പങ്കിടുക
 
Comments
Subsequent Congress governments in the past hindered the North-East’s development: PM Modi in Assam
After the 1971 war, Congress had the opportunity to solve the issues internal security from Kashmir to Assam but they chose to do nothing: PM Modi
Since assuming power, we have tirelessly pursued stability, peace and security in the North-East region: Prime Minister Modi

भारत माता की...जय !
भारत माता की...जय !

नवरात्रि का पर्व चल रहा है और ऐसे समय माता कामाख्या देवी के चरणों में आने का सौभाग्य मिला, ये मेरे लिए बहुत ही संतोष का विषय है।
पूरा असम रंगाली बिहू की तैयारी में जुटा है। आप सभी को इस महान पर्व की मैं बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। मां कामाख्या, हागरी माधव और ब्रह्मपुत्र की कृपा हम सभी पर बनी रहे, ये मेरी मां कामाख्या के चरणों में प्रार्थना है। बिहू हमारी उस समृद्ध परंपरा, सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक है, जिसको भारत रत्न भूपेन हजारिका जैसे अनेक सुपूतों ने समृद्ध किया है। भाइयो और बहनो, मेरे लिए तो असम एक प्रकार से घर आने जैसा हो गया है। प्रधानसेवक होने के नाते बीते पांच वर्ष में अनेक बार आप सभी के बीच आना हुआ है। ये आप सभी का प्यार है, जो मुझे खींच लाता है।

भाइयो-बहनो, मैं मेरे भाषण के पहले, भाई रमण डेका जी को और विजया चक्रवर्ती को, भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता कैसा होता है, ये दोनों उत्तम उदाहरण हैं। जिस प्रकार से, पूरी ताकत से आज वो लगे हैं, हम सभी कार्यकर्ताओं के लिए इनका जीवन प्रेरणा देने वाला है। आज मैं आपका आशीर्वाद लेने तो आया ही हूं, साथ में आपके विश्वास और आपके साथ के लिए धन्यवाद देने के लिए भी आया हूं, क्योंकि असम के एक-एक साथी के सहयोग के कारण ही नॉर्थ-ईस्ट को विकसित करने के लिए मैं सार्थक कदम उठा पाया हूं। साथियो, 2014 में आपने मोदी को जो वोट दिया था, उसने गांव और गरीब का जीवन बदलने में अहम भूमिका निभाई है। आपके वोट ने असम के डेढ़ करोड़ गरीब परिवारों के बैंक में खाते खुलवाए। ये मोदी ने नहीं किया है, आपके वोट ने किया है। आपके वोट ने बहनों को खुले में शौच से मुक्ति के लिए टॉयलेट बनवाए हैं। आपके वोट ने गरीब बहनों को भी एलपीजी गैस पर खाना बनाने का सुख और धुएं से मुक्ति दिलायी है। आपके वोट ने गरीब से गरीब को मुश्किल से मुश्किल इलाके में बिजली पहुंचाने का काम किया है। आपके वोट ने असम के लाखों गरीब परिवारों को हर वर्ष पांच लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज का साधन दिया है। आपके वोट ने असम के 24 लाख किसानों के खाते में हर वर्ष करीब 15 सौ करोड़ रुपए जमा कराने का काम किया है। ये आप के वोट की शक्ति है जो 2019 के असम चुनाव की दिशा के साथ ही देश की भी दिशा तय करेगा। इस बार आपका वोट असम के हर किसान को पीएम किसान सम्मान योजना से जोड़ेगा, हर छोटे किसान परिवार को पेंशन देने का भी काम करेगा।

