Share
 
Comments
"Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century"
"Shri Modi says that celebrations of occasions like Republic Day as ‘festivals of development’ was proof enough of the noteworthy progress we had made"
"None other than Swami Vivekananda said the youth will take India to great heights and I believe Swami Vivekananda: Shri Narendra Modi"

 

Addressing the Yuva Sammelan on “Uniting for India” at Himatnagar in Sabarkantha district on the afternoon of January 25, Shri Narendra Modi spoke about the tremendous potential we as a nation entail, considering the fact that nearly 65 per cent of the population of India was below 35 years of age. “A youthful nation like ours must leave an impact in the entire world,” said Shri Modi, while laying emphasis on the need for skill development. He said that the youth in Gujarat were skilful, and by guiding them and showing them the right direction, we could make them globally competent. Shri Modi also said that the sooner we did this, the better it would be for the Nation, as imparting skill to the youth would also contribute towards strengthening the financial prowess of the country.

Addressing a large crowd, Shri Modi underscored the significance of skilled youth power in the 21st century, and spoke about the policy-driven initiatives of the State Government that focused on ensuring holistic development of the youth.

He applauded the youth of India who performed spectacularly during the IT revolution, and also praised the show of support and strength put forth by the youth of Sabarkantha, who had turned up in large numbers at a recently conducted cycle race.

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Talking about the immense potential of the region, Shri Modi said, “Development works worth Rs. 2000 crores are either underway or have been inaugurated. Imagine the scope of development here!” Shri Modi also said that celebrations of occasions like Republic Day as ‘festivals of development’ was proof enough of the noteworthy progress we had made.

Shri Narendra Modi said that he strongly believed in Swami Vivekananda ji’s trust in youth power, and was certain that the youth will take India to great heights.

Shri Modi also acknowledged and appreciated the series of programmes on unity and India’s rich cultural heritage put forth by the youth, as a part of the celebrations. “Through the cultural programme we saw the richness and diversity of India,” said Shri Modi.

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Shri Narendra Modi underscores the significance of skilled youth power in the 21st century

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
India ‘Shining’ Brightly, Shows ISRO Report: Did Modi Govt’s Power Schemes Add to the Glow?

Media Coverage

India ‘Shining’ Brightly, Shows ISRO Report: Did Modi Govt’s Power Schemes Add to the Glow?
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's remarks ahead of Budget Session of Parliament
January 31, 2023
Share
 
Comments
BJP-led NDA government has always focused on only one objective of 'India First, Citizen First': PM Modi
Moment of pride for the entire country that the Budget Session would start with the address of President Murmu, who belongs to tribal community: PM Modi

नमस्‍कार साथियों।

2023 का वर्ष आज बजट सत्र का प्रारंभ हो रहा है और प्रारंभ में ही अर्थ जगत के जिनकी आवाज को मान्‍यता होती है वैसी आवाज चारों तरफ से सकारात्‍मक संदेश लेकर के आ रही है, आशा की किरण लेकर के आ रही है, उमंग का आगाज लेकर के आ रही है। आज एक महत्‍वपूर्ण अवसर है। भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी की आज पहली ही संयुक्‍त सदन को वो संबोधित करने जा रही है। राष्‍ट्रपति जी का भाषण भारत के संविधान का गौरव है, भारत की संसदीय प्रणाली का गौरव है और विशेष रूप से आज नारी सम्‍मान का भी अवसर है और दूर-सुदूर जंगलों में जीवन बसर करने वाले हमारे देश के महान आदिवासी परंपरा के सम्‍मान का भी अवसर है। न सिर्फ सांसदों को लेकिन आज पूरे देश के लिए गौरव का पल है की भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी का आज पहला उदृबोधन हो रहा है। और हमारे संसदीय कार्य में छह सात दशक से जो परंपराऐं विकसित हुई है उन परंपराओं में देखा गया है कि अगर कोई भी नया सांसद जो पहली बार सदन में बोलने के लिए में खड़ा होता है तो किसी भी दल का क्‍यों न हो जो वो पहली बार बोलता है तो पूरा सदन उनको सम्‍मानित करता है, उनका आत्‍मविश्‍वास बढ़े उस प्रकार से एक सहानूकूल वातावरण तैयार करता है। एक उज्‍जवल और उत्‍तम परंपरा है। आज राष्‍ट्रपति जी का उदृबोधन भी पहला उदृबोधन है सभी सांसदों की तरफ से उमंग, उत्‍साह और ऊर्जा से भरा हुआ आज का ये पल हो ये हम सबका दायित्‍व है। मुझे विश्‍वास है हम सभी सांसद इस कसौटी पर खरे उतरेंगे। हमारे देश की वित्त मंत्री भी महिला है वे कल और एक बजट लेकर के देश के सामने आ रही है। आज की वैश्‍विक परिस्‍थिति में भारत के बजट की तरफ न सिर्फ भारत का लेकिन पूरे विश्‍व का ध्‍यान है। डामाडोल विश्‍व की आर्थिक परिस्‍थिति में भारत का बजट भारत के सामान्‍य मानवी की आशा-आकाक्षों को तो पूरा करने का प्रयास करेगा ही लेकिन विश्‍व जो आशा की किरण देख रहा है उसे वो और अधिक प्रकाशमान नजर आए। मुझे पूरा भरोसा है निर्मला जी इन अपेक्षाओं को पूर्ण करने के लिए भरपूर प्रयास करेगी। भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्‍व में एनडीए सरकार उसका एक ही मकसद रहा है, एक ही मोटो रहा है, एक ही लक्ष्‍य रहा है और हमारी कार्य संस्‍कृति के केंद्र बिंदु में भी एक ही विचार रहा है ‘India First Citizen First’ सबसे पहले देश, सबसे पहले देशवासी। उसी भावना को आगे बढाते हुए ये बजट सत्र में भी तकरार भी रहेगी लेकिन तकरीर भी तो होनी चाहिए और मुझे विश्‍वास है कि हमारे विपक्ष के सभी साथी बड़ी तैयारी के साथ बहुत बारीकी से अध्‍ययन करके सदन में अपनी बात रखेंगे। सदन देश के नीति-निर्धारण में बहुत ही अच्‍छी तरह से चर्चा करके अमृत निकालेगा जो देश का काम आएगा। मैं फिर एक बार आप सबका स्‍वागत करता हूं।

बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। धन्‍यवाद।