Police, forensic science and judiciary are integral parts of criminal justice delivery system: Prime Minister
Greater technological intervention in forensic science can help tackle challenges of cyber security: PM Modi
In order to deal with rapidly changing crime scenario we have to develop newer techniques to make it clear that criminals will not be spared: PM

ଗୁଜରାଟର ରାଜ୍ୟପାଳ ଶ୍ରୀମାନ ଓ.ପି.କୋହଲୀଜୀ, ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ରୂପାନୀ ଜୀ, ଉପମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ନୀତିନ ଭାଇ, ମନ୍ତ୍ରୀ ପରିଷଦର ତାଙ୍କ ସହଯୋଗୀ ଶ୍ରୀମାନ ଭୂପେନ୍ଦ୍ର ଜୀ ଚୂଡାସମା, ଶ୍ରୀ ପ୍ରଦୀପ ସିଂହ ଜାଡେଜା, ଗୁଜରାଟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟର ମହାନିର୍ଦ୍ଦେଶକ ଡା. ଜେ.ଏମ.ବ୍ୟାସ ସମାବର୍ତ୍ତନରେ ଉପସ୍ଥିତ ସମସ୍ତ ମାନ୍ୟଗଣ୍ୟ, ମେଡାଲ ବିଜେତା ବିଦ୍ଵାନମଣ୍ଡଳୀ, ସେମାନଙ୍କ ଅଭିଭାବକ ଏବଂ ଆଜି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀଙ୍କ ବିଶେଷ ଅତିଥି, ସ୍କୁଲରୁ ଯେଉଁ ପିଲାମାନେ ଆସିଛନ୍ତି ସେମାନେ ମୋର ବିଶେଷ ଅତିଥି  । ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଗୁଜରାଟର ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟର ଚତୁର୍ଥ ସମାବର୍ତ୍ତନରେ ମୁଁ ମଧ୍ୟ ହୃଦୟର ସହିତ ଅନେକ ଅନେକ ସ୍ୱାଗତ ଜଣାଉଛି  । ଏବଂ ଏହି ସ୍ୱାଗତ ମୁଁ ଏଥିପାଇଁ କରୁଛି ଯେ କେହି ମୋତେ ଏଠାକାର ଅତିଥି ଭାବିବାର ଭୂଲ ନ କରନ୍ତୁ  । ସର୍ବପ୍ରଥମେ ମୁଁ ସେହି ବିଦ୍ୟାର୍ଥୀମାନଙ୍କୁ ହୃଦୟର ସହିତ ଶୁଭେଚ୍ଛା ଜଣାଉଛି,ଯେଉଁମାନଙ୍କୁ ଆଜି ଡିଗ୍ରୀ ମିଳୁଛି ଏବଂ ଯେଉଁମାନେ ତାଙ୍କ ଆଗାମୀ ଜୀବନରେ ଆହୁରୀ ଅନେକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଯାତ୍ରାର ଶୁଭାରମ୍ଭ କରୁଛନ୍ତି  । ମୁଁ ସମସ୍ତ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀଙ୍କର ମାତା-ପିତା ଏବଂ ସେମାନଙ୍କ ପରିବାରର ଅନ୍ୟ ସଦସ୍ୟମାନଙ୍କର ମଧ୍ୟ ହୃଦୟର ସହିତ ଅଭିନନ୍ଦନ କରୁଛି  । ସେମାନଙ୍କ ଲାଳନପାଳନ, ସେମାନଙ୍କ ଯତ୍ନ ଏବଂ ପରିଶ୍ରମ ହିଁ ଆଜି ତାଙ୍କ ଅତି ଆଦରର କନ୍ୟା ଏବଂ ଅତି ଆଦରର ପୁତ୍ରକୁ ଏଠାରେ ସଫଳତାର ଏହି ସ୍ତରରେ ପହଂଚାଇଛି  ।

ଗୁଜରାଟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟକୁ ନେଇ ମୁଁ ଅତ୍ୟନ୍ତ ସନ୍ତୁଷ୍ଟ  । ଏହି ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ଏଠାରେ ଅଧ୍ୟୟନ କରୁଥିବା ଛାତ୍ର ଅଗ୍ରଣୀ  । ଏହି ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଅଧିକ ଚର୍ଚ୍ଚିତ ପାଠ୍ୟକ୍ରମ ଉପରେ ଶିକ୍ଷାଦାନ କରେନାହିଁ ବରଂ ଏହାର ଲକ୍ଷ୍ୟ କ୍ଷେତ୍ର ବିନିର୍ଦ୍ଧିଷ୍ଟ  । ଗାନ୍ଧୀନଗର ପାଇଁ ଆପଣଙ୍କ ରାସ୍ତା ଏତେ ସହଜସାଧ୍ୟ ନୁହେଁ  । ଯେତେବେଳେ ଆପଣ ଏଠାକୁ ଆସିବାପାଇଁ ଯୋଜନା କରିଥିବେ ସେତେବେଳେ ମୁଁ ନିଶ୍ଚିତ ଯେ ଅନେକ ଲୋକ ଆଶ୍ଚର୍ଯ୍ୟର ସହିତ ପଚାରିଥିବେ, ସତରେ କ’ଣ ତୁମେ ଏହାହିଁ କରିବାକୁ ଚାହୁଁଛ? ଅନେକ ଅପରାଧ ସମ୍ବନ୍ଧୀତ ଟି.ଭି. କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ଦେଖୁଛନ୍ତି କି? ଅଥବା,ଆପଣ ଅଗାଥା ଖ୍ରୀଷ୍ଟି ଅବା ଫେଲୁଦାଙ୍କର ବହୁ ଅଧିକ ପୁସ୍ତକ ପଢିଛନ୍ତି କି? ଯାହା ହେଉ, ଆପଣମାନେ ଦୃଢତାର ସହିତ ଗୋଟିଏ ଷ୍ଟ୍ରୀମ ବାଛିଥିଲେ ଏବଂ ଲୋକାଚାରରେ ଜଣାଶୁଣା ଯେ ଏହା ଅଣପାରମ୍ପରିକ କିନ୍ତୁ ସଂପ୍ରତି ସମାଜ ପାଇଁ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ  । ଏହା ଦର୍ଶାଉଛି ଯେ ଆପଣମାନେ ନିଜ ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ ରଖିବା ସହିତ ନିଜ ସ୍ୱପ୍ନକୁ ସାକାର କରିବା ଦିଗରେ ନିଜର ଶକ୍ତି ଏବଂ ସଂକଳ୍ପ ଦିଗରେ ଅଗ୍ରସର ହେବା ପାଇଁ ଆଶୀର୍ବାଦ ଆପଣମାନଙ୍କ ଉପରେ ରହିଛି । ଆଗାମୀ ଦିନରେ ଏହି ବିଶେଷତ୍ୱ ସର୍ବଦା ଆପଣମାନଙ୍କ ସହାୟତା କରିବ  । ବନ୍ଧୁଗଣ, ଏହା ଗର୍ବର ବିଷୟ ଯେ ମାତ୍ର ଅଳ୍ପ ସମୟ ମଧ୍ୟରେ ଜିଏଫଏସୟୁ ଶିକ୍ଷଣ ଉତ୍କର୍ଷ ହାସଲ କରିପାରିଛି ଯାହାଫଳରେ ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ଆକଳନ ଏବଂ ମାନ୍ୟତା ପରିଷଦ ଏହି ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟକୁ ‘ଏ’ ଗ୍ରେଡରେ ସମ୍ମାନିତ କରିଛନ୍ତି । ଭାରତରେସ୍ଥାପିତ ଅନେକ  ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ମଧ୍ୟରୁ ଏହା ଅତିଶୀଘ୍ର ହାସଲ କରିଥିବା ଅତି କମ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଅନ୍ୟତମ । 35ଟି ପାଠ୍ୟକ୍ରମ ସହିତ ଏବଂ 2200 ରୁ ଅଧିକ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀ, ଗୁଜରାଟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟରେ ଶିକ୍ଷାଦାନ ଏବଂ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନର ବିଭିନ୍ନ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଅନୁସନ୍ଧାନ କରୁଛନ୍ତି । ନେତୃତ୍ୱ, ପରିଚାଳନା ଏବଂ ଜିଏଫଏସୟୁର ଶିକ୍ଷକମାନଙ୍କ ପ୍ରଚେଷ୍ଟା ଏବଂ ସଂକଳ୍ପବଦ୍ଧତା ଯୋଗୁଁ ଏହି ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଗୁଜରାଟ ଏବଂ ଭାରତର ଗର୍ବ ଏବଂଗୌରବ ହୋଇପାରିଥିବାରୁ ମୁଁ ଶୁଭେଚ୍ଛା ଜଣାଉଛି  ।

ବନ୍ଧୁଗଣ, ପୁଲିସ, ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ଏବଂ ନ୍ୟାୟପାଳିକା ଏହି ତିନୋଟି ଅପରାଧିକ ନ୍ୟାୟ ପ୍ରଦାନ ବ୍ୟବସ୍ଥାର ଅଭିନ୍ନ ଅଙ୍ଗ  । କୌଣସି ଦେଶରେ ଏହି ତିନୋଟି ଅଙ୍ଗ ଯେତେ ଅଧିକ ସୁଦୃଢ ହେବ,ସେଠାକାର ନାଗରିକ ସେତେ ସୁରକ୍ଷିତ ରହିବେ ଏବଂ ଅପରାଧିକ କାର୍ଯ୍ୟକଳାପ ନିୟନ୍ତ୍ରଣାଧୀନ ରହିବ  । ଏହି ଚିନ୍ତାଧାରା ସହିତ ବିଗତ ବର୍ଷଗୁଡିକରେ ସାମୂହିକ ଭାବେ ଏହି ତିନୋଟି ସ୍ତମ୍ଭର ବିସ୍ତାର କରିବା ପାଇଁ କାର୍ଯ୍ୟ ଆରମ୍ଭ କରାଯାଇଛି  । ପ୍ରତିରକ୍ଷା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ, ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ଆଇନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଯାହା ଏକ ପ୍ରକାରର ଆଇନ ବ୍ୟବସ୍ଥା ସହିତ ଜଡିତ ସଂପୂର୍ଣ୍ଣ ସାମୂହିକ ପଦକ୍ଷେପ ଏହାର ଫଳସ୍ୱରୂପ ଆଜି ପ୍ରତିରକ୍ଷା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟରୁ ଉତ୍ତୀର୍ଣ୍ଣ,ପ୍ରଶିକ୍ଷିତ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀମାନେ ବିଭିନ୍ନ ସୁରକ୍ଷା ବଳରେ ଭର୍ତ୍ତୀ ହୋଇ ଅନ୍ତରୀଣ ସୁରକ୍ଷାକୁ ସୁଦୃଢ କରିବାର କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି  । ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ଆଇନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟରୁ ଉତ୍ତୀର୍ଣ୍ଣ ହୋଇଥିବା ଛାତ୍ର, ସେମାନଙ୍କ ଦକ୍ଷତା ଦ୍ୱାରା, ପରୀକ୍ଷଣ ଏବଂ ନ୍ୟାୟିକ ପ୍ରକ୍ରୀୟାକୁ ଆହୁରୀ ସୁଦୃଢ କରୁଛି  ।

