I will serve the people of this country, till the time I can: Narendra Modi

Published By : Admin | April 28, 2014 | 17:57 IST

Excerpts of Shri Narendra Modi’s interview given to Doordarshan

The Congress is now a Sinking Ship

The Congress has made these elections as Modi-centric. Their assumptions of me being rejected by the people of India have been proved wrong. Also, the refusal of the senior Congress leaders to contest the election has reinforced that the Congress is now a Sinking Ship.

I wouldn’t mind Priyanka’s allegations – she is a daughter trying to defend her mother and brother

Priyanka Gandhi is a daughter who is trying to defend her mother and brother, and in the course of doing so, even if she abuses me, I wouldn’t mind.

The PM will not know the ‘Modi wave’

The PM will never know of the ‘Modi wave’ since he has never had the opportunity to interact with the people. He lives in an air-conditioned office the entire day, and will have no idea about the outside weather. If he finds the time to move outside, he might probably change his views.

Excerpts of Shri Narendra Modi’s interview given to Doordarshan

The UPA is attempting to create obstacles for the BJP

With their initial motive of ‘coming to power’ getting torn apart with a strong BJP wave, the UPA is now focusing on creating obstacles and preventing the NDA from forming a powerful government. The Congress has been striving hard to ensure that the NDA forms a weak government, and thus gets wiped out in a span of 5 years.

Strong international relations with mutual understanding are required

The need-of-the-hour is to have strong international relations with mutual understanding amongst the Nations. This will also encompass technological transfer, trade transfer and knowledge transfer.

A strong backing can make the Nation a super-power

With a proper backing of a strong and stable government, the 125 crore strong population of India can very well make the Nation turn into a super-power.

I will serve the country till I can

I feel privileged to have travelled and interacted with the locals in more than 400 districts across the country. I've lived the life of a labourer, serving the people, and in the future too, till my body works, I would love being called the number one labourer of the nation.

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
India among the few vibrant democracies across world, says White House

Media Coverage

India among the few vibrant democracies across world, says White House
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री मोदी की 'आज तक' के साथ विशेष बातचीत
May 16, 2024

पीएम मोदी ने 'आज तक' के साथ एक विशेष बातचीत में, अपनी सरकार के तीसरे टर्म के लिए दुनिया के भरोसे पर जोर देते हुए कहा कि इस चुनाव में 'कमल' ही कैंडिडेट है। हम सब लोग, यहां तक कि हमारे विरोधी भी कमल के लिए ही काम कर रहे हैं। कांग्रेस पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लिए लोकतंत्र का मतलब, केवल उसका सत्ता में होना है। वो 2014 से चुनी गई एक दूसरी सरकार को, मन से स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए उनको हर चीज बुरी लग रही है। बातचीत के प्रमुख अंश...

 

अंजना ओम कश्यप: जब आप 2014 में आए थे, तो 100 दिनों के भीतर आपने कथित काले धन पर एसआईटी का गठन किया था। 2019 में जब आप आए तो 62वें दिन कश्मीर में तीन तलाक से आजादी लेकर आए और 66वें दिन कश्मीर में 370 से आजादी लेकर आए। अगर आप 2024 में सत्ता में आए तो 100 दिन में क्या करेंगे? आप कौन से बड़े और कड़े फैसले ले सकते हैं?

पीएम मोदी: एक तो शायद यह मेरी कार्यशैली का हिस्सा है। मैं चीजें बहुत अच्छी तरह से और बेहतर ढंग से करता हूं। जब मैं संगठन के लिए काम करता था, तो मैं वेल एंड एडवांस्ड था कि मुझे इस समय यह करना है, इसलिए मैं अपना समय ठीक से विभाजित करता हूं। मैं प्राथमिकताएं भी बहुत आसानी से तय कर सकता हूं। मैं किसी मैनेजमेंट स्कूल का छात्र नहीं रहा हूं, लेकिन शायद काम करते-करते यह चीज विकसित हुई है। जब मैं गुजरात में था, तो मैं और आम तौर पर आलोचक या पर्यवेक्षक शुरुआती दौर पर नजर डालते हैं। यहां तक कि जब शादी के बाद बहू घर में आती है तो पहले पांच-सात-दस दिन तक उस पर कड़ी नजर रखी जाती है, यही दुनिया का स्वभाव है। तो मुझे लगा कि मुझे भी इस पर ध्यान देना चाहिए और मैं उस दिशा में आगे बढ़ गया। अब मैं आपको एक बहुत ही रोचक घटना बताता हूं। 26 जनवरी को गुजरात में भूकंप आया था। यह एक भयानक भूकंप था। मैं उस समय पार्टी के लिए काम कर रहा था। 7 अक्टूबर को अचानक मुझे सीएम बनना पड़ा। सीएम पद की शपथ लेने के बाद मैं सीधे भूकंप प्रभावित इलाके में आया। मैं वहां दो-तीन रात रुका, सब कुछ देखा। पहले मैं एक स्वयंसेवक के रूप में देखरेख कर रहा था बाद मैं फिर एक सीएम के रूप में। फिर मैंने आकर अपने अधिकारियों की बैठक ली, सभी ने मुझसे कहा कि मार्च महीने तक ये हो जाएगा। मैंने कहा सबसे पहले तो यह आपका मार्च का बजट लेजर है, इस पेपर को एक तरफ रख दीजिए। बताओ 26 जनवरी से पहले क्या करोगे? मैंने कहा था 26 जनवरी को दुनिया देखने आएगी। आपने एक साल में क्या किया? सब कुछ स्थगित करो, मुझे बताओ। फिर मैंने सारी मशीनरी जुटा ली और मैं शायद 24 जनवरी को दिन में यहां आया था और प्रेस कॉन्फ्रेंस करके देश को रिपोर्ट कार्ड दिया था। और उस वक्त मेरे अनुमान के मुताबिक बड़ी मात्रा में मीडिया गुजरात पहुंच चुकी थी और वो मीडिया वहां पहुंच चुकी थी जो हमारी चमड़ी उधेड़ना चाहती थी। लेकिन रोचक बात यह है कि, 24, 25 और 26 जनवरी की रिपोर्ट में वाहवाही के अलावा कुछ नहीं थी और उसका एक कारण ये था कि मैंने मार्च की डेडलाइन को आगे बढ़ा दिया था। तो मेरी टीम का उत्साह बढ़ गया, सफल काम को पहचान मिल रही है, तो मैं उसकी ताकत को समझता हूं इसीलिए मैं नहीं चाहता कि सरकार अपने आप (बिना समयसीमा के) बेतरतीब चले। सरकार चलाने मात्र के लिए लोगों ने मुझे नहीं बिठाया है, बल्कि मुझे वास्तविक रूप से सरकार चलाने के लिए नियुक्त किया है। मुझे देश में कुछ चीज़ें संभालनी हैं। बदलाव लाने के लिए ही मैंने ये योजना बनाई थी।

2014 में मैंने 100 दिन के लिए सोचा था, मेरे पास 5 साल के लिए घोषणापत्र था। 2019 में मैंने ये भी देखा और इसके साथ ही वैश्विक तस्वीर की ओर भी थोड़ा ध्यान खींचा। 2024 में मेरी सोच थोड़ी बड़ी और लंबी है। मैं पिछले 5 साल से काम कर रहा हूं। और 5 साल से काम चल रहा है। मैं कह सकता हूं कि देश में 20 लाख से ज्यादा लोग हैं जिनसे मैंने इनपुट लिया है और उनके आधार पर मैंने एक विजन डॉक्यूमेंट तैयार किया है, अधिकारियों की दो पीढ़ियां रिटायर हो चुकी होंगी और इस पर काम करते-करते कई नए लोग भी आए हैं। अब मैंने कहा, चुनाव की घोषणा से एक महीने पहले ही मैंने एक बड़ा शिखर सम्मेलन आयोजित किया था। मैंने उन सभी से परामर्श किया और सब कुछ सच हो गया।

फिर मैंने कहा कि भाई, 2047 को ध्यान में रखते हुए 5 साल में प्राथमिकता बताओ, फिर मैंने 5 साल का नक्शा बनाया। तब मैंने उनसे कहा कि वे मुझे इसमें से 100 दिनों के कार्रवाई योग्य बिंदु दें। फिर मैं आपको बताऊंगा कि मेरी प्राथमिकता एक यह होगी, दूसरी प्राथमिकता B, प्राथमिकता C और प्राथमिकता t2 यह होगी।

उस आधार पर करो। इसलिए वे काम कर रहे हैं। उन्होंने इसे तैयार कर लिया है। मैं अभी तक उनके साथ नहीं बैठा हूं। मैं कुछ समय निकालूंगा और उनके साथ बैठूंगा।' तो ये तैयार है। लेकिन अब काम करते-करते मेरे दिमाग में एक नया आइडिया आया है। जो मैं आपको पहली बार बता रहा हूं। जब मैं 100 दिन के बारे में सोच रहा था, अब मुझे 125 दिन के बारे में सोचने के लिए मजबूर होना पड़ा है और मैं उत्साहित भी हो गया हूं। मैंने देखा कि इस पूरे अभियान में, चाहे पहली बार वोट करने वाले हों या युवा पीढ़ी, मैं उनका पागलपन देख रहा हूं। मैं उनकी प्रेरणा महसूस कर रहा हूं, इसलिए मैं शायद आज घोषणा करने जा रहा हूं कि मैं 125 दिन काम करना चाहता हूं। मैंने 100 दिन का प्लान बनाया है। मैं 25 दिन और जोड़ना चाहता हूं। और उसमें मुझे युवा चाहिए, आप मुझे आइडिया दीजिए, आप मुझे अपनी प्राथमिकता बताइए, तो मैं कुल मिलाकर 25 दिन मेरे देश के युवाओं को समर्पित करना चाहता हूं, मैं करूंगा, मैं 100 से आगे बढ़ रहा हूं।

 

सुधीर चौधरी: तो ये संभव है सर, हमारे कार्यक्रम को देखने के बाद युवा ही इसमें शामिल होंगे

पीएम मोदी: लोगों को ये बहुत पसंद आएगा।

 

सुधीर चौधरी: सर, देखिए ये कितनी बड़ी बात है कि अभी चुनाव ख़त्म नहीं हुए हैं और हम आपके अगले कार्यकाल की बात कर रहे हैं. लोगों को लगता है कि आप वापस आने वाले हैं. जब भाजपा के टिकट दिए जा रहे थे तो लोग कहते थे कि यह टिकट नहीं है, यह चुनाव का प्रमाणपत्र है। हर जगह भाजपा की सबसे बड़ी पूंजी आपका चेहरा और आपका काम है। क्या आपको कभी ऐसा लगा कि इस बार तीसरे कार्यकाल के दौरान उम्मीदवारों ने भी सोचा था कि उन्हें आपके नाम पर ही जीतना है? आपने अपने काम में इतना अच्छा प्रदर्शन किया है कि उन्हें ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं है। तो उस हिसाब से आप देख रहे हैं कि उम्मीदवारों में भागीदारी की कमी है या जीत की अधिक गारंटी की जरूरत है।

पीएम मोदी: सबसे पहली बात तो यह कि मैं यह चुनाव जीतने जा रहा हूं, सरकार हमारे द्वारा बनाई जाएगी। आपको इस निष्कर्ष पर पहुंचने में बहुत देर हो गई है। मुझे राष्ट्रपति पुतिन का फोन आया था। सितंबर की बैठक के निमंत्रण के लिए। मुझे जी-7 से फोन आया कि हमें बैठक की जरूरत है, दुनिया पूरी तरह से आश्वस्त है कि यह सरकार बनेगी। आपको बहुत देर हो गई है। लेकिन फिर भी देर आए, दुरुस्त आए। जहां तक चुनाव का सवाल है, मैंने अपनी पार्टी को एक साल पहले ही बता दिया था। एक बैठक में मैंने कहा था कि उम्मीदवार का इंतजार मत करो, आपका उम्मीदवार घोषित हो चुका है। और वह है ‘कमल’। कमल ही आपका उम्मीदवार है और कोई नहीं है, इसलिए मैंने एक साल तक केवल कमल के लिए काम करने का फैसला किया है। इसलिए हम सभी कमल के लिए काम कर रहे हैं।' मैं भी कमल के लिए काम कर रहा हूं। मेरे साथी भी कमल के लिए काम कर रहे हैं और हमारे विरोधी भी कमल के लिए काम कर रहे हैं। क्योंकि वे जितना अधिक कीचड़ उछालेंगे, उतना ही अधिक कमल खिलेगा।



सुधीर चौधरी: लेकिन, आपको लगता है कि ये आपका सबसे आरामदायक चुनाव है।

पीएम मोदी: हमें कभी भी कंफर्ट जोन में नहीं जाना चाहिए। अगर यह सहज है तो मैं खुद को चुनौती दूंगा।' देखिए, आपने देखा होगा कि सीधे हाईवे पर दुर्घटनाएँ अधिक होती हैं और जहाँ मोड़ होते हैं, वहाँ कम दुर्घटनाएँ होती हैं। मैं अपनी टीम को सतर्क और जागृत रखना चाहता हूं। मैं उन्हें सक्रिय रखना चाहता हूं, इसलिए मुझे कंफर्ट जोन की दुनिया स्वीकार नहीं है।



सुधीर चौधरी: लोग ये भी कहते हैं कि अगर सब कुछ इतना आसान है तो आप इतनी मेहनत क्यों कर रहे हैं?

पीएम मोदी: कड़ी मेहनत, मैं इसे एक अवसर मानता हूं। मेरे लिए मैं लोगों से मिल रहा हूं। उनकी भावनाओं को समझना ही मेरी जीवन शक्ति और मेरी ऊर्जा है। दूसरे, लोकतंत्र में हमें चुनावों को जीत या हार के सीमित अर्थ में नहीं लेना चाहिए। यह एक प्रकार से बहुत बड़ा ओपन यूनिवर्सिटी है। आपके पास अपने विचारों को लोगों तक ले जाने का अवसर है। और जब आप अपने विचारों को सीधे तौर पर लेते हैं, तो न तो कमजोर पड़ता है और न ही भटकाव होता है, यानी आप संदेश को पूरी तरह से व्यक्त कर सकते हैं। जैसे, मैं काशी गया था। मैं काशी मोड में था, लेकिन जब मैं कोडरमा गया और वहां का दृश्य देखा तो मैंने अपने पूरे भाषण का विषय ही बदल दिया। पहले मैं जाता था। मैं अलग तरह से सोचता था क्योंकि मुझे लगता था कि मुझे इन लोगों से बात करनी होगी। और मुझे विश्वास है। सभी राजनीतिक दलों का यह कर्तव्य है कि वे चुनाव का भरपूर उपयोग करें। मतदाताओं को शिक्षित करें, अपनी कार्यशैली से शिक्षित करें, अपने कार्यक्रमों से शिक्षित करें। ये काम हर किसी को करना चाहिए। मैं इसे अभी भी करना चाहूंगा, अभी पंद्रह-बीस दिन बाकी हैं।



श्वेता सिंह: यह आपका तीसरा लोकसभा चुनाव है जिसे मैं कवर कर रही हूं। मैंने देखा है कि हर जगह आप मोदी के नाम पर वोट देने की जिम्मेदारी लेकर खड़े होते हैं क्योंकि इसमें एक डर होता है जो शायद आपको महसूस नहीं होता। लेकिन आपने चार सौ पार (400 पार) के नारे के साथ शुरुआत की है, यानी उस वक्त सब आप पर हावी हो गए थे कि चार सौ कैसे हासिल होंगे और आज भी वही मुद्दा, वही चर्चा है।

पीएम मोदी: ये आपके परिवार के सदस्य हैं। यदि आपका बच्चा नब्बे अंक लाता है, तो आपने उससे कहा होगा कि अगली बार उसे 95 (95%) अंक लाने हैं, आपने ऐसा कहा होगा। अगर वह निन्यानबे का स्कोर बनाता है, तो आपने कहा होगा कि सौ लाना मुश्किल है, लेकिन फिर भी इसे देखो। आपने कहा ही होगा। एनडीए और एनडीए प्लस के रूप में उन्नीस से चौबीस (2019-2024) में हमारे पास पहले से ही 400 थे, एक अभिभावक के रूप में यह मेरा कर्तव्य है कि अगर हमें चार सौ से आगे जाना है तो यह मेरी जिम्मेदारी है क्योंकि हमें आगे बढ़ते रहना चाहिए। दूसरी बात यह है कि जहां तक जिम्मेदारी की बात है तो यह नेतृत्व का कर्तव्य है। आज देश का दुर्भाग्य है कि दोष दूसरों पर मढ़ा जाता है। नेता लोग भाग जाते हैं, अपनी खाल बचाते हैं। यह देश के लिए सबसे निराशाजनक और दुखद बात है।' कम से कम एक व्यक्ति तो है जो जिम्मेदारी लेने को तैयार है, जो भागता नहीं है। कौन कहता है हां, मैं कहता हूं ये मेरी जिम्मेदारी है। और देश के राजनीतिक जीवन में हर दल में जिम्मेदारी उठाने वाले लोग होने चाहिए। ऐसे लोग नहीं होने चाहिए जो अपने साथियों पर दोष मढ़कर भाग जाएं, यह अच्छा नहीं लगता।



राहुल कंवल: प्रधानमंत्री जी, जब 2014 का चुनाव हुआ तो देश में मनमोहन सिंह, कांग्रेस और यूपीए के खिलाफ बहुत गुस्सा था। लोग बदलाव चाहते थे। 2019 के चुनाव हुए। उससे पहले पुलवामा बालाकोट हुआ था। पूरे देश में राष्ट्रवाद की भावना थी और लोग आपको एक और मौका देना चाहते थे। इस बार विश्लेषक कह रहे हैं कि क्या मतदाताओं में वही जोश और जुनून है जो 2019 में था। वोटिंग प्रतिशत थोड़ा कम हुआ है। वोटिंग प्रतिशत में गिरावट को आप कैसे देखते हैं और क्या आपको लगता है कि एक तरह से मतदाताओं में वैसा उत्साह नहीं है जैसा 2014 और 2019 में था। आप इसे कैसे देखते हैं?

पीएम मोदी: कुछ लोगों की रोज़ी-रोटी इस पर आश्रित है। खुद को प्रासंगिक बनाए रखने के लिए उन्हें कुछ तो शिगूफे छोड़ने पड़ेंगे। तो यह भी एक कारण है।

मुझे याद है कि मैं गुजरात में पार्टी के लिए काम करता था, तो शायद वो चुनाव 1995 से पहले का कोई चुनाव होगा। तो उससे पहले नगर निगम के चुनाव आ गए थे और नगर निगम के चुनाव में लोग सिंबल पर नहीं लड़ते थे। ज्यादातर लोग स्वतंत्र रूप से लड़ते थे, लेकिन बीजेपी ने शुरू किया कि नहीं, हमें सिंबल पर लड़ना चाहिए, ताकि लोगों को इसकी आदत हो जाए। भाजपा कार्यकर्ता भी स्वतंत्र रूप से लड़ते थे, इसलिए हम पार्टी चिन्ह पर लड़ते थे, लेकिन स्वाभाविक रूप से निर्दलीय अधिक जीते। जो पत्रकार दिल्ली से फाइलें लेकर आते थे और चुनाव एक परिवार का चुनाव था। वे पूछते थे, ''आप पारिवारिक चुनाव हार गए। अभी चुनाव कैसे जीतोगे”, तो मैंने कहा यार तुम लोगों के पास कोई काम नहीं है, तुम दोनों कुछ होमवर्क करो, ये नगर निगम के चुनाव कैसे होते हैं? आपको इसका अध्ययन करना चाहिए, यह ऐसा ही है। 'मतदान, मतदान की राजनीति, पार्टी का प्रदर्शन आदि चीजों के संदर्भ में देखने के बजाय यह देखना चाहिए कि लोकतंत्र में मतदान बहुत महत्वपूर्ण है, उदासीनता लोकतंत्र के लिए अच्छी नहीं है। हमारा नैरेटिव ऐसा होना चाहिए जिससे देश का लोकतंत्र मजबूत हो, बजाय इसके कि हम उसमें परिणाम ढूंढने लगें और वो भी तथ्य नहीं सिर्फ एक तर्क है, अब उन तर्कों पर समय बर्बाद करके हम क्या करेंगे? मैं जमीन पर उतरता हूं और मैंने पहले कभी दावा नहीं किया है। आपने देखा होगा कि मेरे खिलाफ शिकायत यह है कि मैं जीतने या हारने का दावा नहीं करता। इस बार भी मैंने दावा नहीं किया, सदन में लोग कह रहे थे कि चार सौ (400) के पार हो गया, मैंने खुद दावा नहीं किया लेकिन मुझे पता चला। हां मैं तैयारी करता हूं कि मैं सौ दिन (100 दिन) में क्या करूंगा।



श्वेता सिंह: संस्थाओं पर सवाल उठते हैं, विपक्षी पार्टियां सरकार पर, चुनाव आयोग पर बहुत गंभीर आरोप लगाती हैं, जिस पर लोगों को भरोसा है, तो मैं आपसे उस आरोप का जवाब चाहती हूं कि जब पहले चरण का चुनाव हुआ तो ग्यारह दिन लग गए, मतदान के आंकड़े मिलने में।

पीएम मोदी: आपने बहुत अच्छा सवाल पूछा और मुझे कम से कम आजतक और इंडिया टुडे से उम्मीद है कि चुनाव आयोग ने एक चिट्ठी लिखी है। इसलिए उस पत्र पर विद्वानों के बीच बहस होनी चाहिए। इस विषय को जानने वाले विशेषज्ञों के बीच इस बात पर बहस होनी चाहिए कि उन्होंने सही किया या गलत, क्योंकि चुनाव आयोग पर टिप्पणी करना मेरे लिए सही नहीं है।' दूसरे, चुनाव आयोग लगभग पचास-साठ वर्षों से एकल सदस्य रहा है। और मजे की बात यह है कि चुनाव आयोग से निकले लोग कभी-कभी राज्यपाल बन जाते हैं। कभी-कभी वे सांसद बन जाते थे। कभी-कभी वे आडवाणी जी के सामने संसदीय चुनाव लड़ने जाते थे, यानी विपक्ष ने कैसे लोगों को चुनाव आयुक्त की कुर्सी पर बैठाया था, ये इसके उदाहरण हैं। उस दौर का चुनाव आयोग, जो सेवानिवृत्त हो चुका है, आज भी उसी राजनीतिक दर्शन को बढ़ावा देने वाले ट्वीट करता है। वे अपनी राय देते हैं, लेख लिखते हैं, इसका मतलब यह है कि अब चुनाव आयोग पूरी तरह से स्वतंत्र हो गया है और मैं चाहूंगा कि आजतक और मुझे यकीन है कि आप लोग ऐसा करेंगे कि भारत के चुनाव आयोग की यात्रा पर एक विश्लेषण होना चाहिए। मेरी दूसरी बात यह है कि दुनिया में भारत की ब्रांडिंग करने के लिए हमारे पास अलग-अलग चीजें हैं। जैसे जब मैं दुनिया को बताता हूं कि मेरे पास नौ सौ टीवी चैनल हैं, तो वे टीवी चैनल मेरे साथ क्या करते हैं, यह मेरा मुद्दा नहीं है। मैं दुनिया को बताता हूं कि ये मेरा देश है, नौ सौ टीवी चैनल हैं। नौ सौ टीवी चैनल होना मेरे देश की ताकत है, इसलिए मैंने इसे दुनिया के सामने रखा। भारत का चुनाव आयोग, भारत की चुनाव प्रक्रिया दुनिया के लिए एक बहुत बड़ा आश्चर्य है। अपने देश की ब्रांडिंग करना हम सभी का कर्तव्य है। मैं चाहता हूं कि आप लोग दुनिया भर से अलग-अलग मीडिया हाउस को आमंत्रित करें। चुनाव के दौरान उनके लिए दो हेलीकॉप्टर ले लिए जाने चाहिए (हंसते हुए...) इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है।

 

सुधीर चौधरी: आपने मुझे अगली बार के लिए एक अच्छा आईडिया दिया है।

पीएम मोदी: इससे आप एक वैश्विक हस्ती भी बन जाएंगे। जैसे इस बार भी दुनिया भर से राजनीतिक दलों के कई लोग यहां आये। कुछ लोग पर्यवेक्षक बनकर, देखने आते हैं। यह वास्तव में भारत के लोकतंत्र और भारत के आम आदमी के समाज का उत्सव है और यह कितना बड़ा प्रबंधन है, इसमें लाखों लोग शामिल हैं और समय सीमा अद्भुत है, मैं मानता हूं कि यह दुनिया की यूनिवर्सिटीज के लिए एक स्टडी है। यह भारत की बहुत बड़ी उपलब्धि है। हमें गर्व होना चाहिए।



अंजना ओम कश्यप: आपने आजतक का हेलीकॉप्टर शॉट देखा या नहीं?

