महामहिम अध्यक्ष डा. जिको लुवेनी, महामहिम प्रधानमंत्री बैनिमारामा, फिजी गणराज्य के संसद सदस्यों,

निसान बुला एवं नमस्ते,

दो माह पहले, फिजी के लोगों ने अपनी संसद का चुनाव करने के लिए असाधारण संख्या में मतदान किया था। छह माह पहले भारत के लोगों ने भी मानव इतिहास के सबसे बड़े चुनाव में भाग लिया था।

आज, मैं यहां खड़ा हूँ, इस विशेष उपहार के लिए – लोकतंत्र के जश्न में इस नई संसद में बोलने के लिए तथा हमारी मैत्री की फिर से पुष्टि करने के लिए आप सभी के बीच होने के लिए मैं आप सभी का बहुत आभारी हूँ।

भारत एक बिलियन से अधिक आबादी वाला देश है, फिजी एक मिलियन की आबादी देश है। हम भिन्न – भिन्न महासागरों में स्थित हैं परंतु जिस वजह से आज हम जुड़े हैं वह हमारा लोकतंत्र है, हमारे समाजों की विविधता है, हमारा यह विश्वास कि सभी मानव जाति समान है, और आजादी, गरिमा तथा हर व्यक्ति के अधिकारों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता है। आज हमें जो चीज जोड़ती है वह यह भी है कि हमारी दोनों संसदों की अध्यक्ष महिलाएं हैं।

आपने हमसे बेहतर किया है। इस संसद में हर सात सदस्यों में एक महिला है; भारत में, यह हर नौ सदस्यों में एक महिला है। इस प्रकार, हम उम्मीद करते हैं कि अगली बार हम आपकी बराबरी कर लेंगे तथा हम उम्मीद करते हैं कि हम दोनों भविष्य में और बेहतर करेंगे।

फिजी के लोगों के भिन्न – भिन्न इतिहास, नृजातीयता, भाषाएं एवं धर्म हैं। परंतु, फिजी के एक राष्ट्र के रूप में एक आवाज के साथ, एक विजन के साथ और एक आकांक्षा के साथ एक साथ खड़े हैं। दोनों देशों में, हमने अपने लोगों को अधिकार प्रदान किया है। आपके संविधान की शुरूआत इन शब्दों से होती है – ''हम फिजी के लोग’’, हमारे संविधान की शुरूआत भी इन्हीं साधारण शब्दों के साथ होती है – ''हम भारत के लोग’’ और आपने क्या संविधान बनाया है! यह ऐसा संविधान है जो न केवल नागरिकों को आजादी एवं अधिकारों की गारंटी देता है अपितु, उनकी बुनियादी आवश्यकताओं का भी सुनिश्चय करता है तथा उन्हें सामर्थ्यवान बनाता है। जीवन के अधिकार से लेकर आजादी, गरिमा, समानता और धर्म की आजादी तक, शिक्षा के अधिकार से लेकर सूचना, काम करने, स्वास्थ्य, खाद्य एवं पानी का अधिकार, बच्चों एवं विकलांगों के अधिकार आदि। यह संविधान है जो एक प्रबुद्ध राष्ट्र की इच्छा को प्रतिविंबित करता है।

इस मील पत्थर की यात्रा संघर्षों एवं आघातों से भरी है परंतु, आपने जो मार्ग चुना है उसकी वजह से आपको पूरी दुनिया में सराहा जा रहा है तथा यहां के लोगों का आपको समर्थन मिल रहा है।

माननीय सदस्यगण,

फिजी ऐसे छोटे राष्ट्रों का एक जीता – जागता उदाहरण है जो महान आकांक्षाओं को सफलता के साथ पूरा कर सकते हैं क्योंकि जिस वजह से कोई राष्ट्र सफल होता है वह उसका आकार या आबादी नहीं है अपितु उसका विजन और उसके मूल्य हैं।

आज, फिजी ऐसा राष्ट्र है जिसने अपने आर्थिक संसाधनों का अच्छी तरह से प्रयोग किया है। आप प्रशांत द्वीपसमूह की ओर से एक मजबूत आवाज तथा इस क्षेत्र का केंद्र हैं। आपने विजन एवं शासन कला के साथ जी-77 का नेतृत्व किया। आपके सैनिकों ने विश्व के सबसे खतरनाक स्थानों में से कुछ में संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मिशनों में उत्कृष्ट व्यवसायवाद के साथ सेवा की है। और आप जलवायु परिवर्तन पर वैश्विक वार्ता को आकार देने में प्रभावशाली भूमिका निभा रहे हैं।

भारत में ऐसे अनेक लोग हैं, जो चाहते हैं कि गोल्फ के मैदान में विजय सिंह भारतीय रंग पहनें।

माननीय सदस्यगण,

भारत के लिए, फिजी का हमेशा एक विशेष स्थान बना रहेगा। इतिहास के झंझावातों से भारत से कई लोग आपके तटों पर आए। इसकी वजह से हमारे संस्कृति एवं अपनत्व का रिश्ता निर्मित हुआ है। परंतु, आज हमारा संबंध विकासशील देश के रूप में हमारे साझे मूल्यों एवं हमारे साझे हितों के अधिक विस्तृत आधार पर टिका है। और, अब हम एक नया इतिहास बनाने में साझेदार हैं। आपने हमारे मंगल मिशन यानी मंगलयान की ट्रैकिंग के लिए फिजी में भारत के वैज्ञानिकों को उदारता के साथ रखा। यह विश्व का एकमात्र मिशन है जो पहले प्रयास में सफल हो गया। मैं आज, भारत के लोगों एवं वैज्ञानिकों की ओर से आप सभी का आभार व्यक्त करता हूँ। यह सहयोग का सरल किंतु गूढ़ कार्य हमारे संबंध में असीम संभावनाओं को दर्शाता है, यदि हम उनकी तलाश करने का विकल्प चुनते हैं।

हमारे व्यापार एवं निवेश संबंध साधारण हैं। विज्ञान, शिक्षा और संस्कृति में हमारा संबंध और भी मजबूत हो सकता है। इसके बावजूद, हमारी साझेदारी के ऐसे उदाहरण हैं जिनसे हमें प्रेरणा लेनी चाहिए – आपकी चीनी मिलों को अपग्रेड करने में हमारा सहयोग या स्वास्थ्य देख-रेख के क्षेत्र में सार्वजनिक – निजी साझेदारी।

जैसा कि हमने यहां अस्पताल चलाने के मामले में आपस में सहयोग किया है, हम भेषज पदार्थ एवं परंपरागत दवाओं के क्षेत्र में भी अपने सहयोग का विस्तार कर सकते हैं। जैसा कि फिजी, बदलते वैश्विक बाजारों के अनुसार अपने आप को बदल रहा है, भारत आपका साझेदार बनने के लिए तैयार है – आपके विद्यमान उद्योग को और मजबूत बनाने में तथा आपके युवाओं के लिए नए अवसरों की तलाश करने में। हमारे जैसे देशों के लिए, ग्राम एवं लघु व कुटीर उद्योग उपक्रम एवं रोजगार के स्रोत हैं।

आज, मुझे फिजी के ग्राम, लघु एवं मझोले उद्यमों के सुदृढ़ीकरण एवं आधुनिकीकरण के लिए 5 मिलियन अमरीकी डालर के अनुदान की घोषणा करते हुए बहुत प्रसन्नता हो रही है। हम, रारव चीनी मिल में एक सह-उत्पादन विद्युत संयंत्र के लिए 70 मिलियन डालर की लाइन ऑफ क्रेडिट भी प्रदान करेंगे। और, फिजी में चीनी उद्योग के उन्नयन के लिए 5 मिलियन डालर की एक और लाइन ऑफ क्रेडिट प्रदान करेंगे। भारत और फिजी में कृषि से बहुसंख्यक आबादी का गुजर –बसर होता है। मैं कृषि क्षेत्र में उत्पादकता बढ़ाने के लिए हमारी विशेषज्ञता एवं सहायता की पेशकश करता हूँ।

विश्व में दूध के सबसे बड़े उत्पादक के रूप में, भारत आपके डेयरी उद्योग को विकसित करने में मदद कर सकता है, जिससे आपके निर्यात में भी वृद्धि हो सकती है। मछली पालन, कपड़ा एवं परिधान तथा रत्न एवं जवाहरात जैसे क्षेत्रों में हम व्यापार का विस्तार कर सकते हैं। इस डिजीटल युग में, हर राष्ट्र वैश्विक सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग का हिस्सा बन सकता है। और, यह एक ऐसा सपना है जिसे पूरी दुनिया के नौजवान समान रूप से देखते हैं। यह ऐसा उद्योग है जो विचारों एवं कौशलों पर निर्भर है। यह समृद्धि का एक अच्छा मार्ग भी प्रदान करता है और इसका कार्बन फुटप्रिंट बहुत कम है। यहां फिजी में सूचना प्रौद्योगिकी में एक उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करके हमें बड़ी प्रसन्नता हुई है।

हम, डिजीटल फिजी का निर्माण करने तथा फिजी को वैश्विक आईटी नेटवर्क से जोड़ने के लिए आपके युवाओं को कौशलों से लैस करने के लिए आपके साथ काम करने के लिए तैयार हैं। हम, शिक्षा एवं प्रशिक्षण में भी अपने सहयोग को गहन करना चाहते हैं तथा हम अपनी छात्रवृत्तियों की संख्या दोगुना करने जा रहे हैं।

आज, मेरा यह प्रस्ताव है कि अभिशासन, आर्थिक विकास, संरक्षण, जलवायु परिवर्तन तथा प्राकृतिक आपदाओं के लिए हमें अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी की क्षमता का उपयोग करने के लिए साथ मिलकर काम करना चाहिए। हम, अंतरिक्ष में अपने क्षेत्रीय सहयोग के लिए फिजी को केंद्र बनाने के लिए उसी तरह काम कर सकते हैं जिस तरह भारत ने आसियान के साथ किया है। ऐसा भी समय था जब हम एक-दूसरे के बारे में यह सोचते थे कि हमारे बीच भौगोलिक दृष्टि से काफी दूरी है, हम महासागरों तथा सेवन टाइम जोन द्वारा अलग हैं।

