साझा करें
 
Comments

ड़ी में आग की दुर्घटना से नुकसान होने के बावजूद प्लान्ट का नवनिर्माण जापान की कंपनी ने रिकार्ड समय में कर दिखाया

संकट में जुझारू बनकर पार उतरने का सामर्थ्य गुजरात ने दिखलाया है - मुख्यमंत्री

गुजरात की ग्लोबल समिट की अप्रतिम सफलता से चारों दिशाओं में से गुजरात पर अभिनंदन की वर्षा

  

मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी नेउत्तरगुजरात केकड़ीमें जापान कीकंपनीमे. हिताचीकॉर्पोरेशनके प्रीमियर एयर कंडीशन प्लान्ट की नवनिर्मित औद्योगि कमैन्युफेक्चरिंगइकाईका उद्घाटन करते हुए कहा कि संकटों में से पार उतरने की भीतर की ताकत ही सफलताकी चाबी है और गुजरात ने यह साबित कर दिखाया है। संकटमें जुझारू बनकर सफलहोने का सामर्थ्य दिखलाने वाले ही प्रगतिके अखंड पुरुषार्थी हैं। इसका उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि गुजरात की छह करोड़जनतामें भीतर की शक्ति और इच्छाशक्ति में हर तरह के संकट से पार उतरने का साहस है।

जापान की अंतरराष्ट्रीयकंपनी हिताचीकॉर्पोरेशनने वर्ष २००९ की वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट में समझौता करार किया था और सिर्फ सात महीने में ही जापान के बाहरकंपनी का एयर कंडीशन मैन्युफेक्चरिंग प्लान्टकार्यरत किया था। लेकिन जुलाई, २०१२ में आगसे हुईदुर्घटनाके कारण प्लान्ट को काफीनुकसान पहुंचा था। इस प्लान्ट को फिर से बनाने की स्थितिपैदा हुई थी। गुजरात सरकार के सहयोगी अभिगमके कारण यह नवसर्जित प्लान्ट यूनिट सिर्फ १७५ दिन में ही फिर से कार्यरत हो गया। हिताची कंपनीने इलेक्ट्रॉनिक होम अप्लायंसीस के मैन्युफेक्चरिंग सेक्टरमें गणमान्य प्रतिष्ठा हासिल की है और स्पर्धात्मक बाजारमें अपने उत्पादन-गुणवत्ता के लिए कोई समाधान नहीं किया है। इस पर संतोष व्यक्तकरते हुए श्री मोदी ने कहा कि आगकी दुर्घटनासे भस्म हुई इस कंपनी के कड़ीप्लान्ट दुर्घटना में जीवनकी रक्षा हो सकी। कोई भी देश, राज्य,समाजया कंपनी जब किसी संकटमें से जुझारू बनकर सफलतासे बाहर आती है तभी उसकी सफलता की भीतरी शक्तिकापरिचयमिलता है।वर्ष२००१ के भीषण भूकंपमें तबाह हुआ गुजरात फिर से खड़ाहो पाएगा या नहीं यह सवाल बन गया था। लेकिन गुजरात तेजगतिसे खड़ा हुआ और पहलेभी ज्यादा शक्तिशाली बनकर बाहर आया। कच्छ के भूकंप की दुर्घटना और नये कच्छ कानिर्माणकरके गुजरात ने मात्र तीन वर्ष में ही भीषण भूकंप कीआपदासे उबरकर तेज गति सेप्रगतिकेपथपर दौड़ना शुरू कर दिया था।

हिताचीकंपनीके पुनःनिर्मित इस प्लान्ट की सफलतागाथा से भी कुछ सीखने कीप्रेरणामिलती है। श्री मोदी ने कहा कि सिर्फ १७५ दिन में ही प्लान्ट फिर से कार्यरत कर दिया गया, इसके लिए कंपनी के सभी सहयोगी अभिनंदनके अधिकारी हैं। वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट की अप्रतिम सफलताके लिए चारोंदिशासे गुजरात पर अभिनंदनकी वर्षा हो रही है। इसका गौरवपूर्ण उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि गुजरात की नई पीढ़ी के लिए एक ऐसे विकासकी बुनियाद खड़ी हुई है जो हिन्दुस्तान के लिए भी गर्व का विषय है।

हिन्दुस्तान में वैश्विकप्रभाववाली ऐसी घटनापहले कभी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि जापान और गुजरात जिस तरह विकास मेंकदमसे कदम मिलाकर आगे बढ़ रहे हैं उसमें जापान के राजदूतका योगदान प्रशंसनीयरहा है। जो आने वालेसमयमें संबंधों केसेतुकी नईमिसालस्थापितकरेगा। उल्लेखनीय है कि हिताची की इसइकाईकासमावेशभारत की सबसे बड़ी एसी उत्पादन इकाई में होता है।वार्षिक ६,००,००० यूनिट की उत्पादन क्षमतावाली यह कंपनी चोटी की उत्पादन कंपनियों में से एक है। इस मौके पर हिताची अप्लायंसीस जापान के प्रेसीडेंट और सीईओ हारूकी यायामोटो,कंपनीके एमडी मोटुमोरीमोटो ने २०१३ के आगामी सीजन में बाजारमें आने वाले उनके एसी, रेफ्रीजरेटर, चिलर्स आदिकी जानकारीदी। उन्होंने कंपनी की द्वितीयइकाईके अल्पकालमें पुनःनिर्माण मेंसहयोगके लिए सभी का आभारजताया। मुख्यमंत्री की कन्या केळवणी निधि के लिए पन्द्रह लाख का चेक हिताची के एमडी ने अर्पित किया।अमित दोशी ने आगंतुकों का आभार जताया।

प्रधानमंत्री मोदी के साथ परीक्षा पे चर्चा
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
Trade and beyond: a new impetus to the EU-India Partnership

Media Coverage

Trade and beyond: a new impetus to the EU-India Partnership
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM condoles the demise of Yoga Guru Swami Adhyatmananda ji
May 08, 2021
साझा करें
 
Comments

The Prime Minister, Shri Narendra Modi has expressed deep grief over the demise of Yoga Guru Swami Adhyatmananda ji.
In a tweet, Prime Minister paid tribute to him and recalled his simple way of explaining deep spiritual subjects. The Prime Minister remembered
How along with yoga education, Swami ji also served the society through many constructive activities run by Ahmedabad's Sivananda Ashram.