Share
 
Comments

Bharat Mata Ki...

I pay respect to goddess of Basta Aradhya Devi, Mata Dhanteswar. Brothers, sisters, mothers of Bastar, youths, those MPs present on the stage Sri Dinesh Kashyap, Bhai Kedar Kashyap, Bhai Subhash Kashyap, Bhai Santosh Bapta, Beduram Kashyap, Mahesh Gagda, Sri Bhandavi, Sri Ganiram Barsi, sister Lata Husandi, Sri Kedar Kashyap and those brothers and sisters of Bastar present in large numbers. I have come to Jagdalpur several times before, and have visited the interiors of Bastar as I used to look at the BJP's organisational work. It was then that I had an opportunity to know about Chhattisgarh to a large extent. This Bastar is larger than Kerala state. Bastar has enormous potential, rich natural resources but it has been unfortunate that till the time Chhattisgarh was part of Madhya Pradesh, Congress was ruling but it did not care about the region. This was a picnic spot for the Congress. They used to come here with their friends to visit the forest and used to show them the tribals inhabiting the region, used to show our poverty and used to take all accolades.

Brothers and sisters, the people of Chhattisgarh should not forget the contributions of Atal Behari Vajpayee. It was the foresightedness of Vajpayee Ji, it was his thought that if Chhattisgarh is created as a different state, then it will give an opportunity to develop the state. The soil of this region has immense power and potential.

Chhattisgarh should be made prosperous... this was the dream of Atal Behari Vajpayee ji. Today with the blessings of Maa Dhanteshwari I take pride in the initiatives taken by Vajpayee ji. I pay my respect to Vajpayee ji who laid the foundation of Chhattisgarh. Vajpayee ji had compassion for poor, downtrodden and the exploited tribes and the victims of oppression. He never used to give slogans but had long term policy in his mind. He ensured that government work the welfare the people.

Dear tribal brothers, please tell me since when the tribal society existing in this country. Isn't it for 1000s of years? Wasn't it existing prior to Independence? Aren't the tribal poor people? After Independence, many Congress governments were formed but nobody remembered tribals, their poverty was not looked at, there was no education and career for the children of tribals. After so many years of Independence, Vajpayee was the first PM who created a special ministry for the welfare of tribals. He created separate minister, ministry, department, officials, and budget and ensured that the ministry could work independently. Brothers and sisters, many years after Independence Vajpayee ji took initative for the welfare of tribals. It was only after this that the lifestyle of tribals saw remarkable improvement. It is not only this but in the northeast as well. Nagaland, Arunachal Pradesh, Manipur where tribals are in large in numbers, separate departments were created. He took special care of the tribals in the far-flung areas of Nagaland, Mizoram, Manipur.

Shri Modi’s speech in Jagdalpur, Chhattisgarh

As he created the new state of Chhattisgarh, he created a new system for the tribals. I worked in this region when Chhattisgarh was created, then I was not the Gujarat chief minister. When Chhattisgarh was created it was ruled by the Congress. When I recall the work done during the three years of Congress rule, I am reminded of the atrocities, I get goosebumps. Chhattisgarh was under the rule of repression and oppression. When the party workers of BJP protested for their demands, tribals were beaten up and had to be hopitalised for as long as 6 months. Such cruel rulers were not seen in India. But Chhattisgarh saw the despotic rule, three years before its birth. We feared for the dream of Chhattisgarh as seen by Atal Behari Vajpayee - we feared for its people.

But I will salute the resolute nature of my brothers in Chhattisgarh - dalits, adivasis - they saw it and in the very first elections in Chhattisgarh, they threw off the yoke of misrule and exploitation - in a manner that started the countdown to the fall of Congress in India. For this, I shall congratulate you. Just imagine if you have not given 10 years to Dr Raman Singh and BJP what would have been the state of our Chhattisgarh today. If the looters got hold of Chhattisgarh then nothing would have remained - nothing.

The Central government has got embroiled in the coal scam - who knows if they would have spared even a kilo of Chhattisgarh coal - would have looted that too. It is your farsightedness that prevented Congress rule in Chhattisgarh or else Chhattisgarh would have been doomed under the paws of the Congress in 10 years. I feel the need to compare the state of three states.  Atal Bihari Vajpayee took people into confidence and, without any politicking or bloodshed, carved out three new states - Jharkhand, Uttarakhand and Chhattisgarh. Look at the last 10 years of progress report of these three states - take stock. Jharkhand is where it was 10 years ago, Uttarakhand has gone backwards, Chhattisgarh is the only in these three that has progressed. What is the reason?  Reason is your farsightedness, the understanding shown by my adivasi brothers of Chhattisgarh.

Congress got many a chance in Uttarakhand - that resulted in lack of development in the state. We all witnessed the tragedy of Kedarnath ji - thousands from across the country died. But the government of Uttarakhand cares two hoots about it. Look at Jharkhand. The richest state in terms of mineral wealth, but it is plagued with political instability. The machinations of the Congress-led central government to wrest power in Jharkhand is well known. Engineering defections, splitting parties, continued and look at the result. Jharkhand kept slipping. Chhattisgarh was saved because of your trust in Dr Raman Singh and BJP. The state has seen rapid development under a stable government. Three examples are before you and today I have travelled from Gujarat to beseech you. In the past the people of India voted for parties, castes and creed, relations. But times have changed. You must vote for development. You must have thought about your own good while voting. But today time has come for you to vote for a better tomorrow for your children. And such a future can only be ensured by BJP and Dr Raman Singh.

I would request you to ensure the continued development of Chhattisgarh. The rapid pace at which Chhattisgarh is progressing must be maintained and enhanced. In our families children grow up faster in their teens, say after 13 a boy or a girl grows up quickly. Every six months they outgrow their clothes. From 13 to 18 children grow rapidly. They gain in height, weight. Chhattisgarh is facing such an age, the teens. If it is nurtured along the path of development and growth the heights it can reach is only imaginable. So brothers and sisters, these coming five years are the most crucial in the development of Chhattisgarh.

Dr Raman Singh has provided a solid foundation of development. Now it is time to build on the foundation, time to take Chhattisgarh to newer heights. For that the years from 2013 to 2018 are the most crucial. If during this duration Chhattisgarh establishes itself, Chhattisgarh's development gathers momentum then this journey would not stop for a century to come. That is why I tell you that this election is not about choosing a government for the next five years. It is an election that will establish the foundation for development for the coming 100 years. Vote should be for development and politics of vote banks should be buried once and for all.

Has anyone seen such a huge gathering in Jagdalpur, has anyone imagined? The winds of change are blowing. The country wants development, wants a government that works for the betterment of the downtrodden. The Congress slogan was "Congress Ka Hath Garib Ke Sath". What happened? They showed you their hand and once they got elected they tried their hand and when they attained mastery in that then it is sleight of hand and nothing else. Their palm haven't spared coal either. People are asking for lockers in banks, not for keeping gold or jewellery or money, to keep coal, safe. Someone told me see Modi ji not only coal we shall have to soon ask for lockers to store onions too. When guests come we shall give them a whiff of the onion and keep it back in the locker.

Brothers and sisters, such a government that makes you shed tears without onions, a government that has snatched onion off the menu from the poor who used to supplant his diet of bajra, jowar or wheat roti with onions must be thrown off from power in this country. They promised. Let me ask you a question. You shall answer.  Do you have faith in Congress and its promise?  They promised that when they come to power in Delhi they will control inflation in 100 days. Should you spare those that have broken their promises? Should you hand over Chhattisgarh to them? Should you believe in their false promises?

I firmly believe that my brothers and sisters from Chhattisgarh would not fall prey to the false promises of the Congress. Tell me, my friend, if Atal Bihari Vajpayee had not dreamt about Chhattisgarh, if you had not mandated for Dr Raman Singh and had he not provided you with a stable government - could anybody amongst you have dreamt of a university in Bastar? Today Bastar has a university. Our country faces a shortage of doctors. The poor don't get treatment. Why? Because the Congress is least interested in establishing medical colleges. As long as they do not get their bags of cash they are not interested in medical colleges. When a medical college is established until and unless piles of capitation money changes hands you won't get admission there.

From Where will you get doctors? If there are no doctors from where will the poor get medical care? I would like to praise Dr Raman Singh that he has established a medical college in this backward district and taken the initiative for future medical care here. Dr Raman Singh has a vision. He is easily accessible to the people here. He interacts with them regularly, but people do not usually recognise him by his name. Who is Dr Raman Singh? But when you say 'çhaawal wala baba' (the rice man) the recognition is instant. Ensuring food security for the poor and downtrodden has been the primary focus of BJP.

