साझा करें
 
Comments
"In our country, criminalisation of politics is a grave issue. It should be the concern of every party and all the leaders: Shri Modi in his interview to ANI"
"Shri Modi affirms that every MLA or MP with a criminal charge, irrespective of the party he or she belonged to, would be tried in special courts, the cases of which would be disposed off within a year"
"If the country stands on multiple pillars of constitutional institutions, then it will emerge stronger: Shri Modi"

श्री नरेन्द्र मोदी ने हाल में एएनआई के साथ साक्षात्कार में ‘अपराध मुक्ती राजनीति’ की जरूरत पर बल दिया जो कि विकास-प्रेरित हो। राजनीति के आपराधिकरण, जिसने देश को तहस-नहस कर दिया है, पर गहरी चिंता जताते हुए श्री मोदी ने कहा, ‘‘हमारे देश में राजनीति का आपराधिकरण गंभीर मुद्दा है। यह सभी पार्टियों और नेताओं के लिए चिंता का विषय होना चाहिए। शुरुआत में देश का नेतृत्व आजादी के लिए क्रांति से उपजा लेकिन बाद में यह सामाजिक कल्याण और उसके बाद जाति पर केंद्रित होकर रह गया। हालांकि धीरे-धीरे इसने आपराधिकरण का रूप ले लिया और उसके बाद नेतृत्व का उदय बंदूक की नौक पर हुआ। इस तरह स्थिति उलट गयी और राजनीतिक दलों के अपराधियों से मदद लेने के बजाय, जैसा कि पहले होता था, अब कमान अपराधियों ने ही संभाल ली। भले ही यह 2 से 3 प्रतिशत हो लेकिन फिर भी यह गंभीर चिंता का विषय है।’’

श्री मोदी ने इस चिंताजनक विषय का व्य्वहारिक और क्रांतिकारी हल बताते हुए कहा कि इस तरह के नेताओं को टिकिट देने से समस्या का हल नहीं होगा। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के बाद किसी भी दल से संबंध रखने वाले आपराधिक पृष्ठोभूमि के सांसद या विधायक का विशेष अदालतों में मुकदमा चलाया जायेगा और मामले का निपटारा सालभर के भीतर किया जायेगा। श्री मोदी ने कहा कि वह बदले की राजनीति में भरोसा नहीं रखते। उन्‍होंने कहा, ‘‘इस तरह अगर कोई व्यक्ति दोषी करार दिया जाता है और उसकी सीट खाली हो जाती है तो एक गैर आपराधिक छवि वाला व्यक्ति उसकी जगह ले सकता है।’’

अन्या व्यवहारिक विचारों पर चर्चा करने की बात कहते हुए श्री मोदी ने कहा कि विशेष अदालतों के संबंध में उनके झुकाव को राजनीतिक संदर्भ में लोगों को जेल भेजने के अर्थ में नहीं लिया जाना चाहिए बल्कि इसका आशय उन लोगों को सजा देना है जिन्होंने गलत काम किया है। श्री मोदी ने कहा, ‘‘मैं जो कुछ कह रहा हूं उसमें बदले का भाव जरा भी नहीं है। ऐसा नहीं है कि हम कुछ नेताओं की पुरानी फाइलें खोलेंगे या सीबीआई जांच करायेंगे। मैं यह अपराध नहीं करना चाहता। मैं भारतीय संस्थाओं की साख और संवैधानिक संगठनों का सम्मान बढ़ाना चाहता हूं। देश अगर संवैधानिक संस्थाओं के बहुस्तंभों पर खड़ा होगा तो यह मजबूत होकर उभरेगा।’’

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
Modi: From Enigma to Phenomenon

Media Coverage

Modi: From Enigma to Phenomenon
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
प्रधानमंत्री 5 अक्टूबर को हिमाचल प्रदेश का दौरा करेंगे
October 03, 2022
साझा करें
 
Comments
प्रधानमंत्री 3,650 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे
प्रधानमंत्री एम्स बिलासपुर का उद्घाटन करेंगे, जिसकी आधारशिला भी उन्होंने रखी थी
प्रधानमंत्री 1,690 करोड़ रुपये से अधिक के राष्ट्रीय राजमार्ग को चार लेन का बनाने की परियोजना की आधारशिला रखेंगे
इस परियोजना से क्षेत्र में औद्योगिक विकास और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा
प्रधानमंत्री नालागढ़ में मेडिकल डिवाइस पार्क की आधारशिला रखेंगे और बंदला में सरकारी हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज का उद्घाटन करेंगे
प्रधानमंत्री कुल्लू दशहरा समारोह में शामिल होंगे

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 5 अक्टूबर, 2022 को हिमाचल प्रदेश का दौरा करेंगे, जहां वे 3,650 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे। प्रधानमंत्री सुबह करीब साढ़े 11 बजे एम्स बिलासपुर का उद्घाटन करेंगे। उसके बाद वे दोपहर करीब 12:45 बजे बिलासपुर के लुहनू मैदान पहुंचेंगे, जहां कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास करेंगे और एक सार्वजनिक समारोह को भी संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री दोपहर करीब 3:15 बजे कुल्लू के ढालपुर मैदान पहुंचेंगे, जहां वे कुल्लू दशहरा समारोह में हिस्सा लेंगे।

एम्स बिलासपुर

एम्स बिलासपुर के उद्घाटन के माध्यम से देश भर में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण और संकल्प को फिर से प्रदर्शित किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने अक्टूबर 2017 में इसका शिलान्यास भी किया था। केंद्रीय क्षेत्र की योजना- प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत इसे स्थापित किया जा रहा है।

एम्स बिलासपुर, 1,470 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से निर्मित है। इस अत्याधुनिक अस्पताल में 18 स्पेशियलिटी और 17 सुपर स्पेशियलिटी विभाग, 18 मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर, 64 आईसीयू बेड के साथ 750 बेड शामिल है। यह अस्पताल 247 एकड़ में फैला है। यह 24 घंटे आपातकालीन और डायलिसिस सुविधाओं, अल्ट्रासोनोग्राफी, सीटी स्कैन, एमआरआई आदि जैसी आधुनिक डायग्नोस्टिक मशीनों, अमृत फार्मेसी व जन औषधि केंद्र और 30 बिस्तरों वाले आयुष ब्लॉक से सुसज्जित है। अस्पताल ने हिमाचल प्रदेश के जनजातीय और दुर्गम जनजातीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए डिजिटल स्वास्थ्य केंद्र भी स्थापित किया है। साथ ही, काजा, सलूनी और केलांग जैसे दुर्गम जनजातीय और अधिक ऊंचाई वाले हिमालयी क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविरों के माध्यम से अस्पताल द्वारा विशेषज्ञों द्वारा स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जाएंगी। इस अस्पताल में हर साल एमबीबीएस कोर्स के लिए 100 छात्रों और नर्सिंग कोर्स के लिए 60 छात्रों को प्रवेश दिया जाएगा।

विकास परियोजनाएं

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राजमार्ग-105 पर पिंजौर से नालागढ़ तक करीब 31 किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्ग को चार लेन का बनाने की परियोजना की आधारशिला रखेंगे, जिसकी लागत करीब 1690 करोड़ रुपये है। यह सड़क परियोजना अंबाला, चंडीगढ़, पंचकूला और सोलन/शिमला से बिलासपुर, मंडी और मनाली की ओर जाने वाले यातायात के लिए एक प्रमुख संपर्क लिंक है। चार लेन के इस राष्ट्रीय राजमार्ग का लगभग 18 किमी का हिस्सा हिमाचल प्रदेश के अंतर्गत आता है और शेष भाग हरियाणा में पड़ता है। यह राजमार्ग हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक केंद्र नालागढ़-बद्दी में बेहतर परिवहन सुविधा सुनिश्चित करेगा और क्षेत्र में औद्योगिक विकास को भी गति देगा। इससे राज्य में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

प्रधानमंत्री नालागढ़ में करीब 350 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले मेडिकल डिवाइस पार्क की आधारशिला रखेंगे। इस मेडिकल डिवाइस पार्क में उद्योग स्थापित करने के लिए 800 करोड़ रुपये से अधिक के समझौता ज्ञापन पर पहले ही हस्ताक्षर किए जा चुके हैं। इस परियोजना से क्षेत्र में रोजगार के अवसरों में उल्लेखनीय वृद्धि होगी।

प्रधानमंत्री बंदला में गवर्नमेंट हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज का भी उद्घाटन करेंगे। इस पर लगभग 140 करोड़ रुपये का व्यय होगा। इस कॉलेज से पनबिजली परियोजनाओं के लिए प्रशिक्षित कामगार उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी। हिमाचल प्रदेश इस क्षेत्र में अग्रणी राज्यों में से एक है। इससे युवाओं के कौशल को बढ़ाने और पनबिजली क्षेत्र में रोजगार के पर्याप्त अवसर प्रदान करने में मदद मिलेगी।

कुल्लू दशहरा

अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा महोत्सव 5 से 11 अक्टूबर, 2022 तक कुल्लू के ढालपुर मैदान में मनाया जाएगा। यह महोत्सव इस मायने में अनूठा है कि इसमें घाटी के 300 से अधिक देवी-देवताओं का समावेश होता है। महोत्सव के पहले दिन, देवता अपनी अच्छी तरह से सुसज्जित पालकियों में अधिष्ठाता देव भगवान रघुनाथ जी के मंदिर में अपनी श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं और फिर ढालपुर मैदान के लिए आगे बढ़ते हैं। ऐतिहासिक कुल्लू दशहरा समारोह में प्रधानमंत्री इस दिव्य रथ यात्रा और देवताओं की भव्य सभा के साक्षी बनेंगे। यह पहली बार होगा जब देश के प्रधानमंत्री कुल्लू दशहरा समारोह में भाग लेंगे।