साझा करें
 
Comments

‘शहरीकरण को अवसर के रूप में देखा जाना चाहिए, खतरे के रूप में नहीं’

नरेन्द्र मोदी

आज भारत अपर्याप्त और कमज़ोर पड़ती अवसंरचना के संकट से जूझ रहा है. उचित योजनाओं के अभाव में, हमारी अधिकांश सड़कें भीड़ से भरी हैं और सार्वजनिक परिवहन ज़्यादा सक्षम नहीं है. साथ ही हमारे अधिकांश शहरों में मनोरंजन स्थलों का भी अभाव है. योजनाओं में असंतुलन और तेज़ी से बढ़ती मांगें अधिकांश कस्बों और शहरों में समस्या का मुख्य कारण है.

वर्तमान यूपीए सरकार हमारे देश में व्याप्त इस अवसंरचना के अभाव को दूर करने में और समितियों के गठन के दृष्टिकोण से ऊपर उठकर सोचने में असफल रही है. पूरा ध्यान परियोजनाओं को लागू करने की ओर दिया जा रहा है, जबकि परिणाम अधिकतर असंतोषजनक रहे हैं.

दूसरी ओर, अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार ने अवसंरचना के क्षेत्र में क्रांति लायी थी. उनकी कुछ उपलब्धियां निम्नलिखित हैं:

  • अपने ५ वर्षों के कार्यकाल के दौरान एनडीए ने पिछले ३० वर्षों के भीतर बने ५०% राजमार्गों का निर्माण किया
  • सड़कों का सुनहरा चतुर्भुज
  • राष्ट्रीय ग्राम सड़क योजना: ग्रामीण सड़कों की एक विशाल परियोजना
  • रिवर इंटरलिंकिंग परियोजना की नींव रखी
  • खुले आसमान की नीति तथा हवाई अड्डों का निजीकरण और आधुनिकीकरण

यह एक ऐसा समय है जब अवसंरचना को लेकर नरेन्द्र मोदी की सोच हमारी तकलीफों के रामबाण इलाज के रूप में उभर कर आयी है. दिल्ली में भाजपा की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में, नरेन्द्र मोदी ने हमारे देश के लिये अपने नज़रिये को प्रस्तुत किया, जिसमें निम्नलिखित का समावेश है:

  • १०० नये शहरों का निर्माण
  • बड़े शहरों के आस-पास सैटेलाइट सिटीज़ तैयार करना
  • बुलेट ट्रेन्स का नेटवर्क
  • नदियों को जोड़ना
  • पानी के ग्रिड

देखिए नए भारत के लिए नरेन्द्र मोदी का सपना:

एक शहर के भीतर, अक्सर संरचना संबंधी कई ऐसी चीज़ें होती हैं जो नागरिकों के जीवनस्तर को सुधार सकती हैं. इनमें सार्वजनिक परिवहन, खुले सार्वजनिक स्थलों, अच्छी सड़कों इत्यादि का समावेश है.

इन्हीं कुछ विशेषताओं में गुजरात मॉडल अन्य क्षेत्रों से कहीं आगे है. आइए कुछ ऐसी खूबियों पर नज़र डालें:

देखिए कैसे नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के शहरी क्षेत्र को रूपांतरित किया है और लोगों की सुविधा को सर्वोपरि स्थान दिया है:

जनमार्ग - बस रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम (बीआरटीएस):

अहमदाबाद की सड़कों पर चलते समय, आपका ध्यान शहर की अत्याधुनिक बस रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम (बीआरटीएस), जनमार्ग की ओर ज़रूर जाएगा. जहां कई शहरों में बीआरटीएस असफल रहा है, जनमार्ग अहमदाबाद के लोगों के लिए किफ़ायती, सुविधाजनक और आरामदेह परिवहन व्यवस्था के रूप में उभर कर आया है. जनमार्ग में ६० से ज़्यादा बसें शामिल हैं जिनमें विशेष आवश्यकता वाले लोगों का भी ध्यान रखा गया है.

जनमार्ग यानि कि ‘जनता के मार्ग’ने २००९ से खुद को अहमदाबाद के लोगों के लिए सुरक्षा और आराम के साथ-साथ सबसे तेज़ परिवहन व्यवस्था के रूप में स्थापित किया है. जनमार्ग बसों, पदयात्रियों और नॉन-मोटराइज़्ड परिवहन को प्राथमिकता देता है, जो कि इसे बाकी के मोटराइज़्ड यातायात से अलग करके प्राप्त की जाती है. जहां एक ओर बसें सड़कों के बीच में बनी विशेष लेन्स में चलती हैं, साइकलयात्रियों के लिए अलग रास्ते तथा पदयात्रियों के लिए चौड़े फुटपाथ की व्यवस्था है.

जनमार्ग के विषय में और जानें:

brts-290314-in

साबरमती नदी तट:

साबरमती नदी तट की पिछले कुछ वर्षों की कहानी आपको बतायेगी कि कैसे बच्चों के खेलने या सर्कस लगाने के काम आने वाली सूखी ज़मीन एक बार फिर अहमदाबाद का गौरव बन गयी. नदी की परियोजना में साबरमती नदी के १०.५ किमी लम्बे दोनों किनारों का समावेश है, जिसमें १८५ हेक्टेयर पुनर्निर्मित क्षेत्र शामिल है. इस परियोजना में बाढ़ पर नियंत्रण के लिए जल प्रबंधन प्रणाली और साबरमती की सफाई के लिए नालियों की नयी संरचना का भी समावेश है. पदमार्गों और झूलों की व्यवस्था के साथ, यह तट दिन भर की भाग-दौड़ से लौटते अहमदाबाद वासियों के लिए मन बहलाने का मनपसंद स्थान बन गया है.

और जानें: और साबरमती की बह रही है नयी उमंग के साथ... साबरमती के अद्भुत रूपांतरण और तट के निर्माण की कहानी यहां पढ़ें.

sabarmati-290314-in

कांकरिया झील विकास परियोजना

अहमदाबाद के हृदय-पटल पर स्थित, कांकरिया झील शहर में सबसे ज़्यादा लोगों को आकर्षित करने वाली जगह है. लेकिन झील का विकास यहां आने वाले लोगों की बढ़ती संख्या के अनुसार नहीं हो पाया था. श्री मोदी के नेतृत्व में कांकरिया झील तट परियोजना ने पूरे इलाके को पुनर्निर्मित करते हुए, इसे दुनिया भर के लोगों के लिए आकर्षण का एक स्थल बना दिया है. कांकरिया के मुख्य आकर्षणों में अटल एक्सप्रेस, किड्स सिटी, गुजरात का इतिहास बताने वाली बलुआ पत्थर की दीवार और हर दिसंबर में होने वाले बेहद लोकप्रिय कांकरिया कार्निवल का समावेश है.

कांकरिया झील परि योजना के मुख्य आकर्षणों को जानें

kakaria-290314-attach

सूरत महानगरपालिका की आउटर रिंग रोड परियोजना

तेज़ी से बढ़ते शहरीकरण और शहरी क्षेत्रों की भौतिक संरचना पर बढ़ते दबाव को देखते हुए, विस्तार और नवनिर्माण और भी आवश्यक हो जाता है. और इसी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए सूरत ने आउटर रिंग रोड परियोजना का विकास किया है. इस मॉडल के अंतर्गत, सूरत महानगरपालिका निगम (एसएमसी) और सूरत शहरी विकास प्राधिकरण (एसयूडीए) ने संयुक्त रूप से पांच वर्षों में प्रस्तावित सड़क के विकास द्वारा रु. ११,९६० करोड़ के लाभ की प्राप्ति की योजना बनायी है. इसका अर्थ है कि ये संस्थाएं रु. ५,७९६ करोड़ के खर्च पर इस परियोजना को पूरा करेंगी. अतिरिक्त राशि का उपयोग तेज़ परिवहन व्यवस्था जैसी परियोजनाओं पर किया जा सकता है.

