ता. १७/११/२०११ 

भारत माता की जय..!

मंच पर बिराजमान मंत्रीमंडल के मेरे साथी, राज्य के शहरी विकास मंत्री श्री नितीनभाई पटेल, इस क्षेत्र के लोकप्रिय सांसद श्री हरिनभाई पाठक, औडा के अध्यक्ष श्री धर्मेन्द्रभाई शाह, कर्णावती के मेयर श्री असितभाई वोरा, गांधीनगर गुडा के अध्यक्ष श्री अशोकभाई भावसार, पूर्व विधायक भाई श्री जीतुभाई वाघेला, यहाँ के लगातार दौड़ते विधायक श्री बाबुभाई बी.जे.पी., अहमदाबाद शहर भाजपा अध्यक्ष और एलिसब्रीज के विधायक भाई श्री राकेशभाई शाह, रखियाल के विधायक श्री वल्लभभाई, मंच पर बिराजमान तालुका पंचायत, जिला पंचायत के सभी नेता, कॉर्पोरेशन के सभी नेता और विशाल संख्या में आए हुए प्यारे नागरिक भाईयों और बहनों...

रकार किसके लिए? सरकार गरीबों के लिए होती है, सरकार बेसहारों का सहारा होती है. यदि एक उद्योगपति बीमार होता है तो उसे डॉक्टर का इलाज करवाने में कोई समस्या होती है, भाई?
जरा भी नहीं होती है, एक को बुलाओ तो पचास डॉक्टर उपस्थित हो जाते हैं. लेकिन गरीब को? गरीब की चिंता तो सरकार को करनी पड़ती है, अस्पताल बनाने पड़ते हैं और उनमें गरीबों का इलाज राहत दर पर हो इसकी चिंता करनी पड़ती है. यदि किसी अमीर लड़के को पढ़ना है तो उसे कोई तकलीफ़ होती है? वह तो पंद्रह शिक्षकों को घर बुला सकता है. लेकिन गरीब के लड़के को पढ़ना है तो? सरकार को विद्यालय बनाने पड़ते हैं, सरकार को तनख़्वाह देनी पड़ती है, सरकार को यूनिफार्म देने पड़ते हैं, सरकार को सारी व्यवस्थाएं करनी पड़ती है क्योंकि गरीब का पढ़ना आवश्यक है और यह चिंता सरकार को करनी होती है. उसी प्रकार, आज के युग में यदि एक अमीर को घर बनाना है, मध्यम वर्ग के आदमी को घर बनाना है तो शायद अपनी कमाई से बचत करके मकान बना सकता है, लेकिन गरीब दो फुट जगह भी नहीं ले सकता क्योंकि उसके पास उतनी हैसियत ही नहीं होती है. तो गरीब के लिए आवास सरकार को बनाने पड़ते हैं, चाहे करोड़ों-अबजों रुपयों का बोझ आये. यदि गरीब को एक अच्छा घर मिलता है तो उसके जीवन की एक नई शुरुआत होती है और इसलिये सरकार ने एक अभियान उठाया है कि गरीब को घर कैसे दिया जाए? और आपको जानकर खुशी होगी भाईयों, १७०० करोड़ रुपये से अधिक राशि के साथ आज जैसे आठ हज़ार मकान बन गये हैं, वैसे एक लाख मकान तैयार होंगे, एक लाख! और आने वाले दिनों में सूरत, अहमदाबाद जैसे शहरी क्षेत्रों में जिन्हें झोंपड़ीओं में जीवन गुजारना पडता है उनके लिए ‘जहाँ झोंपड़ा, वहाँ घर’ इस परियोजना के साथ कई नए मकान बनाने का आयोजन कार्य सरकार ने हाथ में लिया है. लाखों मकान इस राज्य में गरीबों के लिए बनने वाले हैं. ४० साल गुजरात में काँग्रेस ने शासन किया, इन ४० वर्षों में जितने मकान बने होंगे उससे ज्यादा मकान यह सरकार आपको बनाकर देने वाली है. अरे, गरीब को जब घर मिलता है न तब उसका जीवन जीने का तरीका भी बदलता है. जब कोई आदमी घर में कुछ बसाता है तो उसे अच्छा रखने की आदत पडती है. अभी वह झोंपडे में जीवन गुजार रहा हो, कच्चे-पक्के घर में रहता हो तो उसे लगता है कि ठीक है, इसमें कहाँ खर्च करें? पायदान का खर्च भी नहीं करता. लेकिन ऐसा मकान मिले तो वह सोचता है कि ठहरो भाई, कुछ पैसे बचाओ. अगले महीने एक पायदान लाना है. बाद में सोचेगा कि नहीं-नहीं थोड़े पैसे और बचाओ, घर में कोई मेहमान आता है तो अच्छा नहीं लगता, एक चटाई लानी है. फिर ऐसा लगता है कि ठहरो, फ़िज़ुल खर्च नहीं करने हैं अब तो बच्चे बड़े हो रहे हैं तो घर में एकाध टी.वी. भी लाते हैं. एक बार मकान मिलता है तो अपने जीवन में सुधार करने के लिए वह बचत भी करने लगता है, पैसों की कमी हो तो अधिक मेहनत भी करने लगता है और धीरे-धीरे अन्य लोगों के समकक्ष होने का प्रयास करता है. गरीब का घर भी अक्सर गरीबी से लड़ने का एक बड़ा हथियार बन जाता है. एक बार आदमी आत्मसम्मान के साथ जीने लगे तो उसे गरीबी को भूलने का मन करता है. और मुझे विश्वास है कि जिन आठ हजार ऐसे परिवारों को ये घर मिल रहे हैं, वे घरों में जा कर सिर्फ शरण लें ऐसा नहीं, वे जब घरों में जाँएं तब एक नया जीवन जीने का संकल्प करें और अब गरीबी को घर में घुसने नहीं देना है ऐसे निश्चय के साथ आगे बढ़ें.

ब हम ये मकान देंगे तब, जिस फ्लैट की कीमत आज २०-२५ लाख है ऐसे मकान आपको सिर्फ एक टोकन कीमत पर देंगे और वह भी इसलिये कि इससे थोड़ी जिम्मेदारी आती है. सरकार आपको इतना देती है, यदि मैं आप से कुछ माँगूं तो देंगे, भाईयों? बहुत कम लोग बोल रहे हैं, देंगे..? जैसा नितीनभाई ने बताया ऐसा मुझे कुछ नहीं चाहिये भाई, वो टेबल के नीचे से मांगते हैं न ऐसा नहीं चाहिये. मुझे वचन चाहिये, दोगे..? जिन्हें भी ये मकान मिलते हैं वे लोग दो बातें अपने जीवन में तय करें. एक, हम बच्चों को पढ़ायेंगे. कैसी भी तकलीफ़ हो लेकिन बच्चों की पढ़ाई नहीं छुडवाएंगे. करोगे..? बच्चों को पढ़ाओगे..? उसमें भी बेटियों को खास पढ़ाओगे..? जरा ज़ोर से बोलो..! दूसरी बात, एक पाप जो शहर में बेक़ाबू होता जा रहा है, और जैसे आदमी आधुनिक होता जाता है न वैसे यह संक्रमण बढ़ता जाता है और इसलिये भ्रूण हत्या का पाप, जैसे ही पता चलता कि बेटी पैदा होने वाली है, गर्भपात करा लेते हैं. भाईयों-बहनों, जिनको मकान मिलने वाले हैं ऐसे सभी लोगों से मेरी दूसरी बिनती है कि हम संकल्प करें कि हमारे पूरे परिवार में कभी भी बेटी पैदा होने वाली हो तो गर्भपात का पाप नहीं करेंगे, बेटी को माँ के पेट में नहीं मार डालेंगे, बेटी को इस पृथ्वी पर जन्म लेने देंगे. भाईयों, लक्ष्मी को नहीं जन्म लेने देंगे तो आपके घर में लक्ष्मीजी नहीं पधारेंगी, हमे सुख नहीं मिलेगा और इसलिये इस मकान के मिलने के साथ मन में यह भी भाव विकसित करें कि अब के बाद पराधीन होकर जीवन नहीं जीना है. हमारी संतानों को पढ़-लिखकर आगे बढ़ना हो तो कभी भी कोई स्र्कावट न आए ऐसे संकल्प के साथ एक नया जीवन जीने की शुरुआत करनी है ऐसे संकल्प के साथ इस मकान में पैर रखने का निर्णय करना, भाई.

ये जो मकान बने हैं उसके कॉन्ट्रेक्ट में हमारे औडा के मित्रों ने एक अच्छी व्यवस्था की है. व्यवस्था यह की है कि जब सरकार पज़ेशन लेगी उस दिन जिन नियमों के अनुसार उसे मकान देना है बिल्कुल वैसे ही तैयार करके देना होगा. कहीं भी टूटा हुआ खिड़की-दरवाजा अंदर डालेगा तो सरकार उसे स्वीकार करने वाली नहीं है, उनसे कहेगी कि ठहरो भाई, यह ठीक नहीं है, पूरा करो उसके बाद ही लेंगे और ऐसा मकान आपको मिलने वाला है. क्योंकि कई बार मकान बनते-बनते जब आखरी मकान बन रहा होता है तब पहले बने मकान में कुछ ऐसी समस्या आयी हो... लेकिन इस कॉन्ट्रेक्ट की व्यवस्था है कि कॉन्ट्रैक्टर जब दे तब उसे सारे मकान सही ढंग से तैयार करके देने हैं. इसके कारण जो लाभार्थी हैं उन्हें घर सम्पूर्ण रूप से, नियमों के अनुसार जैसा होना चाहिये वैसा बना हुआ तैयार मिलेगा. ऐसी व्यवस्था सरकार ने पहले से ही की हुई है. ये जो मकान बनाये हैं वे अलग अलग जगहों पर बनाये गये हैं. यहाँ भी बनाये हैं, पूर्वी इलाके में भी बनाये हैं और पश्चिमी इलाके में भी बनाये गये हैं. अब ड्रॉ में तो कुछ पता नहीं चलता कि आपको कहाँ मकान मिलेगा? आप रहते हो थलतेज में और मकान मिले यहाँ सिंगरवा में तो आपको परेशानी होगी. तो मैंने एक ऐसा सुझाव दिया है कि आपस में अदला-बदली करनी हो तो औडा को मैंने कहा है कि इन गरीब परिवारों को कोई तकलीफ न हो, उन्हें आपस में अदल-बदल कर देना. लेकिन सामने बदली वाला आपको ढूँढ निकालना पडेगा भाई, उसे सरकार ढूँढने नहीं जायेगी. आपको ढूँढ निकालना पडे कि यह आदमी थलतेज में है उसे सिंगरवा जाना है तो तुम सिंगरवा जाओ, मैं थलतेज जाता हूँ. दूसरी बात, इसमें लगभग दो सौ जितने विकलांग परिवारों की सुविधा के लिए... यदि परिवार में कोई विकलांग है तो उसे सीढ़ी चढ़ कर रोज़ाना उपर-नीचे जाने में कष्ट होता है... मैंने औडा के मित्रों को विनती की है कि ईश्वर ने जिन्हें कष्ट दिया है उन्हें हम ज्यादा कष्ट न दें और उन्हें नीचे का घर मिले ऐसा प्रबन्ध करें. एक सामाजिक दृष्टिकोण, एक संवेदनशील दृष्टिकोण के साथ इस पूरे काम को आगे बढ़ाने का हमने प्रयास किया है. भाईयों-बहनों, गाँवों में पहले जो घर बनते थे... इंदिरा आवास हो, सरदार आवास हो, आंबेडकर आवास हो, तरह तरह की योजनाएं चलती... लेकिन क्या होता था? गाँव के एक कोने में एक टुकड़ा ज़मीन दी हो वहाँ कोई छोटा सा घर बनाया हो, दूसरे कोने में दूसरे को दिया हो, तीसरे कोने में तीसरे को दिया हो और उन्हें ऐसा लगे ही नहीं कि कुछ बना है. इस सरकार ने बुनियादी विचार किया कि भाई गाँव में कितने गरीब मकान लेने के योग्य हैं उसका पहले एक लिस्ट बनाओ. उसके बाद कौन-सी योजना से किसको कितना लाभ मिल सकता है वह सूची निकालो और क्या ज़मीन का कोई एक टुकडा निकाल कर सारे मकान एक साथ, कॉलोनी जैसा बना सकते हैं? तो फिर सरकार वहाँ रोड भी दे, सरकार वहाँ गटर भी दे, सरकार वहाँ बिजली भी दे, ज्यादा घर हों तो सरकार वहाँ आंगनवाड़ी दे, कोई दुकान के लिए जगह दे. तो पहले जैसे गाँव में एक मकान एक टेकरी पर यहाँ हो, दूसरी टेकरी पर वहाँ हो... ऐसी स्थिति बदली है. इस स्वर्णिम जयंती वर्ष में स्वर्णिम सेवा के रूप में कॉलोनियाँ बनाने का काम शुरू किया है और अपने अहमदाबाद जिले में भी उसका निर्माण हो गया है, महेसाणा जिले में भी हो गया है, हर एक जिले में काम तेज़ी से चल रहा है. बुनियादी सुविधाओं के साथ के मकान इन गरीबों को मिले ऐसा मूलभूत परिवर्तन इस सरकार ने किया है, इसके कारण सरकार पर काफी बड़ा आर्थिक बोझ आया है. उसके बावजूद भी जब एक कॉलोनी जैसा बनेगा तो उनको जीवन जीने का एक नया अवसर मिलेगा. कई बार गाँवों में मकान बनते हैं तो जहाँ गड्ढे-टेकरे हों या और किसी काम की न हो ऐसी जमीन जुटा दी जाती है और जब थोड़ी भी बारिश होती है, इन गरीबों के घरों में पानी भर जाता है. हमने कहा कि जो कॉलोनियाँ बनाओ वे सबसे ऊंची जगह ढूँढ़ कर वहाँ बनाओ ताकि बारिश हो तो कम से कम उन्हें दुखी न होना पडे. इस प्रकार के सुझावों के साथ गरीबों का भला कैसे हो यह चिंता इस सरकार को है.

भाईयों-बहनों, यह सरकार ऐसी है कि जन्म से लेकर मृत्यु तक जीवन के हर एक चरण में यह सरकार गरीबों के साथ रहती है, गरीबों के लिए काम करती है. एक गरीब परिवार... और जन्म होने से पहले ही, मैं तो कहता हूँ कि गरीब माता के गर्भ में बच्चा हो, उसके पास प्रसूति के पैसे न हों, तो यह सरकार, गरीब परिवार की माताओं की प्रसूति का खर्च देती है. इतना ही नहीं, वह तीन-चार दिन अस्पताल में रहे तो रोज़ाना दो सौ रुपये उसे और उसके पति को देती है. इतना ही नहीं, इस गरीब परिवार की स्त्री को अपने घर से अस्पताल जाना हो तो जो किराये का खर्च होता है, रिक्शा की हो या ट्रैक्टर किया हो, वह खर्च भी सरकार देती है, बच्चा गर्भ में हो तब से सरकार खर्च करती है. आपकी सन्तान जन्म ले इसकी परवाह करने के लिए सरकार ने डॉक्टर रखे हैं. आपका बच्चा छ: महीने का हो, उसे कोई बीमारी न लगे, उसकी मृत्यु न हो इसके लिए भी सरकार उसकी देखभाल करती है. आपके बच्चे को पोलियो न हो, उसे पंगुता न आए इसके लिए टीका लगाने का अभियान हर तीन महीने से यह सरकार उठाती है और घर-घर जाकर आपके बच्चों को टीका लगाने की चिंता करती है. आपकी संतान थोड़ी बड़ी होती है तो वह आंगनबाड़ी में ले जाकर हंसने-खेलने लगे, गीत गाने लगे, खिलौने पहचानने लगे, चीज़ों को पहचानने लगे इसके लिए यह सरकार आंगनबाड़ी मुफ्त में चलाती है. आपके बच्चे को पोषण मिले इसके लिए आपके छोटे-छोटे बच्चों को पानी में पिघला कर पीला सकें ऐसा पाउडर मुफ्त में सरकार देती है. ताकि आपके बच्चे को पर्याप्त पोषण मिले. थोड़ा बड़ा हो तब उस बच्चे को पौष्टिक आहार मिले उसके लिए एक फ्री सेट, तैयार की हुई बैग में, सब परिवारों को मुफ्त में सरकार देती है. आपका बच्चा तंदुरुस्त हो उसकी चिंता सरकार करती है. आपका बच्चा और थोडा बड़ा हो, पाठशाला में जाने लायक हो तो सरकार मुफ्त में पढ़ाती है. आपके बालक को पढ़ाने के लिए शिक्षकों का खर्च करती है, पुस्तकों का खर्च देती है, बच्चों को यूनिफार्म मुफ्त देती है और जिन बालकों को छात्रालय में रह कर पढ़ना पड़ता हो उन्हें छात्रालय का खर्च भी देती है, बहन-बेटीयों को पढ़ने के लिए बस में जाना पड़ता हो तो उन्हें बस का मुफ्त पास निकाल देती है, ये सारी चिंता सरकार करती है ताकि गरीब के बच्चे पढ़ें. आपका बच्चा पढ़े, पढ़ने के बाद उसे कॉलेज जाना हो, एक भी पैसे के खर्च के बिना कॉलेज का शिक्षण यह सरकार गरीब के बच्चों को देती है. आपके बच्चे को वकील बनना हो, डॉक्टर बनना हो तो उसका खर्च भी सरकार देती है. वकील बन जाए और वकालत शुरु करनी हो तो शुरू में ऑफिस खोलने के लिए, मान लो गरीब के बच्चे को नोटरी बनना है, डॉक्टर बनना है तो शुरुआत करने के लिए लाखों रुपये सरकार उसके हाथ में रखती है ताकि वह अपना जीवन चला सके. गरीब के बच्चे को विमान उड़ाने का मन हो, पायलट बनना हो और वह विदेश में पढ़ने जाना चाहता हो तो सरकार विदेश में पढ़ने के लिए गरीब के बच्चे को पैसे देती है. आप नौकरी पर लगो इसकी चिंता भी सरकार करती है, आप आर्थिक रुप से आत्मनिर्भर बनो इसकी चिंता सरकार करती है. गरीब को रहने के लिए घर न हो तो सरकार देती है, गरीब को सस्ता अनाज मिले ताकि वह अपने घर में चूल्हा जला सके इसके लिए प्रत्येक परिवार को कम कीमत पर दो किलो – तीन किलो अनाज देने का काम यह सरकार करती होती है. इतना ही नहीं, कोई गरीब परिवार हो और स्थिति अत्यंत खराब हो तो उन्हें दाह-संस्कार का खर्च भी सरकार देती है.

रीब का बालक पाठशाला में दाखिल हो, सरकार उसके आरोग्य का परीक्षण कराती है और यदि उसे कोई बीमारी है तो कितना भी खर्च आए, पाँच लाख, दस लाख, यदि हार्ट का ऑपरेशन करवाना हो, और कोई ऑपरेशन करवाना हो, मद्रास भेजना पड़े, बैंगलोर भेजना पडे, ऐसा हो तो इस सरकार के मुख्यमंत्री फन्ड में से गरीब बच्चों के ऑपरेशन करवाये जाते हैं. माँ-बाप को पता भी नहीं होता कि उसके बच्चे को क्या बीमारी है... और अगर दुर्भाग्यवश वह गुज़र जाता है तो माँ-बाप उसे ईश्वर की मरज़ी मानते हैं, बेचारों को पता ही नहीं होता है. इस राज्य में डेढ़ लाख जितने गरीब बच्चों के चश्मे के नंबर निकाल कर उन्हें चश्मा देने का काम सरकार करती है ताकि वह बालक पढ़ना चाहता हो तो पढ़ सके. आप कल्पना किजिए, जन्म से ले कर मृत्यु तक हर कदम पर गरीब का हाथ थामने के लिए सरकार साथ में आती है.

ज गरीब कल्याण मेलों के अंतर्गत पांच-पांच सात-सात हजार करोड रुपये सीधे-सीधे किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार के बग़ैर गरीबों के हाथों में देने का काम यह सरकार करती है. गरीब विधवा हो तो उसकी चिंता सरकार करती है, उसको उसके घर पर पेन्शन भिजवा देती है ताकि वह सम्‍‍मानपूर्वक अपना जीवन बिता सके. उसे कुछ सीखना हो, सिलाई का काम सीखना हो या कढ़ाई का काम सीखना हो तो सरकार सिखाती है. उसे सिलाई मशीन चाहिये तो सरकार देती है. गरीब विधवा स्त्री भी आत्मनिर्भर बन कर जी सके इसकी चिंता सरकार करती है. गरीब की उम्र ६० साल की हो गई हो और कोई आजीविका न हो तो शाम को कैसे खाए इसकी फिकर होती है. तो सरकार ६० साल से ज्यादा उम्र के गरीबों को हर महीने पेन्शन उनके घर भेजती है ताकि बुढ़ापे में उसे किसी के सामने हाथ न फैलाना पड़े. जन्म से लेकर मृत्यु तक यह सरकार गरीबों के लिए दिन-रात काम करती रहती है.

भाईयों-बहनों, गुजरात ने गरीबी के सामने जंग शुरु की है. गुजरात में से ग़रीबी को हटाना है, मित्रों. प्रत्येक आदमी सम्‍‍मानपूर्वक जिए, सुख से जिंदगी बसर करे इसके लिए विकास का झरना बहाने का प्रयास शुरु किया है. लेकिन बदकिस्मती यह है कि कुछ गुमराह लोगों को गुजरात का भला देखना ही नहीं है. लोग अनपढ़ रहें तभी उनकी रोटी पक सकती है, इसलिए उन्हें शिक्षा में रुचि नहीं है, गरीबों का कल्याण हो उसमें दिलचस्पी नहीं है ताकि वे उनकी मत-पेटी भरने के काम आयें. और इसलिये भाईयों-बहनों मैं कहता हूँ कि यदि सही प्रकार का विकास करना हो तो विकास में हमें भागीदार बनना होगा. ‘सबका साथ, सबका विकास’ इस मंत्र को लेकर हम आगे बढ़े हैं और इस मंत्र को चरितार्थ करने का प्रयास करने की हमें आवश्यकता है और इस प्रयास को हम करेंगे.

प सोचिए, इस सरकार ने गरीबों के लिए तीन ऐसी योजनाएँ बनाई. शहरी गरीब, उनकी समृद्धि के लिए योजना बनाई, दो हजार करोड़ रुपये का पैकेज उसके लिए दिया. ‘उम्मीद’ नाम की योजना बनाई. जिन शहरी बच्चों ने पांचवी-छठी कक्षा के बाद पढ़ाई छोड दी हो, पढ़ाई में रुचि न हो, पढ़ाई की व्यवस्था न हो... रोजगार चाहते हों तो उन्हें कुछ हुनर तो आना चाहिए. उसमें कोई कौशल नहीं हो तो... उसे अख़बार बाँटने जाना हो लेकिन साइकिल चलाना न आता हो तो? साइकिल न हो तो? इस सरकार ने ‘उम्मीद’ कार्यक्रम के अंतर्गत छोटे-छोटे हुनर सिखाना शुरु किया है. तीन हफ्ते का हुनर, पाँच हफ्ते का हुनर, उसे कोई भी हुनर सिखाने का. भाईयों-बहनों, इस हुनर के कारण पिछले दो वर्षों में एक लाख से ज्यादा ऐसे गरीब बच्चों को रोजगार मिल गया जो सामान्य मजदूरी करते थे तब प्रति माह ८००-१००० रुपये कमाते थे, जब कुछ सीख गये तो आज ये बच्चे पांच हजार, छ: हजार या सात हजार रुपये कमाने लगे हैं. इस ‘उम्मीद’ योजना के द्वारा हमने यह काम किया है.

सी प्रकार, आदिवासियों के कल्याण के लिए ‘वनबंधु कल्याण योजना’ शुरु की और आदिवासियों के विकास के लिए एक हजार करोड़ रुपये का पैकेज उनको दिया. इसी तरह, समुद्र के किनारे पर नाव चलाने का काम करने वाले मेरे मछुआरे भाई,
खलासी भाई, जो बेचारे विकास का इंतज़ार करते हैं उनके लिए सरकार ने पन्द्रह हजार करोड का पैकेज बनाकर उनके कल्याण की योजना बनायी.

दि शहरी गरीब हों तो उनकी चिंता, समुद्र किनारे पर रहने वाले गरीब हों तो उनकी चिंता, वनवासी क्षेत्र में रहने वाले गरीब हों तो उनकी चिंता. सर्वांगी विकास हो ऐसी बात कही है. कोई भी पीछे न रह जाये यह देखते हुए इस सरकार ने काम किया है और इसलिये भाईयों, आज गुजरात जो विकास कर रहा है, जो प्रगति हो रही है... अभी गुजरात में नये-नये कारखाने आ गए हैं. कितने सारे लोगों को रोजी-रोटी मिली है. आज खेती व्यवसाय वाले ख़ानदान में, खेती छोटी हो, चार-चार बेटे हो तो माँ-बाप सोचते हैं कि एक बेटा खेती करे और तीन लोग कुछ दुकान या नौकरी करे. किसान भी नौकरी-दुकान चाहता है. अगर गुजरात का विकास न हो तो इन किसानों के बेटों का क्या होगा? उनको रोजी-रोटी कहाँ से मिलेगी?

गुजरात में अभी नई-नई कंपनीयाँ आ रही हैं, गाड़ीयाँ बनाने के लिए. पचास लाख गाड़ीयाँ गुजरात में बने ऐसी संभावना पैदा हुई है, पचास लाख..! हर साल पचास लाख गाड़ीयाँ..! मारुति यहाँ आती है, प्यूजो यहाँ आती है, फोर्ड यहाँ आती है, नेनो आयी है, जनरल मोटर्स है, ट्रकें बनाने वाले आ रहे हैं. ट्रैक्टर बनाने वाले आ रहे हैं, अनगिनत... आप सोचो, पचास लाख गाड़ीयाँ..! और भाईयों-बहनों, हिसाब यह कहता है कि जब एक गाड़ी बनती है तब गाड़ी बननी शुरु हो तब से लेकर वो चलने लगे तब तक एक गाड़ी दस लोगों का पेट भरती है, दस लोगों का..! कितने सारे लोगों को मज़दूरी मिलेगी, काम मिलेगा, ड्राइवर का काम मिलेगा, इंजीनीयरिंग का काम मिलेगा... पचास लाख गाड़ीयाँ बने तो पाँच करोड लोगों का पेट भरने की ताकत इन गाड़ीयों के कारखानों में है. गाड़ी अगर लखनऊ जाएगी तो लखनऊ में जो ड्राइवर होगा उसका पेट भरने का काम करेगी, गाड़ी अगर चैन्नई जायेगी तो चैन्नई में जो ड्राइवर होगा उसका पेट भरने का काम करेगी. भाईयों-बहनों, एक ऐसे उद्योग के विकास की ओर गुजरात जा रहा है... और आज भी गुजरात में कई बार मजदूर चाहिये तो नहीं मिलते हैं, लोग शिकायत करते हैं. खेतों में काम करने के लिए मजदूर चाहिये तो नहीं मिलते हैं. इन बिल्डरों से पूछें तो कहते हैं कि साहब, सब ठीकठाक है, मशीनें हैं लेकिन काम करनेवाले आदमी नहीं मिलते हैं. कारण? गुजरात में रोजगार के इतने सारे मौके खडे हुए हैं. अभी हरिनभाई पाठक कह रहे थे कि पार्लियामेन्ट में जवाब दिया, भारत सरकार ने जवाब दिया है कि पूरे हिंदुस्तान में सबसे ज्यादा रोजगार, ७८% रोजगार, अकेले गुजरात में मिलता है, ७८%..! और २२% में पूरा हिंदुस्तान है भाई. १०० लोगों को रोजगार मिला हो तो ७८ गुजरात में और २२ बाकी देश में. आप सोचिए, गुजरात की यह जो प्रगति हुई है उसके कारण नौजवानों को, गरीबों को रोजी-रोटी की संभावना मिली है.

म टुरिज़म को विकसित कर रहे हैं. यदि टुरिज़म का विकास हो तो किसको रोजी-रोटी मिले? टुरिज़म का विकास होने पर पकौड़े बेचने वाले को रोजगार मिले, चाय की केतली वाले को रोजगार मिले, छोटे-छोटे खिलौने बनाता हो उसे रोजगार मिले, थैलीयाँ बना कर बेचता हो उसे रोजगार मिले, रिक्शा वाले को रोजगार मिले, टैक्सी ड्राइवर को रोजगार मिले, गरीब आदमी को रोजगार मिले. टुरिज़म के विकास के पीछे ये जो सारी मेहनत उठाई है उसका कारण है कि गरीब आदमी को रोजगार मिले.

रीबों को अधिकतम रोजगार कैसे मिले इसका बीड़ा इस सरकार ने उठाया है, गरीबों को शिक्षा कैसे मिले उसका बीड़ा इस सरकार ने उठाया है, गरीबों के आरोग्य की चिंता कैसे की जाए उसका बीड़ा इस सरकार ने उठाया है और गरीब बच्चे को पाठशाला में पढने भेजो तो उसका बीमा यह सरकार करती है. गरीब के बच्चे को पाठशाला में भेजो तो उसका बीमा सरकार करती है. हिंदुस्तान में गुजरात एक ही राज्य ऐसा है जहाँ बालवाड़ी से लेकर बालक पढ़ना शुरु करे और कॉलेज तक पढ़ने गया हो, ऐसा हर एक विद्यार्थी, लगभग सवा करोड़ विद्यार्थियों का बीमा इस सरकार ने किया है. उनके जीवन में कोई अनुचित घटना बन जाए तो उसके परिवार के लिए लाख-दो लाख रुपए का बीमा सरकार के खर्च पर पकता है और उनको मिलता है. कोई किसान है तो उसका बीमा करना शुरु किया. नहीं तो पहले कैसा था कि कोई बड़ा मिल-मालिक कार में जा रहा हो और कार का ऐक्सीडेंट हो जाए और उसे कुछ हुआ तो उसका बीमा हो, लेकिन किसान काम कर रहा हो पर उसका बीमा न हो. खेत में काम कर रहा हो और साँप काट ले और किसान मर जाए तो उसको कोई पूछने वाला नहीं था. जहरीली शराब पी कर मर जाए तो उन्हें दो-दो लाख रुपए मिलते थे, जहरीली शराब पीने वाले को रुपये देती थी सरकारें लेकिन अगर कोई किसान मर जाए तो नहीं देती थी. भाईयों, हमारी सरकार ने किसानों का बीमा करवाया और आज कोई किसान कहीं कुएँ में उतरा हो और मौत हुई हो, कहीं साँप ने काट लिया हो और मर गया हो तो इस किसान के परिवार को भी तुरंत ही लाख रुपये मिले इसकी व्यवस्था इस सरकार ने की है.

रीबों का कल्याण कैसे हो इसकी चिंता हमने की है. भूतकाल में, अचानक हमें कोई बीमारी आ गई हो, हार्ट-अटैक आया हो, साँप ने काटा हो, कुछ तकलीफ़ हुई हो और अस्पताल जाना हो तो रिक्शा वाला भी नहीं आता था. हम कहें कि भाई, इसे अस्पताल जल्दी ले चलो, इसे ऐसा हुआ है तो रिक्शा वाला भी गरीब को देख के कहता कि पहले पैसे दो. पहले पैसे हों तो रिक्शा में बैठ भाई. ऐसा हाल था, कोई आए नहीं! ऐम्बुलेंस के लिए फोन करो तो ऐम्बुलेंस वाला पेट्रोल डलवाने जाए, तब तक तो वो गुज़र भी जाए. भाईयों-बहनों, आज यह १०८ की सेवा सरकार ने रख दी, आप १०८ लगाओ तो एक भी पैसे के खर्च के बगैर इस गरीब परिवार को अस्पताल ले जाने का काम यह १०८ करती है भाईयों. आज १०८ जीवनदाता बन गई है गुजरात में. कारण? यह सरकार सिर्फ और सिर्फ गरीबों के लिए काम करने वाली सरकार है, गरीबों के कल्याण के लिए कार्म करने वाली सरकार है और गरीबों को गरीब रखने के लिए नहीं, गरीबों को गरीबी के सामने लड़ने के लिए तैयार करने वाली यह सरकार है और इसके लिए ये सब विभिन्न प्रयास शुरु किए हैं.

ज ये जो मकान मिल रहे हैं, वो मकान भी गरीबी के सामने लड़ने का एक शस्त्र है. उस शस्त्र का उपयोग करके जीवन में दो संकल्प किजिए कि संतानों को पढ़ायेंगे और भ्रूण हत्या का पाप नहीं करेंगे. और इन नये मकानों में आप धूमधाम से रहने जाना, बहुत सुखी होना और समाज पर कभी भी बोझ मत बनना. जिस समाज ने आपको दिया है उस समाज का ऋण कभी उतारना ऐसी आप सबको विनती करते हुए बहुत बहुत शुभकामनाएँ देता हूँ.

य जय गरवी गुजरात..!

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
India sets sights on global renewable ammonia market, takes strides towards sustainable energy leadership

Media Coverage

India sets sights on global renewable ammonia market, takes strides towards sustainable energy leadership
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
मोदी गरीब, दलित और पिछड़ों के हितों के लिए समर्पित है: मिर्जापुर, यूपी में पीएम मोदी
May 26, 2024
इंडी गठबंधन के लोग एससी/एसटी/ओबीसी का आरक्षण लूटना चाहते हैं: मिर्जापुर, यूपी में पीएम मोदी
सपा सरकार के दौर में जीवन या जमीन कब छिन जाए, कोई नहीं जानता था: मिर्जापुर, यूपी में पीएम मोदी
मोदी सरकार पांच लाख तक का मुफ्त इलाज और पांच साल तक मुफ्त अनाज दे रही है: मिर्जापुर, यूपी में पीएम मोदी

भारत माता की,

भारत माता की...

माता विंध्यवासिनी की…जय !

आप लोगन क का हाल-चाल बा, आप लोग मजे में हएन, आप लोगन के हम हाथ जोड़ के प्रणाम करत हई। जय श्री राम। मां विंध्यवासिनी, माता बड़ी शीतला, मां अष्टभुजा और काली खोह माता की पुण्य भूमि को मेरा शत-शत प्रणाम। ज्येष्ठ का ये महीना हमारी परंपरा में विशेष होता है। इसका हर मंगलवार बहुत खास होता है। कोई बड़ा मंगल कहता है, कोई बुढ़वा मंगल कहता है। इस बार ये बुढ़वा मंगल और भी विशेष है। क्योंकि 500 साल बाद ये पहला बड़ा मंगल होने वाला है...जब बजरंग बली के प्रभु राम, अयोध्या में अपने भव्य मंदिर में विराजे होंगे। और यह इतनी बड़ी खुशी है, इतनी बड़ी खुशी है कि शायद हम सबसे ज्यादा बजरंग बली खुश होते होंगे। भाई बहन, जरा मेरे एक सवाल का जवाब देंगे आप? मेरे एक सवाल का जवाब देंगे आपलोग? आपकी आवाज नहीं आ रही है। मेरे एक सवाल का जवाब देंगे? 500 साल बाद अयोध्या में भव्य राम मंदिर, बजरंग बली की खुशी, ये मंगल अवसर किसके कारण आया? किसके कारण आया? किसके कारण आया? किसके कारण आया? यह पुण्य काम किसने किया? यह पुण्य काम किसने किया? आपका जवाब गलत है। आपको भी पता नहीं है कि इतना बड़ा पुण्य काम आपके एक वोट ने किया है। यह आपके वोट की ताकत है कि आज राम मंदिर भी बना है। और जैसा योगी जी ने कहा यहां मां विंध्यवासिनी का भव्य नव्य कॉरिडोर भी बन रहा है। और संयोग देखिए, 4 जून को भी बड़ा मंगल है। (ये जो कुछ नौजवान चित्र लेकर के आए हैं वह हमारे साथी कलेक्ट कर लेंगे। आपका प्यार मुझ तक पहुंच जाएगा। उधर भी दो लोग हैं जरा ले लीजिए भाई। सबको संतोष हो गया, धन्यवाद जी।) साथियों, 4 जून को बड़ा मंगल के दिन फिर एक बार...मोदी सरकार ! 6 चरणों में देश ने तीसरी बार BJP-NDA की बहुत मजबूत सरकार बनाना पक्का कर दिया है।

भाइयों और बहनों,

भारत ने तीसरी बार मोदी सरकार बनाने का मन क्यों बनाया? इसका सीधा-सीधा कारण है- नेक नीयत, नेक नीतियां और नेशन फर्स्ट, मेरा देश सबसे ऊपर, राष्ट्रनिष्ठा! आप मुझे बताइए साथियों, आज जरा एक-एक चीज में बात करता हूं ना। मैं भाषण नहीं करूंगा आज। आपसे बातें करूंगा, ठीक है चलेगा ना। अच्छा आप मुझे बताइए, जरा सोचिए, आप अपना घर बनाते हैं और घर बनाने के लिए किसी मिस्त्री को लगा देते हैं। ये नारे वगैरह बताइए लेकिन बीच बीच में जब जगह हो तब बुलाइए। ठीक है, और फिर एक जून को भी करना पड़ेगा, चार जून को तो बहुत ज्यादा करना पड़ेगा तो थक जाओगे। अच्छा हम अपना घर बनाते हैं और एक मिस्त्री या किसी काम करने वालों को तय करते हैं क्या कभी कोई सामान्य मानवी भी अपना घर बनाने के लिए जो मिस्त्री रख ले, एक महीने के लिए ये मिस्त्री काम करेगा, दूसरे महीने दूसरा मिस्त्री आएगा, तीसरे महीने तीसरा मिस्त्री आएगा। चौथे महीने चौथा मिस्त्री आएगा। तो घर बनेगा क्या? घर बनेगा क्या? जो घर बनेगा वह रहने लायक बनेगा क्या? आंखों को अच्छा लगे ऐसा बनेगा क्या? वो किसी को दिखाने लायक बनेगा क्या? सामान्य मानवी को भी मालूम है एक छोटा सा घर भी बनाना है तो बार-बार मिस्त्री नहीं बदलते भाई। अब यह सपा, कांग्रेस, इंडी गठबंधन यह कह रहा है कि पांच साल में पांच प्रधानमंत्री। अब बताइए भाई, ये पांच साल में पांच प्रधानमंत्री कोई रखता है क्या। अरे कोई मिस्त्री नहीं रखता तो यह प्रधानमंत्री, अब ये क्योंकि उनको बांट के खाना है, वह कहते हैं पांच साल में पांच प्रधानमंत्री। अब बताइए, जहां प्रधानमंत्री अपनी कुर्सी बचाने में लगा रहेगा तो वह क्या देश को मजबूत बना सकता है क्या? इसलिए देश ने तय किया कि मजबूत देश के लिए प्रधानमंत्री भी मजबूत होना चाहिए। होना चाहिए नहीं होना चाहिए। तभी एनडीए को इतना भारी जनादेश मिल रहा है। समाजवादी पार्टी पर अपना वोट कोई बर्बाद नहीं करना चाहता। मुझे बताइए भैया हम लोग, हमारे उत्तर प्रदेश के लोग राजनीति को समझने में बड़े माहिर हैं। यहां तो गांव का बच्चा भी राजनीति समझ जाता है। कोई समझदार कभी भी, अपन मान लीजिए कोई कंपनी डूब रही है तो उस कंपनी का शेयर कोई खरीदेगा क्या? आप बताइए ना खरीदेगा क्या? 10 रुपये का शेयर भी खरीदेगा क्या? जो डूबता है उसमें कोई पैसा डालेगा क्या? जो डूब रहे हैं उसको कोई वोट देगा क्या? देगा क्या? पता ही है कि इनका डूबना तय है तो कौन वोट डालने की गलती करेगा भाई। सामान्य मानवी वोट उसी को डालेगा जिसकी सरकार बनना तय है। आप बताइए आप मिर्जापुर में चौराहे पर जाकर खड़े रहिए किसी भी 100 लोगों को पूछिए कि बताओ भाई किसकी सरकार बनेगी। 90 लोग क्या बोलेंगे बताइए। क्या बोलेंगे, तो फिर वोट उसको ही देना चाहिए कि नहीं देना चाहिए। वोट बर्बाद करना चाहिए क्या?

भाइयों और बहनों,

इंडी-गठबंधन वालों को देश अच्छी तरह जान गया है। ये लोग घोर सांप्रदायिक हैं। ये लोग घोर जातिवादी हैं। ये लोग घोर परिवारवादी हैं। जब भी इनकी सरकार बनती है तो इसके आधार पर ही ये फैसला लेते हैं। अभी देखिए यहां पर चुनाव हुए हमारे यादव समाज में इतने होनहार लोग हैं, इतने होनहार लोग हैं लेकिन उन्होंने अपने परिवार के लोगों को ही टिकट दिया, बाहर के एक को भी को नहीं दिया। साथियों, इतने दशकों तक देश ने बम धमाके झेले हैं। आतंकवाद ने सैकड़ों जीवन तबाह किए हैं। यहां सपा वाले क्या करते थे? कानून व्यवस्था और समाजवादी पार्टी का छत्तीस का आंकड़ा है। जो आतंकी पकड़े जाते थे, उनको भी ये सपा वाले छोड़ देते थे। जो पुलिस अफसर इसमें आनाकानी करता था सपा सरकार उसे सस्पेंड कर देती थी कि तुमने आतंकवादी को पकड़ा क्यों, घर जाओ।

साथियों,

मिर्ज़ापुर को तो इन्होंने बदनाम करके रखा था। इन्होंने पूरे यूपी को, पूर्वांचल को माफिया का सुरक्षित ठिकाना बना दिया था। जीवन हो या ज़मीन...कब छिन जाए कोई नहीं जानता था। और सपा सरकार में माफिया को भी वोटबैंक के हिसाब से देखा जाता था। अब ऐसा नहीं है। अब यहां हमारे योगी जी और उनकी पूरी सरकार मेरा जो स्वच्छता अभियान है न उसको बड़ी बहादुरी से आगे बढ़ा रहे हैं यहां पर। यहां बराबर सफाई चली है। सपा सरकार में पहले जनता थरथर कांपती थी अब भाजपा सरकार में माफिया थरथर कांप रहा है।

भाइयों और बहनों,

अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए इंडी गठबंधन वाले, समाजवादी पार्टी वाले, कोई भी हद पार कर सकते हैं। अब तो इनके निशाने पर हमारा पवित्र संविधान आ गया है। ये दलित-पिछड़ों-आदिवासियों के हक को लूटना चाहते हैं। हमारा संविधान साफ-साफ कहता है कि धर्म के आधार पर आरक्षण हो ही नहीं सकता। इनके इरादे कितने खतरनाक हैं, इससे जुड़ा एक नया खुलासा मैं आज कर रहा हूं। 2012 में यूपी विधानसभा चुनाव के समय, जनवरी में सपा ने अपना घोषणा पत्र जारी किया था। तब सपा ने अपने घोषणापत्र में कहा था। जैसे दलितों को आरक्षण मिला है वैसा ही मुसलमानों को दिया जाएगा। ये सपा ने 2012 के घोषणापत्र में कहा था। सपा ने डंके की चोट पर कहा था कि वो इसके लिए संविधान तक बदल देगी। (आप नीचे रखो भैया, पीछे परेशान हो रहे हैं। पहले आप अपने बेटे को कंधे पर बिठाए रखा, लोग परेशान हुए, अब दूसरे का चित्र उठा के ले आए, फिर लोगों को परेशान कर रहे हैं।) इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में सपा ने फिर अपना घोषणापत्र जारी किया। इसमें फिर सपा ने मुसलमानों को आरक्षण देने का ऐलान किया। देखिए इनकी आदत। और इतना ही नहीं, सपा ने घोषणा की थी कि पुलिस और PAC में भी 15 प्रतिशत आरक्षण मुसलमानों को दिया जाएगा। आप कल्पना कर सकते हैं, ये लोग अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए किस तरह SC-ST-OBC का हक छीनने पर तुले हुए थे। भाइयों-बहनों, मैं भी आप में से कईयों की तरह अति पिछड़े समाज से निकल कर के यहां पहुंचा। मुझे उनकी पीड़ा मालूम है। पिछड़ों ने कैसी जिंदगी जी है वह मुझे मालूम है। उसको भी लूटना चाहते हैं। सरकार में आने के बाद इन्होंने अपनी मनमानी भी की, लेकिन मामला तबसे सुप्रीम कोर्ट में फंसा हुआ है। बावजूद इसके ये पिछले दरवाजे से ओबीसी का हक मुसलमानों को देते रहे हैं। लेकिन बार-बार कभी हाईकोर्ट, कभी सुप्रीम कोर्ट इसको रोक लगाती है, गंभीर सवाल पूछती, मामले लटके रहते हैं। अब इंडी वालों ने मुसलमानों को आरक्षण देने के लिए आखिरी उपाय खोज लिया है। सपा-कांग्रेस वाले अब संविधान में लिख देना चाहते हैं कि मुसलमानों को आरक्षण दिया जाएगा। इसलिए ये लोग संविधान बदलना चाहते हैं। ये कोर्ट-कचहरी के झंझट को एक बार में ही खत्म कर देना चाहते हैं। मैं आपसे पूछना चाहता हूं मेरे भाई-बहन क्या आप ये होने देंगे क्या? आपका हक जाने देंगे क्या? क्या वोट बैंक के आधार पर हक छीना जाएगा क्या? क्या बाबा साहेब आंबेडकर की पीठ पर छुरा भोंकने देंगे क्या? क्या संविधान का अपमान होने देंगे क्या? क्या संविधान की हत्या करने देंगे क्या?

साथियों,

सपा-कांग्रेस के लोग वोटबैंक को समर्पित हैं, वहीं मोदी गरीब-दलित-पिछड़ों के हितों के लिए समर्पित है। मोदी 5 साल तक मुफ्त अनाज दे रहा है। मोदी 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज दे रहा है। अब तो मोदी की गारंटी है जितने भी परिवार हैं, मोदी.हर परिवार के बुजुर्गों का मुफ्त इलाज कराएगा।

साथियों,

पीएम किसान सम्मान निधि से मिर्जापुर के किसानों के खाते में करीब 1 हज़ार करोड़ रुपए पहुंचे हैं। मोदी ने 4 करोड़ पक्के घर बनाकर दे दिए हैं। 3 करोड़ पक्के घर गरीबों को और मिलने वाले हैं। ये एक-एक घर लाखों रुपए का है, जो माता-बहन के नाम पर मिल रहा है।

साथियों,

आप बिजली से कमाई कर सकें, मोदी इसके लिए भी रास्ता बना रहा है। पहला तो आपका बिजली बिल जीरो, आपका बिजली बिल जीरो, इतना ही नहीं आपके पास जो अतिरिक्त बिजली होगी वो सरकार खरीदेगी। बिजली के बदले में पैसे देगी और आपको बिजली से कमाई होगी। और इसलिए मोदी ने पीएम सूर्यघर मुफ्त बिजली की योजना शुरू की है। यह शुरू कर दिया है वादा नहीं कर रहा हूं। गारंटी चालू हो गया। आप ऑनलाइन जाकर के रजिस्ट्री करवा दीजिए और यह काम करने के लिए हमारी सरकार आपके घर के छत पर सोलर पैनल लगाने के लिए हर घर को 75 हजार तक देगी। हर घर को सरकार के पैसों से सोलर पैनल लगेगा और उससे बिजली से आपको कमाई होगी। बताइए आपको डबल मुनाफा है कि नहीं है। मुक्त बिजली का लाभ है कि नहीं है।

भाइयों और बहनों,

ये क्षेत्र, हमारे हस्तशिल्पियों का, कलाकारों का, विश्वकर्मा परिवारों का क्षेत्र है। यहां का पीतल उद्योग, कारपेट उद्योग, मिट्टी के बर्तनों का उद्योग हमारी ताकत रहा है। आपके उत्पाद देश ही नहीं, विश्व के बाज़ार में पहुंचे, ये काम करने में मोदी जुटा है। पहले हमने यहां एक जनपद एक उत्पाद योजना चलाई। अब मोदी पीएम विश्वकर्मा योजना लेकर आया है। इस योजना के तहत विश्वकर्मा साथियों को ट्रेनिंग सरकार दे रही है। आधुनिक औज़ारों के लिए पैसा सरकार दे रही है। और बैंक से लाखों रुपए की मदद सीधे मिल रही है, ये मोदी की गारंटी है कि उसको पैसा मिले। इससे हर प्रकार के बर्तन, खिलौने बनाने वाले साथियों को लाभ होगा। कुछ साल पहले तक भारत विदेशों से खिलौने आयात करता था। मैंने देश के खिलौना उद्योग को प्रोत्साहन दिया, उनका हाथ पकड़ा। आज भारत के खिलौने पूरी दुनिया में पहुंच रहे हैं। इसलिए मिर्ज़ापुर के खिलौना बनाने वाले साथियों के लिए भी अवसर ही अवसर हैं।

भाइयों और बहनों,

मिर्जापुर और रॉबर्ट्सगंज नारी सशक्तिकरण के मॉडल बनकर उभरे हैं। बहन अनुप्रिया तो मेरे मंत्रिमंडलीय मजबूत साथी है। और इस बार तो बहन रिंकी कौल ने भी इतिहास बनाया है। अगर मैं गलत नहीं हूं तो ये राबर्ट्सगंज से पहली महिला उम्मीदवार हैं। और देखिए मेरा नाता कैसा है। मैं बचपन में कब प्लेट धोते धोते बड़ा हुआ हूं। चाय पिलाते पिलाते बड़ा हुआ हूं। और आपने देखा होगा कि जैसे ही विजय का सूरज उगता है तो कमल भी खिलता है और उसी समय कप प्लेट की भी याद आती है, चाय की चुस्की लेने का मन करता है। और मोदी और चाय का नाता भी इतना तगड़ा है यानी मोदी है, कप प्लेट है, चाय की चुस्की है, कमल खिल रहा है, देखिए चारों तरफ जय-जयकार है। इसलिए आपका एक-एक वोट नारीशक्ति को सशक्त करने के लिए पड़ना चाहिए। यहां दुद्धी में भी उपचुनाव हो रहा है। वहां से हमारे साथी भाई श्रवण गौंड जी को भी भारी मतों से विजयी बनाना है। और आपको याद रखना होगा जहां दो निशान हैं, वहां दो अलग अलग निशान होंगे, एक जगह पर ऊपर कपप्लेट होगी वहीं कमल भी होगा। तो आपको ये ध्यान रख कर के वोट करना है। याद रखिएगा आप सिर्फ एमपी नहीं चुन रहे आप पीएम भी चुन रहे हैं। और इसलिए ज्यादा से ज्यादा मतदान कराएंगे। ज्यादा से ज्यादा मतदान कराएंगे?

मैं आपको पूछ रहा हूं मेरी आवाज सुनाई दे रही है। आप ज्यादा से ज्यादा मतदान कराएंगे? हाथ ऊपर करके बताइए ज्यादा से ज्यादा मतदान कराएंगे? हर पोलिंग बूथ में विजय होकर आएंगे? घर घर जाएंगे? मतदान के पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ेंगे? अच्छा मेरा एक काम करोगे? ये मेरा पर्सनल काम है करोगे? देखिए गांव-गांव हमारे यहां हर गांव में ग्राम मंदिर होते हैं पवित्र मंदिर होते हैं। आप सब वहां जाना और मोदी की तरफ से वहां मथ्था टेकना और परमात्मा से आशीर्वाद मांगना। मोदी के लिए नहीं मोदी के परिवार के लिए, नहीं 140 करोड़ देशवासियों के लिए विकसित भारत बनाने के लिए आशीर्वाद मांगना। मांगेंगे? हर मंदिर में जाएंगे हर तीर्थ स्थान में जाएंगे? श्रद्धा पूर्वक परमात्मा से प्रार्थना करेंगे?

बोलिए भारत माता की,

भारत माता की।

बहुत-बहुत धन्यवाद।