First time members should be allowed to come forward and present their views”
“This House is not meant for political parties, this House is meant for the country. It is not meant to serve the Parliamentarians but 140 crore citizens of India”

आज सावन का पहला सोमवार है। इस पवित्र दिवस पर एक महत्वपूर्ण सत्र प्रारंभ हो रहा है, और सावन के इस पहले सोमवार की मैं देशवासियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

आज संसद का मानसून सत्र भी आरंभ हो रहा है। देश बहुत बारीकी से देख रहा है कि संसद का ये सत्र सकारात्मक हो, सृजनात्मक हो और देशवासियों के सपनों को सिद्ध करने के लिए एक मजबूत नींव रखने वाला हो।

साथियों,

भारत के लोकतंत्र की जो गौरवयात्रा है, उसमें ये एक महत्वपूर्ण पड़ाव के रूप में मैं देख रहा हूं। व्यक्तिगत रूप से मुझे भी, हमारे सभी साथियों के लिए भी ये अत्यंत गर्व का विषय है कि करीब 60 साल के बाद कोई सरकार तीसरी बार वापस आई और तीसरी पारी का पहला बजट रखने का सौभाग्य प्राप्त हो, ये भारत के लोकतंत्र की गौरवयात्रा की अत्यंत गरिमापूर्ण घटना के रूप में देश इसे देख रहा है। ये बजट सत्र है। मैं देशवासियों को जो गारंटी देता रहा हूं क्रमश: रूप से उन गारंटीयों को जमीन पर उतारना इस लक्ष्य को लेकर के हम आगे बढ़ रहे हैं। ये बजट अमृतकाल का एक महत्वपूर्ण बजट है। हमें 5 साल का जो अवसर मिला है, आज का बजट हमारे उन 5 साल के कार्य की दिशा भी तय करेगा और ये बजट 2047 जब आजादी के 100 साल होंगे, तब विकसित भारत का जो हमारा सपना है, उस सपने को पूरा करने की मजबूत नींव वाला बजट लेकर के हम कल देश के सामने आएंगे। हर देशवासी के लिए एक गर्व की बात है कि भारत बड़ी इकोनॉमी वाले देशों में सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाला देश है। गत 3 वर्षों में लगातार 8 प्रतिशत ग्रोथ के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं, grow कर रहे हैं। आज भारत में positive outlook, investment और performance एक प्रकार से opportunity की peak पर है। ये अपने आप में भारत की विकास यात्रा का एक अहम पड़ाव है।

साथियों,

मैं देश के सभी सांसदों से किसी भी दल के क्यों न हों। मैं आज आग्रहपूर्वक कहना चाहता हूं कि हम गत जनवरी से लेकर के हम लोगों के पास जितना सामर्थ्य था, इस सामर्थ्य को लेकर के जितनी लड़ाई लड़नी थी- लड़ ली, जनता को जो बात बतानी थी- बता दी। किसी ने राह दिखाने का प्रयास किया, किसी ने गुमराह करने का प्रयास किया। लेकिन अब वो दौर समाप्त हुआ है, देशवासियों ने अपना निर्णय दे दिया है। अब चुने हुए सभी सांसदों का कर्तव्य है, सभी राजनीतिक दलों की विशेष जिम्मेदारी है कि हमने दल के लिए जितनी लड़ाई लड़नी थी, लड़ ली, अब आने वाले 5 वर्ष के लिए हमें देश के लिए लड़ना हैं, देश के लिए जूझना हैं, एक और नेक बनकर के जूझना है। मैं सभी राजनीतिक दलों से भी कहूंगा कि आइए हम आने वाले चार, साढ़े चार साल दल से ऊपर उठकर के, सिर्फ और सिर्फ देश को समर्पित होकर के संसद के इस गरिमापूर्ण मंच का हम उपयोग करें।

जनवरी 2029, जब चुनाव का वर्ष होगा आप उसके बाद जाइए मैदान में, सदन का भी उपयोग करना है, कर लीजिए। वो 6 महीने जो खेल, खेलने हैं- खेल लीजिए। लेकिन तब तक सिर्फ और सिर्फ देश, देश के गरीब, देश के किसान, देश के युवा, देश की महिलाएं उनके सामर्थ्य के लिए, उनको empower करने के लिए जनभागीदारी का एक जनआंदोलन खड़ा कर करके 2047 के सपने को पूरा करने के लिए हम पूरी ताकत लगाएं। मुझे आज बहुत दुख के साथ कहना है कि 2014 के बाद कोई सांसद 5 साल के लिए आए, कुछ सांसदों के 10 साल के लिए मौका मिला। लेकिन बहुत से सांसद ऐसे थे, जिनको अपने क्षेत्र की बात करने का अवसर नहीं मिला, अपने विचारों से संसद को समृद्ध करने का अवसर नहीं मिला, क्योंकि कुछ दलों की नकारात्मक राजनीति ने देश के संसद के महत्वपूर्ण समय को एक प्रकार से अपनी राजनीतिक विफलताओं को ढाकने के लिए दुरूपयोग किया है। मैं सभी दलों से आग्रहपूर्वक कहता हूं कि कम से कम जो पहली बार सदन में आए हैं, ऐसे बहुत बड़ी संख्या में हमारे माननीय सांसद हैं और सभी दल में हैं, उनको अवसर दीजिए, चर्चा में उनके विचारों को प्रकट करने का मौका दीजिए। ज्यादा से ज्यादा लोगों को आगे आने का अवसर दीजिए। और आपने देखा होगा कि पार्लियामेंट के नए संसद गठन होने के बाद जो पहला सत्र था, 140 करोड़ देशवासियों के बहुमत के साथ जिस सरकार को सेवा करने का हुकुम किया है देशवासियों ने, उसकी आवाज को कुचलने का अलोकतांत्रिक प्रयास हुआ। ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोटने का, उनकी आवाज को रोकने का, उनकी आवाज को दबाने का लोकतांत्रिक परंपराओं में कोई स्थान नहीं हो सकता है। और इन सबका पश्चाताप तक नहीं है, दिल में दर्द तक नहीं है।

मैं आज आग्रहपूर्वक कहना चाहता हूं देशवासियों ने हमें यहां देश के लिए भेजा है, दल के लिए नहीं भेजा है। ये सदन दल के लिए नहीं, ये सदन देश के लिए है। ये सदन सांसदों की सीमा तक नहीं है, 140 करोड़ देशवासियों की एक विराट सीमा तक के लिए है। मैं विश्वास करता हूं कि हमारे सभी माननीय सांसद पूरी तैयारी के साथ चर्चा को समृद्ध करेंगे, कितने ही विरूद्ध विचार होंगे, विरूद्ध विचार बुरे नहीं होते हैं, नकारात्मक विचार बुरे होते हैं। जहां सोचने की सीमाएं समाप्त हो जाती है, देश को नकारात्मकता की जरूरत नहीं है, देश को एक विचारधारा, प्रगति की विचारधारा, विकास की विचारधारा, देश को नई ऊंचाइयों पर ले जाने वाली विचारधारा से हमें आगे बढ़ना होगा। मैं पूरी आशा करता हूं कि हम लोकतंत्र के इस मंदिर का, भारत के सामान्य मानवी के आशा, आकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए सकारात्मक रूप से उपयोग करेंगे।

बहुत-बहुत धन्यवाद साथियों।