Share
 
Comments

A new day, a new theme and new words of inspiration….

Every evening, lakhs of farmers interact with Chief Minister Shri Narendra Modi as a part of Krishi Mahotsav 2012. In his speech, Shri Modi picks out a fresh facet of agriculture and shares what Gujarat has been doing in that particular sphere.

The interactions are not only enriching but also bring out the salient features and the energy that is driving Gujarat’s record agriculture growth. It is worth noting that at a time when the nation’s agriculture growth rate is struggling to cross 3%, Gujarat’s agriculture is soaring at 11%- this despite Gujarat not having perennial rivers among other things.

Do have a look at the various enriching speeches by Shri Modi:

19th May 2012- How does using latest technology enhance agriculture growth? Know about Gujarat's fusion of agriculture and technology that delivered stellar results.
18th May 2012- Shri Modi speaks on seeds and Gujarat's achievement of having enough stock of quality of seeds for Kharif crops.
17th May 2012- Krishi Mahotsav travels to South Gujarat. Shri Modi visited mega Krishi Mahotsav at Nana Pondha village, Valsad district.
16th May 2012- Gujarat is a dedicated follower of the mantra ‘Per Drop More Crop'! In this interaction, Shri Modi is talking about need of drip irrigation and farm ponds.
15th May 2012- Know about Gujarat's growth in organic farming in the words of Shri Narendra Modi.
14th May 2012- Gujarat's milk production has grown by 68%! Hear the story behind this record growth in the last decade.
12th May 2012- Shri Modi at the zonal Krishi Mahotsav in Petlad, Anand district.
11th May 2012- Gujarat will never let lack of credit affect a farmer's growth. Know about Gujarat's mammoth financial assistance so that our hardworking farmers attain record success.
10th May 2012- Shri Modi speaking about the stress on agriculture and training in the filed of agriculture.
10th May 2012- Speech of Shri Modi when he attended zonal Krishi Mahotsav in North Gujarat, a land transformed by Gujarat's agrarian turnaround.
9th May 2012- Learn more about Gujarat's advances in horticulture in this talk by Shri Modi.
8th May 2012- Gujarat cares as much for its 2.5 crore animal population as it does for its vibrant people. Here, Shri Modi is speaking on animal husbandry. 
7th May 2012- Shri Narendra Modi talking about soil health cards and efforts to take Krishi Mahotsav across the length and breadth of Gujarat.
6th May 2012- Shri Narendra Modi kick off Krishi Mahotsav in Junagadh.
Keep visiting this page for knowing about more facets in Gujarat’s agriculture journey in the words of none other than its dynamic Chief Minister, Shri Narendra Modi.

Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Govt releases Rs 4,000 crore for Post Matric Scholarship Scheme for Scheduled Castes

Media Coverage

Govt releases Rs 4,000 crore for Post Matric Scholarship Scheme for Scheduled Castes
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
टीका उत्सव पर देशवासियों से आग्रह
April 11, 2021
Share
 
Comments

मेरे प्यारे देशवासियों,

आज 11 अप्रैल यानि ज्योतिबा फुले जयंती से हम देशवासी ‘टीका उत्सव’ की शुरुआत कर रहे हैं। ये ‘टीका उत्सव’ 14 अप्रैल यानि बाबा साहेब आंबेडकर जयंती तक चलेगा।

ये उत्सव, एक प्रकार से कोरोना के खिलाफ दूसरी बड़ी जंग की शुरुआत है। इसमें हमें Personal Hygiene के साथ ही Social Hygiene पर विशेष बल देना है।

हमें ये चार बातें, जरूर याद रखनी है।

Each One- Vaccinate One, यानि जो लोग कम पढ़े-लिखे हैं, बुजुर्ग हैं, जो स्वयं जाकर टीका नहीं लगवा सकते, उनकी मदद करें।

Each One- Treat One, यानि जिन लोगों के पास उतने साधन नहीं हैं, जिन्हें जानकारी भी कम है, उनकी कोरोना के इलाज में सहायता करें।

Each One- Save One, यानि मैं स्वयं भी मास्क पहनूं और इस तरह स्वयं को भी Save करूं और दूसरों को भी Save करूं, इस पर बल देना है।

और चौथी अहम बात, किसी को कोरोना होने की स्थिति में, ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाने का नेतृत्व समाज के लोग करें। जहां पर एक भी कोरोना का पॉजिटिव केस आया है, वहां परिवार के लोग, समाज के लोग ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाएं।

भारत जैसे सघन जनसंख्या वाले हमारे देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई का एक महत्वपूर्ण तरीका ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ भी है।

एक भी पॉजिटिव केस आने पर हम सभी का जागरूक रहना, बाकी लोगों की भी टेस्टिंग कराना बहुत आवश्यक है।

इसके साथ ही जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे, इसका पूरा प्रयास समाज को भी करना है और प्रशासन को भी।

एक भी वैक्सीन का नुकसान ना हो, हमें ये सुनिश्चित करना है। हमें जीरो वैक्सीन वेस्ट की तरफ बढ़ना है।

इस दौरान हमें देश की वैक्सीनेशन क्षमता के ऑप्टिमम यूटिलाइजेशन की तरफ बढ़ना है। ये भी हमारी कपैसिटी बढ़ाने का ही एक तरीका है।

हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ के प्रति कितनी जागरूकता हम लोगों में है।

हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि जब जरूरत न हो, तब हम घर से बाहर न निकलें।

हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे।

हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि हम मास्क पहनने और अन्य नियमों का किस तरह पालन करते हैं।

साथियों,

इन चार दिनो में व्यक्तिगत स्तर पर, समाज के स्तर पर और प्रशासन के स्तर पर हमें अपने-अपने लक्ष्य बनाने हैं, उन्हें प्राप्त करने के लिए पूरा प्रयास करना है।
मुझे पूरा विश्वास है, इसी तरह जनभागीदारी से, जागरूक रहते हुए, अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए, हम एक बार फिर कोरोना को नियंत्रित करने में सफल होंगे।
याद रखिए- दवाई भी, कड़ाई भी।

धन्यवाद !

आपका,

नरेन्द्र मोदी।