परंतु, उस समय के बारे में सोचिए, जब यात्रा करना कठिन था। इसकी वजह से नए जीवन की तलाश में बहादुर लोग समुद्र की दुष्कर यात्रा करने से नहीं रूक पाए। मेरी लिए, फाइबर आप्टिक केबल एवं उपग्रह लिंक की दुनिया में दूरी कोई मायने नहीं रखती है। हम उतनी ही दूर हैं, जितना माउस का एक क्लिक या फोन का कॉल बटन। किसी भी स्थिति में, फिजी से आज कोई भी सीधी उड़ान आपको भारत के अधिकांश स्थानों पर पहुंचा सकती है। और, ऐसा मैं आप लोगों की तुलना में अपने लोगों के लिए कह रहा हूँ।

फिजी के लोग नियमित रूप से भारत आ रहे हैं। हम भारत के लोगों ने गर्मजोशीपूर्ण लोगों तथा प्रचुर संभावना वाले इस सुंदर शहर पर पर्याप्त रूप से ध्यान नहीं दिया है। निश्चित रूप से यह बदलना चाहिए। हमें हमारे दोनों देशों के बीच यात्रा को और सरल बनाना चाहिए।

इस वजह से, मैंने भारत में फिजी के लोगों के आगमन पर वीजा प्रदान करने का एक छोटा सा कदम उठाया है, जैसा कि आपने भारत के लोगों के लिए किया है। और, यदि आप चाहते हैं कि आपके द्वीपसमूह की प्रचुरता तथा आपके अतिथि सत्कार की गर्माहट का आनंद लेने के लिए अधिक संख्या में भारतीय यहां आएं, तो आपको फिजी में अपनी फिल्मों की शूटिंग करने के लिए बॉलीवुड को आमंत्रित करना चाहिए।

संसद के माननीय सदस्यगण,

हमने प्रचुर अवसरों की बात की है, परंतु हमारे अनेक चुनौतियां भी एक समान हैं। आपके लिए, जलवायु परिवर्तन डिबेट का विषय नहीं है अपितु यह अस्तित्व का एक बुनियादी प्रश्न है। भारत भी एक ऐसा राष्ट्र है जिसकी तट रेखा बहुत लंबी है तथा 1000 से अधिक द्वीपसमूह हैं। यह ऐसा राष्ट्र है जो मानसूनी बरसात तथा हिमालय के हिमखंडों पर निर्भर है।

हम भी, जलवायु परिवर्तन के भयंकर प्रभाव महसूस कर रहे हैं तथा इसके परिणामों को दूर करने के लिए हम अपनी जीडीपी का 6 प्रतिशत से अधिक खर्च कर रहे हैं। अब, हम में प्रत्येक को अपनी स्वयं की जिम्मेदारी वहन करनी चाहिए। हम किनारे नहीं रह सकते हैं तथा कोई कार्रवाई किए बगैर नहीं रह सकते हैं। प्रौद्योगिकी ने इसे संभव बनाया है। हमें समृद्धि के लिए पुराने रास्तों पर चलने की जरूरत नहीं है।

भारत में, हमने जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का उपशमन करने एवं अनुकूलित करने दोनों के लिए एक व्यापक राष्ट्रीय योजना एवं रणनीति बनाई है। और, इसके प्रति मेरी गहन निजी प्रतिबद्धता है। और, हम पवन एवं सौर ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में फिजी के साथ काम करने की उम्मीद रखते हैं। परंतु, यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है कि वैश्विक समुदाय अपनी जिम्मेदारी को स्वीकार करे तथा अपनी प्रतिबद्धता को लागू करे।

यह ऐसा नहीं होना चाहिए कि बोझ दूसरों पर डाला जाए; या उनके अतिरेक की जिम्मेदारियों को उन विकल्पों पर डाला जाए जो दूसरे चुनते हैं। यह एक के ऊपर दूसरे के आर्थिक लाभ या व्यापार प्रतिस्पर्धा का मुद्दा नहीं होना चाहिए। विश्व सामूहिक कार्रवाई – साझी किंतु विभेदीकृत जिम्मेदारियों के एक सुंदर संतुलन पर सहमत हो गया था। यह सतत कार्रवाई का आधार होना चाहिए।

इसका अभिप्राय यह भी है कि विकसित देशों को वित्त पोषण एवं प्रौद्योगिकी अंतरण के लिए अपनी प्रतिबद्धताओं को अवश्य पूरा करना चाहिए। भारत फिजी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है तथा छोटे द्वीपीय विकासशील राज्य संपोषणीय भविष्य के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से निष्पक्ष एवं तत्काल प्रत्युत्तर की मांग कर रहे हैं।

शांतिपूर्ण, सहयोगात्मक एवं समृद्ध एशिया एवं प्रशांत क्षेत्रों में हमारा साझा हित है। हिंद महासागर से होते हुए एशिया एवं प्रशांत महाद्वीप तक, यह प्रचुर गतिशीलता एवं अवसरों का क्षेत्र है परंतु, एक ऐसा क्षेत्र भी है जहां अनेक चुनौतियां मौजूद हैं। फिजी इस क्षेत्र का लीडर है तथा विकासशील विश्व में एक मजबूत आवाज है। साथ मिलकर हम इस क्षेत्र में ऐसे भविष्य के लिए भी काम कर सकते हैं जिसमें सभी राष्ट्रों - छोटे हों या बड़े, विकसित हों या विकासशील – के लिए समान स्थान होना चाहिए तथा शांति एवं अमन चैन का वातावरण होना चाहिए।

आज दिन के उत्तरार्ध में प्रशांत द्वीपसमूह के नेताओं के साथ मेरी बैठक का आयोजन करने में प्रधानमंत्री एवं फिजी का उनके नेतृत्व के लिए मैं धन्यवाद करना चाहता हूँ।

हमें अवसरों का एक विशाल भंडार सृजित करने के लिए आपस में हाथ मिलाना चाहिए, जो हिंद महासागर से लेकर प्रशांत महासागर तक फैला हो।

कभी – कभी हमारे संबंधों में दिशाहीनता रही है। आइए एक नया रास्ता तैयार करें। आइए एक नए युग की शुरूआत करें – जब फिजी का दौरा करने के लिए भारत के किसी प्रधानमंत्री को अगले 33 साल का समय न लगे। जब परिचय की सहूलियत के साथ तथा ऐसी सरलता से भारत और फिजी के लोग एक – दूसरे के साथ काम करें जो नियमित साझेदारी की आदत से आती है।

जब हम इतिहास के संबंधों एवं भावनाओं के रिश्तों से शक्ति ग्रहण करें; अपने अनेक साझे हितों में नए प्रयोजनों की तलाश करें और अपने नए अवसरों का उपयोग करें।

धन्यवाद, विनाका

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
Make in India: Google to manufacture drones in Tamil Nadu, may export it to US, Australia, others

Media Coverage

Make in India: Google to manufacture drones in Tamil Nadu, may export it to US, Australia, others
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
अगले पांच साल में देश एक बड़ी क्रांति का साक्षी बनेगा: महेंद्रगढ़, हरियाणा में पीएम मोदी
May 23, 2024
इंडी अलायंस के लोग फिर से देश को गड्ढे में धकेलना चाहते हैं: महेंद्रगढ़, हरियाणा में पीएम मोदी
कांग्रेस ने सत्ता में रहते हुए राम मंदिर नहीं बनने दिया: महेंद्रगढ़, हरियाणा में पीएम मोदी
हमारे हरियाणा को लूटने में भी कांग्रेस ने कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी: महेंद्रगढ़, में पीएम मोदी

भारत माता की… भारत माता की…

राम राम भाई सारे नै!

आज बुद्ध पूर्णिमा है। मैं समस्त देशवासियों को अनेक-अनेक शुभकामनाएं देता हूं। मैं श्रद्धेय गुरु जयराम दास, चमन ऋषि और महान सेनानी राव तुलाराम जी को नमन करता हूं। मैं रेजांगला के शहीदों और अहीरवाल की इस भूमि को प्रणाम करता हूं। मैं अगर हरियाणा में आऊं तो पुरानी यादें ताजा ना हो जाए, ऐसा हो नहीं सकता। यहां भी वहां भी बहुत सारे परिचित चेहरे नजर आ रहे हैं। पुरानी-पुरानी यादें भी, क्योंकि हरियाणा तो वर्षों तक एक प्रकार से मेरा घर ही बन गया था। और मैं बड़े गर्व के साथ कहता हूं मुझे राजनीति की बहुत सारी शिक्षा हरियाणा और पंजाब से मिली। और यह मेरा सौभाग्य रहा इस मिट्टी ने भी मुझे गढ़ा है। वो 1995 का शायद कालखंड होगा जब मैं प्रभारी के रूप में यहां आया था। लेकिन आमतौर पर प्रभारी आते हैं दौरा करने के लिए। मैं यहां ‘मुकाब’ करने आ गया था। मैं यहीं पर रहता था और उस समय हमारे मनोहर लाल जी संगठन का काम देखते थे। उस समय हमारे रमेश जोशी जी अध्यक्ष हुआ करते थे। रमेश जी, मैं, मनोहर लाल जी ने हरियाणा की खूब खाक छानी थी। मैंने यहां माताओं-बहनों के हाथ का खाना भी खूब खाया है। और हमारे नारनौल के सुरजा हलवाई और महेंद्रगढ़ की मिठाई शायद इसी के कारण ये हमारा राबिला डायबिटिक हो गया। लेकिन अब भी उतनी ही अच्छी बनती है ना सब कुछ। गर्मी के सीजन में एक गिलास राबड़ी, मोटी रोटी और एक प्याज सारी भूख मिटा देता था। जिद सिदा सादा खाना वो मेरा हरियाणा।

साथियों,

हरियाणा के घी-मक्खन का जोर तो आज पूरी दुनिया देख रही है। सारी भारत-विरोधी ताक़तें लगी रहतीं हैं। लेकिन, मोदी इनके झुकाए नहीं झुकता है। अभी मोदी को आपका कर्ज चुकाने के लिए बहुत काम करना है। हमारे हरियाणा को नई ऊंचाई पर लेकर जाना है। और इसके लिए जरूरी है- फिर एक बार, फिर एक बार, फिर एक बार।

साथियों,

ये चुनाव देश का प्रधानमंत्री चुनने का चुनाव है। आप प्रधानमंत्री ही नहीं चुनेंगे, देश का भविष्य भी चुनेंगे। एक ओर आपका जांचा-परखा सेवक मोदी है। दूसरी ओर कौन है? कोई अता-पता ही नहीं है। और हरियाणा के लिए तो मोदी मतलब, शायद यहां हरियाणा में आपको कम से कम 5000 लोग ऐसे मिल जाएंगे जो दूर से चिल्ला के कहेंगे, ऐ मोदी जी जरा रुक जाओ। ऐसे कहने वाले 5000 लोग मिल जाएंगे यानि हरियाणा के साथ मेरा जो अपनापन रहा है, हरियाणा ने मुझे जो प्यार दिया है और इसलिए हरियाणा का अधिकार भी मुझ पर बनता है। चलते-फिरते मुझे कह सकता है ऐ मोदी जी गलत कर रहे हो, ऐसा मत करो। इतना मेरा आपसे नाता रहा है। और पिछले 10 साल में आपने उस प्यार में कभी कमी नहीं आने दी इससे बड़ा सौभाग्य क्या हो सकता है। और ये इंडी अलायंस वालों का हाल तो ऐसा है कि गाय ने दूध दिया नहीं, लेकिन घी खाने के लिए इंडी वालों में झगड़ा शुरू हो गया। अब ये लोग कह रहे हैं हर साल एक आदमी भारत का प्रधानमंत्री होगा। पांच साल 5 पीएम। आप मुझे बताइए, ऐसे देश चलेगा क्या? चलेगा क्या? और हमारे हरियाणा के लोगों में तो ग्रामीण भाषा में चौपाल में बैठ कर के जो ठहाके लेने की ताकत है ना। मुझे पक्का विश्वास है कि 5 साल में पांच प्रधानमंत्री, 5000 चुटकुले हरियाणा वाले बना देंगे। साथियों ये लोग देश को फिर से गड्ढे में धकेलेंगे नहीं तो क्या करेंगे?

साथियों,

इंडी गठबंधन के लोग ये घोर सांप्रदायिक हैं, घोर जातिवादी हैं, घोर परिवारवादी लोग हैं। (अरे वो ताऊजी को परेशान मत कर भाई थोड़ा इधर-उधर हो जा रे) देश की जनता इंडी जमात के इरादे पहले ही भांप चुकी है। इसलिए, इनका ये हाल हुआ है, पांच चरणों में ही इंडी जमात का ढोल फट गया है और आपने देखा होगा तीसरे चरण के बाद इन्होंने रोना-धोना शुरू कर दिया। इलेक्शन कमीशन आंकड़े क्यों नहीं देता है? आंकड़े देर से क्यों देता है? इलेक्शन कमीशन ऐसा क्यों करता है? इलेक्शन कमीशन वैसा क्यों करता है? उधर ईवीएम बंद हो गया, उधर ईवीएम चलता नहीं है, उधर ईवीएम का ये...यानि उन्होंने ग्राउंड बनाना शुरू कर दिया है कि पराजय का ठीकरा किसके सिर पर फोड़ा जाए और इसलिए बराबर जमकर के इस बार ईवीएम को गालियां दे रहे हैं। हम सब जानते हैं भाई जिस भूमि में कोई पैदावर ना हो, कोई किसान उसमें एक भी बीज डालेगा क्या? जिसमें फसल ना हो ऐसी जमीन पर या ऐसे सीजन में कोई किसान एक भी बीज डालेगा क्या? जब पता है कि इनकी सरकार नहीं बनने वाली तो कोई उधर वोट डालेगा क्या? कोई डालेगा क्या? ये हरियाणा वालों को कहने की जरूरत ही नहीं है। क्योंकि उनको मालूम है भाई इनकी सरकार सात जन्म में भी बनने वाली नहीं है। और कांग्रेस को दिया हर वोट बेकार ही होना है। इसलिए आपको सरकार बनाने के लिए वोट करना है। और सरकार किसकी बनने जा रही है? किसकी सरकार बनेगी? बच्चे-बच्चे को पता है किसकी सरकार बनेगी?

