Share
 
Comments
PMO completes special cleanliness drive under #SwachhBharat initiative
#SwachhBharat in PMO: 1000 files of important archival value transferred to the National Archives of India
#SwachhBharat initiative help free 1800 square feet of office space within the PMO premises

The Prime Minister’s Office today completed a special cleanliness drive under the Swachh Bharat Abhiyan spanning over the fortnight. The drive has resulted in the weeding out of over 10,000 files, and the transfer of 1000 files of important archival value, to the National Archives of India.

The voluntary and participative effort by officers and staff of the PMO, under the guidance of Principal Secretary to the Prime Minister, Shri Nripendra Misra, also resulted in the cleaning and beautification of lawns at the western entrance of PMO, removal of scrap and dismantled material, and disposal of e-waste.

On taking over as Prime Minister in May 2014, Shri Narendra Modi had inspected the PMO, and called for maintaining cleanliness, which in turn would raise productivity. This is the third such major drive, after Shri Narendra Modi took charge.

Following the direction of the Prime Minister, several productivity and cleanliness related initiatives have been undertaken, including standardization of the processing of receipts and files. The processing of physical petitions and online petitions has been segregated and an “Electronic Mail Management System” has been introduced resulting in reduction of time in the processing of public petitions from one month to one day. Further, on line VVIP letter Monitoring System (VLMS), Meeting Management System and Dash Board System have been introduced, which increased the efficiency of the system and decreased the time consumed in the process considerably.

Over the period since May 2014, more than one lakh files have been weeded out. As a result two record rooms became available for alternative use. Auction of old unused items also resulted in freeing two rooms. New workstations have been installed as part of progressive standardisation of work environment.

These efforts helped to free 1800 square feet of office space within the PMO premises at South Block. This space now accommodates around 50 officials of Public Wing of the PMO, which earlier functioned from Rail Bhawan, due to space constraints at South Block.

Thus the effects of drive for cleanliness and system improvement inspired by the ideals of the Prime Minister are clearly visible.

আমার পরিবার বিজেপি পরিবার
Donation
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Govt releases Rs 4,000 crore for Post Matric Scholarship Scheme for Scheduled Castes

Media Coverage

Govt releases Rs 4,000 crore for Post Matric Scholarship Scheme for Scheduled Castes
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
टीका उत्सव पर देशवासियों से आग्रह
April 11, 2021
Share
 
Comments

मेरे प्यारे देशवासियों,

आज 11 अप्रैल यानि ज्योतिबा फुले जयंती से हम देशवासी ‘टीका उत्सव’ की शुरुआत कर रहे हैं। ये ‘टीका उत्सव’ 14 अप्रैल यानि बाबा साहेब आंबेडकर जयंती तक चलेगा।

ये उत्सव, एक प्रकार से कोरोना के खिलाफ दूसरी बड़ी जंग की शुरुआत है। इसमें हमें Personal Hygiene के साथ ही Social Hygiene पर विशेष बल देना है।

हमें ये चार बातें, जरूर याद रखनी है।

Each One- Vaccinate One, यानि जो लोग कम पढ़े-लिखे हैं, बुजुर्ग हैं, जो स्वयं जाकर टीका नहीं लगवा सकते, उनकी मदद करें।

Each One- Treat One, यानि जिन लोगों के पास उतने साधन नहीं हैं, जिन्हें जानकारी भी कम है, उनकी कोरोना के इलाज में सहायता करें।

Each One- Save One, यानि मैं स्वयं भी मास्क पहनूं और इस तरह स्वयं को भी Save करूं और दूसरों को भी Save करूं, इस पर बल देना है।

और चौथी अहम बात, किसी को कोरोना होने की स्थिति में, ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाने का नेतृत्व समाज के लोग करें। जहां पर एक भी कोरोना का पॉजिटिव केस आया है, वहां परिवार के लोग, समाज के लोग ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाएं।

भारत जैसे सघन जनसंख्या वाले हमारे देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई का एक महत्वपूर्ण तरीका ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ भी है।

एक भी पॉजिटिव केस आने पर हम सभी का जागरूक रहना, बाकी लोगों की भी टेस्टिंग कराना बहुत आवश्यक है।

इसके साथ ही जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे, इसका पूरा प्रयास समाज को भी करना है और प्रशासन को भी।

एक भी वैक्सीन का नुकसान ना हो, हमें ये सुनिश्चित करना है। हमें जीरो वैक्सीन वेस्ट की तरफ बढ़ना है।

इस दौरान हमें देश की वैक्सीनेशन क्षमता के ऑप्टिमम यूटिलाइजेशन की तरफ बढ़ना है। ये भी हमारी कपैसिटी बढ़ाने का ही एक तरीका है।

हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ के प्रति कितनी जागरूकता हम लोगों में है।

हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि जब जरूरत न हो, तब हम घर से बाहर न निकलें।

हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे।

हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि हम मास्क पहनने और अन्य नियमों का किस तरह पालन करते हैं।

साथियों,

इन चार दिनो में व्यक्तिगत स्तर पर, समाज के स्तर पर और प्रशासन के स्तर पर हमें अपने-अपने लक्ष्य बनाने हैं, उन्हें प्राप्त करने के लिए पूरा प्रयास करना है।
मुझे पूरा विश्वास है, इसी तरह जनभागीदारी से, जागरूक रहते हुए, अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए, हम एक बार फिर कोरोना को नियंत्रित करने में सफल होंगे।
याद रखिए- दवाई भी, कड़ाई भी।

धन्यवाद !

आपका,

नरेन्द्र मोदी।