CM dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Published By : Admin | November 10, 2013 | 16:00 IST
"Centre out to strangulate Gujarat’s vibrant co-operative sector, holds back Rs.250-crore rebate on interest on crop loans: Narendra Modi "

Ahmedabad, Sunday: Gujarat Chief Minister Narendra Modi today took strong exception to the Congress-led UPA Government at the Centre hell bent on systematically strangulating Gujarat’s vibrant co-operative sector.

Addressing a farmers rally to dedicate the newly constructed Banaskantha Central Co-operative Bank building at Deesa, he said that Gujarat’s co-operative banks are committed to empower the state’s farmers, but the Union Finance Minister framing income-tax rules for the banking sector is out to finish them. Since Gujarat leads in the nation in the co-operative sector, the Centre’s maneuverings hit Gujarat the hardest. He said that Gujarat sets the benchmark in various fields but the Centre is habituated to criticizing Gujarat for no reason, on some pretext or the other.

Moreover, he said, the Centre owes Gujarat Rs.250-crore as two per cent rebate on four per cent interest on crop loans advanced by the co-operative banks. He said that it is Gujarat Government which had extended special assistance of Rs.85-crore to ensure co-operative banks in all the districts of the state did get the Reserve Bank of India licences.

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Mr. Modi invited political scientists, economists and other pundits to study the co-operative sector’s contribution to the Gujarat’s development model. There are 15 sugar mills in the co-operative sector in the state, but none of them allow the private parties, known to exploit sugarcane growers, to enter. He said that this sector needs all the more support to thrive, particularly in the wake of black sheep like Madhupura Urban Co-operative Bank betraying depositors’ confidence.

Mr. Modi said that if the farmers ask the Centre in unison to allow sluice gates at the Sardar Sarovar Project (SSP) dam on the Narmada, the job could be done faster. He also appealed to the farmers to contribute generously to constructing the majestic Statue of Unity.

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Gujarat’s Finance Minister and District Guardian Minister Nitin Patel said that the new building of the Banaskantha Central Co-operative Bank in itself is the symbol of the progress of the co-operative banking. He said that Gujarat is an example of peace and development and Mr. Narendra Modi is the icon of development. Just as Gujarat ensured no person or no place remained untouched by development, it would be Mr. Modi’s endeavor to ensure the same for entire India. He had a word of praise for Bank’s Chairman Shankarbhai Choudhry and other members for economic empowerment of the farmers of the district.

Minister of State Parbatbhai Patel, MP Haribhai Chaudhry and MLA and BJP district unit president Keshaji Chauhan, speaking on the occasion, said that people are keen to see the Vikas Purush Mr. Narendra Modi as the Prime Minister of India unfurling the Tricolour atop the Red Fort.

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Chief Minister dedicates new building of Banaskantha Central Co-operative Bank at Deesa

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
UPI payment: How NRIs would benefit from global expansion of this Made-in-India system

Media Coverage

UPI payment: How NRIs would benefit from global expansion of this Made-in-India system
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
India and Greece have a long history of deep cultural and people-to-people ties: PM Modi at press meet with PM Mitsotakis
February 21, 2024

Your Excellency, प्रधानमंत्री मित्सो-ताकिस,
दोनों देशों के delegates,
मीडिया के साथियों,

नमस्कार!

प्रधानमंत्री मित्सो-ताकिस और उनके डेलिगेशन का भारत में स्वागत करते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है। पिछले वर्ष मेरी ग्रीस यात्रा के बाद उनकी यह भारत यात्रा दोनों देशों के बीच मजबूत होती स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप का संकेत है।और सोलह वर्षों के बाद, इतना बड़ा अंतराल के बाद ग्रीस के प्रधानमंत्री का भारत आना, अपने आप में एक ऐतिहासिक अवसर है।

Friends,

हमारी आज की चर्चाएँ बहुत ही सार्थक और उपयोगी रहीं।यह प्रसन्नता का विषय है कि हम 2030 तक द्विपक्षीय व्यापार को दोगुना करने के लक्ष्य की ओर तेज़ी से अग्रसर हैं। हमने अपने सहयोग को नई ऊर्जा और दिशा देने के लिए कई नए अवसरों की पहचान की। कृषि के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच करीबी सहयोग की संभावनाएं अनेक हैं। और मुझे ख़ुशी है कि पिछले वर्ष इस क्षेत्र में किए गए समझौते के कार्यान्वयन के लिए दोनों पक्ष कदम उठा रहे हैं। हमने फार्मा, Medical Devices, टेक्नोलॉजी, इनोवेशन, Skill Development, और Space जैसे कई क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर ज़ोर दिया।

