साझा करें
 
Comments

मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के स्वर्णिम जयंति महोत्सव पर ऐतिहासिक भेंट के रूप में ‘आपणो तालुको-वाइब्रेट तालुको' के सशक्त तहसील प्रशासनिक तंत्र का आज डभोई में शुभारंभ करवाते हुए तहसील को विकास के मॉडल के रूप में स्थापित करने का संकल्प जतााया। प्रत्येक तहसील के विकास के सपने साकार हों, ऐसी स्वस्थ प्रतियोगिता का वातावरण बनाकर प्रत्येक तहसील को अपने सामर्थ्य की आधुनिक पहचान बनाने का मुख्यमंत्री ने आह्वान किया।

समग्र देश में विकास के मॉडल के रूप में गुजरात की गौरव-प्रतिष्ठा प्रस्थापित करने वाले श्री मोदी ने गुजरात की शासन व्यवस्था को ज्यादा विकेन्द्रित करके तहसील सरकार के रूप में जनोपयोगी बनाने के लिए आज आपणो तालुको वाइब्रेंट तालुको का शुभारंभ गुजरात के 225 तहसीलों को शामिल करते हुए वड़ोदरा के डभोई से किया। इस मौके पर करीब 8.28 करोड़ रुपये के खर्च से नवनिर्मित डभोई तहसील प्रशासनिक तंत्र के आधुनिक संकुल के रूप में तालुका सेवा सदन के नए भव्य भवन का लोकार्पण किया, इसके साथ ही उन्होंने डभोई जनसेवा केंद्र को भी जनता की सेवा के लिए शुरू करवाया।

‘आपणो तालुको-वाइब्रेंट तालुको' कार्यक्रम 1 मई, 2011 से प्रथम चरण में 51 तहसीलों में शुरू हो रहा है और इसे क्रमशः तेज गति से 225 तहसीलों में लागू किया जाएगा। इस तहसील प्रशासनिक सशक्तिकरण के सुविचारित ऐतिहासिक अभिगम को साकार करने के लिए दो तहसील पर एक प्रांत कार्यालय मापदंड के साथ नए 57 प्रांत कार्यालय भी आज कार्यरत कर दिये गए। इतना ही नहीं, तहसीलों में विकास कार्यों को गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए 225 तहसीलों के उप कार्यपालक इंजीनियर कार्यालय भी शुरू किए गए।

उन्होंने कहा कि प्रशासन का नित्य नूतन प्रयास एवं अविरत विकासयात्रा की सफलता के पीछे छह करोड़ गुजरातियों का गुजरात सरकार पर भरोसा, इसकी वजह है। श्री मोदी ने कहा कि गुजरात का प्रशासन और विकास अन्य राज्यों से आगे रहा है। इन राज्यों के बीच विकास की स्वस्थ प्रतियोगिता टीम गुजरात की सफलता है। इसी स्तर पर राज्य के 26 जिलों के प्रशासनिक तंत्र की समग्र टीम ने दस वर्षों से गुजरात के विकास का मंत्र गतिशील बनाया है।

उन्होंने कहा कि इस सरकार ने 21वीं सदी के प्रथम दशक में गुजरात को विकास की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है।

अब प्रत्येक तहसील भी वाइब्रेंट तहसील बनें और आगामी पांच वर्ष में राज्य की तमाम 225 तहसीलें अपने विकास आयोजन के लिए विजन और समस्या के समाधान की शक्ति प्रदर्शित करे, ऐसी टीम तहसील की प्रतियोगिता का वातावरण बनाने की प्रेरणा देते हुए श्री मोदी ने कहा कि तहसील स्तर के गरीब कल्याण मेलों की अद्भुत सफलता से तहसील टीमों ने अपना कौशल्य साबित किया है। इसी से प्रेरित होकर तहसील सरकार के अभिगम के साथ ‘आपणो तालुको-वाइब्रेंट तालुको' कार्यक्रम को गुजरात की 225 तहसीलों में लागू किया जाएगा।

श्री मोदी ने कहा कि यह सरकार विकास में किसी वाद-विवाद में नहीं पड़ती, डभोई में देश के छह हजार जितने तहसील ब्लॉक में सबसे आधुनिकतम तहसील सेवा सदन की गुजरात ने प्रथम भेंट दी है। लेकिन केन्द्र की कांग्रेस सरकार गुजरात के प्रति भेदभाव की भावना रखती है। श्री मोदी ने कहा कि केन्द्र चाहे जितनी अड़चनें खड़ी करे लेकिन गुजरात की विकासयात्रा रुकेगी नहीं।

मुख्यमंत्री ने किसान की खेती की जमीन बेचने के जमीन माफियाओं और बेइमानों के पैंतरों का भूतकाल की पापलीला और झूठे दस्तावेज पेश कर किसानों की लुटने वालों की कारगुजारियों का भंडाफोड़ करते हुए कहा कि इस सरकार ने आगे बढ़कर किसानों के आर्थिक हितों की रक्षा की है। इससे किसानों की खेती की जमीन की बिक्री में उसके आर्थिक हितों की रक्षा हुई है। तहसील सरकार का यह अभिगम विकेन्द्रित प्रशासन को नई शक्ति देने वाला, देश में प्रथम क्रांतिकारी-लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था का प्रयोग है और इसकी ऐतिहासिक भूमिका के लिए प्रत्येक तहसील की जनशक्ति भी सहभागी बनकर तहसील के विकास का मंत्र साकार करने के लिए स्वयं सेमीनार करे। यह आह्वान मुख्यमंत्री ने राज्य की 225 तहसीलों में इस क्रांतिकारी तहसील सरकार के कार्यक्रम का सीधा प्रसारण देखने वाले करोड़ों लोगों के समक्ष किया।

इस मौके पर राजस्व एवं मार्ग-मकान मंत्री श्रीमती आनंदीबेन पटेल, जिला प्रभारी एवं शहरी विकास मंत्री श्री नीतिनभाई पटेल तथा राज्य के मुख्य सचिव ए.के. जोती ने अपने विचार जनता के समक्ष रखे।

एडीवीटी के इस राज्यव्यापी लोकार्पण कार्यक्रम में पर्यटन राज्य मंत्री जितेन्द्रभाई सुखडि़या, मार्ग एवं आवास राज्य मंत्री जयद्रथसिंहजी परमार, संसदीय सचिव योगेश पटेल, सांसद बालकृष्ण शुक्ल, रामसिंहभाई राठवा, विधायक भूपेन्द्रभाई लाखावाला, गुलसिंह राठवा, उपेन्द्रसिंह गोहिल, दीनुमामा, अभेसिंह तड़वी, मधुभाई श्रीवास्तव, जिला पंचायत अध्यक्ष सुधाबेन, वड़ोदरा की मेयर डॉ. ज्योति पंड्या कई वर्तमान एवं पूर्व जनप्रतिनिधि, अधिकारी, अग्र सचिव पी.पनीरवेल, जिला कलक्टर विजय नेहरा, जिला विकास अधिकारी एल.सी. पटेल, जिला पुलिस अधीक्षक श्रीमती गगनदीप गंभीर, रेंज आईजीपी जे.के. भट्ट एवं कई नागरिक उपस्थित थे।

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
Using its Role as G-20 Chair, How India Has Become Voice of 'Unheard Global South'

Media Coverage

Using its Role as G-20 Chair, How India Has Become Voice of 'Unheard Global South'
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री ने महापरिनिर्वाण दिवस पर डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित की
December 06, 2022
साझा करें
 
Comments

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने महापरिनिर्वाण दिवस पर डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित की है और देश के लिए उनकी अनुकरणीय सेवा को याद किया है।

एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा;

"महापरिनिर्वाण दिवस पर, मैं डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और हमारे राष्ट्र के लिए उनकी अनुकरणीय सेवा को याद करता हूं। उनके संघर्षों ने लाखों लोगों को आशान्वित किया और भारत को इतना व्यापक संविधान देने के उनके प्रयासों को कभी भुलाया नहीं जा सकता है।"