Share
 
Comments

Place : New Delhi Speech Date :23-11-2010

  •  Gujarat is an amazing model of the effective co-existence of the big and small; robust and inclusive; fast and yet sustainable.
  • There is a long list of the things which make us Numero Uno.
  •  The development of these SIRs is in line with the development of the Delhi-Mumbai Industrial Corridor.
  • Gujarat is known for its handholding approach for the investor
 

Ladies and Gentlemen!

I feel delighted to be here with you. It is a rare opportunity to interact with a galaxy of business leaders, opinion makers and intellectuals like you; that too, in the National Capital.

Friends! As you know, India is on the path of becoming an economic power in the world. India has Emerged-That is the surprised expression of the President of the USA. I am going to take this opportunity to give you some glimpses as to how Gujarat has contributed in India's Ascendance. As you have seen in the presentation, we call ourselves to be the ‘Growth Engine of India'. I assure you that it is not a mere slogan. It has substance. It has substance that is supported by authentic Statistics. India's rise in the Global economy has mainly started after the liberalisation of the economy. It is now recognised as a robust economy mainly because of the rising exports, better infrastructure, better human capital and better market capitalisation. Gujarat was among the very first States to take steps in the direction of liberalising the economy and dismantling the barriers. Not only that, we took advantage of the situation by restructuring our PSUs, enacting a legal framework for Public Private Partnership in infrastructure and setting up Global standards for ourselves. Our growth rate has been in double digit for the entire decade. Our growth rate in Industry has been around 13% for a decade. In concrete terms:

We contribute to 16% of Inda's industrial production

We contribute to 22% of India's exports

We contribute to 30% of the India's stock market capitalisation

We are monopoly producers and suppliers for several goods in the country; whereas in many others, we are the leading suppliers. Several products of Gujarat, including polished diamonds and towels, are flooding the world markets. We have some of the world's largest manufacturing and processing facilities (like Reliance in petroleum refining). We house some of the leading global industries (like the General Motors & Bombardier). However, our real strength lies in our medium and small industries. We house 43% of the Micro, Small and Medium Enterprises of India. We house 39% of the total medium industries of India. With addition of Nano-car, we have emerged as an automobile hub. We are already a global player in the Steel, pipe, and pharmaceutical industries. Now, we are emerging as a global player in the Cement industry too. Our strength in the Oil and Gas is now recognised globally. With our 1600 km long coastline and world class ports on it, we handle 35% of the Cargo in India. These are those indicators on the basis of which India's ascendance is recognised. And our contribution in them is substantial. That is why we call ourselves the ‘Growth Engine of India'.

We call ourselves the ‘Growth Engine of India' also because even in those fields where India as a country has not been able to do well, Gujarat is doing well and producing a model for others. For example, the country is struggling with a slow growth in agriculture. Gujarat's growth in agriculture has been at 9.6% for the last seven years. In fact, one estimate says that it is 12.8% for five years. This is three to four times the national average. This growth is impressive not only in economic terms, but in terms of finding solutions to our historic problems in agriculture. This includes water harvesting and micro-irrigation, adding more waste land to cultivable land, bringing in scientific practices, minimising the input costs and enhancing productivity. Similar is the story in rural electrification. Gujarat has not only added substantial megawatts to electricity generation and reduced its T & D losses. It is, in fact, the only State to supply uninterrupted power to all the rural households on a 24 X 7 basis. Similar is the case in designing and perfecting the PPP model for infrastructure development. Gujarat is not only the pioneer in it but the State is now recognised as the ‘Most Admired PPP Enabler'. There are a number of such areas where Gujarat has found innovative and effective solutions to long pending problems.

However, Friends! We want to do better because we want that India must do better. I always say ‘Gujarat's growth for India's growth'. Before sixty years, one man from Gujarat brought political freedom to the country. Now, may be the destiny has cast upon the people of Gujarat the responsibility to bring economic surge and prosperity in the country. I assure you that we are working with that high sense of responsibility. This responsibility means that we have to do better than we have been doing; we also have to do better than others are doing.

