आप पहले से ही भारत के लिए एक रोड मैप तैयार कर रहे हैं। अमृत काल 2047 को आकार देने के लिए आपने पिछले 10 वर्षों के शासन से क्या सबक लिया है? विशेष रूप से युवा भारत पर केंद्रित पहली पांच पहलें क्या होंगी?

मैं यहां आपको सही करना चाहूंगा।

सरकार के प्रमुख के रूप में मेरा अनुभव 23 वर्षों का है। मुझे 13 वर्षों तक मुख्यमंत्री और 10 वर्षों तक प्रधानमंत्री के रूप में सेवा करने का अद्वितीय सम्मान प्राप्त हुआ है। ये 23 साल सीखने के अनुभव के रहे हैं और लोगों ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है। एक प्रमुख सीख जो मैंने गुजरात के साथ-साथ भारत में भी उपयोग की है, वह है लोगों पर भरोसा करना और उन्हें भागीदार बनाना। गुजरात में मैंने इसे एक जन आंदोलन बनाकर महिला साक्षरता बढ़ाने और स्कूल छोड़ने वालों की संख्या कम करने पर काम किया।

राष्ट्रीय स्तर पर, चाहे वह स्वच्छ भारत आंदोलन हो, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ या डिजिटल ट्रांजैक्शन; लोगों के नेतृत्व वाले जन आंदोलनों के माध्यम से ही बदलाव हासिल किया गया। कांग्रेस के शासन में लंबे समय तक युवाओं को आगे नहीं बढ़ने दिया गया, उन्हें अपनी पूरी क्षमता हासिल नहीं करने दी गई। भ्रष्टाचार और परिवारवाद ने युवाओं को बुरी तरह आहत किया है। यह मेरा दृढ़ विश्वास है कि विकसित भारत केवल हमारे युवाओं की शक्ति से ही हासिल किया जा सकता है। हमारी उन पर केंद्रित कई पहलें हैं। हमने अपने संकल्प-पत्र में बताया है कि हम युवा भारत को कैसे मजबूत करेंगे।

शिक्षा के क्षेत्र में, हम गुणात्मक और मात्रात्मक दोनों तरह के बदलाव देख रहे हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) शिक्षा में क्रांति ला रही है और हमारे युवाओं को उनकी प्रतिभाओं में निखरने में मदद कर रही है। पिछले 10 वर्षों में, हमने कई हायर एजुकेशन इंस्टिट्यूट्स बनाए हैं और हम अपने तीसरे कार्यकाल में भी ऐसा करना जारी रखेंगे। 2014 से 2024 तक, विकास की गति उल्लेखनीय रही। जहां प्रतिदिन दो से अधिक कॉलेज और प्रति सप्ताह एक यूनिवर्सिटी की स्थापना की जा रही थी। पिछले 10 वर्षों में हमने 7 नए IIT, 7 नए IIM और 15 नए AIIMS बनाए हैं।

भारत में मैन्युफैक्चरिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर में रिकॉर्ड निवेश हो रहा है। इससे युवाओं के लिए अनेक अवसर पैदा हो रहे हैं। स्टार्ट-अप्स को कई नए रास्तों के साथ-साथ, क्रेडिट तक पहुंच के माध्यम से और भी बढ़ावा मिलेगा।

हम अपने सांस्कृतिक और अन्य प्राकृतिक स्थलों पर इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाकर, अपने टूरिज्म को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। इससे युवाओं के लिए नये अवसर पैदा होंगे। युवाओं को छोटे और मध्यम बिजनेस को प्रोत्साहित करने के लिए पीएम-मुद्रा योजना के तहत ऋण राशि दोगुनी कर 20 लाख रुपये की जाएगी।

21वीं सदी सिर्फ भारत की सदी नहीं है, ये भारत के युवाओं की भी सदी है। अपने युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हमें बड़े सकारात्मक बदलाव करने की जरूरत है। हम विकसित भारत के लिए अपने लक्ष्य पर केंद्रित हैं और 2047 के लिए 24x7 काम कर रहे हैं।

आपने सर्वोच्च प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में टेक्नोलॉजी, AI, टूरिज्म और हेल्थ पर जोर दिया है। इन सपनों को हमारे देश की यूथ एनर्जी से जोड़ने की आपकी क्या योजना है?