ବନ୍ଧୁଗଣ ସଂପ୍ରତି ପରିବର୍ତ୍ତୀତ ସମୟରେ ଅପରାଧୀ ନିଜ ଅପରାଧକୁ ଲୁଚାଇବା ପାଇଁ, ରକ୍ଷା ପାଇବା ପାଇଁ ଯେଉଁଭଳି ବିଭିନ୍ନ ଉପାୟ ଅବଲମ୍ବନ କରୁଛନ୍ତି, ଏହିଭଳି ସ୍ଥିତିରେ ଏହା ସେତିକି ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଯେ  ପ୍ରତ୍ୟେକ ବ୍ୟକ୍ତି ଏହା ଅନୁଭବ କରନ୍ତୁ ଯେ ଯଦି ସେ କିଛି ଭୂଲ କରିବ ତେବେ କେବେ ନା କେବେ ନିଶ୍ଚୟ ଧରା ପଡିବ, ଦଣ୍ଡ ଭୋଗିବାକୁ ପଡିବ  । ଧରା ପଡିଯିବା ଭୟର ଭାବନା ଏବଂ କୋର୍ଟରେ ତାହାର ଅପରାଧ ପ୍ରମାଣିତ ହେବା ଭୟ – ଅପରାଧକୁ ନିୟନ୍ତ୍ରଣରେ ରଖିବା କ୍ଷେତ୍ରରେ ସହାୟକସିଦ୍ଧ ହୋଇଥାଏ ଏବଂ ଏଠାରେ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନର ଭୂମିକା ଅତ୍ୟନ୍ତ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ହୋଇଯାଏ  । ନିଶ୍ଚିତ ଦଣ୍ଡବିଧାନ ଆମ ନ୍ୟାୟିକ ବ୍ୟବସ୍ଥାର ପ୍ରତ୍ୟୟ ଯୋଗ୍ୟତାକୁ ମଧ୍ୟ ଆହୁରୀ ଶକ୍ତିମନ୍ତ କରାଏ  । ମୁଁ ଜିଏଫଏସୟୁ ର ଏହି କଥା ପାଇଁ ବିଶେଷଭାବେ ପ୍ରଶଂସା କରିବାକୁ ଚାହେଁ ଯେ ସେ ବୈଜ୍ଞାନିକ ଶୈଳୀରେ ଅପରାଧିକ ଅନୁସନ୍ଧାନ ଏବଂ ନ୍ୟାୟ ପ୍ରଦାନ ବ୍ୟବସ୍ଥାକୁ ମଜବୁତ କରିବା ପାଇଁ ଅନ୍ତର୍ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ସ୍ତରରେ ମାନବ ସଂଶାଧନର ଏକ ବୃହତ ରଣନୀତି ପ୍ରସ୍ତୁତ କରାଯାଉଛି  । କେବଳ ଭାରତ ନୁହେଁ ବରଂ ପୂରା ବିଶ୍ୱରେ ନ୍ୟାୟିକ ପ୍ରବର୍ତ୍ତନ ସଂସ୍ଥାଗୁଡିକ ଆପଣଙ୍କ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟକୁ ସହଯୋଗ ଲୋଡିବା ପାଇଁ ଆଗକୁ ଆସୁଛନ୍ତି  । ଅନେକ ଦେଶର ସହଯୋଗ କରି ସେମାନଙ୍କ କର୍ମଚାରୀମାନଙ୍କୁ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଏବଂ ପରାମର୍ଶଦାତା ପ୍ରଦାନ କରି ଆପଣଙ୍କ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଅନ୍ତର୍ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ସ୍ତରରେ ଖ୍ୟାତି ଲାଭ କରିଛି  ।

ମୋତେ କୁହାଯାଇଛି ଯେ ବିଗତ ପାଂଚ ବର୍ଷରେ ଗୁଜରାଟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଛଅ ହଜାରରୁ ଅଧିକ ଅଧିକାରୀଙ୍କୁ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ପ୍ରଦାନ କରିସାରିଛି  । ଏମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ 20ରୁ ଅଧିକ ଦେଶର 200 ରୁ ଅଧିକ ପୁଲିସ ଅଧିକାରୀ ମଧ୍ୟ ଏଠାରେ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ପ୍ରାପ୍ତ କରିଛନ୍ତି  । ଏବଂ ନିଜ ନିଜ ଦେଶକୁ ଯାଇ ଏହି ଅଧିକାରୀମାନେ ନିଜର ଜ୍ଞାନ, ଏବଂ ଦକ୍ଷତାର ଉପଯୋଗ କରି ନିଜ ଦେଶ ଏବଂ ସମାଜକୁ ଆଜି ସୁରକ୍ଷିତ ରଖିପାରିଛନ୍ତି  ।  ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କ ପାଇଁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଗୁଜରାଟବାସୀଙ୍କ ପାଇଁ ଏହା ବହୁତ ଗର୍ବର ବିଷୟ ଯେ ଏହି ଭୂମି ଉପରେ ପରିଚାଳିତ ଗୋଟିଏ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ନିଜ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଏବଂ ଶିକ୍ଷା ଜରିଆରେ ବୈଶ୍ୱିକ ସୁରକ୍ଷାରେ ଏତେ ବଡ ନିର୍ଣ୍ଣାୟକ ଭୂମିକା ଗ୍ରହଣ କରିଛି  ।

ବନ୍ଧୁଗଣ ଆଜିର ଏହି ସମୟରେ ଏହା ମଧ୍ୟ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଆବଶ୍ୟକ ଯେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ନୂତନ ବ୍ୟବସ୍ଥା ନିଜକୁ ଆଧୂନିକ ଜ୍ଞାନ କୌଶଳ ଅନୁରୂପ ଗଢିତୋଳିଥାଏ  । ନିଶ୍ଚିତ ରୂପେ ଏଥିରେ ଡିଜିଟାଲ ଟେକ୍ନୋଲଜିର ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଯୋଗଦାନ ରହିଛି  । ଡିଜିଟାଲ ଟେକ୍ନୋଲଜି ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନକୁ ନୂତନ ଉର୍ଜା ପ୍ରଦାନ କରୁଛି  । ପ୍ରଥମେ ସମସ୍ତ ପରୀକ୍ଷଣ, ପ୍ରତ୍ୟକ୍ଷ ଅନୁସନ୍ଧାନ କରିବାକୁ ପଡୁଥିଲା  । ବର୍ତ୍ତମାନ ଡିଜିଟାଲ ଜ୍ଞାନ କୌଶଳ ଏହି କାର୍ଯ୍ୟକୁ ଆହୁରୀ ସରଳ କରିଦେଇଛି ଏବଂ ସଂକ୍ଷିପ୍ତରେ କରିହେଉଛି  । ଏବଂ ମୁଁ ଭାବୁଛି ଯେ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରରେ ନୂତନ ସଫ୍ଟୱେର ବିକଶିତ କରାଯାଇ ଡିଜିଟାଲ ଟୁଲ ର ବ୍ୟବହାର ବୃଦ୍ଧି କରିବାର ପରିସର ଏବେ ମଧ୍ୟ ରହିଛି ଏବଂ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରରେ ମଧ୍ୟ ଅଧିକ ବିସ୍ତୃତ ଭାବେ ଚିନ୍ତା କରିବାର ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି  । ବନ୍ଧୁଗଣ ଗୋଟିଏ ପଟେ ଇଣ୍ଟରନେଟ ଆମ ସମସ୍ତଙ୍କ ଜୀବନକୁ ସରଳ କରିବାର କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛି ଅନ୍ୟପଟେ ନୂତନ ଭାବେ ଅପରାଧିକ ସାଇବର କ୍ରାଇମର ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଛି ।ଏହି ସାଇବର କ୍ରାଇମ ଦେଶର ନାଗରିକମାନଙ୍କର ବ୍ୟକ୍ତିଗତ ଜୀବନ ପାଇଁ ଆହ୍ୱାନ ହୋଇଛି । ଆମ ଆର୍ଥିକ ପ୍ରତିଷ୍ଠାନ ହେଉ, ପାୱାର ଷ୍ଟେସନଗୁଡିକ ହେଉ, ହସ୍ପିଟାଲଗୁଡିକ ହେଉ ଏଭଳି ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ କ୍ଷେତ୍ରଗୁଡିକୁ ମଧ୍ୟ ପ୍ରଭାବିତ କରୁଛି  । ଏହା ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ସୁରକ୍ଷା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ, କେବଳ ହିନ୍ଦୁସ୍ତାନ, ବିଶ୍ୱର ପ୍ରତ୍ୟେକ ଦେଶ ପାଇଁ ଏକ ବଡ ଆହ୍ୱାନ  । ଆଜି ଏହି ଅବସରରେ ମୁଁ ସମସ୍ତ ସାଇବର ଏବଂ ଡିଜିଟାଲ ବିଶେଷଜ୍ଞମାନଙ୍କୁ ନିବେଦନ କରୁଛି ଯେ ସେମାନେ ଡିଜିଟାଲ ଇଣ୍ଡିଆ ମିଶନ ର ସହଭାଗୀ ହୋଇ ଦେଶ ଏବଂ ସମାଜକୁ ସୁରକ୍ଷା ପ୍ରଦାନ କରିବା, ଶସକ୍ତ କରିବାରେ ସହଯୋଗ କରନ୍ତୁ  । ସରକାରଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ସାଇବର ଅପରାଧକୁ ନିୟନ୍ତ୍ରଣ କରିବା ପାଇଁ ଏଭଳି ଅପରାଧୀମାନଙ୍କ ମନରେ ଭୟ ସୃଷ୍ଟି କରିବା ପାଇଁ ଆବଶ୍ୟକ ପଦକ୍ଷେପ ଗ୍ରହଣ କରାଯାଇଛି  । ସାଇବର ଫରେନ୍ସିକ ପରୀକ୍ଷାଗାରକୁ ମଧ୍ୟ ମଜବୁତ କରାଯାଇଛି, କିନ୍ତୁ ଏହାସହିତ ଆପଣଙ୍କ ଭଳି ଅନୁଭବୀ ବିଶେଷଜ୍ଞମାନଙ୍କର ମଧ୍ୟ ଦେଶରେ ଅନେକ ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି, ଯାହା କମ ସମୟ ମଧ୍ୟରେ ଏଭଳି ଅପରାଧୀମାନଙ୍କ ପାଖରେ ପହଂଚିବା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଅନୁସନ୍ଧାନ ଏଜେନ୍ସୀଗୁଡିକର ସହଯୋଗ କରିପାରିବେ  । ବନ୍ଧୁଗଣ ପରିବର୍ତ୍ତୀତ ସମୟ ଅନୁସାରେ କେବଳ ଅପରାଧ ନୁହେଁ ବରଂ ବିଭିନ୍ନ କ୍ଷେତ୍ରଗୁଡିକରେ ମଧ୍ୟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନର ଗୁରୁତ୍ୱ ବୃଦ୍ଧି ପାଉଛି  । ବୀମା କ୍ଷେତ୍ର ହେଉ, ବୀମା କଂପାନୀଗୁଡିକ ପାଖରେ ନିଜର ବୀମା ଅର୍ଥ ପ୍ରାପ୍ତ କରିବା ପାଇଁ ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରକାରର ଲୋକମାନେ ଆସୁଛନ୍ତି  । ସେମାନଙ୍କ ପାଇଁ ବହୁତ ବଡ ଆହ୍ୱାନ ହୋଇଥାଏ ଯେ ବୀମା ଅର୍ଥ ପାଇଁ ଦାବିର ସତ୍ୟତା ଅଛି କି ନାହିଁ  । ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନର ସୂଚନା ଏଥିରେ ସହାୟକ ହୋଇପାରିବ  । ଏହିଭଳି ଯଦି ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ କ୍ଷେତ୍ରରେ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଥିବା ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନର ଜ୍ଞାନ ଥିବ ତ ତେବେ ଫରେନ୍ସିକ ଆବଶ୍ୟକତା ଦୃଷ୍ଟିରେ ରଖି କାର୍ଯ୍ୟ କରିବେ  । କୌଣସି ଦୁର୍ଘଟଣା ପରେ ଅବା ଅପରାଧ ପରେ ଯେତେବେଳେ ଆହତ ବ୍ୟକ୍ତି ହସ୍ପିଟାଲ ପହଂଚୁଛି ସେତେବେଳେ ତା ସହିତ ଅନେକ ଫରେନ୍ସିକ ପ୍ରମାଣ ନେଇ ଆସୁଛି  । ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ କ୍ଷେତ୍ରରେ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଥିବା କର୍ମଚାରୀମାନଙ୍କୁ, ନର୍ସମାନଙ୍କ ପାଖରେ, ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ର ସଠିକ ସୂଚନା ଥିଲେ ଏହି ପ୍ରମାଣକୁ ସୁରକ୍ଷିତ ରଖିବାରେ ସହଯୋଗ କରିପାରିବେ  । ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ର ପ୍ରତ୍ୟେକ ଛାତ୍ର ପାଇଁ ମନୁଷ୍ୟ ବୁଦ୍ଧିଶକ୍ତିକୁ ବିକଶିତ କରିବା ମଧ୍ୟ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ  । ହୋଇପାରେ ଆପଣମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରୁ କେତେ ଜଣ ଗୁଜରାଟ ଏବଂ ରାଜସ୍ଥାନରେ ଖାସକରି ପଗି ସଂପ୍ରଦାୟ ବିଷୟରେ ଶୁଣିଥିବେ  । କଚ୍ଛ ଏବଂ ବଣ୍ଡର ଅଂଚଳରେ ପଗୀ ସଂପ୍ରଦାୟର ଲୋକମାନେ ଅନେକ ବର୍ଷରୁ ନିଜର ବୁଦ୍ଧିଶକ୍ତି ପାଇଁ ବେଶ୍ ଜଣାଶୁଣା  । ସେମାନେ ଓଟର ପାଦଚିହ୍ନ ଦେଖି କହିପାରିବେ ଯେ ଓଟ ଏକୁଟିଆ ଥିଲା ଅବା ତାହା ଉପରେ କେହି ବସିଥିଲେ ବା ଜିନିଷପତ୍ର ନେଇ ଯାଉଥିଲା ଏବଂ ମୁଁ କୌଣସି ଜାଗାରେ ପଢିଥିଲି ଯେ ଯେଉଁ ପଗୀ ସଂପ୍ରଦାୟ ଅଛନ୍ତି ସେମାନେ ଶୈଶବରୁ ପାଂଚଟି ଇନ୍ଦ୍ରୀୟକୁ ବିକଶିତ କରିବା ପାଇଁ ପାରମ୍ପରିକ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ନେଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ଏଥିପାଇଁ ବଡ ବଡ ଅପରାଧଗୁଡିକର ସମାଧାନ କରିବା ପାଇଁ କିଛି ଅଂଚଳରେ ଆଜି ମଧ୍ୟ ପୁଲିସ ଏଭଳି ପଗୀ ସଂପ୍ରଦାୟର ଲୋକମାନଙ୍କର ସହଯୋଗ ନେଉଛନ୍ତି  । ଏବଂ ମୁଁ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ପ୍ରଶାସନକୁ କହିବାକୁ ଚାହୁଁଛି ଯେ କେବେ ନା କେବେ ବିଶ୍ୱରେ ଏହିସବୁ ଜିନିଷ ବ୍ୟବହାର କରାଯାଇଛି, ମାନବୀୟ ବୁଦ୍ଧିମତ୍ତା ବା ହ୍ୟୁମାନ ଇଣ୍ଟେଲିଜେନ୍ସ ଦ୍ୱାରା ବ୍ୟବହୃତ କରାଯାଇଛି  । କଣ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ଅନେକ ବିଷୟଗୁଡିକ ଉପରେ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛି  । ପାରମ୍ପରିକ ଭାବେ ଆମ ଦେଶରେ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ପୁରୁଣା ଅମଳର ଯେଉଁ ପରମ୍ପରା ଥିଲା, ପ୍ରଥମେ ଯେତେବେଳେ ଡିଜିଟାଲ ଟେକ୍ନୋଲଜି ନ ଥିଲା ସେତେବେଳେ ଲୋକମାନେ ଫିଙ୍ଗର ପ୍ରିଣ୍ଟ କୁ ମିଶାଇ ପ୍ରମାଣ ଯୋଗାଡ କରି ନିଜ ମତାମତ ପ୍ରଦାନ କରୁଥିଲେ  । ହେଣ୍ଡ-ରାଇଟିଂଗ ବିଶେଷଜ୍ଞ ଥିଲେ ସେମାନେ ନିଜର ମତାମତ ପ୍ରଦାନ କରୁଥିଲେ,ସାଇକୋଆନାଲିଷ୍ଟ ଥିଲେ ସେମାନେ ସାଇକୋ ପ୍ରୋଫାଇଲ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରୁଥିଲେ  । ପାରମ୍ପରିକ ଭାବେ ଏହିସବୁ କ୍ଷେତ୍ର ରହିଥିଲା  । ଏହିସବୁ ପାରମ୍ପରିକ ବ୍ୟବସ୍ଥା ହିନ୍ଦୁସ୍ତାନରେ ଥିଲା ଏବଂ ପ୍ରତ୍ୟେକ ରାଜ୍ୟରେ ଥିଲା ତାକୁ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଦ୍ୱାରା ଯଦି ଏକତ୍ର କରାଯାଏ ଏବଂ ସେହି ପାରମ୍ପରିକ ଜ୍ଞାନକୁ ଆଧୂନିକ ଟେକ୍ନୋଲଜି ସହିତ ସଂଯୁକ୍ତ କରି ତାହାକୁ ନୂତନ ଦିଗନ୍ତ ପ୍ରଦାନ କରାଯିବ, ମୁଁ ଭାବୁଛି ଯେ ଏହା କେବଳ ହିନ୍ଦୁସ୍ତାନରେ ବିଶ୍ୱରେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଦେଶ ପାଖରେ ଏପରି କିଛି ନା କିଛି ବିଦ୍ୟା ରହିଛି  । ସେହି ବିଦ୍ୟାକୁ ଯଦି ଉପଯୋଗ କରାଯିବ ତାହେଲେ ଆମେ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରକୁ ଆହୁରୀ ଆଗକୁ ବଢାଯାଇପାରିବ  । ଉଦାହରଣ ସ୍ୱରୂପ ଯେଉଁ ସାଇକୋ-ପ୍ରୋଫାଇଲ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରନ୍ତି,ସାଇକୋଆନାଲିସିସ କରିଥାନ୍ତି  । କୌଣସି ଯୁଗରେ ତାଙ୍କୁ ସବୁ ମିଶାଇ ସେମାନଙ୍କ ପରିବାରଠାରୁ ପଚରା ପଚରି କରି ନିଷ୍ପତ୍ତି ନେଉଥିଲେ ତାହା ଆଜି ଟେକ୍ନୋଲଜି ଜରିଆରେ କରାଯାଇପାରୁଛି  । ଯେପରି ପାରମ୍ପରିକ ଜ୍ଞାନ, ଏଥିସହ ଟେକ୍ନୋଲଜି ଦକ୍ଷତା ଆଣିଦେଇଛି, ପରିପୂର୍ଣ୍ଣତା ଆଣିଦେଇଛି, ମୁଁ ଭାବୁଛି ଯେ ଆମ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଅନୁସନ୍ଧାନର ଏକ କ୍ଷେତ୍ର ମଧ୍ୟ ହେବା ଦରକାର ଯାହା ପାରମ୍ପରିକ ଜ୍ଞାନ, ହ୍ୟୁମାନ ଇଣ୍ଟେଲିଜେନ୍ସ ଏବଂ ଆଧୂନିକ ଜ୍ଞାନ କୌଶଳକୁ ମିଶାଇ ଆମେ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରରେ କିଭଳି ଭାବେ କାର୍ଯ୍ୟ କରିପାରିବା, ସେହି ଦିଗରେ ଆମ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟକୁ କାର୍ଯ୍ୟ କରିବାର ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି  ।

ବନ୍ଧୁଗଣ, ଅପରାଧୀ ଏବଂ ଅପରାଧିକ ଘଟଣା ଘଟାଇବାର ଉପାୟରେ ମଧ୍ୟ ପରିବର୍ତ୍ତନ ହେଉଛି  । ଦୃତ ଗତିରେ ପରିବର୍ତ୍ତୀତ ହେଉଥିବା ଅପରାଧୀକ ପରିସ୍ଥିତିର ମୁକାବିଲା କରିବା ପାଇଁ, ଆପଣଙ୍କୁ ନୂତନ ଜ୍ଞାନ କୌଶଳ ବିକଶିତ କରିବାର ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି ଯାହାଦ୍ୱାରା କୌଣସି ଅପରାଧୀ ଯେପରି ମୁକୁଳି ନ ପାରିବେ  । ଡିଏନଏ ପ୍ରୋଫାଇଲିଂଗ ଫରେନ୍ସିକ ଅନୁସନ୍ଧାନ ପାଇଁ ଏକ ନୂତନ ଦିଗନ୍ତ ସୃଷ୍ଟି କରିପାରିଛି  । ଏହି ଜ୍ଞାନ କୌଶଳର ସହଯୋଗରେ ଅନେକ ଅପରାଧ ମାମଲାର ସମାଧାନ କରାଯାଇପାରିଛି, ଯଦି ଏହା ନ ଥାନ୍ତା ତେବେ ହୁଏତ ଏହା ସମ୍ଭବ ହୋଇନଥାନ୍ତା  । ଫରେନ୍ସିକ ବିଶେଷଜ୍ଞମାନଙ୍କୁ ମୋର ନିବେଦନ ଯେ ଯେତେ ସମ୍ଭବ ଡିଏନଏ ପ୍ରୋଫାଇଲିଂଗର ବ୍ୟବହାର କରି ନ୍ୟାୟିକ ପ୍ରଣାଳୀର ସହଯୋଗ କରନ୍ତୁ ଯାହାଦ୍ୱାରା ଅପରାଧୀକୁ ତତ୍କାଳୀନ ଦଣ୍ଡବିଧାନ କରାଯାଇପାରୁ ଏବଂ ପିଡୀତମାନଙ୍କୁ ଉଚିତ୍ ନ୍ୟାୟ ମିଳୁ  । ଫରେନ୍ସିକ ଅନୁସନ୍ଧାନରେ ଡିଏନଏ ଜ୍ଞାନ କୌଶଳର ଗୁରୁତ୍ୱକୁ ଦୃଷ୍ଟିରେ ରଖି, ଆମ ସରକାର ଡିଏନଏ ଜ୍ଞାନ କୌଶଳ (ବ୍ୟବହାର ଏବଂ କାର୍ଯ୍ୟକାରୀ) ବିଧେୟକ 2018କୁ  ମଂଜୁର କରିଛନ୍ତି  । ଏହି ବିଲ ଜରିଆରେ ଡିଏନଏ ପରୀକ୍ଷଣ ବିଶ୍ୱସ୍ତ ଏବଂ ଏଥିରେ ପ୍ରଦତ୍ତ ସୂଚନା ସୁରକ୍ଷିତ ବୋଲି ସୁନିଶ୍ଚିତ କରିହେବ  । ଡିଏନଏ ସମୀକ୍ଷା ପାଇଁ ସବୁ ରାଜ୍ୟ ଏବଂ କେନ୍ଦ୍ରଶାସିତ ଅଂଚଳରେ ସ୍ଥାପିତ ପରୀକ୍ଷାଗାରଗୁଡିକୁ ଆହୁରୀ ମଜବୁତ କରିବା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ସରକାର ନିଷ୍ପତ୍ତି ନେଇଛନ୍ତି  । ନିର୍ଭୟା ଯୋଜନା ଅଧିନରେ ଚଣ୍ଡିଗଡର କେନ୍ଦ୍ରୀୟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ପରୀକ୍ଷାଗାରରେ ଆର୍ଟ ଲାବୋରେଟାରୀ ସ୍ଥାପିତ କରାଯାଇଛି  । ମହିଳାମାନଙ୍କ ପ୍ରତି ହେଉଥିବା ଅପରାଧ ମାମଲାଗୁଡିକ ସହିତ ଘୃଣ୍ୟ ଅପରାଧଗୁଡିକର ସମାଧାନ ଆଗାମୀ ଦିନରେ ଅତିଶୀଘ୍ର ଏବଂ ସଠିକ ଭାବେ କରିପାରିବୁ ବୋଲି ମୋର ବିଶ୍ୱାସ ରହିଛି  ।