Friends! It definitely gives us pride to listen that ‘India has emerged'. However, to make India emerge and to continue this emergence, we must put up strong foundations. If India has to emerge in a sustainable way, the Indian States have to be strong. I am happy to say that Gujarat represents the elements of such a strong foundation. Gujarat is not only a landmass with conducive business environment; but it represents a true business spirit as well. Its people have shown their business acumen not only in the country but in the entire world. Its fundamentals are strong not in a particular sector but all across the economic and social sectors. Its vibrancy can be felt not only in the economic activities but also in social life. Gujaratis are known for their value systems and ethics which facilitate and sustain rewarding businesses as well as enriching life. We believe in making the pie bigger and sharing it too. That is why our work force remains satisfied. That is why we have almost zero man days loss on account of labour problems. In this age of globalisation, it is no longer the raw materials which attract people and projects. Now, the important factors are the transaction costs which depend upon the environment of business, the ease of business and the spirit of business. In addition, the quality of Governance, including the stability of governments and transparency in their policies, also matter a lot. I am proud to say that Gujarat offers you the best on these fronts.

This is the reason that Gujarat is such a land…

which not only invites a Cheapest car project; but makes it to produce the cars in just one and half year

which not only attracts a Metro coach project but makes it to produce the coaches in just one and half year

which not only creates a PSU in oil and Gas but helps it to become a multinational company in just seven years. (GSPC)

But we want to do still better. And we also know that with our strong fundamentals, we can do much better. We can do better and we will. One important strategy in our effort to do better has been a focused approach towards investment related activities. Many of you are aware that under the banner of Vibrant Gujarat, we have institutionalised a biennial investment event after a sustained hard work of eight years. The fifth chapter of the Vibrant Gujarat Global Summit is being held on 12th and 13th January, 2011. I have primarily come here to personally invite you to visit Gujarat and be our guest during this event.

Vibrant Gujarat Global Summit was started as an organised effort to enhance the pride and creativity among the people, to highlight the potentials of the State and attract investments. This Summit is now fully institutionalised and grown up from a state level event to a Global one. It has also changed its scope from an investment promotion event to a knowledge and technology exchange platform. The last event, which was held in 2009, saw the participation of forty seven countries, with the heads and representatives of various countries. This was in addition to a large number of national and international delegations from varied sectors. This event, which was held in the backdrop of a global recession, surprised everyone with investment agreements of US Dollars 240 billion. However, investment flow in the State is not the sole objective of this event. The bigger objective is to do global networking for knowledge and technology sharing; learn the best practices and involve and encourage our people to think big and take up challenging projects. These events have further ignited the enterprising spirit of the people of Gujarat. But instead of resting here, our effort is to further widen the scope of the event. This time, we have invited the Indian States as well as other countries to make use of this platform. We will help them to do so for business and technology tie ups and agreements for their respective locations. I once again take this opportunity to invite you to this event with your

Ideas and initiatives;

Ambitions and Aspirations;

Plans and Projects.

Friends! Gujarat has not only offered solutions to many of India's historic problems; but it has also answered many of the debates in the global economics. The whole world has been struggling with dichotomy of the Big versus Small. Gujarat is an amazing model of the effective co-existence of the big and small; robust and inclusive; fast and yet sustainable. It has done wonderfully well on both the Macro and the Micro indicators. Our double digit growth rate of GDP has actually translated into a high growth in the per capita income of the people which is at 13.8%. Not only the multinationals and big companies have done well, but a large number of medium, small, rural and domestic ventures have also prospered. Not only the industry or agriculture has grown fast; but education and health services have expanded equally fast. We have not only created world class hospitals but have also made the poor people get good access to medical facilities (Chiranjeevi Yojna). We are not only known for exporting quality industrial products but our farmers have captured several foreign markets to supply agro and horticulture produce. There is a long list of such things. There is a long list of the things which make us Numero Uno.

Gujarat's multi-faceted growth and excellence in various sectors has been recognised not only in the country but in the entire world. Our efforts in Good Governance have been applauded the world over. We have received around 200 national and international awards in the last eight years. They are in recognition of excellence in various fields. This year itself, my office has got United Nation's Public Service Award for improving the ‘effectiveness, efficiency and quality of public service'. We are getting such awards on a weekly basis. Only last week, India Today has given us awards for excellence in certain sectors. However, we treat these awards as just milestones in our journey. They are indicators that we are in the right direction. At the same time, our aim is very high.

Our aim is:

A Gujarat which is a global hub

A Gujarat whose name itself becomes a global benchmark;

A Gujarat with whom your association itself becomes your trade mark;

A Gujarat which thus becomes a globally preferred place to live in and to do business

Friends! We are aware of what we are aiming at. That is why in this Golden Jubilee year of the State, we have taken pledge to re-orient our efforts and emphasis; to renew our commitments for excellence and to think bigger and bigger. We are working hard to make this era of Gujarat a golden era. From our industrial clusters, Industrial estates and SEZs, we are now moving towards Special Investment Regions, which we call SIRs. These SIRs are going to be very big in size and scale. They will be developed as ‘Global Hubs of economic activity alongwith world class infrastructure, civic amenities and exemplary policy framework'. The development of these SIRs is in line with the development of the Delhi-Mumbai Industrial Corridor. These SIRs are going to become one of the biggest planned urban developments of the world. I am fond of calling them ‘a new Gujarat within Gujarat'. These developments are going to change the economic profile of the entire country. They will also make tremendous impact on the global economy. Our ports are going to play a very major role in this scheme of things. We are further upgrading the infrastructure between the upcoming Dedicated Freight Corridor and our ports. We are setting up mega logistics parks. We are setting up new airports along the SIRs. There is a huge potential for you in every infrastructure field in these developments. There is prudence for you to set up your businesses in these locations. Friends! These are historic developments. These are unprecedented developments. You should not miss this opportunity and the potential it offers.

Our job in the Government is to create the right kind of environment for you to come and enjoy your creativity. Gujarat is known for its handholding approach for the investors. Gujarat is known for better management of its public finance so that there is enough money for the right purposes and the inefficiencies are not transferred to you. Our PSUs have turned around, registering profits and reflecting one of the best market caps among the country's PSUs. We have replaced several existing operations in the economy with more efficient and environment friendly systems. Through a State wide Gas grid, we have changed the nature of the economy to a gas based economy. We have introduced CNG in our transportation systems. We are moving towards mass transport systems in the urban areas in a big way. Ahmedabad's Bus Rapid Transport System has not only been a successful story but has also been acclaimed worldwide.

Friends! I can say that what Gujarat is today is too small against what it is capable of becoming. We are confident that hereafter, Gujarat will be among the league of developed regions of the world. Our aim is nothing but to be the best in the world. My objective is to see that whatever best is available on the earth, must be available in Gujarat. With that objective, we are not only working hard, but are working in a disciplined manner. Our development expenditure is twice the non-development expenditure. We are not only working in a campaign mode to take a quantitative leap, but we are focused on the quality as well. We are trying constantly for achieving higher and higher standards. Many of our Government offices, including my own office, are ISO certified. Alongwith enhancing the production and productivity, we are making our activities eco-friendly and carbon neutral. We are aggressively tapping the renewable energy resources particularly in solar and wind. Hence, I am confident that:

Gujarat is not only growing today, it will continue its growth in future;

It will not only have enough for the present generation; it will have enough for the future generations as well.

In this light, I can offer a personal advice to you.

I have said elsewhere that-

If you want to be with the time, you should be in Gujarat

If you want to be ahead of time, you must be in Gujarat

Here, I would like to further add:

If you care for yourself, you should be in Gujarat.

If you care for your coming generations, you must be in Gujarat.

In lighter way- And in fact, if you think of your past generations,

You have to be in Gujarat.

Friends! Gujarat is known for visualising and acting upon things which others don't even think. I once again invite you to Gujarat. I assure you of all my personal support in realising your dreams. You will be surprised at the pace and pleasure with which your dreams materialise here.

Thank You!

Pariksha Pe Charcha with PM Modi
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
PM Modi writes letter to deaf-mute painter, says facing tough challenges with self-confidence takes one to new heights in life

Media Coverage

PM Modi writes letter to deaf-mute painter, says facing tough challenges with self-confidence takes one to new heights in life
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
On May 2 Didi will get certificate of Bengal ex-chief minister by the people of the state: PM Modi
April 17, 2021
Share
 
Comments
People from all corners of India are seen in Asansol. But the misgovernance of Bengal governments affected Asansol: PM Modi
PM Modi says on May 2, which is the day of assembly election results, Didi will be given the certificate of Bengal ex-chief minister by the people of the state
In Asansol, PM Modi says Mamata Banerjee has skipped several meetings called by the Centre to discuss many key issues
PM Modi promises to implement all the welfare schemes of the central government in West Bengal if BJP is elected to power in the state

 

नमोष्कार !

मां कल्याणेश्वरी और घाघर बूढ़ी चंडी...आज मेरे लिए अवसर है इस पवित्र धरती को श्रद्धापूर्वक प्रणाम करने का। बांग्ला नव वर्ष शुरू होने के बाद आज बंगाल में मेरी ये पहली सभा है। नव वर्ष में बंगाल में बीजेपी की डबल इंजन की सरकार बनने जा रही है।

चार दोफार मोतोदान, टीएमसी होलो खान-खान !

(चार दौर का मतदान, टीएमसी खंड-खंड हो गई)। 

बाकी चार दोफार मोतोदान, दीदी-भाइपो टिकिट कटान ! 

(बाकी चार बार का मतदान, दीदी भाइपो का पत्ता साफ)।

पांचवें चरण के मतदान में भी कमल के फूल पर बटन दबा करके भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाने के लिए आज सुबह से बहुत बड़ी तादाद में लोग निकले हैं। बहुत भारी मतदान हो रहा है। मैं अब तक मतदान करने वाले सभी मतदाताओं का हृदय से बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं और उनका धन्यवाद करता हूं।  

साथियो

आसनसोल हो, दुर्गापुर हो, इस पूरे क्षेत्र में बंगाल ही नहीं, बल्कि देश के औद्योगिक विकास का प्रमुख केंद्र बनने की क्षमता बहुत पहले से है हमेशा से है। द्वारकानाथ टैगोर जी, राजेन मुखर्जी, बीरेंद्रनाथ मुखर्जी जैसे अनेक व्यक्तित्वों ने इस क्षेत्र की संपदा को देश की आत्मनिर्भरता के संकल्प के रूप में आगे बढ़ाया।

साइकिल से लेकर रेल तक, पेपर से लेकर स्टील तक, एल्यूमिनियम से लेकर ग्लास तक, ऐसे अनेक कारखानों में, यहां की फैक्ट्रियों में काम करने के लिए पूरे देश से लोग यहां आते हैं। आसनसोल एक प्रकार से लघु भारत है, हिन्दुस्तान का हर व्यक्ति यहां मिल जाएगा। लेकिन बंगाल में जो सरकारें रहीं, उनके कुशासन ने आसनसोल को कहां से कहां पहुंचा दिया। जहां लोग चाकरी के लिए आते थे, आज यहां से पलायन कर रहे हैं। मां-माटी-मानुष की बात करने वाली दीदी ने, यहां हर तरफ माफिया राज फैला दिया है। आसनसोल की प्राकृतिक संपदा को लूटने के लिए कोयला माफिया, नदियों की बालू को लूटने के लिए अवैध खनन माफिया, सरकारी जमीन पर कब्जे के लिए भू-माफिया।

साथियो

यहां सालनपुर, बाराबनी, जमुरिया रानीगंज, उखड़ा, बल्लालपुर से लेकर बांकुड़ा बॉर्डर तक अवैध कोयला खनन का साम्राज्य फैला हुआ है। यहां के कोयला, रेत और दूसरे खनिजों का काला माल कहां तक पहुंचता है, किस-किस तक पहुंचता है, ये हर कोई जानता है। बंगाल के ट्रक वालों को, ट्रांसपोर्ट से जुड़े साथियों को, यहां के उद्यमियों को जो भाइपो टैक्स देना पड़ता है, वो भी बंगाल के लोग भली-भांति जानते हैं। 

साथियो

इस चुनाव में आपका एक वोट सिर्फ टीएमसी को साफ करेगा, इतना ही नहीं है बल्कि आपका एक वोट यहां से माफिया राज को भी साफ करेगा। आपको पता है आपके वोट की ताकत क्या है? आपका एक वोट पूरे माफिया राज को यहां साफ कर देगा। ये ताकत है आपके वोट की।  

भाइयो-बहनो 

आज आपसे शिकायत करना चाहता हूं...करूं ?...आपके खिलाफ है शिकायत...करूं ?...बुरा तो नहीं मानोंगे न...लेकिन मेरी शिकायत जरा देखिए…मैं यहां दोबार आया हूं.... लोकसभा के चुनाव में....जब मुझे प्रधानमंत्री बनना था और आप से वोट मांगने आया था। बाबुल जी के लिए वोट मांगने आया था। लेकिन पहले जब आया, तब तो मेरे लिए वोट मांगा था, फिर भी एक चौथाई भी लोग नहीं थे सभा में। लेकिन आज चारों तरफ...मैंने ऐसी सभा पहली बार देखी है। अब बताइए, मेरी शिकायत मिठी है कि कड़वी है। आज आपने ऐसा दम दिखा दिया है। ऐसी ताकत दिखा दिए...मैं जहां देख सकता हूं...मुझे लोग ही लोग दिखते हैं...बाकी कुछ दिखता ही नहीं है। क्या कमाल कर दिया है आप लोगों ने। लेकिन आगे का काम बहुत महत्वपूर्ण है। और वो है वोट देने के लिए जाना, वोट देने के लिए औरों को ले जाना। करोंगे...पक्का करोंगे...सब लोग करोंगे...देखिए तभी यहां से ये माफिया राज समाप्त होगा। ये माफियाशाही तभी समाप्त होगी।

और भाइयो-बहनो

मैं बंगाल जहां भी गया हूं यही माहौल है। और उधर क्या है?

दीदी, ओ दीदी, 

देखिए दीदी...ओ दीदी...2 मई में अब सिर्फ आधा महीना बचा है। आधा चुनाव हो चुका है। सिर्फ कुछ दिन और। कोयला धुले, मोयला जाय ना !

भाइयो और बहनो, 

सोनार बांग्ला के संकल्प के साथ बीजेपी सरकार यहां आपकी हर मुश्किल कम करने के लिए काम करेगी। बंगाल में कानून व्यवस्था का राज स्थापित किया जाएगा। कानून के राज में यहां नए उद्योग लगेंगे, बंगाल में निवेश बढ़ेगा। बीजेपी सरकार में हर कोई अपना काम करेगा। आपके जीवन में टीएमसी के तोलाबाजों की जो घुसपैठ हुई है, उसे जीरो किया जाएगा, उसे दूर किया जाएगा। पुलिस अपनी जिम्मेवारी निभाएगी, अपना काम करेगी, राज्य सरकार के अलग-अलग विभाग अपने जनसेवा का दायित्व निभाएंगे, अपना काम पूरा करेंगेप्रशासन अपनी जिम्मेवारियों को निभाते हुए जनता जनार्दन की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए दिन-रात काम करेगा। और सरकार अपनी जिम्मेवारियों को पूरा करने के लिए काम करेगी। और बीजेपी कार्यकर्ता...मैं आपको विश्वास दिलाता हूं आपकी सेवा में हरदम खड़ा रहेगा। और इसमें जो भी खेला करने की कोशिश करेगा, उस पर कानून के तहत उतनी ही सख्त कार्रवाई भी होगी।

भाइयो और बहनो,

दीदी ने बीते दस सालों में विकास के नाम पर आपके साथ विश्वासघात किया है। विकास के हर काम में, हर काम के आगे दीदी दीवार बनकर खड़ी हो गई हैं। केंद्र सरकार ने 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की सुविधा दी, तो दीदी दीवार बन गईं। केंद्र सरकार ने शरणार्थियों की मदद के लिए कानून बनाया, तो दीदी इसका भी विरोध करने लगीं। केंद्र सरकार ने मुस्लिम बहनों को तीन तलाक से मुक्ति के लिए कानून बनाया, तो दीदी फिर आगबबूला हो गईं। केंद्र सरकार ने किसानों को बिचौलियों से मुक्त करने वाले कानून बनाए, तो दीदी विरोध में उतर आईं। केंद्र सरकार ने किसानों के बैंक खातों में सीधे पैसे ट्रांसफर करने शुरू किए, तो दीदी ने इससे भी किसानों को वंचित रख दिया। 

साथियो

बंगाल को विकास रोकने वाली नहीं, डबल इंजन की सरकार चाहिए। बंगाल की बीजेपी सरकार, आपका लाभ कराने वाली हर उस योजना को लागू करेगी, जिन्हें दीदी की सरकार ने रोका हुआ है। पहली ही कैबिनेट में पीएम किसान सम्मान निधि पर बड़ा फैसला लिया जाएगा। बंगाल के हर किसान के खाते में 18 हजार रुपए सीधे ट्रांसफर हो, जिसको दीदी ने रोकने की कोशिश की। 2 मई के बाद नई सरकार बनने के बाद दीदी नहीं रोक पाएंगी। क्योंकि सरकार आपने बनाई है...आपके लिए बनाई है...और वो आपके लिए काम करेगी।

भाइयो और बहनो

आप मुझे बताइए... दीदी को अगर आप लोगों के दु:ख-दर्द की परवाह होती, तो क्या वो आपकी भलाई के...आपके हित वाले कामों को रोकने का काम कभी करती क्या ? ये रुकावटे डालती क्या ? दीवार बनती क्या ? दीदी को अगर आपकी तकलीफ की चिंता होती, तो क्या वो तोलाबाजी होने देतीं क्या ? जरा इधर से जवाब दीजिए तोलाबाजी होने देतीं क्या ?  सिंडिकेट को आगे बढ़ाती क्या ? कटमनी वसूलने देतीं क्या ?

