பகிர்ந்து
 
Comments

आनंद ।। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि 2002 की हिंसा में अगर उनकी भूमिका साबित हो जाती है तो वह जेल जाने के लिए तैयार हैं। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस पर यह आरोप लगाया कि वह उन्हें जेल भेजने के लिए साजिश कर रही है।

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को विशेष जांच टीम :एसआईटी: को दंगे भड़काने में मोदी और उनके प्रशासन की भूमिका की जांच के निर्देश दिए थे। इस पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए मोदी ने कहा कि वह अपने लोगों के लिए जेल जाने से नहीं डरते हैं।

मोदी ने एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा, ''तीन महीने बाद मैं संभवत: जेल जाऊं, लेकिन गुजरात के लोगों को एक बात जरूर याद रखनी चाहिए कि मोदी गुजरात के लिए जिएगा और मरेगा भी गुजरात के लिए।''

मोदी ने कहा, ''यदि जनता मुझसे पूछे कि आप जेल जाना चाहते हैं या फांसी पर चढ़ना चाहते हैं तो मैं कहूंगा कि मुझे फांसी दे दी जाए ताकि मैं गुजरात के लोगों की सेवा के लिए दोबारा जन्म ले सकूं।''

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने मुझे धमकी दी कि अगर मैंने कांग्रेस के खिलाफ बोलना बंद नहीं किया तो मेरा सफर जेल जाकर खत्म होगा और उसके 15 दिन बाद सुप्रीम कोर्ट का आदेश आ गया। यह मुझे जेल भेजने की यह साजिश कांग्रेस की है।

मोदी ने कहा कि दूसरी तरफ सोनिया गांधी के विदेशी रिश्तेदार क्वात्रोकी को सीबीआई ने क्लीनचीट दे दी है। सभी को पता है कि सीबीआई पर किसका नियंत्रण है।

 

Explore More
76-ஆவது சுதந்திர தின விழாவையொட்டி, செங்கோட்டை கொத்தளத்தில் இருந்து பிரதமர் ஆற்றிய உரை

பிரபலமான பேச்சுகள்

76-ஆவது சுதந்திர தின விழாவையொட்டி, செங்கோட்டை கொத்தளத்தில் இருந்து பிரதமர் ஆற்றிய உரை
India a shining star of global economy: S&P Chief Economist

Media Coverage

India a shining star of global economy: S&P Chief Economist
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM greets people on Mahalaya
September 25, 2022
பகிர்ந்து
 
Comments

The Prime Minister, Shri Narendra Modi has greeted the people on the occasion of Mahalaya.


In a tweet, the Prime Minister said;


"On Mahalaya, we pray to Maa Durga and seek her divine blessings for our people. May everyone be happy and healthy. May there be prosperity and brotherhood all around.

Shubho Mahalaya!"