And listen to what the Shahzada from Delhi says. He misleads people by saying 'we brought food security bill, we ensured food security'. My dear brothers and sisters, you and only you at Chhattisgarh know that it was the BJP government of Chhattisgarh which brought the first ever law related to food security anywhere in India. Even the government at Delhi understood and appreciated the act. Dr Raman Singh has given the people the right to skill development, right to training.

A government for development should be also be a sensitive one. The violence of Maoism, the bombs the bullets, the human casualty, security forces killed, amidst all this bloodbath, a resolute government has gone ahead with the agenda of development. Dr Raman Singh has demonstrated it. I would like to present before you cases of two governments in India. I shall also ask the political pundits to pay attention. One sensitive and the other insensitive. In May, Dr Raman Singh was travelling around Chhattisgarh on a yatra. Around the same time, Congress party leaders were on their yatras. Maoists killed a substantial numbers of Congress leaders. Recently there was a mammoth rally in Patna. Terrorists struck. Serial blasts targeted the dais, leaders of BJP. What did Raman Singh do and what did the Bihar CM do? Dr Raman Singh briefed the media, said that we shall probe the incident and if there has been any lapse at any level it would be addressed. He ordered an inquiry and adjourned his own yatra. He visited the family of the slain Congress leaders, and a couple of days later in the NIA meeting at Delhi his actions were lauded.

On the other hand, after such a grave incident in Patna we found the Bihar government in Rajgir. They seemed least bothered.  Their body language and verbal statements betrayed some sort of pleasure. When media asked them, pat came the reply, not only are they not acknowledging any lapse, they ruled out any probe. Categorically.

See the difference between a sensitive Chief Minister and a proud and vain one whose only goal is to be in power.  The reaction, the difference is there for the country to see. I would like to laud Dr Raman Singh for his patience, his courage in trying situations and I believe that in the next five years Chhattisgarh would outstrip Gujarat in development . And that would be a proud day for me. The way he took up local issues, wiped out the deficit in electricity generation, worked for the uplift of the downtrodden, the adivasis, the poor. I shall urge you to ensure a landslide victory for BJP . Vote for the lotus symbol and ensure the development of Chhattisgarh for the next century. I am thankful to you for the chance you have given us.  I would like to congratulate you.

'Apan sobai Bastar ki bhai bahin manke mocho patle guhar kare che Bhartiya Janata part cho Kamal phool ne vote dyun bhari bahumat se jitwana - samay ke macho - jay johar' (most probably Chhattisgarhi)

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
During tough times, PM Modi acts as 'Sankatmochak', stands by people in times of need

Media Coverage

During tough times, PM Modi acts as 'Sankatmochak', stands by people in times of need
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age: PM Modi
June 07, 2021
Share
 
Comments
Government of India to provide free vaccine to all Indian citizens above 18 years of age
25 per cent vaccination that was with states will now be undertaken by Government of India: PM
Government of India will buy 75 per cent of the total production of the vaccine producers and provide to the states free of cost: PM
Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojna extended till Deepawali: PM
Till November, 80 crore people will continue to get free food grain every month: PM
Corona, Worst Calamity of last hundred years: PM
Supply of vaccine is to increase in coming days: PM
PM informs about development progress of new vaccines
Vaccines for children and Nasal Vaccine under trial: PM
Those creating apprehensions  about vaccination are playing with the lives of people: PM

मेरे प्यारे देशवासियों, नमस्कार! कोरोना की दूसरी वेव से हम भारतवासियों की लड़ाई जारी है।  दुनिया के अनेक देशों की तरह, भारत भी इस लड़ाई के दौरान बहुत बड़ी पीड़ा से गुजरा है। हममें से कई लोगों ने अपने परिजनों को, अपने परिचितों को खोया है। ऐसे सभी परिवारों के साथ मेरी पूरी संवेदनाएं हैं।

साथियों,

बीते सौ वर्षों में आई ये सबसे बड़ी महामारी है, त्रासदी है। इस तरह की महामारी आधुनिक विश्व ने न देखी थी, न अनुभव की थी। इतनी बड़ी वैश्विक महामारी से हमारा देश कई मोर्चों पर एक साथ लड़ा है। कोविड अस्पताल बनाने से लेकर ICU बेड्स की संख्या बढ़ानी हो, भारत में वेंटिलेटर बनाने से लेकर टेस्टिंग लैब्स का एक बहुत बड़ा नेटवर्क तैयार करना हो, कोविड से लड़ने के लिए बीते सवा साल में ही देश में एक नया हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया गया है। सेकेंड वेव के दौरान अप्रैल और मई के महीने में भारत में मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड अकल्पनीय रूप से बढ़ गई थी। भारत के इतिहास में कभी भी इतनी मात्रा में मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरत कभी भी महसूस नहीं की गई। इस जरूरत को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर काम किया गया। सरकार के सभी तंत्र लगे। ऑक्सीजन रेल चलाई गई, एयरफोर्स के विमानों को लगाया गया, नौसेना को लगाया गया। बहुत ही कम समय में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के प्रॉडक्शन को 10 गुना से ज्यादा बढ़ाया गया। दुनिया के हर कोने से, जहां कही से भी, जो कुछ भी उपलब्ध हो सकता था उसको प्राप्त करने का भरसक प्रयास  किया गया, लाया गया। इसी तरह ज़रूरी दवाओं के production को कई गुना बढ़ाया गया, विदेशों में जहां भी दवाइयां उपलब्ध हों, वहां से उन्हें लाने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ी गई।

साथियों,

कोरोना जैसे अदृश्य और रूप बदलने वाले दुश्मन के खिलाफ लड़ाई में सबसे प्रभावी हथियार, कोविड प्रोटोकॉल है, मास्क, दो गज की दूरी और बाकी सारी सावधानियां उसका पालन ही है। इस लड़ाई में वैक्सीन हमारे लिए सुरक्षा कवच की तरह है। आज पूरे विश्व में वैक्सीन के लिए जो मांग है, उसकी तुलना में उत्पादन करने वाले देश और वैक्सीन बनाने वाली कंपनियां बहुत कम हैं, इनी गिनी है। कल्पना करिए कि अभी हमारे पास भारत में बनी वैक्सीन नहीं होती तो आज भारत जैसे विशाल देश में क्या होता?  आप पिछले 50-60 साल का इतिहास देखेंगे तो पता चलेगा कि भारत को विदेशों से वैक्सीन प्राप्त करने में दशकों लग जाते थे। विदेशों में वैक्सीन का काम पूरा हो जाता था तब भी हमारे देश में वैक्सीनेशन का काम शुरू भी नहीं हो पाता था। पोलियो की वैक्सीन हो, Smallpox जहां गांव में हम इसको चेचक कहते हैं। चेचक की  वैक्सीन हो, हेपिटाइटिस बी की वैक्सीन हो, इनके लिए देशवासियों  ने दशकों तक इंतज़ार किया था। जब 2014 में देशवासियों ने हमें सेवा का अवसर दिया तो भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज, 2014 में भारत में वैक्सीनेशन का कवरेज सिर्फ 60 प्रतिशत के ही आसपास था। और हमारी दृष्टि में ये बहुत चिंता की बात थी। जिस रफ्तार से भारत का टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा था, उस रफ्तार से, देश को शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज का लक्ष्य हासिल करने में करीब-करीब 40 साल लग जाते। हमने इस समस्या के समाधान के लिए मिशन इंद्रधनुष को लॉन्च किया। हमने तय किया कि मिशन इंद्रधनुष के माध्यम से युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन किया जाएगा और देश में जिसको भी वैक्सीन की जरूरत है उसे वैक्सीन देने का प्रयास होगा। हमने मिशन मोड में काम किया, और सिर्फ 5-6 साल में ही वैक्सीनेशन कवरेज 60 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत से भी ज्यादा हो गई। 60 से 90,  यानि हमने वैक्सीनेशन की स्पीड भी  बढ़ाई और दायरा भी बढ़ाया।

 हमने बच्चों को कई जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए कई नए टीकों को भी भारत के टीकाकरण अभियान का हिस्सा बना दिया। हमने ये इसलिए किया, क्योंकि हमें हमारे देश के बच्चों की चिंता थी, गरीब की चिंता थी, गरीब के उन बच्चों की चिंता थी जिन्हें कभी टीका लग ही नहीं पाता था। हम शत प्रतिशत टीकाकरण कवरेज की तरफ बढ़ रहे थे कि कोरोना वायरस ने हमें घेर लिया। देश ही नहीं, दुनिया के सामने फिर पुरानी आशंकाएं घिरने लगीं कि अब भारत कैसे इतनी बड़ी आबादी को बचा पाएगा? लेकिन साथियों,जब नीयत साफ होती है, नीति स्पष्ट होती है, निरंतर परिश्रम होता है, तो नतीजे भी मिलते हैं। हर आशंका को दरकिनार करके भारत ने एक साल के भीतर ही एक नहीं बल्कि दो 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन्स लॉन्च कर दीं। हमारे देश ने, देश के वैज्ञानिकों ने ये दिखा दिया कि भारत बड़े बड़े देशों से पीछे नहीं है। आज जब मैं आपसे बात कर रहा हूं तो देश में 23 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी हैं।

साथियों,

हमारे यहाँ कहा जाता है- विश्वासेन सिद्धि: अर्थात, हमारे प्रयासों में हमें सफलता तब मिलती है, जब हमें स्वयं पर विश्वास होता है। हमें पूरा विश्वास था कि हमारे वैज्ञानिक बहुत ही कम समय में वैक्सीन बनाने में सफलता हासिल कर लेंगे। इसी विश्वास के चलते जब हमारे वैज्ञानिक अपना रिसर्च वर्क कर ही रहे थे तभी हमने लॉजिस्टिक्स और दूसरी तैयारियां शुरू कर दीं थीं। आप सब भली-भांति जानते हैं कि पिछले साल यानि एक साल पहले, पिछले साल अप्रैल में, जब कोरोना के कुछ ही हजार केस थे, उसी समय वैक्सीन टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया था। भारत में, भारत के लिए वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को सरकार ने हर तरह से सपोर्ट किया। वैक्सीन निर्माताओं को क्लिनिकल ट्रायल में मदद की गई, रिसर्च और डवलपमेंट के लिए ज़रूरी फंड दिया गया, हर स्तर पर सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चली। 

आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत मिशन कोविड सुरक्षा के माध्यम से भी उन्हें हज़ारों करोड़ रुपए उपलब्ध कराए गये। पिछले काफी समय से देश लगातार जो प्रयास और परिश्रम कर रहा है, उससे आने वाले दिनों में वैक्सीन की सप्लाई और भी ज्यादा बढ़ने वाली है। आज देश में 7 कंपनियाँ, विभिन्न प्रकार की वैक्सीन का प्रॉडक्शन कर रही हैं। तीन और वैक्सीन का ट्रायल भी एडवांस स्टेज पर चल रहा है। वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए दूसरे देशों की कंपनियों से भी वैक्सीन खरीदने की प्रक्रिया को तेज किया गया है। इधर हाल के दिनों में, कुछ एक्सपर्ट्स द्वारा हमारे बच्चों को लेकर भी चिंता जताई गई है। इस दिशा में भी 2 वैक्सीन्स का ट्रायल तेजी से चल रहा है। इसके अलावा अभी देश में एक 'नेज़ल' वैक्सीन पर भी रिसर्च जारी है। इसे सिरिन्ज से न देकर नाक में स्प्रे किया जाएगा। देश को अगर निकट भविष्य में इस वैक्सीन पर सफलता मिलती है तो इससे भारत के वैक्सीन अभियान में और ज्यादा तेजी आएगी।

साथियों,

इतने कम समय में वैक्सीन बनाना, अपने आप में पूरी मानवता के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। लेकिन इसकी अपनी सीमाएं भी हैं। वैक्सीन बनने के बाद भी दुनिया के बहुत कम देशों में वैक्सीनेशन प्रारंभ हुआ, और ज्यादातर समृद्ध देशों में ही शुरू हुआ। WHO ने वैक्सीनेशन को लेकर गाइडलाइंस दीं। वैज्ञानिकों ने वैक्सीनेशन की रूप रेखा रखी। और भारत ने भी जो अन्य देशों की best practices थी , विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक  थे, उसी आधार पर चरणबद्ध तरीके से वैक्सीनेशन करना तय किया। केंद्र सरकार ने मुख्यमंत्रियों के साथ हुई अनेकों बैठकों से जो सुझाव मिले, संसद के विभिन्न दलों के साथियों द्वारा जो सुझाव मिले, उसका भी पूरा ध्यान रखा। इसके बाद ही ये तय हुआ कि जिन्हें कोरोना से ज्यादा खतरा है, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। इसलिए ही, हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 60 वर्ष की आयु से ज्यादा के नागरिक, बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से ज्यादा आयु के नागरिक, इन सभी को वैक्सीन पहले लगनी शुरू हुई। आप कल्पना कर सकते हैं कि अगर कोरोना की दूसरी वेव से पहले हमारे फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन नहीं लगी होती तो क्या होता? सोचिए, हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ को वैक्सीन ना लगी तो क्या होता? अस्पतालों में सफाई करने वाले हमारे भाई-बहनों को, एंबुलेंस के हमारे ड्राइवर्स भाई - बहनों को वैक्सीन ना लगी होती तो क्या होता? ज्यादा से ज्यादा हेल्थ वर्कर्स का वैक्सीनेशन होने की वजह से ही वो निश्चिंत होकर दूसरों की सेवा में लग पाए, लाखों देशवासियों का जीवन बचा पाए।

लेकिन देश में कम होते कोरोना के मामलों के बीच, केंद्र सरकार के सामने अलग-अलग सुझाव भी आने लगे, भिन्न-भिन्न मांगे होने लगीं। पूछा जाने लगा, सब कुछ भारत सरकार ही क्यों तय कर रही है? राज्य सरकारों को छूट क्यों नहीं दी जा रही? राज्य सरकारों को लॉकडाउन की छूट क्यों नहीं मिल रही? One Size Does Not Fit All जैसी बातें भी कही गईं। दलील ये दी गई कि संविधान में चूंकि Health-आरोग्य, प्रमुख रूप से राज्य का विषय है, इसलिए अच्छा है कि ये सब राज्य ही करें। इसलिए इस दिशा में एक शुरूआत की गई। भारत सरकार ने एक बृहद गाइडलाइन बनाकर राज्यों को दी ताकि राज्य अपनी आवश्यकता और सुविधा के अनुसार काम कर सकें। स्थानीय स्तर पर कोरोना कर्फ्यू लगाना हो, माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाना हो, इलाज से जुड़ी व्यवस्थाएं हो, भारत सरकार ने राज्यों की इन मांगों को स्वीकार किया।

साथियों,

इस साल 16 जनवरी से शुरू होकर अप्रैल महीने के अंत तक, भारत का वैक्सीनेशन कार्यक्रम मुख्यत: केंद्र सरकार की देखरेख में ही चला। सभी को मुफ्त वैक्सीन लगाने के मार्ग पर देश आगे बढ़ रहा था। देश के नागरिक भी, अनुशासन का पालन करते हुए, अपनी बारी आने पर वैक्सीन लगवा रहे थे। इस बीच, कई राज्य सरकारों ने फिर कहा कि वैक्सीन का काम डी-सेंट्रलाइज किया जाए और राज्यों पर छोड़ दिया जाए। तरह-तरह के स्वर उठे। जैसे कि वैक्सीनेशन के लिए Age Group क्यों बनाए गए? दूसरी तरफ किसी ने कहा कि उम्र की सीमा आखिर केंद्र सरकार ही क्यों तय करे? कुछ आवाजें तो ऐसी भी उठीं कि बुजुर्गों का वैक्सीनेशन पहले क्यों हो रहा है? भांति-भांति के दबाव भी बनाए गए, देश के मीडिया के एक वर्ग ने इसे कैंपेन के रूप में भी चलाया।

साथियों,

काफी चिंतन-मनन के बाद इस बात पर सहमति बनी कि राज्य सरकारें अपनी तरफ से भी प्रयास करना चाहती हैं, तो भारत सरकार क्यों ऐतराज करे? और भारत सरकार ऐतराज क्यों करे? राज्यों की इस मांग को देखते हुए, उनके आग्रह को ध्यान में रखते हुए 16 जनवरी से जो व्यवस्था चली आ रही थी, उसमें प्रयोग के तौर पर एक बदलाव किया गया। हमने सोचा कि राज्य ये मांग कर रहे हैं, उनका उत्साह है, तो चलो भई 25 प्रतिशत काम उन्ही की शोपित कर दिया जाये, उन्ही को दे दिया जाए। स्वभाविक है, एक मई से राज्यों को 25 प्रतिशत काम उनके हवाले दिया गया, उसे पूरा करने के लिए उन्होंने अपने-अपने तरीके से प्रयास भी किए। 

