आत्मनिर्भर भारत, आत्मनिर्भरता का भाव बरसों से हर भारतीय ने एक एस्पिरेशन की तरह जिया है: प्रधानमंत्री मोदी
किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए जो निर्णय हाल में हुए हैं, उन्होंने एग्रीकल्चर इकोनॉमी को बरसों की गुलामी से मुक्त कर दिया है: पीएम मोदी
हमारे यहां कहा जाता है - मन के हारे हार, मन के जीते जीत, यानि हमारी संकल्पशक्ति, हमारी इच्छाशक्ति ही हमारा आगे का मार्ग तय करती है, जो पहले ही हार मान लेता है उसके सामने नए अवसर कम ही आते हैं: प्रधानमंत्री

नॉमोष्कार !!! आशा कोरि, आपनारा शोबाई भालो आछेन !!! 95 वर्ष से निरंतर देश की सेवा करना, किसी भी संस्था या संगठन के लिए अपने आप में बहुत बड़ी बात होती है।

 

ICC ने पूर्वी भारत और North East के Development में जो contribution दिया है,

विशेषकर वहां की मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट्स को, वो भी historical है। ICC के लिए अपना योगदान देने वाले आप सभी लोगों का, प्रत्येक महानुभाव का मैं अभिनंदन करता हूं।

 

साथियों, ICC ने 1925 में अपने गठन के बाद से आज़ादी की लड़ाई को देखा है, भीषण अकाल और अन्न संकटों को देखा है और भारत की Growth Trajectory का भी आप हिस्सा रहे हैं।

 

अब इस बार की ये AGM एक ऐसे समय में हो रही है, जब हमारा देश Multiple Challenges

को Challenge कर रहा है।

 

कोरोना वायरस से पूरी दुनिया लड़ रही है, भारत भी लड़ रहा है लेकिन अन्य तरह के संकट भी निरंतर खड़े हो रहे हैं।

 

कहीं Flood की चुनौती, कहीं लॉकस्ट, 'पोंगोपा' का कहर, कहीं ओलावृष्टि, कहीं Oil-Field में आग, कहीं छोटे-छोटे Earthquake, ये भी कम ही होता है कि पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्र में एक के बाद एक, दो Cyclones चुनौती बनकर आएं।

 

ऐसे तमाम Frontsपर हम सभी एक साथ मिलकर लड़ रहे हैं। कभी-कभी समय भी हमें परखता है, हमारी परीक्षा लेता है। कई बार अनेक कठिनाइयां, अनेक कसौटियां एक साथ आती हैं।

 

लेकिन हमने ये भी अनुभव किया है कि इस तरह की कसौटी में हमारा कृतित्व,

उज्ज्वल भविष्य की गारंटी भी लेकर आता है। किसी कसौटी से हम कैसे निपट रहे हैं,

मुश्किलों से कितनी मजबूती से लड़ रहे हैं, ये आने वाले अवसरों को भी तय करता है।

 

साथियों, हमारे यहां कहा जाता है- मन के हारे हार, मन के जीते जीत, यानि हमारी संकल्पशक्ति, हमारी इच्छाशक्तिही हमारा आगे का मार्ग तय करती है। जो पहले ही हार मान लेता है उसके सामने नए अवसरकम ही आते हैं। लेकिन जो जीत के लिए निरंतर प्रयास करता है,

एक दूसरे का साथ देते हुए, आगे बढ़ता है, उसके सामने नए अवसर भी उतने ही ज्यादा आते हैं।

 

साथियों, ये हमारी एकजुटता, ये एक साथ मिलकर बड़ी से बड़ी आपदा का सामना करना,

ये हमारी संकल्पशक्ति, ये हमारी इच्छाशक्ति, हमारी बहुत बड़ी Strength है, एक राष्ट्र के रूप में हमारी बहुत बड़ी ताकत है।

 

मुसीबत की दवाई मजबूती है। मुश्किल समय ने हर बार भारत के Determination को

Strengthen किया है, एक Nation के रूप में देशवासियों के Resolve को ऊर्जा दी है,

संकल्प को शक्ति दी है। यही भावनामैं आज आपके चेहरे पर देख सकता हूं,

करोड़ों देशवासियों के प्रयासों में देख सकता हूं। कोरोना का संकट पूरी दुनिया में बना हुआ है।

