साझा करें
 
Comments
विभिन्न क्षेत्रों में 'डबल इंजन' सरकार ने नागरिकों के लिए 'दोहरी सुरक्षा' सुनिश्चित की है: दिल्ली के भाजपा मुख्यालय में पीएम मोदी
गोवा में सभी एग्जिट पोल गलत साबित हुए और गोवा के लोगों ने बीजेपी को लगातार तीसरी बार सेवा करने का मौका दिया : पीएम मोदी
भाजपा कार्यकर्ताओं ने मुझसे वायदा किया था कि इस बार होली 10 मार्च से शुरू हो जाएगी। हमारे कार्यकर्ताओं ने इस वायदे को पूरा करके दिखाया है: विधानसभा चुनाव में शानदार जीत पर पीएम मोदी
चुनाव परिणाम, भाजपा के प्रो-पुअर और प्रो-एक्टिव शासन की दृढ़ता से पुष्टि करते हैं: विधानसभा चुनाव परिणाम 2022 पर पीएम मोदी
भारत में "परिवारवाद" की राजनीति का सूरज डूबने लगा है, आज के चुनाव परिणामों ने तय कर दिया है : पीएम मोदी

 

चार राज्यों खास कर उत्तर प्रदेश में मिले जनादेश के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को भाजपा मुख्यालय में बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। पार्टी की जीत का श्रेय महिलाओं और युवाओं को देते हुए पीएम मोदी ने कहा, “आज उत्साह का दिन है, उत्सव का दिन है। ये उत्सव भारत के लोकतंत्र के लिए है। हमारी माताओं-बहनों और युवाओं ने जिस प्रकार भारतीय जनता पार्टी को भरपूर समर्थन दिया है, वो अपनेआप में बहुत बड़ा संदेश है। फर्स्ट टाइम वोटर्स ने भी बढ़-चढ़कर मतदान में हिस्सा लिया और भाजपा की जीत पक्की की। भाजपा कार्यकर्ताओं ने इन चुनावों में कड़ी मेहनत की और उनके अथक परिश्रम से एनडीए ने जीत का चौका लगाया है।”

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 37 साल बाद कोई सरकार लगातार दूसरी बार सत्ता में आई है, साथ ही तीन राज्यों यूपी, गोवा और मणिपुर में सरकार में होने के बावजूद, बीजेपी के वोट शेयर में वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश ने देश को अनेक प्रधानमंत्री दिए हैं। लेकिन पांच साल का कार्यकाल पूरा करने वाले किसी मुख्यमंत्री के दोबारा चुने जाने का यह पहला उदाहरण है। गोवा में भी बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। 10 साल तक सत्ता में रहने के बाद भी राज्य में बीजेपी की सीटों की संख्या बढ़ी है। उत्तराखंड में भी भाजपा ने नया इतिहास रचा है। राज्य में पहली बार कोई पार्टी लगातार दूसरी बार सत्ता में आई है। यानि सीमा से सटा एक पहाड़ी राज्य, एक समुद्र तटीय राज्य, मां गंगा का विशेष आशीर्वाद प्राप्त एक राज्य और पूर्वोत्तर सीमा पर एक राज्य, भाजपा को चारों दिशाओं से आशीर्वाद मिला है।”

पीएम मोदी ने कहा कि विधानसभा चुनाव के नतीजों ने भाजपा की Pro Poor, Pro– Active गवर्नेंस पर एक प्रकार से बड़ी मजबूत मुहर लगाई है। उन्होंने कहा, “बीते वर्षों में हमने गवर्नेंस डिलिवरी सिस्टम तो बेहतर किया ही है, साथ ही पूरी प्रक्रिया में पारदर्शिता लाई गई है। भाजपा, गरीब को भरोसा देती है कि सरकार द्वारा दी गई सुविधाएं उन तक जरूर पहुंचेंगी। अब भाजपा को जहां-जहां सेवा करने का मौका मिलेगा, हर हकदारों तक शत-प्रतिशत योजनाओं का लाभ पहुंचाया जाएगा। हम हर गरीब तक पहुंचेंगे, शत प्रतिशत लाभार्थियों तक पहुंचेंगे।”

 

पीएम मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के लोगों ने जातिवाद के ऊपर विकासवाद को तरजीह दी है। उन्होंने कहा,“ चुनावों के नतीजों ने एक बात और साफ कर दी है कि यूपी की जनता को जातिवाद की दृष्टि से देखना, एक तरह से उसका अपमान करना है। कुछ लोग ये कहकर यूपी को बदनाम करते हैं कि यहां के चुनाव में तो जाति ही चलती है। 2014 के चुनाव नतीजे हों या फिर 2017, 2019 या 2022 के चुनाव परिणाम, हर बार यूपी के लोगों ने विकासवादी राजनीति को ही चुना है। मैं आज ये भी कहूंगा कि 2019 के चुनाव नतीजों के बाद, कुछ पॉलिटिकल ज्ञानियों ने कहा था कि 2017 के नतीजों ने 2019 के नतीजे तय कर दिए। मैं मानता हूं इस बार भी वो यही कहेंगे कि 2022 के नतीजों ने 2024 के नतीजे तय कर दिए।”

 

देश में लगातार गिरते राजनीति के स्तर पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा, “कोरोना के इस समय में भी देशवासियों को गुमराह करने की लगातार कोशिश की गई। भारतीय वैक्सीन पर सवाल उठाए गए। दुर्भाग्य की बात है कि जब यूक्रेन में हजारों भारतीय छात्र और नागरिक फंसे थे, तब भी देश का मनोबल तोड़ने की बातें हो रहीं थीं। ऑपरेशन गंगा को भी प्रदेशवाद की बेड़ियों में बांधने की कोशिश हुई। हर योजना को, हर कार्य को क्षेत्रवाद, प्रदेशवाद, जातिवाद और संप्रदायवाद का रंग देना बहुत दुखद है।”

 

परिवारवादी राजनीति की चर्चा करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि एक न एक दिन ऐसा आएगा, जब भारत में परिवारवादी राजनीति का सूर्यास्त होकर रहेगा देश के मतदाताओं ने इसका इशारा कर भी दिया है। प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच का सामना कर रहे नेताओं के पक्ष में हो रही राजनीतिक गोलबंदी पर भी चिंता जताई। इस संदर्भ में उन्होंने कहा, “हमारे देश में भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के खिलाफ लोगों में भयंकर नफरत का भाव रहता है। देश की गाढ़ी कमाई को लूटकर अपनी तिजोरी भरने की ये प्रवृत्ति कुछ लोगों की पहचान बन गई है। भारतीय जनता पार्टी ने 2014 में एक ईमानदार सरकार का वायदा करके चुनाव में जीत हासिल की थी और हमारी ईमानदारी को देखकर 2019 में जनता ने हमें और ज्यादा आशीर्वाद दिया।

आज हम देख रहे हैं कि जैसे ही निष्पक्ष संस्थाएं भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई करती हैं, वैसे ही घोटालों से घिरे लोग एकजुट होकर अपनी Ecosystem की मदद से जांच एजेंसियों को रोकने के लिए नए-नए तरीके अपनाते हैं। ये लोग किसी भ्रष्टाचारी पर कार्रवाई होते ही उसे धर्म, प्रदेश और जाति का रंग देने लगते हैं। मैं सभी जाति पर गर्व करने वाले ईमानदार लोगों से आग्रह करना चाहता हूं कि ऐसे भ्रष्टाचारियों और माफियाओं को अपने समाज से, अपने संप्रदाय से और अपनी जाति से दूर करने की हिम्मत दिखाएं।” प्रधानमंत्री मोदी ने विकास की चर्चा करते हुए कहा, “ये चुनाव परिणाम आने वाले 25 वर्षं के हमारे राष्ट्रीय संकल्पों के प्रति देश के मिजाज को, देश के मूड को प्रतिबिंबित करते हैं। यहां से हम दो पटरियों पर एक साथ तेजी से काम करने वाले हैं।

एक तरफ गांव, गरीब, छोटे किसान और लघु उद्यमियो के कल्याण पर हमारा जोर है। वहीं दूसरी तरफ देश के संसाधनों और देश की युवा शक्ति को अवसर देकर हम आत्मनिर्भरता के मिशन को तेज करना चाहते हैं। भारत का युवा आज अपने हुनर, बुद्धि-बल और क्षमता से दुनिया को समाधान दे रहा है। दुनिया का सबसे बड़ा और तेज टीकाकरण अभियान आज के भारत के सामर्थ्य का सबसे बड़ा उदाहरण है। आज भारत डिजिटल पेमेंट सिस्टम में आत्मनिर्भर हो रहा है।

स्टार्टअप के क्षेत्र में अपना सामर्थ्य बढ़ा रहा है और तकनीक के क्षेत्र में नई-नई उपलब्धियां प्राप्त कर रहा है।” अपने संबोधन के आखिर में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चुनौतियां कितनी भी कठिन क्यों न हो, जीतने का संकल्प उससे भी बड़ा होता है। बड़े संकल्पों और सपनों के साथ बड़ी ऊंचाइयों को पार करने के इरादे से देश को आगे बढ़ाना है। भव्य विजय भारत के उज्ज्वल भविष्य की गारंटी है। मतदाताओं का धन्यवाद करते हुए उन्होंने कहा कि भारत के उज्ज्वल भविष्य के लिए मतदाताओं ने जो निर्णायक मतदान किया है, इसके लिए वे अभिनंदन के अधिकारी हैं।

 

 

 

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

भारत की उभरती कहानी को बताते लाभार्थियों के साथ संवाद के वीडियो शेयर करें...
Explore More
बिना किसी तनाव के उत्सव मूड में परीक्षा दें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

बिना किसी तनाव के उत्सव मूड में परीक्षा दें: पीएम मोदी
In 5 charts: Why India needs Agnipath for military modernisation

Media Coverage

In 5 charts: Why India needs Agnipath for military modernisation
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
14वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री ने लिया हिस्सा
June 24, 2022
साझा करें
 
Comments

Prime Minister Shri Narendra Modi led India’s participation at the 14th BRICS Summit, convened under the Chairship of President Xi Jinping of China on 23-24 June 2022, in a virtual format. President Jair Bolsonaro of Brazil, President Vladimir Putin of Russia, and President Cyril Ramaphosa of South Africa also participated in the Summit on 23 June. The High-level Dialogue on Global Development, non-BRICS engagement segment of the Summit, was held on 24 June.

On 23 June, the leaders held discussions including in fields of Counter-Terrorism, Trade, Health, Traditional Medicine, Environment, Science, Technology & Innovation, Agriculture, Technical and Vocational Education & Training, and also key issues in the global context, including the reform of the multilateral system, COVID-19 pandemic, global economic recovery, amongst others. Prime Minister called for strengthening of the BRICS Identity and proposed establishment of Online Database for BRICS documents, BRICS Railways Research Network, and strengthening cooperation between MSMEs. India will be organizing BRICS Startup event this year to strengthen connection between Startups in BRICS countries. Prime Minister also noted that as BRICS members we should understand security concerns of each other and provide mutual support in designation of terrorists and this sensitive issue should not be politicized. At the conclusion of the Summit, BRICS Leaders adopted the ‘Beijing Declaration’.

On 24 June, Prime Minister highlighted India’s development partnership with Africa, Central Asia, Southeast Asia, and from Pacific to Caribbean; India’s focus on a free, open, inclusive, and rules-based maritime space; respect for sovereignty and territorial integrity of all nations from the Indian Ocean Region to Pacific Ocean; and reform of multilateral system as large parts of Asia and all of Africa and Latin America have no voice in global decision-making. Prime Minister noted the importance of circular economy and invited citizens of participating countries to join Lifestyle for Environment (LIFE) campaign. The participating guest countries were Algeria, Argentina, Cambodia, Egypt, Ethiopia, Fiji, Indonesia, Iran, Kazakhstan, Malaysia, Senegal, Thailand and Uzbekistan.

Earlier, in the keynote speech delivered at the Opening Ceremony of BRICS Business Forum on 22 June, Prime Minister appreciated BRICS Business Council and BRICS Women Business Alliance which continued their work despite COVID-19 Pandemic. Prime Minister also suggested the BRICS business community to further cooperate in field of technology-based solutions for social and economic challenges, Startups, and MSMEs.