On the 4th day of his Japan trip, Shri Modi visits Nagoya, Osaka and Kobe

Published By : Admin | July 26, 2012 | 21:07 IST
Share
 
Comments

 

Gujarat Chief Minister addresses top industrialists-investors at Nagoya, bankers at Osaka

 

“Japan should feel at home in Gujarat, the land of prosperity, bonding will lend new strength to Asian economy”

 -- Narendra Modi 

 

Ahmedabad, Thursday: On the fourth day of his official visit to Japan, Chief Minister Narendra Modi, accompanied by a delegation of top industrialists and business from Gujarat, today expressed his resolve to take the relations between Gujarat and Japan to greater heights, lending renewed strength to Asian economy.

Mr. Modi traveled by a Bullet Train from Hamamatsu to Nagoya to address an Investment Seminar organized by Japan External Trade Organization (JETRO) at Nagoya, then he took another Bullet Train to Osaka to attend a Roundtable Conference organized by Mizuho Corporation Bank at Osaka, and then departed by road to Kobe to a reception by Indians and Gujaratis, before retiring for the day.

Responding to unprecedented welcome received by a foreign dignitary wherever he went, he exuded confidence the bond developed between Gujarat and Japan during this visit would force the world realize and recognize the new found economic potentials.

Speaking at the JETRO Seminar at Osaka, attended by top brass of about 100 companies, Mr. Modi said the bond between Gujarat and Japan has become firmer during the last five years. It is a bond between a progressive and prosperous country of the world like Japan and one of the most progressive states of India.

He said that Japan would feel at home in Gujarat due the Gujarat Government’s transparent policies, Proactive Pro-people Good Governance (P2G2), skilled and peaceful manpower, environmentally-friendly and similarities in culture. It is one state in India which has set new benchmarks in agriculture, industry and infrastructure. The bulk of land in ongoing Delhi-Mumbai Industrial Corridor, being implemented in collaboration with Japan, falls in Gujarat.

Mr. Modi said that Japan will feel at home in Gujarat and might compel Japan to rethink its bonding with rest of Indis. This land of Gujarat guarantees prosperity. He said that he is immensely lucky to be able to attend 44 functions in five provinces, meeting seven ministers and over 2,000 with key personnel during the four-day stay in Japan.

Osaka: Roundtable conference with top finance/banking firms of Japan

A roundtable conference of Japan’s top 16 finance and banking companies with the Chief Minister was organized today in Osaka by Mizuho Corporate Bank.

In the two-hour conference, top honcho’s of Japanese companies held one-to-one meet. Like Gujarat, Osaka is also leading in textile sector. Chief Minister apprise the Japanese companies about Gujarat’s new vibrant textile policy and the textile park policy which is based on five ‘f’ formula of Farm-Fiber-Fabric-Fashion-Foreign, and invited them to benefit from these policies.

Comparing his Japan visit of 2012 with that of 2007, Chief Minister said that in 2007 people used to asked ‘Why Gujarat’, whereas today Japan asks ‘Why not Gujarat’. One or other delegation from Japanese companies visits Gujarat every week to discuss about its new project in the State. Japan has become partner country in Vibrant Gujarat Global Summit for three times which is self-evident to the relationship between Japan and Gujarat which has touched the newer dimensions.

Chief Minister said that Japanese companies might even like to go for fixing parameters based on which they can give ranking to various states of India and make an unbiased comparison between them. Gujarat is capable of meeting all the parameters. All the facilities needed to set up a business in this competitive age are available in Gujarat, said Chief Minister.

Toyota delegation meets Chief Minister, showed interest in Gujarat

A delegation of Japan’s renowned carmaker Toyota today met Chief Minister in Nagoya. Toyota’s advisor, Dato Akira Okabe, and General Manager, Makota Sasagura, gave details of the company’s operational plant in India and its future expansion plans. Chief Minister talked about how Gujarat is emerging as an auto-hub of Asia. The delegation showed Toyota’s interest in Gujarat.

A delegation of Japan’s Kowaca company, which is a business partner of Gujarat’s Adani group, made a representation before the Chief Minister for setting up of an advance general medical centre in Gujarat.

Narendra Modi is the future of India, says Governor of Aichi province

In a programme organized by Mr. Hideaki Ohmura, Governor of Aichi Prefecture province in Nagoya, to welcome Gujarat Chief Minister. Mr. Ohmura described Mr. Modi as the future of India. Mr. Ohmura specially came from Hong Kong to meet Mr. Modi even though he was not keeping well. He said that there are many similarities between Aichi and Gujarat. Both the leaders discussed about using their respective strengths and developing relationships between both the regions.

Late in the afternoon, Chief Minister and the accompanying delegation reached to Osaka journeying in the bullet train, where the roundtable conference with finance and banking companies of Japan was held.

In the evening Indian Gujarati community organized a programme to welcome the Chief Minister. On Friday, Chief Minister and the delegation will visit Kobe port.

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
Core sector growth at three-month high of 7.4% in December: Govt data

Media Coverage

Core sector growth at three-month high of 7.4% in December: Govt data
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’s remarks on Union Budget 2023
February 01, 2023
Share
 
Comments
“First budget of the Amrit Kaal lays a strong foundation for the aspirations and resolutions of a developed India”
“This Budget gives priority to the deprived”
“PM Vishwakarma Kaushal Samman i.e. PM Vikas will bring a big change in the lives of crores of Vishwakarmas”
“This Budget will make cooperatives a fulcrum of development of the rural economy”
“We have to replicate the success of digital payments in the agriculture sector”
“This budget will give an unprecedented expansion to Green Growth, Green Economy, Green Infrastructure, and Green Jobs for Sustainable Future”
“Unprecedented investment of ten lakh crores on infrastructure that will give new energy and speed to India's development”
“The middle class is a huge force to achieve the dreams of 2047. Our government has always stood with the middle class”

अमृतकाल का ये पहला बजट विकसित भारत के विराट संकल्प को पूरा करने के लिए एक मजबूत नींव का निर्माण करेगा। ये बजट वंचितों को वरीयता देता है। ये बजट आज की Aspirational Society- गांव-गरीब, किसान, मध्यम वर्ग, सभी के सपनों को पूरा करेगा।

मैं वित्त मंत्री निर्मला जी औऱ उनकी टीम को इस ऐतिहासिक बजट के लिए बधाई देता हूं।

साथियों,

परंपरागत रूप से, अपने हाथ से, औज़ारों और टूल्स से कड़ी मेहनत कर कुछ न कुछ सृजन करने वाले करोड़ों विश्वकर्मा इस देश के निर्माता हैं। लोहार, सुनार, कुम्हार, सुथार, मूर्तिकार, कारीगर, मिस्त्री अनगिनत लोगों की बहुत बड़ी लिस्ट है। इन सभी विश्वकर्माओं की मेहनत और सृजन के लिए देश इस बजट में पहली बार अनेक प्रोत्साहन योजना लेकर आया है। ऐसे लोगों के लिए ट्रेनिंग, टेक्नॉलॉजी, क्रेडिट और मार्केट सपोर्ट की व्यवस्था की गई है। पीएम विश्वकर्मा कौशल सम्मान यानि पीएम विकास, करोड़ों विश्वकर्माओं के जीवन में बहुत बड़ा बदलाव लायेगा।

साथियों,

शहरी महिलाओं से लेकर गांव में रहने वाली महिलायें हों, कारोबार रोजगार में व्यस्त महिलायें हों, या घर के काम में व्यस्त महिलायें हों, उनके जीवन को आसान बनाने के लिए बीते वर्षों में सरकार ने अनेक कदम उठाएँ हैं। जल जीवन मिशन हो, उज्जवला योजना हो, पीएम-आवास योजना हो, ऐसे अनेक कदम इन सबको बहुत बड़ी ताकत के साथ आगे बढ़ाया जाएगा। उसके साथ-साथ महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप, एक बहुत बड़ा सामर्थ्यवान क्षेत्र आज भारत में बहुत बड़ी जगह aquire कर चुका है, उनको अगर थोड़ा सा बल मिल जाए तो वो miracle कर सकते हैं। और इसलिए women self help group, उनके सर्वांगीण विकास के लिए नई पहल इस बजट में एक नया आयाम जोड़ेगी। महिलाओं के लिए एक विशेष बचत योजना भी शुरू की जा रही है। और जन धन अकाउंट के बाद ये विशेष बचत योजना सामान्य परिवार की गृहिणी माताओं-बहनों को बहुत बड़ी ताकत देने वाली है।

ये बजट, सहकारिता को ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास की धुरी बनाएगा। सरकार ने को-ऑपरेटिव सेक्टर में दुनिया की सबसे बड़ी अन्न भंडारण योजना बनाई है-स्टोरेज कपेसिटी। बजट में नए प्राइमरी को-ऑपरेटिव्स बनाने की एक महत्वाकांक्षी योजना का भी ऐलान हुआ है। इससे खेती के साथ-साथ दूध और मछली उत्पादन के क्षेत्र का विस्तार होगा, किसानों, पशुपालकों और मछुआरों को अपने उत्पाद की बेहतर कीमत मिलेगी।

साथियों,

अब हमें डिजिटल पेमेंट्स की सफलता को एग्रीकल्चर सेक्टर में दोहराना है। इसलिए इस बजट में हम डिजिटल एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर की एक बहुत बड़ी योजना लेकर आए हैं। आज दुनिया इंटरनेशनल मिलेट ईयर मना रही है। भारत में मिलेट्स के अनेक प्रकार हैं, अनेक नाम हैं। आज जब मिलेट्स, घर-घर में पहुंच रहा है, पूरी दुनिया में पॉपुलर हो रहा है, तो उसका सर्वाधिक लाभ भारत के छोटे किसानों के नसीब में है, और इसलिए आवश्यकता है कि एक नए तरीके से उसको आगे ले जाया जाए। इसकी एक नई पहचान, विशेष पहचान आवश्यक है। इसलिए अब इस सुपर-फूड को श्री-अन्न की नई पहचान दी गई है, इसके प्रोत्साहन के लिए भी अनेक योजनाएँ बनाई गई हैं। श्री-अन्न को दी गई प्राथमिकता से देश के छोटे किसानों, हमारे आदिवासी भाई-बहन जो किसानी करते हैं, उनको आर्थिक सम्बल मिलेगा और देशवासियों को एक स्वस्थ जीवन मिलेगा।

साथियों,

ये बजट Sustainable Future के लिए, Green Growth, Green Economy, Green Energy, Green Infrastructure, और Green Jobs को एक अभूतपूर्व विस्तार देगा। बजट में हमने टेक्नॉलॉजी और न्यू इकॉनॉमी पर बहुत अधिक बल दिया है। Aspirational भारत, आज रोड, रेल, मेट्रो, पोर्ट, water ways, हर क्षेत्र में आधुनिक इंफ़्रास्ट्रक्चर चाहता है, Next Generation Infrastructure चाहिए। 2014 की तुलना में इंफ़्रास्ट्रक्चर में निवेश पर 400 परसेंट से ज्यादा की वृद्धि की गई है। इस बार इंफ़्रास्ट्रक्चर पर दस लाख करोड़ का अभूतपूर्व investment, भारत के विकास को नई ऊर्जा और तेज गति देगा। ये निवेश, युवाओं के लिए रोज़गार के नए अवसर पैदा करेगा, एक बहुत बड़ी आबादी को आय के नए अवसर उपलब्ध कराएगा। इस बजट में Ease of Doing Business के साथ-साथ हमारे उद्योगों के लिए क्रेडिट सपोर्ट और रिफॉर्मस् के अभियान को आगे बढ़ाया गया है। MSMEs के लिए 2 लाख करोड़ रुपए के अतिरिक्त ऋण की गारंटी की व्यवस्था की गई है। अब presumptive tax की लिमिट बढ़ने से MSMEs को grow करने में मदद मिलेगी। बड़ी कंपनियों द्वारा MSMEs को समय पर पेमेंट मिले, इसके लिए नई व्यवस्था बनाई गई है।

साथियों,

बहुत तेजी से बदलते भारत में मध्यम वर्ग, विकास हो या व्यवस्था हो, साहस हो या संकल्प लेने का सामर्थ्य को जीवन के हर क्षेत्र में आज भारत का माध्यम वर्ग एक प्रमुख धारा बना हुआ है। समृद्ध और विकसित भारत के सपनों को पूरा करने के लिए मध्यम वर्ग एक बहुत बड़ी ताकत है। जैसे भारत की युवा शक्ति ये भारत का विशेष सामर्थ्य है, वैसे ही बढ़ता हुआ भारत का माध्यम वर्ग भी एक बहुत बड़ी शक्ति है। मध्यम वर्ग को सशक्त बनाने के लिए हमारी सरकार ने बीते वर्षों में अनेकों निर्णय लिए और Ease of Living को सुनिश्चित किया है। हमने टैक्स रेट को कम किया है, साथ ही प्रॉसेस को simplify, transparent और फ़ास्ट किया है। हमेशा मध्यम वर्ग के साथ खड़ी रहने वाली हमारी सरकार ने मध्यम वर्ग को टैक्स में बड़ी राहत दी है। इस सर्व-स्पर्शी और विकसित भारत के निर्माण को गति देने वाले बजट के लिए मैं फिर एक बार निर्मला जी और उनकी पूरी टीम को बहुत-बहुत बधाई देता हूं और देशवासियों को भी बहुत बधाई के साथ-साथ मैं आहवाहन करता हूँ, आइए अब नया बजट आपके सामने है, नए संकल्पों को लेकर के चल पड़ें। 2047 में समृद्ध भारत, समर्थ भारत, हर प्रकार से सम्पन्न भारत हम बनाकर रहेंगे। आइए इस यात्रा को हम आगे बढ़ाएँ। बहुत-बहुत धन्यवाद।