दुनिया के किसी भी हिस्से में रहने वाला हर भारतीय 'राष्ट्रदूत' है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 
हर भारतीय को इस बात का गर्व है कि भारत विविधताओं वाला देश है: प्रधानमंत्री मोदी 
भारत के विकास के लिए केंद्र और राज्य एक साथ काम कर रहे हैं: पीएम मोदी 
21वीं सदी का भारत प्रौद्योगिकी और इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में पीछे नहीं रह सकता: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

‘का हाल बा’ ? 

नीदरलैंड के मेरे प्यारे भारत के प्रवासी भाइयों और बहनों मैं यहां के मैडम मेयर का, डिप्युटी मेयर का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं। उन्होंने मेरा स्वागत सम्मान किया वो स्वयं इस कार्यक्रम में उपस्थित हैं। मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। 

ये जो गूंज आपके चारों तरफ सुनाई दे रही है। जो उत्साह उमंग दिखाई दे रहा है। जो लोग भारत में टीवी पर इसे देखते होंगे, उन्हें जरूर आश्चर्य होता होगा कि छोटे से हेग में भी भारतीयों का इतना दम है। मैं खास कर के सूरीनाम के जो लोग हैं। उनका मैं विशेष रूप से अभिनन्दन करना चाहता हूं। बहुत वर्ष पहले मुझे सूरीनाम जाने का सौभाग्य मिला था। 

5 जून हर वर्ष सूरीनाम के लोग बड़े गौरव से मनाते हैं। दुनिया में जहां जहां भारतवासी गये उन सबके लिये ये हमारे सूरीनाम के भाई-बहन या उस कालखंड में दुनिया के जिन जिन देशों में मजदूर के रूप में लोगों को ले जाया गया। चाहे मॉरीशिस हो, चाहे सूरीनाम हो, गयाना हो, डेढ़ सौ साल हो गये। चार-चार पीढ़ियां बीत गईं। लेकिन आज भी भारत की भाषा, भारत की संस्कृति, भारत की परम्परा उसको ऐसे उन्होंने बरकरार रखा हैं। मैं उनको लाख लाख बधाई देता हूं अभिनन्दन करता हूं। और हमें हमारे उन पूर्वजों को नमन करना चाहिए कि जिन्होंने भारत का किनारा छोड़ने के बाद कभी भारत की ओर देखने का मौका नहीं मिला लेकिन अपने साथ जिस भारतीयता को लेकर के गये आज चौथी, पांचवीं पीढ़ी, छठी पीढ़ी होगी वैसे ही वैसे परिवार के अंदर उसको बरकरार रखा है। वरना आज एक ही पीढ़ी में सब कुछ बदल जाता है भाषा भी छूट जाती है और कभी कभी मां-बाप गर्व करते हैं कि मेरे बेटे को भारतीय भाषा नहीं आती है। इन चीजों से अपने जड़ों के साथ जुड़ने से एक ताकत प्राप्त होती है। लोहे का गोला कितना ही ताकतवर क्यों न हो कितना ही बड़ा क्यों न हो कितना ही मजबूत क्यों न हो लेकिन ढंग से दो बालक भी उसको धक्का मारे तो धीरे धीरे चला जाता है। लेकिन पेड़ जिसकी जड़ें जमीन से जूड़ी हुई हैं, उसकी ताकत कुछ और होती है, वो न हिल पाता है और वो साया भी देता है और इसलिये जड़ों से जुड़े रहना और जुड़े रहने के कारण ताकत क्या होती है ये मेरे सूरीनाम के भाइयों-बहनों से सीख सकते हैं। उसी प्रकार से आप में से बहुत लोग होंगे, जिन्होंने अभी भी हिन्दुस्तान नहीं देखा होगा। आपमें से कई ऐसे होंगे जिनके पहले उनके दादा परदादा हिन्दुस्तान छोड़कर आए वो कहां से आये किस गांव के थे क्या था, रिश्तेदार कौन थे। कुछ पता नहीं होगा। लेकिन उसके बाद भी दिल में हिन्दुस्तान आज भी मौजूद है। एक प्रकार से आप जो कुछ भी हैं, अपने बलबूते पर हैं, परिश्रम से हैं, अपने सामर्थ से हैं। उसके बावजूद भी आपके दिल में हमेशा रहता है कि भारत का जैसे आप पर कोई कर्ज है और मौका मिले तो भारत का ये कर्ज चुकाना है। मैं समझता हूं इससे बड़ी कोई भक्ति नहीं हो सकती, भावना नहीं हो सकती। 

