साझा करें
 
Comments

पेटलाद, नडियाद, गोमतीपुर और बेहरामपुरा में जनसभाएँ संबोधित करते हुए श्री मोदी

गुजरात सरदार पटेल के बताए हुए पदचिन्हों पर चल रहा है इसिलिए दिल्ली जैसी दुर्दशा से बचा हुआ है

इस बार के चुनावों में कॉंग्रेस के पास न ही प्रतिनिधि हैं और न ही कोई मुद्दे : मुख्यमंत्री

आज गाँधीनगर में एक सशक्त सरकार है; हम शांति, एकता और भाईचारे के माहौल में जी रहे हैं; हम छः करोड़ गुजरातीयों की बात करते हैं परंतु प्रधानमंत्री ऐसी भाषा का प्रयोग करते हैं जिससे गुजरात की बदनामी होती है : श्री मोदी

श्री राहुल गाँधी, जिन्हें गुजरात के जिल्लों के नाम भी नहीं मालूम, वे विकास के बारे में बात करने के बजाय हमें इतिहास सिखा रहे थे : श्री मोदी

Watch : Shri Modi addresses a gathering in Gheekanta

आपकी पार्टी ने राज भवन को कॉंग्रेस भवन में परिवर्तित कर दिया है; विधान सभा में प्रजातांत्रिक नियमों से दो बार 2/3 बहुमती द्वारा चुनी गई सरकार के पास किए गए बिल आपके राज्यपाल द्वारा हस्ताक्षर नहीं किए जाते हैं; और आप गुजरात विधानसभा की बात करते हैं? पूछ रहे हैं श्री मोदी

श्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार, 11 दिसंबर 2012 को पेटलाद (जिला आणंद), नड़ियाद (जिला खेड़ा) और अहमदाबाद शहर के गोमतीपुर तथा बेहरामपुरा में जनसभाओं को संबोधित किया। श्री मोदी ने ध्यान दिलाते हुए कहा इस बार चुनाव लड़ने के लिए कॉंग्रेस के पास न ही लोग हैं न ही कोई मुद्दे और पहली बार उनके इस्तिहारों में किसी मुख्य कॉंग्रेसी नेता की तस्वीर ही नहीं है! उन्होंने कहा कि गुजरात की प्रजा ही उनका परिवार है और राज्य सरदार पटेल के बताए रास्ते पर अग्रसर है इसिलिए वह दिल्ली जैसी दुर्दशा से बचा हुआ है।

इस बार चुनाव लड़ने के लिए कॉंग्रेस के पास कोई मुद्दे नहीं है इस बात को साबित करता हुआ एक उदाहरण उन्होंने दिया कि दक्षिण गुजरात में सोनिया गाँधी आई और बोली कि कई सालों पहले मेरी सास यहाँ आई थी और आपने उन्हें समर्थन दिया था वैसे ही मुझे भी समर्थन दिजिए। उन्होंने कहा कि सोनिया गाँधी चाहे सिद्धपुर गई हों या डाकोर परंतु कॉंग्रेस के पाप ऐसे हैं कि वे कहीं धुल नहीं सकते।

प्रधानमंत्री के गुजरात दौरे पर भी उन्होंने निराशा व्यक्त की। श्री मोदी ने कहा, “प्रधानमंत्री ने गुजरात को बदनाम करते हुए शब्दों का प्रयोग किया। वे एक अर्थशास्त्री हैं, मैंने सोचा था वे आएँगे और विकास की बातें करेंगे पर उन्होंने ऐसा नहीं किया”, श्री मोदी ने कहा। गुजरात में अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं है प्रधानमंत्री के ऐसे कथन पर मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को उन दिनों की याद दिलाई जब गुजरात में कॉंग्रेस शासन के दौरान अहमदाबाद में अशांति और करफ्यु आम बात हो गई थी और माता-पिता को चिंता रहती थी कि शाम को बच्चे घर लौटकर आएँगे या नहीं।

प्रवर्तमान परिस्थिति के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा, “आज गाँधीनगर में एक सशक्त सरकार है। हम शांति, एकता और भाईचारे के माहौल में जी रहे हैं। हम छः करोड़ गुजरातीयों की बात करते हैं परंतु आप गुजरात की प्रतिष्ठा पर लांछन लगाती भाषा का प्रयोग करते हैं”, उन्होंने पुष्टि की|

गुजरात के विकास पर प्रधानमंत्री के दावे के प्रत्युत्तर में श्री मोदी ने बताया कि केन्द्र सरकार ने ही गुजरात को विकास के लिए सबसे ज्यादा पुरस्कार दिये हैं और अब वे ही जनता को बहका रहे हैं।

गुजरात में महिलाओं की स्थिति पर सोनिया गाँधी द्वारा फैलाई गई मिथ्या का खंडन करते हुए मुख्यमंत्री ने सोनिया गाँधी से कहा चुनावों के बाद गुजरात आईए और आधी रात को अहमदाबाद में घूमीये और देखिये कैसे लड़कियाँ अकेली स्कूटर चलाती हैं। श्री मोदी ने साथ ही कहा ऐसा कॉंग्रेस शासित दिल्ली के बारे में नहीं कहा जा सकता जहाँ महिलाएँ शाम के बाद बाहर नहीं निकलना चाहती।

श्रीमति सोनिया गाँधी द्वारा विद्युत क्षेत्र की परिस्थिति के दावों के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा दिल्ली में श्रीमति सोनिया गाँधी और प्रधानमंत्री के घरों में जेनरेटर की ज़रूरत पड़ती है पर गुजरात में तो चौबीसों घंटॆ पावर सप्लाई होता है। उन्होंने याद करते हुए कहा कि कॉंग्रेस शासन के दौरान किसी गरीब को कभी एम्ब्युलंस सेवा नहीं मिलती थी और यदि मिल भी जाती तो देरी से, ड्राईवर कोई न कोई बहाने बनाता तब तक शायद देर हो गई होती थी, पैसे भी पहले देने पड़ते थे। अब परिस्थिति अलग है और बिना कोई पैसे लिए 108 सेवा ने कितने ही गरीबों की जान बचाई है।

कॉंग्रेस सचिव श्री राहुल गाँधी द्वारा गुजरात पर की गई टिप्पणिओं का भी श्री मोदी ने दमदार जवाब दिया। उन्होंने कहा श्री राहुल गाँधी अपने आप को महात्मा गाँधी के सच्चे अनुयायी बताते है जिस पर श्री मोदी बोले, “ मुझे नहीं पता आप महात्मा गाँधी के कितने सपने पूरे करेंगे लेकिन मुझे विश्वास है आप उनका एक सपना जरूर पूरा करेंगे और वह था कॉंग्रेस को रद्द करने का। कॉंग्रेस आप ही कारण समाप्त हो जाएगी” (आज़ादी के बाद महात्मा गाँधी की राय थी कि कॉंग्रेस को रद्द कर दिया जाए)

जब पंडित नेहरु जैल में थे तब महात्मा गाँधी आनंद भवन में फर्श पर सोते थे, श्री राहुल गाँधी द्वारा याद दिलाये गए इस वाकिये पर उन्होंने कहा, “ हमें यह बताने की ज़रूरत नहीं है कि महात्मा गाँधी फर्श पर सोते थे। वे तो युग पुरुष थे जो अपने अनुयायीओं के प्रति प्रेम के लिए ऐसा करते थे। बात तो यह है कि जब बेटा जैल में था तब खुद मोतीलाल नेहरु पलंग पर सोते थे”, साथ ही उन्होंने कहा, “श्री राहुल गाँधी, जिन्हें गुजरात के जिल्लों के नाम भी नहीं मालूम वे विकास की बातें करने के बजाय हमें इतिहास सिखा रहे थे!”

मुख्यमंत्री ने बताया कैसे श्री राहुल गाँधी चुप हो गए जब साणंद मे लोगों से उन्होंने पूछा कि उन्हें कितनी बिजली मिलती है और जवाब मिला ‘24 घंटे’।

विधानसभा में सत्रों की अवधि पर श्री राहुल गाँधी द्वारा की गई टिप्पणीयों पर श्री मोदी ने कहा, “श्री राहुल गाँधी कहते हैं कि मोदी प्रजातंत्र में विश्वास नहीं रखते और विधानसभा कम मिलती है। ये शब्द उन्हें नहीं जचते। संसद की नौंध पत्रिकाओं के अनुसार संसद में सबसे कम हाज़री देने वालों की सूचि में श्री राहुल गाँधी का नाम उपर आता है। पिछले दस वर्षों में उन्होंने दस बार भी आवाज नहीं उठाई है”, मुख्यमंत्री ने बताया कि मई 2011 से मई 2012 के दौरान श्री राहुल गाँधी की संसद के 85 दिनों में से 24 हाज़री थी और 2010 तथा 2011 के दौरान 72 में से 19 हाजरी जो कि और भी कम थी। उन्होंने श्री राहुल गाँधी से पूछा, “आप किस मुँह से गुजरात पर टिप्पणियाँ कर रहे हैं। आपकी पार्टी ने राज भवन को कॉंग्रेस भवन में परिवर्तित कर दिया है। विधानसभा में प्रजातांत्रिक नियमों से दो बार, दो तिहाई बहुमती द्वारा चुनी गई सरकार के पास किए गए बिल आपके राज्यपाल द्वारा हस्ताक्षर नहीं किए जाते हैं। और आप गुजरात विधानसभा की बात करते हैं?

कॉंग्रेस के भ्रष्टाचारी कारनामों की निन्दा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि कॉंग्रेस ने तो कोयले को भी नहीं छोड़ा। उसी तरह दिल्ली में जवाँई बाबू के कारनामों से भी पूरा देश अवगत है। श्री मोदी ने कहा कि दिल्ली को लूटने के बाद अब कॉंग्रेस की आँखें गाँधीनगर के खजाने पर टिकी है।

हर सभा में बड़ी संख्या में लोग श्री मोदी को सुनने आए और उन्हें तथा भाजप को समर्थन दिया।

Watch : Shri Modi addresses a gathering in Behrampura

Watch : Shri Modi addresses a gathering in Gomtipur

Watch : Shri Modi addresses a gathering in Petlad, Anand

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
Core sector growth at three-month high of 7.4% in December: Govt data

Media Coverage

Core sector growth at three-month high of 7.4% in December: Govt data
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM condoles the passing away of former Union Minister and noted advocate, Shri Shanti Bhushan
January 31, 2023
साझा करें
 
Comments

The Prime Minister, Shri Narendra Modi has expressed deep grief over the passing away of former Union Minister and noted advocate, Shri Shanti Bhushan.

In a tweet, the Prime Minister said;

"Shri Shanti Bhushan Ji will be remembered for his contribution to the legal field and passion towards speaking for the underprivileged. Pained by his passing away. Condolences to his family. Om Shanti."