आज अगर भारत को दुनिया में बढ़त हासिल है तो उसका कारण उसकी युवा शक्ति है। आप जहां भी देखें, युवा बदलाव लाने के लिए उत्सुक हैं।

हमारे स्मार्ट और युवा दिमाग हर दिन AI की संभावनाओं की खोज और विस्तार कर रहे हैं। इसे प्रोत्साहित करने के लिए, हमारी सरकार की पॉलिसीज और प्रोग्राम्स, ‘AI for All’ के विचार से गाइडेड हैं। हम अपने युवाओं को टेक्नोलॉजी और AI का उपयोग करके ‘solve for India’ के लिए बड़ी छलांग लगाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। आपको एक उदाहरण देने के लिए, हम मंत्रालयों से उन समस्या क्षेत्रों को सूचीबद्ध करने के लिए कहते हैं जहां उन्हें समाधान की आवश्यकता है। फिर हम ऐसी सभी समस्याओं को संकलित करते हैं और उन्हें hackathons के रूप में अपने युवाओं के सामने प्रस्तुत करते हैं। मैं इन hackathons में भाग लेना सुनिश्चित करता हूं। हमारे युवा उनके सामने आने वाली सभी समस्याओं का समाधान करते हैं और उसका समाधान निकालते हैं।

जब स्वास्थ्य की बात आती है, तो पिछले 10 वर्षों में, भारत में मेडिकल कॉलेजों की संख्या 2014 से पहले के 387 से बढ़कर अब 706 हो गई है। MBBS सीटें 2014 से पहले 51,348 से बढ़कर वर्तमान में 1,08,940 हो गई हैं। पीजी सीटें 2014 से पहले 31,185 से बढ़कर वर्तमान में 70,645 हो गई हैं। इसका मतलब है कि हमारी युवा शक्ति के अधिक से अधिक लोग डॉक्टर और हेल्थकेयर प्रोफेशनल बन रहे हैं, जिससे हेल्थकेयर की सामर्थ्य और पहुंच में वृद्धि होगी।

पिछले 10 वर्षों में भारत में टूरिज्म में काफी वृद्धि हुई है। टूरिज्म, स्थानीय अर्थव्यवस्था पर बहुत प्रभाव डालता है क्योंकि वैल्यू चेन के कई लोग इसके माध्यम से कमाई करते हैं। हमने यह सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रित किया है कि हमारे पर्यटन स्थलों पर अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर हो।

केरल में टूरिस्ट को आकर्षित करने के लिए पहाड़ों से लेकर बैकवाटर तक और हेरिटेज से लेकर वेलनेस तक सभी प्रकार के आकर्षण हैं। हमारा लक्ष्य, केरल को पर्यटन के सबसे बड़े केंद्रों में से एक बनाना है। हमारा संकल्प-पत्र, हमारे सांस्कृतिक और धार्मिक स्थलों को और विकसित करने पर विशेष जोर देता है। हम स्वदेश-दर्शन कार्यक्रम को मजबूत करेंगे और रिवर टूरिज्म सहित विभिन्न थीम टूरिज्म सर्किट विकसित करेंगे। इन पहलों से केरल को भारी लाभ होगा और यह आम आदमी के लिए फायदेमंद होगा।

आपने नीति आयोग और अन्य एजेंसियों को विकास का एक नया खाका दिया है जो आपके विजन से उत्पन्न होता है। वे कौन से विचार हैं जो आपकी पहल को प्रेरित करते हैं?

एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जिसने मुख्यमंत्री के रूप में भी कार्य किया है, मैं समझता हूं कि राष्ट्र निर्माण प्रक्रिया में राज्यों को शामिल करना कितना महत्वपूर्ण है। नीति आयोग बिल्कुल यही करता है। यह राज्यों के साथ सीधे परामर्श करता है और उनके साथ काम करता है।

योजना आयोग के साथ समस्या यह थी कि उसने सभी राज्यों के लिए 'one-size-fits-all’ अप्रोच अपनाया। इसने ऐसी योजनाएं नहीं बनाईं जो प्रत्येक राज्य की विशिष्ट चाहतों और आवश्यकताओं के अनुरूप हों तथा ऊपर से नीचे की ओर काम करती हों। फंड अक्सर एक ही उद्देश्य के लिए आवंटित किया जाएगा, लेकिन राज्यों की ज़रूरतें पूरी तरह से अलग होंगी। राज्यों को अपनी प्राथमिकताएं निर्धारित करने के लिए कोई लचीलापन नहीं दिया गया था। अप्रत्याशित रूप से, इसकी कई योजनाएं ठोस परिणाम दिखाने में विफल रहीं।

नीति आयोग; जन-समर्थक, सक्रिय और सहभागी विकास एजेंडे का अनुसरण करता है। आकांक्षी जिला कार्यक्रम का उदाहरण लें। केंद्र सरकार लोगों के जीवन में बदलाव लाने के लिए न केवल राज्य सरकारों बल्कि स्थानीय प्रशासन के साथ भी मिलकर काम कर रही है।

इसी तरह, नीति आयोग 2047 के लिए रोडमैप तैयार करने के केंद्र में है। नीति आयोग के माध्यम से, हम देश भर के लोगों तक पहुंचे हैं और लगभग 15 लाख लोगों से फीडबैक प्राप्त किया है।

जैसा पहले कभी नहीं हुआ, आप व्यक्तिगत रूप से केरल में लड़ाई का नेतृत्व कर रहे हैं, जहां आरएसएस की जबरदस्त उपस्थिति है। लेकिन बीजेपी इसका ज्यादा राजनीतिक फायदा नहीं उठा पाई है। आप इसे कैसे देखते हैं? और इस बार परिदृश्य कैसे बदलेगा? कांग्रेस को दक्षिण खासकर केरल से काफी उम्मीदें हैं। आप इस बारे में क्या सोचते हैं ?

भाजपा और सहयोगी संगठनों के कार्यकर्ता लंबे समय से जमीन पर काम कर रहे हैं। चाहे कोई सामाजिक उद्देश्य हो या प्राकृतिक आपदा, वे हमेशा लोगों की सेवा करते नजर आते हैं। 2021 के विधानसभा चुनाव में हमारा वोट शेयर काफी बढ़ा। ऐसा इसलिए है क्योंकि केरल के युवा, केरल की महिलाएं, केरल के गरीब लोग, केरल के किसान अब भाजपा को आशा की किरण के रूप में देखने लगे हैं। वे भाजपा और NDA को ऐसी संस्थाओं के रूप में देखते हैं जो उनकी आकांक्षाओं को पूरा कर सकती हैं।

UDF और LDF ने केरल को केवल पीछे धकेला है; उन्होंने केरल को कभी आगे नहीं बढ़ाया। तो हां, स्थिति बदल रही है, और आगे परिदृश्य भी बदलने वाला है। 2021 के नतीजों से पता चला कि आगे क्या होने वाला है। 2024 के लोकसभा चुनावों में भाजपा के और भी अधिक बढ़ने की उम्मीद है, और हमें विश्वास है कि आने वाले समय में, भाजपा के पास केरल से सांसद होंगे और अंततः राज्य में सरकार भी बनेगी।

कांग्रेस की बात करें तो 2019 में यूपी में हार को भांपते हुए युवराज केरल में चुनाव लड़ने के लिए भाग गए. पिछले 5 वर्षों में, केरल के लोगों को भी एहसास हुआ है कि उनके पास कोई दृष्टिकोण नहीं है, कोई शासन एजेंडा नहीं है, और उन्होंने लोगों के लिए कोई प्रयास नहीं किया है। लेकिन इस बार उन्हें पता है कि केरल की जनता भी उन्हें नकारने वाली है। पूरे देश के नतीजों से पहले ही वायनाड के नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे। केरल में मतदान खत्म होते ही युवराज दूसरी सीट से नामांकन दाखिल करेंगे, इसलिए क्योंकि उन्हें अपनी हार का पूरा भरोसा है।

केरल में युवा, एजुकेशन और प्रोफेशनल कारणों से राज्य से बाहर पलायन कर रहे हैं। पूरे दक्षिण भारत में युवाओं के लिए कुछ न कुछ कमी दिख रही है। स्किल और टेक्निकल एक्सपोजर पर ध्यान केंद्रित करते हुए दक्षिण भारत के लिए आपका विजन क्या है?

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि केरल के युवाओं को बेहतर अवसरों की तलाश में अपने गृह राज्य से बाहर जाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। LDF और UDF सरकारों ने राज्य में रोजगार पैदा करने वाले उद्योगों और नौकरियों को विकसित करने की आवश्यकता को बार-बार और जानबूझकर नजरअंदाज किया है।

दूसरी ओर, हमारी केंद्र सरकार युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करने, उन्हें अगली पीढ़ी के कौशल से लैस करने और राज्य के भीतर ही उनके लिए अवसर पैदा करने की दिशा में काम कर रही है। हमने युवाओं में इनोवेशन को प्रेरित करने के लिए राज्य में 370 से अधिक अटल टिंकरिंग लैब स्थापित किए हैं। मुद्रा योजना के तहत, हमने केरल के युवाओं को 1 लाख करोड़ रुपये के गारंटी-फ्री लोन वितरण को सक्षम किया है।

क्या आप जानते हैं कि पिछले 10 वर्षों में भारत ने विभिन्न देशों के 400 से अधिक सैटेलाइट लॉन्च किए हैं और इससे 4000 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की है? केरल, जो कई इसरो रिसर्च और लॉन्च साइट्स का घर है, स्टार्ट-अप इंडिया के साथ, केरल में स्पेस साइंस और डिफेंस पर केंद्रित स्वदेशी स्टार्टअप और इंडस्ट्रीज का एक नेटवर्क सुनिश्चित करेगा। इसी संदर्भ में मैंने केरल को नॉलेज-बेस्ड इकोनॉमी में बदलने के लिए तिरुवनंतपुरम में देश के पहले डिजिटल साइंस पार्क का उद्घाटन किया।

हमने राज्य में इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार के लिए लाखों करोड़ रुपये का निवेश भी किया है, जिसमें कोच्चि पोर्ट का अपग्रेडेशन, कनेक्टिविटी में सुधार के लिए NH-66 का चौड़ीकरण, रेलवे ट्रैक का दोहरीकरण और कोच्चि मेट्रो का विस्तार शामिल है। ये सभी इनिशिएटिव, राज्य में रोजगार के अवसरों को उल्लेखनीय बढ़ावा दे रहे हैं।

पिछले दिनों, आपने करुवन्नूर बैंक घोटाले और सीएम की बेटी से जुड़े कथित भ्रष्टाचार को उजागर करके CPM और उसके नेताओं को निशाने पर लिया। लेकिन CPM का आरोप है कि केंद्र सरकार इन कदमों के जरिए केरल में कोऑपरेटिव बैंकों की हत्या करने की कोशिश कर रही है। इस पर आपका क्या कहना है ?

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण बात, मैं "हत्या" जैसे शब्द के प्रयोग में विश्वास नहीं करता। अगर कोई पार्टी है जो बड़े पैमाने पर राजनीतिक हिंसा और विरोधियों की हत्या करती है, तो वह CPM है। इसलिए, मैं उस शब्द के किसी भी प्रयोग को गरिमापूर्ण नहीं ठहराऊंगा।

आपके प्रश्न पर आगे बढ़ते हैं, बात यह है कि केरल में LDF, ने वह सारी बुराइयां अपना ली हैं, जिसे हम कांग्रेस पार्टी से जोड़ते हैं - वंशवाद की राजनीति, भ्रष्टाचार, इत्यादि। रही बात कोऑपरेटिव घोटाले की तो मैंने कई बार इस बारे में बात की है और आपको आश्वस्त किया है कि घोटाले के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। यह देखना निराशाजनक है कि हजारों गरीब लोगों से उनकी मेहनत की कमाई छीन ली गई है, और उन्हें दयनीय स्थिति में छोड़ दिया गया है।

कोऑपरेटिव, एक बहुत ही महत्वपूर्ण सेक्टर है, जो सीधे तौर पर गांवों में लोगों को सशक्त बनाने और महिलाओं को सशक्त बनाने से जुड़ा है। यह अफ़सोस की बात है कि CPM ने कुछ नेताओं को समृद्ध करने के लिए कोऑपरेटिव क्षेत्र का इस्तेमाल किया गया है।

केरल में लेफ्ट और कांग्रेस की प्रतिद्वंद्विता को आप कैसे देखते हैं? आप राहुल गांधी के इस बयान पर क्या प्रतिक्रिया देते हैं कि पिनाराई विजयन को जेल भेजा जाना चाहिए?

कांग्रेस और लेफ्ट, एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। केरल में, वे एक दोस्ताना लड़ाई में शामिल हैं, जबकि दिल्ली में, वे पार्टनर हैं। केरल में कांग्रेस के युवराज पिनाराई विजयन को जेल में डालना चाहते हैं, फिर भी दिल्ली में भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई के विरोध में एकजुट हो रहे हैं।

भ्रष्टाचार के प्रति कांग्रेस का दृष्टिकोण सेलेक्टिव है। उन्हें भ्रष्टाचार से कोई दिक्कत नहीं है; वे इसे केवल उन लोगों पर हमला करने के लिए एक हथियार के रूप में उपयोग करते हैं जिन्हें वे नापसंद करते हैं। मैं लगातार और आक्रामक तरीके से पिनाराई विजयन को बेनकाब कर रहा हूं, फिर भी कांग्रेस और उसके युवराज पूरे समय चुप रहे हैं।

मैंने CMRL के साथ मुख्यमंत्री और उनकी बेटी के बीच सौदे के बारे में बात की; युवराज चुप थे। गोल्ड स्मगलिंग मामले में, मैंने मुख्यमंत्री कार्यालय और तस्करी रैकेट के बीच संबंधों का मुद्दा उठाया; युवराज चुप थे। मैंने CPM द्वारा संचालित कोऑपरेटिव बैंकों द्वारा की जा रही लूट का पर्दाफाश किया और आम लोगों को पैसा लौटाने का वादा किया, यहां तक कि इसमें शामिल लोगों की संपत्तियों की कुर्की पर भी विचार किया; एक बार फिर, युवराज चुप थे।

आप और आपकी पार्टी 400 से अधिक सीटों का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं। 2019 में जीती गई 303 सीटों में से अधिकांश उत्तर भारत से थीं। लेकिन दक्षिण भारत बीजेपी के लिए मुश्किल इलाका लगता है। क्या आपको लगता है कि इस बार आप क्षेत्र के चुनावी व्यवहार के पैटर्न को तोड़ पाएंगे? कांग्रेस को दक्षिण से काफी उम्मीदें हैं। आप इस पर क्या सोचते हैं ?

आपका सवाल तथ्यात्मक रूप से ठीक नहीं है। 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी, दक्षिण भारत में सबसे बड़ी पार्टी थी। अभी हाल तक कर्नाटक में हमारी सरकार थी। हम पुडुचेरी में सरकार का हिस्सा हैं। हम हमेशा तेलंगाना में एक महत्वपूर्ण ताकत रहे हैं। इसलिए, मैं इस द्विआधारी दृष्टिकोण से सहमत नहीं हूं कि भाजपा की दक्षिण में उपस्थिति नहीं है। यह नैरेटिव कुछ राजनीतिक विश्लेषकों के दृष्टिकोण से मेल खाता है, लेकिन तथ्य कुछ और ही कहानी कहते हैं।

आप यह भी जानते होंगे कि हमारी पार्टी के तीन अध्यक्ष दक्षिण भारत से आये हैं। 1984 में जब हम सिर्फ दो सीटों पर सिमट गये थे, उनमें से एक सीट दक्षिण भारत की थी। इस प्रकार, भाजपा का दक्षिण से बहुत गहरा संबंध है।

इन दिनों मैं दक्षिणी भारत की व्यापक यात्रा कर रहा हूं, और जहां भी मैं गया हूं वहां प्रतिक्रिया अभूतपूर्व रही है। मुझे विश्वास है कि दक्षिण भारत इस बार रिकॉर्ड संख्या में भाजपा को आशीर्वाद देगा।

दक्षिण भारत और उत्तर भारत के बीच मजबूत विभाजन पर विपक्ष का नैरेटिव काफी आक्रामक है। उनका कहना है कि मोदी सरकार द्वारा दक्षिण को बड़े पैमाने पर नजरअंदाज किया गया है, खासकर फाइनेंशियल इश्यूज पर। केरल सरकार ने कर्ज लेने की इजाजत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। दक्षिण भारतीयों तक पहुंचने की आपकी क्या योजना है?

भारत को उत्तर और दक्षिण में बांटने का विपक्ष द्वारा प्रचारित यह नैरेटिव पूरी तरह से शर्मनाक है, और मैं इसे स्पष्ट रूप से अस्वीकार करता हूं। पूरे दक्षिण भारत के भारतीयों ने भी इस आरोप को दृढ़ता से खारिज कर दिया है। UDF और LDF दोनों का उद्देश्य मतदाताओं को भ्रमित करने और सत्ता से चिपके रहने के लिए भारत को जाति, पंथ, राज्य और धर्म के आधार पर विभाजित करना है। इसके बावजूद केरल अपने प्रचुर संसाधनों और उत्कृष्ट मानव पूंजी के साथ भारत के विकास में बराबर का भागीदार है। हम केरल को विकास के पथ पर सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। दुर्भाग्य से, UDF और LDF दोनों ने राज्य में कुशासन की संस्कृति को कायम रखा है और केरल की अर्थव्यवस्था में सुधार और विविधता लाने की दिशा में सार्थक कदम उठाने में विफल रहे हैं।

इस कुप्रबंधन के परिणामस्वरूप कर्ज खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है, जिससे केरल सरकार को अपने कर्मचारियों को भुगतान करने के लिए भी पैसे उधार लेने के लिए मजबूर होना पड़ा है! इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण के लिए धन का उपयोग करने के बजाय, जो अधिक नौकरियां पैदा करेगा, सरकार अपने मंत्रियों के लिए अधिक निजी कर्मचारियों को नियुक्त करने और उन्हें आजीवन पेंशन का भुगतान करने पर पैसा खर्च करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इस बीच, वे PSC रैंक होल्डर्स को ऑफर लेटर के लिए वर्षों तक इंतजार कराते हैं क्योंकि उनके पास इन मेधावी युवाओं को भुगतान करने की क्षमता नहीं है।

हालांकि, इसने मेरी सरकार को हर संभव तरीके से केरल सरकार का समर्थन करने से नहीं रोका है। हमारी सरकार में केरल को टैक्स हस्तांतरण, UPA राज के केवल 46,000 करोड़ रुपये से बढ़कर 1.55 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है। यह केरल के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

महामारी के दौरान, हमने 18,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त उधारी प्रदान की, और हाल ही में, हमने तत्काल संकट से निपटने में मदद के लिए 13,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त उधारी प्रदान की। यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट ने भी उनके कुशासन और वित्तीय कुप्रबंधन को उजागर किया है। अब समय आ गया है कि सत्ता में बैठे लोगों को यह एहसास हो कि विभाजन और ध्यान भटकाने के बजाय उन्हें शासन पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

मैं दक्षिण के लोगों और अपने कार्यकर्ताओं से सीधा और दैनिक संपर्क रखता हूं और मैं आभारी हूं कि वे मुझे भी अपने परिवार का हिस्सा मानते हैं। सार्वजनिक बैठकों और रोड शो के दौरान मुझे जो प्रतिक्रिया मिली, जिसमें हजारों लोग भाजपा के समर्थन में आए, यह इस बात का पर्याप्त प्रमाण है कि उत्तर-दक्षिण विभाजन पूरी तरह से बनावटी है और इसका कोई जमीनी आधार नहीं है।

जो कोई भी इस प्रकार के विभाजन में भरोसा रखता है, वह एक राष्ट्र के रूप में और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि हजारों साल पुरानी सभ्यता के रूप में भारत की वास्तविकता से पूरी तरह परिचित नहीं है। उत्तर-दक्षिण विभाजन का नैरेटिव विपक्ष की राजनीतिक हताशा से उत्पन्न हुआ है, वास्तविकता से नहीं। हां, हम डाइवर्स हैं और कुछ सांस्कृतिक पहलुओं में भिन्न भी हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम अलग हैं। हम डाइवर्स हैं, अलग नहीं

बिशप और वरिष्ठ पादरी आपसे कई बार मिल चुके हैं। लेकिन चर्च के नेता समय-समय पर अपनी आशंकाएं जताते रहते हैं। भाजपा उनका पूरा विश्वास कैसे जीत सकती है?

बीजेपी ने ईसाई समुदाय के साथ बहुत करीबी रिश्ता कायम किया है। हम 2012 से गोवा में सरकार में हैं, और मेघालय और नागालैंड में सत्तारूढ़ गठबंधन का भी हिस्सा हैं, जहां एक महत्वपूर्ण ईसाई आबादी है। वैसे, ईसाई समुदाय इस बात से अच्छी तरह वाकिफ है कि केंद्र और राज्य दोनों में भाजपा सरकारें अच्छे काम कर रही हैं।

मैं प्रधानमंत्री बनने से पहले भी ईसाई समुदाय के नेताओं के साथ बातचीत करता रहा हूं और ये आदान-प्रदान हमेशा बहुत उपयोगी रहे हैं। किसी भी आशंका के संबंध में, यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि हर किसी को चिंता व्यक्त करने का अधिकार है जब उन्हें लगता है कि किसी स्थिति पर ध्यान देने की आवश्यकता है। हम, सरकार के रूप में, किसी भी आशंका या शिकायत को दूर करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

वास्तविकता यह है कि ईसाई समुदाय LDF और UDF दोनों से तंग आ चुका है। इन गठबंधनों ने ईसाई समुदाय को विफल कर दिया है क्योंकि वोट बैंकिंग की उनकी राजनीति समुदाय के सशक्तिकरण का समर्थन नहीं करती है। ईसाइयों को इसका एहसास हो गया है और परिणामस्वरूप, वे अब बड़ी संख्या में भाजपा को वोट दे रहे हैं।

आपने खाड़ी के साथ हमारे संबंधों को मजबूत किया है। परिणामस्वरूप, हमारे पास यूनाइटेड अरब अमीरात में एक हिंदू मंदिर भी है। पूरे मुस्लिम जगत में आपको एक ग्लोबल लीडर के रूप में सम्मानित किया जाता है। इससे भारतीय मुसलमानों को क्या संदेश जाता है?

दशकों तक, हमारी विदेश नीति हमारे प्रवासी भारतीयों को प्राथमिकता दिए बिना संचालित की गई। सत्ता में आने के बाद हमने जो एक महत्वपूर्ण बदलाव लागू किया वह यह पहचानना था कि हमारे प्रवासी भारतीयों की सद्भावना का ख्याल रखना, विदेश नीति का एक अभिन्न अंग है।

खाड़ी देशों के उदाहरण पर विचार करें, जहां हमारे लाखों नागरिक रहते हैं। दशकों तक, हमारी सरकारों ने इन देशों के साथ उस तरह से बातचीत नहीं की, जैसी करनी चाहिए थी, उन्हें केवल अपने पड़ोसी के नजरिए से देखा। उन्होंने गहरे संबंधों में निवेश किए बिना, खाड़ी को केवल मैनपावर एक्सपोर्ट करने और फ्यूल प्रोडक्ट्स को इंपोर्ट करने के स्थान के रूप में देखा।

आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि मैं तीन दशकों में यूनाइटेड अरब अमीरात की यात्रा करने वाला पहला भारतीय प्रधानमंत्री था! मेरी यात्रा से पहले, सऊदी अरब में केवल दो प्रधानमंत्रियों की ऐसी यात्राएं हुई थीं।

आज, खाड़ी देशों में रहने वाले हमारे लोगों को लगता है कि घर पर कोई है जिस पर वे भरोसा कर सकते हैं। कोविड-19 महामारी के दौरान, मैंने नियमित रूप से खाड़ी में सरकारों से बात की और उन्होंने मुझे आश्वासन दिया कि वे भारतीयों की देखभाल अपने परिवार की तरह करेंगे। मैंने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस से भारतीयों के लिए हज कोटा बढ़ाने का भी अनुरोध किया।

समय के साथ हमने जो मजबूत रिश्ते बनाए हैं, वे संकट के समय में महत्वपूर्ण साबित हुए। 2015 में जब यमन में बमबारी के बीच हजारों भारतीय फंसे हुए थे, तब मैंने व्यक्तिगत रूप से सऊदी किंग से बात की थी। हमारे लोगों को सुरक्षित मार्ग प्रदान करने के लिए प्रतिदिन कुछ घंटों के लिए बमबारी रोक दी जाती थी। 2023 सूडान संकट के दौरान, हमने युद्ध जैसी स्थिति में फंसे अपने नागरिकों के लिए सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित करने के लिए सऊदी अरब के साथ मिलकर काम किया।

हाल ही में, हम कतर से अपने 8 नेवी ऑफिसर्स को वापस लाए, जो मौत की सजा का सामना कर रहे थे। सारा राष्ट्र इससे आनन्दित हुआ।

जब हमारे नागरिक हमारे बेहतर संबंधों के परिणाम देखते हैं, तो वे स्वाभाविक रूप से गर्व और अधिक सुरक्षित महसूस करते हैं। इससे पता चलता है कि मोदी सरकार अपने लोगों की परवाह करती है, चाहे वे हिंदू हों, मुस्लिम हों या ईसाई हों।

कश्मीर में आज लगभग सामान्य हैं। लेकिन छिटपुट हमले होते रहते हैं। पाकिस्तान स्थित ग्रुप्स अभी भी हमें परेशान करते हैं। क्या हम आश्वस्त हो सकते हैं कि मोदी 3.0 युग में ऐसे सभी खतरे समाप्त हो जाएंगे?

निसंदेह, कश्मीर ने हाल ही में सामान्य स्थिति की दिशा में महत्वपूर्ण प्रगति की है। आर्टिकल 370 के निरस्त होने के बाद से, हमने आतंकवादी घटनाओं और हताहतों की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट देखी है, जो आतंकवाद को खत्म करने के लिए हमारी सरकार की दृढ़ प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

ऐतिहासिक परंपराओं को पुनर्जीवित किया जा रहा है; श्रीनगर में मुहर्रम के जुलूस 34 वर्षों में पहली बार पारंपरिक मार्ग से निकले और 1947 में विभाजन के बाद पहली बार शारदा मंदिर में दिवाली मनाई गई।

2004 से 2014 तक, 7,000 से अधिक आतंकवादी घटनाओं में लगभग 3,000 सुरक्षा कर्मियों और नागरिकों की जान चली गई। इसके विपरीत, पिछले एक दशक में भाजपा के नेतृत्व में आतंकी घटनाओं में 70% की कमी आई है। 2010 में, यूपीए शासन के दौरान, इस क्षेत्र में संगठित पथराव की 2,600 से अधिक घटनाएं देखी गईं। अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने के चार साल बाद, 2023 तक ऐसी एक भी घटना नहीं हुई है।

कश्मीर में पर्यटन में उल्लेखनीय वृद्धि हो रही है, 1947 में हमारी आजादी के बाद से सैलानियों की संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच रही है। यह आमद न केवल स्थानीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करती है बल्कि अंतर-सांस्कृतिक आदान-प्रदान और प्रशंसा को भी बढ़ावा देती है, जिससे अधिक समझ और सद्भाव को बढ़ावा मिलता है।

खेल, उद्यमिता और शिक्षा क्षेत्र में प्रचुर अवसरों के साथ कश्मीर के युवाओं को पहले की तरह सशक्त बनाया जा रहा है। युवा कश्मीरी एक उज्जवल भविष्य बनाने के लिए अपनी प्रतिभा और क्षमताओं का उपयोग कर रहे हैं। सिविल सेवा परीक्षा में जम्मू-कश्मीर के कई उम्मीदवारों की हालिया सफलता इस क्षेत्र की बढ़ती क्षमता और प्रतिभा के प्रोत्साहन के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का प्रमाण है।

अपने अगले कार्यकाल में, हम इन गतिविधियों को और अधिक मजबूती के साथ जारी रखेंगे ताकि शेष भारत में बढ़ते अवसरों का लाभ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में हमारे नागरिकों तक भी पहुंच सके।

इस अभियान के दौरान कहीं न कहीं 2024 के चुनाव को कट्टर आलोचकों से सनातन धर्म को बचाने की लड़ाई के रूप में चित्रित किया जा रहा है। क्या यह डेमोक्रेटिक एक्सरसाइज को पूरी तरह से पुनः परिभाषित करेगा?

जैसे-जैसे भारत अपनी सांस्कृतिक और सभ्यतागत विरासत के पुनरुत्थान का अनुभव कर रहा है, कांग्रेस पार्टी और उसके सहयोगी बेचैनी की भावना से जूझ रहे हैं। हाल के महीनों में, हमने देखा है कि इंडी अलायंस के पार्टनर, सनातन धर्म की तुलना डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियों से कर रहे हैं। बेचैनी की यह गहराई उनकी शत्रुता, नाराजगी और सनातन मूल्यों के प्रति उथली समझ को उजागर करती है। यह विडंबना है कि जो पार्टी कभी महात्मा गांधी के आदर्शों को अपनाने पर गर्व करती थी, वह अब उन लोगों के साथ खड़ी है जो सनातन धर्म के विनाश का आह्वान करते हैं।

आज, कांग्रेस खुद को भारत की सहस्राब्दी पुरानी पहचान के सार से अलग पाती है। वे भगवान राम के अस्तित्व को नकारते हैं, अयोध्या में राम मंदिर की प्रा- प्रतिष्ठा के निमंत्रण को अस्वीकार करते हैं, द्वारकाधीश का मजाक उड़ाते हैं और शक्ति का विरोध करने की कसम खाते हैं।

भारत के एक गौरवान्वित पुत्र के रूप में, मैं हमारी शाश्वत परंपराओं का आनंद लेता हूं। यह हमारी पार्टी थी जिसने यह सुनिश्चित किया कि ऐतिहासिक सेंगोल को हमारे लोकतंत्र के मंदिर में रखा जाए। हमारी सरकार ने योग के प्राचीन विज्ञान को वैश्विक सराहना हासिल करने में मदद की है और यह सुनिश्चित किया है कि श्रीअन्न अथवा मोटे अनाज, जो कभी केरल के हर घर में मुख्य भोजन था, को वैश्विक मान्यता मिले। इन उपलब्धियों को हमारे देश के लोगों ने देखा, अनुभव किया और सराहा है।

हमारे लिए, ये पहलू चुनाव से संबंधित नहीं हैं; यह हम कौन हैं, इसका हिस्सा हैं। मैंने जिन पहलों का उल्लेख किया था, उन्हें चुनाव अवधि से काफी पहले लागू किया गया था।

हमारे देश के लोग अब अपनी प्राचीन संस्कृति और जीवंत परंपराओं के प्रति अनादर बर्दाश्त करने को तैयार नहीं हैं; इसके बजाय, वे उन पर गर्व करते हैं। लोग इन नेताओं से गवर्नेंस, डिलिवरी और पॉलिसीज के मामलों पर भी सवाल कर रहे हैं। अपनी लगातार नाकामियों से जनता का ध्यान हटाने के लिए, ये नेता नफरत फैलाने वाले बयान देने लगते हैं।

आपने पिछले 10 वर्षों या उससे भी अधिक समय से एक दिन की भी छुट्टी नहीं ली है। कृपया हमें आपके जीवन की एक सामान्य दिनचर्या के बारे बताएं? आपका पसंदीदा भोजन, विशेषकर दक्षिण भारतीय व्यंजन?

पिछले 10 वर्षों में हमने जो काम किया है वह आने वाले समय की केवल एक झलक है। मैं वास्तव में महसूस करता हूं कि करने के लिए बहुत कुछ है, और मैं अपने जीवन का प्रत्येक क्षण, राष्ट्र की सेवा के लिए समर्पित करना चाहता हूं। मैं खुद को 140 करोड़ भारतीयों के अपने परिवार के लिए काम करने वाला मानता हूं। उनके साथ यह भावनात्मक जुड़ाव मुझे हर दिन प्रेरित करता रहता है।

मैंने अपनी युवावस्था के दौरान आध्यात्मिक खोज में कई वर्ष बिताए। तब से मैंने ब्रह्म मुहूर्त में जागने की आदत कायम रखी है। मैं अपना दिन जल्दी शुरू करता हूं, योग और व्यायाम करता हूं। इसके बाद, मैं दिन भर की ख़बरों और घटनाओं से अवगत होता हूं। मैं मित्रों, कार्यकर्ताओं और परिचितों को कॉल करने और फोन कॉल का जवाब देने के लिए भी समय निकालता हूं। मेरी आधिकारिक व्यस्तताएं सुबह 9 बजे शुरू होती हैं और अक्सर देर रात तक चलती हैं। मेरा दिन मीटिंग, प्रजेंटेशन और कार्यक्रमों से भरा रहता है। मैं आम तौर पर सादा खाना पसंद करता हूं और जब खाने की बात आती है तो मेरी कोई खास पसंद या नापसंद नहीं होती।

मातृभूमि में पब्लिश्ड इंटरव्यू की क्लिपिंग

Source: Mathrubhumi

स्रोत: Mathrubhumi

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
10 years of Modi govt: How has the Indian economy fared?

Media Coverage

10 years of Modi govt: How has the Indian economy fared?
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
पीएम मोदी का पंजाब केसरी, जग बानी, हिंद समाचार और नवोदय टाइम्स के साथ इंटरव्यू
May 27, 2024

पंजाब केसरी, जग बानी, हिंद समाचार और नवोदय टाइम्स को दिए इंटरव्यू में पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव और देश के विकास को लेकर खुलकर बातचीत की। किसानों के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि किसान हमारे अन्नदाता हैं। हमने कृषि क्षेत्र में ऐसे काम किए हैं, जो पहले किसी सरकार ने नहीं किए थे। विपक्ष पर उन्होंने कहा कि इंडी अलायंस के पास देश के विकास के लिए कोई प्लान और विजन नहीं है, इसलिए वे अनर्गल प्रलाप में लगे हुए हैं।

इंटरव्यू की क्लिपिंग निम्नलिखित है: