Share
 
Comments

 

Shri Modi addresses Vivekananda Yuva Parishad in Rajkot

Shri Modi thanks people of the immense wishes that have been pouring in on his birthday

Olympic medal winner Mr. Gagan Narang, cricketers Mr. Ravindra Jadeja and Mr. Cheteshwar Pujara felicitated by Shri Modi

Gujarat trying to make a place for itself in sports. We have announced setting up of sports university and every district will have a sports school: Shri Modi

FDI in retail will adversely affect youth. Pradhan Mantri ji has become Singham twice in 8 years, when he signed nuclear deal and now in FDI: Shri Modi

Whose fortunes are you trying to change? Shri Modi asks PM, asks why do you promise things that you cannot do!

Rahul Gandhi ji is not a national but international leader who has facilities to win elections both in India as well as Italy: Shri Modi

CM announces formation of Vinchhiya Taluka, raises Rajkot FSI by 25% and gives permission for 1+4 instead of 1+3 construction rule in Jamnagar

On the morning of 17th September 2012, Shri Narendra Modi addressed a gathering of the Vivekananda Yuva Parishad in Rajkot. Shri Modi thanked everyone for the large number of wishes he has been receiving through the day being his birthday. The Chief Minister delivered an inspiring speech in which he spoke about Gujarat’s efforts towards strengthening the Yuva Shakti. He categorically opposed FDI in retail, as it would adversely affect the state’s youth.

During the occasion Shri Modi felicitated Olympic medal winner Mr. Gagan Narang and cricketers Ravindra Jadeja and Cheteshwar Pujara. He presented sports kits to various youngsters.

Shri Modi paid rich tributes to Swami Vivekananda and pointed out that at the age of 25 he dreamt of an India that would adorn the mantle of the world leadership. He recalled Swami Vivekananda’s speech to the World’s parliament of Religions on 11th September 1893 and affirmed that had the world accepted the message of that 9/11, the gruesome 9/11 in 2001 would never have happened. Shri Modi stated that with the words “Brothers and Sisters of America”, Swami Vivekananda drew the world’s attention to India.

The Chief Minister stated that everyone expected the 21st century to be India’s century but unfortunately this dream of Swami Vivekananda has not been fulfilled. Giving an opportune example, Shri Modi said that for 48 hours the nation was in darkness as 60 crore people had to live without electricity, hospitals were shut, operations were left incomplete- what picture would that paint of India’s to the world? Yet, Shri Modi said that there was another news that went out- when the nation was in darkness Gujarat continues to shine. Shri Modi affirmed that Gujarat is trying to make a place for itself in the field of sports. The state has announced the setting up of a sports university and the Chief Minister declared that every district would soon have a sports school. Shri Modi further spoke about the success of the Khel Mahakumbh in getting 18 lakh people to play. He congratulated Mr. Gagan Narang and informed the gathering that he has promised his full support in strengthening sports in Gujarat and expressed hope that Mr. Narang’s experience will surely benefit the state. Opposing the FDI in retail, Shri Modi pointed that this is a move that will adversely affect the youth. He said that Prime Minister Dr. Manmohan Singh has been called Singham 2 times- once when he signed the Nuclear Deal and the second is right now. But, he added that this move would put our manufactures to a great disadvantage and create joblessness. He said that the lack of a level playing field will affect India. He opined that in China, free labour is possible but not here. He asked the audience to imagine what would happen to those selling pencils, erasers, notebooks, spices just because our Prime Minister wants to appease foreign Sultanate. “Whose fortunes are you trying to change?” this was the direct question Shri Modi posed to the Prime Minister! He came down heavily on the Congress for repeatedly betraying the trust of the people. He pointed out that in their 2004 manifesto the Congress promised jobs to 1 crore youngsters but the Central data of the last 5 years revealed that it is Gujarat that provided 72% of the jobs created. Similarly, in 2009 the Congress said that a youngster in every family will get a job but nothing of that sort happened. The Congress promised to remove poverty but that too did not happen.

The Chief Minister asked Dr. Manmohan Singh that if the Government knows they cannot do it why the false promise? He further said that it is not about success or failure but about the trust of the people. He stated that the Congress has disappointed India due to which this is seen as a drowning century for India and opined that it is Congress votebank politics that is destroying the nation. Commenting on the statement by a Congress leader that Shri Modi is not comparable with AICC General Secretary Shri Rahul Gandhi because he is a state leader while Shri Gandhi is a national leader, Shri Modi said that he accepts 50% of the statement with pride- he is very proud to be the leader of Gujarat and serving its people. But, he rejected the other half of the statement and added that Shri Rahul Gandhi is not a national but an international leader who can win elections both in India as well as Italy!

In his speech, the Chief Minister spoke about some of the initiatives of Gujarat Government. He shared that over 3.5 lakh out of the 6 lakh Government employees have been added in the last decade. Further, the Gujarat police force is the youngest in the nation and recruitment of constables, PSI and PI posts are done among youngsters well versed with technology. Shri Modi recalled his Google+ Hangout session that was seen from over 116 nations and stressed on the importance of technology among the youth.

At the Yuva Parishad Shri Modi made 3 important announcements. He announced the creation of Vinchhiya Taluka from 26th January 2013.

Shri Modi announced a 25% rise is FSI for Rajkot city and permission for 1+4 instead of the existing 1+3 for Jamnagar.

The Chief Minister declared rise in recruitment age bar from 25 to 28 and announced that SC/ST candidates will get benefit for further 5 years.

Thanking well wishers for the wishes he has received for his birthday, Shri Modi asked the youth to read the 3 letters of appreciation he got from legal luminary Justice Krishna Iyer and former CVC N Vittal. He said that these letters show how the world is seeing Gujarat and is something anyone would be proud to read.

Cabinet Ministers and other dignitaries were present on the occasion.

READ- Shri Modi’s Blog on the thanking people for their wishes and sharing the  kind letters from Justice Iyer and Shri Vittal.

Modi Govt's #7YearsOfSeva
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
India's total FDI inflow rises 38% year-on-year to $6.24 billion in April

Media Coverage

India's total FDI inflow rises 38% year-on-year to $6.24 billion in April
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM's speech at Toycathon-2021
June 24, 2021
Share
 
Comments
Calls for better standing in ‘Toyoconomy’
Underlines the importance of toy sector in taking development and growth to the neediest segments
We need be vocal for local toys: PM
The world wants to learn about India’s capabilities, art and culture and society, toys can play a big role in that: PM
India has ample content and competence for digital gaming: PM
75th anniversary of India’s Independence is a huge opportunity for the innovators and creators of the toy industry: PM

मुझे आप लोगों की बातें सुनकर के बहुत अच्छा लगा और मुझे खुशी है आज हमारे साथी मंत्री पियूष जी, संजय जी, ये सारे लोग भी हमारे साथ हैं और साथि‍यों 'टॉय-केथॉनमें जो देशभर से प्रतिभागी हैं, अन्य जो महानुभव हैं और भी आज इस कार्यक्रम को जो देख रहे हैं।

देखि‍ए हमारे यहां कहा जाता है-'साहसे खलु श्री: वसति'यानि साहस में ही श्री रहती है, समृद्धि रहती है। इस चुनौतीपूर्ण समय में देश के पहले टॉय-केथॉन का आयोजन इसी भावना को मजबूत करता है। इस'टॉय-केथॉनमें हमारे बाल मित्रों से लेकर, युवा साथियों, टीचर्स, स्टार्ट अप्स और उद्यमियों ने भी बहुत उत्साह से हिस्सा लिया है। पहली बार ही डेढ़ हजार से ज्यादा टीमों का ग्रैंड फिनाले में शामिल होना, ये अपने आप में उज्जवल भविष्य के संकेत देता है।ये Toys और games के मामले में आत्मनिर्भर भारत अभियान को भी मजबूती देता है। इसमें कुछ साथियों के बहुत अच्छे आइडियाज भी उभर कर के आगे आए हैं। अभी कुछ साथियों के साथ मुझे बातचीत करने का अवसर भी मिला। मैं इसके लिए फिर  से एक  बार बधाई देता हूँ।

साथियों,

बीते 5-6 वर्षों में हैकाथॉन को देश की समस्याओं के समाधान का एक बड़ा प्लेटफॉर्म बनाया गया है। इसके पीछे की सोच है- देश के सामर्थ्य को संगठित करना, उसे एक माध्यम देना। कोशिश ये है कि देश की चुनौतियों और समाधान से हमारे नौजवान का सीधा कनेक्ट हो। जब ये कनेक्ट मजबूत होता है तो हमारी युवा शक्ति की प्रतिभा भी सामने आती है और देश को बेहतर समाधान भी मिलते हैं। देश के पहले 'टॉय-केथॉन' का मकसद भी यही है। मुझे याद है, मैंने खिलौनों और डिजिटल गेमिंग की दुनिया में आत्मनिर्भरता और लोकल सोल्यूशंस के लिए युवा साथियों से अपील की थी। उसका एक पॉजिटिव रिस्पॉन्स देश में देखने को मिल रहा है। हालांकि चंद लोगों को ये भी लगता है कि खिलौने ही तो हैं, इनको लेकर इतनी गंभीर चर्चा की ज़रूरत क्यों है? असल में ये Toys, ये Games, हमारी मानसिक शक्ति, हमारी क्रिएटिविटी और हमारी अर्थव्यवस्था पर, ऐसे अनेक पहलुओं को प्रभावित करते हैं। इसलिए इन विषयों कीबात भी उतनी ही आवश्यक है।हम सब जानते हैं किबच्चे की पहली पाठशाला अगर परिवार होता है तो, पहली किताब और पहला दोस्त, ये खिलौने ही होते हैं। समाज के साथ बच्चे का पहला संवाद इन्हीं खिलौनों के माध्यम से होता है।आपने देखा होगा, बच्चे खि‍लौनो से बाते करते रहते हैं, उनको instruction देते हैं, उनसे कुछ काम करवाते हैं। क्योंकि उसी से उसके सामाजिक जीवन की एक प्रकार से शुरुआत होती है।इसी तरह, ये Toys, ये बोर्ड गेम्स, धीरे-धीरे उसकी स्कूल लाइफ का भी एक अहम हिस्सा बन जाते हैं, सीखने और सिखाने का माध्यम बन जाते हैं। इसके अलावा खिलौनों से जुड़ा एक और बहुत बड़ा पक्ष है, जिसे हर एक को जानने की जरूरत है। ये है Toys और Gaming की दुनिया की अर्थव्यवस्था- Toyconomy आज हम जब बात कर रहे हैं तो Global Toy Market करीब करीब 100 बिलियन डॉलर का है। इसमें भारत की हिस्सेदारी सिर्फ डेढ़ बिलियन डॉलर के आस पास ही है, सिर्फ डेढ़ बिलियन। आज हम अपनी आवश्यकता के भी लगभग 80 प्रतिशत खिलौने विदेशों से आयात करते हैं। यानि इन पर देश का करोड़ों रुपए बाहर जा रहा है। इस स्थिति को बदलना बहुत ज़रूरी है। और ये सिर्फ आंकड़ों की ही बात नहीं है, बल्कि ये सेक्टर देश के उस वर्ग तक, उस हिस्से तक विकास पहुंचाने में सामर्थ्य रखता है, जहां इसकी अभी सबसे ज्यादा ज़रूरत है। खेल से जुड़ा जो हमारा कुटीर उद्योग है, जो हमारी कला है, जो हमारे कारीगर हैं, वो गांव, गरीब, दलित, आदिवासी समाज में बड़ी संख्या में हैं। हमारे ये साथी बहुत सीमित संसाधनों में हमारी परंपरा, हमारी संस्कृति को अपनी बेहतरीन कला से निखारकर अपने खिलौनों में ढालते रहे हैं। इसमें भी विशेष रूप से हमारी बहनें, हमारी बेटियां बहुत बड़ी भूमिका निभा रही हैं। खिलौनों से जुड़े सेक्टर के विकास से, ऐसी महिलाओं के साथ ही देश के दूर-दराज इलाकों में रहने वाले हमारे आदिवासी और गरीब साथियों को भी बहुत लाभ होगा। लेकिन ये तभी संभव है जब, हम अपने लोकल खिलौनों के लिए वोकल होंगे, लोकल के लिए वोकल होना जरूरी है औरउनको बेहतर बनाने के लिए, ग्लोबल मार्केट में कंपिटेंट बनाने के लिए हर स्तर पर प्रोत्साहन देंगे। इसके लिए इनोवेशन से लेकर फाइनेंसिंग तक नए मॉडल विकसित करना बहुत ज़रूरी है। हर नए आइडिया को Incubate करना ज़रूरी है। नए Start ups को कैसे प्रमोट करें और खिलौनों की पारंपरिक कला को, कलाकारों को, कैसे नई टेक्नॉलॉजी, नई मार्केट डिमांड के अनुसार तैयार करें, ये भी आवश्यक है। 'टॉय-केथॉन' जैसे आयोजनों के पीछे यही सोच है।

साथियों,

सस्ता डेटा और इंटरनेट में आई तेजी, आज गांव- गांव तक देश को डिजिटली कनेक्ट कर रही है। ऐसे में फिजिकल खेल और खिलौनों के साथ-साथ वर्चुअल, डिजिटल, ऑनलाइन गेमिंग में भी भारत की संभावनाएं और सामर्थ्य, दोनों तेज़ी से बढ़ रहे हैं। लेकिन जितने भी ऑनलाइन या डिजिटल गेम्स आज मार्केट में उपलब्ध हैं, उनमें से अधिकतर का कॉन्सेप्ट भारतीय नहीं है, हमारी सोच से मेल नहीं खाता है। आप भी जानते हैं कि इसमें अनेक गेम्स के कॉन्सेप्ट या तो Violence को प्रमोट करते हैं या फिर Mental Stress का कारणबनातेहैं। इसलिए हमारा दायित्व है कि ऐसे वैकल्पिक कॉन्सेप्ट डिजायन हों, जिसमें भारत का मूल चिंतन, जो सम्पूर्ण मानव कल्याण से जुड़ा हुआ हो, वो हो, तकनीकि रूप में Superior हों, Fun भी हो, Fitness भी हो, दोनों को बढ़ावा मिलता रहे।और मैं अभी ये स्पष्ट देख रहा हूं कि Digital Gaming के लिए ज़रूरी Content और Competence हमारे यहां भरपूर है। हम 'टॉय-केथॉन' में भी हम भारत की इस ताकत को साफ देख सकते हैं। इसमें भी जो आइडिया सलेक्ट हुए हैं, उनमें मैथ्स और कैमिस्ट्री को आसान बनाने वाले कॉन्सेप्ट हैं, और साथ ही Value Based Society को मजबूत करने वाले आइडियाज भी हैं। अब जैसे, ये जो आई कॉग्नीटो Gaming का कॉन्सेप्ट आपने दिया है, इसमें भारत की इसी ताकत का समावेश है। योगसे VR और AI टेक्नॉलॉजी से जोड़कर एक नया गेमिंग सोल्यूशन दुनिया को देना बहुत अच्छा प्रयास है। इसी तरह आयुर्वेद से जुड़ा बोर्ड गेम भी पुरातन और नूतन का अद्भुत संगम है। जैसा कि थोड़ी देर पहले बातचीत के दौरान नौजवानों ने बताया भीकिये कंपीटिटिव गेम, दुनिया में योग को दूर-सुदूर पहुंचाने में बहुत मदद कर सकता है।

साथियों,

भारत के वर्तमान सामर्थ्य को, भारत की कला-संस्कृति को, भारत के समाज को आज दुनिया ज्यादा बेहतर तरीके सेसमझने के लिए बहुत उत्सुक है, लोग समझना चाहते हैं। इसमें हमारी Toys और Gaming Industry बहुत बड़ी भूमिका निभा सकती है। मेरा हर युवा इनोवेटर से, हर स्टार्ट-अप से ये आग्रह है कि एक बात का बहुत ध्यान रखें। आप पर दुनिया में भारत के विचार और भारत का सामर्थ्य, दोनों की सही तस्वीर रखने की जिम्मेदारी भी है।एक भारतश्रेष्ठ भारत से लेकर वसुधैव कुटुंबकम की हमारी शाश्वत भावना को समृद्ध करने का दायित्व भी आप पर है। आज जब देश आज़ादी के 75 वर्ष का अमृत महोत्सव मना रहा है, तो ये Toys और Gaming से जुड़े सभी Innovators और creators के लिए बहुत बड़ा अवसर है। आज़ादी के आंदोलन से जुड़ी अनेक ऐसी दास्तान हैं, जिनको सामने लाना ज़रूरी हैं। हमारे क्रांतिवीरों, हमारे सेनानियों के शौर्य की, लीडरशिप की कई घटनाओं को खिलौनों और गेम्स के कॉन्सेप्ट के रूप में तैयार किया जा सकता है। आप भारत के Folk को Future से कनेक्ट करने वाली भी एक मज़बूत कड़ी हैं। इसलिए ये ज़रूरी है कि हमारा फोकस ऐसे Toys, ऐसे गेम्स का निर्माण करने पर भी हो जो हमारी युवा पीढ़ी को भारतीयता के हर पहलू को Interesting और Interactive तरीके से बताए। हमारे Toys और Games, Engage भी करें, Entertain भी करें और Educate भी करें, ये हमें सुनिश्चित करना है। आप जैसे युवा इनोवेटर्स और क्रिएटर्स से देश को बहुत उम्मीदें हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि आप अपने लक्ष्यों में जरूर सफल होंगे, अपने सपनों को जरूर साकार करेंगे। एक बार फिर इस 'टॉय-केथॉन' के सफल आयोजन के लिए मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूँ, बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूँ !

धन्यवाद !