साझा करें
 
Comments
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गोवा के पणजी में चुनाव प्रचार अभियान
बीजेपी सरकार ने पिछले पांच वर्षों में गोवा के विकास के लिए काम किया: प्रधानमंत्री मोदी
प्रधानमंत्री ने गोवा की समृद्धि और विकास के लिए केंद्र सरकार द्वारा सभी संभव मदद मुहैया कराने का भरोसा दिलाया
गोवा उन सभी चीजों को हकदार है जो आइकॉनिक है, इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास से यहां ज्यादा पर्यटक आकर्षित होंगे: प्रधानमंत्री
वर्तमान में भारत में एक ऐसी सरकार है जिसके पास कठोर फैसले लेने का साहस है: प्रधानमंत्री मोदी

गोवा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 1990 और 2000 के पहले गोवा की राजनीतिक अस्थिरता के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने पिछले पांच वर्षों में गोवा में विकास के लिए काम किया है। उन्होंने कहा कि छोटा राज्य होने के बावजूद भी गोवा ने विभिन्न क्षेत्रों में तेजी से विकास किया है।

श्री नरेंद्र मोदी ने साल 1990 और 2000 के पहले गोवा की राजनीतिक अस्थिरता के बारे में बात की। उन्होंने कहा, ‘राजनीतिक अस्थिरता ने गोवा के विकास को प्रभावित किया है। कांग्रेस को अस्थिरता पसंद है, और यह उनको शोभा भी देता है। पांच साल पहले लोगों ने बीजेपी के नेतृत्व में एक स्थिर सरकार का चुनाव किया था।’ उन्होंने लोगों से एक बार फिर से बीजेपी में भरोसा दिखाने और स्पष्ट बहुमत के साथ बीजेपी की सरकार चुनने का आग्रह किया।

प्रधानमंत्री ने गोवा के पूर्ण विकास के लिए केंद्र सरकार की ओर से हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा, ‘राज्य सरकार ने पर्यटन इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण के लिए हर संभव कदम उठाए हैं और केंद्र के समर्थन ने पर्यटन के विकास के लिहाज से इसे ज्यादा आसान बनाया है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि गोवा हर उस चीज का हकदार है जो आइकॉनिक है। श्री मोदी ने कहा, ‘हमें हर उत्तम इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास करना होगा। हम चाहते हैं कि राज्य में ज्यादा पर्यटक आएं और यहां के लोगों के लिए ज्यादा आर्थिक संभावनाएं उत्पन्न हों।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों को उनकी निकट हार नजर आ रही है इसलिए वे दूसरे पर आरोप लगाने के लिए माहौल तैयार कर रहे हैं। श्री मोदी ने आगे कहा, ‘यहां कुछ लोग हैं जो चुनाव आयोग पर भी आरोप लगा रहे हैं। हमें संस्थानों का सम्मान करना चाहिए।’

श्री मोदी ने कहा कि जनता भली भांति कांग्रेस पार्टी के भ्रष्टाचार और कुशासन से परिचित है। उन्होंने कहा, ‘हमारे विचारों में मतभेद हो सकता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि हम भारत के विकास के मूल मुद्दे से अलग सोचते हैं।’

प्रधानमंत्री ने आगामी विधानसभा चुनावों में गोवा की जनता से बीजेपी की सरकार को चुनने का आग्रह करते हुए कहा, ‘वर्तमान में भारत के अंदर एक ऐसी सरकार है जो कठोर फैसले लेने का साहस रखती है और दुनिया भी इसको मानती है।’

इस दौरान रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, केंद्रीय राजमार्ग एवं जहाजरानी मंत्री श्री नितिन गडकरी के साथ पार्टी के कई कार्यकर्ता कार्यक्रम स्थल पर मौजूद रहे।

 

 

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

प्रधानमंत्री मोदी के साथ परीक्षा पे चर्चा
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Over 17.15 crore Covid-19 vaccine doses given to states, UTs for free: Govt

Media Coverage

Over 17.15 crore Covid-19 vaccine doses given to states, UTs for free: Govt
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Telephonic conversation between PM Modi and PM Morrison of Australia
May 07, 2021
साझा करें
 
Comments

Prime Minister Shri Narendra Modi spoke on telephone today with Hon Scott Morrison MP, the Prime Minister of Australia.

Prime Minister Modi conveyed his appreciation for the prompt and generous support extended by the government and people of Australia for India’s fight against the second wave of COVID-19.

The two Leaders agreed on the need to ensure affordable and equitable access to vaccines and medicines for containing COVID globally. Prime Minister sought Australia's support for the initiative taken at the WTO by India and South Africa to seek a temporary waiver under TRIPS in this context.

The leaders took note of the progress made in the India-Australia Comprehensive Strategic Partnership since the Virtual Summit held on 4 June 2020 and discussed ways to further strengthen cooperation and foster people-to-people ties.

The Leaders also discussed regional issues and reiterated the importance of working together for a rules-based international order and a free, open and inclusive Indo-Pacific region.