पूरी दुनिया इससे लड़ रही है। कॉरोना वॉरियर्स के साथ हमारा देश इससे लड़ रहा है।

 

लेकिन इन सबके बीच हर देशवासी अब इस संकल्प से भी भरा हुआ है कि इस आपदा को अवसर में परिवर्तित करना है, इसे हमें देश का बहुत बड़ा Turning Point भी बनाना है।

 

ये Turning Point क्या है? आत्म निर्भर भारत, Self Reliant India. आत्मनिर्भरता का, Self-Reliance का ये भाव बरसों से हर भारतीय ने एक Aspiration की तरह जिया है।

 

लेकिन फिर भी एक बड़ा काश, एक बड़ा काश, हर भारतीय के मन में रहा है, मस्तिष्क में रहा है। काश हम Medical Equipment के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होते! काश हम Defence manufacturing में आत्मनिर्भर होते! काश हम Coal और Minerals सेक्टर में आत्मनिर्भर होते!

काश हम Edible Oil में, फर्टिलाइजर्स के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होते! काश हम Electronic

Manufacturing में आत्मनिर्भर होते! काश हम Solar Panels, Batteries और Chip Manufacturing में आत्मनिर्भर होते। काश हम Aviation Sector में आत्मनिर्भर होते

 

ऐसे कितने सारे काश, अनगिनत काश, हमेशा से हर भारतीय को झकझोरते रहे हैं।

 

साथियों, ये एक बहुत बड़ी वजह रही है कि बीते 5-6 वर्षों में, देश की नीति और रीति में भारत की आत्मनिर्भरता का लक्ष्य सर्वोपरि रहा है। अब कोरोना क्राइसिस ने हमें इसकी गति और तेज करने का सबक दिया है। इसी सबक से निकला है- आत्मनिर्भर भारत अभियान।

 

साथियों, हम देखते हैं, परिवार में भी संतान-बेटा हो या बेटी, 18-20 साल का हो जाता है,

तो हम कहते हैं कि अपने पैरों पर खड़े रहना सीखो। एक तरह से आत्मनिर्भर भारत का पहला पाठ, परिवार से ही शुरू होता है। भारत को भी अपने पैरों पर ही खड़े होना होगा।

 

साथियों, आत्म निर्भर भारत अभियान का सीधा सा मतलब है कि भारत, दूसरे देशों पर अपनी निर्भरता कम से कम करे। हर वो चीज, जिसे Import करने के लिए देश मजबूर हैं,

वो भारत में ही कैसे बने, भविष्य में उन्हीं Products का भारत Exporter कैसे बने,

इस दिशा में हमें और तेजी से काम करना है।

 

इसके अलावा, हर वो सामान जो भारत का लघु उद्यमी बनाता है, हमारे हैंडीक्राफ्ट वाले,

जो सामान हमारे सेल्फ हेल्प ग्रुप से जुड़े करोड़ों गरीब बनाते हैं, जो दशकों से हमारे यहां बनता आ रहा है, गलियों-मोहल्लों में बिकता रहा है, उसे छोड़कर विदेश से वही सामान मंगाने की प्रवृति पर भी हमें नियंत्रण करना है।

 

हम इन छोटे-छोटे व्यापार करने वाले लोगों से केवल चीज ही नहीं खरीदते, पैसे ही नहीं देते, उनके परिश्रम को पुरुस्कृत करते हैं, मान-सम्मान बढ़ाते हैं। हमें इस बात का अंदाजा भी नहीं होता कि इससे उनके दिल पर कितना प्रभाव पड़ता है, वो कितना गर्व महसूस करते हैं।

 

इसलिए, अब अपने लोकल के लिए वोकल होने का समय है, हर गांव, हर कस्बे, हर जिले, हर प्रदेश, पूरे देश को आत्मनिर्भर करने का समय है।

 

साथियों, स्वामी विवेकानंद ने एक बार एक पत्र में लिखा था- The simplest method to be worked upon at present is to induce Indians to use their own produce and get markets for Indian art ware in other countries. स्वामी विवेकानंद जी का बताया ये मार्ग Post Covid world में भारत की प्रेरणा है। अब देश प्रण कर चुका है और देश कदम भी उठा रहा है।

 

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत जिन बड़े रिफॉर्म्स की घोषणा की गई है, उनको तेजी से जमीन पर उतारा जा रहा है।

 

MSMEs की Definition का दायरा बढ़ाना हो या MSMEs के Support के लिए हजारों करोड़ के स्पेशल फंड्स की व्यवस्था हो, ये सब आज सच्चाई बन रहे हैं। IBC से जुड़ा फैसला हो, छोटी-छोटी गलतियों को डी-क्रिमनलाइज़ करने का फैसला हो,Investment की Fast Tracking

के लिए Project Development Cells का गठन हो, ऐसे अनेक कार्य पहले ही हो चुके हैं।

 

अब तमाम सेक्टर्स, खासकरCoal और Miining के सेक्टर को अधिक Competitive बनाने के लिए, जो रिफॉर्म्स अनाउंस हुए हैं, उसका भरपूर फायदा उठाने के लिए उद्योग जगत आगे आए,

युवा साथी आगे आएं।

 

साथियों, किसानों और Rural Economy के लिए जो निर्णय हाल में हुए हैं, उन्होंने एग्रीकल्चर इकोनॉमी को बरसों की गुलामी से मुक्त कर दिया है। अब भारत के किसानों को अपने Product,

अपनी उपज देश में कहीं पर भी बेचने की आज़ादी मिल गई है।

 

APMC एक्ट, Essential Commodities Act में जो संशोधन किए गए हैं, किसानों और

Industry के बीच Partnership का जो रास्ता खोला गया है, उससे किसान और Rural Economy का कायाकल्प होना तय है। इन फैसलों ने किसान को एक Producer के रूप में और उसकी उपज को एक Product के रुप में पहचान दी है।

 

साथियों, चाहे किसानों के बैंक खातों में सीधे पैसे ट्रांसफर करना हो, चाहे MSP का फैसला हो,

उनकी पेंशन की योजना हो, हमारा प्रयास किसानों को सशक्त करने का रहा है। अब किसानों को एक बड़ी मार्केट फोर्स के तौर पर विकसित होने में सहायता की जा रही है।

 

साथियों, Local Products के लिए जिस क्लस्टर बेस्ड अप्रोच को अब भारत में बढ़ावा दिया जा रहा है, उसमें भी सभी के लिए अवसर ही अवसर है। जिन जिलों, जिन ब्लॉक्स में जो पैदा होता है, वहीं आसपास इनसे जुड़े क्लस्टर विकसित किए जाएंगे। जैसे पश्चिम बंगाल के जूट किसानों के लिए पास में ही जूट आधारित उद्योगों को और मजबूती दी जाएगी।

 

Forest Produce की अपार संपदा जुटाने वाले आदिवासी साथियों को उनके क्षेत्र में ही आधुनिक Processing Units उपलब्ध कराई जाएगी। इसके साथ ही Bamboo और Organic Products के लिए भी क्लस्टर्स बनेंगे। सिक्किम की तरह पूरा नॉर्थ ईस्ट, ऑर्गैनिक खेती के लिए बहुत बड़ा हब बन सकता है। ऑर्गैनिक कैपिटल बन सकता है।

 

ICC के साथ जुड़े आप सभी व्यापारी, ठान लें तो नॉर्थ ईस्ट में ऑर्गैनिक फार्मिंग बहुत बड़ा आंदोलन बन सकता है, आप उसकी ग्लोबल पहचान बना सकते हैं, ग्लोबल मार्केट पर छा सकते हैं।

 

साथियों, आप सभी नॉर्थ ईस्ट, पूर्वी भारत में इतने दशकों से काम कर रहे हैं। सरकार ने जो तमाम कदम उठाए हैं, इनका बहुत बड़ा लाभ East और North East के लोगों को होगा।

मैं समझता हूं कि कोलकाता भी खुद फिर से एक बहुत बड़ा लीडर बन सकता है। अपने पुराने गौरव से प्रेरणा लेते हुए, भविष्य में कोलकाता, पूरे क्षेत्र के विकास का नेतृत्व कर सकता है।

आपसे बेहतर और कौन जानता है कि जब श्रमिक पूर्व के, संपत्ति पूर्व की, संसाधन पूर्व के,

तो इस क्षेत्र का विकास कितनी तेज गति से हो सकता है।

 

साथियों, 5 साल बाद, यानि वर्ष 2025 में आपकी संस्था अपने 100 वर्ष पूरे करने जा रही है।

वहीं वर्ष 2022 में देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने जा रहे हैं। ये आपकी संस्था के लिए,

आपके प्रत्येक सदस्य के लिए बेहतरीन समय है एक बड़ा संकल्प लेने का।मेरा आपसे आग्रह है कि आत्मनिर्भर भारत अभियान को चरितार्थ करने के लिए ICC भी अपने स्तर पर 50-100 नए लक्ष्य तय करे।

 

ये लक्ष्य संस्था के भी हों, इससे जुड़े हर उद्योग और व्यापारिक इकाई के भी हों और हर व्यक्ति के भी हों। आप जितना अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ेंगे, उतना ही ये अभियान पूर्वी भारत में,

नॉर्थ ईस्ट में आगे बढ़ेगा।

 

साथियों, Manufacturing में बंगाल की ऐतिहासिक श्रेष्ठता को हमें पुनर्जीवित करना होगा।

हम हमेशा सुनते आए हैं"What Bengal thinks today, India Thinks Tomorrow"

हमें इससे प्रेरणा लेते हुए हमें आगे बढ़ना होगा।

 

ये समय, Indian Economy को Command and Control से निकालकर Plug and Play

की तरफ ले जाने का है। ये समय Conservative Approach का नहीं है, बल्कि आगे बढ़कर Bold Decisions का है, Bold Investments का है।

 

ये समय भारत में एक Globally Competitive Domestic Supply Chain तैयार करने का है।

 

इसके लिए उद्योग जगत को अपनी मौजूदा सप्लाई चेन के सभी Stakeholders को संकट से निकालने में मदद भी करनी है और Value addition में उनकी Hand-Holding भी करनी है।

 

साथियों, आत्म निर्भर भारत अभियान में आगे बढ़ते हुए, कोरोना काल से संघर्ष करते हुए, आज आपने इस AGM में जो People, Planet and Profit का विषय उठाया गया है, वो भी बहुत महत्वपूर्ण है। कुछ लोगों को लगता है कि ये तीनों एक दूसरे केOpposite हैं, विरोधाभाषी हैं।

लेकिन ऐसा नहीं है। People, Planet and Profit एक दूसरे से Interlinked हैं। ये तीनों एक साथ Flourish कर सकते हैं, Co-exist कर सकते हैं।

 

मैं आपको कुछ उदाहरण देकर समझाता हूं। जैसे LED बल्ब। 5-6 वर्ष पहले एक LED बल्ब

साढ़े तीन सौ रुपए से भी ज्यादा में मिलता था। आज वहीं बल्ब 50 रुपए तक में मिल जाता है। आप सोचिए, कीमत कम होने से, देशभर में करोड़ों की संख्या में LED बल्ब घर-घर पहुंचे हैं,

स्ट्रीट लाइट्स में लग रहे हैं। ये Quantity इतनी बड़ी है कि इससे उत्पादन की लागत कम हुई है और Profit भी बढ़ा है। इससे लाभ किसको मिला है?

 

People को, आम देशवासी को जिसका बिजली का बिल कम हुआ है। आज प्रतिवर्ष देशवासियों के करीब-करीब 19 हजार करोड़ रुपए बिजली के बिल में, LED की वजह से बच रहे हैं।

ये बचत गरीब को हुई है, ये बचत देश के मध्यम वर्ग को हुई है।

इसका लाभ Planet को भी हुआ है। सरकारी एजेंसियों ने जितने LED बल्ब कम कीमत पर बेचे हैं, अकेले उससे ही हर साल करीब-करीब 4 करोड़ टन कार्बन डाइ-ऑक्साइड का emission कम हुआ है।

 

यानि Profit दोनों को है, दोनों के लिए Win-Win Situation है। अगर आप सरकार की अन्य योजनाओं और फैसलों को भी देखें, तो बीते 5-6 वर्षों में People, Planet and Profit का ये

Concept जमीन पर और मजबूत ही हुआ है।

 

अब जैसे अभी आपने भी देखा है कि कैसे सरकार का बहुत ज्यादा जोर Inland Waterways पर है। हल्दिया से बनारस तक तो वॉटरवे चालू हो चुका है, अब नॉर्थ ईस्ट में भी वॉटरवेज बढ़ाए जा रहे हैं।

 

इन वॉटरवेज से People का फायदा है, क्योंकि इससे Logisticsका खर्च कम होता है।

इन वॉटरवेज से Planet का भी फायदा है, क्योंकि इसमें ईंधन कम जलता है।और हमें ये भी नहीं भूलना चाहिए कि ये पेट्रोल-डीजल के Import को कम करेगा, रोड पर ट्रैफिक कम करेगा,

सामान सस्ते होंगे, सामान Shortest Route से जल्दी पहुंचेगा, खरीदने वाले और बेचने वाले,

दोनों को ही इसमें Profit ही Profit है।

 

साथियों, भारत में एक और अभियान अभी चल रहा है- देश को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने का। इसमें People, Planet और Profit तीनों ही विषय Address होते हैं।

 

विशेषकर पश्चिम बंगाल के लिए तो ये बहुत ही फायदेमंद है। इससे आपके यहां Jute का कारोबार बढ़ने की संभावना बढ़ती है। क्या आपने इसका फायदा उठाया है? क्या अब पैकेजिंग मैटेरियल जूट से बनना शुरू हुआ है। एक तरह से आपकी तो पांचों उंगलियां घी में हैं।

 

आपको तो इस मौके का और फायदा उठाना चाहिए। अगर ये मौका छोड़ देंगे, तो कौन मदद करेगा? सोचिए, जब पश्चिम बंगाल में बना Jute का बैग, हर किसी के हाथ में होगा,

तो बंगाल के लोगों को कितना बड़ा Profit होगा।

 

साथियों, People Centric, People Driven और Planet Friendly Development

की अप्रोच अब देश में Governance का हिस्सा बन गई है। जो हमारे Technological

Interventions हैं, वो भी People, Planet और Profit के विचार के अनुकूल ही है।

 

UPI के माध्यम से हमारी बैंकिंग Touchless, Contactless, Cashless और 24 into 7

हो पाई है। BHIM APP से Transactions के अब नए-नए रिकॉर्ड बन रहे हैं। Rupay Card अब गरीब, किसान, मध्यम वर्ग, देश के हर वर्ग का पसंदीदा कार्ड बनता जा रहा है।

जब हम आत्मनिर्भर भारत की बात करते हैं, तो क्यों न गर्व के साथ Rupay Card का इस्तेमाल करें?

 

साथियों, अब देश में बैंकिंग सर्विस का दायरा उन लोगों तक भी पहुंच पाया है, जिनको लंबे समय तक Have nots की श्रेणी में रखा गया था। DBT, JAM यानि जनधन आधार मोबाइल के माध्यम से बिना लीकेज करोड़ों Beneficiariesतक जरूरी सहायता पहुंचाना संभव हुआ है।

 

इसी तरह, Government e-marketplace, यानि GeM ने People को सरकार के साथ जुड़कर

Profit कमाने का एक अवसर दिया है। आप ये जानते ही हैं कि GeM प्लेटफॉर्म पर छोटे-छोटे सेल्फ हेल्प ग्रुप, MSMEs, सीधे भारत सरकार को अपने Goods और अपनी Services उपलब्ध करा सकते हैं। वरना पहले तो कुछ लाख के टर्नओवर वाला उद्यमी सोच ही नहीं सकता था कि वो सीधे केंद्र सरकार को अपना बनाया कोई सामान बेच सकता है।

 

इसलिए, मेरा ICC से भी आग्रह है कि आपके जो members हैं, जो आपसे जुड़े हुए Manufacturers हैं, उन्हें भी ज्यादा से ज्यादा संख्या में GeM से जुड़ने के लिए प्रेरित करिए।

अगर आपसे जुड़ा हर Manufacturer, GeM से जुड़ जाएगा, तो छोटे कारोबारी भी अपने Product, सीधे सरकार को बेच पाएंगे।

 

साथियों, जब हम Planet की बात करते हैं, तो आप भी देख रहे हैं कि आज आइसा, यानि

International Solar Alliance एक बड़ा Global Movement बन रहा है। Solar Energy

के क्षेत्र में जो लाभ भारत अपने लिए देखता है, उसको पूरी दुनिया के साथ साझा करने के लिए कोशिश की जा रही है। मेरा Indian Chamber of Commerce के तमाम सदस्यों से अनुरोध है कि, Renewable Energy, Solar Power Generation के लिए जो Targets देश ने रखे हैं,

उसमें अपने Contribution और Investment को विस्तार दें।

 

देश में ही Solar Panel की मैन्युफेक्चरिंग, Power Storage Capacity बढाने के लिए बेहतर Batteries के R&D और Manufacturing में निवेश करें। जो इस काम में जुटे हैं, ऐसे संस्थानों की, MSMEs की Handholding करें। बदलते हुए विश्व में, सोलर Re-chargable Batteries,

का बहुत बड़ा मार्केट बनने वाला है। क्या भारत का उद्योग जगत इसका नेतृत्व कर सकता है?

इस क्षेत्र में भारत एक बहुत बड़ा HUB बन सकता है।

 

ICC और उसके सदस्य, 2022 जब भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष पूरे करेगा और 2025 जब ICC अपने सौ वर्ष पूरे करेगा, तो इन अवसरों से जुड़े लक्ष्यों में, इस विषय पर भी अपने

Target तय कर सकते हैं।

 

साथियों,ये समय अवसर को पहचानने का है, खुद को आज़माने का है और नई बुलंदियों की ओर जाने का है। ये अगर सबसे बड़ा संकट है, तो हमें इससे सबसे बड़ी सीख लेते हुए, इसका पूरा लाभ भी उठाना चाहिए।

 

मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि सरकार इसके लिए पूरी तरह से Committed है, आपके साथ है।

आप बेहिचक आगे बढ़िए, नए संकल्पों के साथ, नए विश्वास के साथ आगे बढ़िए !!

 

आत्मनिर्भर भारत के मूल में है आत्म-विश्वासी भारत।

 

गुरुवर टैगौर ने अपनी कविता 'नूतोन जुगेर भोर'में कहा है-"चोलाय चोलाय बाजबे जोयेर मेरी,

पाएर बेगेई पोथ केटे जाय कोरिश ना आर दे", यानि "हर आगे बढ़ने वाले कदम पर घोषनाद होगा। दौड़ते पाँव ही नया रास्ता बना देंगे। अब देरी मत करो”।

 

सोचिए, ये कितना बड़ा मंत्र है- दौड़ते पाँव ही नया रास्ता बना देंगे। जब इतनी बड़ी प्रेरणा हमारे सामने है तो रुकने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

 

मुझे पूरा विश्वास है कि जब आप अपनी स्थापना के 100 वर्ष का समारोह मनाएंगे, जब देश अपनी स्वतंत्रता के 75 वर्ष का पर्व मनाएगा, तो आत्मनिर्भर भारत के मार्ग पर हमारा देश काफी आगे बढ़ चुका होगा।

 

एक बार फिर आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

स्वस्थ रहिए, सुरक्षित रहिए।

बहुत-बहुत आभार !

भालो थाकबेन !!!

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
The digital transformation: How UPI and AI are shaping MSME lending in India

Media Coverage

The digital transformation: How UPI and AI are shaping MSME lending in India
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
आने वाले पांच सालों में विकास की नई ऊंचाई पर होगा जम्मू-कश्मीर: उधमपुर में पीएम मोदी
April 12, 2024
कई दशकों के बाद, यह पहली बार है कि जम्मू-कश्मीर में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए आतंकवाद, बंद, पथराव, सीमा पर झड़पें इत्यादि मुद्दे नहीं हैं।
विकसित भारत के लिए, विकसित जम्मू-कश्मीर बेहद जरूरी है। कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी जैसी परिवारवादी पार्टियां जम्मू-कश्मीर को फिर से अस्थिरता के दौर में ले जाना चाहती हैं।
आर्टिकल-370 की समाप्ति ने जम्मू-कश्मीर में सभी के लिए समान संवैधानिक अधिकारों को सुनिश्चित किया है, पर्यटन में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है तथा गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक अवसरों के लिए IIM और IIT जैसे संस्थान स्थापित हुए हैं।
इंडी गठबंधन ने भारत की संस्कृति के साथ-साथ विकास की भी अवहेलना की और इसका प्रत्यक्ष उदाहरण श्रीराम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा का विरोध और बहिष्कार है।
अपनी तुष्टिकरण की राजनीति जारी रखने के लिए, इंडी गठबंधन के नेता बड़े बंगलों में रहते थे लेकिन रामलला को एक टेंट में रहने के लिए विवश किया।

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद