C.M promises Buddhist temple, religion study centre in state

Published By : Admin | January 15, 2010 | 12:59 IST
Share
 
Comments

Buddhism was born in this country, which makes me a son of India, born to Tibetian parents' is how the Dalai Lama described himself as he inaugurated the three-day International Seminar on Buddhist Heritage here on Friday.

On the occasion, Chief Minister Narendra Modi announced to start a centre for religion studies at M S University.

He also announced to construct a Buddhist temple in the state. 'This will not just be a place of worship or a revenue generation exercise to attract tourists, but also be developed as a centre of research on Buddhist philosophy,' he said.

Earlier in the day, the Dalai Lama paid a visit to Lord Buddha body relics found during an excavation at Devnimori conducted by the Department of Archaeology.

The Dalai Lama said, 'Amid the growing technology in the 21st Century, there is also growth in the desire for peace. In such a situation, religion in its different forms teaches the universal moral principles. Religion is a medicine and every medicine is judged for its effectiveness according to the illness of the patient.' He added, 'Most foreign universities have centres to study Buddhist concepts and India being the home of Buddhism, an academic centre in the country is necessary.'

The event was attended by several dignitaries, including Swami Dyaynand Saraswati, Yeshey Zimba, Minister from the Royal Government of Bhutan, Ruby Dhalla, Member of Parliament from Canada and other delegates and Buddhist scholars from Japan, Sri Lanka and other countries.

While the Canadian MP extended an invitation to Chief Minister Narendra Modi to visit the Gujarati population in Canada for growth of business between the two countries, a Buddhist monk from Sri Lanka invited scholars from Gujarat to his country for the festival of Vaishakhi Purnima.

Source: Indian Express

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
Average time taken for issuing I-T refunds reduced to 16 days in 2022-23: CBDT chairman

Media Coverage

Average time taken for issuing I-T refunds reduced to 16 days in 2022-23: CBDT chairman
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’s address to the media on his visit to Balasore, Odisha
June 03, 2023
Share
 
Comments

एक भयंकर हादसा हुआ। असहनीय वेदना मैं अनुभव कर रहा हूं और अनेक राज्यों के नागरिक इस यात्रा में कुछ न कुछ उन्होंने गंवाया है। जिन लोगों ने अपना जीवन खोया है, ये बहुत बड़ा दर्दनाक और वेदना से भी परे मन को विचलित करने वाला है।

जिन परिवारजनों को injury हुई है उनके लिए भी सरकार उनके उत्तम स्वास्थ्य के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। जो परिजन हमने खोए हैं वो तो वापिस नहीं ला पाएंगे, लेकिन सरकार उनके दुख में, परिजनों के दुख में उनके साथ है। सरकार के लिए ये घटना अत्यंत गंभीर है, हर प्रकार की जांच के निर्देश दिए गए हैं और जो भी दोषी पाया जाएगा, उसको सख्त से सख्त सजा हो, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

मैं उड़ीसा सरकार का भी, यहां के प्रशासन के सभी अधिकारियों का जिन्‍होंने जिस तरह से इस परिस्थिति में अपने पास जो भी संसाधन थे लोगों की मदद करने का प्रयास किया। यहां के नागरिकों का भी हृदय से अभिनंदन करता हूं क्योंकि उन्होंने इस संकट की घड़ी में चाहे ब्‍लड डोनेशन का काम हो, चाहे rescue operation में मदद की बात हो, जो भी उनसे बन पड़ता था करने का प्रयास किया है। खास करके इस क्षेत्र के युवकों ने रातभर मेहनत की है।

मैं इस क्षेत्र के नागरिकों का भी आदरपूर्वक नमन करता हूं कि उनके सहयोग के कारण ऑपरेशन को तेज गति से आगे बढ़ा पाए। रेलवे ने अपनी पूरी शक्ति, पूरी व्‍यवस्‍थाएं rescue operation में आगे रिलीव के लिए और जल्‍द से जल्‍द track restore हो, यातायात का काम तेज गति से फिर से आए, इन तीनों दृष्टि से सुविचारित रूप से प्रयास आगे बढ़ाया है।

लेकिन इस दुख की घड़ी में मैं आज स्‍थान पर जा करके सारी चीजों को देख करके आया हूं। अस्पताल में भी जो घायल नागरिक थे, उनसे मैंने बात की है। मेरे पास शब्द नहीं हैं इस वेदना को प्रकट करने के लिए। लेकिन परमात्मा हम सबको शक्ति दे कि हम जल्‍द से जल्‍द इस दुख की घड़ी से निकलें। मुझे पूरा विश्वास है कि हम इन घटनाओं से भी बहुत कुछ सीखेंगे और अपनी व्‍यवस्‍थाओं को भी और जितना नागरिकों की रक्षा को प्राथमिकता देते हुए आगे बढ़ाएंगे। दुख की घड़ी है, हम सब प्रार्थना करें इन परिजनों के लिए।