ଆପଣମାନେ ବିଗତ ଦିନମାନଙ୍କରେ ସମ୍ବାଦପତ୍ରରେ ପଢିଥିବେ ମଧ୍ୟପ୍ରଦେଶର ମଂଦସୌରର ଗୋଟିଏ ଅଦାଲତ କେବଳ ଦୁଇ ମାସର ଶୁଣାଣି ଭିତରେ ନାବାଳିକକୁ ବଳାତ୍କାର କରିଥିବା ଦୁଇଜଣ ବଳାତ୍କାରୀଙ୍କୁ, ରାକ୍ଷସମାନଙ୍କୁ ଫାସୀ ଦଣ୍ଡାଦେଶ ଦେଇଥିଲେ, କେବଳ ଦୁଇ ମାସ ମଧ୍ୟରେ,ଏହାପୂର୍ବରୁ ମଧ୍ୟପ୍ରଦେଶର କଟନୀରେ ଗୋଟିଏ ଅଦାଲତ କେବଳ ପାଂଚ ଦିନରେ ଶୁଣାଣି ପରେ ଏହି ରାକ୍ଷସମାନଙ୍କୁ ଫାସୀ ଦଣ୍ଡାଦେଶ ଦେଇଥିଲେ  । ରାଜସ୍ଥାନରେ ମଧ୍ୟ ଅଦାଲତଗୁଡିକ ଏହିଭଳି ତ୍ୱରୀତ ପଦକ୍ଷେପ ନେଇଛନ୍ତି  । ଯୌନ ଉତ୍ପୀଡନ ଭଳି ଜଘନ୍ୟ ଅପରାଧଗୁଡିକରେ ଆମ କୋର୍ଟଗୁଡିକ ଅତିଶୀଘ୍ର ବିଚାର କରିବା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ଏବଂ ଆପଣଙ୍କ ଭଳି ବିଶେଷଜ୍ଞ ବହୁତ ବଡ ସେବା କରିପାରିବେ  । ବହୁତ ବଡ ପ୍ରଭାବ ପକାଇପାରିବେ । ସରକାର ଆଇନ କଡାକଡି କରିଥିଲେ,ପୁଲିସ ଅନୁସନ୍ଧାନ କରୁଛି କିନ୍ତୁ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ କୋର୍ଟଙ୍କୁ ଅତିଶୀଘ୍ର ଫଇସଲା କରିବାର ଏକ ମଜବୁତ ବିଜ୍ଞାନସମ୍ମତ ସହଯୋଗ ଢାଞ୍ଚା ପ୍ରଦାନ କରୁଛି  । ନ୍ୟାୟିକ ପ୍ରକ୍ରୀୟାଗୁଡିକରେ ଏହିଭଳି ଦୃତତା ଏବଂ ଅପରାଧୀମାନଙ୍କୁ ମୁକୁଳାଇବାର କୌଣସି ସୁଯୋଗ ପ୍ରଦାନ କରନ୍ତୁ ନାହିଁ ଏବଂ ମୁଁ ମାନୁଛି ଯେ ଆପଣଙ୍କ ଯୋଗ୍ୟତା ବଡରୁ ଅତି ବଡ ଗମ୍ଭୀର ଅପରାଧଗୁଡିକୁ ମଧ୍ୟ ନିୟନ୍ତ୍ରିତ କରିବାରେ ସମାଜର ବହୁତ ବଡ ସେବା କରୁଛି  ।

ବନ୍ଧୁଗଣ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନକୁ ଦେଶର ପ୍ରତ୍ୟେକ ରାଜ୍ୟରେ ଅଧିକରୁ ଅଧିକ ମଜବୁତ କରିବା, ତାହାର ବିସ୍ତାର କରିବା ଉପରେ ସରକାର ଲଗାତାର କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି  । ଏହି କ୍ରମରେ ଦେଶର ପୁଲିସ ବଳର ଆଧୂନିକୀକରଣ ଯୋଜନା ଅଧିନରେ ସରକାର ଗୁଜରାଟ ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟକୁ ଉନ୍ନତ କରିବାର ପ୍ରସ୍ତାବକୁ ମଧ୍ୟ ମଂଜୁରି ପ୍ରଦାନ କରିଛନ୍ତି  । ଅନ୍ତର୍ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ସ୍ତରରେ ଏବଂ କ୍ଷେତ୍ରୀୟ ସ୍ତରରେ ସେଣ୍ଟର ଅଫ ଏକ୍ସଲେନ୍ସ ଏବଂ ନୂତନ ପ୍ରତିଷ୍ଠାନ ସ୍ଥାପନ ପାଇଁ କାର୍ଯ୍ୟ ଆରମ୍ଭ କରାଯାଇଛି  । ଏହି ପ୍ରକଳ୍ପ ପାଇଁ 300 କୋଟି ଟଙ୍କା ଖର୍ଚ୍ଚ କରାଯିବ ଯାହା ମଧ୍ୟରେ 60 ପ୍ରତିଶତ ଅର୍ଥ କେନ୍ଦ୍ର ସରକାରଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ପ୍ରଦାନ କରାଯିବ  । ଏବଂ ମୁଁ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଖୁସି ଯେ ଗୁଜରାଟ ସରକାର ମଧ୍ୟ ଏହି ପ୍ରକଳ୍ପ ପାଇଁ ନିଜ ତରଫରୁ ପାଖାପାଖି 50 କୋଟି ଟଙ୍କା ପ୍ରଦାନ କରିଛନ୍ତି । ଏହି ଅର୍ଥର ବ୍ୟବହାର ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନକୌଶଳଗୁଡିକର ଆଧୂନୀକିକରଣ ଏବଂ ସେମାନଙ୍କ ବିସ୍ତାରଣ କ୍ଷେତ୍ରରେ କରାଯିବ  ।

ବନ୍ଧୁଗଣ, ଆପଣମାନେ ଅଧ୍ୟୟନ କରିବା ପାଇଁ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଉପଯୁକ୍ତ ବିଷୟ ଚୟନ କରିଛନ୍ତି  । ଫରେନ୍ସିକ ବିଜ୍ଞାନର ଶ୍ରେଣୀଗୁଡିକର କିଛି ସିଦ୍ଧାନ୍ତ ଆପଣଙ୍କ ଜୀବନର ଶ୍ରେଣୀଗୃହ , ଅନ୍ୟ ସଦର୍ଭରେ ମଧ୍ୟ ସହାୟକ ହେବ  । ସେମାନେ ଆପଣମାନଙ୍କୁ ଶିକ୍ଷାଦାନ କରିଥିବା ସ୍ୱାତନ୍ତ୍ର୍ୟତାର ଆଇନ,ଜୀବନରେ ସିଦ୍ଧାନ୍ତକୁ ମଧ୍ୟ କେବେ ଭୁଲନ୍ତୁ ନାହିଁ  । ସ୍ୱାମୀ ବିବେକାନନ୍ଦ କହୁଥିଲେ ଯେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଆତ୍ମା ସମ୍ଭାବିତ ଭାବେ ଦିବ୍ୟ  ।  ଅର୍ଥାତ ଆମମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରୁ ପ୍ରତ୍ୟେକ, ନିଜ ଭିତରେ, ଭୀଷଣ ଶକ୍ତିର ଅଧିକାରୀ, ଯାହାକୁ ଜାଣିବାର ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି  । ଏହି ଶକ୍ତିକୁ ଚିହ୍ନିବାର ପ୍ରଥମ ସୋପାନ ହେଉଛି ବିଶ୍ୱାସ  । ନିଜ ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ ରଖିବା  । ନିଜର ଦକ୍ଷତା ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ ରଖିବା  । ନିଜର ସମ୍ଭାବ୍ୟ ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ ରଖିବା । ଲୋକାର୍ଡ ଆପଣମାନଙ୍କୁ ଶିଖାଇଛନ୍ତି ଯେ ଅପରାଧୀକ ଘଟଣାରେ ଅପରାଧୀ କିଛି ନା କିଛି ଛାଡିଯାଇଥାଏ  । ମୁଁ ନିଶ୍ଚିତ ଯେ ଆପଣମାନେ ସର୍ବଦା ଅପରାଧର ସମାଧାନ କରୁଥିବେ  । କିନ୍ତୁ, ଏହା ସ୍ମରଣ ରଖନ୍ତୁ ଯେ ଆପଣମାନେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଛାତ୍ର ଆମ ସମାଜ ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଅତ୍ୟନ୍ତ ମହତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ  । ଏବଂ ଅନ୍ୟମାନଙ୍କଠାରୁ ଶିକ୍ଷା ପ୍ରାପ୍ତ କରି ଆପଣଙ୍କ ଜ୍ଞାନ ବୃଦ୍ଧି କରିବା ପାଇଁ ମଧ୍ୟଭୁଲନ୍ତୁ ନାହିଁ  । ନୂତନ ଚିନ୍ତାଧାରା, ମତ ଏବଂ ମତାମତ ଗ୍ରହଣ କରିବା ପାଇଁ ସର୍ବଦା ପ୍ରସ୍ତୁତ ରୁହନ୍ତୁ  । ନିଜର ଚିନ୍ତାଧାରା ସହିତ ବିଶ୍ୱକୁ ସମୃଦ୍ଧ କରନ୍ତୁ ଏବଂ ଅନ୍ୟମାନଙ୍କଠାରୁ ସର୍ବୋତ୍ତମ ଗ୍ରହଣ କରନ୍ତୁ  । ଏହି ଭିନ୍ନତା ଆପଣମାନଙ୍କୁ ଏକ ଜ୍ଞାନୀ ବ୍ୟକ୍ତି ଭାବେ ପରିଗଣିତ କରାଇବ  । ଏବଂ ପ୍ରଗତିଶୀଳ ବିକାଶର ନିୟମ ବିଷୟରେ ଯେତେବେଳେ ମୁଁ କହୁଛି ସେତେବେଳେ ଆପଣମାନଙ୍କ ମନ ସ୍ୱତଃପ୍ରୋତ ଭାବେ ଆପଣମାନେ ବିଗତ ଦିନର ଶିକ୍ଷାଦାନ ବିଷୟରେ ମନେପକାଇଦେବ, ଏବଂ ଆଗାମୀ ଦିନର କଥା ମଧ୍ୟ ଚିନ୍ତା କରିବେ  । ପ୍ରତି ମୂହୂର୍ତ୍ତରେ ଦୃତ ଗତିରେ ସମସ୍ତ କ୍ଷେତ୍ରରେ ପରିବର୍ତ୍ତନ ହେଉଥିବା ପୃଥିବୀରେ ଆମେ ବାସ କରୁଛୁ  । ଆମ ସମୟର ନିଶ୍ଚିତ ଆବଶ୍ୟକତା ହେଉଛି ଚମତ୍କାରୀ ନବସୃଜନ। କୌଣସି ନୂତନ ଚିନ୍ତାଧାରା ପୁରୁଣା ହେବାପାଇଁ ଅଧିକ ସମୟ ଲାଗେନାହିଁ  । ଆଜିକାଲି ଆମ ଲୋକମାନେ ବିଶେଷକରି ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀ ବିଭିନ୍ନ ସମସ୍ୟାର ସମାଧାନ ସୂତ୍ର ଅଭିନବ ପଦ୍ଧତିରେ ରେକର୍ଡ ସମୟ ମଧ୍ୟରେ ଖୋଜି ବାହାର କରିଦେଉଛନ୍ତି । ସେହିଭଳି ବୈଶ୍ୱିକ  ସ୍ତରରେ ପରିବର୍ତ୍ତନ ପରମ୍ପରାର କେନ୍ଦ୍ରରେ ରହିବାର ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି  । ଆପଣମାନଙ୍କ ଶିକ୍ଷା ଏବଂ ବୁଦ୍ଧିମତା ଆପଣଙ୍କୁ ବକ୍ସ ବାହାରେ ଚିନ୍ତା କରିବା ପାଇଁ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ପ୍ରଦାନ କରିଛି  । ସୁନିଶ୍ଚିତ କରନ୍ତୁ ଯେ ଆପଣମାନେ ଏହି କୌଶଳର ଉପଯୋଗ କେବଳ ଆମ ଚତୁଃପାର୍ଶ୍ଵର ପରିବର୍ତ୍ତନ ସହିତ ତାଳମେଳ ରଖିବା କ୍ଷେତ୍ରରେ ବରଂ ଆମ ବିଶ୍ୱକୁ ଉତ୍ତମ ସ୍ଥାନ ପ୍ରଦାନ କରିବା ଦିଗରେ ଲଗାଇବାର ଆବଶ୍ୟକତା ରହିଛି  । ଆଗାମୀ ପିଢିଗୁଡିକ ଏଥିପାଇଁ ଧନ୍ୟବାଦ ପ୍ରଦାନ କରିବେ  । ବନ୍ଧୁଗଣ, କୌଣସି ଯୋଜନା ଏବଂ ପଦକ୍ଷେପ ଯୁବଗୋଷ୍ଠିଙ୍କ ବିନା ଅଂଶଗ୍ରହଣରେ ସମ୍ଭବ ହୋଇପାରିବ ନାହିଁ  । ମୋର ବିଶ୍ୱାସ ଯେ ଯେଉଁ ଜ୍ଞାନ ଏଠାରେ ଆପଣମାନେ ଆହରଣ କରିଛନ୍ତି ତାହା ଉତ୍ତମ ଭାବେ ଦେଶସେବା କରିବାରେ ଆପଣମାନଙ୍କୁ ସହଯୋଗ କରିବ  । ମୋର ଆଶା ଯେ ଅଲମାମାଟରକୁ ଉଚ୍ଚତମ ସମ୍ମାନରେ ରଖିବେ  । ମୁଁ ସମସ୍ତ ସ୍ନାତକ ଛାତ୍ରମାନଙ୍କୁ ଏକ ଉଜ୍ଜ୍ୱଳ ଏବଂ ସଜୀବ ଭବିଷ୍ୟତର କାମନା କରୁଛି  ।

ଏବଂ ମୁଁ ବିଶେଷ ଭାବେ ଆଜି ଦେଖୁଥିଲି ଯେ ବଡ କଷ୍ଟରେ କୌଣସି ପୁଅ ଦେଖିବାକୁ ମିଳୁଛନ୍ତି, ସମସ୍ତପୁରସ୍କାର, ଝିଅମାନେ ନେଉଥିଲେ  । ଦେଖନ୍ତୁ ଏହା ପରିବର୍ତ୍ତିତ ସମୟର ଛବି । ମୁଁ ବିଶେଷ ଭାବେ ସେହି ଝିଅମାନଙ୍କୁ  ଏବଂ ସେମାନଙ୍କ ମାତା-ପିତାଙ୍କୁ ଅନେକ ଅନେକ ଶୁଭେଚ୍ଛା ଜଣାଉଛି ଖାସକରିରକ୍ଷା ବନ୍ଧନ ର ଶୁଭକାମନ ଜଣାଉଛି  । ଅନେକ ଅନେକ ଧନ୍ୟବାଦ  ।

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times