Share
 
Comments

The Golden landmark, when science and spirituality hold hands, the 1st divine Water-Show- Satchitanand, was inaugurated by H.D.H. Pramukh Swami Maharaj on Saturday. On the occasion, Chief Minister Shri Narendrabhai Modi observed that the significance and life of our Rushies comes true to all tests, proves its significance, even Science also authenticates the same.

Chief Minister joined other dignitaries in expressing gratefulness to Pramukh Swami Maharaj, for presenting the priceless gift to next generation.

The Water-Show, Satchitanand, reveals ancient secret of enlightenment, spreads the divine message that is enshrined in our scriptures- Ved and Upanishad. Considered to be the world’s most renowned authority, Water-Show expert Shri Eva Pipa has designed it. As per the divine inspirations by H.D.H. Pramukh Swami Maharaj, the devotees of BAPS have poured their physical efforts, energy, and skills in the project. Symbolising the significance of technical skills, it strikes an ideal balance between science and spirituality, the Akshardham Monument links us all with our cultural heritage, added C.M.

Chief Minister admired Shri Eva Pipa for his talent and skills. Youth ought to inherit brevity from Nachiketa, a small child, who does not get deterred by the Yama (Death-God). The quality and workmanship has really impressed all.

Indian Atomic Scientist, Shri R Chidambaram was of the view that our culture is very rich. It enlightens us with spiritual science, it goes beyond the limits of science; religious path is, in a true sense, taking us beyond that.

Showering blessings, H.D.H Pujya Pramukh Swami Maharaj said that the story of Nachiketa is reflecting the commanding peaks of our culture and divinity.

Creative Director of Water-Show, Shri Eva Pipa, highlighted the divine inspirations and experience gained by him.

Earlier delivering welcome address, Shri Ishwarcharan Swami elaborated the salient features associated with water-show. Shri Brahmavihari Swami felicitated the dignitaries.

Speaker of the Assembly, Shri Ashok Bhatt, Ministers, M.Ps, MLAs and devotees were present on the occasion.

Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Govt releases Rs 4,000 crore for Post Matric Scholarship Scheme for Scheduled Castes

Media Coverage

Govt releases Rs 4,000 crore for Post Matric Scholarship Scheme for Scheduled Castes
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
टीका उत्सव पर देशवासियों से आग्रह
April 11, 2021
Share
 
Comments

मेरे प्यारे देशवासियों,

आज 11 अप्रैल यानि ज्योतिबा फुले जयंती से हम देशवासी ‘टीका उत्सव’ की शुरुआत कर रहे हैं। ये ‘टीका उत्सव’ 14 अप्रैल यानि बाबा साहेब आंबेडकर जयंती तक चलेगा।

ये उत्सव, एक प्रकार से कोरोना के खिलाफ दूसरी बड़ी जंग की शुरुआत है। इसमें हमें Personal Hygiene के साथ ही Social Hygiene पर विशेष बल देना है।

हमें ये चार बातें, जरूर याद रखनी है।

Each One- Vaccinate One, यानि जो लोग कम पढ़े-लिखे हैं, बुजुर्ग हैं, जो स्वयं जाकर टीका नहीं लगवा सकते, उनकी मदद करें।

Each One- Treat One, यानि जिन लोगों के पास उतने साधन नहीं हैं, जिन्हें जानकारी भी कम है, उनकी कोरोना के इलाज में सहायता करें।

Each One- Save One, यानि मैं स्वयं भी मास्क पहनूं और इस तरह स्वयं को भी Save करूं और दूसरों को भी Save करूं, इस पर बल देना है।

और चौथी अहम बात, किसी को कोरोना होने की स्थिति में, ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाने का नेतृत्व समाज के लोग करें। जहां पर एक भी कोरोना का पॉजिटिव केस आया है, वहां परिवार के लोग, समाज के लोग ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ बनाएं।

भारत जैसे सघन जनसंख्या वाले हमारे देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई का एक महत्वपूर्ण तरीका ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ भी है।

एक भी पॉजिटिव केस आने पर हम सभी का जागरूक रहना, बाकी लोगों की भी टेस्टिंग कराना बहुत आवश्यक है।

इसके साथ ही जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे, इसका पूरा प्रयास समाज को भी करना है और प्रशासन को भी।

एक भी वैक्सीन का नुकसान ना हो, हमें ये सुनिश्चित करना है। हमें जीरो वैक्सीन वेस्ट की तरफ बढ़ना है।

इस दौरान हमें देश की वैक्सीनेशन क्षमता के ऑप्टिमम यूटिलाइजेशन की तरफ बढ़ना है। ये भी हमारी कपैसिटी बढ़ाने का ही एक तरीका है।

हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि ‘माइक्रो कन्टेनमेंट जोन’ के प्रति कितनी जागरूकता हम लोगों में है।

हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि जब जरूरत न हो, तब हम घर से बाहर न निकलें।

हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे।

हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि हम मास्क पहनने और अन्य नियमों का किस तरह पालन करते हैं।

साथियों,

इन चार दिनो में व्यक्तिगत स्तर पर, समाज के स्तर पर और प्रशासन के स्तर पर हमें अपने-अपने लक्ष्य बनाने हैं, उन्हें प्राप्त करने के लिए पूरा प्रयास करना है।
मुझे पूरा विश्वास है, इसी तरह जनभागीदारी से, जागरूक रहते हुए, अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए, हम एक बार फिर कोरोना को नियंत्रित करने में सफल होंगे।
याद रखिए- दवाई भी, कड़ाई भी।

धन्यवाद !

आपका,

नरेन्द्र मोदी।