ସେୟାର
 
Comments
Congress is giving a free run to the perpetrators of violence in Chhattisgarh: PM Modi
Congress is weakening the security apparatus of our nation: PM Modi
Disgraceful and unacceptable of Naamdar to term an entire community as thieves: PM Modi
From Bofors to helicopter deals, Congress marred with scams: PM Modi

मंच पर विराजमान भारतीय जनता पार्टी के सभी वरिष्ठ नेतागण, इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के सभी उम्मीदवार और हम सबको आशीर्वाद देने के लिए विशाल संख्या में पधारे मेरे प्यारे भाइयो बहनो। आजादी के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले शहीद वीर नारायण सिंह और वीर गुंडाधुर को मेरा कोटि कोटि नमन। मैं शहीद भीमा मंडावी और हमारे चार जवानों को भी आदरपूर्वक श्रद्धा सुमन अर्पित करता हूं। लोकतंत्र की रक्षा के लिए जो बलिदान आपने दिया है। उसको ये देश हमेशा हमेशा- हमेशा याद रखेगा। साथियो, ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमला उस क्षेत्र में हुआ जहां नक्सलियों के प्रभाव को बहुत कम किया जा चुका था। सवाल ये कि आखिर ऐसा क्यों हुआ? आपको याद होगा कि जब विधानसभा चुनाव के दौरान मैं यहां आया था। तब मैंने कांग्रेस के नेताओं के बयानों के तरफ छत्तीसगढ़ के भाइयो–बहनो का ध्यान दिलाया था। तब नक्सलियों को क्रांतिकारी बताने का एक दौर कांग्रेस के भीतर चल पड़ा था। नक्सलियों को क्रांतिकारी कह रहे थे।

आज जो यहां हो रहा है वो कांग्रेस द्वारा नक्सलियों का हौसला बढ़ाए जाने की वजह से ही हो रहा है। भाइयो बहनो, आखिर ये कैसी राजनीति है, एक तरफ हमारे जवान पूरे देश की रक्षा और सुरक्षा में जुटे हैं। आदिवासी इलाकों में पिछड़े इलाकों में नई सड़के बने, रेल लाइन बिछे, गांव-गांव बिजली, पानी पहुंचे। गांव-गांव में मोबाइल का नेटवर्क पहुंचे। उद्योग-धंधे लगे, इसके लिए हम सभी दिन रात लगे हैं। वहीं दूसरी तरफ फिर से प्रदेश को हिंसा के भयानक दौर में धकलने की साजिश चल रही है। नक्सलियों, माओवादियों के इन समर्थकों से आपको सावधान रहने की जरूरत है। साथियो, नक्सलियों का ये मनबोल कांग्रेस के ढकोसला पत्र से भी बढ़ रहा है। कांग्रेस जिसे मेनिफेस्टो कहती है वो उनका ढकोसला पत्र है और उस ढकोसला पत्र में इसकी बू आ रही है। इस चुनाव में कांग्रेस ने ऐलान किया है कि अगर दिल्ली में उसकी सरकार बनी तो वो राष्ट्रद्रोह का कानून खत्म कर देगी। इसका मतलब क्या हुआ? मतलब ये कि जो यहां जंगलों में शांति से रहने वाले हमारे आदिवासी परिवारों को, बच्चों को भड़काते हैं। जो अपने स्वार्थ के लिए इनको हथियार पकड़ाते हैं। ऐसे लोगों को अब खुला लाइसेंस मिल जाएगा। खुली छूट मिल जाएगी। उन पर वैसी सख्त कार्रवाई नहीं हो पाएगी जो हमारी सरकार कर रही है।

भाइयो बहनो, क्या राष्ट्रद्रोह का कानून हटना चाहिए? पूरी ताकत से बताइए, क्या राष्ट्रद्रोह का कानून हटना चाहिए? कांग्रेस का हाथ विकास के साथ या विनाश के साथ है? क्या आप चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ हिंसा के उस पुराने दौर में पहुंच जाए। छत्तीसगढ़ को लैंडमाइन चाहिए या फिर छत्तीसगढ़ को बिजली की लाइन और पानी की पाइप लाइन चाहिए। भाइयो बहनो, कांग्रेस का पंजा सिर्फ नक्सलियों के साथ ही नहीं है, बल्कि उन लोगों के साथ भी है जो देश के टुकड़े-टुकड़े करना चाहते हैं। छत्तीसगढ़ के भारत के लाखों वीर जवान जम्मू-कश्मीर को आतंक की गहरी साजिश से बचाने में जुटे हैं। वहां की नागरिकों की रक्षा में अपना प्राण दे रहे हैं। लेकिन कांग्रेस का पंजा उनको भी कमजोर करना चाहता है। कांग्रेस कहती है कि हमारे जो जवान आतंकियों से लड़ रहे हैं उनको जो सुरक्षा कवच मिला हुआ है। उस सुरक्षा कवच को भी हटा लिया जाएगा, छीन लिया जाएगा। क्या ये शोभा देता है क्या? ये सही सोचा जा रहा है क्या? देश के लिए जान हथेली पर रखने वाले हमारे सपूतों को जो एक विशेष कानून अधिकार मिला है, उसको कांग्रेस छीनना चाहती है।

साथियो, कांग्रेस के इस ऐलान से हिंसा और आतंक फैलाने वाली ताकतें, खुशी के मारे उछल रही है नाच रही है। क्या कांग्रेस को आप देश की सुरक्षा से, अपनी सुरक्षा से खिलावड़ करने देंगे? भाइयो और बहनो, कांग्रेस वर्षो पहले जमीन से इतना कट चुकी है कि उसे देश के लोगों की भावनाएं, देश के लोगों की जरुरतें समझ ही नहीं आ रही है। एक परिवार की गुलामी, उस परिवार के हुक्म मानने की यहीं कांग्रेस की सच्चाई बन गया है। यहां छत्तीसगढ़ में भी जो कुछ हो रहा है वो दिल्ली से तय हो रहा है। वरना क्या कारण है कि जो आयुष्मान भारत योजना, यहां के गरीब परिवारों को जीवनदान दे रही थी वो अचानक बंद कर दी गई। भाइयो और बहनो, गरीबों से पांच लाख रुपये के इलाज की सुविधा छीनना ये बहुत बड़ा पाप है कि नहीं है? ये पाप है कि नहीं है? ऐसा पाप करने वालों को सजा दोगे कि नहीं दोगे? साथियो, एक और योजना है पीएम किसान योजना इसके तहत केंद्र सरकार हर साल किसानों के खाते में 75 हजार करोड़ रुपये जमा करा रही है। छत्तीसगढ़ के भी 35 लाख छोटे किसान परिवारों को इसका लाभ मिलना तय है। लेकिन यहां पर अभी बहुत ही कम किसान परिवारों को पहली किस्त मिल पाई है। इसलिए नहीं कि चौकीदार की सरकार भेजना नहीं चाहती है। इसका कारण ये है कि यहां जो सरकार में बैठे हैं। जमानती लोग जो यहां बैठे हैं। उनको लगता है अगर चौकीदार के द्वारा भेजे गए 75 हजार करोड़ रुपये की रकम में से छत्तीसगढ़ को हिस्सा मिल जाएगा, तो उनकी नैया डूब जाएगी। ये अपनी नैया बचाने के लिए हमें किसानों की सूची ही नहीं दे रहे हैं। मुझे बताइए ये किसानों के साथ विश्वासघात है कि नहीं है? ये आपके साथ विश्वासघात है कि नहीं हैं? भाइयो- बहनो, लोगों के साथ विश्वासघात करने में उन्हें धोखा देने में कांग्रेस को दशकों का अनुभव है, पीएचडी कर ली है उन्होंने, और एक नहीं हर छोटे-बड़े ने पीएचडी कर ली है। कांग्रस की न नीयत साफ रही है और न ही नीतियां। एक बार दिल्ली में अगर मजबूर सरकार बन गई तो ये तो बिल्कुल मलामाल हो जाएंगे। फिर तो कोयला खदानों की बंदरबाट करेंगे। याद करिए 2014 से पहले इन्होंने यहीं किया था। लाखों- करोड़ रुपयों का घोटाला कोयला घोटाला किया था। आदिवासी क्षेत्रों में लूट की खुली छूट दे दी। न आदिवासियों को कुछ मिला, न देश के खजाने में कुछ आया। सबपर कांग्रेस के पंजे ने झपटा मार लिया।

भाइयो-बहनो, इनकी साजिश सिर्फ इतनी ही नहीं है बल्कि इससे भी गंभीर है कांग्रेस का इरादा गरीबों के लिए चलाई जा रही योजनाओं को बंद करने का है। यहां आयुष्मान भारत को बंद कर के और भी कई योजनाएं बंद कर दी। अभी हमारे अध्यक्ष जी मुझे बता रहे थे उन्होंने यहीं काम किया है। इसी तरह जो यूरिया है, जो सस्ता राशन गरीबों को मिलता है ऐसी सरकारी सहायत को ये बंद करने का मन बना चुके हैं। जो हमारे जवानों की सुरक्षा छीने, जो हमारे किसानों को मिलने वाले पैसों को रोके। जो हमारे गरीबों की स्वास्थ्य सुरक्षा छिने। ऐसी कांग्रेस को छत्तीसगढ़ से जितना जल्दी निकालोगे भाई उतना ही छत्तीसगढ़ का भविष्य उज्जवल होगा, और ये मौका है, ये मौका है भाइयो, साथियो, एक तरफ कांग्रेस आपसे सुविधाएं छीनने की बात कर रही है। वहीं भाजपा ने अपनी योजनाओं को विस्तार देने का संकल्प लिया है। 2022 तक 2022 में हमारी आजादी के 75 साल होने वाले हैं, और हमने तय किया है कि 2022 तक सभी परिवार जिनके पास अपना पक्का घर नहीं है। उन सभी परिवारों को पक्का घर मिले, और ये मोदी है वादा करता है तो पूरा भी करता है। दिन-रात मेहनत करता है, जी जान से जुट जाता है, और घर भी सिर्फ चार दीवारें नहीं। घर भी ऐसे जिसमें गैस का कनेक्शन होगा, बिजली भी होगी, सस्ते में एलईडी बल्ब भी होगा, शौचालय भी होगा। भाइयो- बहनो, 23 मई को 23 मई को क्या है मालूम है न? क्या है? 23 मई को चुनाव का नतीजा आएगा। 23 मई को फिर एक बार... मोदी सरकार, फिर एक बार... मोदी सरकार। 23 मई को फिर एक बार मोदी सरकार आएगी। तब पीएम किसान योजना जो आज 5 एकड़ और उससे कम लोगों के लिए है। उसे सभी परिवारों के लिए लागू कर दिया जाएगा। जो छोटे किसान, और खेत में काम करने वाले खेत मजदूर हैं। उनके लिए भी एक बहुत बड़ा तोहफा देने का हमने संकल्प किया है। हमने तय किया है कि उनको 60 वर्ष की आयु की बाद हर महीना नियमित पेंशन मिले इसकी भी व्यवस्था होगी। किसान को भी मिलेगा और खेत मजदूर को भी मिलेगा। साथ ही हमारे छोटे-छोटे दुकानदार ठेका लेकर बैठे हैं। छोटी से एक दुकान लेकर बैठे हैं। हमने तय किया है कि नई सरकार बनाने के बाद इन छोटे दुकानदारों को भी हर महीना नियमित पेंशन 60 साल के बाद मिले इसका भी प्रबंध करेंगे।

साथियो, इसी तरह जनजाती और वनवासी समुदाय के लिए एकलव्य मॉडल स्कूल का विस्तार भी बढ़ाया जाएगा। पढ़ाई के साथ-साथ कमाई बढ़ाने के लिए देश भर में 50 हजार वन धन विकास केंद्र खोले जाएंगे। जो हमारे आदिवासी सेनानी हैं उनके स्मारक बनाने का काम भी तेजी से करने वाले हैं। भाइयो-बहनो, सबका साथ सबका विकास के मंत्र को मजबूत करते हुए इन सभी सकंल्पों को हमें पूरा करना है। इसके लिए आपका एक एक वोट जरूरी है, दिल्ली में ऐसी मजबूत सरकार बनानी है जो राष्ट्रहित में ऐसे फैसले लें जिससे हमारा देश मजबूत हो। आपका हर वोट जो कमल के निशान पर पड़ेगा वो सीधे मोदी के खाते में आएगा। इस चौकीदार के खाते में आएगा। भाइयो बहनो, आजकल देखा होगा कि नामदार ऐसा लग रहा है कि गालियां देने की भद्दे से भद्दे बात करने की फैशन हो गई है। अभी उन्होंने एक आरोप लगाया कि सारे मोदी चोर क्यों हैं? अब यहां जो साहू समाज है अगर वो गुजरात में हो तो लोग उनको मोदी कहते हैं क्या सब के सब के चोर हैं क्या? क्या इनको शोभा देता है क्या? ये भाषा बोली जाती है क्या?भाइयो बहनो, ऐसे लोगों को उखाड़ फेंकने के लिए मेरे साथ संकल्प लेंगे क्या? संकल्प लेंगे क्या? मैं जो कहूंगा उसके बाद आपको बोलना है चौकीदार... क्या बोलेंगे? चौकीदार क्या बोलेंगे?चौकीदार क्या बोलेंगे? चौकीदार
भारत माता की जय भारत माता की जय
बहुत बहुत धन्यवाद...

ଦାନ
Explore More
ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି  'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

ଆମକୁ ‘ଚଳେଇ ନେବା’ ମାନସିକତାକୁ ଛାଡି 'ବଦଳିପାରିବ' ମାନସିକତାକୁ ଆଣିବାକୁ ପଡ଼ିବ :ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ
Infrastructure drives PE/VC investments to $3.3 billion in October

Media Coverage

Infrastructure drives PE/VC investments to $3.3 billion in October
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
ସୋସିଆଲ ମିଡିଆ କର୍ଣ୍ଣର ନଭେମ୍ବର 12, 2019
November 12, 2019
ସେୟାର
 
Comments

PM Narendra to take part in BRICS Summit in Brazil on 13 th & 14 th November; On the side-lines he will address BRICS Business Forum & will hold bilateral talks with President Jair M. Bolsonaro

The infrastructure sector drove private equity (PE) and venture capital (VC) investments in India in October, forming 43% of the overall deals worth $3.3 billion

New India highlights the endeavours of Modi Govt. towards providing Effective Governance