पीएम मोदी: नहीं, समय तो नहीं मिला लेकिन चिंता जरूर थी कि इतनी जल्दी में आपको अच्छे हेलीकॉप्टर मिलेंगे या नहीं, लैंडिंग के लिए मिलेगा या नहीं और कोई वीआईपी मूवमेंट हुआ तो झेलना पड़ेगा। उड़ान भरने में बाधा, मौसम संबंधी परेशानियां होंगी, यानी यह आसान नहीं है, बहुत कठिन है।

 

सुधीर चौधरी: हम नैरेटिव की बात कर रहे थे। सर, जब भी आप चुनाव लड़ते हैं, चाहे गुजरात में या यहां, लोग कहते हैं कि आप हार रहे हैं, लेकिन फिर आप जीतते हैं और अधिक सीटें जीतते हैं। जब से आपने लोगों को अपने समान नागरिक संहिता के बारे में बताया और यह वादा किया, तब से उस पर भी अलग-अलग बातें हो रही हैं। अब लोग कहते हैं कि एक देश एक पोशाक होगी। एक राष्ट्र एक भोजन होगा, एक राष्ट्र एक भाषा होगी। और इसका भविष्य यह है कि अब एक राष्ट्र एक नेता होगा और हम उस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

पीएम मोदी: क्या आपको कभी ऐसी बातें कहने वालों का मुकाबला करने का मौका मिला है? एक बार तो करके दिखाओ, यह नैरेटिव आपको कहां से मिला? आप गंभीर बात बता रहे हैं। उन्हें बताएं कि क्या आपने यूसीसी पढ़ा है? ये आपकी जिम्मेदारी है कि देश को बताएं कि यूसीसी क्या है, मुझे जवाब दीजिए। आपको भी अपना होमवर्क करना चाहिए लेकिन कम से कम इस देश के पास एक उदाहरण है। गोवा में यूसीसी है। बताओ क्या गोवा के लोग एक ही तरह के कपड़े पहनते हैं? क्या गोवा के लोग एक ही तरह का खाना खाते हैं? ये यूनिफ़ॉर्म सिविल कोर्ट कैसा मज़ाक है, इसका इससे कोई लेना-देना नहीं है। भारत का सर्वोच्च न्यायालय इस देश में यूसीसी लाने के लिए कम से कम दो दर्जन बार कह चुका है। मुझे याद है कि जब मैं एकता यात्रा पर गया था, तो मैं कन्याकुमारी से कश्मीर जा रहा था और महाराष्ट्र में, शायद औरंगाबाद में, संभवतः शाम को एक मिर्च बाजार में एक कार्यक्रम निर्धारित था और डॉ. जोशी जी को उससे एलर्जी थी। इसलिए वह अचानक बीमार पड़ गये। उन्हें तो ये भी नहीं पता था कि आगे हमें वहां प्रोग्राम करना चाहिए या नहीं, इसलिए मुझे कमान संभालनी पड़ी। मैं बहुत जूनियर था। तो मैं वहां जा रहा था, सारे बच्चे हमारे एक स्कूल में पढ़ रहे थे। मैंने कहा कि रथ रोको, बात करते हैं, तो मैं बच्चों से बात करने चला गया। ऐसा वीडियो उस समय कहीं न कहीं उपलब्ध होगा, मैंने बच्चों से कहा, “आपके परिवार में पांच लोग हैं। आपके माता-पिता का बड़े भाई के लिए एक नियम है और दूसरे भाई और तीसरे भाई के लिए दूसरा नियम है। यह कैसे चल सकता है? नहीं चल सकता। मैंने दस सवाल पूछे थे, उन बच्चों ने कहा, यह जरूर समान होना चाहिए। और ये बच्चे आठवीं कक्षा के थे। जो बात मेरे देश के महाराष्ट्र के छोटे से शहर के बच्चे समझते हैं, वो बात देश के नेता नहीं समझते।" तब मेरे मन में एक सवाल उठता है, ये झूठे नैरेटिव, ये झूठे नैरेटिव किसी भी व्यक्ति के काम नहीं आते, माफ कीजिए, ये इस देश के मीडिया हाउस का गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार है जो ऐसे गलत नैरेटिव को ताकत देता है। एक आदमी में क्या ताकत है, बोलता रहेगा, पूछेगा कौन? ये देश का है, देश के लिए है, ये किसी राजनीतिक दल की बात नहीं है, देश के संविधान में लिखा है कि भारत को उस दिशा में आगे बढ़ना चाहिए। क्या उस समय (कांग्रेस शासन) हमारे लोगों ने सोचा था कि हर किसी को गुलाब लगाने होंगे (नेहरू का नाम लिए बिना)? इसी कारण यूसीसी आने वाली थी। यह विषय संविधान सभा में आया था।



सुधीर चौधरी: अब नैरेटिव देखिए, ऐसा लगता है जैसे एक नया चलन शुरू हो गया है कि संविधान बदलने जा रहा है और उन्होंने अचानक यह कहा और यह पॉपुलर हो गया।

पीएम मोदी: यह पॉपुलर हो गया, मैं ऐसा नहीं मानता। लेकिन क्या ऐसा झूठ इस देश में भी फैलाया जा सकता है। सवाल यह पूछा जाना चाहिए कि इस देश में संविधान के साथ सबसे पहले खिलवाड़ किसने किया? पंडित नेहरू ने किया था। उन्होंने संविधान में जो पहला संशोधन लाया वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को प्रतिबंधित करने के लिए था, जिसका अर्थ है कि यह लोकतंत्र के साथ-साथ संविधान के भी खिलाफ था। दूसरा संशोधन उनकी बेटी ने लाया था, वह प्रधानमंत्री थीं और उन्होंने क्या किया? कोर्ट ने फैसला सुनाया कि आप संसद के सदस्य नहीं रह सकतीं, तो उन्होंने (इंदिरा ने बिना नाम लिए) कोर्ट के फैसले को पलट दिया. देश में आंदोलन चल रहा था तो उन्होंने आपातकाल लगा दिया और सारे अखबार बंद कर दिये। अरुण पुरी के लिए आपातकाल का एक फायदा इंडिया टुडे का जन्म था। उसी समय इंडिया टुडे का जन्म हुआ। उसके बाद उनका बेटा (बिना नाम लिए राजीव) आया और शाहबानो का फैसला आया, उसने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलट दिया। उन्होंने संविधान बदला, फिर ऐसे कानून लाए जो मीडिया पर प्रतिबंध से संबंधित थे। देशभर में विपक्ष थोड़ा मजबूत हुआ। मीडिया भी जीवंत होने लगा। हर कोई यही कहता हुआ निकला कि हम दोबारा आपातकाल नहीं आने देंगे, डर के मारे उसे वापस लेना पड़ा। तभी उनके बेटे (बिना नाम लिए राहुल गांधी) आए तो सरकार रिमोट कंट्रोल से चल रही थी। रिमोट कंट्रोल वाली सरकार चली गई। प्रधानमंत्री भी पद पर थे। सरकार संविधान की कोख से बनी। मुझे सरकार पसंद है या नहीं है, यह नहीं चलता। यह भारत के लोकतंत्र के माध्यम से एक संवैधानिक सरकार थी। मंत्रिमंडल का गठन संविधान की कोख से हुआ है।

उस कैबिनेट ने एक फैसला लिया और एक राजकुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर कैबिनेट के फैसले की धज्जियां उड़ा दीं। इतना ही नहीं कैबिनेट फिर अपने मुद्दे से पलट गई। इसका मतलब यह है कि एक ही परिवार के चार लोगों ने अलग-अलग समय पर संविधान की धज्जियां उड़ाई हैं। संविधान के लिए ऐसी गंदी हरकत करने वाले लोगों का समय अब खत्म हो गया है और इसलिए मैं आज लोगों से साहसपूर्वक कहता हूं कि जब तक मोदी जीवित हैं, संविधान सभा की मूल भावना यह है कि धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। मैं इसके लिए लड़ूंगा। मैं इसके लिए अपना जीवन बलिदान कर दूंगा। आपने एक बार धर्म के आधार पर देश का बंटवारा किया है, क्या दोबारा धर्म के आधार पर ऐसा करेंगे? क्या आप सिर्फ अपनी कुर्सी बचाने और कुर्सी पाने के लिए यह खेल देखते रहेंगे? देश इसे स्वीकार नहीं करेगा और मैं देश को शिक्षित करने के लिए अपना जीवन समर्पित कर सकूंगा।



राहुल कंवल: मोदी जी, इस चुनाव के दौरान और उससे पहले भी विपक्षी दलों ने भारत में लोकतंत्र खतरे में होने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि लोकतांत्रिक संस्थाएं पहले से कमज़ोर हो गई हैं। आप पर तानाशाह होने का भी आरोप लगाया गया है। आप इसे किस प्रकार देखते हैं?

पीएम मोदी: देखिए, पहली बात तो यह है कि हम उनसे बार-बार कह रहे हैं कि बहस के लिए संसद में आएं, लेकिन उन्हें लगता है कि उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं है, उनके पास कुछ कहने के लिए लोग ही नहीं हैं। उनके सारे नये सांसद आकर मुझसे कहते हैं कि सर, हमारे पांच साल बर्बाद हो गये और हम एक शब्द भी नहीं बोल पाये। मैं विपक्ष की बात कर रहा हूं, मैंने उनके नेताओं से भी कहा था कि ऐसा करो, अपने पहली बार के युवा सांसदों को एक घंटा दो, फिर बाद में (संसद) बाधित करो। मेरी कोशिश है कि ये लोग कुछ करें लेकिन दुर्भाग्य से इस कांग्रेस परिवार के लिए लोकतंत्र का मतलब सत्ता में रहना है। वे अभी भी यह मानने को तैयार नहीं हैं कि 2014 के बाद से देश के लिए कोई और सरकार चुनी गई है, कोई और प्रधानमंत्री चुना गया है जिसे देश ने चुना है। वे इसे मन से स्वीकार नहीं कर पाते हैं और यही कारण है कि अगर आप उनके मुद्दों, वादों और उनके घोषणापत्र पर अमल भी कर रहे हैं तो भी उन्हें बुरा लगता है। अगर आज आप उनकी बातों पर अमल कर रहे हैं तो उन्हें (विपक्ष को) खुश होना चाहिए कि उनका काम पूरा हो रहा है, ये अच्छी बात है, प्रणब मुखर्जी कहते थे, आपने उनकी किताब में देखा होगा कि उन्होंने मेरे साथ क्या काम किया, उन्होंने कितने लोकतांत्रिक तरीके से काम किया और हमने राष्ट्रपति की संस्था का कितना मान बढ़ाया है। सुप्रीम कोर्ट के बारे में बताएं, सरकार पर आरोप लगता है कि सुप्रीम कोर्ट में उसकी कोई बात नहीं सुनता है, यही आरोप हम पर है। और उसमें हमारी काबिलियत पर सवाल उठाए जा रहे हैं। इसका मतलब यह है कि पहले कुछ ऐसे लोग थे जो न्यायपालिका का संचालन करते थे और वह संस्था ठीक थी। मेरा मानना है कि मुझे मैनेज क्यों करना चाहिए। कानून अपना काम करेगा।

 

अंजना ओम कश्यप: प्रधानमंत्री जी, जांच एजेंसियों को लेकर आपकी सरकार पर आरोप लगा है। विपक्ष चिल्लाता है कि ईडी, सीबीआई और इनकम टैक्स ये सभी विभाग विपक्ष के लोगों पर सख्त कार्रवाई करते हैं लेकिन जो विपक्षी नेता एनडीए में शामिल हो जाते हैं उनके प्रति नरम हो जाते हैं।

पीएम मोदी: ये कहकर मुद्दे को मत टालिए, ये तरीका है... जैसे मैं कहता हूं कि ये एक परिवार की पार्टी है, तो हमारे मीडिया वाले मुझसे राजनाथ जी के बेटे के बारे में सवाल पूछते हैं। दोनों के बीच एक अंतर है। कम से कम मीडिया को इस तरह मुद्दों को भटकाने में इन लोगों की मदद नहीं करनी चाहिए। मैं उनसे अनुरोध करूंगा। जब मैं पारिवारिक पार्टी कहता हूं, तो इसका मतलब परिवार द्वारा परिवार के लिए परिवार की पार्टी है। अगर एक परिवार के दस लोग सार्वजनिक जीवन में आते हैं तो मुझे नहीं लगता कि यह बुरा है। चार लोग बढ़-चढ़कर सामने आएं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन वो पार्टी नहीं चलाते, पार्टी फैसले लेती है, वैसे ही ईडी ने जो कदम उठाए हैं, आप मुझे बताएं कि बीस साल पहले क्या खबरें होती थीं, काले बाज़ार में तलाशी ली गई, छापे मारे गए, बहुत सारी चीज़ें जब्त की गईं, बहुत सारी चीनी जब्त की गई।

अब वो खबरें आती हैं या नहीं? क्यों? क्योंकि उस वक्त उस संस्थान ने जो भी काम किया, उसमें कानून में बदलाव हो गया। जब टैक्सेशन के नियम बदले तो भारत के सार्वजनिक जीवन में काला बाज़ार, थिएटर, काला बाज़ार वाला की दुनिया सुनाई नहीं देती। इसलिए नहीं कि यह संसद में चला गया, बल्कि संस्थानों द्वारा किए गए काम के कारण।

थिएटर में अब कोई कालाबाजारी करने वाला नहीं मिलता। जिस प्रकार यह गायब हुआ, उसी प्रकार भ्रष्टाचार भी जा सकता है। क्यों? जिसकी जिम्मेदारी है वह काम करेगा तो वह दूर हो जाएगी।

सचमुच पूछना चाहिए कि ईडी को दस साल तक इतनी तनख्वाह दी गई, उन्होंने क्या काम किया? उन्होंने 2004 से 2014 तक काम क्यों नहीं किया? यह उनका कर्तव्य था।

एक रेलवे टिकट चेकर है, अगर वह टिकट चेक नहीं करेगा तो उसे रखने की क्या जरूरत है। वह उसी काम के लिए वहां है।

आप मीडिया में हैं, भक्ति भाव से मोदी का झंडा लेकर घूमते रहेंगे तो आपको आजतक में कौन रखेगा? कल आपको हटा दिया जाएगा, यही आपका काम है, दस चीजें ढूंढो और दुनिया के सामने लाओ, जो सही लगे उसे दुनिया के सामने ले जाओ। यह आपका काम है और आप लोग इसे करते हैं।' वैसे ही ये ईडी का काम है, उन्हें करने दीजिए, आंकड़े क्या कहते हैं, 2004 से 2014 के पहले सिस्टम यही था। कानून वही था। मैंने कानून नहीं बनाया। मैंने ईडी भी नहीं बनाया। वे बिल्कुल बेकार थे, उन्होंने कोई काम नहीं किया। उन्होंने केवल 34-35 लाख रुपये जब्त किए, दस साल में जब हम विपक्ष में थे, किसने उन्हें रोका? मेरी सरकार ने 2200 करोड़ रुपये जब्त किए हैं। आपके टीवी वालों ने नोटों के ढेर दिखाए हैं। आप उन्हें (ईडी को) कैसे बदनाम कर सकते हैं? सांसद के घर से पैसा मिला है। आप इसे कैसे नकार सकते हैं? आप मुझे बताइए, अगर मैं ड्रग्स की एक बड़ी खेप जब्त करूँ, तो आप मेरी तारीफ करेंगे या नहीं? अगर ईडी इसे जब्त करती है, तो तारीफ करने के बजाय उन्हें अपराधी जैसा क्यों दिखाते हैं, यह किस तरह का तरीका है? क्यों? क्योंकि यह एक नेता के यहां से जब्त हुआ?



राहुल कंवल: और आप चाहते हैं कि यह समान रूप से लागू हो, चाहे वह एनडीए हो या विपक्ष...

पीएम मोदी: चाहे कोई भी हो, ऐसा ही होना चाहिए। मेरी लड़ाई देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ है और यह देश को बहुत नुकसान पहुंचा रहा है।

श्वेता सिंह: मोदी जी, हमने देखा है कि ओडिशा, आंध्र प्रदेश में, आप लोग बहुत जोश के साथ चुनाव लड़ते हैं। चाहे विधानसभा चुनाव हो या लोकसभा चुनाव, बीजेडी, वाईएसआर कांग्रेस, सब भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ लड़ेंगे। लेकिन जब संसद में कोई बिल होता है जहां आपको उनकी जरूरत होती है, तो वे आपके साथ खड़े होते हैं। यह किस तरह का दोस्त और दुश्मन का रिश्ता है?

पीएम मोदी: मैं हमेशा कहता हूं कि चुनाव केवल तीन या चार महीने के लिए ही होने चाहिए। राजनीति पूरे पांच साल नहीं होनी चाहिए। हमें चार साल तक साथ बैठकर और जहां से भी हों, देश को चलाना चाहिए। छह महीने पूरी ताकत से चुनाव लड़ें। आपने खेलों में दोस्ताना मैच देखे होंगे, लेकिन जब असली मैच होता है तो जीत-हार के लिए आमने-सामने की लड़ाई होती है। तब खेल भावना सामने आती है। राजनीति में भी, मैं मानता हूं कि चार साल देश के हित में मुद्दों के आधार पर साथ बिताने चाहिए।

 

अंजना ओम कश्यप: तो आप तीसरे कार्यकाल में एक राष्ट्र-एक चुनाव के लिए प्रतिबद्ध हैं?

पीएम मोदी: मेरी पार्टी हमेशा से एक राष्ट्र-एक चुनाव के पक्ष में थी और है और इसमें कुछ नया नहीं है। आप देखें कि स्थिति क्या है, मुझे हैरानी होती है। मुझे बहुत दुख होता है कि जब किसी राज्य में चुनाव हो रहे होते हैं। और देश का प्रधानमंत्री उस राज्य में जा रहा है और किसी पार्टी के मुख्यमंत्री के खिलाफ भाषण दे रहा है। देश कैसे चलेगा? मेरा मजबूरी है कि मुझे उस राज्य में जाना पड़ता है और बोलना पड़ता है। और यह राजनीतिक मजबूरी है। अगर एक साथ चुनाव होते हैं, तो जो भी कहना चाहेंगे, कहेंगे। जो भी अमृत निकलेगा, हम उसे बाहर आएंगे और आगे बढ़ेंगे। यह लॉजिस्टिक खर्च को बचाएगा।

जब मैं गुजरात में था, तो मनमोहन सिंह जी की सरकार के दौरान भी, चुनाव आयोग मेरे इलाके से सबसे अधिक अधिकारियों को ले जाता था। सत्तर-अस्सी मेरे अधिकारी जाते थे और साल में लगभग सौ दिनों तक किसी न किसी चुनाव में लगे रहते थे, इसलिए मैं कहता था कि मेरा राज्य एक सक्रिय राज्य है। अगर अस्सी लोग जाएं, तो मैं कैसे करूंगा? इसे रोको, मैं पर्यवेक्षक नहीं दूंगा, लेकिन कानून ऐसे थे कि मुझे उनकी आवश्यकता के अनुसार उन्हें तैनात करना पड़ा। यह हर राज्य की समस्या है। इतने सारे पर्यवेक्षक जाते हैं, फिर आचार संहिता का पालन होता है, सबको पैंतालीस दिन की छुट्टी मिलती है, सब मजे करते हैं, इतना बड़ा देश कैसे रुक सकता है। इतने बड़े देश में बहुत बड़ा संकट है।

हमारे देश में पहले भी वन नेशन वन इलेक्शन था, 67 के बाद वो किसी तरह बंद हो गया, तो अब हमने एक आयोग बनाया है। आयोग की रिपोर्ट आ गयी है। हम रिपोर्ट का अध्ययन कर रहे हैं। इसका अध्ययन करने के बाद कार्रवाई योग्य बिंदु सामने आएंगे। हमारी प्रतिबद्धता है और प्रतिबद्धता केवल राजनीतिक प्रतिबद्धता नहीं है। यह देश के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।



अंजना ओम कश्यप: देश में रोजगार बनाम लाभार्थी पर बहस चल रही है। विपक्ष का कहना है कि कांग्रेस पार्टी अपना न्याय पत्र लेकर आई है जिसमें 30 लाख नौकरियों का वादा किया गया है। वे शिक्षित युवाओं को एक लाख नौकरियां देंगे। आपका फोकस लाभार्थियों पर रहता है। अब वे (कांग्रेस) कह रहे हैं कि हम बेरोजगारी के मुद्दे से अधिक आक्रामक तरीके से निपट रहे हैं। ये कांग्रेस का दावा है।

पीएम मोदी: अगर वे इतने ही ईमानदार हैं तो जिन राज्यों में उनकी सरकारें हैं वहां वे चुप क्यों रहते हैं। वे वहां क्यों नहीं बोलते? दूसरे, अगर रोजगार के लिए सरकार जिम्मेदार है तो सिर्फ भारत सरकार ही क्यों, राज्य सरकार, स्थानीय सरकार की भी ऐसी ही जिम्मेदारी है। इस तरह मुझ पर बहुत कम जिम्मेदारी होगी। फिर भी अगर आप वादा पूरा करने की बात करते हैं, हालिया रोजगार रिकॉर्ड के मुताबिक, पिछले 10 वर्षों में इस माइक्रो फाइनेंस ने जो रोजगार उपलब्ध कराया है, क्या आप उसे रोजगार नहीं मानेंगे?

केंद्र की दस से बारह योजनाएं हैं जिनके आधार पर उन्होंने विश्लेषण किया है कि जब एक घर बनेगा तो उसमें कितने व्यक्ति काम करेंगे। अब प्रति वर्ष 5 करोड़ व्यक्ति की रिपोर्ट की गई है। यानी इतना रोजगार पैदा हुआ... ये आंकड़ा बहुत बड़ा है।

अगर हम इसे व्यक्ति-घंटे के हिसाब से देखें, तो कोई मुझे बताए कि पहले अगर सौ किलोमीटर सड़क बनती थी, आज दो सौ किलोमीटर सड़क बन जाती है, तो संबंधित मैनपॉवर तैनात होती होगी या नहीं।

यही तुलना विद्युतीकरण और नए बने एयरपोर्ट्स की संख्या से भी की जा सकती है। गरीबों के 4 करोड़ घर बनाये गये हैं। 11 करोड़ शौचालय बनाये गये हैं। 5G को दुनिया में सबसे तेज गति से लॉन्च किया गया है। इसके लिए इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत है। ये ऐसे ही नहीं होता। इसके लिए टावरों की आवश्यकता है। उसके लिए छोटी-छोटी चीज़ें बनाने वाले लोग चाहिए। इसका मतलब ये है कि अगर ये सब चीजें जोड़ दें तो छह-सात साल में आपको छह करोड़ नई नौकरियां मिल रही हैं, ये ऑन रिकॉर्ड है। पिछले दस सालों में EPFO के दायरे में आने वाले लोगों की संख्या में 167% की वृद्धि हुई है। आप इसे मानें या न मानें, मुद्रा लोन योजना के तहत अलग-अलग करीब 43 करोड़ लोन दिए गए हैं। इनमें से 70% ऐसे लोगों को मिले हैं जो पहली बार नौकरी कर रहे हैं। इसका मतलब है कि हर लोन लेने वाला व्यक्ति कम से कम एक और व्यक्ति को रोजगार दे रहा है। कोई न कोई अपना कारोबार चलाकर तो रोजगार दे ही रहा है। ये सब सिर्फ बड़े बोल नहीं हैं। हमारे देश की समस्या ये है कि भर्ती की प्रक्रिया बहुत जटिल है। विज्ञापन तो आ जाता है, लेकिन विभाग फिर वित्त विभाग से मंजूरी मांगता है, ये उनका अपना तरीका है। किसी भी नौकरी के लिए किसी को पता चलने में ही एक साल लग जाता है। मैंने इस प्रक्रिया को काफी कम कर दिया है। अब नौकरियों की भर्ती पूरी करने में ढाई से तीन महीने का समय लग रहा है। मैंने भर्ती प्रक्रिया को ढाई से तीन महीने में पूरा करने का सुधार किया है। लेकिन रोजगार इतना व्यापक विषय है कि इस पर कुछ भी कहा जा सकता है। आप कुछ भी कह सकते हैं। कुछ लोग होते हैं, जो ठीक वैसे ही हैं जैसे आप। आपके पास यहां काम तो है, लेकिन मन में सोचते रहते हैं कि उन्हें मुख्य संपादक बनना चाहिए। तो उनकी इस सोच के हिसाब से वह बेरोजगार है, क्योंकि अभी वो संपादक नहीं है।

 

राहुल कंवल: प्रधानमंत्री जी, हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्रियों की एक रिपोर्ट आई जिसमें उन्होंने कहा कि भारत में आय असमानता बढ़ रही है यानी अमीर और अधिक धनी हो रहे हैं। गरीब और अधिक गरीब हो रहे हैं। भारत में स्थिति यह है कि शीर्ष पर रहने वाले लोग धनी हो रहे हैं और निचले स्तर पर रहने वाले लोग गरीब हो रहे हैं। आप इसे कैसे देखते हैं?”

पीएम मोदी: क्या सभी लोग गरीब होने चाहिए? सभी लोग गरीब होने चाहिए, तब तो कोई अंतर नहीं होगा। देश में पहले ऐसा ही होता था। अब आप कहते हैं कि सभी लोग धनी होने चाहिए, तो यह धीरे-धीरे होगा, रातों-रात नहीं।

कुछ लोग आएंगे, वे नीचे वालों को लाएंगे। जो लोग थोड़ा ऊपर आएंगे, वे दूसरों को ऊपर खींचेंगे। तो यह एक प्रक्रिया है।

तो या तो हम यह तय करें कि हम सभी गरीब रहना चाहते हैं। दो विकल्प हैं, एक यदि सभी को दस रुपये मिलते हैं, और आपको दस रुपये पर ही जीवन यापन करना होगा। दूसरा विकल्प है कि हमें आगे बढ़ने की कोशिश करनी चाहिए। आज हम दस बनाएंगे कल यह सौ हो जाएगा, फिर परसों यह पांच सौ हो जाएगा। स्टार्टअप्स की संख्या कुछ सौ थी और अब 1.25 लाख स्टार्टअप्स हो गए हैं, तो प्रगति हो रही है।

पहले, हवाई जहाज में कम लोग सफर करते थे, लेकिन आज एक हजार नए विमानों का ऑर्डर दिया गया है। इस वक्त सरकारी और निजी मिलाकर करीब छह-सात सौ विमान हैं, अब एक हजार नए विमान बुक हो गए हैं, यानी समृद्धि बढ़ी है। आज लोग बद्रीनाथ-केदारनाथ यात्रा के लिए भुगतान कर रहे हैं। ये पैसा उन्हें कहाँ से मिलता है? हाँ, कहीं से तो मिल ही रहा होगा, तभी तो इतने लोग जा पा रहे हैं। यात्रा करने वालों की संख्या करोड़ों में पहुँच चुकी है। लोग शादी के लिए विदेश जा रहे हैं। अगर सिर्फ पाँच ही अमीर लोग होते, तो इतने सारे लोग विदेश में शादी कैसे कर पाते? इसीलिए मैंने "वेड इन इंडिया’ का आग्रह किया है।

लोगों की आर्थिक स्थिति बेहतर होने के कारण अब विदेश घूमने का चलन बढ़ रहा है। उन्हें लगता है कि उन्होंने भारत घूम लिया है और अब उन्हें सिंगापुर जैसी जगहें देखनी चाहिए। इसलिए, हमें इस स्थिति को सकारात्मक रूप से देखना चाहिए।

 

राहुल कंवल: लोग डर के कारण भारत में शादी कर रहे हैं कि कहीं उनके द्वारा विदेश में शादी करने की रिपोर्ट मोदी जी को न मिल जाए।

पीएम मोदी: लोग डर के कारण भारत में शादी कर रहे हैं यह स्वाभाविक रूप से मीडिया का वर्शन है। लेकिन कई लोग मुझे पत्र लिख रहे हैं और यही कह रहे हैं कि मैंने बुकिंग तो कर ली थी, पैसे भी खर्च कर दिए लेकिन इस तरफ कभी सोचा नहीं..