इस परियोजना को केंद्र द्वारा अवसंरचना निर्माण के नमूने के रूप में दर्शाया गया है.

और जानें: https://www.narendramodi.in/smcs-outer-ring-road-project-lauded-by-centre-as-a-model-project-as-gujs-development-strides-put-upa-in-catch-22-situation/

surat-290314-in

वडोदरा का अत्याधुनिक सेन्ट्रल बस टर्मिनस

फरवरी २०१४ में, श्री मोदी ने वडोदरा में एयरपोर्ट जैसे बस टर्मिनस का उद्घाटन किया, जो भारत का पहला अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बस टर्मिनल था. स्टेशन को पीपीपी मॉडल के अनुसार बनाया गया है और बस स्टेशन की दीवारों पर तसवीरों और पेंटिंग्स के माध्यम से वडोदरा का इतिहास दर्शाया गया है. २०१२ में अपनी अनोखी सोच के साथ बस चालकों को संबोधित करते हुए श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, ‘‘जब एयरपोर्ट टर्मिनल से ज़्यादा लोग एसटी स्टेशनों का इस्तेमाल करते हैं, तो बस स्टेशन एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स जैसे क्यों न हों?’’ वडोदरा सेन्ट्रल बस स्टेशन भारत के सभी बस स्टेशनों में काफी ऊंचा स्थान रखता है और नयी सोच का एक उदाहरण है.

टर्मिनल के परिसर में एक सुपरमार्केट, शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स, रेस्टोरंट और फूड कोर्ट, व्यावसायिक कार्यालय तथा एक बजट होटल मौजूद है.

तसवीरों में इस शानदार बस टर्मिनस के दर्शन कीजिए: https://www.narendramodi.in/in-pictures-vadodara-gets-a-state-of-the-art-bus-terminus/

Urban development initiatives led by Shri Narendra Modi - Making Lives Better

प्रधानमंत्री मोदी के साथ परीक्षा पे चर्चा
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Centre to supply 192 lakh Covid vaccines to states/UTs from May 16-31: Health ministry

Media Coverage

Centre to supply 192 lakh Covid vaccines to states/UTs from May 16-31: Health ministry
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री मोदी ने नॉर्थ ईस्ट के रंगों को संवारा
March 22, 2019
साझा करें
 
Comments

प्रचुर प्राकृतिक उपलब्धता, विविध संस्कृति और उद्यमी लोगों से भरा नॉर्थ ईस्ट संभावनाओं से भरपूर है। इस क्षेत्र की क्षमता की पहचान करते हुए मोदी सरकार सेवन सिस्टर्स राज्यों के विकास में एक नया जोश भर रही है।

" टिरनी (Tyranny) ऑफ डिस्टेंस" का हवाला देते हुए इसके आइसोलेशन का कारण बताते हुए इसके विकास को पीछे धकेल दिया गया था। हालांकि अतीत को पूरी तरह छोड़ते हुए मोदी सरकार ने न केवल क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित किया है, बल्कि वास्तव में इसे एक प्राथमिकता वाला क्षेत्र बना दिया है।

नॉर्थ ईस्ट की समृद्ध सांस्कृतिक राजधानी को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा फोकस में लाया गया है। जिस तरह से उन्होंने क्षेत्र की अपनी यात्राओं के दौरान अलग-अलग हेडगेअर्स पहना, उससे यह सुनिश्चित होता है कि क्षेत्र के सांस्कृतिक महत्व पर प्रकाश डाला गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के नॉर्थ ईस्ट की अपनी यात्रा के दौरान यहां कुछ अलग-अलग हेडगेयर्स पहने!