इतने बड़े काम में किस तरह की कठिनाइयां आती हैं, ये भी उनके ध्यान में आने लगा, उनको पता चला। पूरी दुनिया में वैक्सीनेशन की क्या स्थिति है, इसकी सच्चाई से भी राज्य परिचित हुए। और हमने देखा, एक तरफ मई में सेकेंड वेव, दूसरी तरफ वैक्सीन के लिए लोगों का बढ़ता रुझान और तीसरी तरफ राज्य सरकारों की कठिनाइयां। मई में दो सप्ताह बीतते-बीतते कुछ राज्य खुले मन से ये कहने लगे कि पहले वाली व्यवस्था ही अच्छी थी। धीरे-धीरे इसमें कई राज्य सरकारें जुड़ती चली गईं। वैक्सीन का काम राज्यों पर छोड़ा जाए, जो इसकी वकालत कर रहे थे, उनके विचार भी बदलने लगे। ये एक अच्छी बात रही कि समय रहते राज्य, पुनर्विचार की मांग के साथ फिर आगे आए। राज्यों की इस मांग पर, हमने भी सोचा कि देशवासियों को तकलीफ ना हो, सुचारू रूप से उनका वैक्सीनेशन हो, इसके लिए एक मई के पहले वाली, यानि 1 मई के पहले 16 जनवरी से अप्रैल अंत तक जो व्यवस्था थी, पहले वाली पुरानी व्यवस्था को फिर से लागू किया जाए।

 

साथियों,

आज ये निर्णय़ लिया गया है कि राज्यों के पास वैक्सीनेशन से जुड़ा जो 25 प्रतिशत काम था, उसकी जिम्मेदारी भी भारत सरकार उठाएगी। ये व्यवस्था आने वाले 2 सप्ताह में लागू की जाएगी। इन दो सप्ताह में केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर नई गाइड-लाइंस के अनुसार आवश्यक तैयारी कर लेंगी। संयोग है कि दो सप्ताह बाद, 21 जून को ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भी है। 21 जून, सोमवार से देश के हर राज्य में, 18 वर्ष से ऊपर की उम्र के सभी नागरिकों के लिए, भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराएगी। वैक्सीन निर्माताओं से कुल वैक्सीन उत्पादन का 75 प्रतिशत हिस्सा भारत सरकार खुद ही खरीदकर राज्य सरकारों को मुफ्त देगी। यानि देश की किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं करना होगा। अब तक देश के करोड़ों लोगों को मुफ्त वैक्सीन मिली है।

 अब 18 वर्ष की आयु के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे। सभी देशवासियों के लिए भारत सरकार ही मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध करवाएगी। गरीब हों, निम्न मध्यम वर्ग हों, मध्यम वर्ग हो या फिर उच्च वर्ग, भारत सरकार के अभियान में मुफ्त वैक्सीन ही लगाई जाएगी। हां, जो व्यक्ति मुफ्त में वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, प्राइवेट अस्पताल में वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, उनका भी ध्यान रखा गया है। देश में बन रही वैक्सीन में से 25 प्रतिशत,  प्राइवेट सेक्टर के अस्पताल सीधे ले पाएं, ये व्यवस्था जारी रहेगी। प्राइवेट अस्पताल, वैक्सीन की निर्धारित कीमत के उपरांत एक डोज पर अधिकतम 150 रुपए ही सर्विस चार्ज ले सकेंगे। इसकी निगरानी करने का काम राज्य सरकारों के ही पास रहेगा।

साथियों,

हमारे शास्त्रों में कहा गया है-प्राप्य आपदं न व्यथते कदाचित्, उद्योगम् अनु इच्छति चा प्रमत्तः॥ अर्थात्, विजेता आपदा आने पर उससे परेशान होकर हार नहीं मानते, बल्कि उद्यम करते हैं, परिश्रम करते हैं, और परिस्थिति पर जीत हासिल करते हैं। कोरोना से लड़ाई में 130 करोड़ से अधिक भारतीयों ने अभी तक की यात्रा आपसी सहयोग, दिन रात मेहनत करके तय की है। आगे भी हमारा रास्ता हमारे श्रम और सहयोग से ही मजबूत होगा। हम वैक्सीन प्राप्त करने की गति भी बढ़ाएंगे और वैक्सीनेशन अभियान को भी और गति देंगे। हमें याद रखना है कि, भारत में वैक्सीनेशन की रफ्तार आज भी दुनिया में बहुत तेज है, अनेक विकसित देशों से भी तेज है। हमने जो टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म बनाया है- Cowin, उसकी भी पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है। अनेक देशों ने भारत के इस प्लेटफॉर्म को इस्तेमाल करने में रुचि भी दिखाई है। हम सब देख रहे हैं कि वैक्सीन की एक एक डोज कितनी महत्वपूर्ण है, हर डोज से एक जिंदगी जुड़ी हुई है। केंद्र सरकार ने ये व्यवस्था भी बनाई है कि हर राज्य को कुछ सप्ताह पहले ही बता दिया जाएगा कि उसे कब, कितनी डोज मिलने वाली है। मानवता के इस पवित्र कार्य में वाद-विवाद और राजनीतिक छींटाकशी, ऐसी बातों को कोई भी अच्छा नहीं मानता है। वैक्सीन की उपलब्धता के अनुसार, पूरे अनुशासन के साथ वैक्सीन लगती रहे, देश के हर नागरिक तक हम पहुंच सकें, ये हर सरकार, हर जनप्रतिनिधि, हर प्रशासन की सामूहिक जिम्मेदारी है।

प्रिय देशवासियों,

टीकाकरण के अलावा आज एक और बड़े फैसले से मैं आपको अवगत कराना चाहता हूं। पिछले वर्ष जब कोरोना के कारण लॉकडाउन लगाना पड़ा था तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत, 8 महीने तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को मुफ्त राशन की व्यवस्था हमारे देश ने की थी। इस वर्ष भी दूसरी वेव के कारण मई और जून के लिए इस योजना का विस्तार किया गया था। आज सरकार ने फैसला लिया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को अब दीपावली तक आगे बढ़ाया जाएगा। महामारी के इस समय में, सरकार गरीब की हर जरूरत के साथ, उसका साथी बनकर खड़ी है। यानि नवंबर तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को, हर महीने तय मात्रा में मुफ्त अनाज उपलब्ध होगा। इस प्रयास का मकसद यही है कि मेरे किसी भी गरीब भाई-बहन को, उसके परिवार को, भूखा सोना ना पड़े।

साथियों,

देश में हो रहे इन प्रयासों के बीच कई क्षेत्रों से वैक्सीन को लेकर भ्रम और अफवाहों की  चिंता बढ़ाती है। ये चिंता भी मैं आपके सामने व्यक्त करना चाहता हूं। जब से भारत में वैक्सीन पर काम शुरू हुआ, तभी से कुछ लोगों द्वारा ऐसी बातें कही गईं जिससे आम लोगों के मन में शंका पैदा हो। कोशिश ये भी हुई कि भारत के वैक्सीन निर्माताओं का हौसला पस्त पड़ जाए और उनके सामने अनेक प्रकार की बाधाएं आएं। जब भारत की वैक्सीन आई तो अनेक माध्यमों से शंका-आशंका को और बढ़ाया गया। वैक्सीन न लगवाने के लिए भांति-भांति के तर्क प्रचारित किए गए। इन्हें भी देश देख रहा है। जो लोग भी वैक्सीन को लेकर आशंका पैदा कर रहे हैं, अफवाहें फैला रहे हैं, वो भोले-भाले भाई-बहनों के जीवन के साथ बहुत बड़ा खिलवाड़ कर रहे हैं।

ऐसी अफवाहों से सतर्क रहने की जरूरत है। मैं भी आप सबसे, समाज के प्रबुद्ध लोगों से, युवाओं से अनुरोध करता हूँ, कि आप भी वैक्सीन को लेकर जागरूकता बढ़ाने में सहयोग करें। अभी कई जगहों पर कोरोना कर्फ्यू में ढील दी जा रही है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हमारे बीच से कोरोना चला गया है। हमें सावधान भी रहना है, और कोरोना से बचाव के नियमों का भी सख्ती से पालन करते रहना है। मुझे पूरा विश्वास है, हम सब कोरोना से इस जंग में जीतेंगे, भारत कोरोना से जीतेगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ, आप सभी देशवासियों का बहुत बहुत धन्यवाद!