Share
 
Comments
“Our ‘New India’ will be as prosperous and strong as it was in the ancient times, with its glorious heritage: PM Modi
As a ‘Chowkidar,’ it is my duty to give an account of my achievements in the last five years and also ask others to list what they achieved during theirs: Prime Minister Modi in Meerut
The choice to voters in the upcoming elections is between a sloganeering government or a government that actually implements those slogans: PM Modi in Meerut
It was the government of this ‘Chowkidar’ that had the guts to conduct surgical strikes on land, air and even outer space: Prime Minister Modi
The people of this country will never be fooled by those shedding crocodile tears on their poverty: PM Modi
It is quite ironic that those who could not even open bank accounts for all Indians in 70 years are now talking about transferring money into people’s bank accounts: PM Modi in Meerut

पश्चिमी यूपी के कोने-कोने से मेरठ हापुड़, बिजनौर, मुज़फ्फरनगर, बागपत, गाजियाबाद, नोएडा समेत पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश से यहां पधारे आप सभी बहनों-भाइयों को मेरा प्रणाम।

दिल्ली ही नहीं दुनिया का मीडिया, पूरब-पश्चिम, उत्तर-दक्षिण, जिसे भी 2019 का जनादेश देखना हो, वो इस जन-सैलाब को देख सकता है। भारत मन बना चुका है, भारत के 130 करोड़ लोग मन बना चुके हैं। देश में फिर एक बार मोदी सरकार बनने जा रही है। इस विशाल संख्या में पधारने के लिए मैं आप सभी का, भारतीय जनता पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता, एक-एक बूथ का इंतजाम देखने वाले , अपने साथी का हृदय पूर्वक आभार व्यक्त करता हूं। साथियो,  2019 के चुनाव अभियान की शुरुआत मेरठ से ही करने के पीछे एक वजह है। 2019 का ये चुनाव, हर देशवासी की आकांक्षा, मजबूत भारत के सपने से जुड़ा चुनाव है। वही सपना, वही आकांक्षा, जिसे दिल में लिए 1857 को इसी मेरठ क्षेत्र में स्वतंत्रता के आंदोलन का पहला बिगुल फूंका गया था। इसी गौरवशाली परंपरा को निभाने वाले सुकमा के नक्सली हमले में शहीद हुए शोभित शर्मा और पुलवामा हमले में शहीद हुए अजय कुमार जी को मैं एक बार फिर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। हम सब के आदरणीय चौधरी चरण सिंह जी को भी मैं नमन करता हूं। चौधरी चरण सिंह जी ने देश के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया, चौधरी साहब देश के उन सपूतों में से हैं, जिन्होंने देश की राजनीति को खेत-खलिहान और किसान पर ध्यान देने के लिए मजबूर किया।   

साथियो, 5 वर्ष पहले जब मैंने आप सभी से आशीर्वाद मांगा था तो आपने भरपूर प्यार दिया था। मैंने आप से कहा था कि आपके प्यार को आपके आशीर्वाद को मैं ब्याज सहित लौटाऊंगा और मैंने आपको ये भी कहा था कि जो काम किया है, उसका हिसाब भी दूंगा और हां,  अपना हिसाब दूंगा, साथ-साथ दूसरों का हिसाब भी लूंगा। ये दोनों काम साथ-साथ चलने वाले हैं और तभी तो होगा हिसाब बराबर और आप तो जानते हैं मैं चौकीदार हूं और चौकीदार कभी नाइंसाफी नहीं करता है।  हिसाब होगा, सबका होगा, बारी-बारी से होगा। आने वाले दिनों में, देश के सामने NDA सरकार के 5 साल के काम को रखूंगा ही, अपने विरोधियों से ये भी पूछूंगा कि जब आप सरकार में थे जब देश के लोगों ने आप लोगों पर भरोसा किया था तो आप नाकाम क्यों रहे?  क्यों देश का भरोसा तोड़ा?

साथियो, आज एक तरफ विकास का ठोस आधार है तो दूसरी तरफ ना नीति है ना विचार है और ना ही कहीं नीयत नजर आती है।  एक तरफ फैसले लेने वाली सरकार है तो दूसरी तरफ दशकों तक फैसले टालने वाला इतिहास मौजूद है। एक तरफ नए भारत के संस्कार हैं और दूसरी तरफ वंशवाद और भ्रष्टाचार का बोलबाला है, एक तरफ दमदार  चौकीदार है और दूसरी तरफ दागदारों की भरमार है।  

साथियो, हमारा विजन नए भारत का है ऐसे भारत का जो अपने गौरवशाली अतीत के अनुरूप ही वैभवशाली होगा। एक ऐसा नया भारत, जिसकी नई पहचान होगी, जहां सुरक्षा, समृद्धि और सम्मान के संस्कार होंगे, सुरक्षा देश के दुश्मनों से, सुरक्षा आतंकवाद से,  सुरक्षा गुंडागर्दी से, सुरक्षा भ्रष्टाचारियों से, सुरक्षा बीमारी से, समृद्धि साधनों और संसाधनों की, समृद्धि ज्ञान और विज्ञान की, समृद्धि संस्कृति और विचार की, समृद्धि हमारे आचार और व्यवहार की।  और जब मैं सम्मान की बात करता हूं तो सम्मान श्रम का, सम्मान काम का, सम्मान बेटियों का, सम्मान हर वर्ग का, सम्मान देश के मान का, अभिमान का।

 

भाइयो और बहनो,   इस देश ने सिर्फ नारे लगाने वाली सरकारें बहुत देखी हैं लेकिन पहली बार ऐसी निर्णायक सरकार भी देख रहा है, जो अपने संकल्प को सिद्ध करना जानती है। जमीन हो, आसमान हो या फिर अंतरिक्ष, सर्जिकल स्ट्राइक का साहस आपके इस चौकीदार की सरकार ने दिखाया है। चार दशक से, चालीस साल से हमारे सैनिक, वन रैंक-वन पेंशन मांग रहे थे। उसको पूरा करने का काम भी इसी चौकीदार ने किया, देश के करीब 12 करोड़ किसान परिवारों को 75 हजार करोड़ रुपए की सीधी वार्षिक मदद पहुचाने का काम भी इसी चौकीदार ने किया। देश के लगभग 50 करोड़ गरीब परिवारों हर वर्ष 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की व्यवस्था भी हमारी सरकार ने की है। देश के 34 करोड़ गरीबों के लिए जन-धन योजना के तहत बैंक खाते भी हमारी सरकार ने खुलवाए हैं

और जब मैं बैंक खाते खुलवाता था, तो बड़े बुद्धिमान लोग भाषण करते थे कि देश में बैंक नहीं हैं गांव का आदमी क्या करेगा। ऐसा कहते थे कि नहीं कहते थे?  और आज वो ही कह रहे है, जो लोग गरीबों का बैंक खाता 70 साल तक नहीं खुलवा पाए, वो अब कहते हैं तुम्हारे खाते में पैसे डालेंगे, कोई भरोसा करेगा क्या?

अरे जो खाता नहीं खुलवा सकता है, वो खाते में डाल सकता है क्या? देश की 7 करोड़ से अधिक गरीब बहनों को मुफ्त गैस सिलिंडर देकर धुएं से मुक्ति देने का काम भी, आपने हमें सेवा करने का मौका दिया-हमने कर के दिखाया।  

देश भर में 10 करोड़ गरीब परिवारों के घर शौचालय देकर बहनों को इज्जत का जीवन देने का सौभाग्य भी हमें मिला है। 1. 5 करोड़ से अधिक गरीब बेघर परिवारों को अपना पक्का घर भी हमारी सरकार   ने ही दिया है, देश के 2. 5 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों तक पहली बार बिजली कनेक्शन देने का काम भी हमने ही किया है। 15 करोड़ से अधिक बिना गारंटी के ऋण देकर युवा साथियों को स्वरोजगार से जोड़ने का काम पहली बार NDA  ने ही किया है। सामान्य वर्ग के गरीबों को और मुझे विश्वास है कि जब ये खबर आपने सुनी होगी आपका सीना चौड़ा हो गया होगा। सामान्य वर्ग के गरीबों को, दस प्रतिशत आरक्षण देने का ऐतिहासिक फैसला भी हमने ही लिया है। देश के ईमानदार करदाताओं को 5 लाख रुपए तक की कर योग्य आय पर टैक्स जीरो करने का रिकार्ड भी हमने ही बनाया है।  

साथियो, समाज का ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है और देश का ऐसा कोई कोना नहीं है जो विकास के हमारे इन कामों से अछूता रहा हो, सबका साथ-सबका विकास, हमारी यही सोच है, जिस पर नए भारत का निर्माण हो रहा है।  

11 अप्रैल को, आपका वोटिंग 11 अप्रैल को है ना? 11 अप्रैल को जब देश पहला वोट डालेगा, जब पहली बार वोट डालने वाला हमारा युवा बूथ में जाएगा तो वो ईवीएम पर कमल के निशान पर उंगली दबाने से पहले   विकास की इस तस्वीर को लेकर के जाने वाला है।

साथियो, आपके चौकीदार की सरकार ने जो हासिल किया है वो तब और साफ हो जायेगा जब 2014 से पहले के भारत यानी आपके इस चौकीदार के आने से पहले की स्थिति से जब आप तुलना करेंगे। जरा एक बार उन पुराने दिनों को याद करिये और मुझे बताइये इन महामिलावटी लोगों की सरकार जब दिल्ली में थी तब देश में आए दिन बम धमाके होते थे कि नहीं होते थे? मैं दोबारा पूछूं, जब ये महामिलावटी लोग बैठे थे दिल्ली सरकार में तब आए दिन देश में  अलग-अलग कोने में बम धमाके होते थे कि नहीं होते थे? ये महामिलावटी, आतंकियों को संरक्षण देते थे कि नहीं देते थे? ये आतंकियों की भी जात और उनकी पहचान देखते थे कि नहीं देखते थे? उसके आधार पर तय करते थे कि आतंकी को बचाना है या सजा देनी है। बताइए भाइयो, ऐसा होता था कि नहीं होता था। मुझे बताया गया है कि यहां मेरठ में जो विरोधी दलों के उम्मीदवार हैं, उन्होंने आतंकवादियों के लिए करोड़ों रुपए के इनाम तक का ऐलान कर दिया था, याद है ना, आतंकवादियों को करोड़ों का इनाम। सोचिए महामिलावट के लिए लोग किस हद तक जा सकते हैं। ये महामिलावटी लोग भ्रष्टाचारियों के साथ हैं कि नहीं हैं भाई, ये लोग भ्रष्टाचारियों के साथ हैं कि नहीं हैं?  

महामिलावटियों के राज में बेटियों को इंसाफ मिलता था क्या? मेरठ  वाले तो बराबर जानते हैं, क्या बेटियों को इंसाफ मिलता था क्या? इनकी सरकार में गुंडे और बदमाश बेलगाम थे कि नहीं थे, क्या ऐसी  महामिलावट के हाथ में देश सुरक्षित रहेगा, देश सुरक्षित रहेगा ?  

साथियो, मेरठ और पश्चिमी यूपी तो इनके कारनामों को भुगत चुका है। जब से योगी जी की सरकार आयी है तब से गुंडों और बदमाशों में डर  है, भय है। बेटियों के साथ अत्याचार करने वाले आज 100 बार सोचते हैं कि नहीं सोचते हैं, क्योंकि आपके इस चौकीदार ने ऐसे लोगों को फांसी तक का प्रावधान कर लिया है। ये बातें मैं आपको इसीलिए बता रहा हूं  क्योंकि हम सभी मिलकर बीते 5 वर्षों में भारत को जिस स्थिति से निकालकर लाए हैं, इसको और मजबूत करना है। देश को और मजबूत करना है कि नहीं करना है?  देश मजबूत होना चाहिए कि नहीं होना चाहिए? मजबूत देश के लिए मजबूत सरकार चाहिए कि नहीं चाहिए। जरा इन महामिलावटी लोगों को उत्तर प्रदेश के लोग बराबर समझ लें, अगर इन महामिलावटी लोगों को जरा भी मौका मिल गया तो ये देश उस पुरानी स्थिति में जाने में जरा भी देर नहीं लगने वाली, ये कितने बेचैन हैं कितने बौखलाये हैं, ये 2 महीने से देश बहुत साफ-साफ देख रहा है।  

भाइयो और बहनो, आज स्थिति है कि कुछ दिन पहले तक जो लोग इस चौकीदार को चुनौती देते फिरते थे अब रोते फिर रहे हैं। मोदी ने ये क्यों किया? मोदी ने वो क्यों किया? ये मोदी ने पाकिस्तान में आतंकियों को घर में घुस कर क्यों मारा? ये मोदी ने आतंकियों के अड्डे को नष्ट क्यों किया? रो रहे हैं।  

साथियो, एक गंभीर बात की ओर आपका ध्यान दिलाना चाहता हूं। ये सारे महामिलावटी लोग, आज कौन पाकिस्तान में ज्यादा पॉपुलर होगा, कौन पाकिस्तान में हीरो बनेगा इस स्पर्धा में लग गए हैं। वहां के मीडिया में छाए हुए हैं, उनके नाम की पाकिस्तान में तालियां बज रही हैं। भाइयो-बहनो, आप ही बताइए देश को हिंदुस्तान के हीरो चाहिए या पाकिस्तान के?  हिंदुस्तान के हीरो चाहिए या पाकिस्तान के?   मेरे प्यारे देशवासियों मैं 130 करोड़ देशवासियों से पूछना चाहता हूं, क्या हमें सबूत चाहिए कि हमें सपूत चाहिए? मेरे देश के सपूत, यही मेरे देश का सबसे बड़ा सबूत है। जो सबूत मांगते हैं, वो सपूत को ललकारते हैं।

साथियो,  26 फरवरी की वो तारीख, जिसके बारे में सोच कर भी आतंक के सरपरस्तों की रूह कांप रही है, लेकिन पल भर के लिए सोचिए। मेरे  मेरठवासी, जरा सोचिए कि 26 फरवरी को हमारे देश के वीर सैनिकों ने पराक्रम किया, अगर उसमें थोड़ी सी भी गड़बड़ हो जाती तो क्या होता? थोड़ा सा ऊपर-नीचे हो जाता तो ये लोग मेरे साथ क्या करते?  ये मेरे पुतले जलाते कि नहीं जलाते,  मुझे नोच डालते कि नहीं नोच डालते, मेरा इस्तीफा मांगते कि नहीं मांगते, काले झंडे निकालते कि नहीं निकालते, दुनिया भर की गालियां देते कि नहीं देते?   

भाइयो-बहनो, आप बताइये ये कोई चुप नहीं बैठते और अगर ऐसा होता तो सारा दोष किसको देते, किसको देते? मोदी को ही देते ना, देते की नहीं देते?

भाइयो और बहनो, आप आश्वस्त रहिये, मैं देश के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगाने के लिए तैयार रहने वाला व्यक्ति हूं। कोई भी राजनीतिक दबाव, कोई भी अंतरराष्ट्रीय दबाव, आपके इस चौकीदार को डिगा नहीं पाएगा और न ही कोई इस चौकीदार को डरा पाएगा। मैं किसी तरह का बोझ लेकर नहीं चलता, और बोझ रखूं भी क्यों?  मेरे पास अपना है भी क्या, जो कुछ भी है वो देश का दिया हुआ है, आपका दिया हुआ है। जो देश ने दिया जितना दिया वो बहुत कुछ है। अरे, चिंता तो उनको होती है जो कुछ खोने से डरता है। जिसको वंश और विरासत के बारे में सोचना है, नीयत में खोट उसके आती है, जिसको सिर्फ और सिर्फ अपने परिवारों के हितों के बारे में सोचना है।  

भाइयो और बहनो, कल भी आपने देखा होगा कैसे अंतरिक्ष में हासिल की गई हमारे देश की महान उपलब्धि को इन लोगों ने नजरअंदाज किया। कैसी-कैसी बातें बोली, मैं तो हैरान हूं, मुझे तो उनकी बुद्धिमत्ता पर भी सवाल उठने लगे हैं।  

साथियो, जरा आप ध्यान से समझिए, अगर कोई थिएटर में नाटक देखने जाता है तो वहां क्या सुनाई देता है। वहां सुनाई देता है अरे चलो भाई सेट तैयार है क्या?  अरे सेट रेडी है क्या? अरे भाई सेट लगा दो। अरे सेट चालू हुआ कि नहीं? ऐसा आता है कि नहीं, थिएटर में जहां ड्रामा होता है, वहां सेट की सजावट, नया सीन आएगा तो नया सेट, ये सेट शब्द थिएटर में बड़ा कॉमन होता है, बार-बार सुनाई देता है। कुछ बुद्धिमान लोग ऐसे हैं कि जब कल मैं ए-सेट की बात करता था तो वे कन्फ्यूज हो गए, समझे कि मैं थिएटर के सेट की बात कर रहा हूं। अब ऐसे बुद्धिमान लोगों पर रोएं या हंसे। जिनको थिएटर का सेट और अंतरिक्ष में ऐंटी सैटलाइट मिशन ए-सैट की समझ तक नहीं है।  

साथियो, आज जब भारत अपना सामर्थ्य बढ़ा रहा है, अपनी ताकत बढ़ा रहा है, अंतरिक्ष में चौकीदारी करने में समर्थ हो रहा है,  तो इनके पेट में दर्द हो रहा है।  

मैं देश को आज फिर याद दिलाना चाहता हूं, याद रखिए कुछ लोगों ने कैसे सरकारें चलाई हैं, कैसे देश के सुरक्षा हितों से खिलवाड़ किया है।  हमारी वायुसेना, नया लड़ाकू विमान मांग रही थी, उनकी सरकार फैसले टालती रही। विमान हादसे होते रहे, उनकी सरकार फैसले को टालती रही। हमारे जवान बुलेटप्रूफ जैकेट मांग रहे थे, उनकी सरकार इस फैसले को भी टालती रही। आतंकी हमले में, नक्सली हमलों में हमारे जवान शहीद होते रहे उनकी सरकार फैसले को टालती रही। हमारे वैज्ञानिक अंतरिक्ष में सैटेलाइट को मार गिराने के लिए परीक्षण की इजाजत मांग रहे थे उनकी सरकार ने ये फैसला भी टाल दिया।  इक्कीसवीं सदी के भारत को मजबूत बनाने के लिए, देश की सुरक्षा के लिए ये फैसला बहुत पहले लिया जाना चाहिए था, लेकिन ये फैसला भी टाला जाता रहा।  

भाइयो और बहनो, ये लोग भारत को हमेशा कमज़ोर बना कर रखना चाहते थे। मैं इनसे जानना चाहता हूं कि किसके इशारे पर, किसको फायदा पहुंचाने के लिए आप लोग ऐसा ढुलमुल रवैया अपनाते रहे।

साथियो,   इन लोगों की राजनीति तभी चलती है जब देश कमजोर रहे, जब देश के लोगों को ये बांटते रहें, समाज में दीवारें हों, खाई हों, ये सिर्फ अपना और अपने परिवार का स्वार्थ देखते हैं।  सबका साथ और सबका विकास ये उनको मंजूर नहीं है और इसीलिए कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और भ्रष्टाचार की महामिलावट करने वाले दल आज आपके इस चौकीदार से परेशान है। अपना भ्रष्टाचार जारी रखने क लिए ये सभी यहां यूपी में भी एकजुट हो गये हैं। अब सोचिये,  जिस पार्टी के नेताओं को जेल भेजने के लिए बहन जी ने जीवन के दो दशक लगा दिए, अब उसी से उन्होंने हाथ मिला लिया। जिस दल के नेता बहन जी  को गेस्ट-हाउस में भी खत्म कर देना चाहते थे, अब वो उनके साथी बन गए और यूपी में तो सब-कुछ इतनी जल्दी-जल्दी हो रहा है कि पूछिए मत। अभी पिछले चुनाव में दो लड़कों का खेल देखा, ये दो लड़कों से बुआ-बबुआ तक पहुंचने में जो तेजी दिखाई गई है बड़ी गज़ब है जी।    

भाइयो और बहनो, इन लोगों के लिए सत्ता से बढ़कर कुछ भी नहीं है, कोई भी नहीं है। ये वही लोग है, जिन्होंने नारा बना रखा था- यूपी को लूटो, बारी-बारी। इसी नारे पर ये लोग बरसों तक चलते रहे, लेकिन साल  2014 में और फिर 2017 में यूपी के लोग इन्हें दिखा चुके हैं कि उत्तर प्रदेश को जातियों में बांटने की कोशिश अब सफल नहीं होगी। सब लोग जान गए हैं कि देश बचेगा, तभी तो सभी समाज भी बचेंगे।  

इसीलिए इस बार भी यूपी की जनता का फैसला 2014 और 2017 के चुनाव से भी ज्यादा शानदार आने वाला है। और मेरे भाइयो-बहनो,  ये याद रखिए, बोर्ड बदल लेने से दुकानें नहीं बदलती। सपा-बसपा के शासन की पहचान यूपी के लोगों को दिया धोखा, उत्तर प्रदेश के लोग भूले नहीं हैं। इनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के दुष्परिणाम मेरे मेरठ को, हापुड़ को, कैराना को, मुजफ्फरनगर को सहने पड़े हैं, आपको सहने पड़े हैं।  

सपा के शासन काल में हुए दंगों का दंश देश और आप सब आज तक झेल रहे हैं। यहां स्थिति ये हो गयी थी कि लोगों को अपना घर तक छोड़ कर भागना पड़ा।

गुंडाराज किस तरह कायम था, आप इसके भुक्तभोगी रहे हैं। मत भूलिए ये वही लोग हैं, जो तीन तलाक के खिलाफ कानून का विरोध करते हैं, जो कहते है तीन तलाक की वजह से महिलाओं की हत्या नहीं होती, कम से कम वो बच तो जाती हैं। क्या दिमाग है इन लोगों का,  सोचिये किस तरह सोचते हैं ये लोग।

मुझे तो ये भी पता चला है कि पिछले चुनाव में ऐसे ही लोगों के दबाव में मुस्लिम महिलाओं को वोट देने के लिए बाहर नहीं निकलने दिया गया। मैं हर मतदाता से आग्रह करूंगा, कितना भी दबाव हो आप वोट के अधिकार को जाने मत दीजिए। हिन्दू हो, मुसलमान हो, भाई हो, बहन हो, युवा हो, शहरी हो, ग्रामीण हो हर किसी को वोट करना चाहिए। और इसीलिए जो आप पर अत्याचार करते हैं उनके खिलाफ, उनकी हरकतों को, उनके बयानों को, आप भूलें नहीं। उन्हें सजा देने के लिए 11 अप्रैल को अपने घर से जरूर बाहर निकलें। भाइयो और बहनो, आप सभी साक्षी हैं कि कैसे इन्होंने यूपी के नौजवानों को भी धोखा दिया, उन्हें वर्दी के नाम पर ठगा है।

मेरठ सहित यूपी के हजारों नौजवानों का भविष्य कैसे कोर्ट-कचहरी की फाइलों में दबा दिया गया। मैं बधाई दूंगा योगी जी को, उनकी टीम को उन्होंने ये महामिलावटी लोगों के पाप से जो बाहर निकालने का प्रयास किया। अब जो भर्तियां हो रही हैं, उससे पश्चिम यूपी के हजारों युवा साथियों को लाभ हो रहा है।  

साथियो, यही स्थिति गन्ना किसानों की थी। मत भूलिए बसपा के शासन में प्रदेश के चीनी मिलों को, अपने कारोबारियों को औने-पौने दाम पर बेच दिया गया था। बेचा था कि नहीं बेचा था? मत भूलिए समाजवादी पार्टी के शासन में गन्ना किसानों को अपना ही पैसा पाने के लिए अपमानित होना पड़ता था, लंबा इंतजार करना पड़ता था।  

साथियो, हालत ये थी कि सपा की सरकार ने गन्ना किसानों का 35  हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का बकाया, योगी जी के लिए छोड़ दिया। इसका करीब-करीब पूरा भुगतान हो चुका है। इसके बाद पिराई सत्रों का भी 22 हज़ार करोड़ का भुगतान हो चुका है। उत्तर प्रदेश में तो इन महामिलावटी दलों वाली सरकारों ने ये हाल कर रखा था कि गन्ना  किसान एक साल गन्ना बेचता था और उसका भुगतान उससे कभी-कभी एक साल बाद तो कभी 2 साल बाद मिलता था। अब भाजपा की सरकार में इस साल का पैसा इसी साल मिल रहा है।

मुझे पता है कि अभी गन्ना किसानों का बकाया है पर मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि आपकी एक-एक पाई दिलाई जाएगी। यहां पर  हमारे मुख्यमंत्री योगी जी है, वो आपकी एक-एक पाई दिलाएंगे और बहुत जल्द दिलाएंगे। भाइयो और बहनो, देश का किसान हमारे लिए अन्नदाता है, किसानों के लिए ऐतिहासिक कदम हमारी सरकार ने उठाए हैं।

दशकों-दशकों से लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य देने की मांग आप सभी की रही है, उसको भी हमने पूरा कर दिया है। यहां आए अनेक किसान साथियों को भी पी एम किसान सम्मान निधि की पहली किश्त सीधे बैंक खाते में अब तक मिल चुकी है। जिनको नहीं मिली है, उसके खाते में भी बहुत जल्द पहली किश्त पहुंच जाएगी। अब तो दूसरी किश्त का समय भी आ गया है। इसी तरह साल में 3 बार हर फसल से पहले छोटे किसानों को हर वर्ष ये मदद मिलती रहेगी। यूपी के 2 करोड़ से अधिक किसान परिवारों को हर वर्ष ये लाभ मिलने वाला है।  

साथियो , मेरठ और पश्चिमी यूपी में किसानों के लिए यहां के नौजवानों के लिए कामगारों के लिए एक और बहुत बड़ा काम हुआ है, ये काम हुआ है कनेक्टिविटी का। मेरठ को आज से करीब 34 साल पहले ही नेशनल कैपिटल रीजन में शामिल कर लिया गया था पर यहां की स्थिति क्या थी ये आप लोग बेहतर जानते हैं।  

भाइयो और बहनो, 2014 के बाद हमने इस पूरे क्षेत्र को तेज और आधुनिक यातायात से जोड़ने का बीड़ा उठाया है। कुछ दिन पहले ही देश के पहले रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम यानि RRTS  का शिलान्यास किया  गया। इस सिस्टम के बन जाने के बाद, मेरठ और दिल्ली के बीच में मेट्रो रेल जैसा सिस्टम बन जायेगा। इसके साथ-साथ दिल्ली से मेरठ को जोड़ने वाले आधुनिक हाई-वे का काम भी अब पूरा होने को है। इन तमाम सुविधाओं से यहां से दिल्ली की दूरी करीब-करीब एक ही घंटा रह जाएगी। इसके अलावा मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे समेत तमाम सड़क और हाई-वे प्रोजेक्ट्स पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तैयार हो रहे हैं। मेरठ को हाईवे और रेलवे के साथ ही एयर-वे कनेक्टिविटी के जरिये देश के हवाई नक्शे पर लाया जा रहा है। उड़ान योजना के अंतर्गत, एयरपोर्ट और मेरठ में पासपोर्ट केंद्र की स्थापना का लाभ भी मेरठ के लोगों और यहां के उद्योगों को मिलने जा रहा है।  

साथियो, यहां के लोगों का जीवन आसान बनाने वाले, यहां की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री को मजबूत करने वाले, विकास के सारे काम पहले भी हो सकते थे लेकिन पहले की सरकारों की नीयत ठीक नहीं थी। मुझे ख़ुशी होती अगर बहन जी ने भी कभी मुझे चिठ्ठी लिखी होती कि मेरठ में ये काम करना है, इस सड़क को बनाया जाना है लेकिन उन्होंने ऐसा कभी नहीं किया। मुझे ख़ुशी होती, अगर अखिलेश जी  ने गरीबों के घर का मुद्दा उठाया होता, गैस का सिलेंडर अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाए, इसको लेकर टेलीफोन किया होता, चिट्ठी लिखी होती। मुझे ख़ुशी होती, अगर चौधरी अजीत सिंह जी किसानों की समस्या लेकर कभी मेरे पास आते, मुझसे चर्चा करते, अपने सुझाव बताते। लेकिन इनकी मंशा तो सिर्फ जाति, वंश, संप्रदाय, इसी से वोटों को साधने के चक्कर में ये हमेशा रहते हैं और यही काम वो करते रहते हैं।    

साथियो, आज वाकई चौधरी चरण सिंह जी कितने दुखी होते होंगे। जिस गरीब के लिए, जिस किसान के लिए उन्होंने अपना जीवन समर्पित कर  दिया उससे सपा, बसपा और कांग्रेस द्वारा कितना नुकसान पहुंचाया गया है। खासकर कांग्रेस की तो किसान नेताओं से विशेष दुश्मनी रही है। यही वजह है कि आपातकाल के दौरान चौधरी साहब को जेल में डाल दिया गया था। चौधरी साहब को प्रधानमंत्री पद से हटाने में भी कांग्रेस की भूमिका थी। मत भूलिए देश के एक और महान किसान नेता दीन बंधु छोटूराम के साथ भी कांग्रेस ने यही किया था। वो किसानों के लिए काम करना चाहते थे इसीलिए कांग्रेस ने उन्हें इस्तीफा देने के  लिए मजबूर कर दिया था। ये मेरा सौभाग्य है कि पिछले साल मुझे रोहतक में सर छोटूराम जी की सबसे ऊंची प्रतिमा का लोकार्पण करने का अवसर मिला।

साथियो, भाजपा सरकार, चौधरी चरण सिंह जी, दीनबंधु छोटूराम के सपनों को पूरा करने के लिए काम कर रही है। देश का किसान मजबूत होगा, देश का गरीब सशक्त होगा, तभी देश भी मजबूत होगा। साथियो, लेकिन इन सब के बीच हमें सतर्क रहने की ज़रूरत है, जागरूक रहने की जरूरत है।  

भाइयो और बहनो, जब मैं 8-10 साल की उम्र का था तब सुना करता था कि सरकार गरीबी हटाने के बारे में बात कर रही है। जब 20-22 साल का हुआ तो इंदिरा जी भी यही कहती रही कि गरीबी हटाएंगे। इसके बाद भी चार-चार पीढ़ियां एक ही बात कहती रहीं। वो तो आगे बढ़ते गए, गरीब-गरीब होता गया, गरीबी बढ़ती गई।  

आज़ादी के बाद पिछले 72 वर्षों में कांग्रेस ने जिस तरह गरीबों के साथ गद्दारी की है, उसे देखते हुए आज देश का गरीब ये संकल्प कर चुका  है कि कांग्रेस हटाओ गरीबी अपने आप हट जाएगी। गरीबी तब हटेगी जब कांग्रेस हर कोने से हटेगी।  

कांग्रेस का 72 साल का काम खुद अपनी गवाही दे रहा है। गरीब को धोखा देने के लिए, गरीब को गरीब बनाये रखने के लिए,  कांग्रेस ने जो-जो पैंतरे अपनाए हैं, वो गिनाने लगें तो शायद महीने भर मुझे बोलता रहना पड़ेगा। मुझे पता है, गरीबों के साथ गद्दारी करने वाली कांग्रेस को देश का गरीब अब पूरी तरह हटा कर ही दम लेने वाला है। भाइयो और बहनो, 1857 के संग्राम में जन जागरण के लिए कमल के फूल और रोटी का प्रयोग किया गया था। कमल को राष्ट्रीयता के प्रतीक के रूप में प्रसारित किया गया था। आज जब हम नए भारत का संकल्प ले रहे हैं तो फिर उसी कमल के ज़रिये हम सब को एकजुट हो कर आगे बढ़ना है।  

भाइयो और बहनो, जब आप सभी का समर्थन मिलता है तभी एक मजबूत और एक निर्णायक सरकार बनती है। आप की मजबूत और निर्णायक सरकार आपके लिए और आने वाली पीढ़ी के लिए एक नए भारत का सपना देखा, एक ऐसा नया भारत जो विश्व में सबसे साफ और भ्रष्टाचार मुक्त लोकतंत्र के रूप में सम्मानित होगा। एक ऐसा नया भारत, जहां हर व्यक्ति को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध होंगी। एक ऐसा नया भारत, जहां हर एक व्यक्ति स्वस्थ, सुरक्षित और शिक्षित होगा, एक ऐसा नया भारत जहां हर व्यक्ति अपनी प्रतिभा को निखारने का मौका प्राप्त करेगा और उसके पास आगे बढ़ने के समान अवसर होंगे, एक ऐसा नया भारत जहां हर मां, बहन, बेटी को इज्जत की और सुरक्षा की ज़िन्दगी जीने का अवसर मिलेगा। एक ऐसा नया भारत,   जहां हर किसान को यह महसूस होगा कि खेती करना लाभदायक और सम्मान-जनक है। एक ऐसा नया भारत, हर जवान को ये महसूस होगा कि उसके सम्मान के लिए पूरा देश उनके साथ खड़ा है। एक ऐसा नया भारत जहां हर व्यापारी को देश के किसी भी भाग में अपना काम करने में सहूलियत होगी। एक ऐसा नया भारत, जो विज्ञान के क्षेत्र में विकसित देशों की बराबरी करेगा। एक ऐसा नया भारत, जिसकी अर्थव्यवस्था विश्व की 3 सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होगी। एक ऐसा नया भारत, जो आर्थिक और सामाजिक प्रगति में सभी नागरिकों की हिस्सेदारी होगी।

भाइयो और बहनो, यहां के भाजपा के उम्मीदवार को दिया गया अपना एक-एक वोट, जब भी आप कमल पर बटन दबाएंगे, वो सीधा-सीधा मोदी के पास पहुंचने वाला है।  

साथियो, मेरठ से और आपसे मैं ये भी कहना चाहूंगा यहां पर महामिलावट में भी कौन ज़्यादा मिलावट करता है इस पर भी स्पर्धा लग गई। एक तरफ सपा, बसपा और रालोद यहां पर आए।

अब इसको ज़रा अलग तरीके से देखिये सपा का स, रालोद का र और बसपा का ब मतलब सराब। अच्छी सेहत के लिए सराब से बचना चाहिए की नहीं बचना चाहिए, उत्तर प्रदेश की अच्छी सेहत के लिए सराब से बचना चाहिए की नहीं बचना चाहिए,  अच्छे भारत के भविष्य  के लिए शराब से बचना चाहिए की नहीं बचना चाहिए, तो सपा का स, रालोद का रा और बसपा का ब मतलब सराब, ये सराब आपको बर्बाद कर देगी।

भाइयो-बहनो, मेरठ से भाजपा के उम्मीदवार भाई श्री राजेंद्र अग्रवाल जी,   मुजफ्फरनगर से भाजपा उम्मीदवार भाई संजीव बालिया जी, बागपत से श्री सतपाल सिंह जी, बिजनौर से कुंवर भारतेंद्र सिंह जी। इन सभी को आपका वोट उस सरकार के लिये होगा जो आपके जीवन को बेहतर बनाने के लिए और देश के गौरव को बढ़ाने के लिए दिन-रात परिश्रम करती है। आप मुझे देश को भ्रष्टाचार और काले धन से मुक्त कराने  के लिए आशीर्वाद दीजिये। आप मुझे देशवासियों की सुरक्षा और इज्जत बढ़ाने के लिए अपना आशीर्वाद दीजिये। उत्तर प्रदेश को शीघ्र ही उत्तम प्रदेश बनाने के प्रयासों को और अधिक बनाने के लिए अपना आशीर्वाद दीजिये। मेरठ क्षेत्र के हर घर-परिवार में खुशहाली लाने के मेरे सपने को पूरा करने के लिए आप सब अपना आशीर्वाद और वोट भाजपा को दीजिये।  

मेरे साथ पूरी ताकत से बोलिए… भारत माता की…जय, भारत माता की…जय, भारत माता की…जय।

एक और नारा बोलेंगे आज मैं कहूंगा मैं भी, आप कहेंगे चौकीदार हूं।

मैं भी... चौकीदार हूं   

मैं भी... चौकीदार हूं   

मैं भी... चौकीदार हूं    

बहुत बहुत धन्यवाद।

Donation
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
BRICS summit to focus on strengthening counter-terror cooperation: PM Modi

Media Coverage

BRICS summit to focus on strengthening counter-terror cooperation: PM Modi
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Here are the Top News Stories for 13th November 2019
November 13, 2019
Share
 
Comments

Top News Stories is your daily dose of positive news. Take a look and share news about all latest developments about the government, the Prime Minister and find out how it impacts you!