यहां पर दो प्रकार के लोग हैं। एक तो वो हैं जो डेढ़ सौ साल से हिन्दुस्तान छोड़कर के निकले हुए लोग वाया सूरीनाम यहां पहुंचे हैं और दूसरे वो हैं जो ताजा ताजा हवाई जहाज में बैठकर के आए हैं। जो अभी अभी आये हैं मैं उनसे कहना चाहता हूं क्या कभी आपने सोचा कि आप अगर डेढ़ सौ साल हिन्दुस्तान से कटऑफ होते तो क्या आपके अंदर वही भारतीयता, हिन्दुस्तानी का भाव वैसा ही बरकरार होता जैसे सूरीनाम के लोगों का है। और इसलिये मैं चाहूंगा कि यहां पर रहने वाले पासपोर्ट का रंग कोई भी क्यों न हो, पासपोर्ट के रंग बदलने से खून के रिश्ते नहीं बदलते। 

मेरे हर हिन्दुस्तानी से प्रार्थना है, आग्रह है कि पासपोर्ट के रंग के आधार पर रिश्ते नाते न जोड़ें पासपोर्ट का रंग कुछ भी क्यों न हो उसके और मेरे पूर्वज एक हैं। जिस धरती की पूजा वो करता है उस धरती की पूजा मैं करता हूं। उसकी जिन्दगी की वो मुसीबत रही कि डेढ़ सौ साल पहले उसे देश छोड़कर जाना पड़ा। मैं भाग्यवान हूं मैं अब भी मेरे देश की जड़ों से जुड़ा हुआ हूं। मेरा ज्यादा कर्तव्य बनता है कि मैं सूरीनाम वालों को गले लगाऊँ। हम एक बनकर के रहें। हम साथ मिलकर के कार्यक्रम करें। अब हमारे बीच में जरा सा भी दूरी नहीं होनी चाहिए। हो सकता हैं जो अभी आयें हैं अभी अभी आये हैं उनको शायद हिन्दी बोलने में तकलीफ होती होगी। सूरीनाम वालों को नहीं होती है। 

न सिर्फ यूरोप में लेकिन Caribbean Countries में भी हम सब मिलकर के इसे एक ऐसा ऊर्जा भूमि बना सकते हैं हेग को इन सारे भू भाग के भारतीयों के साथ हमारा नाता जुड़ जाए। और आज तो आज तो Technology इतनी सरल है कि आप मोबाइल फोन से इन सभी परिवारों से निकट से जुड़ सकते हैं, संगठन में ही तो शक्ति है। और इसलिये मैंने देखा आपकी ताकत मेरा कार्यक्रम तो अभी अचानक बना है। कुछ ज्यादा तैयारी करने का मौका नहीं मिला। पिछले दो चार दिन में शायद आपको खबर मिली और इतनी बड़ी मात्रा में आप लोग पहुंच गए। सरकार की तरफ से Embassy होती है, Ambassador होते हैं, बाबू लोग होते हैं, लेकिन आपको पता है उनको राजदूत कहते हैं। हिन्दी भाषा में उन्हें राजदूत कहते हैं। लेकिन यहां आप सब राष्ट्रदूत हैं। हर हिन्दुस्तानी, हर हिन्दुस्तानी दुनिया के हर कोने में राष्ट्रदूत है। हमारे देश की उन अच्छाइयों से विश्व को परिचित करना है, जब विश्व को पता चलता है कि भारत ऐसा देश है, जहां दुनिया के सभी सम्प्रदाय दुनिया का कोई ऐसा सम्प्रदाय नहीं है, जिसको भारत में गौरवपूर्ण स्थान न हो। लोगों को आश्चर्य होता है। दुनिया का छोटा सा छोटा सम्प्रदाय भी होगा पंथ होगा मानने वाले लोग होंगे भारत में आपको अवश्य मिलेंगे और गर्व से जीते हैं। दुनिया को जब पता चलता है कि हिन्दुस्तान में 100 भाषाएं हैं Hundred languages, 1700 Dialects .. 1700 से भी ज्यादा बोलियां लोगों को आश्चर्य होता है| अच्छा हमें तो यूरोप में देश बदलता है भाषा बदलता है हमें तो दिक्कत हो जाती है। आप सौ भाषाओं के बीच कैसे जी रहे हो। हमें जोड़ने वाली जो ताकत है वो हमारी मातृभूमि के प्रति हमारा प्यार है। उस धरती के प्रति त्याग तपस्या के प्रति ...इतिहास के प्रति ...परम्पराओं के प्रति हमारा लगाव है। और इसलिये कोई भी हिन्दुस्तानी दुनिया में गर्व के साथ खड़ा हो सकता है कि मेरा देश विविधताओं से भरा हुआ है। 

विश्व में जो कुछ भी आप अनुभव करते हैं। आप मेरे देश में स्वाभाविक रूप से कर सकते हैं। देश की विशालता है। जब दुनिया के लीडर से मैं मिलता हूं और मैं सवा सौ करोड़ देशवासियों का सरकार का प्रधानमंत्री हूं तो मेरे सामने देखते रहते हैं। उनको लगता है हमें छोटे से देश को चलाने में इतनी दिक्कत होती है आप कैसे चलाते हो। मैं उनको कहता हूं कि आप लोग देश यहां आप चलाते हैं मेरे यहां सवा सौ करोड़ देशवासी देश चलाते हैं। लोकतंत्र की यही ताकत है। भारत के अंदर विशेष रूप से जब से मुझे सरकार में सेवा करने का मौका मिला है। हमने सबसे बड़ा प्रयास ये किया है कि जन भागीदारी से देश के हर काम में जन भागीदारी को प्राथमिकता दी है। सब कुछ सरकार करेगी सारी समस्याओं का समाधान सरकार के पास ही है |भागवान बुद्धि बांटने निकले तो सारे सरकार वालों को ही बुद्धि मिली थी ये सोच से हम बाहर निकल आ चुके हैं और हमारी कोशिश ये है कि जन भागीदारी से देश कई गुना प्रगति कर सकता है, तेज गति से प्रगति कर सकता है। अगर सरकार तय करती कि हम Toilet बनाएंगे खुले में शौच जाना बंद करवाएंगे, स्कूलों में बच्चियों के लिये शौचालय बनाएंगे, ये कार्यक्रम तो पहले भी चलते थे। लेकिन वो कार्यक्रम सरकार चलाती थी। हमने आकर के कहा लोग इसको उठाने और आपको जानकर के खुशी होगी कि स्कूलों के अंदर एक साल के भीतर भीतर बालिकाओं के लिये अलग शौचालय बनाने का काम बालकों के लिये अलग शौचालय बनाने का काम लोगों ने पूरा कर दिया। कहने का तात्पर्य यह है कि नई जो सरकार बनी है आज देश में जिसने अपने हर काम में लोक भागीदारी जन भागीदारी को प्राथमिकता दी है। वरना पहले क्या होता था। लोकतंत्र का मतलब बहुत सीधा सादा हो गया था...Democracy मतलब पांच साल में एक बार जाना, ईवीएम मशीन का बटन दबाना और जो पसंद आए उसको जिता देना और उसको पांच साल का कॉन्ट्रैक्ट दे देना देखो पांच साल तुमको बैठाया है ये हमारे दस काम कर देना। नहीं कर पाए तो छुट्टी जाओ दूसरा आए। ये लोकतंत्र की मर्यादा नहीं है। ये तो लोकतंत्र का एक सीमित भाग है कि जिसमें जन वोट देता है सरकार उनकी है। लेकिन सरकार चलती है जन भागीदारी से। 

हमारे यहां कोई प्राकृतिक आपदा आ जाए, तो हम सबने अनुभव किया है कि सरकारी तंत्र की ताकत बहुत छोटी पड़ जाती है। लेकिन लोग सामाजिक संस्थाएं, धार्मिक संस्थाएं ऐसे फूड पैकेट ढिकना फलाना लेकर के निकल पड़ते हैं प्राकृतिक आपदा में हर किसी की मदद तुरंत पहुंच जाती है क्यों जनशक्ति का सामर्थ है। इस सरकार की कोशिश है कि हर काम में जनभागीदारी। भारत का संघीय ढांचा है राज्य, केन्द्र कंधे से कंधा मिलाकर कैसे काम करें in true spirit Federal Structure को कैसे बढ़ावा मिले उस पर इस सरकार ने बल दिया है। 

Good Governance मैं मानता हूं कि Development plus Good Governance तभी जाकर के जनता जनार्दन के सपने पूरे होते हैं। सिर्फ Development से स्पिरिट्स पूरे नहीं होते हैं। सिर्फ Good Governance से भी नहीं होते हैं। Development And Good Governance दोनों का Combination होता है, तब जनसामान्य को समाधान होता है। बस अड्डा बनाऊं, बस स्टेशन अच्छा बनाऊँ Development हुआ, लेकिन बस समय पर आए, बस में साफ सफाई हो, Driver, Conductor का व्यवहार ठीक हो ये Good Governance होता है। तब सामान्य व्यक्ति को संतोष मिलता है। उसको समाधान मिलता है हां ये मेरी सरकार है ये मेरा देश है, ये मेरी संपत्ति है। इस सरकार का लगातार भाव यही है कि जन भागीदारी को बल मिले, जनशक्ति को बल मिले और जनशक्ति के भरोसे देश को आगे बढ़ाने का प्रयास हो और ये अनुभव हमारा देश की जनता जनार्दन को जिस काम में ढूंढ़ने के लिये, आपने देखा होगा दो साल पहले जब हमारी सरकार बनी तो टीवी पर एक ही खबर आती रहती थी कि दाल महंगी है दाल महंगी है। मोदी बताओ दाल के दाम क्यों कम नहीं हो रहे जहां भी जाओ बस यही अब दाल के भाव इतने कम हो गए कोई पूछता ही नहीं है। कैसे हो गया, लेकिन देश के किसानों से मैंने प्रार्थना की कि आप Pulses की खेती को भी बल दीजिए और पल्सेस की खेती के लिये इतना कुछ करना नहीं पड़ता फसल के बीच के अंदर उसको बोया जा सकता है। Extra Income होती है। और मेरे देश के किसानों ने ये करके दिखाया। विपुल मात्रा में Pulses का उत्पादन किया, तो आज थाली सस्ती हो गई। मध्यम वर्ग के परिवार में Pulses अगर ज्यादा खाता है तो प्रोटीन भी ज्यादा मिलता तो शरीर की शक्ति भी बढ़ती है, शरीर की काफी Requirement पूरी होती है। कहने का तात्पर्य यह है कि सरकारी प्रयत्नों से ज्यादा जन सामान्य का सामर्थ एक बहुत बड़ा रोल प्ले करता है। 

भारत के बाहर ऐसी धारणा है कि भारत में महिलाएं तो House Wife हैं। कुछ करना वरना नहीं किचन में होती हैं। ये बाहर एक कल्पना है , सत्य अलग है। आज भी हिन्दुस्तान का पशुपालन, डेयरी, मिल्क ये पूरा क्षेत्र एक प्रकार से भारत में महिलाएं ही संभालती हैं। पुरुष का बहुत कम योगदान है। कृषि में भी महिलाओं की भागीदारी बहुत बड़ी होती है। वो Physically Contribute करती हैं लेकिन हमारी सामाजिक रचना ऐसी है कि उसको रुपये पैसे के तराजू में तोला नहीं जाता। इसका मतलब ये नहीं कि भारत की आर्थिक विकास की यात्रा में महिलाओं की भूमिका नहीं है। महिलाओं की भूमिका है। महिलाओं में Potential भी है और इसलिये हमारी सरकार ने पचास प्रतिशत जो जनसंख्या है उसको भारत की विकास यात्रा का एक प्रमुख हिस्सा बनाने की दिशा में बीड़ा उठाया है। Empowerment of Women और इतना ही नहीं Women led Development हमने जब प्रधानमंत्री जनधन योजना का अभियान चलाया बैंक के खाते खोलने का हमारे देश में 40 प्रतिशत लोग ऐसे थे जो कभी बैंक के दरवाजे नहीं गए Formal Economy से बाहर थे। हमने अभियान चलाया और खुशी की बात है कि जब बैंक एकाउंट खोले गए तो उसमें ज्यादातर महिलाओं के बैंक एकाउंट थे। महिलाओं को लगने लगा हां मैं भी कुछ आर्थिक व्यवस्था का हिस्सा हूं। अभी हमने एक योजना बनाई मुद्रा योजना। मुद्रा योजना से हमने entrepreneurship को बल मिले। हमारे देश का नौजवान Job Seeker से Job Creator बने। वो जॉब देने वाला बने छोटे –छोटे ही काम करते ही लोग एक को नौकरी रखत सकते हैं दो को रख सकते हैं, काम दे सकते हैं। और इसलिये छोटे छोटे कारोबार को मदद करने की दिशा में हमने बड़ा अभियान उठाया। 

मुद्रा योजना और मुद्रा योजना ऐसी है कि किसी भी प्रकार की गारंटी दिये बिना नागरिक को अगर वो बैंक में आता है अपनी सारी जानकारियां देता है। तो पचास हजार रुपये से लेकर के दस लाख रुपये तक उसको लोन मिलती है। करीब सात करोड़ लोगों ने इसका फायदा उठाया सात करोड़ लोगों ने। और करीब तीन लाख करोड़ रुपये से ज्यादा रकम इन लोगों को मिली है। किसी को पचास हजार, किसी को पचपन हजार किसी को अस्सी हजार किसी को लाख और आपको जानकर के खुशी होगी एक मुद्रा योजना का लाभ लेने वाले में 70 प्रतिशत महिलाएं हैं 70 परसेंट महिलाएं। 

Women Empowerment कैसे होगा, Women led Development कैसे होगा। ये उससे नजर आता है। आज भी दुनिया के Forever कहे जाने वाले देशों में Maternity leave Average 12 week है... developed Country में भी Working Women के लिये Maternity leave 12 week है। भारत एक ऐसा देश है जिसने Parliament में कानून बनाया और अब Working Women को 26 week का Maternity leave दिया जाता है। 6 महीने और वो इसलिये हम भारत के भविष्य की ओर देखते हैं अभी तो ऐसा लगेगा अच्छा 6 महीने नौकरी करेगी पगार खाएगी। किसी को लगता होगा। लेकिन वो 6 महीने उस बालक की परवरिश करती है, जो मेरे देश के आने वाले कल है। ये Investment है यानी 26 सप्ताह एक Working Women को नौकरी से छुट्टी देना पगार चालू रखना शुरू में तो लगता है काम कौन करेगा, शुरू में तो लगता है मुफ्त का पैसा देना लेकिन लम्बे दूर देखते हैं तो पता चलता है उसकी गोद में जो बालक है उसका मां की गोद में ऐसा लालन पालन होना छह महीने का उसका Base इतना मजबूत होगा कि मेरा भविष्य उज्वल हो जाएगा, मेरा भविष्य मजबूत हो जाएगा इस दिशा में काम करते हैं। 

जब अमेरिका के राष्ट्रपति पूर्व राष्ट्रपति श्रीमान ओबामा 26 जनवरी को प्रजा सत्ता पर्व के लिये भारत आए थे। अब जब गॉर्ड ऑफ ऑनर दिया गया उनको तो फौज की तीनों पंक्ति आर्मी, नेवी, एयरफोर्स सब महिला पुलिस फौज के तीनों उनको गॉर्ड ऑफ ऑनर दे रही थीं| कमान उनका संचालन भी एक महिला कर रही थी। अमेरिकी राष्ट्रपति ने मंच पर चलते हुए कहा मोदी जी बड़ा अचरज है भई ये है हिन्दुस्तान में। मैंने कहा अभी तो शुरुआत है मैंने कहा कल देखना और 26 जनवरी की परेड हुई तो सारी दुनिया के लिये मुख्य खबर थी कि उस परेड का नेतृत्व महिला ही कर रही थी। परेड के अंदर जो दस्ते चल रहे थे वो महिलाओं के चल रहे थे। सुरक्षा के क्षेत्र में भी मेरे देश की महिलाएं बहुत बड़ी भूमिका अदा करती हैं। दिल्ली में अगर आप जाएं या देश के अन्य किसी राज्य में जाएंगे जहां पर पुलिस में 33 परसेंट महिला पुलिस के लिये रिज़र्व किया गया है और सुरक्षा की जिम्मेवारी भी ये Empower महिलाएं हमारी करेगी। उस दिशा में हम काम कर रहे हैं। 

अभी आपने देखा होगा फाइटर विमान उड़ा रही है हमारी महिलाएं बहनें। फाइटर प्लेन का नेतृत्व महिलाओं के हाथ में दुनिया के अंदर चर्चा है। आज भारत स्पेस टेक्नॉलॉजी की दुनिया में अंतरिक्ष में पूरे विश्व में उसने अपना बड़ा नाम कमाया है। अभी पिछले सप्ताह एक साथ 30 नैनो सेटेलाइट छोड़ने का काम सफलतापूर्वक हमारे यहां हुआ। इसके पहले हमारे साइंटिस्टों ने वर्ल्ड रिकॉर्ड किया। 104 सैटलाइट लॉन्च करने का काम हिन्दुस्तान के स्पेस साइंस ने किया। पिछले महीने सबसे भारी वजन का सैटलाइट छोड़ा गया और वजन इतना तो अखबार वालों ने लिखा इतने इतने हाथी जितना यानी हाथी के वजन के बराबर लिखा गया। आपको जानकर के खुशी होगी। इस पूरी स्पेस की दुनिया में काम करने में तीन प्रमुख वैज्ञानिक महिलाएं हैं जो इस काम को कर रही हैं। क्यों गर्व नहीं होगा मेरे देश की माताओं बहनों की ये शक्ति किसको गर्व नहीं होगा। चाहे विज्ञान का क्षेत्र हो, चाहे शिक्षा का क्षेत्र हो, आरोग्य का क्षेत्र हो आज कल तो हिन्दुस्तान के किसी भी राज्य में अगर टीचर कॉन्फ्रेंस करें तो आपको एक जगह पर बोर्ड लगाना पड़ेगा कि ये कोना पुरुष टीचर के लिये रिज़र्व है। पूरा शिक्षा क्षेत्र का काम आज मेरे देश में माताएं बहनें संभाल रही हैं। खेल सैक्टर, नर्सिंग, पैरामैडिकल, मैडिकल, कहीं पर भी जाइए आपको नजर आएगा कि महिलाएं उस काम को कर रही हैं। कहने का तात्पर्य यही है कि महिला शक्ति और खेल कूद में ओलिम्पिक में कौन मैडल ले आया। सारे मैडल लाने वाली हमारी बेटियां थीं। हर किसी ने हिन्दुस्तान का नाम रौशन किया। इतना ही नहीं शारीरिक रूप से जिनको तकलीफ है पैराओलिम्पिक उसमें भी हिन्दुस्तान के तिरंगे झंडे को ऊप करने का काम हमारी महिला खिलाड़ियों ने किया। 

एक ऐसी सरकार है दिल्ली में जिसके दिलो दिमाग में भारत की विकास की यात्रा में भारत की पचास प्रतिशत जनसंख्या वो ताकतवर कैसे बनें Empowerment कैसे हो, भारत की आर्थिक विकास की यात्रा के अंदर उसकी Equal Partnership कैसे हो, एक के बाद एक कदम उठा रहे हैं और जिसका परिणाम है के आज मेरे देश की नागरिक शक्ति भारत के झंडे को ऊंचा उठाने में बहुत बड़ी अहम भूमिका अदा कर रही है। देश आगे तो बढ़ना चाहिए, पहले है उससे अच्छा होना चाहिए लेकिन वक्त ज्यादा इंतजार नहीं करेगा। जिस गति से हम यहां तक पहुंचे हैं, उस गति से आगे जाना उस लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सकता है, जो हर हिन्दुस्तानी के दिल में है। और इसलिये गति को तेज करना अनिवार्य हो गया है। पहले सरकारें हुआ करती थीं। एक काम दो काम ऐसे हो जाते थे वो सरकार जानी जाती थी इस काम के लिये। आज हरदिन एक नया काम करो तो भी कम पड़ जाता है इतने aspirations बढ़ गये हैं। और देश को सिर्फ आगे ले जाना इतना काफी नहीं है। देश को आधुनिक बनाना बहुत जरूरी है। हमें आगे तो बढ़ना है। लेकिन हमें आधुनिक भी बनना है। 21वीं सदी का हिन्दुस्तान Global BenchMark में पीछे न रह जाए। विज्ञान टैक्नॉलॉजी के क्षेत्र में पीछे न रह जाए। हमारा Infrastructure Global Bench Mark अनुकूल हो और विश्व की बराबरी करने का सामर्थ हिन्दुस्तान में होना चाहिए। इस भूमिका से हम आगे बढ़ रहे हैं। आज Health concerns का माहौल है। एनवायरमेंट की चिंता है। हर किसी को लगता है भई सांस ले तो अच्छी सांस मिले पानी पीए तो अच्छा मिले, खाना खाए तो अच्छा मिले। बहुत स्वाभाविक concerns है शायद। भारत ने बीड़ा उठाया है ऊर्जा के क्षेत्र में रिन्युबल एनर्जी 175 गीगा वाट आप में से बहुत लोग होंगे जिनके लिये गीगा वाट शब्द नया होगा। क्योंकि सदियों से हम मेगा वाट से आगे सोचा ही नहीं। मेगा वाट यानी हमारा अल्टीमेट था। 175 गीगा वाट रिन्युबल एनर्जी का हमारा लक्ष्य है। 

सोलर एनर्जी हमारे देश की आवश्यकताओं में कैसे रोल करें विंड एनर्जी, न्युक्लियर एनर्जी, बायोमास एनर्जी एक बहुत बड़ा बदलाव जो एन्वायरमेंट को पॉजिटिव इम्पैक्ट बनाकर उस दिशा में तेज गति से काम आगे बढ़ रहा है। और आज स्थिति ऐसी है कि कोयले से उत्पादन होने वाली बिजली से सोलर एनर्जी सस्ती हो जाए यहां तक स्पर्धा आगे बढ़ी है। आप भविष्य की कल्पना कर सकते हैं अगर पूरी व्यवस्था सोलर एनर्जी द्वारा चलती होगी, तो इकोनोमी में कितना बड़ा बदलाव आएगा। 

देश को आज खाड़ी के देशों से जो तेल आयात करना पड़ता है, उस आयात में कितनी बड़ी कटौती आएगी। देश कितना आत्मनिर्भर बनेगा। और उसलिये जो सूर्य शक्ति ये सूरज मैं प्रधानमंत्री बना हूं उसके बाद आया है क्या? पहले था कि नहीं था। था की नहीं था। मुझे दिखता था उनको नहीं दिखता था। और इसलिये पूरा जीवन को आधुनिक बनाने की दिशा में ये हमारी पहल है। 

डिजिटल इंडिया जब मैं प्रधानमंत्री बना तो मैं शुरू शुरू में सीखना चाहता था। समझना भी चाहता था के आखिर ये है क्या इतना बड़ा है, तो मैं अफसरों की मीटिंग लेता था। ब्रीफिंग लेता था क्या चल रहा है कैसा नहीं है। तो एक दिन बिजली वालों की ब्रीफिंग ले रहा था। तो उन्होंने कहा साहब मैंने पूछा भई कोई जगह है जहां अभी भी बिजली नहीं पहुंची हो। सोचा आजादी के 70 साल हो गए तो ऐसा पूछना ही नहीं चाहिए। तो मैं थोड़ा डरते डरते पूछ लिया कि भई कहीं ऐसा तो नहीं है कहीं दूर अभी भी बिजली पहुंची नहीं। तो मैं हैरान हो गया उन्होंने कहा साहब 18000 गांव ऐसे हैं जहां अभी बिजली नहीं पहुंची है। आप मुझे बताइए 21वीं सदी और 18वीं शताब्दी में फर्क क्या। 18वीं शताब्दी में भी तो लोग बिना बिजली के सूर्य के प्रकाश में या चन्द्रमा की रौशनी में जिन्दगी का गुजारा करते थे आजादी के 70 साल के बाद मेरे देश में 18000 गांव 18वीं शताब्दी की जिन्दगी जीने के लिए मजबूर है। आधुनिक भारत का सपना मुझे पूरा करना था। 

मैंने बीड़ा उठाया मैंने कहा हां भई बताइए कब तक होगा। उन्होंने कहा साहब सात साल तो लगेगा। उनकी ये हिम्मत ही मेरे लिये हैरानगी थी। आराम से कह दिया सात साल लगेगा। मैंने कहा भई जल्दी करना चाहिए ऐसा क्यों करते हो क्यों सोचते हो समझा रहा था। अखिरकार जब मैंने एक दिन लालकिले में 15 अगस्त को बोल दिया। 1000 दिन के अंदर हम 18000 गांव में हम बिजली पहुंचा देंगे। अभी हजार दिन हुए नहीं करीब तेरा चौदह हजार गांवों में बिजली पहुंच गई भइयो बहनों क्योंकि मुझे आधुनिक भारत बनाना है। और बाकी जो गांव बाकी हैं उसका काम भी बहुत तेजी से चल रहा है। 

भारत में ढाई लाख पंचायत है। 6 लाख गांव हैं पंचायत के आप मुझे बताइए क्या आप एक घंटा भी मोबाइल के बिना जी सकते हो क्या। जी सकते हो क्या। परेशानी हो जाती है न अगर ये हक आपको है तो हिन्दुस्तान के हर गरीब को है कि नहीं है। गांव को है कि नहीं है। भाइयों बहनों हमने डिजिटल इंडिया का मिशन उठाया है उन ढाई लाख पंचायतें जहां पर ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क का काम चल रहा है। तेज गति से काम चल रहा है। और आने वाले कुछ ही समय में इन ढाई लाख गांवों तक डिजिटल व्यवस्था करने के लिये ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क खड़ा कर के आधुनिक से आधुनिक व्यवस्था ट्रांस्मीटर की और उसके कारण लॉन्ग डिस्टेंस एजुकेशन संभव होगा बड़ सेंक्सन में होगा। जो सुविधाएं शहर में उपलब्ध हैं वो ज्ञान की सुविधाएं गांव को भी उपलब्ध हो उस दिशा में हम काम करने की दिशा में प्रयास कर रहे हैं। यानी भारत आगे बढ़े लेकिन भारत आधुनिक बने उन चीजों को बल देकर हम काम कर रहे हैं। और उस काम कि दिशा में प्रयास चल रहा है। भाईयों बहनों अनेक बातें हैं आप जरूर भारत के लिये रुचि रखते होंगे। लेकिन मैं आपसे आग्रह करता हूं। इतनी बड़ी संख्या में नीदरलैंड में आप लोग रहते हैं सूरीनाम से आए हैं डच सिटीजन हैं क्या तकलीफ है आपको ओसीआई कार्ड निकालने में आपका मन नहीं करता है ये नाता जोड़ना चाहिए। मैं हैरान हो गया जब मैंने सुना कि यहां इतनी मात्रा में हिन्दुस्तान का डायस्पोरा है लेकिन सिर्फ 10 परसेन्ट लोग हैं जिनका ओसीआई कार्ड है। 

आप मुझे बताइए इस 26 जनवरी के पहले मिशन मोड में आप इस काम को पूरा करेंगे। करना चाहिए मैं यहां की एम्बेसी को भी कहता हूं। देखिये ये ओसीआई कार्ड ये आपका और हिन्दुस्तान के साथ सदियों पुराने नाते का एक लिंक है इसको भूलना नहीं चाहिए। और उसको रुपये पैसे के तराजू से तोलना नहीं चाहिए। जो भी देना पड़े देकर के भी ओसीआई कार्ड ये मेरे लिये। मैं कल दो दिन पहले पोर्तुगल में था। वहां के प्रधानमंत्री पब्लिकली अपना ओसीआई कार्ड दिखा रहे थे बोले मुझे गर्व है कि मेरे पास ओसीआई कार्ड है मैं मूल भारतीय हूं और मैं आज यहां प्रधानमंत्री हूं। पब्लिक में उन्होंने दिखाया। हर हिन्दुस्तानी के मन में स्पिरिट होना चाहिए । मैं हूं ..मेरे पर ओसीआई है। अच्छा तेरे पास नहीं ओ तेरी। ये भाव बनना चाहिए। और मैं चाहूंगा और मैं पूछूंगा हमारे एम्बीसी को अब नये एम्बेस्डर आए हैं। और मैं तो ये पूछूंगा ..कितने बने। मैं आपसे चाहूंगा मदद कीजिए। 

क्योंकि ये काम हमारा पूरा होना चाहिए देखीए जो 2000 जो डच पासपोर्ट वाले हैं 2015 से उनके लिये भारत में ई-वीज़ा की व्यवस्था हो चुकी है। इसका लाभ आप लोग लेते होंगे। और मैं आपसे कह रहा हूं। डच नागरिकों के लिये आने वाले दिनों में पांच साल का बिजनेस वीज़ा देने की दिशा में भी भारत सरकार सोच रही है। पांच साल का बिजनेस एवं टूरिस्ट विजा ये अपने आप में डच नागरिकों को भारत के साथ जोड़ने का एक अहम प्रयास है। मेरी आप सबसे गुजारिश है कि आप लोग भारत के साथ जुड़ने के अपने प्रयासों को निरंतर बनाए रखीए अपने देश के साथ मन मस्तिष्क से जुड़े हुए हैं परम्परा से जुड़े हुए हैं। भारत की अच्छी बात सुनते ही आपको हर्षोल्लास हो जाता है। इतना भारतमय आपका जीवन है। उसको निकट बनाने का और प्रयास करते रहिये। आप लोग मेरे से जुड़ना चाहते हैं क्या? पक्का। 

आप चाहते हैं कि देश का प्रधानमंत्री हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री आपके जेब में हो। क्यों आप चुप हो गए। क्या हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री आपके जेब में हो तो बुरा है क्या? आप नहीं चाहते हैं कि आप गर्व से अरे छोड़ो यार हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री मेरे जेब में है। नहीं चाहते क्या? मैं बताता हूं तरीका है उसका। आप अपने मोबाइल फोन पर नरेन्द्र मोदी एप डाउनलोड कर दीजिए मैं 24 घंटे, 24 घंटे आपके जेब में उपलब्ध रहूंगा। और आपकी हर धड़कन को मैं सुन पाऊंगा। आइए मेरा और आपका निकट का नाता बनना चाहिए। आप का मुझ पर पूरा पूरा अधिकार है। आपके पासपोर्ट के रंग के आधार पर तय नहीं होगा। आप जिसके दिल से आवाज उठती है भारत माता की जय उन सब के लिये मेरा जीवन समर्पित है। इसी भावना के साथ आप इतनी बड़ी संख्या में आए इतने कम समय के होने के बावजूद भी आए। मैं हृदय से आपका बहुत बहुत आभार व्यक्त करता हूं। बहुत बहुत धन्यवाद। 

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
HAL gets Rs 65K cr MoD tender for 97 more Tejas Mark 1A fighter jets

Media Coverage

HAL gets Rs 65K cr MoD tender for 97 more Tejas Mark 1A fighter jets
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
आने वाले पांच सालों में विकास की नई ऊंचाई पर होगा जम्मू-कश्मीर: उधमपुर में पीएम मोदी
April 12, 2024
कई दशकों के बाद, यह पहली बार है कि जम्मू-कश्मीर में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए आतंकवाद, बंद, पथराव, सीमा पर झड़पें इत्यादि मुद्दे नहीं हैं।
विकसित भारत के लिए, विकसित जम्मू-कश्मीर बेहद जरूरी है। कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी जैसी परिवारवादी पार्टियां जम्मू-कश्मीर को फिर से अस्थिरता के दौर में ले जाना चाहती हैं।
आर्टिकल-370 की समाप्ति ने जम्मू-कश्मीर में सभी के लिए समान संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित किया है, पर्यटन में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है तथा गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक अवसरों के लिए IIM और IIT जैसे संस्थान स्थापित हुए हैं।
इंडी गठबंधन ने भारत की संस्कृति के साथ-साथ विकास की भी अवहेलना की और इसका प्रत्यक्ष उदाहरण श्रीराम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा का विरोध और बहिष्कार है।
अपनी तुष्टिकरण की राजनीति जारी रखने के लिए, इंडी गठबंधन के नेता बड़े बंगलों में रहते थे लेकिन रामलला को एक टेंट में रहने के लिए विवश किया।

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद