ये मेरे लि‍ए सौभाग्‍य की बात है कि आ जमुझे बहुत छोटी उम्र वाले भारत के एक मित्र देश की संसद के संयुक्‍त अधिवेशन को संबोधित करने का सौभाग्‍य मिला है। मैं सबसे पहले भूटान की उस महान परंपरा को अभिनन्‍दन करता हूँ। जिस राजपरिवार ने भूटान में उच्‍च मूल्‍यों की प्रस्‍थापना की, भूटान के सामान्‍य से सामान्‍य नागरिक की सुखकारी, यहाँ की सांस्‍कृतिक विरासत को अक्षुण्‍ण रखना और विकास भी करना है लेकिन साथ-साथ पर्यावरण की रक्षा के संबंध में पूरी जागरूकता का रखना। ये परंपरा एक या दो पीढ़ी की नहीं है। राजपरिवार की कई पीढि़यों ने बड़ी सजगता के साथ इसे निभाया है, आगे बढ़ाया है और इसके लि‍ए उस महान परंपरा के धनी राजपरिवार को मैं भारत की तरफ से बहुत-बहुत बधाई देता हूँ, अभिनंदन करता हूँ। 

विश्‍व का जो आज मानस है और खासकर के पिछली एक शताब्‍दी में सत्‍ता का वि‍स्‍तार,राजनीति का केंद्रीयकरण,करीब-करीब पिछली पूरी शताब्‍दी इसी प्रकार की गतिविधियों से भरी पड़ी है, लेकिन भूटान अपवाद सिद्ध हुआ है। 

भूटान ने, विश्‍व में एकतरफ जब सत्‍ता के विस्‍तार का और सत्‍ता के केंद्रीयकरण का माहौल था, भूटान ने लोकतंत्र की मजबूत नींव डालने का प्रयास कि‍या। विश्‍व के कई भू-भागों में सत्‍ता हथियाने के निरंतर प्रयास चलते रहते हैं। विस्‍तारवाद की मानसिकता से ग्रस्‍त राजनीति‍ दल के नेता भूटान ने, बहुत ही उत्‍तम तरीके से, लोकशिक्षा के माध्‍यम से जन-मन को धीरे-धीरे तैयार करते हुए, संवैधानिक व्‍यवस्‍थाओं को नि‍श्‍चि‍त करते हुए,यहाँ लोकतांत्रि‍क परंपराओं को प्रतिस्‍थापि‍त किया। सात वर्ष लोकतंत्र के लिए कोई बहुत बड़ी उम्र नहीं होती है। लेकि‍न सात वर्ष के भीतर-भीतर, भूटान ने संवैधानिक मर्यादाएँ, लोकतांत्रिक मूल्‍यों और लोकतंत्र के अंदर सबसे बड़ी ताकत होती है स्‍वयंशिष्‍ट। नागरि‍कों की तरफ से स्‍वयंशि‍ष्‍ट, राजनीतिक दलों की तरफ से स्‍वयंशिष्‍ट, चुने हुए जन-प्रतिनिधियों की तरफ से स्‍वयंशिष्‍ट और स्‍वयं राजपरिवार की तरफ से भी स्‍वयंशिष्‍ट। ये अपने आप में एक उत्‍तम उदाहरण के रूप में आज दुनिया के सामने प्रस्‍तुत है। इसी के कारण,सात साल के भीतर-भीतर यहाँ की लोकतांत्रिक प्रक्रियाएँ, यहाँ के संसद की गरिमा, यहाँ के जन-प्रतिनिधियों के प्रति सामान्‍य मानव की आस्‍था, उत्‍तरोत्‍तर बढ़ रही है। मैं इसे शुभ संकेत मानता हूँ। 

सात साल की कम अवधि‍में सत्‍ता परिवर्तन होना,ये अपने आप में यहाँ के नागरिकों की जागरूकता का उत्‍तम परि‍चय है। जहाँ है वहाँ सेअच्‍छा करने के लिए, ज्‍यादा अच्‍छा करने के लिए, जवाबदेही तय करने के लिए, यहाँ के मतदाताओं ने जो जागरूकता दिखाई है वे स्‍वस्‍थ लोकतांत्रिक परंपरा के लिए मैं शुभ संकेत मानता हूँ। 

भारत में भी अभी-अभी चुनाव हुआ है। दुनि‍या का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। भारत के लोकतंत्रोंके बीच का जो फलकहै,विश्‍व के सभी देशों के लिए एक बड़ा अजूबा है। पूरा यूरोप और अमेरीका में मि‍लकर के जितने लोग मतदाता हैं उससे ज्‍यादा एक अकेले हिंदुस्‍तान मेंमतदाता हैं।इतना बड़ा, विशाल, लोकतंत्र का ये उत्‍सव होता हैऔर आजादी के बाद पहली बार, साठ साल के इतिहास में पहली बार, भारत के मतदाताओं ने परंपरागत रूप से जो शासन में थे ऐसे दल को छोड़ करके भारतीय जनता पार्टी को पूर्ण बहुमत के साथ सेवा करने का अवसर दिया है। 

ये लोकतंत्र की ताकत है और इस पूरे भूखंड में लोकतांत्रिकशक्‍ति‍याँ जितनी सामर्थ्‍यवान होंगी, लोकतांत्रिक मूल्‍यों की जितनी प्रस्‍थापना अधिक कारगर ढंग से होगी, उपखंड की शांति के लिए, उपखंड के विकास के लिए और उपखंड के गरीब से गरीबनागरिकों की भलाई के लिए एक सशक्‍त माध्‍यम सि‍द्ध होगा। भारत ने, भारत के नागरिकों ने,वि‍कास के लि‍ए ‘गुड गवर्नेंस’ के लिए जनादेश दिया है और जैसे अभी आदरणीय स्‍पीकर महोदय बता रहे थे कि भारत जितना सशक्‍त होगा उतना ही भूटान को लाभ होगा। मैं उनकी इस बात सेशत प्रतिशत सहमतहूँ। 

न सि‍र्फ भूटान लेकिन भारत के सशक्‍त होने से, भारत के समृद्ध होने से,इस पूरे भूखंड में और विशेषकरकेसार्कदेशों की भलाई के लिए भारत का सुखी-संपन्‍न होना आवश्‍यकहै। तभी जाकेभारत अपने अड़ोस-पड़ोस के छोटे-छोटे देशों की कठि‍नाइयों को दूर करने के कामआ सकता है। उनकी बची मुसीबतों में से पड़ोसी देश कहाँ जाएगा। पड़ोसी देश की पहली नजर अपने पड़ोसियों की तरफ जाती है। अब पड़ोसी का भी पड़ोसी धर्म निभाना एक कर्तव्‍य बन जाता है लेकि‍नअगर भारत ही दुर्बल होगा,भारत ही शक्‍ति‍शाली नहीं होगा, भारत ही अपनी आंतरिक समस्‍याओं को जूझता रहता होगा तो अड़ोस-पड़ोसि‍यों के सुख की चिंता कैसे कर पाएगा? इसलि‍ए, भारत के आस-पास के सभी साथियों का, मित्रों का,पड़ोसि‍यों का कल्‍याण हो तो उसके लि‍ए भी भारत हमेशा जागरूक रहा है,भारत हमेशा प्रयत्‍नशील रहा है। 

जब हमारी नई सरकार बनी और बहुत ही कम अवधि‍में हमने जब ‘सार्क’देशों के नेताओं को वहाँ बुलाया और सब के सब प्रमुख लोग वहाँ उपस्थित रह करके,हमारीसंसद की शोभा बढ़ाई। भूटान के आदरणीय प्रधानमंत्री जी भी वहाँ आए, मैं इसके लि‍ए आदरणीय प्रधानमंत्री जी का, भूटान का,हृदय से आभार व्‍यक्‍त करता हूँ, अभिनंदन करता हूँ। भारत और भूटान के संबंध,क्‍या कुछ शासकीय संबंध हैं क्‍या? अगर हम ये सोचें कि‍ये शासन व्‍यवस्‍थाओं के संबंध हैंतो शायद हमारी गलतफहमी होगी। भूटान में भी शासकीय परि‍वर्तन आया,लोकतांत्रि‍क व्‍यवस्‍था वि‍कसि‍त हुई लेकि‍न संबंधों को कोई आँच नहीं आयी। भारत में भी कई बार शासन व्‍यवस्‍थाएँ बदली हैं लेकि‍न भारत और भूटान के संबंधों को कोई आँच नहीं आईहै और उसका कारण भारत और भूटान के संबंध सि‍र्फ शासकीय व्‍यवस्‍थाओं के कारण नहीं हैं, भारत और भूटान के संबंध सांस्‍कृति‍क वि‍रासत के कारण है, सांस्‍कृति‍क परंपराओं के हमारे बंधनों के कारण है, हमारे सांस्‍कृति‍क वि‍भाजनों के कारण है। 

हम एक इसलि‍ए नहीं हैं कि हमने सीमाएँ खोली हैं, हम एकता की अनुभूति‍इसलि‍ए करते हैं कि‍हमने अपने दि‍ल के दरवाजे खोल करके रखे हैं। भूटान हो या भारत हमने अपने दि‍ल के दरवाजे खोल करके रखे हैं तभी तो हम एकता की अनुभूति‍करते हैंऔर इस एकता में, ताकत की अनुभूति‍करते हैं। ये शासन व्‍यवस्‍थाओं के बदलने से दि‍ल के दरवाजे बन्‍द नहीं होते हैं,सीमा की मर्यादाएँ पैदा नहीं होती हैं। भूटान और भारत का नाता उस अर्थ में एक ऐति‍हासि‍क धरोहर है और भारत और भूटान की आने वाली पीढ़ि‍यों को भी इस ऐति‍हासि‍क धरोहरको सम्‍भालना है,संजोए रखना है और उसको और अधि‍क ताकतवर बनानाहै। 

भारत की ये नई सरकार, भारत के कोटि‍कोटि‍जन,इसके लि‍ए प्रति‍बद्ध है। मैं कल भूटान आया, भूटान की यह मेरी पहली यात्रा है। अब प्रधानमंत्री बनने के बाद और इतनी, चुनाव में ऐसीस्‍थि‍ति‍बनने के बाद, इतना बढ़ि‍या जनादेश मि‍लने के बाद कि‍सी का भी मोह कर जाता हैकि‍दुनि‍या के कि‍सी भी बड़े ताकतवर देश में चले जाएँ, दुनिया के कि‍सी समृद्ध देश में चले जाएँ,जहाँ और वाहवाही हो जाएगी।ये लालच आना स्‍वाभावि‍क है लेकि‍न मेरे अंतरमन से आवाज़ उठी कि‍मैं भारत केप्रधानमंत्री के रूप में पहली बार अगरकहीं जाऊँगा तो भूटान जाऊँगा। इसके लिए मुझे ज्‍यादा सोचना नहीं पड़ा,कोई योजना नहीं बनाई। ये मेरा सहज कदम था, सवाल तोमेरी आत्‍मा मुझे तब पूछती किआप भूटान गये क्‍यों नहीं? क्‍योंकि‍अपनापन का इतना नाता है और यही नाता है जो मुझे आज आप सबके बीच आने का सौभाग्‍य दे रहा है। 

भूटान का विकास किसी भी छोटे देश के लिए और इतनी कठिनाईयों से जी रहे देश के लिए,वि‍श्‍व के हर देश के लि‍ए आने वाले दस साल में हम देखेंगेकि वि‍श्‍व के छोटे-छोटे देश अपने विकास के लिए,भूटान ने इन दो-तीन दशक में कैसे प्रगति‍की इस तरफ बारीकी से देखेंगे ऐसा मुझेमहसूस हो रहा है। जि‍स मक्तमता के साथ आपने विकास को आखिरी छोर के इंसान तक पहुँचाने का प्रयास किया है। ये अभिनंदन के पात्र हैं और दुनि‍या विकासदर की चर्चा कर रही हैं, जी. डी. पी. की चर्चा कर रही है और भूटान ‘Happiness’ की चर्चा कर रहा है। ये अपने आप में शासकके दि‍ल में आखिरी छोर पर बैठे हुए व्‍यक्ति की कल्‍याण की भावना न होगी तो ‘Happiness’ की कल्‍पना नहीं होगी और इसलिए रास्‍ते बन जाएँ, पानी के नल लग जाएँ, स्‍कूल खुल जाएँ, अस्‍पताल बन जाएँ, ये सब तो होगा लेकिन इसके लिए कोई लाभार्थ भी है, उसके जीवन में सुख आया है कि नहीं आया है, उसके जीवन में संतोष आया है कि नहीं आया है, उसके जीवन में आनंद की अनुभूति हो रही है या नहीं हो रही है।ये मानक तय करना होगा। इसका मतलब विकास की इकाई देश नहीं है, वि‍कास की इकाई राज्‍य नहीं है, वि‍कास की इकाई दृष्टि नहीं है लेकि‍न वि‍कास की इकाई हर ‘इंडिविजुअल’ है। ये अपने आप में एक बहुत बड़ा साहसि‍क नि‍र्णय है हर एक ‘इंडिविजुअल’ उस विकास की कि‍स ऊँचाई को पार कर रहा है, पा रहा है,वो चैन की नींद सो पा रहा है कि‍नहीं सो पा रहा है।अपने संतानों को जि‍स दिशा में ले जाना चाहता था, ले जा पा रहा है किनहीं ले जा पा रहा है। इतनी बारीकी से सोचना और इसके लि‍ए कार्ययोजना करना ये अपने आप में एक प्रेरक है। 

भूटान प्रकृति की गोद में बसा है। वि‍पुल प्राकृति‍क वि‍राट देश है, साथ-साथ भूटान ऊर्जा का स्रोत भी है। पिछले कुछ वर्षों में भारत और भूटान ने मि‍ल करके ऊर्जा के क्षेत्र में एक मजबूत पहल की है। उस पहल को हम और आगे बढ़ाना चाहते हैं और भूटान में ‘हाइड्रो पावर’ के माध्‍यम से बिजली उत्‍पादन करके न हम सिर्फ भूटान की आर्थिक स्थिति में सही कदमउठा रहे हैं, इतना ही नहीं हैऔर न ही हम भारत के भू-भाग का अँधेरा छांटने के लि‍ए काम कर रहे हैं, इतना सीमित नहीं है। 

भारत और भूटान का ये संयुक्‍त प्रयास ‘ग्‍लोबल वार्मिं‍ग’ से जूझ रही मानवता के लिए,‘ग्‍लोबल वार्मि‍ग’ से जूझ रहे पूरे वि‍श्‍व के लि‍ए, कुछ न कुछ हमारी तरफ से ‘contribution’ काएक सात्‍वि‍क प्रयास है। एक ‘sustainable’ विकास की दिशा में एक बड़ी ताकत के रूप में आया है। मैं आशा करूँगा कि दुनि‍या, भारत और भूटान के संयुक्‍त प्रयास को ‘ग्‍लोबल वार्मिंग’ के खिलाफ हमारी इस लड़ाई को, मानवजाति‍के कल्‍याण के लि‍ए हमारे प्रयास को, भावी पीढ़ी के कल्‍याण के प्रयास के लिए उसे देखा जाएगा। ऐसा मुझे वि‍श्‍वास है। 

मुझे इस बात की खुशी हुई कि 2014 में भूटान अपने बजट की काफी राशि‍शि‍क्षा के लि‍ए खर्च करने जा रहा है।इसका मतलब यह हुआ कि भूटान आज की पीढ़ी के सुख की नहीं,आने वाले पीढ़ि‍यों के ‘Happiness’ के लिए भी आज बीज बो रहा है। दुनि‍या में कहावत प्रचलि‍त है कि‍जो लोग एक साल के लिए सोचते हैं, वे अन्‍न की खेती करते हैं, जो लोग 10 साल के लि‍ए सोचते हैं, वो फूलों और फलों की खेती करते हैं लेकि‍न जो पीढ़ि‍यों की सोचते हैं वे मनुष्‍य बोतेहैं। शि‍क्षा,ये अपने आप में मनुष्‍य बोने का उत्‍तम से उत्‍तम प्रयास है जि‍ससे उत्‍तम नई पीढ़ि‍यों का नि‍र्माण होता हैं। 

मैं इस सार्थकप्रयास के लि‍ए भूटान के राजपरि‍वारों को, भूटान के जन-प्रति‍नि‍धि‍यों को और संसद में बैठे हुए सभी माननीय संसद सदस्‍यों को हृदय से अभि‍नंदन करता हूँ। उन्‍होंने शि‍क्षा को प्राथमि‍कता दी है औरजब आप दो कदम चले हैं तो हमारा भी मन करता है कि‍एक कदम हम भी आपके साथ चलें और इसलि‍ए शि‍क्षा को आधुनि‍क ‘टेकनोलॉजी’ से जोड़ने के लिए, शि‍क्षा के माध्‍यम से विश्‍व की खिड़की खोलने के लिए,भूटान के बालकों को भी अवसर मिलना चाहिए और इसलिए भारत नेभूटान में ‘ई-लाइब्रेरी’ का नेटवर्क बनाने के लिएतय कि‍या हैऔर ‘ई-लाइब्रेरी’ केकारण भूटान के बालक ज्ञान के भंडार के साथ जुड़ जाएंगे। दुनियां का जो भी ज्ञान उन्‍हें पाना होगा वो इस ‘टेक्‍नोलॉजी’ के माध्‍यम से पा सकेंगे। विश्‍व के ‘Latest’ से ‘Latest Magazine’ से उनको अपना सरोकार करना होगा, वो कर पाएँगे। 

तो शि‍क्षा में आपका ये नि‍वेश और भारत का उससे ‘Technological support’ यहाँ की नई पीढ़ी को आधुनि‍क ही बनाएगा और वि‍श्‍व के साथ कदम से कदम मि‍लाकरके चलने की ताकत भी देगा। ऐसा मुझे पूरा वि‍श्‍वास है। जब यहाँ शि‍क्षा का प्रारंभि‍क काल था तब से भारत के बहुत बड़ी मात्रा में शि‍क्षक भूटान में आया करते थे। दुर्गम इलाकों मेंजा करके यहाँ के लोगों को शिक्षित करने का काम करते थे ।और जब कोई राष्‍ट्र अपने यहाँ से दूसरे देश में शि‍क्षक भेजता है तो वो सत्‍ता केवि‍स्‍तरण का मकसद कभी नहीं होता है। जब शि‍क्षक भेजता है तब उसके मन में उस राष्‍ट्र को जड़ोंसेमजबूत करने का एक नेक इरादा होता है और दशकों से भारत से भूटान में बहुत बड़ी मात्रा में शि‍क्षक आए हैं। कठि‍न जीवन जी करके भी उन्‍होंने पुरानी पीढ़ि‍यों को शि‍क्षि‍त करने का प्रयास कि‍या है। वे, भूटान की जड़ों को मजबूत करने का एक नेक इरादे का अभि‍व्‍यक्‍ति‍है।उस बात को आगे बढ़ाते हुए शासन ने भी बहुत बड़ी मात्रा में ‘scholarship’ दे करके भूटान के होनहार नौजवानों को भारत के अच्छी से अच्छी ‘युनि‍वर्सिटियों’ में शि‍क्षा का प्रबंध कि‍या है। 

आज जब मैं आया हूँ तो मैंने कल आदरणीय प्रधानमंत्री जी को कहा था, ‘scholarship’ दे रहें हैं उसे हम ‘डबल’ करेंगें ताकि‍अधि‍क नौजवानों को आधुनि‍क शि‍क्षा पाने के लि‍ए सौभाग्‍य अवसर प्राप्‍त हो। उसी प्रकार से हमने कुछ और तरीके से भी आगे के दि‍शा में सोचना होगा। मेरा जब से भूटान आने का मन कर गया। मैं लगातार भूटान के साथ अपने संबंधों को और अधि‍क व्‍यापक पथ पर कैसे वि‍स्‍तृत करें, वि‍कसि‍त करें, इस पर सोचा क्या है? मेरे मन में वि‍चार आया जि‍तने हि‍मालयन ‘States’ हैं हिन्दुस्तान के और भूटान के, भवि‍ष्‍य में नेपाल जुड़ जाए तो नेपाल भी। क्या हम हर वर्ष एक स्‍पेशल खेल समारोह नहीं कर सकते हैं?हमारा सि‍क्‍किम है, अरूणाचल है, मि‍जोरम है, नागालैण्ड है, आसाम है,आपके पड़ोस में है और एक प्रकार से रूचि‍, वृत्‍ति‍, प्रभुति‍, प्रकृति‍सब बराबर-बराबर हैंतो एक नई पीढ़ी खेल-कूद के माध्‍यम से उनको जोड़ने का प्रयास होगा। भारत सरकार भी इस पर सोचेगी, छोटे-छोटे राज्‍य भी सोचेंगे और भूटान भी सोचेगा। हर वर्ष अलग-अलग प्रदेशों में हम खेल के माध्‍यम से भी मि‍लेंगे। भूटान में भी मि‍लेंगे क्‍योंकि‍खेल के माध्‍यम से, ‘sports’ के माध्‍यम से ‘sportsmen spirit’ आताहैऔर हमारे पड़ोसी राज्‍यों और पड़ोसी देशों के साथ ‘स्‍पोर्ट्समैन स्‍प्रिट’ जि‍तना ज्‍यादा बढ़ता है उतना समाज जीवन के अंदर ‘Happiness’ में भी अच्‍छा माहौल भी बनता है। 

स्‍वस्‍थ समाज के नि‍र्माण की ओर काम होता है। उसी प्रकार से यह आवश्‍यक है कि‍भारत के बालक भी जाने कि भूटान कहाँ है, कैसा है, इति‍हास क्‍या है सांस्‍कृति‍क्‍या है, परंपरा क्‍या है, मूल्‍य क्‍या है और भूटान जोकि‍भारत के साथ अटूट रूप से जुड़ा हुआ है। भूटान की भी नई पीढ़ी जाने आखि‍र कि हिंदुस्‍तान के हमारा पुराना नाता क्‍या रहा है। सदि‍यों से हम ऐसे कैसे जुड़े हैं। हि‍न्‍दुस्‍तान की वो कौन-सी ताकत है,वो कौन-सी परंपरा है जि‍सको जानना समझना चाहि‍ए। क्‍यों न हम आधुनि‍क वि‍ज्ञान और टेक्‍नोलॉजी के माध्यमसे प्रति‍वर्ष भूटान और भारत के बालकों के बीच ‘Quiz Competition’ करें,हमारे नौजवान तैयारी करें, एक-दूसरे देशों के बारीक जानकारि‍यों के लि‍ए competition हो, उस स्पर्द्धा में उत्‍तीर्ण हो नौजवान। मैं देख रहा हूँ कि‍भूटान के काफी लोग हिंदी समझ लेते हैं क्‍योंकि‍बहुत बड़ी मात्रा में हिंदुस्‍तान पढ़ने के लि‍ए जाते हैं। अब हिंदुस्‍तान में पढ़ने के लि‍ए जाते हैं, अगर उनको थोड़ा वहाँ की भाषा का ज्ञान प्रारंभि‍क रूप में परि‍चि‍त हो जाएँ तो उनको पढ़ने में बहुत सुवि‍धा बढ़ती है। इसको हम कैसे आगे बढ़ा सकते हैं इस पर हम सोचेंगें। भारत का ‘satellite ’क्‍या हमारे भूटान के वि‍कास के लि‍ए काम आ सकती है क्‍या? 'Space Technology’ के माध्‍यम से भारत भूटान की और मदद कर सकता है क्‍या? हमारे जो वैज्ञानिक हैं वे उस पर सोचें और भूटान के साथ बैठ करके भविष्य में ‘Space Science’ के माध्‍यम से हम दोंनों देशों को किस प्रकार से जोड़ सकते हैं, किस प्रकार से हमारे संबंधों को विकसित कर सकते हैं, उसका हम प्रयास करें। 

कभी-कभी ऐसा लगता है,लोग कहते हैं कि हि‍मालय हमें अलग करता है,सोचने का ये एक तरीका है। मेरा सोचने का तरीका दूसरा है और मैं सोचता हूँ कि हि‍मालय हमें अलग नहीं करता है; हि‍मालय हमें जोड़ता है। हि‍मालय हमारी साझी वि‍रासत है। हि‍मालय के उस पार रहने वाले भी हि‍मालय को उतना ही प्‍यार करते हैं जि‍तना हि‍मालय के इस छोर पर रहने वाले करते हैं। दोनों तरफ बसे हुए लोग हि‍मालय के प्रति‍उतना ही आदर और गौरव की अनुभूति‍करते हैं। दोनों तरफ के क्षेत्रों के लि‍ए हि‍मालय एक शक्‍ति‍का स्रोत बना हुआ है। हि‍मालय से दोनों को बहुत लाभ मि‍ला है। 

समय की माँग है कि‍एक वैज्ञानि‍क तरीके से ‘हि‍मालय रेंजेज’ का ‘study’ हो ‘climate’ के संदर्भ में हो, प्राकृति‍क संपदा के संबंध में हो, उस वि‍रासत का आने वाली पीढ़ी के लि‍ए कैसे उपयोग कि‍या जा सके, भारत ने आने वाले दि‍नों में सोचा है। एक ‘National Action Plan for Climate change’ दूसरा भारत गंभीरतापूर्वक इस बात पर सोच रहा है कि‍‘National Mission for sustaining Himalayan Eco system’। लेकि‍न ये अकेला भारत नहीं कर सकता। 

अड़ोस-पड़ोस के देशों को मि‍ल करके इसको करना होगा और हम इसके लि‍ए एक संयुक्‍त रूप से कैसे आगे बढ़े, उस दि‍शा में हम सोचना चाहते हैं। हमारी सरकार ने एक और भी ‘इनि‍सि‍एटीव’ लेने के लि‍ए सोचा है, हम चाहते हैं एक ‘सेंट्रल युनि‍वर्सि‍टी ऑफ हि‍मालयन स्‍टडीज’इसका ‘initiative ’लि‍या जाए और एक ‘Central University for Himalayan Studies’ के माध्‍यम से यहाँ के जन-जीवन,यहाँ के प्राकृति‍क संपदा, यहाँ पर आने वाले परि‍वर्तन, इस में से मानव जाति‍के कल्‍याण के लि‍ए कार्य कि‍या जा सकता है। एक ‘focus subject’ बना करकेइसको कैसे आगे बढ़ाया जाए, उस पर हम सोच रहे हैं और मैं मानता हूँ इसका लाभ आपको भी बहुत बड़ी मात्रा में होगा। 

‘Tourism’ एक ऐसा क्षेत्र है, भूटान ‘Tourism destination’ बन रहा है। मैं हमेशा मानता हूँ दुनि‍या के पुराने इति‍हास काल से हम देखें, पुरातन काल से भी देखें इक्‍के दुक्‍के भी ‘Tourist’ साहस के लि‍ए नि‍कलते थे। कभी चीन से ह्वेनसांग नि‍कला होगा,कभी वाक्‍सकोडि‍गामा नि‍कला होगा। कई लोग हर एक देश के इति‍हास में कोई न कोई ऐसे महापुरुष मि‍लेंगे जो सदि‍यों पहले कठि‍नाइयों के बीच वि‍श्‍व भ्रमण के लि‍ए नई चीजें खोजने के लि‍ए नि‍कले थे। वहाँ से लेकर अब तक हम देखें तो ‘Tourism’ ने बीते हुए कल को और वर्तमान को जोड़ने का प्रयास कि‍या है। सफल प्रयास कि‍या है। ‘Tourism’ ने एक भू-भाग को दूसरे भू-भाग से जोड़ने में सफलता प्राप्‍त की है। ‘Tourism’ ने एक जन-मन को दूसरे जन-मन के साथ जोड़ने में सफलता प्राप्‍त की है। एक ओर ‘Tourism’ वि‍श्‍व को जोड़ने की ताकत रखता है। मैं मानता हूँ की ‘Terrorism devices, Tourism unites’ और इसलि‍ए ‘Tourism’ जि‍सकी जोड़ने की ताकत है और भूटान जि‍समें ‘टूरि‍स्‍टों’ को आकर्षि‍त करने की प्राकृति‍क संपदा है। भारत और भूटान मि‍लकर संयुक्‍त रूप से वि‍श्‍व के ‘टूरि‍स्‍टों’ को आकर्षि‍त करने के लि‍ए एक ‘holistic approach से लेकर योजना’ बना सकते हैं। कभी न कभी हमने इस देश में सोचना चाहि‍ए, हिंदुस्‍तान के ‘North East’ के इलाके और भूटान के, इनका एक ‘common circuit’ बना करके, एक ‘Package Tour Programme’ बना करके इस ‘Himalayan Ranges’ मेंवि‍श्‍व के लोगों को कैसे आकर्षि‍त कि‍या जा सके और ‘Tourism’ एक ऐसा क्षेत्र है जि‍स में कम से कम पूँजी नि‍वेश होता है और ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को रोजगार प्राप्‍त होता है। गरीब से गरीब व्‍यक्‍ति‍भी, ‘Tourism’ बढ़ता है तो उसको आय होती है ‘Tourism’ के वि‍कास के लि‍ए संयुक्‍त रूप से कैसे प्रयास करें, उसको हम कैसे आगे बढ़ाएँ, और अगर भूटान की प्राकृति‍क संपदा के साथ भारत का संबंध जुड़ जाए तो वि‍श्‍व को भूटान के इस भू-भाग पर और भारत के ‘North East’ भाग पर आने के लि‍ए,बहुत बड़ा नि‍मंत्रण पहुँच जाएगा। पूरी ताकत के साथ पहुँच जाएगा और इसके लि‍ए हम अगर आने वाले दि‍नों में योजना करते हैं मुझे वि‍श्‍वास है कि‍बहुत उद्धार होगा। 

मैं कल यहाँ जब मि‍ला तो आप की संसद की जो परंपरा वि‍कसि‍त हुई है, उसे सुन करके बड़ा आनंद हुआ। आप के स्‍पीकर साहब बहुत ही नियम से संसद को चलाते हैं। कि‍सी को अगर पाँच मि‍नट बोलने का अवसर मि‍ला है, अगर वो पाँच मि‍नट पर 10 सैकेंड चला गया तो आखिरी 10 सैकेंड उसके रि‍कार्ड नहीं होते हैं, ऐसा मुझे बताया गया है। ये बड़ा अच्‍छा तरीका है। इसलि‍ए जि‍सको भी अपनी बात बतानी होगी उसको नि‍श्‍चि‍त मि‍ले हुए समय में। हम भारत के लोग भारत की संसद में इस बात को सीखने का प्रयास जरूर करेंगे कि‍आपने अपनी संसद की आयु छोटी है लेकि‍न छोटी आयु में भी आपने संसदीय प्रणालि‍यों में जो नए नि‍यम लाए हैं, कुछ समझने जैसे हैं, कुछ सीखने जैसे हैं। 

मैं आप सबको नि‍मंत्रण देता हूँ,भारत से जुड़ने के लि‍ए और अधि‍क जन-जन का जुड़ाव हो,सरकारें तो हैं वो तो रहने वाली हैं, मि‍लने वाली हैं लेकि‍न हमारा नाता जन-जन के साथ जुड़ा हुआ है इसकी मजबूती हमारा मि‍लन, जि‍तना बढ़ेगा हमारा आना जाना जि‍तना बढ़ेगा एक दूसरे से हमारा नाता जितना बढ़ेगा, उतना ही मैं समझता हूँ, आज कल तो ‘टेक्‍नोलॉजी’ ने पूरी दुनि‍या को छोटा सा गाँव बना कर रख दि‍या है। ‘Fraction of second’ में दुनि‍या के कि‍सी भी कोने में पहुँच पाते हैं। अपनी बात पहुँचा सकते हैं दुनि‍या की बात जान सकते हैं यह नया वि‍ज्ञान भी हमको जोड़ रहा है। भारत के प्रयासों के कारण, भूटान सरकार के नि‍रंतर प्रयासों के कारण यहाँ की जो नई पीढ़ी है वो कंप्‍यूटर ‘Literate’ है ‘Techno savy’ है आने वाले दि‍नों में बहुत उपकारक हो सकती है तो चहूँ दि‍शा में वि‍कास हो, सुख और समृद्धि‍प्राप्‍त हो। 

आज आप सभी के बीच बात करने का अवसर मि‍ला। मैं आपको वि‍श्‍वास दि‍लाता हूँ कि‍भारत और भूटान का ये नाता अजर और अमर है। शासकीय व्‍यवस्‍थाओं पर नि‍र्भर नहीं है। एक सांस्‍कृति‍क वि‍रासत से बँधा हुआ है। जि‍स प्रकार से कि‍तनी बड़ी चोट पानी को अलग नहीं कर सकती है, वैसे ही भारत और भूटान के सांस्‍कृति‍क वि‍रासत को कोई अलग नहीं कर सकता है। 

मैं जब भूटान के संबंध में जानकारी इकट्ठी कर रहा था तो मुझे एक बात बहुत अच्‍छी लगी, तीसरे राजा ने भारत के साथ संबंधों की बात आयी तो एक बड़ा अच्‍छा संदेश भेजा था। उन्‍होंने कहा था भारत और भूटान का संबंध, जैसे दूध और पानी मि‍ल जाए फि‍र दूध और पानी को जैसे अलग नहीं कि‍या जा सकता, वैसा ही रहेगा और वो परंपरा आज भी चल रही है, लेकि‍न यहाँ के तीसरे राजा की वो बात जब मैंने पढ़ी तो मुझे मैं जि‍स प्रदेश से आता हूँ वहाँ से घटना का स्‍मरण आया मुझे। 

400 साल पहले उस क्षेत्र में एक हिंदू राजा थे, जि‍द्दी राणा करकेउनका राज चलता था, और ईरान से पारसी लोग आए ये दुनि‍या की सबसे छोटी ‘Minority’ है ‘Micro Minority’ ईरान से उनको भेजा गया, वो आए। समुद्र के रास्‍ते गुजरात के कि‍नारे पर आए।अब वो जि‍द्दी राणा के क्षेत्र में यानी गुजरात के उस इलाके में आश्रय चाहते थे तो जि‍द्दी राणा ने उनको लबालब दूध का भरा कटोरा दे दि‍या और ‘indirectly’ संदेश भेजा कि‍पहले से ही मेरे यहाँ इतने लोग हैं हम उसमें नई जगह नहीं देंगे। दूध का कटोरा भरा पड़ा हुआ बताया और जो पारसी लोग ईरान से आए थे उन्‍होंने क्‍या कि‍या, उसमें चीनी मि‍ला दी, शक्‍कर मि‍ला दी और दूध को मीठा कर दि‍या और लबालब दूध से भरा हुआ वो प्‍याला वैसे का वैसा वापस भेजा। जि‍द्दी राणा ने जब देखा की दूध मीठा हो गया है तो उन्‍होंने तुरंत न्‍यौता भेजा,समुद्र के अंदर कि‍आप का स्‍वागत है, आप आइए। और जो घटना 400 साल पहले ईरान से आए हुए पारसी लोगों के शब्‍दों में, उस व्‍यवहार में थी वही बात तीसरे राजा के उन शब्‍दों में दूध और पानी के मि‍लन की थी दोनों मेंथोडा सा अंतर हैऔर वो ‘Micro Minority’ आज भीसमुद्र के साथ हिंदुस्‍तान के अंदर पारसी कौम जीवन के हर क्षेत्र में नई ऊँचाइयाँ प्राप्‍त की उन्‍होंने, वैसे ही भूटान और भारत का नाता हर क्षेत्र में नई ऊँचाइयों को प्राप्‍त करने वाला बना रहेगा। 

मुझे पूरा वि‍श्‍वास है। मेरी तरफ से भूटान वासि‍यों का मैं अभि‍नंदन करता हूँ और कल एयरपोर्ट से आगे 50 कि‍लोमीटर तकजो स्‍वागत और सम्‍मान दि‍या है, भूटान के लोगों ने उमंग और उत्‍साह का देखते ही बनता है। मैं इस स्‍वागत और सम्‍मान के लि‍ए भूटान के नागरि‍कों का हृदय से अभि‍नंदन करता हूँ आभार व्यक्त करता हूँ और आप सबके बीच आने का मुझे अवसर मि‍ला, आप से बात करने का मुझे अवसर मि‍ला है, इसके लि‍ए आपका बहुत ही अभारी हूँ। राजपरि‍वार में जि‍स प्रकार से स्‍वागत और सम्‍मान कि‍या है राजपरिवार का भी मैं अभारी हूँ। आप सबको बहुत-बहुत धन्‍यवाद। 

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India's retail inflation eases to 10-month low of 4.85 per cent in March

Media Coverage

India's retail inflation eases to 10-month low of 4.85 per cent in March
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as development of India: PM Modi in Udhampur
April 12, 2024
After several decades, it is the first time that Terrorism, Bandhs, stone pelting, border skirmishes are not the issues for the upcoming Lok Sabha elections in the state of JandK
For a Viksit Bharat, a Viksit JandK is imminent. The NC, PDP and the Congress parties are dynastic parties who do not wish for the holistic development of JandK
Abrogation of Article 370 has enabled equal constitutional rights for all, record increase in tourism and establishment of I.I.M. and I.I.T. for quality educational prospects in JandK
The I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as the development of India, and a direct example of this is the opposition and boycott of the Pran-Pratishtha of Shri Ram
In the advent of continuing their politics of appeasement, the leaders of I.N.D.I alliance lived in big bungalows but forced Ram Lalla to live in a tent

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद