ସେୟାର
 
Comments
These elections are about choosing between the nation and a family, about electing a government that puts ‘nation first’ or a government that puts ‘family first’: PM Modi
Both the JD(S) and Congress work to enrich their families and not to serve the people. This is why corrupt middlemen like Quattrocchi and Christian Michel flourished under their governments: Prime Minister Modi
The Congress is also hand-in-glove with the JD(S) in standing with those that utter anti-national statements like asking for a separate Prime Minister in Jammu and Kashmir: PM Modi in Karnataka

भारत माता की जय, भारत माता की जय।

मंच पर उपस्थित भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्रीमान येदियुरप्पा जी, जगदीश शेट्टर, सभी वरिष्ठ नेतागण, सभी उम्मीदवार बंधु-भगिनी और विशाल संख्या में पधारे हुए मेरे प्यारे भाइयो-बहनो, मुझे बता रहे हैं ट्रांसलेशन की जरूरत नहीं है, बिल्कुल? अरे गजब हैं आप लोग। मैं चारों तरफ देख रहा हूं, लोग ही लोग हैं।

भाइयो-बहनो, इतनी भयंकर गर्मी में आप हम सबको आशीर्वाद देने के लिए आए, मैं आपका बहुत-बहुत आभारी हूं। यह दृश्य दिखाता है कि हवा का रुख किस तरफ है। हिंदुस्तान में मुझे जहां जाने का मौका मिला है, पूरे देश में फिर एक बार मोदी सरकार, पूरे देश में जन-जन की यही आवाज है, एक लहर चल रही है। भाइयो-बहनो, मैं इस पूरे क्षेत्र के हर देवी देवता को नमन करता हूं। बंधु-भगिनी, ये संयोग ही है की मुझे रामनवमी के पहले किष्किन्धा के करीब आने का अवसर मिला। श्री राम सेवक हनुमान का सेवा भाव, सबरी का भक्तिभाव यहां के कण-कण में है। इसी सेवा भाव से आपके इस प्रधान सेवक ने ही आप सभी की देश की सेवा करने का एक नम्र प्रयास किया है। आपके भरपूर आशीर्वाद और सहयोग का परिणाम है की आज जमीन से लेकर अंतरिक्ष तक भारत का डंका बज रहा है। अब मैं लोकसभा चुनाव के लिए आपका फिर से आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। आशीर्वाद मिलेगा ना, पूरे कर्नाटक क्षेत्र से मिलेगा ना, यहां के सभी लोकसभा क्षेत्रों से मिलेगा? मैं फिर एक बार आपका आभार व्यक्त करता हूं। मुझे बताया गया है इन दिनों भांति-भांति के बयान मेरे खिलाफ आ रहे हैं।

आपका प्यार मेरे सिर-आंखों पर, आपका प्यार ये दिल्ली में बैठे लोगों की नींद खराब कर रहा है। आज-कल हताशा और निराशा में डूबे हमारे विरोधी दल के सभी नेता, मोदी के खिलाफ अनाप-शनाप बयानबाजी कर रहे हैं। मुझे बताया गया की श्रीमान देवगौड़ा जी के बेटे ने कहा है।

देखिए जगह छोटी पड़ गई, मैं आपका प्यार, उत्साह समझ सकता हूं लेकिन शांति बनाइए।

देवगौड़ा जी के सुपुत्र जी ने कहा की केंद्र में अगर फिर सरकार बन गई तो वे राजनीति से संन्यास ले लेंगे। आप लोगों को इनकी बात पर भरोसा है, ये कभी-भी सच बोलते हैं? आपको याद है 2014 के चुनाव में स्वयं देवगौड़ा जी ने कहा था अगर मोदी जी जीत कर आएंगे, मोदी जी पीएम बनेंगे तो मैं सन्यास ले लूंगा। उन्होंने लिया क्या संन्यास, पिता जी संन्यास लिया क्या, बेटा संन्यास लेगा क्या? अरे संन्यास की बात छोड़ो, परिवार में जितने बचे हैं सब को टिकट दे रहे हैं। आप लोगों के उत्साह को देख लेते, अगर वो अपनी आईबी की रिपोर्ट से जान लेते तो शायद दोबारा ऐसा बोलने की हिम्मत नहीं करते। इस लोकसभा चुनाव के नतीजे किस तरफ जा रहे हैं वो आपकी ऊर्जा, आपका जोश, आपका उत्साह बता रहा है।

साथियो, 2019 ये चुनाव राष्ट्रवाद और परिवारवाद के बीच का है। नेशन फर्स्ट या फैमिली फर्स्ट इसके बीच का चुनाव है। भाइयो-बहनो, कर्नाटक में इस परिवारवाद के प्रतीक हैं, कांग्रेस और जेडीएस दोनों। दोनों ही पार्टियां जनता से जितनी कटी हुई हैं उतनी ही सिर्फ और सिर्फ अपने परिवार से जुड़ी हुई हैं। इनके लिए आपकी आवश्यकताएं, देश की जरूरतें इसकी उन्हें परवाह नहीं हैं लेकिन उनकी प्राथमिकता है खुद का स्वार्थ, परिवार का स्वार्थ। और उनका मिशन क्या है? उनका एक ही मिशन है कमिशन। पहले कांग्रेस की अकेली सरकार थी तो मिस्टर 10 परसेंट थे, याद हैं ना मिस्टर 10 परसेंट। अब दो की जोड़ी बन गई तो 10 परसेंट इनके और 10 परसेंट दूसरे के, अब कर्नाटक 20 परसेंट चल रहा है।

साथियो, जब परिवार की ही चिंता होती है, वहीं क्वात्रोची मामा और मिशेल मामा जैसे दलालों का, उनको पाला-पोसा जाता है। बोफोर्स से लेकर हेलीकॉप्टर घोटाले जैसे पाप वहां किए जाते हैं। साथियो, कांग्रेस की करनी देखिए, वोट खरीदने के लिए अब उसने बच्चों और गर्भवती महिलाओं के हक का पैसा भी लूट लिया है। उसने इस लोकसभा चुनाव में एक और घोटाला कर डाला है, तुगलक रोड चुनाव घोटाला। मुझे लगता है की आपको ये तुगलक रोड क्या है ये मालूम नहीं है। बताऊं? दिल्ली में एक तुगलक रोड है, वहां एक बहुत बड़े नेता का घर है तो ये पिछले दिनों तुगलक रोड चुनावी घोटाला हुआ है बहुत बड़ा। आपने टीवी पर देखा या नहीं देखा, मुझे मालूम नहीं। यहां के अखबार वाले छापने की हिम्मत करते हैं की नहीं मुझे पता नहीं। मध्य प्रदेश में जहां कांग्रेस की सरकार बने अभी कुछ ही महीने हुए हैं वहां से सैकड़ों करोड़ रुपए चुनाव के लिए दिल्ली भेजे गए हैं। ये पैसे कुपोषण के शिकार बच्चों के लिए थे, मासूम बच्चों की भूख मिटाने के लिए थे लेकिन कांग्रेस इतनी निर्दयी है की उसने गरीब बच्चों के मुंह से निवाला छीन लिया। अब तक हम सुनते आए थे, डिफेंस डील में कांग्रेस का पंजा, जमीन की डील में कांग्रेस का पंजा, पनडुब्बी की डील में कांग्रेस का पंजा, हेलीकॉप्टर की डील में कांग्रेस का पंजा लेकिन अब तो मासूम बच्चों के खाने पर भी, मासूम बच्चों की थाली लूटने का काम इन लोगों ने किया है। पांच साल से सत्ता से बाहर रहने वाली कांग्रेस कितनी भूखी है ये आप भी देख रहे हैं। चुनाव आते-जाते रहेंगे लेकिन बच्चों की थाली छीन कर कांग्रेस ने जो पाप किया है वो कभी नहीं धुल सकता है।

साथियो, इनकी सोच क्या है, किस सोच के साथ ये लोग सरकार चला रहे हैं, ये इनकी बातों से लगातार झलक रहा है। दोस्तों आपका प्यार मुझे मंजूर है लेकिन मुझे बोलने देंगे, तो मैं बोलूं? आप शांति रखोगे? बहुत-बहुत धन्यवाद, यहां के सब युवा समझदार हैं।

मैं कल मीडिया में देख रहा था की कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने कहा है की हमारी सेना में वही लोग जाते हैं, जिन्हें दो वक्त खाना नहीं मिलता, ये कैसी सोच है कुमारस्वामी जी? आप ये कहकर नहीं बच सकते की आपके बयान का गलत मतलब निकाला गया है। आप जो मुझे नहीं देख पा रहे हैं उनसे मेरी प्रार्थना है मेरी आवाज सुन लीजिए, बाद में सामने से मैं आपको प्रणाम कर लूंगा।

आप ये कहकर नहीं बच सकते की आपके बयान का गलत मतलब निकाला गया है। आपने वही कहा है जो आपके दिल में है। देश की सेना का इतना बड़ा अपमान। भाइयो-बहनो, मैं आपको पूछना चाहता हूं, क्या यहां के मुख्यमंत्री जी ने ये कहा है की जिनको 2 टाइम खाना नहीं मिलता है वो सेना में जाता है, क्या ये हमारे वीर-सैनिकों का अपमान है की नहीं है? हमारे सुरक्षाबलों का अपमान है की नहीं है? ये इनको शोभा देता है क्या, क्या इससे वोट मांगोगे क्या? जो देश की सेवा के लिए जाते हैं, जो देश की सेवा के लिए कुछ भी कर गुजरते हैं। अरे शून्य से भी 40-45 डिग्री कम तापमान में बर्फीली हवाओं को सहते हैं, रेगिस्तान के 50 डिग्री तापमान में जो जलते हुए सूरज को बर्दाश्त करते हैं, जो महीनों-महीनों समंदर में तिरंगा लिए दुश्मनों को भटकने नहीं देते हैं उनके लिए ऐसे शब्द, ऐसी सोच। अरे डूब मरो, डूब मरो देश की सेना का अपमान करने वाले।

भाइयो और बहनो, देश के वीर सुपूतों का तप, उनकी तपस्या ये लोग कभी नहीं समझ सकते, यही लोग हैं जो सोने का चम्मच लेकर के पैदा हुए हैं। तीन-तीन पीढ़ी से सत्ता संभालकर बैठे लोग, देश के गरीब की उसका सम्मान, उसकी इज्जत ये समझ नहीं सकते हैं। भाइयो-बहनो, यही सोच है जिसकी वजह से जेडीएस-कांग्रेस और इनके विधायक दल हमारे देश की सुरक्षा को कोई महत्व नहीं देते। यही सोच है जिसकी वजह से इनके हर रक्षा सौदे में कोई ना कोई घोटाला होता रहा। यही सोच है जिसकी वजह से हमारे जवानों को ये खराब क्वालिटी के हथियार मुहैया कराते हैं। यही सोच है जिसकी वजह से हमारे वीरों को सीमा पर जरूरी सुविधाएं नहीं दी जाती। यही सोच है जिसकी वजह से बुलेटप्रूफ जैकेट तक देने में इन लोगों ने आनाकानी की। बरसों तक बुलेटप्रूफ जैकेट की मांग को ये लोग अनसुना करते रहे। भइयो-बहनो, कांग्रेस और जेडीएस भी राष्ट्रवादियों के खिलाफ, राष्ट्र की रक्षा करने वालों के खिलाफ है। ये लोग भारत तेरे टुकड़े होंगे, ये जो नारा लगाते हैं, ये जो ख्वाब रखते हैं इनके साथ खड़े रहने में उनको शर्म नहीं आती है। ये लोग जम्मू-कश्मीर को भारत से अलग करने वालों के जो समर्थक हैं उनके साथ खड़े हैं। इनके पास सुल्तान के उत्सव के लिए पैसा है लेकिन हम्पी के गौरव को याद करने के लिए उनके पास पैसे कम पड़ते हैं।

भाइयो-बहनो, सिर्फ और सिर्फ कुछ वोट जुटाने के लिए जो हमारे सुपूतों के शौर्य का सुबूत मांगते हैं उनसे सावधान रहना जरूरी है। मोदी को नुकसान हो सिर्फ इसलिए पाकिस्तान के प्रोपेगेंडा को जो आगे बढ़ा रहे हैं उनको सबक सिखाना जरूरी है। भाइयो-बहनो, भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी की इनकी नीयत ही है जिसको कर्नाटक का किसान भी भुगत रहा है। तुंगभद्रा और अलमट्टी जैसे बड़े डैम होने के बावजूद ये क्षेत्र इतना प्यासा क्यों है। 24 घंटे के भीतर सभी किसानों की कर्जमाफी का वादा किया था, क्या हुआ उसका? साथियो, जो खुद वादा किया था वो तो पूरा नहीं किया, इस चौकीदार ने जो पीएम किसान योजना बनाई उसका लाभ भी ये नहीं पहुंचाने दे रहे हैं। देश के 3 करोड़ से अधिक किसान परिवारों के खाते में पहली किश्त पहुंच भी चुकी है लेकिन यहां की सरकार किसानों की लिस्ट भेजने को लेकर भी इधर-उधर करती रहती है। इसलिए अबकी बार हमने बहुत बड़ा संकल्प लिया है, बीजेपी ने तय किया है की 23 मई को जब फिर एक बार मोदी सरकार आएगी तब कर्नाटक के सभी किसानों को इनके खाते में यो मदद पहुंचा दी जाएगी। इसका मतलब ये हुआ की जिसके पास पांच एकड़ से ज्यादा जमीन भी है उसको भी अब इस योजना का लाभ मिलेगा। इसके साथ-साथ देश के सभी छोटे किसानों को, ये बड़ी महत्वपूर्ण बात है और हमारे येदियुरप्पा जी को बहुत खुशी होगी। देश के सभी किसान जो 60 वर्ष की आयु के बाद, अब किसानों को पेंशन देने का वादा हमने किया है।

बंधु-भगिनी, बीजेपी ने बीते पांच वर्षों में जिस तरह बिजली और स्वच्छता के लिए काम किया है उसी तरह आने वाले पांच वर्षों में पानी के लिए काम करेंगे। अलग से जल-शक्ति मंत्रालय बनाया जाएगा, देश की नदियों के पानी को जरूरत वाले क्षेत्रों में पहुंचाने का काम किया जाएगा। इसका लाभ इसी पूरे क्षेत्र को मिल पाएगा, यहां पहले से ही हजारों करोड़ों के सिंचाई प्रोजेक्ट केंद्र सरकार पूरे कर रही है। तुंगभद्रा की अविरल धारा को बनाए रखने के लिए भी हमारी सरकार गंभीर है। साथियो, खेती हो या खेती से जुड़े उद्योग, बीजेपी हर काम तेजी से करेगी। यहां रेलवे और हाईवे से जुड़े अनेक प्रोजेक्ट्स पर पहले ही बहुत बेहतर काम हुआ है। आने वाले पांच वर्षों में इस क्षेत्र में स्वास्थ्य, शिक्षा और उद्योगों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। भइयो-बहनो, सबको सुरक्षा, सबकी समृद्धि और सबको सम्मान के हमारे सभी संकल्पों को हम आपके सहयोग से सिद्ध करेंगे। कमल के फूल के सामने बटन दबाकर जो वोट आप देंगे वो इस चौकीदार को मजबूत करेगा। आपका वोट सीधा-सीधा मोदी के खाते में जाएगा।

भाइयो-बहनो, मतदान के दिन भारी मतदान होना चाहिए। अभी कल जो पहले चरण का मतदान हुआ है, उस मतदान विपक्ष कहीं टिक नहीं पाएगा-बच नहीं पाएगा। पूरी तरह भारतीय जनता पार्टी और उसके साथियों का वेव चल रहा है। पश्चिम बंगाल में तो अफरा-तफरी मची हुई है वो हत्या पर तुले हैं, मरने-मारने पर तुले हैं लेकिन जनता फिर एक बार… मोदी सरकार।

भाइयो-बहनो, मैं एक नारा बुलवाता हूं। आप लोग बोलेंगे, सब लोग बोलेंगे? मैं कहूंगा… मैं भी, आप बोलिएगा… चौकीदार।
मैं भी… चौकीदार, मैं भी… चौकीदार, मैं भी… चौकीदार, मैं भी… चौकीदार। कमाल कर दिया आपने, मेरे साथ बोलिए, भारत माता की… जय, भारत माता की… जय। बहुत-बहुत धन्यवाद।

ଦାନ
Explore More
ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି  'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି 'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ
64 lakh have benefited from Ayushman so far

Media Coverage

64 lakh have benefited from Ayushman so far
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Send in your suggestions for second edition of Pariksha Pe Charcha!
December 05, 2019
ସେୟାର
 
Comments

Here’s inviting all the students, parents and teachers to share their valuable suggestions and insights about making exams stress-free.

Do share your thoughts in the comments box below.