प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंडीगढ़ की अपनी यात्रा के दौरान वहां के लोगों को हुई असुविधा के लिए खेद जताया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंडीगढ़ की अपनी यात्रा के दौरान स्कूलों के बंद किये जाने पर खेद व्यक्त किया
चं‍डीगढ़ की जनता को हुई असुविधा के लिए जवाबदेही तय करते हुए इसकी जांच की जाएगी: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने उनकी यात्रा के दौरान चंडीगढ़ की जनता को हुई असुविधा पर खेद व्‍यक्‍त किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘’मेरी यात्रा के दौरान चंडीगढ़ के नागरिकों को हुई अुसविधा, खासतौर से स्‍कूलों को बंद करना खेदजनक है। मैं समझता हूं कि इससे बचा जा सकता था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इसकी जांच की जाएगी और चं‍डीगढ़ की जनता को हुई असुविधा के लिए जवाबदेही तय की जाएगी।’’

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
A Budget booster for MSMEs

Media Coverage

A Budget booster for MSMEs
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
25वें कारगिल विजय दिवस के अवसर पर 26 जुलाई को प्रधानमंत्री कारगिल का दौरा करेंगे
July 25, 2024
रणनीतिक शिंकुन ला सुरंग परियोजना का पहला विस्फोट करेंगे
यह परियोजना लेह को सभी मौसमों में कनेक्टिविटी प्रदान करेगी
निर्माण कार्य पूरा होने पर यह विश्व की सर्वाधिक ऊंची सुरंग होगी

26 जुलाई, 2024 को 25वें कारगिल विजय दिवस के अवसर पर, प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी सुबह लगभग 9:20 बजे कारगिल युद्ध स्मारक का दौरा करेंगे। वे करगिल युद्ध के दौरान प्राणों की आहुति देने वाले शहीद वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। प्रधानमंत्री वर्चुअल रूप से शिंकुन ला सुरंग परियोजना का पहला विस्फोट भी करेंगे।

शिंकुन ला सुरंग परियोजना में 4.1 किलोमीटर लंबी ट्विन-ट्यूब सुरंग शामिल है, जिसका निर्माण निमू-पदुम-दारचा रोड पर लगभग 15,800 फीट की ऊंचाई पर किया जाएगा, ताकि लेह को हर मौसम में कनेक्टिविटी प्रदान की जा सके। निर्माण कार्य पूरा होने पर यह विश्व की सर्वाधिक ऊंची सुरंग होगी। शिंकुन ला सुरंग न केवल हमारे सशस्त्र बलों और उपकरणों की तीव्र और कुशल आवाजाही सुनिश्चित करेगी, बल्कि लद्दाख में आर्थिक और सामाजिक विकास को भी बढ़ावा देगी।