साणंद से पहली नैनो रवाना

Published By : Admin | June 2, 2010 | 08:31 IST
साझा करें
 
Comments

अहमदाबाद। पश्चिमी बंगाल के सिंगूर से रूठी टाटा मोटर्स की नैनो के अहमदाबाद के समीप साणंद में पड़ाव डालने के बीस माह के समय में पहली नैनो कार ग्राहक के लिए रवाना हो गई है।

बुधवार को साणंद के समीप स्थित प्लांट में मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उद्घाटन करते हुए टाटा समूह के अध्यक्ष रतन टाटा के साथ पीले रंग की चमचमाती नैनो कार को प्लांट से रवाना किया।

इस अवसर पर आयोजित एक समारोह में मोदी व टाटा ने एक दूसरे का आभार जताया। मोदी ने इस बात के लिए आभार जताया कि टाटा वापस गुजरात लौटे व कम समय में प्लांट स्थापित किया वहीं टाटा ने प्लांट स्थापना में सभी आवश्यक कार्यवाही कराने में मदद के लिए आभार जताया।

"एक रूपए के एसएमएस में आया प्लांट" मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जब टाटा ने सिंगूर से विदा होने की बात मीडिया में कहीं तो उन्होंने टाटा को एसएमएस कर "वेलकम गुजरात" का संदेश देकर न्यौता दिया था, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया। नैनो के गुजरात आने पर देशभर में चर्चा हो रही है। मध्य वर्ग का कार का सपना गुजरात से पूरा होगा।

जापान के सहयोग से साणंद-चांगोदर के बीच इको फ्रैण्डली सिटी स्थापित की जा रही है, वही धोलेरा में विश्व का सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा बनने की दिशा में प्रगति हुई है। ये उपलब्धियां राज्य के विकास में मदद देंगी। इससे पूर्व टाटा मोटर्स के उपाध्यक्ष रविकान्त ने स्वागत भाषण देते हुए कहा कि प्रशासन का लगातार सहयोग मिलने से वे कम समय में संयत्र चालू कर सके। उल्लेखनीय है कि 7 अक्टूबर 2008 को संयत्र के लिए एमओयू हुआ था।

अंधड़ से प्रेस कांफ्रेंस धुली गुजरात पर चक्रवाती तूफान के मंडरा रहे बादल के कारण संयंत्र का उद्घाटन होने के बाद रतन टाटा की प्रेस कांफ्रेंस होनी थी, लेकिन तेज अंधड़ से उसे रद्द करना पड़ा। अंधड़ के कारण फ्लेक्स व लोअर छत के पतरे उड़ गए।

"पाछा गुजरात मा आव्या" टाटा समूह के अध्यक्ष रतन टाटा ने कहा कि "आपणे गुजरात ना हता अने गुजरात मा पाछा आव्या छे." उन्होंने नैनो में और निवेश करने का आश्वासन देते हुए कहा कि मोदी के साथ दो-तीन अवसर पर बात कहने का मौका मिला।

पहली बार मोदी ने कहा कि आप गुजरात में क्यों नहीं वहीं दूसरे बार उन्होंने निवेशक सम्मेलन में कहा था कि गुजरात के विकास को देखते हुए, जिसने गुजरात में निवेश नहीं किया वह मूर्ख है।तीसरी बार मोदी के साथ मिलकर नैनो का संयत्र लगाने का करार करते हुए कहा कि अब वे मूर्ख नहीं। मोदी ने आश्वासन दिया था कि यह टाटा का प्लांट नहीं हमारा प्लांट होगा।

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
Robust activity in services sector holds up 6.3% GDP growth in Q2

Media Coverage

Robust activity in services sector holds up 6.3% GDP growth in Q2
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
पीएम मोदी ने गुजरात के कालोल और छोटा उदयपुर में जनसभाओं को संबोधित किया
December 01, 2022
साझा करें
 
Comments
भारत द्वारा G20 की अध्यक्षता संभालने पर पीएम मोदी ने कहा-यह प्रत्येक भारतीय नागरिक के लिए गर्व की बात है।
कांग्रेस ने मुझे गालियां देना अपना अधिकार समझ लिया है। लोकतंत्र पर भरोसा होता, तो कांग्रेस कभी ऐसा नहीं करती: कालोल में पीएम मोदी
आठ साल पहले देश में 100 से भी कम एकलव्य मॉडल स्कूल थे, आज 500 से ज्यादा हैं: छोटा उदयपुर में पीएम मोदी
छोटा उदयपुर में पीएम मोदी ने एक आदिवासी महिला को राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बनाए जाने पर बाधा उत्पन्न करने के लिए कांग्रेस पार्टी की आलोचना की।

विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए अपने प्रचार अभियान को जारी रखते हुए पीएम मोदी ने आज गुजरात के कालोल और छोटा उदयपुर में जनसभाओं को संबोधित किया। भारत द्वारा G20 प्रेसीडेंसी संभालने पर पीएम मोदी ने कहा,"आज भारत के लिए बहुत बड़ा दिन है, ऐतिहासिक दिन है। मां कलिका के आशीर्वाद से आज भारत की जी-20 में प्रेसिडेंसी शुरू होने का शुभ दिन है। जी-20 उन देशों का समूह है, जो विश्व के 75 प्रतिशत व्यापार का प्रतिनिधित्व करते हैं।"


विशाल रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा,"जैसे मुंबई देश की आर्थिक गतिविधियों का केंद्र है, वैसे ही कालोल, पंचमहल की आर्थिक गतिविधियों का केंद्र है। भारत में मैन्यूफैक्चरिंग बढ़ने से, अर्थव्यवस्था के बढ़ने से बड़ा लाभ हालोल-कालोल जैसे औद्योगिक सेंटर को हो रहा है, पंचमहल को हो रहा है। आज पंचमहल जिले में 30 हजार करोड़ रुपए का इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन होता है। इसी वर्ष लगभग साढ़े 9 हजार करोड़ का निर्यात पंचमहल जिले से हुआ है। हज़ारों साथियों को इसमें रोजगार मिल रहा है।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा, "कांग्रेस, गुजरात की आस्था का, गुजरात के गौरव का अपमान करने का कोई मौका नहीं छोड़ती। मैं गुजरात का सेवक हूं, देश का सेवक हूं, इसलिए कांग्रेस ने फिर एक बार मुझ पर गालियों की बौछार कर दी है।" कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे की रावण वाली टिप्पणी का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा,"मैं खड़गे जी का बहुत सम्मान करता हूं, आदर करता हूं। खड़गे जी को गुजरात भेजा गया और रामभक्त गुजरातियों की धरती पर उनसे मुझे रावण कहलवाया गया। ये बात सही है कि जब भगवान राम की बात आती है, तो कांग्रेस उनका अस्तित्व स्वीकार नहीं करती। ये बात सही है कि कांग्रेस को अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर बनने से भी तकलीफ हो रही है।"

पीएम मोदी ने आगे कहा, "कांग्रेस ने मुझे गालियां देना अपना अधिकार समझ लिया है। लोकतंत्र पर भरोसा होता, तो कांग्रेस कभी ऐसा नहीं करती। लेकिन कांग्रेस का भरोसा सिर्फ एक परिवार पर ही है। परिवार ही कांग्रेस के लिए लोकतंत्र है, परिवार ही कांग्रेस के लिए देश है। काँग्रेस पार्टी में तो ये कॉम्पटिशन चलता है कि कौन मोदी को कितनी गाली दे सकता है?”

 

छोटा उदयपुर जनसभा की हाइलाइट्स

छोटा उदयपुर की जनसभा में पीएम मोदी ने कांग्रेस पार्टी के 'गरीबी हटाओ' नारे पर निशानाा साधा। उन्होंने कहा, ''दशकों पहले कांग्रेस ने नारा दिया था ‘गरीबी हटाओ’। उन्हें बस नारा देना था, तो दे दिया। और इस बात को वो ऐसे कहते रहे जैसे ये काम किसी और को करना है। इसीलिए अपने शासन काल में कांग्रेस कहती रही गरीबी हटाओ, लेकिन अपने रास्ते से गरीब को हटाती रही।"


छोटा उदयपुर में अपनी दूसरी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आदिवासी समुदायों के कल्याण के लिए भाजपा की प्रतिबद्धता का उल्लेख किया और अपनी उपलब्धियां गिनाईं। उन्होंने कहा, ''भाजपा सरकार के सर्वस्पर्शी विकास का सबसे बड़ा लाभार्थी हमारा आदिवासी समाज है।" उन्होंने देश में आदिवासियों के विकास के लिए कुछ नहीं करने के लिए कांग्रेस पार्टी की आलोचना की। उन्होंने कहा कि एक आदिवासी बेटी को राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाए जाने पर भी कांग्रेस ने विरोध किया।"

'वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट' योजना के बारे में बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा,हमारा भारत, हमारा गुजरात अद्भुत कौशल, अद्भुत हस्तशिल्पियों, बुनकरों, कुटीर उद्योग का देश है। शायद ही कोई जिला हो जिसकी अपनी कोई पहचान ना हो। अब जैसे छोटा उदयपुर का ‘संखेड़ा’ अपने हस्तशिल्प, सागौन से बने फर्नीचर के लिए मशहूर है।
इस फर्नीचर की डिमांड दुनिया में है। मैंने खुद, दुनिया के कई देश के लोगों को संखेड़ा में बना लकड़ी का सामान उपहार में दिया है। ऐसे ही उत्पादों, ऐसी ही कला को बल देने के लिए भाजपा सरकार ने वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट योजना बनाई है।"