 

श्वेता सिंह: छोटी जगहें भी शादी करने लायक है, लोगों को अब आइडिया मिल रहा है।

सुधीर चौधरी: कश्मीर में तो डेस्टिनेशन वेडिंग भी हो रही है।

पीएम मोदी: वह बद्रीनाथ और केदारनाथ से बहुत बड़ी कमाई कर रहे हैं। पहले उनके पास सिर्फ धार्मिक पर्यटन हुआ करता था, लेकिन अब उनके पास बुनियादी ढांचा है जिससे वे ऑफ-सीजन में भी शादियों की मेजबानी कर सकते हैं।



सुधीर चौधरी: सर, आपकी छवि गरीबों के मसीहा की है। हमने देखा है कि जब आप वहां जाते हैं तो महिलाएं कैसे रोने लगती हैं। गरीब महिलाएं स्वयं को आपसे जुड़ा हुआ महसूस करती हैं। आपकी सभी योजनाएं 25 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा से बाहर लाने में मदद करती हैं। लेकिन राहुल गांधी आप पर जो आरोप लगा रहे हैं वो ये है कि आपकी दोस्ती बड़े उद्योगपतियों से है। पिछले पांच साल से आपकी छवि पर एक स्टीकर चिपकाने की कोशिश की जा रही है और वो स्टीकर ये है कि आप अडानी और अंबानी के दोस्त हैं। यह ब्लैक एंड व्हाइट जैसा है,..आप क्या कहते हैं?

पीएम मोदी: परिवार की समस्या है कि परिवार पर बोझ है। नेहरू जी को बिड़ला-टाटा की सरकार के लिए गालियाँ पड़ती थीं। नेहरू जी इसे लगातार सुनते थे। अब इस परिवार की दिक्कत ये है कि जो गालियां मेरे नाना ने झेलीं, वो तो मोदी को भी झेलनी चाहिए, फिर राफेल क्यों लाए? उन्होंने सोचा कि अगर मैं राफेल मुद्दा उठाऊंगा तो इससे बोफोर्स के पाप धुल जाएंगे, इसलिए यह एक मनोवैज्ञानिक समस्या है। इस चुनाव में इतनी मेहनत पहले कभी नहीं हुई, आखिर क्यों कर रहे हैं? उन्हें लगता है कि अगर मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने तो मेरे पिता की कोई इज्जत नहीं रहेगी। मेरे नाना की कोई इज्जत नहीं रहेगी, वो नेहरू के बराबर हो जायेंगे। वे हर काम उसी के साथ पूरा करते हैं और इसीलिए उन्होंने ये सारी गालियाँ कहीं से उधार ली हैं।

अब दूसरी बात जो मैं लाल किले से कहता हूं। मैं हिचकता नहीं हूं। मैं लाल किले से कहता हूं कि इस देश में वेल्थ क्रिएटर्स का सम्मान होना चाहिए। मेरे देश में सामर्थ्यवान लोगों की सामर्थ्यवान लोगों की प्रतिष्ठा बढ़नी चाहिए। मैं अपने 15 अगस्त की अतिथि सूची में खिलाड़ियों और उपलब्धि हासिल करने वालों को शामिल करता हूं। अगर देश उपलब्धि हासिल करने वालों को नहीं पूजेगा, देश की कद्र नहीं होगी तो मेरे देश में पीएचडी करने वाले कहां से आएंगे? वैज्ञानिक कहां से आएंगे? जीवन के हर क्षेत्र में आवाज उठनी चाहिए।

अगर कल ‘आजतक’ एक ग्लोबल चैनल बन जाता है, तो मैं ताली बजाने वाला पहला व्यक्ति होऊंगा। मैं जानता हूं कि आजतक मेरे साथ क्या काम करता है, लेकिन मैं इसके लिए ताली बजाऊंगा। मेरे देश का आजतक जो ग्लोबल हो गया है। मुझे इस बात का दुख है कि सीएनएन, बीबीसी ग्लोबल चैनल बन गया, अल जजीरा रातों-रात आया और ग्लोबल चैनल बन गया।

अब कोई कहेगा कि आप अमीर अरुण पुरी की मदद कर रहे हैं, लेकिन मैं अमीरों की मदद नहीं कर रहा हूं। मेरे देश की बहुराष्ट्रीय कंपनियां मेरे देश का गौरव क्यों न बनें? मेरे देश की कंपनियों की दुनिया में दुकानें क्यों नहीं होनी चाहिए? दुनिया भर के लोगों को मेरे देश में क्यों नहीं आना चाहिए, आपको शर्म क्यों आती है?

लेकिन हां, अगर मैंने बेईमानी की है तो फांसी होनी चाहिए, अगर गलत तरीके से किया है तो फांसी होनी चाहिए, लेकिन मैं अपने देश में वेल्थ क्रिएटर का सम्मान करूंगा। मैं अपने देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए जितनी चिंता मजदूरों के पसीने की करता हूं, उतनी ही चिंता मुझे संपत्ति बनाने वालों/पूंजीपतियों की संपत्ति की भी होती है। मेरे लिए यह पूंजीपति का पैसा होना चाहिए। प्रबंधन का दिमाग, मेहनतकशों का पसीना। मैं तीनों को एक परिवार के रूप में देखता हूं, तभी विकास होता है।'

 

श्वेता सिंह: हां. लेकिन चूंकि आपने इस पैसे के बारे में बात की है, मुझे याद है कि आपने अपनी एक रैली में ईडी छापे और तलाशी से जब्त किए गए पैसे के ढेर के बारे में कहा था। मैंने इस पर श्वेत पत्र बनाया है कि ईडी द्वारा जब्त किया गया पैसा कहां जाता है। यह जानकर बहुत दुख हुआ कि जब तक केस चलता है तब तक पैसा जब्त रहता है। तो मैंने कहा कि ये जो पैसा भ्रष्टाचारियों के पास जाता है वो हम तक पहुंचेगा और वापस आएगा।

पीएम मोदी: बहुत अच्छा सवाल है। इससे दर्शकों को भी मदद मिलेगी। मैंने कुछ प्रकार के भ्रष्टाचार के बारे में बात की है, एक जो बड़े-बड़े व्यवसायों में किया जाता है जिसमें लेने वाला कुछ नहीं बताता, देने वाला भी कुछ नहीं बताता। यह एक समस्या है लेकिन ज्यादातर लोग निर्दोष हैं जैसे बंगाल में शिक्षक भर्ती के मामले में पता चला है कि इस आदमी को पैसे लेकर नौकरी मिली है। उनके हाथ में कुछ भी नहीं है, जमीन या घर गिरवी रखा है और उसी से पैसा दिया है, तो एक निशान है, इसलिए अब हमने बहुत सारा पैसा जब्त कर लिया है। अभी तक हमने कुल सवा लाख करोड़ की प्रॉपर्टी जब्त की है।

ईमानदारी का ठेका लेकर घूमने वाली कम्युनिस्ट पार्टी केरल में कोऑपरेटिव नेटवर्क का रैकेट चलाती है। गरीबों और नौकरीपेशा लोगों का पैसा कोऑपरेटिव नेटवर्क में रखा जाता है, ताकि बड़े होने पर बेटी की शादी और बेटे के घर के लिए उस पैसे का उपयोग किया जा सके। लेकिन ये कैसे लोग हैं, इन्होंने ये पैसा अपनी निजी बिजनेस पार्टनरशिप के नाम पर ठग लिया और हजारों करोड़ का फ्रॉड कर डाला।

आप लोग केरल फ़ाइल (फिल्म) से डरते हैं लेकिन आप इस पर काम कर सकते हैं। अब इसमें एक ट्रेल है। जो पैसा उन्होंने रखा था और किसी का पैसा डूब गया, अब हमने संपत्ति जब्त कर ली है। मैं जानना चाहता हूं कि मुझे उस संपत्ति से नकदी कैसे मिली और मैंने निवेश करके वह पैसा कैसे लौटाया। अब तक मैं 17000 करोड़ रुपये लौटा चुका हूं जिसका पता चल गया था।

अब लालू जी ने रेल मंत्री रहते गरीबों को नौकरी देने के बदले जमीन अपने नाम लिखवा ली, तो ट्रेल तो मिल जाता है, लेकिन गरीब एफिडेविट देने से डर रहे हैं। अब वह बेचारा डर के मारे ट्रेल देने को तैयार नहीं है। लेकिन ट्रेल मिल रही है क्योंकि एक निश्चित तारीख को उनकी जमीन चली गयी थी। मैं सोच रहा हूं कि उस गरीब को जमीन वापस कर दूं, इसलिए मैं इसमें बहुत दिमाग लगा रहा हूं क्योंकि मुझे दिल से लगता है कि इन लोगों ने अपने पद का दुरुपयोग करके गरीबों का पैसा लूटा है। उन्हें यह वापस मिलना चाहिए।

अगर मुझे इसके लिए कोई कानूनी बदलाव करना पड़ा तो मैं करूंगा। मैं अभी कानूनी टीम की मदद ले रहा हूं क्योंकि मैंने न्यायपालिका के लोगों से कहा था कि मुझे रास्ता बताएं कि जो पैसा पड़ा रहता है उसका क्या करना है। हम जो नया "न्याय सहिंता" लाए हैं उसमें कुछ सुविधाएं हैं। जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था, भावनगर में बहुत बड़ी मात्रा में काला गुड़ पकड़ा गया था, यह अवैध शराब बनाने के लिए था। अब इसे थाने में रखा गया। बारिश आयी, भीग गया। इसके बाद वहां इतने मक्खी-मच्छर हुए कि उस रास्ते से गुजरना मुश्किल हो गया है। अब कानून कहता है कि आप इसे डिस्पोज-ऑफ नहीं कर सकते, तब से मेरे मन में यह था कि कानून बदलना चाहिए।



अंजना ओम कश्यप: आपका दस साल का ट्रैक रिकॉर्ड कहता है कि जैसे आपने अभी बात की कि अगर किसी ने रिश्वत में जमीन दी है तो हम उसे वापस दिलाने का काम करेंगे। आपके पास लाभार्थियों के लिए बहुत बड़ी योजना है। जब लाभार्थियों को जमीन मिलती है तो कोई यह नहीं देखता कि वे हिंदू हैं, मुस्लिम हैं या किस समुदाय से हैं, इसलिए देश में धर्मनिरपेक्ष शासन चलता है। लेकिन अगर ऐसा है तो चुनावी रैलियों में आपको मंगलसूत्र, घुसपैठियों, ज्यादा बच्चों को लाने की क्या जरूरत है। विपक्ष बार-बार इस मुद्दे पर आप पर हमला करता है कि आप प्रचार में हिंदू-मुसलमान करते हैं।