साथियो, आपका वोट ये भी तय करेगा की भारत की रक्षा और सुरक्षा नीति क्या हो, हम डरे सहमे रहें या अपनी सुरक्षा के लिए हर जरूरी कदम उठाएं, ये आप तय करने वाले हैं। सरायघाट यहां से ज्यादा दूर नहीं है, लाचित बोड़फुकन सहित असम के अनेक सुपूतों की ये शौर्य भूमि है। आप मुझे बताइए, क्या देश की सुरक्षा से समझौता हो सकता है? आतंकवाद से समझौता हो सकता है क्या? नक्सलवाद, माओवाद से समझौता हो सकता है क्या? लेकिन हमारे विरोधी दल भारत को उस नीति पर चलाना चाहते हैं जो देश को और कमजोर करेगी। भारत पाकिस्तान में छुपे आतंकियों को घर में घुसकर मारे, ये फैसला हमारी सरकार ने किया। हमारे सुपूतों ने वीरता से अपना पराक्रम दिखाया लेकिन कांग्रेस कहती है सुबूत दो। यहां के अनेक सुपूत, हिंसा से प्रभावित क्षेत्र में लड़ रहे हैं, मां भारती की रक्षा कर रहे हैं। कांग्रेस कहती है की उनको मिली सुरक्षा, उनका अधिकार वापस ले लो। कांग्रेस इसी मुद्दे पर आपसे वोट मांग रही है। अब आपको तय करना है की हमारे सुपूतों की सुरक्षा हटेगी या फिर कांग्रेस की वोटबैंक पालिटिक्स चलेगी, निर्णय आपको करना है। क्या सुरक्षाबलों के अधिकार छीनने चाहिए? हमारे जवानों को निहत्था करना चाहिए क्या? हमारे जवानों को असहाय करना चाहिए क्या? ये कांग्रेस वाले ये करना चाहते हैं, ऐसी कांग्रेस को सजा देनी चाहिए की नहीं देनी चाहिए? 

साथियो, जो कांग्रेस देश की रक्षा-सुरक्षा के हितों को दांव पर लगा सकती है, वो किसी को भी दांव पर लगाने में देर नहीं करती। याद करिए कैसे असम के लोगों को, नार्थ-ईस्ट के लोगों को अपनी पहचान, अपने कल्चर की सुरक्षा के लिए लड़ना पड़ा। कांग्रेस का परिवार और गुवाहाटी में उनके रागदरबारी सत्ता में बने रहें इसके लिए घुसपैठियों का वोटबैंक बनाने की एक साजिश रची गई। इन लोगों ने बांग्लादेश के सीमा के मुद्दे को जानबूझ कर लटकाए रखा, उसको सुलझाने की कोशिश नहीं की। घुसपैठ होती रही, आपका नुकसान होता रहा और कांग्रेस इसका फायदा उठाती रही। कांग्रेस से असम को यही मिला है।

साथियो, 1971 के युद्ध के बाद कांग्रेस चाहती तो असम से लेकर कश्मीर तक की समस्याओं का समाधान कर सकती थी। लेकिन जम्मू-कश्मीर भी जलता रहा और असम की स्थिति भी गंभीर होती गई। जब आपका ये चौकीदार कांग्रेस की करतूतों को सुधारने का काम कर रहा है। हमने असम के हितों की रक्षा के लिए, असम की अस्मिता के लिए सुरक्षा के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं। बांग्लादेश के साथ सीमा समझौता हमारी ही सरकार ने पूरा किया है। इससे सीमा पर फेंसिंग का काम आसान हुआ है। जो पहले से ही घुसपैठ कर चुके हैं, ऐसे लोगों की पहचान के लिए भी प्रक्रिया जारी है, बहुत ही जल्द ये काम पूरा किया जाएगा। हमारी पूरी कोशिश है की कोई भी भारतीय इससे छूटे ना और किसी घुसपैठिए का नाम इस रजिस्टर में घुसे ना। 

भाइयो-बहनो, कांग्रेस ने जिस असम समझौते को तीन दशकों तक लटकाए रखा, उसे लागू करने के लिए हम निरंतर काम कर रहे हैं। समझौते के क्लॉज 6 को लागू करने के लिए गंभीर कोशिश की जा रही है। साथियो, असम एकोर्ड के अनुरूप ही हमारी सरकार 6 समुदायों अहोम, मटक, मोरान, सुतिया, कोच राजबोंग्शी और चाय जनगोष्ठी को जनजातीय का दर्जा देने पर भी काम कर रही है। इसके लिए राज्यसभा में बिल लाने का काम भी हमारी सरकार ने किया है। मैं ये भी साफ कर दूं की इन 6 समुदायों को ट्राइब का दर्जा देते समय ये भी सुनिश्चित किया जाएगा की असम की वर्तमान जनजातीयों के हितों, उनके अधिकारों की पूरी तरह रक्षा होगी, ये मेरा वादा है। साथियो, कांग्रेस ने वोट के लिए घुसपैठ को तो बढ़ावा दिया ही, उन्होंने असम के लोगों को बरसों तक जरूरी सुविधाओं से वंचित रखा। ब्रह्मपुत्र पर कई साल से बन रहे बोगीबील ब्रिज को पूरा करने का काम हमारी सरकार ने किया है। सिर्फ लटके हुए प्रोजेक्ट्स से ही नहीं, हम असम को नए प्रोजेक्ट्स से भी ताकत दे रहे हैं। ब्रह्मपुत्र पर पांच नए पुल बन रहे हैं। तेजपुर, कलियाबोर पुल तो अब थोड़े ही महीनों में पूरा हो जाएगा। धुबड़ी पर बन रहा पुल भी असम का मान बढ़ाएगा। गुवाहाटी एयरपोर्ट में नई बिल्डिंग समेत कई एयपोर्ट्स को विस्तार भी दिया जा रहा है। चांगसारी में ऐम्स बन रहा है तो देश की सबसे बड़ी बॉयोरिफाइनरी भी यहीं बन रही है। पिछले पांच साल में नुमालीगढ़ रिफाइनरी की क्षमता को भी हमने तीन गुना कर दिया है। यहां मंगलदोई में भी नेशनल हाईवे के प्रोजेक्ट हो, गांव की सड़कें हो, रेलवे की परियोजना हो, इन सभी पर तेजी से काम चल रहा है। इसके अलावा इंफ्रास्ट्रक्चर, शिक्षा और स्वास्थ्य से जुड़ी व्यवस्थाओं को भी बढ़ाया जा रहा है। साथियो, ये काम बहुत पहले हो जाने चाहिए थे लेकिन कांग्रेस को अपना वोट बैंक पक्का करने और भ्रष्टाचार से फुरसत ही नहीं थी। भ्रष्टाचार नहीं करेंगे, लूटेंगे नहीं तो चुनाव कैसे जीतेंगे। 

 

साथियो, भ्रष्टाचार को ही शिष्टाचार बनाने की वजह से ही कांग्रेस का पूरा नामदार परिवार आज जमानत पर है। अभी पुराने केस चल ही रहे हैं की एक नया घोटाला सामने आ गया, तुगलक रोड चुनावी घोटाला। जो लोग नहीं जानते उन्हें बता दूं की दिल्ली में एक तुगलक रोड है, उसमें एक बंगला है, उसमें एक बहुत बड़े नेता रहते हैं। ये तुगलक रोड के इस बंगले पर बीते कुछ दिनों से सैकड़ों करोड़ रुपए का खेल खेला गया है। बंगले से जिन लोगों के तार जुड़े हैं उनके पास से बोरे भर-भर के नोटें निकल रही हैं। आप मुझे बताइए, काला धन जहां भी हो मुझे पकड़ना चाहिए की नहीं पकड़ना चाहिए? दीवाली हो, होली हो, पकड़ना चाहिए की नहीं पकड़ना चाहिए? ईद हो या रामनवमी, पकड़ना चाहिए की नहीं पकड़ना चाहिए? सावन मास हो या रमजान का महीना, पकड़ना चाहिए की नहीं पकड़ना चाहिए? एक तरफ ये लोग चौकीदार को चोर कह रहे हैं दूसरी तरफ अब तो सुबूत मिल गया है खुद लूट मचाए थे।

साथियो, ये जो पैसा जुटाया गया था और आप हैरान हो जाएंगे, ये जो सारे पैसे पकड़े गए हैं वो पैसे कौन से थे। गरीब बच्चों को और गर्भवती माताओं को पोषक आहार देने के लिए भारत सरकार ने जो पैसे भेजे, ये गरीबों के पैसे भी खा गए और उसमें से चोरी कर गए भाइयो। गरीबों के मुंह से निवाला छीनकर नामदारों की ये पार्टी चुनाव लड़ रही है। ऐसे लोगों को वोट देने में भी पाप लगेगा, क्योंकि ये पैसे, ये गरीब बच्चों के पैसे छीनकर के लाए हैं। इससे तिलमिलाए नामदार और उनके साथी चौकीदार को ही गाली देने में जुटे हैं। अपने पाप ढकने के लिए दूसरों के मत्थे पर पाप मढ़ रहे हैं, अगर चोर कोई और है तो करोड़ों अरबों उनके घर से क्यों निकल रहे हैं, ये भी तो बताना पड़ेगा। अगर गुनहगार कोई और है तो जमानत पर उनके घर के लोग क्यों धूम रहे हैं, अगर वो भ्रष्टाचारी नहीं हैं तो मामा के खुलासे से उनके पैर क्यों कांप रहे हैं।

 

साथियो, झूठ, फरेब और प्रपंच के हथियार लेकर ये चौकीदार को ही रास्ते से हटा देने पर तुले हैं लेकिन आपके आशीर्वाद से ये चौकीदार अड़ा भी है और अपने इरादों पर मजबूती से खड़ा भी है। एनडीए के उम्मीदवारों को जिताकर आप इस चौकीदार को मजबूत करेंगे ऐसा मेरा विश्वास है। आपका एक-एक वोट सीधा-सीधा जब आप कमल पर बटन दबाएंगे, आपका वोट सीधा-सीधा ये मोदी के खाते में जाने वाला है। इसी विश्वास के साथ आप सभी का, मैं बहुत-बहुत आज, इतनी बड़ी तादाद में आशीर्वाद देने आए, इतनी भयंकर गर्मी में जहां भी मैं देख रहा हूं लोग ही लोग हैं। आपका प्यार, आपका आशीर्वाद मैं कभी बेकार नहीं जाने दूंगा। मैं विकास करके आपके इस प्यार को ब्याज समेत लौटाउंगा। मैं कुछ नारे बुलवाता हूं, बोलेंगे आप? सबके सब बोलेंगे, पीछे वाले भी बोलेंगे? पूरी ताकत से बोलेंगे? जब मैं नारा बुलवाउंगा तो आपको बोलना है चौकीदार।

मैं भी… चौकीदार, मैं भी… चौकीदार, मैं भी… चौकीदार। भारत माता की जय, भारत माता की जय। बहुत-बहुत धन्यवाद।

സംഭാവന
Explore More
നടന്നു പോയിക്കോളും എന്ന മനോഭാവം മാറ്റാനുള്ള സമയമാണിത്, മാറ്റം വരുത്താനാവും എന്ന് ചിന്തിക്കുക: പ്രധാനമന്ത്രി മോദി

ജനപ്രിയ പ്രസംഗങ്ങൾ

നടന്നു പോയിക്കോളും എന്ന മനോഭാവം മാറ്റാനുള്ള സമയമാണിത്, മാറ്റം വരുത്താനാവും എന്ന് ചിന്തിക്കുക: പ്രധാനമന്ത്രി മോദി
Under PMAY-G, India is moving towards fulfilment of a dream: Housing for all by 2022

Media Coverage

Under PMAY-G, India is moving towards fulfilment of a dream: Housing for all by 2022
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
സോഷ്യൽ മീഡിയ കോർണർ 2019 നവംബർ 20
November 20, 2019
പങ്കിടുക
 
Comments

Furthering the vision of Housing For All by 2022, PM Awas Yojana completes 4 Years

Pradhan Mantri Kisan Maan-Dhan Yojana (PM-KMY) gives support to Farmers across the country; More than 18 lakh farmers reap benefits of the Scheme

Citizens praise the remarkable changes happening in India due to the efforts of the Modi Govt.