साथियों,

चौबीस के इस चुनाव में पूरा देश कांग्रेस की सच्चाई जान गया है। कांग्रेस औऱ इंडी वालों के लिए देश से भी बड़ा उसका अपना वोटबैंक है। इन लोगों ने वोटबैंक के लिए देश का विभाजन करवाया। एक भारत और दो-दो मुस्लिम राष्ट्र बनाए। अब इंडी वाले लोग कह रहे हैं कि बचे हुए भारत पर भी पहला अधिकार मुसलमानों का है। इन्होंने SC, ST, OBC इनको जो बाबा साहेब आंबेडकर ने आरक्षण दिया है, भारत के संविधान ने जो आरक्षण दिया है। इसको छीनकर के वे वोट जिहाद करने वाले लोगों को देना चाहते हैं। आपने कल अखबारों में देखा होगा, टीवी पर देखा होगा, सोशल मीडिया में देखा होगा। बंगाल की हाई कोर्ट का जजमेंट आया है और बंगाल में भी इंडी जमात का SC, ST, OBC के आरक्षण के खिलाफ उनका जो षड्यंत्र है, आरक्षण विरोधी उनकी जो मानसिकता है उसका भंडा फूट गया है। बंगाल में इन लोगों ने क्या किया। बंगाल में इन लोगों ने मुसलमानों को रातों रात ओबीसी का सर्टिफिकेट दे दिया था। जो आरक्षण ओबीसी को मिलना चाहिए वह सारा का सारा मुसलमानों को और वह भी घुसपैठियों में बांटा जा रहा था। हाई कोर्ट ने बंगाल में पिछले 10- 12 साल में मुसलमानों को दिए सारे ओबीसी सर्टिफिकेट रदद कर दिए। अब आप देखिए, कोर्ट ना होती तो क्या होता। ये पिछड़े समाज के लोग करते क्या, ये मेरे दलित भाई बहन क्या करते, ये मेरे आदिवासी भाई बहन क्या करते। लेकिन साथियों आप ये इंडी जमात वालों की मानसिकता देखिए। बंगाल की सीएम ने घोषणा कर दी है कि वो हाई कोर्ट का फैसला नहीं मानेगी। वो मुसलमानों को ओबीसी का आरक्षण देकर रहेगी। आप मुझे बताइए, कांग्रेस हो टीएमसी हो इंडी गठबंधन के सारे दल तो अपने वोट बैंक के साथ डटकर खड़े हो गए हैं। फिर आपके साथ, हरियाणा के साथ कौन खड़ा होगा? कौन खड़ा होगा? इसलिए मैं हरियाणा के हर SC, हर ST, हर OBC को भरोसा देने आया हूं जब तक मोदी जिंदा है। कोई माई का लाल दलित का, आदिवासी का, पिछड़ों का आरक्षण छीन नहीं सकता है। वंचितों का जो अधिकार है, मोदी उसका चौकीदार है। और भाइयों-बहनों ये चुनावी भाषण नहीं है, ये मोदी की गारंटी है।

साथियों,

अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए इंडी गठबंधन वाले कुछ भी कर सकते हैं। हमारे यहां हरियाणा में हर कोई दिन में दो सौ-चार सौ बार राम-राम बोलता है। हर दस कदम पे वो राम-राम बोलेगा ही। राम-राम के बिना हरियाणा में कोई काम होता है क्या? लेकिन, कांग्रेस का बस चले तो हरियाणा में राम का नाम लेने वालों को ये गिरफ्तार कर ले। कांग्रेस पूरे देश से ही राम को हटाना चाहती है। कांग्रेस जब तक सत्ता में रही, उसने राममंदिर नहीं बनने दिया। कांग्रेस ने राममंदिर प्राणप्रतिष्ठा तक का बहिष्कार कर दिया है। और अब तो शहजादे के सलाहकार ने तो एक और बड़ा खुलासा किया है। कांग्रेस अब अगर सत्ता में आई तो राममंदिर पर ताला लगाने की फिराक में है। कांग्रेस चाहती है कि हरियाणा के लोग रामलला के दर्शन तक नहीं कर पाएं। वो राम लला को फिर से टेंट में भेजना चाहते हैं। क्या हरियाणा के लोग ऐसा होने देंगे क्या? राम लला को फिर से अपमानित करेंगे क्या, क्या ऐसे लोगों को मेरा हरियाणा जवाब देगा कि नहीं देगा? हर बूथ में चुन-चुन कर उनको साफ करेगा कि नहीं करेगा?

साथियों,

कांग्रेस हमारी आस्था का ही नहीं, हमारे तिरंगे का भी अपमान करती है। 370 के नाम पर कश्मीर को देश से अलग किसने रखा? 70 साल तक कश्मीर में तिरंगा किसने नहीं फहरने दिया? आज ये लोग कह रहे हैं, ये सत्ता में आए तो फिर से 370 वापस लाएंगे। क्या हम कश्मीर में हुए बलिदानों को बेकार जाने देंगे? कांग्रेस के मंसूबों को क्या हरियाणा कामयाब होने देगा क्या?

साथियों,

कांग्रेस ने देश के पूर्व फौजियों के साथ भी धोखा किया। उन्हें दशकों तक पूर्व फौजियों को वन रैंक, वन पेंशन नहीं मिलने दी। कांग्रेस झूठ बोलती थी कि OROP के 500 करोड़ रुपए पूर्व फौजियों को देंगे। अब ये चुनाव जीतने के लिए पूर्व सैनिकों के साथ धोखा किया गया और कांग्रेस के जेहन में सेना के प्रति, सैनिकों के प्रति नफरत का भाव भरा पड़ा है और 1962 में पंडित नेहरू की जो औरा का गुब्बारा जो फूट गया। चाइना के हाथों जो हमारी पिटाई हुई, वो उसके लिए गुनहगार हमारी देश की सेना को मानते हैं। और आज भी वो परिवार उसी मिजाज में हमारी सेना का अपमान करने के मौके ढूंढती रहती है। और उसी बदले की भाव से उसने 500 करोड़ रुपये ऐसे ही फेंक दिया और कह दिया कि OROP हो जाएगा। OROP होने का मतलब क्या होता है वह मोदी ने आकर के बताया। मोदी ने आकर के जब OROP लागू किया वन रैंक वन पेंशन लागू किया। उन्होंने 500 करोड़ रुपये का खेल खेला था। आपकी आंखों में धूल झोंकने का पाप किया था। मोदी ने जब एक्चुअली OROP लगाया, सवा लाख करोड़ रुपया लगा। कितना? अरे जरा बताइए ना, सवा लाख करोड़ रुपया। अब कोई मुझे बताए कहां 500 करोड़ और कहां सवा लाख करोड़। ये सवा लाख करोड़ रुपया पूर्व सैनिकों के परिवारों के बैंक के खाते में जमा हो चुका है। जब सैनिकों का मान रखने का जज्बा होता है तो काम भी उसी जज्बे से होता है।

साथियों,

हमारे हरियाणा को भी लूटने में कांग्रेस ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी। मैंने तो अपनी आंखो से देखा है कांग्रेस के समय में क्या हाल था हरियाणा का। जो मुख्यमंत्री बनता था, वो अपने जिले के बाहर नहीं देखता था। ऐसा कोई क्षेत्र नहीं, जिसे लूटने का खुला खेल न चलता हो! आपको याद है न, नौकरी दिलवाने के नाम पर ये लोग ज़मीनें बिकवा देते थे। ट्रान्सफर पोस्टिंग की तो खुली इंडस्ट्री चलती थी। सड़कें गड्ढों में होती थीं। उद्योगों पर संकट आने लगा था। आप कल्पना करिए, अगर कांग्रेस कुछ दिन और रह जाती, तो हरियाणा का क्या हाल करती!

साथियों,

बीते 10 वर्षों में हमने कांग्रेस के पाप धोने में बहुत मेहनत की है। आज हरियाणा में आधुनिक हाइवे और एक्सप्रेसवे बन रहे हैं। अब न दिल्ली दूर है, न चंडीगढ़ दूर है। अब नारनौल वाले सुबह चंडीगढ़ जाते हैं, शाम को वापस घर! गुरुग्राम वालों का तो जीवन ही द्वारका एक्सप्रेसवे ने आसान कर दिया। इसीलिए, अब इस पूरे एरिया में नए नए उद्योग लग रहे हैं। रोजगार के नए अवसर पैदा हो रहे हैं।

भाइयों बहनों,

मैं गुरुग्राम के युवाओं से भी कहना चाहता हूं। अगले 5 साल, ये देश में एक बड़ी क्रांति का समय होने वाला है। आप देखिए कैसे नए-नए सेक्टर हमारे नौजवानों का भाग्य बदलने वाले हैं। सेमीकंडक्टर सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, स्टार्टअप सेक्टर, फूड प्रोसेसिंग, ग्रीन एनर्जी सेक्टर, ग्रीन हाइड्रोजन फार्मा हब अनगिनत और इन सब में बहुत से ज्यादा काम मेरे देश के नौजवानों को मिलने वाला है। आपके हर सपने पूरे होंगे, क्योंकि आपका सपना ये मोदी का संकल्प हैं।

साथियों,

कांग्रेस के विश्वासघात का भुक्तभोगी तो हरियाणा का किसान भी रहा है। यहां उसने किसान को सिंचाई के पानी तक का इंतजाम नहीं किया। हम नहरों को जोड़कर यहां तक पानी पहुंचा रहे हैं। हमारी सरकार हरियाणा में 14 फसलों को MSP पर खरीद रही है। हमारे भिवानी का किसान बाजरा, और यहां जो बाजरे की खेती है और हमारा यहां का किसान जो बाजरा पैदा करता है मेरे प्रिय बाजरे में से वो है। और मुझे याद है यहां जब भी आया बाजरे की खिचड़ी खाई और मजा है कि जब बाजरे की खिचड़ी खाओ तो आधी खिचड़ी आधा घी, तब बोले खिचड़ी खाने का मजा होता है। अब मैं गुजराती आदमी इतना खा तो नहीं सकता था, लेकिन उनका प्यार हरियाणा के लोगों का, यहां का बाजरा आज भी वो मुझे याद हमेशा रहता है। लेकिन अब आपके बाजरे के श्री अन्न के प्रचार की जिम्मेदारी खुद मोदी ने ले रखी है। मैंने जितने मिलेट हैं, जितना मोटा अनाज है उसके लिए एक नाम दे दिया श्री अन्न। और मैं दुनियाभर में उसका एंबेसडर बन गया हूं, उसका सेल्समैन बन गया हूं। आपने देखा होगा हमारे देश में जी 20 की समिट हुई। दुनियाभर के बड़े-बड़े नेता यहां आए थे। दुनिया की सबसे बड़ी ताकत जिसको कहें वो सब जी 20 में थी और मोदी ने उनको क्या खिलाया। मोदी ने उनको बाजरा खिलाया। और बड़े-बड़े नेताओं को मैंने कहा ये सुपर फूड है। और उसका एक परिणाम ये आया कि मुझे अभी अमेरिका बुलाया था वाइट हाउस में भोजन था। वाइट हाउस में उस दिन काफी लोगों को उन्होंने खाने पर बुलाया था देश भर के लोगों को और सबको उन्होंने बाजरा खिलाया वाइट हाउस में अमेरिका में। साथियों इससे क्या मोदी का प्रचार हुआ क्या। इससे प्रचार हुआ हरियाणा का, हरियाणा के किसानों का, हरियाणा के बाजरे का।

साथियों,

इस क्षेत्र के विकास के लिए हमने चौधरी बंसीलाल के साथ मिलकर सरकार चलाई थी। चौधरी बंसीलाल भिवानी-महेंद्रगढ़ के विकास के लिए कटिबद्ध थे। और मुझे बड़ा मेरा सौभाग्य रहा चौधरी बंसीलाल जी से मेरी बड़ी निकटता रही और वो रात को देर तक जागने के आदी थे। तो कभी-कभी हमारी मीटिंग रात को एक बजे के बाद शुरू होती थी और कभी-कभी सुबह तक चलती थी। उनके पास अनुभव की इतनी बातें हुआ करती थी और मैं देखता था कि जब भी बातों में स्वामी दयानंद सरस्वती जी की बात आती थी, ऐसी एक मीटिंग नहीं होगी कि स्वामी दयानंद सरस्वती की बात निकली हो और चौधरी बंसीलाल जी की आंख से आंसू ना टपके हों और वह मुझे इतना प्यार करते थे क्योंकि मैं गुजरात का था, दयानंद सरस्वती जी का जन्म गुजरात में हुआ था, तो एक नाता ऐसा बन गया था और गवर्नेंस की दुनिया में भी साथ-साथ काम किया, वर्षों तक साथ में काम किया।

साथियों,

लेकिन यह जो महापुरुष है उन सबसे प्रेरणा लेते हुए आज मेरी भी गारंटी है कि हरियाणा का विकास हम रुकने नहीं देंगे। लेकिन इसके लिए 25 मई को भिवानी महेंद्रगढ़ से चौधरी धरमबीर सिंह जी, और गुरुग्राम से राव इंदरजीत सिंह जी मेरे इन दोनों साथियों को भारी बहुमत से विजयी बनाइए और आप जब उनको कमल के निशान पर वोट देंगे ना वो वोट सीधा सधा मोदी के खाते में जाएगा। तो आप पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ेंगे? मतदान ज्यादा से ज्यादा कराएंगे? हर पोलिंग बूथ में विजय प्राप्त करेंगे? अच्छा मेरा एक काम है करेंगे आप लोग। अरे क्या कमाल है भाई, ठंडे हो गए एकदम। मेरा पर्सनल काम है करेंगे। अरे मैं भी तो हरियाणा वाला हूं यार बोलो ना मेरा एक काम करेंगे। देखिए पहले तो मैं यहां गांव गांव जाता था हर इलाके में गया हूं हजारों परिवारों में गया हूं लेकिन अब समय की कठिनाई है जा नहीं पाता हूं। तो मुझे आपकी मदद चाहिए, करोगे मदद सब लोग करोगे। ऐसे ही नहीं बता रहे हो ना सही में करोगे ना। एक काम करना यहां से जाने के बाद ज्यादा से ज्यादा परिवारों में जाना, ज्यादा से ज्यादा घरों में जाना और हर परिवार के लोगों को बिठा कर के कहना कि अपने मोदी जी आए थे, मोदी जी ने आपको राम राम कहा है। मेरा राम राम पहुंचा दो मुझे तसल्ली हो जाएगी। मुझे लगेगा कि चलो भाई इन सबके मुझे आशीर्वाद मिल जाएंगे। तो आप करेंगे, मेरा राम राम पहुंचाएंगे हर परिवार में, हर घर में पहुंचाएंगे।

बोलिए भारत माता की... भारत माता की... भारत माता की...

बहुत-बहुत धन्यवाद