Pledge taking Ceremony at Hrudaya-Kunj, Gandhi-Ashram

Published By : Admin | April 29, 2010 | 20:50 IST
Share
 
Comments

An iconic moment for the State, Gujarat is poised to reach the Golden-Landmark on 1st May 2010, celebrating Suvarna-Jayanti (Golden Jubilee) of attaining Statehood. Roads, streets, public-buildings, corporate and commercial houses and important sites across the State are wearing festive looks, witnessing glow-cast illuminations.

In morning, on 1st May, Chief Minister will first go to Lal Darvaja –Ahmedabad for offering floral tributes to Shri Indulal Yagnik. At Shahid-Smarak, Chief Minister will pay homage to martyrs of Maha Gujarat Movement. He will honor all, who have given their valuable contribution in formation of Gujarat. On this occasion, CM will felicitate martyrs’ families. From here, he will go to Hruday-Kunj-Sabarmati Ashram to pay tribute to Pujya Gandhiji. Here, H.E Governor of Gujarat, Dr.Smt. Kamla, Former Chief Ministers, and Members of Parliament, present and past MLAs with many other dignitaries are scheduled to take Swarnim-Sanklpa (Golden-Pledges).

From Hrudaya-Kunj, Chief Minister will directly go to Gh-5 -Circle Gandhinagar; he will offer floral tributes to Pujya Ravi Shankar Maharaj. Leaders, eminent citizens will offer floral tributes to great leaders all across the State.

Serendipitous moments, Classical music will explode live at Sardar Patel Stadium Ahmedabad, at 6.p.m .H.E. Governor of Gujarat Dr.Smt Kamla to preside over Mega Event-Vande Gujarat. Scrolling down the lanes of history, it enriches our understanding. Rich display of art and music, for the first time, using cutting edge techniques, the light and sound show is incorporated, which will captivate and mesmerize the audience. For thousands of viewers, it will be endearing to notice the lively presentations.

The cultural extravaganza is scheduled to begin with offering sincere salutations to Lord Ganapati, by tribal artists in Marathi and Gujarati language. Absorbing music being played on traditional instruments, artists are invited from different and far-flung places specially to present their skills.

Living only once, the event is entitled to find dignifies place in the memory-chips of viewers. It is going to open up bright avenues of development and progress, to mark commencement of Golden-Age.

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
India ‘Shining’ Brightly, Shows ISRO Report: Did Modi Govt’s Power Schemes Add to the Glow?

Media Coverage

India ‘Shining’ Brightly, Shows ISRO Report: Did Modi Govt’s Power Schemes Add to the Glow?
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's remarks ahead of Budget Session of Parliament
January 31, 2023
Share
 
Comments
BJP-led NDA government has always focused on only one objective of 'India First, Citizen First': PM Modi
Moment of pride for the entire country that the Budget Session would start with the address of President Murmu, who belongs to tribal community: PM Modi

नमस्‍कार साथियों।

2023 का वर्ष आज बजट सत्र का प्रारंभ हो रहा है और प्रारंभ में ही अर्थ जगत के जिनकी आवाज को मान्‍यता होती है वैसी आवाज चारों तरफ से सकारात्‍मक संदेश लेकर के आ रही है, आशा की किरण लेकर के आ रही है, उमंग का आगाज लेकर के आ रही है। आज एक महत्‍वपूर्ण अवसर है। भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी की आज पहली ही संयुक्‍त सदन को वो संबोधित करने जा रही है। राष्‍ट्रपति जी का भाषण भारत के संविधान का गौरव है, भारत की संसदीय प्रणाली का गौरव है और विशेष रूप से आज नारी सम्‍मान का भी अवसर है और दूर-सुदूर जंगलों में जीवन बसर करने वाले हमारे देश के महान आदिवासी परंपरा के सम्‍मान का भी अवसर है। न सिर्फ सांसदों को लेकिन आज पूरे देश के लिए गौरव का पल है की भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी का आज पहला उदृबोधन हो रहा है। और हमारे संसदीय कार्य में छह सात दशक से जो परंपराऐं विकसित हुई है उन परंपराओं में देखा गया है कि अगर कोई भी नया सांसद जो पहली बार सदन में बोलने के लिए में खड़ा होता है तो किसी भी दल का क्‍यों न हो जो वो पहली बार बोलता है तो पूरा सदन उनको सम्‍मानित करता है, उनका आत्‍मविश्‍वास बढ़े उस प्रकार से एक सहानूकूल वातावरण तैयार करता है। एक उज्‍जवल और उत्‍तम परंपरा है। आज राष्‍ट्रपति जी का उदृबोधन भी पहला उदृबोधन है सभी सांसदों की तरफ से उमंग, उत्‍साह और ऊर्जा से भरा हुआ आज का ये पल हो ये हम सबका दायित्‍व है। मुझे विश्‍वास है हम सभी सांसद इस कसौटी पर खरे उतरेंगे। हमारे देश की वित्त मंत्री भी महिला है वे कल और एक बजट लेकर के देश के सामने आ रही है। आज की वैश्‍विक परिस्‍थिति में भारत के बजट की तरफ न सिर्फ भारत का लेकिन पूरे विश्‍व का ध्‍यान है। डामाडोल विश्‍व की आर्थिक परिस्‍थिति में भारत का बजट भारत के सामान्‍य मानवी की आशा-आकाक्षों को तो पूरा करने का प्रयास करेगा ही लेकिन विश्‍व जो आशा की किरण देख रहा है उसे वो और अधिक प्रकाशमान नजर आए। मुझे पूरा भरोसा है निर्मला जी इन अपेक्षाओं को पूर्ण करने के लिए भरपूर प्रयास करेगी। भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्‍व में एनडीए सरकार उसका एक ही मकसद रहा है, एक ही मोटो रहा है, एक ही लक्ष्‍य रहा है और हमारी कार्य संस्‍कृति के केंद्र बिंदु में भी एक ही विचार रहा है ‘India First Citizen First’ सबसे पहले देश, सबसे पहले देशवासी। उसी भावना को आगे बढाते हुए ये बजट सत्र में भी तकरार भी रहेगी लेकिन तकरीर भी तो होनी चाहिए और मुझे विश्‍वास है कि हमारे विपक्ष के सभी साथी बड़ी तैयारी के साथ बहुत बारीकी से अध्‍ययन करके सदन में अपनी बात रखेंगे। सदन देश के नीति-निर्धारण में बहुत ही अच्‍छी तरह से चर्चा करके अमृत निकालेगा जो देश का काम आएगा। मैं फिर एक बार आप सबका स्‍वागत करता हूं।

बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। धन्‍यवाद।