साथियो

दीदी, अपने अहंकार में दीदी इतनी बड़ी हो गई हैं कि हर कोई उन्हें अपने आगे छोटा दिखता है। केंद्र सरकार ने अनेक बार अनेक विषयों पर बात करने के लिए बैठकें बुलाई हैं, लेकिन दीदी कोई न कोई कारण बताकर इन बैठकों में नहीं आतीं। जैसे कोरोना पर पिछली दो बैठकों में बाकी मुख्यमंत्री आए, लेकिन दीदी नहीं आईं। नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक में बाकी मुख्यमंत्री आए, लेकिन दीदी नहीं आईं। मां गंगा की सफाई के लिए देश में इतना बड़ा अभियान शुरू हुआ, लेकिन दीदी उससे जुड़ी जो बैठक होती है, उसमें भी नहीं आईं। एक-दो बार न आने का तो समझ में आता है साथियों, लेकिन दीदी ने यही तरीका बना लिया है। दीदी बंगाल के लोगों के लिए कुछ देर का समय नहीं निकाल पातीं। ये उन्हें समय की बर्बादी लगता है। और जब दीदी के तोलाबाज, कोरोना के दौरान भेजे गए राशन को लूटते हैं, तो वो उन्हें खुली छूट देती हैं। 

केंद्रीय टीमें चाहे सहयोग के लिए आएं या फिर करप्शन की जांच के लिए, दीदी उनको रोकने के लिए पूरे संसाधन लगा देती हैं। दीदी केंद्रीय वाहिनी ही नहीं, सेना तक को बदनाम करती हैं, राजनीति के लिए झूठे आरोप लगाती हैं। दीदी, खुद को देश के संविधान से ऊपर समझती हैं। दीदी चोखे ओहोन्कारेर पोरदा। (दीदी की आंखों पर अहंकार का पर्दा चढ़ा हुआ है।)

भाइयो और बहनो,

दीदी की राजनीति सिर्फ विरोध और गतिरोध तक सीमित नहीं है। बल्कि दीदी की राजनीति, प्रतिशोध की खतरनाक सीमा को भी पार कर गई है। बीते 10 साल में बीजेपी के अनेकों कार्यकर्ताओं की हत्या की गई है। अभी मेरी... यहां ऊपर आने से पहले... कई पीड़ित परिवारों से बात हुई है। दीदी की वजह से न जाने कितनी माताओं ने अपने बेटों को खोया है, न जाने कितनी बहनें आज भी अपने भाई का इंतजार कर रही हैं। दीदी की निर्ममता, उनकी असंवेदनशीलता हमें कुछ दिन पहले ही फिर एकबार दिखाई दी है, सुनाई दी है।

साथियो

कूचबिहार में जो हुआ, उस पर कल एक ऑडियो टेप आपने सुना होगा। ऑडियो टेप सुना क्या आपने ? 5 लोगों की दुखद मृत्यु के बाद दीदी किस तरह राजनीति कर रही हैं, ये इस ऑडियो टेप के अंदर साफ-साफ खुल गया है, सामने आता है। इस ऑडियो टेप में कूचबिहार के टीएमसी नेता को कहा जा रहा है कि मारे गए लोगों के शवों के साथ रैली निकालो। दीदी, वोटबैंक के लिए कहां तक जाएंगी आप ? सच्चाई ये है कि दीदी ने कूचबिहार में मारे गए लोगों की मृत्यु से भी अपना सियासी फायदा करने की सोची। शवों पर राजनीति करने की दीदी को बहुत पुरानी आदत है।

साथियो

दीदी ने बंगाल में ये हाल बना दिया है। जनता ने भी जब उनके विरोध की कोशिश की, तो उसको कुचल दिया गया है। बंगाल की जनता के अधिकार, दीदी के लिए कोई मायने नहीं रखते। 2018 के पंचायत चुनाव पश्चिम बंगाल कभी नहीं भूल सकता। बर्धमान से लेकर बांकुरा, बीरभूमि, मुर्शीदाबाद के लोगों को आज भी याद है कैसे उनके अधिकारों को छीना गया।

आप सोचिए

बंगाल में 20 हजार से ज्यादा पंचायतों में सीधे दीदी के तोलाबाजों को निर्वाचित कर दिया गया। दीदी ने इतना आतंक फैलाया कि एक तिहाई से भी ज्यादा पंचायतों में कैंडिडेट पर्चा तक नहीं भर पाए। हमले के डर से WhatsApp तक पर नॉमिनेशन फाइल करने पड़े। जीत के बाद भी जनप्रतिनिधियों को पड़ोसी राज्यों में शरण लेनी पड़ी। लोकतंत्र के इस अपमान से, लोकतंत्र को इस तरह कमजोर किए जाने से सुप्रीम कोर्ट तक ने नाराजगी जताई। लेकिन दीदी ने लोकतंत्र का सम्मान नहीं किया, लोकतंत्र की परवाह नहीं की।

साथियो

बंगाल और भारत के लिए रोबी ठाकुर का आदर्श है - चित्तो जेथा, भॉय- शुन्नो। हृदय जहां भय मुक्त रहे। लेकिन दीदी का प्रयास रहता है- चित्तो जेथा भॉया-क्रांतो। हृदय जहां भयाक्रांत रहे। दीदी को इस बार के चुनाव में छप्पा वोट नहीं करने दिया जा रहा, तो वो और बौखला गई हैं। दीदी को गुंडागिरी-मस्तानगिरी का खैला नहीं करने दिया जा रहा है, तो दीदी बौखला गई हैं। दीदी द्वारा हर पैंतरा आजमाया जा रहा है ताकि बंगाल के लोगों को वोट देने से रोका जाए। टीएमसी द्वारा अभियान चलाए जा रहे हैं, चुनाव आयोग पर दबाव बनाया जा रहा है। दिल्ली से लेकर बंगाल तक दीदी ने मोदी के खिलाफ मोर्चा खुलवा दिया है।

दीदी, ओ दीदी, ओ आदरणीय दीदी

आप जितनी चाहे साजिशें कर लीजिए, जितनी चाहे कोशिशें कर लीजिए। इस बार आपकी साजिश बंगाल के लोग खुद ही नाकाम कर रहे हैं। इस बार बंगाल के लोगों ने ही आपके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बंगाल के लोगों ने आप पर अभूतपूर्व विश्वास किया था। अब वो आपको हमेशा-हमेशा के लिए एक ऐसा सॉर्टिफिकेट देने वाली है बंगाल की जनता इस चुनाव में, जो आप जीवन भर घर में लटका कर रख सकती हो। कौन सा सॉर्टिफेकट जनता देने वाली है, जो 2 मई को आने वाला है ? वो सॉर्टिफिकेट आने वाला है भूतपूर्व मुख्यमंत्री। यानि दीदी, ये बंगाल की जनता आपको आजीवन एक सॉर्टिफिकेट देने वाली है भूतपूर्व मुख्यमंत्री...लेकर घुमते रहना। 

भाइयो-बहनो

बंगाल के लोग, बंगाल के लोगों से आपकी नफरत भी महसूस कर रहे हैं। दीदी के करीबी, शिड्यूल्ड कास्ट के मेरे भाइयों और बहनों को भिखारी कहते हैं, दीदी चुप रहती हैं। दीदी के करीबी बीजेपी को वोट देने वालों को बंगाल से बाहर फेंकने की धमकी देते हैं, दीदी चुप रहती हैं। किसी की दुखद मृत्यु पर दीदी की संवेदना भी वोटबैंक का फिल्टर लगाकर ही प्रकट होती है।

दीदी

पश्चिम बंगाल आपकी दुर्नीति से परेशान है, इतना ही नहीं है, बल्कि बंगाल को आपकी नीयत पर भी शक है। इसलिए पश्चिम बंगाल के कोने-कोने से एक ही आवाज़ सुनाई दे रही है-   

कीच्छू नेइ तृनोमूल, एबार भोट पॉद्दोफूले। (कुछ नहीं अब तृणमूल में, इस बार वोट कमल-फूल में।)

भाइयो और बहनो,

10 साल तक दीदी ने बंगाल को भेदभाव और पक्षपात वाली सरकार दी है। हालात तो ये है कि स्पोर्ट्स क्लबों, खिलाड़ियों तक की मदद में भी दीदी ने भेदभाव किया। जो स्पोर्ट्स क्लब दीदी का गुणगान करे, उनके गीत गाए, उन्हें पैसा। जो खेल पर अपना ध्यान दे, बंगाल का नाम रोशन करे, वो स्पोर्ट्स क्लब यहां पैसे के लिए तरसते हैं। दीदी की इसी दुर्नीति की वजह से बुज़ुर्गों को मिलने वाला ‘भाता’ तक सभी लाभार्थियों तक नहीं पहुंच पा रहा है। गांव की सड़क को भी दीदी की सरकार ने राजनीति का शिकार बना दिया। मनरेगा की मज़दूरी हो या फिर आपदा की राहत हो, दीदी की सरकार ने सबमें भेदभाव किया, पक्षपात किया। आपको तीन साल पहले की रामनवमी याद है? आसनसोल-रानीगंज के दंगे कौन भूल सकता है! इन दंगों में सैकड़ों लोगों की जीवन भर की मेहनत राख हो गई। सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों का हुआ, पटरी पर दुकान लगाने वाले और छोटे व्यापारियों का हुआ। 

दंगाइयों का साथ किसने दिया? - दीदी ने।

तुष्टिकरण की नीति किसने पनपाई? – दीदी ने।

किसके कारण पुलिस दंगाइयों के पक्ष में खड़ी रही? –  दीदी के।

एक ही जवाब है न...एक ही जवाब है न...हर कोई कह रहा है दीदी के कारण...दीदी के कारण...।

भाइयो और बहनो,

जो विकास पर विरोध को, विश्वास पर प्रतिशोध को, सुशासन पर राजनीति को, प्राथमिकता देती है, ऐसी सरकार पश्चिम बंगाल का भला नहीं कर सकती। इसलिए बंगाल को आशोल पोरिबोरतोन चाहिए। आशोल पोरिबोरतोन बंगाल में सबका साथसबका विकाससबका विश्वास के लिए, आशोल पोरिबोरतोन बंगाल के युवाओं को रोजगार के लिए, आशोल पोरिबोरतोन बंगाल में कानून के राज के लिए, आशोल पोरिबोरतोन बंगाल की भलाई के लिए।

साथियो

दीदी के राज में महिलाओं के साथ जो अत्याचार हुआ है, उसकी चर्चा तक दीदी ने नहीं होने दी है। राज्य सरकार के आंकड़े छिपाकर, महिलाओं पर अत्याचार की खबरों को दबाकर दीदी ने सबसे बड़ा खेला, बंगाल की महिलाओं के साथ ही किया है। मैं आज विशेष रूप से बंगाल की बहन-बेटियों को एक बात के लिए आश्वस्त करता हूं। बीजेपी की सरकार हर वर्ग, हर मत-मज़हब को उसकी बेटी की सुरक्षा और सम्मान को सुनिश्चित करेगी। दीदी की सरकार ने यहां रेप जैसे संगीन अपराध के दोषियों को जल्द से जल्द सजा सुनाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट पर अड़ंगा डाला, उसको रोक दिया। देश भर में ऐसी एक हजार अदालतें खोली जा रही हैं लेकिन दीदी ने बेटियों को न्याय दिलाने वाली ऐसी एक भी अदालत खोलने नहीं दी। बीजेपी सरकार में फास्ट ट्रैक कोर्ट का भी तेजी से निर्माण किया जाएगा। गरीब, दलित, आदिवासी बेटियों को यहां से दूसरे राज्यों में भेजने का जो अवैध काम किया जाता है, उस पर रोक लगाने के लिए सख्त कदम उठाए जाएंगे।

साथियो,

सोनार बांग्ला का यही संकल्प बंगाल बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र में रखा है। बंगाल में Ease of Living, Ease of Doing Business का माहौल बनाया जाएगा। यहां के इंफ्रास्ट्रक्चर पर, रोड, रेल, एयर, इंटरनेट, हर प्रकार की कनेक्टिविटी को डबल इंजन सरकार, डबल स्पीड के साथ आधुनिक बनाएगी। इस क्षेत्र को आर्सेनिक युक्त ज़हरीले पानी से मुक्ति मिले, इसके लिए पाइप से हर घर जल के प्रकल्प को तेज़ी से यहां लागू किया जाएगा। दीदी ने जो कुछ भी लाभ आप तक पहुंचने से रोका है, वो तेज़ी से मिलेगा। डबल इंजन की सरकार में डबल बेनिफिट और डायरेक्ट बेनिफिट मिलेगा। 

एबार शोंघात नॉय, शॉहोजोगिता होबे!

एबार बिरोध नॉय, बिकाश होबे!

एबार मोने भय नॉय, पेटे भात होबे!

एबार शिक्खा होबे, शिल्पो होबे, कोर्मो-शोंस्थान होबे! 

आप इतनी बड़ी तादाद में आशीर्वाद देने के लिए आए...मैं आपका बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं। दोनों हाथ ऊपर करके मेरे साथ बोलिए 

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

बहुत-बहुत धन्यवाद !