हमने दोनों देशों के start-ups को भी आपस में जोड़ने पर चर्चा की। Shipping और Connectivity दोनों देशों के लिए उच्च प्राथमिकता के विषय हैं। हमने इन क्षेत्रों में भी सहयोग को बढ़ाने पर विचार विमर्श किया।

Friends,

Defence और Security में बढ़ता सहयोग हमारे गहरे आपसी विश्वास को दर्शाता है। इस क्षेत्र में Working Group के गठन से हम defence, cyber security, counter-terrorism, maritime security जैसी साझा चुनौतियों पर आपसी समन्वय बढ़ा सकेंगे।

भारत में defence manufacturing में co-production और co-development के नए अवसर बन रहे हैं, जो दोनों देशों के लिए लाभदायक हो सकते हैं। हमने दोनों देशों के रक्षा उद्योगों को आपस में जोड़ने पर सहमति जताई हैं। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत और ग्रीस की चिंताएं और प्राथमिकताएं समान हैं। हमने इस क्षेत्र में अपने सहयोग को और अधिक मज़बूत करने पर विस्तारपूर्वक चर्चा की।

Friends,

दो प्राचीन और महान सभ्यताओं के रूप में भारत और ग्रीस के बीच गहरे सांस्कृतिक और people-to-people संबंधों का लम्बा इतिहास है। लगभग ढाई हज़ार वर्षों से दोनों देशों के लोग व्यापारिक और सांस्कृतिक संबंधों के साथ-साथ विचारों का भी आदान प्रदान करते रहे हैं।

आज हमने इन संबंधों को एक आधुनिक स्वरूप देने के लिए कई नए initiatives की पहचान की। हमने दोनों देशों के बीच Migration and Mobility Partnership Agreement को जल्द से जल्द संपन्न करने पर चर्चा की। इससे हमारे people-to-people संबंध और सुदृढ़ होंगे।

हमने दोनों देशों के उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने पर भी बल दिया। अगले वर्ष भारत और ग्रीस के डिप्लोमेटिक संबंधों की 75वीं वर्षगाँठ मनाने के लिए हमने एक Action Plan बनाने का निर्णय लिया। इससे हम दोनों देशों की साझा धरोहर, science and technology, innovation, sports और अन्य क्षेत्रों में उपलब्धियों को वैश्विक मंच पर दर्शा सकेंगे।

Friends,

आज की बैठक में हमने कई क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर भी चर्चा की। हम सहमत हैं कि सभी विवादों और तनावों का समाधान dialogue और diplomacy के माध्यम से किया जाना चाहिए।हम Indo-Pacific में ग्रीस की सक्रीय भागीदारी और सकारात्मक भूमिका का स्वागत करते हैं। यह ख़ुशी का विषय है कि ग्रीस ने Indo-Pacific Oceans Initiative से जुड़ने का निर्णय लिया है। पूर्वी Mediterranean क्षेत्र में भी सहयोग के लिए सहमति बनी है। भारत की G-20 अध्यक्षता के दौरान Launch किया गया आई-मैक कॉरिडोर लम्बे समय तक मानवता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देगा।

इस पहल में ग्रीस भी एक अहम भागीदार बन सकता है।हम UN तथा अन्य वैश्विक संस्थानों के reform के लिए सहमत हैं, ताकि इन्हें समकालीन बनाया जा सके। भारत और ग्रीस वैश्विक शांति और स्थिरता में योगदान देने के लिए अपने प्रयास जारी रखेंगे।

Excellency,

आज शाम आप रायसीना डायलॉग में Chief Guest के तौर पर शामिल होंगे। वहाँ आपका संबोधन सुनने के लिए हम सभी उत्सुक हैं। आपकी भारत यात्रा और हमारी उपयोगी चर्चा के लिए मैं आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं।