साझा करें
 
Comments
भारत और पुर्तगाल के बीच गहरे ऐतिहासिक एवं आर्थिक संबंध: प्रधानमंत्री मोदी 
भारत में स्टार्ट-अप उद्योग मजबूत एवं गतिशील: प्रधानमंत्री मोदी 
पुर्तगाल में रहने वाले भारतीय समुदाय ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को गहरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है: प्रधानमंत्री मोदी 
सुरक्षा परिषद और बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था में भारत की स्थायी सदस्यता का समर्थन करने के लिए पुर्तगाल को धन्यवाद: पीएम मोदी

महामहिम प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा,

गणमान्य प्रतिनिधिगण,

और मीडिया के सदस्यों,

शुरुआत में मैं, पुर्तगाल में गत सप्ताह जंगलों में लगी विनाशकारी आग के पीड़ितों के प्रति अपनी गहरी संवेदना और सहानुभूति व्यक्त करना चाहूंगा। हमारी चिंता एवं प्रार्थनाएं पीड़ितों और उनके परिवारों के साथ हैं।

मित्रों,

हम दो ऐसे देश हैं जिनका गहरा ऐतिहासिक जुड़ाव और मजबूत आर्थिक एवं जन संपर्क रहा है। इसलिए, मुझे यह जानकर हैरानी हुई कि किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री ने अब तक पुर्तगाल की द्विपक्षीय यात्रा नहीं की। हालांकि, मैं इस तथ्य से संतुष्ट हूं कि छह महीने के अंदर भारत और पुर्तगाल के बीच यह दूसरी वार्ता है। मैं अल्पकालिक सूचना पर इतनी गर्मजोशी और स्नेह से मेरा स्वागत करने के लिए प्रधानमंत्री कोस्टा का आभारी हूं। जनवरी में भारत में प्रधानमंत्री कोस्टा का स्वागत करना हमारे लिए सम्मान का क्षण था। वह केवल भारत के द्विपक्षीय दौरे पर नहीं बल्कि भारतीय प्रवासी दिवस उत्सव के दौरान प्रवासी भारतीय दिवस के मुख्य अतिथि भी थे। प्रधानमंत्री कोस्टा दुनिया भर में सर्वश्रेष्ठ प्रवासी भारतीयों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

मित्रों,

प्रधानमंत्री कोस्टा और मैंने आज व्यापक विचार-विमर्श किया और उनकी भारत की ऐतिहासिक यात्रा के बाद से हासिल प्रगति की समीक्षा की। हमारे संबंधों का ऊपर की तरफ बढ़ना जारी है। पिछले वर्ष द्विपक्षीय व्यापार 17 प्रतिशत बढ़ा है। और, पुर्तगाल से भारत में आने वाला प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भले की कम हो लेकिन 2016-17 में यह दोगुना हो गया है। दो अर्थव्यवस्थाओं के बीच ऐसा बहुत कुछ है जो हम माल, सेवाओं, पूंजी और मानव संसाधन के प्रवाह को बढ़ाने के लिए कर सकते हैं। इस संबंध में, पुर्तगाल में आर्थिक बदलाव और भारत का सुदृढ़ विकास हमारे लिए एक साथ आगे बढ़ने का उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है।

मित्रों,

पुर्तगाल उद्यमशीलता के लिए सबसे गतिशील यूरोपीय इको-सिस्टम में से एक के तौर पर उभरा है। भारत भी मजबूत एवं गतिशील स्टार्टअप उद्योगों का केंद्र बन रहा है। स्टार्टअप का क्षेत्र एक ऐसी रोमांचक जगह है, जो समाज के लाभ के लिए धन एवं वैल्यू उत्पन्न करने की खातिर युवाओं, विचारों, प्रौद्योगिकी, नवाचार और रचनात्मकता को जोड़ता है। भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री कोस्टा और मैंने भारत-पुर्तगाल इंटरनेशनल स्टार्टअप हब पर चर्चा की थी। मुझे यह देखकर प्रसन्नता हो रही है कि इतने कम समय में यह हकीकत का रूप लेने जा रहा है। मुझे प्रधानमंत्री कोस्टा के साथ संयुक्त रूप से इसकी शुरुआत करने का इंतजार है। कराधान, प्रशासनिक सुधार, विज्ञान, अंतरिक्ष, युवा मामलों एवं खेल के क्षेत्र में हुए नए समझौते हमारी साझेदारी में विस्तार की संभावनाओं को रेखांकित करते हैं। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हमारा सहयोग गति पकड़ रहा है। अत्याधुनिक तकनीक के क्षेत्र में सहयोग के लिए हम 40 लाख यूरो का संयुक्त विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कोष बनाने पर सहमत हुए हैं। हम नैनो तकनीक, समुद्री विज्ञान एवं ओशियेनोग्राफी के क्षेत्र में पुर्गताल की विशेषज्ञता से सीखने के लिए उत्सुक हैं। अंतरिक्ष हमारे द्विपक्षीय सहयोग का नया क्षेत्र है। यह आइडिया प्रधानमंत्री कोस्टा की इस वर्ष की शुरुआत में भारत यात्रा के दौरान सामने आया। हमें पुर्तगाल के साथ अटलांटिक इंटरनेशनल रिसर्च सेंटर में काम करने का इंतजार है। इसमें अंतरिक्ष और समुद्री विज्ञान दोनों क्षेत्र आते हैं।

मित्रों,

दोनों देश लोगों के बीच जीवंत और बढ़ते संबंधों को साझा करते हैं।  पुर्तगाल में भारतीय समुदाय ने हमारे द्विपक्षीय संबंधों को गहरा बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पुर्तगाल में फुटबॉल के लिए जुनून काफी गहरा है। प्रधानमंत्री कोस्टा खुद फुटबॉल के बहुत बड़े प्रशंसक हैं। यह एक और ऐसा क्षेत्र है जो हमारे समाजों को आगे भी जोड़ने की एक कड़ी बन सकता है। हमारी सांस्कृति साझेदारी बढ़ रही है। लिस्बन यूनिवर्सिटी में इंडियन स्टडीज के लिए चेयर स्थापित की गई है। भारतीय फिल्मों में पुर्तगाली सबटाइटल दिए जा रहे हैं। हमारी आपसी लाभ के लिए एक हिंदी-पुर्तगाली शब्दकोश विकसित किया जा रहा है। मैं 17वीं शताब्दी में गोवा और पुर्तगाल के बीच हुए पत्राचार के 12,000 दस्तावेजों का डिजिटल वर्जन हमारे साथ साझा करने के लिए भी पुर्तगाल का धन्यवाद देता हैं। यह महत्वपूर्ण आर्काइव हमारे शोधकर्ताओं के लिए लाभकारी सिद्ध होगा। 

मित्रों,

भारत और पुर्तगाल अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी मजबूत सहयोगी हैं। हम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता और बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था के लिए निरंतर समर्थन करने पर पुर्तगाल को धन्यवाद देते हैं। हमने आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद के खिलाफ आपसी सहयोग को और बढ़ाने का फैसला किया है।

महामहिम,

मैं एक बार फिर आपको मेरे गर्मजोशी भरे स्वागत और अनुग्रहपूर्ण आतिथ्य तथा अपने व्यस्त कार्यक्रम में से हमारे लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद देता हूं।

मुइटो ओब्रिगाडो

बहुत-बहुत धन्यवाद।

 

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
पीएम मोदी की वर्ष 2021 की 21 एक्सक्लूसिव तस्वीरें
Explore More
काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी
Budget Expectations | 75% businesses positive on economic growth, expansion, finds Deloitte survey

Media Coverage

Budget Expectations | 75% businesses positive on economic growth, expansion, finds Deloitte survey
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री ने महान कत्थक नृत्य कलाकार पंडित बिरजू महाराज के निधन पर शोक व्यक्त किया
January 17, 2022
साझा करें
 
Comments

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने महान कत्थक नृत्य कलाकार पंडित बिरजू महाराज के निधन पर शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा है कि उनका निधन पूरे विश्व के लिये अपूरणीय क्षति है।

एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा हैः

"भारतीय नृत्य कला को विश्वभर में विशिष्ट पहचान दिलाने वाले पंडित बिरजू महाराज जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। उनका जाना संपूर्ण कला जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति!"