पीएम मोदी: आपने बहुत अच्छा सवाल पूछा है और मैं इसे ठीक से समझाना चाहता हूं। ये कहते हैं, आप पूरी तरह से सांप्रदायिक एजेंडे पर चले गए लेकिन मैंने इसे वास्तव में उजागर किया है। इसलिए वास्तविक मुद्दा उनके इकोसिस्टम द्वारा हटा दिया गया। आप लोग भी इस इकोसिस्टम के दबाव में रहते हैं कि आप इसे छू भी नहीं पाते। फिर आप मेरी बात मान लेते हैं और उसके साथ चलने लगते हैं, फिर आप सोचते हैं कि मैंने 'मुस्लिम मुस्लिम' कहा, लेकिन मुद्दा यह नहीं है। मुद्दा यह है कि उन्होंने अपने घोषणापत्र में लिखा है कि अब वे अल्पसंख्यकों को कॉन्ट्रैक्ट सिस्टम में लाएंगे। कॉन्ट्रैक्ट अल्पसंख्यकों को दिया जाएगा और अगर मैं व्यवस्था का विरोध करता हूं तो वह ऐसा हो जाता है कि मैं सेक्युलरिज्म कर रहा हूं। लेकिन सिर्फ इसलिए कि मुझे अल्पसंख्यक, 'मुस्लिम' शब्द का उपयोग करना पड़ रहा है, आपको लगता है कि मैं उन पर हमला कर रहा हूं लेकिन मैं उन पर हमला नहीं कर रहा हूं। मैं उन राजनीतिक दलों पर निशाना साध रहा हूं जो भारत की धर्मनिरपेक्षता को नष्ट कर रहे हैं। जो तुष्टीकरण की राजनीति कर रहे हैं, देश के संविधान की भावना को नष्ट कर रहे हैं--अब मेरे पास सबूत है कि मैं ऐसा नहीं करता, क्योंकि मैं कहता हूं 100 प्रतिशत सैचुरेशन। कल्पना कीजिए कि एक गांव में सात सौ लोग रहते हैं और किसी योजना के सौ लाभार्थी हैं, तो उन्हें यह मिलना चाहिए। बिना किसी जातिगत भेदभाव के। हां, यह हो सकता है कि किसी को सोमवार को या किसी को बुधवार को यह मिल जाये। किसी को जनवरी में मिलेगा, किसी को जुलाई में मिलेगा, लेकिन सबको मिलना चाहिए, इसलिए शासन-प्रशासन में कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। आप पूरी बहस देखिए, हमने अपनी तरफ से कहीं नहीं कहा कि हिंदू मुस्लिम क्या है। हम लोगों को उनका घोषणा पत्र समझा रहे हैं। अब हमें इसमें कोई झिझक नहीं है। अगर हम किसी मुसलमान को मुसलमान कहेंगे तो क्या पता हम पर ही ठप्पा लग जाए। मैं मुसलमानों को समझा रहा हूं कि 75 साल से वे आपको बेवकूफ बना रहे हैं, और समझदार मुसलमानों से कहता हूं, समझो भाई, तुम्हें क्या मिला? खैर, उन्होंने धर्म के आधार पर देश पर कब्ज़ा कर लिया। क्या उससे देश चलेगा? क्या उन्हें प्रशासक नहीं चाहिए? क्या उन्हें डॉक्टर नहीं चाहिए? उन्हें कोई इंजीनियर नहीं चाहिए?

अंजना ओम कश्यप: वे आपको सुन रहे हैं, भाजपा को वोट दे रहे हैं?

पीएम मोदी: वोट के लिए काम करने की आदत देश से खत्म होनी चाहिए। क्या आप सब कुछ वोट के लिए करोगे, देश के लिए नहीं करेंगे? मैं सत्ता के लिए कुछ करने के खिलाफ हूं, जो भी करूंगा देश के लिए करूंगा। वोट तो बाय प्रोडक्ट है, वोट के लिए देश को नीचा नहीं दिखा सकता और मुझे ऐसी सत्ता नहीं चाहिए जो मेरे देश को बर्बाद कर दे। मुझे ऐसी पावर स्वीकार नहीं।

 

राहुल कंवल: तो आपने कहा कि आप कभी हिंदू मुस्लिम नहीं करेंगे ?

पीएम मोदी: मैंने कभी हिंदू-मुस्लिम नहीं किया और न ही करूंगा। लेकिन अगर मैं कहता हूं कि तीन तलाक गलत है तो मैं मुस्लिम विरोधी हूं! अगर आप मुझ पर ऐसा लेबल लगाते हैं तो यह आपकी मजबूरी है, मेरी नहीं।

 

श्वेता सिंह: जब अनुच्छेद 370 हटाया गया था, तब कश्मीर को उसी तरह से लेबल करने की कोशिश की गई थी। मोदीजी, मैंने 2014 से पहले और उसके बाद भी कश्मीर को कवर किया है। और न केवल एक शहर और डाउनटाउन बल्कि सीमा तक भी, जहां लोगों को लगा कि वे शामिल हो रहे हैं, वे मुख्यधारा में शामिल हो रहे हैं, फिर अनुच्छेद 370 हटा। तब से कोई पत्थरबाजी नहीं हुई है। कोई हड़ताल नहीं हुई। इस बार श्रीनगर में कितनी शानदार वोटिंग हुई, लेकिन एक बहुत बड़ा समूह कहता है कि बताइए, उन्होंने हमारी राज्य का दर्जा छीन लिया है। आप जम्मू-कश्मीर के लोगों से कुछ कहना चाहेंगे?

पीएम मोदी: इस पूरे चुनाव में मेरे लिए संतुष्टि के पल कौन से हैं? मेरे लिए संतुष्टि का क्षण श्रीनगर का मतदान है क्योंकि इसने इस बात पर मुहर लगा दी है।' मेरी नीतियां सही हैं। मैं भेदभाव नहीं करता। मेरी सरकार धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करती। जहां तक राज्य के दर्जे का सवाल है, हमने संसद में वादा किया है और हम उसके लिए प्रतिबद्ध हैं। हां, हम सफल होना चाहते हैं। राजनीतिक सत्ता में नहीं, स्थितियों में। और पहले हमें कैसी गलियां दी जाती थीं। आपने इंटरनेट बंद कर दिया, हम सभी मीडिया के पास जाते थे। आप लोग बैठकों में मिलते थे, यह किस तरह का लोकतंत्र है! हमें गालियां दी जाती थीं, लेकिन मैंने कश्मीर के लिए अच्छा किया है। मैं दूर की सोच सकता था। आप लोग 24 घंटे चैनल देखते रहते थे। मैं देश का ख्याल रखता था और इसलिए इंटरनेट पर गालियां सहने के बाद भी, इंटरनेट बंद करके, मैं युवाओं को गलत रास्ते से बचाने में सफल रहा। दूसरी बात, अब दस साल का समय लीजिए, सोचिए, 2004 से 2014 तक कितनी माताओं ने अपने बच्चों को खोया होगा। 2014 से 2024 तक कितनी माताओं के बेटे बचाए गए। जीवन में इससे ज्यादा संतोषजनक और क्या हो सकता है? और इसलिए राज्य का दर्जा भी हमारी प्रतिबद्धता है। हम सफलता के लिए जो भी तरीका संभव होगा, अपनाएंगे। मैं गेहूं की फसल उगाना चाहता हूं, लेकिन अगर मैं इसे सही मौसम में करूंगा, तो मुझे गेहूं मिलेगा। अगर मैं इसे सही समय पर नहीं करूंगा, तो मेरा बीज भी बर्बाद हो जाएगा।



राहुल कंवल: मेरे पिता सेना में थे। बचपन से हम हर गर्मी और सर्दी की छुट्टियों में कश्मीर जाते रहे हैं। इस बार जब मैं चुनाव कवर करने गया, तो मैंने देखा कि बारामूला और अनंतनाग जैसे स्थानों पर प्रचार हो रहा था। लोग लोकतंत्र के उत्सव में शामिल हो रहे थे, जबकि पहले जब कोई सेना का वाहन गुजरता था, तो लोग ऊपर देखते थे ताकि खिड़की से गोलियां न चलें। वहां नेता खुले में प्रचार कर रहे हैं। लाल चौक रात 9-10 बजे तक खुला रहता है। दुकानें खुली हैं, खरीदारी हो रही है। कश्मीर के लिए आगे क्या है?

पीएम मोदी: पहले तो मीडिया को इसे स्वीकार करना चाहिए। जब मैं आपके सामने बैठा हूं, तो मैं यह आपको नहीं कह रहा हूं। मैं यह आपकी पूरी कम्युनिटी को कहना चाहता हूं। कुछ दिन पहले मेरा एक कार्यक्रम था। जम्मू-कश्मीर में शायद चालीस साल बाद इतनी बड़ी रैली हुई थी। मुद्दा क्या बना दिया गया कि उन्होंने सरकारी अधिकारियों को लाकर इसे बड़ा बना दिया। आप देश के भले के लिए काम करना चाहते हैं या नहीं? अब उनके मुंह बंद हो जाएंगे जब कल कोई चालीस प्रतिशत मतदान देखेगा और वे कहेंगे, साहब, मेरी इच्छा है कि चुनाव स्थिर हों। मैं वहां जाकर चुनाव नहीं देख रहा था। श्रीनगर में उत्सव का माहौल था, लोग चाय परोस रहे थे। लोग तालियां बजा रहे थे। लोग गाने गा रहे थे, यानी, यह मेरे लिए एक खास दिन था।



राहुल कंवल: प्रधानमंत्री जी, आप हमेशा कहते हैं कि आप सिख समुदाय के बहुत करीब हैं। एक तस्वीर है जिसमें आप स्वर्ण मंदिर में बैठे हुए हैं। लेकिन यह भी सच है कि पंजाब में आपकी लोकप्रियता देश के बाकी हिस्सों की तुलना में कम है और सिख समुदाय के कई लोग आपको संदेह की नजर से देखते हैं। हाल ही में आप कानपुर गए, आप पटना गए, वहां आपने गुरुद्वारे में सिर झुकाया। क्या आपको लगता है कि आपके प्रयासों, आपकी सोच, आपके इरादों और जिस तरह से वह समुदाय आपको देखता है, उसके बीच दूरी और अंतर है? और आप इस अंतर को पाटने के लिए सफलता कैसे पाते हैं?

पीएम मोदी: मुझे नहीं पता कि आपके पास इसके बारे में कौनसी सटीक जानकारी है। यदि आप चुनाव के दृष्टिकोण से इसे देखें, तो मेरे पास कोई उत्तर नहीं है। यदि आपके पास कोई पंजाबी चैनल है या पंजाबी लोग इसे विश्लेषण करें, तो यह बेहतर होगा। तो चलो देखते हैं कि इस देश के सिख समुदाय के मौलिक मुद्दे क्या रहे हैं। और कौन सी सरकार ने उन मुद्दों का समाधान किया है और कैसे? और फिर उस सूची को निकालें और आप मुझे सौ में सौ अंक देंगे। अब यह संभव है कि मैं उन तक पहुंच नहीं पाया। मैंने पंजाब में काम किया है। मैंने पंजाब में सालों तक रहा है। और आपातकाल के दौरान, मैं सिख के रूप में छुपा रहता था। मैं भूमिगत था इसलिए मैं एक सरदार के रूप में रहता था और मुझे आराम था। मैं यहां दिल्ली में रहता था, फिर भी कभी-कभी मैं लंगर खाने जाता था। यह मुफ्त नहीं, यह मेरा भक्ति है। मैं आज भी यह मानता हूं कि सिखों ने देश के लिए बहुत बड़ा योगदान दिया है। आज भी, जहां भी वे होते हैं, यह अफसोस की बात है कि पंजाब में अपराध बहुत फैल गया है, अन्यथा वे एक अनुशासित जीवन के समाज हैं। हमें गर्व होना चाहिए, ऐसा कभी था। क्या वे मुझे स्वीकार करते हैं या नहीं, उसके बारे में मैं क्या कह सकता हूं।



श्वेता सिंह: मैं महिलाओं के विषय पर आना चाहती हूं क्योंकि 26 जनवरी के परेड में कई चीजें की गई थीं। हमने लाइन ऑफ कंट्रोल के समूचे क्षेत्र में महिलाओं के पूरे प्लाटूनों की तैनाती देखी है। आपने अपने कैबिनेट की महिलाओं को बहुत महत्व दिया है संसद में, लेकिन वास्तविकता यह है कि 33 प्रतिशत आरक्षण है जिसका प्रभाव कुछ दिनों बाद दिखाई देगा। एक पुरुष शासन प्रणाली है, तो संसद भी। आप उसे कैसे बदलते हुए देखते हैं? क्या आप महिलाओं को इतनी बड़ी संख्या में वहां आने की संभावना देखते हैं?

पीएम मोदी: सबसे पहले, आपने G20 में मेरे एक काम को देखा होगा। पश्चिमी देशों में भी, लोग इसे एक बहुत बड़ी बात समझ रहे हैं। जब मैं कहता हूं कि यहां, गर्भवती महिलाओं को 26 सप्ताह की छुट्टी होती है। फिर वे मुझे देखते हैं और यह बात खारिज नहीं होती। यहां, यह एक धारणा बना ली गई है कि भारतीय महिलाएं घरेलू हैं। आप भारत के परिवार को देख सकते हैं। आज भी, मैं कहता हूं कि इनमें से साठ प्रतिशत कृषि क्षेत्र में महिलाएं हैं। वे वह करती हैं लेकिन अब हमारे देश की छवि बनी नहीं है। सही चीज लोगों तक पहुंची नहीं है। आज भी, दुनिया में कमर्शियल पायलटों का पंद्रह प्रतिशत हिस्सा भारत की महिला पायलटों से है। अब यह एक रात में नहीं हुआ होगा। इसलिए, कहना कि यह भारतीय महिलाओं के साथ हो रहा है, तो हम उन प्रकार की सोच की शिकार हो गए हैं जो परिवार और व्यवसाय के बारे में बनी है। लेकिन मैं मानता हूँ कि हमें आगे कैसे बढ़ना चाहिए,? सबसे पहले, हमें मनोवैज्ञानिक बाधा को तोड़ने की आवश्यकता है। इजिप्ट के राष्ट्रपति 26 जनवरी को मेरे साथ बैठे थे। राष्ट्रपति ने मुझसे कहा, पश्चिम के देश, महिला सशक्तिकरण के बारे में बात करते हैं, महिला सशक्तिकरण तो मैं यहां देख रहा हूं।

दूसरा, G20 में, मैंने महिलाओं के नेतृत्व में विकास का विषय उठाया। मेरी पार्टी की सभी जनसभाएं महिलाओं द्वारा आयोजित की जा रही हैं। यह मेरी पार्टी का निर्णय है। दूसरा, पहले गांव की महिला स्वयं सहायता समूह (SHG) का क्या काम होता था? पापड़, बड़ी, साबुन, अगरबत्ती बनाना और इसे बेचना। मैंने उन्हें ड्रोन पायलट बना दिया। कुछ ने मुझसे कहा कि उन्होंने कभी साइकिल चलाई नहीं। आज गांव उन्हें ड्रोन पायलट के रूप में जानता है।

जब मैं गुजरात में था, तो मैंने तय किया, सरकार होने का क्या मतलब होता है? पुलिसकर्मी सरकार के पर्याय होते थे। मैं इस सोच को बदलना चाहता था, इसलिए मैंने आंगनबाड़ी और आशा वर्कर्स को बताया कि सरकार उन्हें यूनिफॉर्म प्रदान करेगी। उन्होंने मुझे इसके लिए वोट किया और मुझे इस बारे में बताया। मैंने फैशन डिज़ाइनर को बुलाया। मैंने कहा कि मुझे अच्छे कपड़े चाहिए, एयर होस्टेस से भी बेहतर। यह आंगनबाड़ी वर्कर्स के लिए है, और मैंने इसे किया। फिर मैंने क्या किया। जब भी मुख्यमंत्री या कोई भी मंत्री दौरे पर जाएगा, तो उनको रिसीव करने वाली टीम में आंगनबाड़ी वर्कर्स की उपस्थिति सुनिश्चित की। गांव की स्थिति ऐसी हो गई कि कि अगर गांव के आंगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ता वर्कर्स खड़े हैं, मतलब सरकार खड़ी है। यह मेरा कमिटमेंट है, डेयरी सेक्टर को देख सकते हैं। जब मैं गुजरात में था, तो मैंने तय किया कि दूध का पैसा पुरुषों के पास नहीं जाएगा। महिलाओं का खाता खोला जाएगा, यह उनके खाते में जाएगा और रोजाना दो हजार करोड़ रुपये पहुंचाए गए। दैनिक दो हजार करोड़ रुपये और पैसा महिलाओं के खाते में जाता है। मैंने अभी काशी में एक डेयरी शुरू की है। मैंने कहा कि डेयरी तभी शुरू होगी जब पैसा महिलाओं के खाते में जाएगा। जब मैंने भूकंप घर बनवाए। गुजरात में, सरकार द्वारा बनाए गए घरों में, मैंने कहा कि उन्हें केवल महिलाओं के नाम पर ही दिए जाएंगे, और जब मैं यहाँ आया और चार करोड़ घर बनवाए। मैंने कहा कि पहला घर महिला का होगा। फिर मैंने नियम बनाया कि जब एक बच्चा स्कूल में प्रवेश होता है, तो पिता का नाम लिखा जाता है, मैंने कहा कि मां का भी नाम लिखा जाएगा। मैंने ये बदलाव किए हैं। आज मां का नाम भी है। स्कूल में, बच्चे के साथ केवल पिता का नाम नहीं है। इसलिए आपकी सोच आपके लिए काम करती है। आपको इस शक्ति को नीचे से लानी होगी। जब शक्ति नीचे से आती है, तब आपको ऊपर मिलती है। मैंने एक चीज की, जो सुनने में बहुत दिलचस्प है। लेकिन मैं मीडिया को इसे दिखा नहीं सकता।

मैं गुजरात नए मुख्यमंत्री के रूप में गया। तो पंचायत चुनाव हुए। लगभग पंद्रह सौ पंचायतों के लिए चुनाव हुए। मैंने बहुत ध्यान नहीं दिया क्योंकि भूकंप के काम में व्यस्त था। मुख्यमंत्री बनने के बाद, एक दिन मुझे मौका मिला कि खेड़ा जिले के गांव की सभी पंचायत के सदस्य मुझसे मिलना चाहते हैं। मैंने कहा कि उन्हें कोई काम होगा तो उन्हें पंचायत मंत्री से मिलवा दीजिए। मुझे बताया गया कि सभी सदस्य महिलाएं हैं। गांव ने तय किया कि इस बार प्रधान एक महिला है, तो मेंबर भी महिलाएं ही होंगी। तो वे महिलाएँ मिलना चाहती हैं, तो मैं सहमत हो गया। मैंने कहा उन्हें बुलाओ, डाकोर के पास एक गांव है।

ग्यारह महिलाओं का एक दल आया और जो प्रधान बनी थीं, उन्होंने शायद आठवीं क्लास तक ही पढ़ाई की होगी। बाकी महिलाएं अनपढ़ थीं। मैंने उनसे पूछा कि वो किस काम के लिए आई हैं। उन्होंने जवाब दिया, "नहीं, हम सब महिलाएं आपको जीतने पर बधाई देने आई हैं। क्या कोई और काम भी था?" मैंने कहा, "अगर आपको पांच साल मिलते हैं तो आप क्या करेंगी? आपके मन में क्या इच्छा है?" प्रधान ने जो बताया, वो दुनिया का कोई और अर्थशास्त्री नहीं बता सकता था। प्रधान ने मुझसे कहा कि सारंभ गांव छोटा है और उनकी इच्छा है कि पांच साल में उनके गांव में एक भी गरीब न बचे। ये जवाब बताता है कि उन्हें अर्थव्यवस्था की अच्छी समझ है। उनसे मुझे ये विचार आया और फिर जब चुनाव आए तो मैंने भी वादा किया कि हम गांव को समृद्ध बनाएंगे। मेरी इस सोच के पीछे एक कारण ये भी था कि विनोबा भावे के एक सहयोगी डॉक्टर द्वारिका जोशी मेरे ही गांव के थे। डॉक्टर जोशी और उनकी पत्नी रतन बेन, दोनों समाजसेवी थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन विनोबा जी के साथ समाज सेवा में लगा दिया। बचपन में मैंने शायद उनका या द्वारिका जोशी जी का कोई भाषण सुना होगा, मुझे ठीक से याद नहीं है।

मुझे याद नहीं था, लेकिन मेरे बचपन में मैंने सुना था कि हर बार जब लोकसभा चुनाव होते हैं, तो कोई भी आपसी मनमुटाव नहीं होता। ऐसा ही विधानसभा चुनाव में होता है। पर जब गांव में चुनाव होते हैं, तो गांव बंट जाता है। किसी बेटी को भी ससुराल से वापस भेज दिया गया क्योंकि उसने किसी को वोट नहीं दिया। तब मैंने एक स्कीम बनाई ‘समरस गांव’। कि जिस गांव में आम सहमति से चुनाव होगा, मैं उस गांव को विकास के लिए पांच लाख रुपये दूंगा, क्योंकि इसमें मेरा लॉजिस्टिक से जुड़ा सारा खर्च शामिल था। फिर मैंने सोचा, जिस गांव में अगर सारी महिलाएं चुनी गईं तो, मैं सात लाख दूंगा। तब मैंने कहा कि अगर गांव में सभी महिलाएं होंगी तो वहां सरकारी अधिकारी भी महिलाएं होंगी। हो सके तो पुलिस भी। मैं महिलाओं को वहां रखूंगा और उन्हें भुगतान भी करूंगा और यह तहसील स्तर तक करूंगा। इसके बाद 45 फीसदी गांवों में आम सहमति बनने लगी। और ये सिलसिला अब भी जारी है।

ऐसे कई गांव हैं जहां जब महिला प्रधान होती है तो गांव तय करता है कि सभी महिलाएं होनी चाहिए और मैं आपको बता दूं कि वे इतना अच्छा काम करती हैं। छोटे-छोटे काम तो करने ही होंगे।

मुझे याद है जिस दिन ओबामा आये थे, राष्ट्रपति भवन में सभी महिलाएं उनके सम्मान में खड़ी थीं, उनका नेतृत्व करने वाली भी एक महिला थीं। ओबामा ने कहा कि यहां तो सभी महिलाएं हैं। मैंने कहा, हां। मुझे पता है कि मैं अपने देश को सही जगह पर कैसे प्रदर्शित कर सकता हूं।

दरअसल जब मैं विकसित भारत की बात करता हूं तो मुझे विकसित भारत की दो प्रमुख बुनियाद दिखती हैं - एक है पश्चिमी भारत जहां अधिक समृद्धि है। लेकिन मेरे पूर्वी उत्तर प्रदेश, मेरे बिहार, झारखंड, बंगाल और ओडिशा में अपेक्षाकृत अधिक गरीबी है। अगर मैं इसे ताकत के मामले में पश्चिम के बराबर ले जाऊं, यानी गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, पंजाब, ये सभी समृद्ध हैं। यह मेरा स्वभाव है और दूसरा, मेरी महिलाओं की शक्ति है।' ये दो ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें मैं काफी संभावनाएं देखता हूं और मुझे पूरा विश्वास है कि इससे मुझे 2047 में सफलता मिलेगी और यही मुझे परिणाम देगा। और मैं इसे प्राप्त करूंगा।

 

अंजना ओम कश्यप: अगला सवाल आपसे क्योंकि पहले माना जाता था कि घर का पुरुष जो कहेगा महिलाएं उसी को वोट देंगी। लेकिन अब महिलाएं अपने दिमाग का इस्तेमाल करती हैं और मैं बशीरहाट, बारामती, गढ़वाल भी गई और परिवार इस पर भी लड़ रहे हैं क्योंकि महिलाएं कहीं और वोट कर रही हैं और पति कहीं और वोट दे रहे हैं। सभी राजनीतिक दल महिलाओं को अपनी ओर लाने की कोशिश कर रहे हैं। आप इसे कैसे समझते हैं?

पीएम मोदी: ये महिलाओं का मुद्दा नहीं है। क्या राजनीतिक दलों को चुनाव जीतने के लिए अपना खजाना खाली कर देना चाहिए? क्या मुझे खजाना लूटने का अधिकार है? मुझे सशक्तीकरण के लिए योजनाएं बनाने का अधिकार है, लेकिन क्या मैं चुनाव के लिए पैसा बर्बाद करूंगा? क्या यह उचित है? और हमारे पास दुनिया के उन देशों के उदाहरण हैं जहां ऐसा हुआ है। अब देखिये क्या होता है। आप एक शहर में मेट्रो बनाते हैं। और उसी शहर में चुनाव जीतने के लिए आप कहते हैं कि महिलाओं को बस में मुफ्त यात्रा कराएंगे। इसका मतलब है कि आपके मेट्रो यात्रियों में से पचास प्रतिशत आपसे छीन लिए गए हैं। तो मेट्रो जरूरी नहीं रह जाएगी। अब भविष्य में मेट्रो बनेगी कि नहीं बनेगी, चिंता इस बात की है। इस समझ के साथ इस चिंता पर कोई चर्चा नहीं करता। मैं ऐसा नहीं कर रहा हूं। मैं इस बारे में बात करूंगा कि इसकी वजह से क्या हुआ। आपने ट्रैफिक और पर्यावरण के साथ भी खिलवाड़ किया है। आपने तो फ्री कर दिया और यहां मेट्रो भी खाली कर दी। अब मेट्रो कैसे आगे बढ़ेगी? देश कैसे आगे बढ़ेगा?

 

राहुल कंवल: अगर हम एक मिनट के लिए राजनीति से बाहर निकलें और वैश्विक व्यवस्था के बारे में बात करें, तो दुनिया की नजर भारत और उसके चुनावों पर है। इस समय रूस और ईरान के बीच लड़ाई चल रही है। इसका अंत नहीं हो रहा है। इजराइल और हमास के बीच लड़ाई जारी है। ईरान के साथ तनाव बढ़ता जा रहा है। पिछले पांच वर्षों में भारत की व्यापक राष्ट्रीय शक्ति बहुत बढ़ी है। भारत ग्यारहवें नंबर की अर्थव्यवस्था से पांचवें नंबर पर आ गया है। आपके अनुसार अगले पांच वर्षों में वैश्विक स्तर पर भारत की भूमिका क्या होगी?

पीएम मोदी: हम चीजों को इस तरह से क्यों देखते हैं? मूल बात क्या है? अब तक हम क्या सोचते थे, हमारा नैरेटिव क्या था? हम इससे बहुत दूर हैं, हम उससे बहुत दूर हैं। यानी हमें बराबर दूरी बनाए रखते हुए देखना कूटनीतिक भाषा में इस्तेमाल होता था। मैंने कहा कुछ नहीं करना है। मेरी भाषा बताती है कि हम कितने करीब हैं। तो दुनिया इस होड़ में है कि दूर रहने से पहले कैसे करीब आया जाए। जब बदला तो हर कोई करीब आने की होड़ में लग गया। अब देखिये, कल ईरान में हमारा एक बहुत बड़ा निर्णय हुआ। यह भारत की हेडलाइन है। यह पूरे टीवी मीडिया पर 24 घंटे छाया रहा। और मेरे मंत्री कल बाहर थे। वो ईरान में थे, चाबहार बंदरगाह का मेरा फाइनल एग्रीमेंट हो गया और ये बहुत बड़ा काम हुआ है। लेकिन अब अगर इन सब झगड़ों के बीच चाबहार समझौते पर हस्ताक्षर हो गए तो मुझे नहीं पता कि यहां क्या होगा। दूसरे, हम किसी पार्टी या दूसरे या तीसरे पक्ष के आधार पर अपने फैसले नहीं लेंगे। हम अपने लिए निर्णय लेंगे। मुझे बुरा लगेगा तो क्या, तुम्हें अच्छा नहीं लगेगा तो क्या? मैं सबसे बात करूंगा। अगर राष्ट्रपति पुतिन मेरी बहुत तारीफ करते हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि मैं राष्ट्रपति पुतिन से मिलकर उन्हें नहीं बता सकता कि यह युद्ध का समय नहीं है, तो वह भी मेरा सम्मान करेंगे। मेरा कम से कम एक दोस्त तो है जो मुझसे साफ़ कहता है कि ये सही है, ये ग़लत है। यूक्रेन को भी मुझ पर, भारत पर उतना ही भरोसा है। कि भारत सही बात कहेगा और हमने तो आज तक वही कहा जो सही है।

गाजा में रमज़ान का महीना था, इसलिए मैंने अपना विशेष दूत इजराइल भेजा और कहा कि प्रधानमंत्री को बताएं और समझाएं कि कम से कम रमज़ान के दौरान गाजा में बमबारी न करें। और उन्होंने इसका पालन करने का हरसंभव प्रयास किया। अंत में दो-तीन दिन तक झगड़ा हुआ। लेकिन मैंने एक विशेष दूत भेजा था।

आप मुसलमानों के मुद्दे पर मुझ पर दबाव डालते रहते हैं, लेकिन मैंने इसे सार्वजनिक नहीं किया। कुछ अन्य देशों ने भी कोशिश की है और उन्हें भी शायद नतीजे मिले होंगे। मैंने भी कोशिश की है। मैं इज़राइल गया था, लेकिन उससे पहले फैशन क्या था? इज़राइल जाओ, फिलिस्तीन जाओ। धर्मनिरपेक्षता अपनाओ और वापस आओ। लेकिन मैंने कहा कि कुछ नहीं होगा. मैं इज़राइल गया था, मैं वापस आऊंगा। अगर मैं इज़राइल गया तो मुझे ढोंग करने की ज़रूरत नहीं है। जब मैं फिलिस्तीन गया, तो यह एक स्वतंत्र यात्रा होगी। मैं पहले नहीं गया था, इस बार जब मैं गया तो मुझे यहां से उन जगहों पर ले जाया जाना था जहां हेलीकॉप्टर मुझे आगे ले जा सकें, और फिर जॉर्डन के राष्ट्रपति को पता चला कि मैं जॉर्डन नहीं जा रहा हूं। उन्होंने कहा, "मोदी जी, आप यूं नहीं जा सकते। आप मेरे मेहमान हैं और मेरे हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल करेंगे।" मैं उनके घर रात के खाने पर गया था, लेकिन हेलीकॉप्टर जॉर्डन का था, डेस्टिनेशन फिलिस्तीन था और मुझे इजरायली विमान द्वारा एस्कॉर्ट किया गया था। आप देखिए, दुनिया में ये तीनों अलग-अलग हैं लेकिन मोदी के लिए आसमान में सब एक साथ हैं। मेरा मानना है कि ये सब तभी होता है जब आपके इरादे नेक हों। अगर मुझे अपने देश के लिए रूस से तेल चाहिए तो मैं ले लूंगा और मैं इसे छिपाऊंगा भी नहीं। ये छुपकर नहीं किया जाता, मैं अमेरिका को बोलकर बताता हूं, मेरे देश को सस्ती दरों पर पेट्रोल चाहिए, इसलिए मैं इसे छुपाता नहीं हूं और अपने समय में अपने देश के नियमों का पालन करता हूं।

 

सुधीर चौधरी: सर, आप न सिर्फ भारत के सबसे लोकप्रिय नेता हैं, बल्कि अब आप दुनिया के भी सबसे लोकप्रिय नेता हैं। और शीर्ष पर बने रहने का अपना दबाव होता है। आप परीक्षा पे चर्चा करते हैं तो बच्चों को तनाव दूर रखने के तरीके बताते हैं। क्या आपको कभी वह दबाव महसूस होता है?

पीएम मोदी: होता यह है कि आपकी समस्या यह है कि आप उस दुनिया में रह चुके हैं। आप बड़े हो गए हैं इसलिए आपके पास उस दुनिया की हर चीज़ के उदाहरण हैं। मैं उस दुनिया का इंसान नहीं हूं, आप मुझे अलग केस समझें। व्यावहारिक जीवन में आप जो भी चीजें देखते हैं, मैं उससे ऊपर हूं। और इसलिए मेरे जीवन में कुछ भी नहीं है, चाहे मोदी यहां बैठा हो, लीडर बना हो। मैं शायद साधन हूं। और इसलिए मैं एक विरक्त इंसान हूं। जिसका इस सबसे कोई लेना-देना नहीं है।

 

राहुल कंवल: प्रधानमंत्री जी, ‘आज तक’ पर जो भी लोग यह इंटरव्यू देख रहे हैं वे मेरी बात से सहमत होंगे। यह बहुत दमदार इंटरव्यू था। मतलब जितने कठिन सवाल आपसे पूछे जा सकते थे वो आपसे पूछ लिए गए!

पीएम मोदी: मुझे आप सभी से शिकायत है, ये ‘कठिन’ शब्द आपका नहीं हैं। एक इकोसिस्टम ने आपको डरा कर रख हुआ है और आप बुजदिलों की तरह बैठे हो। आप उनका एजेंडा सेट करने का सवाल लेकर घूम रहे हैं। आपको बुरा लग सकता है अगर मैं सच बताऊं कि आप सब दबाव में जी रहे हैं और मैं मानता हूं कि जब भी मैं कहीं जाता हूं तो कम से कम पत्रकारों से उनका हालचाल आदि तो पूछता ही हूं। मैं गंभीर प्रकृति की बातचीत में शामिल नहीं होता। लेकिन उनके दिल में कुछ और ही छिपा है। उनके अनुभव कुछ और हैं। लेकिन इस इकोसिस्टम ने कुछ सवाल जवाब इस तरह से खड़े कर दिए हैं कि जब तक आप उनसे नहीं पूछेंगे तब तक आप पत्रकार या तटस्थ नहीं हैं। मुझे भी आपको इस समस्या से बाहर निकालना है। और मैं इस पर काम कर रहा हूं।

 

राहुल कंवल: आप गुजरात के मुख्यमंत्री थे। कई बार हमें आपका इंटरव्यू मिला। अब आप प्रधानमंत्री बन गये हैं तो आप प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करते और हमें आपका इंटरव्यू लेने का बहुत मौका मिलता है। लोग अब पूछते हैं कि जब मोदीजी सभी सवालों का जवाब दे सकते हैं तो वह प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों नहीं करते।

पीएम मोदी: पहली बात तो ये कि इस चुनाव में अगर सबसे ज्यादा लोग मुझे देखेंगे तो वो मुझे आजतक पर देखेंगे। दूसरी बात यह है कि यहां सबसे ज्यादा मीडिया का इस्तेमाल हुआ है और एक कल्चर का निर्माण हुआ है कि, कुछ मत करो, बस उन्हें संभालो और अपनी बात बताओ, देश में यही चलेगा। मैं उस रास्ते पर नहीं जाना चाहता।

मुझे कड़ी मेहनत करनी है। मैं गरीब के घर जाना चाहता हूं। मैं विज्ञान भवन में रिबन भी काट सकता हूं और फोटो भी खिंचवा सकता हूं। मैं ऐसा नहीं करता। मैं झारखंड के एक छोटे से जिले में जाता हूं और एक छोटी सी योजना के लिए काम करता हूंअ मैं एक नई कार्य संस्कृति लेकर आया हूं। यदि वह संस्कृति सही लगती है तो मीडिया को उसे सही ढंग से प्रस्तुत करना चाहिए, यदि नहीं तो नहीं। दूसरी बात यह है कि मैं संसद के प्रति जवाबदेह हूं। मैं सभी सवालों का जवाब देने के लिए तैयार हूं।

तीसरी बात मैं कहना चाहता हूं कि आज मीडिया वह नहीं है जो पहले था क्योंकि पहले मैं आजतक से बात करता था लेकिन अब दर्शकों को पता है कि मैं किससे बात कर रहा हूं, राहुल? राहुल ने परसों ये ट्वीट किया। मतलब ये मोदी के नाम पर लिखते हैं। मतलब वो एक ही चीज़ के बारे में बात करेंगे। इसलिए आज मीडिया कोई अलग संगठन नहीं है।

कई अन्य लोगों की तरह आपने भी अपने विचारों से लोगों को अवगत करा दिया है, इसलिए आपके लिए ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं हुई है। पहले मीडिया फेसलैस था, उसका कोई चेहरा नहीं था। मीडिया में कौन लिखता है, लेखक के क्या विचार हैं? लोग इसके विश्लेषण पर विश्वास करते थे, लेकिन आज स्थिति वैसी नहीं है। तीसरी बात यह है कि पहले कम्युनिकेशन का यही एकमात्र स्रोत था, मीडिया के बिना आपका काम नहीं चल सकता था। आज यदि आप जनता से बात करना चाहते हैं तो कम्युनिकेशन दोतरफा है। आज जनता बिना मीडिया के भी अपनी आवाज पहुंचा सकती है। यहां तक कि जिस व्यक्ति को जवाब देना होता है वह बिना मीडिया के भी अपनी बात अच्छे से व्यक्त कर सकता है। तीसरा, जब मैं गुजरात में था तो मेरी पब्लिक मीटिंग्स होती थीं। तो मैं पूछता था कि आपने ऐसा कार्यक्रम क्यों बनाया है। कोई काले झंडे दिखाई नहीं दे रहे हैं। अरे, कम से कम दो-तीन लोग काले झंडों के साथ रखो, फिर कल उसकी खबर प्रकाशित हो जाएगी। मोदी जी यहां आए थे। अगर दस लोग काले झंडे दिखाएं, तो कम से कम यह पता चलेगा कि मोदी जी आए थे। मेरे कार्यक्रमों को काले झंडों के बिना कौन पूछेगा? मैंने दस साल तक ऐसे भाषण दिए?

एक दिन वहां एक गांव के लोग मुझसे मिलने आए। उन्होंने मुझे धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि हमारे गांव में अब 24 घंटे बिजली है। तब मेरे घर पर मंगलवार को, कोई भी आकर मुझसे मिल सकता था। मैंने कहा कि 24 घंटे बिजली होना संभव नहीं है क्योंकि मुझे कहीं भी समाचार पढ़ा नहीं। मैंने कहा कि तुम झूठ बोल रहे हो, 24 घंटे बिजली नहीं आ सकती। न रेडियो पर आया और न ही टीवी पर, न ही अखबार में। नहीं, उसने कहा सर, रेडियो और अखबार वाले आपको नहीं बताएंगे। 24 घंटे बिजली आ रही है। तो मैंने कहा चलो मिठाई खाते हैं।



अंजना ओम कश्यप: आप अपनी विरासत कैसे छोड़ना चाहते हैं?

पीएम मोदी: मुझे इतिहास में कोई याद करे, मैं इसके लिए काम करता ही नहीं हूं। अगर कोई याद करे तो मेरे कश्मीर में चालीस साल बाद हुए 40% वोटिंग वाले लोकतंत्र को याद करे। लोगों को लोकतंत्र का उत्सव मनाना चाहिए। कोई याद करे तो G20 में भारत की भूमिका को याद करे। याद करे कि मेरा भारत दुनिया की तीसरी अर्थव्यवस्था बनने जा रहा है। मोदी का क्या है, मेरे जैसे तो सैकड़ों लोग आएंगे-जाएंगे।

 

अंजना ओम कश्यप: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का कहना है कि वह धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करते, लेकिन वह धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होने देंगे। और जब तुष्टीकरण की राजनीति होगी तो वह इसका विरोध करने से नहीं हिचकिचाएंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद, आपने अपने व्यस्त कार्यक्रम के बीच हमें यह साक्षात्कार देने के लिए समय निकाला।

पीएम मोदी: बहुत-बहुत धन्यवाद