साझा करें
 
Comments
"PM hands over letters of land allotment to Project Affected Persons. "
"PM's commitment for Sagarmala project - port-led development, SEZ revival, export promotion and development of shipbuilding industry. "

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज नवी मुम्बई स्थित शेवा में जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) की आधारशिला रखी।

प्रधानमंत्री ने जेएनपीटी से राष्ट्रीय राजमार्ग तक बंदरगाह संपर्क सड़क को चौड़ा करने की परियोजना की भी आधारशिला रखी। उन्होंने परियोजना से प्रभावित लोगों को सांकेतिक तौर पर भूमि आवंटन पत्र सौंपे।

l2014081655842  _ 684

l2014081655843  _ 684

प्रधानमंत्री ने समारोह स्थल पर उपस्थित विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी सरकार ने ‘सागरमाला’ की परिकल्पना की है, जो समुद्रतटीय राज्यों के लिए एक महत्वाकांक्षी परियोजना है। इससे न केवल बंदरगाह का विकास होगा, बल्कि बंदरगाह के जरिए भी विकास सुनिश्चित होगा जिसमें बंदरगाह, विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) और समुद्र तटक्षेत्र से रेल, सड़क, वायुमार्ग और जलमार्ग के जरिए संपर्क शामिल होगा। इसमें शीतभंडारण और भंडारण सुविधाओं के साथ संयोजन भी शामिल होगा। प्रधानमंत्री ने इस ओर ध्यान दिलाया कि समस्त विश्व व्यापार का दो तिहाई और कंटेनर व्यापार का 50 प्रतिशत हिंद महासागर के जरिए होता है। बंदरगाह क्षेत्र को अहमियत पर प्रकाश डालते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बंदरगाह भारत की समृद्धि के प्रवेशद्वार बन सकते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देशभर में बड़ी संख्या में एसईजेड परियोजनाओं के अटक जाने से सरकार चिंतित है। उन्होंने बताया कि समस्याओं की समीक्षा करने और उनका निदान जल्द ढूंढ़ने के लिए एक उच्चस्तरीय टीम गठित की गई है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “निर्यात संवर्धन वक्त की मांग है। जब तक हम निर्माताओं को निर्यात संवर्धन से नहीं जोड़ेंगे और जब तक राज्य एवं केन्द्र मिलकर काम नहीं करेंगे, तब तक हम निर्यात में नई ऊंचाइयां हासिल नहीं कर सकते।” उन्होंने बताया कि निर्यात मार्ग की बाधाओं से वाकिफ होने के लिए केन्द्र सरकार ने हाल ही में राज्यों के साथ बैठक आयोजित की थी और राज्यों को जल्द ही खुद की निर्यात संवर्धन परिषद गठित करने का अधिकार दिया जाएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि निर्यात के लिए राज्यों के बीच प्रतिस्पर्धा होने दीजिए। सरकार ने हाल ही में शिपिंग लाइसेंस का हर साल नवीकरण कराने की अनिवार्यता समाप्त कर दी है और अब से लाइसेंस हमेशा के लिए मान्य होगा। श्री नरेन्द्र मोदी ने यह कदम उठाने के लिए केन्द्रीय शिपिंग मंत्री श्री नितिन गडकरी की सराहना करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ऐसा माहौल बनाने की इच्छुक है जिससे व्यवसाय करने में आसानी होगी और युवाओं को प्रोत्साहन मिलेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जहाज निर्माण अब एक बड़े अवसर में तब्दील हो गया है। जहाज निर्माण में दक्षिण कोरिया द्वारा अच्छी कामयाबी हासिल करने का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत को भी इस तरह का प्रयास करना चाहिए।

l2014081655841  _ 684 l2014081655844  _ 684

प्रधानमंत्री ने अपने स्वतंत्रता दिवस संबोधन में दी गई अपनी थीम ‘आइये, भारत में निर्माण कीजिए’ को विस्तार से बताते हुए कहा कि उनकी सरकार जहाज निर्माण में विदेशी निवेश को प्रोत्साहित करेगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मेड इन इंडिया को विश्व बाजार में स्थान मिलना चाहिए।

श्री नरेन्द्र मोदी ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री का पद संभालने के बाद यह उनका महाराष्ट्र में पहला सार्वजनिक समारोह है। उन्होंने कहा कि वह सौभाग्यशाली हैं कि इसका आयोजन रायगढ़ जिले में हुआ है जो महान मराठा राजा शिवाजी से वास्ता रखता है।

प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए सड़क परिवहन, राजमार्ग और शिपिंग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने उपस्थित जनसमूह को बताया कि जेएनपीटी एसईजेड 1.5 लाख लोगों को रोजगार देगा।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री पृथ्वीराज चव्हाण ने भी इस अवसर पर जनसमूह को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री मोदी के साथ परीक्षा पे चर्चा
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Trade and beyond: a new impetus to the EU-India Partnership

Media Coverage

Trade and beyond: a new impetus to the EU-India Partnership
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM condoles the demise of Yoga Guru Swami Adhyatmananda ji
May 08, 2021
साझा करें
 
Comments

The Prime Minister, Shri Narendra Modi has expressed deep grief over the demise of Yoga Guru Swami Adhyatmananda ji.
In a tweet, Prime Minister paid tribute to him and recalled his simple way of explaining deep spiritual subjects. The Prime Minister remembered
How along with yoga education, Swami ji also served the society through many constructive activities run by Ahmedabad's Sivananda Ashram.