साझा करें
 
Comments

जम्मू और कश्मीर राज्य के मवार घाटी के 24 स्कूली छात्रों के एक दल ने आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से भेंट की। 

ये विद्यार्थी कक्षा 6 से लेकर 8 तक के हैं और इस समय भारतीय सेना ऑपरेशन सद्भावना के तहत देश के विभिन्न हिस्सों की सैर पर हैं।

 
 

प्रधानमंत्री ने इस बच्चों के साथ उनकी पढ़ाई और खेलों में उनकी रुचि सहित विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की। विद्यार्थी उस समय रोमांचित हो गए जब प्रधानमंत्री ने क्रिकेट खिलाड़ी परवेज रसूल और हाल में यूपीएससी टॉपर तथा आईएएस अधिकारी शाह फैजल का जिक्र किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि वो जम्मू और कश्मीर के इन यूथ आइकंस से जल्द ही मिलना चाहते हैं। 

 
 

बच्चों के एक सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री ने कहा कि जम्मू और कश्मीर राज्य में पर्यटन और बागवानी जैसे क्षेत्रों में विकास की बहुत संभावनाएं हैं। 

इस अवसर पर थल सेनाध्यक्ष जनरल दलवीर सिंह भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए भेजें अपने विचार एवं सुझाव
पीएम मोदी की वर्ष 2021 की 21 एक्सक्लूसिव तस्वीरें
Explore More
काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण भारत को एक निर्णायक दिशा देगा, एक उज्ज्वल भविष्य की तरफ ले जाएगा : पीएम मोदी
Make people aware of govt schemes, ensure 100% Covid vaccination: PM

Media Coverage

Make people aware of govt schemes, ensure 100% Covid vaccination: PM
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री ने एनडीआरएफ टीम को उनके स्थापना दिवस पर बधाई दी
January 19, 2022
साझा करें
 
Comments

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) टीम को उनके स्थापना दिवस पर बधाई दी है।

श्रृंखलाबद्ध ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा हैः

“कठोर परिश्रम करने वाली राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) टीम को उनके स्थापना दिवस पर बधाई। वे तमाम बचाव और राहत कार्यों में अग्रणी रहती हैं और ये स्थितियां प्रायः चुनौतीपूर्ण होती हैं। एनडीआरएफ का साहस और कर्तव्यपरायणता बहुत प्रेरणादायी है। उनके भावी प्रयासों के लिये उन्हें शुभकामनायें।

आपदा प्रबंधन, सरकारों और नीति निर्माताओं के लिये एक अहम विषय होता है। प्रतिक्रिया स्वरूप फौरन हरकत में आने के अलावा, जहां आपदा प्रबंधन टीमें आपदा के बाद की परिस्थितियों का मुकाबला करती हैं, हमें आपदा का सामना करने में सक्षम अवसंरचना के बारे में भी सोचना होगा और इस विषय में अनुसंधान पर ध्यान देना होगा।

भारत ने ‘आपदा रोधी अवसंरचना के लिये गठबंधन’ के रूप में प्रयास शुरू किये हैं। हम अपनी एनडीआरएफ टीमों के कौशल को और धार दे रहे हैं, ताकि हम किसी भी चुनौती के दौरान ज्यादा से ज्यादा जान-माल की रक्षा कर सकें।”