Comments 18 Comments

Honourable Prime Minister of Bhutan, Honourable Prime Minister of Macedonia, Secretary of State John Kerry, UN Secretary General Ban Ki Moon, World Bank President Jim Yong Kim,

Honourable Ministers and dignitaries from Australia, Canada, Denmark, Fiji, Iran, Israel, Japan, Mauritius, the Netherlands, Poland, Romania, Russia, Singapore, UAE and United Kingdom 

Excellencies, Ladies & Gentlemen!

On behalf of the people of India and on my personal behalf, I welcome you all to this Summit.  In January, 2013,  while concluding the sixth Summit, I had extended an invitation for today’s event.  Your response has been outstanding. I am glad to be here to welcome you. On this occasion, I express my gratitude to the old partners of this event - both countries and organisations. These include Japan and Canada. Without their support, this event could not have come this far.

I also welcome warmly and thank new partners like USA, UK, Netherlands, Australia, Singapore and South Africa for joining this event.

I particularly thank the Secretary General of the United Nations and the President of the World Bank  for their presence. It shows their commitment towards progress and prosperity in emerging economies.

Your partnership has enhanced  the enterprising spirit of 60 million Gujaratis  It has boosted the morale of 1.2 billion Indians. This event is perhaps the biggest gathering on earth where, a budding entrepreneur has the opportunity to see  the President of the World Bank. And where a young farmer, dreaming to set up a food processing unit,  can listen to the views of the UN Secretary General  on issues like food security.  That is why,  during one of the previous events,  I had called it ‘Davos in Action’. 

Friends! India has always believed that the whole world is one family  (Vasudhaiva Kutumbakam).  Few have seen this in practice  I am informed that more than hundred countries  are participating in this event.

We are here as a family  not only in terms of space,  but also because we recognise that:  

  • Someone’s dream is dependent on someone’s direction;
  • Someone’s success is related to someone’s support;
  • Someone’s curiosity is linked to someone’s care;

This is what a family does. The ultimate objective is welfare of all  Loka Samastah Sukhinau Bhavantu. 

I am sure all of us,  from the Secretary General of UN  to the President of the World Bank, from leaders of the strongest economies  to delegations of small countries,  from CEOs of Fortune 500 companies  to start-up entrepreneurs,  all want the planet earth to become a better place to live.

Thus,  our meeting here is not just -

  • A meeting of hands  but also of hearts;
  • It is not only a meeting of ideas,  but also of aspirations

 As a host to this family gathering, As a curator of thousands of dreams floating here,

I welcome you all once again  

I hope your stay here is comfortable. I trust you will enjoy our hospitality. This is the time of Kite Festival in Gujarat. This festival  gives us the message of high spirits.  Do participate in it.

Friends! After becoming Prime Minister, I have travelled  to the remotest parts of India  and also to various parts of the world.  I have been to the UN, BRICS, ASEAN, East Asian Summit, G-20 and SAARC summits. Some common worries have been expressed everywhere. The biggest concern is about the global economy. We all have to find ways  for its stability and recovery. We also have to work  for sustainable and inclusive growth.

We,  in India,  believe that problems present us  with opportunities to become stronger,  disciplined and innovative.

My Government is trying to generate confidence.  We have prepared a team  to secure a robust future.  We believe that  changes start with a change in mindset.

Friends! It is a matter of great pride that today,  there is tremendous interest in India. Countries are coming forward to work with us. This has,  of course,  generated expectations from us.

India’s present  as well as its rich past  is being recognised I thank the UN Secretary General  for giving a formal international stature to Yoga. A record number of 177 countries supported the Indian proposal. Yoga is both a science  and an art  for improving human life. In today’s world,  it teaches us to remain stable  even in adverse situations.

Friends,  the 2009 edition of this event  created vibrancy when the state of the global economy was depressing. The summits of 2011 and 2013  succeeded in strengthening investor confidence.

It is only because of persistence with positivity  that this event of Gujarat Government  has become an event for the entire country.  This platform has been enlarged  so that other states too  can take advantage.  Today,  many other states have adopted this approach  The Government of India is committed to support  such initiatives by any state government.

Friends!  We will have to change the way we have been approaching problems.  Recession is often seen  just in the context of business and Industry.

Have we ever thought of recession as being the result of low per capita income in countries  where a majority of the global population lives?

Have we ever thought of its solution  in terms of enhancing  the common man’s employability, income and purchasing power?  This is the biggest task at hand in India.  Mahatma Gandhi rightly talked about the last man.  And Gandhiji’s message  can show us the way  It is therefore appropriate that this summit is taking place  in Mahatma Mandir.

To me,  the best outcome of this event  should be inclusiveness and involvement of communities  needing care and development.

Thus, this event stands for-

  • Inclusiveness of small with big;
  • Inclusiveness of poor with rich;
  • Inclusiveness of gut feelings with mature thoughts

I assure this global platform  that India wants to work with the global leadership. Be they issues of poverty or ecology. We want to contribute to welfare of the global community. We are aware that  with one sixth of the world’s population,  our activities will have a global impact.  We are ready to learn  and make this impact positive.

However,  India has to be seen from a different angle  It is not just a country of today. It is also an old civilisation. It is not just a country of a few cities. It is a country of thousands of towns and several hundred thousand villages. It is a country of diverse communities  Therefore,  India has its own solutions  for many pressing problems.

  • Our philosophy is a philosophy of conservation;
  • Our culture teaches us nurturing of nature;
  • Our way of life is that of harnessing

Such thoughts and practices  have existed in India for centuries.  Thus,  whatever we will do,  it will be aligned with our culture,  ethos  and beliefs.  Because, we know,  this is what will work in India.

Friends!  Our last national elections  marked a turning point in Indian democracy. They indicated the high aspirations of our people. This was amply reflected in the record voter participation and a clear verdict in favour of one political party  after a gap of 30 years.

My government is committed to changing and improving the economic and social condition of India  including the quality of life.

In a short span of seven months,  we have been able to change  the atmosphere of despair and uncertainty. Since the first day, my government is actively working to revive the economy. My government is committed  to create a policy environment  that is predictable, transparent and fair.

Friends!  We are on the path of transformation. To start this process,  we are making efforts  to change the work culture. We have to strengthen our institutions  and systems of delivery. To drive this change forcefully, we have recently re-constituted our Planning Commission  Now, it is known as NITI Ayog.

We want to promote  co-operative federalism in the country  At the same time, we want a competitive element among the states  to create and attract whatever is needed there.  I call this new form of federalism  Co-operative and Competitive Federalism.

You may be aware that  our economic growth had slowed down  during the last few years  Now,  my Government is putting all efforts  to ensure faster and yet inclusive growth. The initial results are encouraging.

On the economic front,  during the first two quarters,  we registered a growth rate  which was one percent higher than the previous year.  The IMF has observed that  India will be the 2nd fastest growing economy in the coming years.

According to the latest forecast of the OECD,  India would be the only country among world's top economies  which would increase its pace of growth this year  HSBC's latest report has identified India  as the world's largest growing exporter,  which is set to move  from being the fourteenth  to the fifth largest exporter in the world  by 2030.

On the political front also,  people of various states have supported us  in the recent Assembly elections.

This gives us the confidence that  we are moving in right direction.  Let me tell you a little about  what we are doing  and where we want to reach.

Friends! We are not merely making commitments and announcements.  We are also backing them up  with concrete action  at the level of policy and practice. For example,  I announced a Financial Inclusion programme. In four months,  we have opened  more than 100 million bank accounts.

We are planning to build smart cities  equipped with world-class amenities. For this purpose, we have further liberalized the FDI policy in construction sector.

I announced that a modern rail system including high speed rails  will be set up  Immediately, we opened up railways for 100% FDI. I announced that defence production in the country would be encouraged. The next step was to open the defence sector  for FDI up to 49%.  We have taken similar steps in many other areas. These include bringing 49% FDI in insurance.  It also includes  liberalization of FDI norms for manufacturing of medical devices.

Simultaneously, on the administrative front, we are actively working to provide policy driven governance. We have taken far reaching decisions  to ensure supply of key natural resources. This includes coal, iron ore and other minerals. We have also amended legal provisions  to facilitate availability of land. This has been done  to enable development in remote areas  while ensuring better returns to the farming community.

We are trying to complete  the circle of economic reforms speedily.  We are also keen to see that  our policies are predictable. We are clear that our tax regime should be stable. In the last few months,  we have taken several decisions in this direction.

We have put focus  on building Infrastructure through public and private Investments. This will include  national roads,  national grids of gas, electricity and water. It also includes rural infrastructure,  24x7 electric supply,  farm irrigation  and cleaning of rivers.

In order to execute the infrastructure plan,  a fast track PPP mechanism is being put in place.

We are undertaking  the Sagarmala project  to ensure port led development.  Existing ports are being modernized.   New world class ports will be developed  along India's coast.  Ports will be better connected to the hinterland  through road and rail  Inland and coastal waterways  will be developed  as major transport routes.  Low cost airports are being planned  to improve regional connectivity,  especially to tier-two towns  and places of economic and tourist importance.

We are also keen  to move towards the next generation infrastructure   Just as we need highways, we need I-ways too  Under the Digital India Initiative, IT will be used to drive Government processes  to improve service delivery and program implementation, and also to provide broadband connectivity to villages.

To upgrade manufacturing Infrastructure,  we are setting up world-class investment and industrial regions  along the dedicated freight corridors and industrial corridors Government of India is working towards single window clearance  at the Federal and State levels.

Four months back, we launched Make In India initiative  to encourage the growth of manufacturing in the country. We are working hard  to make India a global manufacturing hub. We are promoting,  in particular,  labour intensive manufacturing.

I have launched these initiatives  in a campaign mode  so that they force us in the Government to make faster corrections. They challenge us to do away with the red tape  and become pro-active  With this purpose, our applications and processes are being aggressively put online.

Ease of doing business in India  is a prime concern for you and us.  I assure you that  we are working very seriously on these issues  We want to make them:

  • Not only easier than earlier;
  • Not only easier than the rest;
  • But, we want to make them the easiest

Friends!  Many of you might be interested to know -  Why India?  India has three things to its credit -  Democracy,  Demography  and Demand.  This is what you are looking for.

And I am sure,  you will not find all of them together  at any other destination  India offers you the potential of low cost manufacturing.  India has low cost and high quality manpower 65% of our population  is below 35 years of age. We are trying to further harness these strengths  through better management and good governance.

In the recently launched Mars Orbiter Mission, everything was made indigenously  In fact,  most mission components were made  in very small factories.

Friends!  We have large number of hands to work. And, we have even larger number of dreams  to be realised. Therefore,  employment opportunities are being enhanced  by promoting manufacturing,  agro-based industries,  tourism as well as services  We have undertaken labour reforms  to encourage enterprise  and to create a bigger job market  for our youth.

I have always said that  development process should benefit  the common man  as well as the business sector.

Therefore,  my Government has established  a new Ministry for skill development  to enhance our human resource potential. For this,  we are placing equal emphasis on knowledge, technology,  innovation  and research and development.  This includes the use of ICT  for improving governance and resource management. I understand this because. I use modern tools of communication myself.

Friends!  Today,  India is a land of opportunities. We have to build  fast track roads and railways. We have to energise homes and factories  on a continuous basis. We have to build infrastructure for cities  where almost half of our population lives. We have to take the taste of modern amenities to every village. We have to propel our growth  through value addition in our natural resources  and agri-produce. We have to provide services to our people  which are of global standards.  At the same time,  the whole world is looking for certain services. If our human resource can be equipped with skills and technology, we may serve the world in many areas.

Thus,  there are immense possibilities  for global investors in India  The process of development we are taking up  is not incremental  We are planning to take a quantum leap. It is not limited to one sector  or region, it is truly unlimited. And we want to do things  in a cleaner and greener way. We are open to ideas, investments  and innovations.


  • We have made commitments to our people
  • We have made commitments to ourselves
  • We have made commitments for India’s great future
  • We have to write our new destiny
  • And we have to write it in a very short time

We know that to do this,  we need an enabling policy framework  We are working constantly to improve it further. However,  I can say with confidence  that even today,  the strength of Indian democracy  and independence of our judicial system provide a level playing field  for long lasting business.

 I would conclude  by saying that-

  • We are dreaming big;
  • And our dreams are numerous;
  • Our dreams can become  the seeds of your growth;
  • Our aspirations can propel your ambitions

Friends!  on behalf of the Government,  let me give an assurance  We assure you that  we will be available to hold your hands  whenever you need us. You will find us standing with you in your journey  If you walk one step; we will walk two steps for you.

At the end,  I urge you to see  and realise  for yourself that -

  • India is changing fast;
  • India is growing fast ;
  • India is moving faster than expected;
  • India is learning even faster;
  • India is ready than ever before

Let us join hands! Let us work together  for progress,  prosperity and peace

Thank you

Explore More
PM Modi launches 7 schemes worth Rs 5,000 crore in Varanasi

Media Coverage

PM Modi launches 7 schemes worth Rs 5,000 crore in Varanasi

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
Through our schemes we want to touch people's lives: PM Modi
October 24, 2016
Comments 8
Urge all citizens to send their #Sandesh2Soldiers & remember their valour: PM Modi in Varanasi
The real aim of initiatives is proper execution and bring in positive change in common man's life: PM Modi
Schemes must be implemented on time and within the budget; there must not be any delay in this: PM
We are not a government whose work stops at laying foundation stones. We ensure that projects are completed on time: PM
We have to modernise our Railways. It can be the engine of growth for our country: PM

मैं सबसे पहले काशी वासियों का आभार व्यक्त करना चाहता हूं, उनका धन्यवाद करना चाहता हूं। जब मैंने टीवी पर देखा, अखबारों में पढ़ा, कुछ यहां के स्थानीय नागरिकों ने मुझे फोन करके बताया कि हम काशी वालों ने छोटी दिवाली मना ली। 29 सितंबर को जब देश की सेना ने पराक्रम किया तो पूरा काशी झूम उठा। काशी वासियों ने देश के सुरक्षा बलों का जो गौरव गान किया, मां गंगा की आरती को जिस प्रकार से समर्पित किया, यहां का सांसद होने के नाते आपके द्वारा सेना का इतना सम्मान हो, गौरव हो तो मेरी खुशियों का कोई पार नहीं रहता।

ये आपने जो छोटी दिवाली मनाई थी उसके लिए मैं आपका ह्रदय से आभार व्यक्त करता हूं। कई वर्षों के बाद सवा सौ करोड़ देश वासी सेना के जवानों को अहसास करवाने में सफल हुए हैं कि आप अकेले नहीं हैं, सवा सौ करोड़ का देश आपके पीछे खड़ा है। अब हम बड़ी दिवाली मनाने जा रहे हैं। हम तो अपने परिवार के साथ दिवाली मनाएंगे, अपनों के बीच खुशियां बांटेंगे, दीये जलाएंगे, अंधेरा हटाएंगे, रोशनी लाएंगे, सब कुछ करेंगे, लेकिन ये तब संभव होता है जब किसी मां का लाल सीमा पर तैनात होकर के हम लोगों के सुख चैन के लिए अपने आप को खपा देता है।

ये छोटी दिवाली मनाकर देश को आपने दिशा दी। मैं काशी वासियों का, उत्तर प्रदेश के नागरिकों का, हिंदुस्तान भर के नागरिकों का, काशी की धरती से आह्वान करता हूं कि इस दिवाली में हम अपनों को जिस प्रकार से शुभकामनाएं देते हैं, उसी प्रकार से हम सेना के अपने जवानों को, हमारे सुरक्षा बलों को, दीपावली का संदेश भेजकर उनके प्रति अपने लगाव का अहसास करवाएंगे। चाहे वो थल सेना में हों, जल सेना में हों, वायु सेना में हों, कोस्ट गार्ड में हों, इंडो-तिब्बतन फोर्स में हों, असम राइफल्स में हों, बीएसएफ में हों, सीआरपीएफ में हों - हर कोई, सवा सौ करोड़ देश वासियों की सुरक्षा के लिए तैनात है। इस दीपावली में हम सब की तरफ से उनको एक संदेश जाना चाहिेए।

भेजेंगे? कैसे भेजेंगे?

आप अपने मोबाइल से 1922 नंबर पर मिस्ड कॉल करना। वहां आपको एक मैसेज आएगा। उस मैसेज से आप नरेंद्र मोदी एप अपने फोन पर डाउनलोड कर सकते हैं। उसमें सेना के जवानों को संदेश भेजने के लिए एक जगह है, उससे आप संदेश भेजेंगे। देश के सुरक्षा बलों को आपके संदेश मिलेंगे।

देश के सुरक्षा बलों को हर पल लगना चाहिए कि हमारी जवानी हम देश के लिए लगा रहे हैं तो देश वासियों को हम पर कितना गौरव है, कितना अभिमान है। उन्हें ये प्रतिपल अनुभव होना चाहिए। सिर्फ बम, बंदूक और गोलियों की आवाज के दरमियान हों ये काफी नहीं है। दुनिया के कई देशों में, अगर सेना के जवान हवाई जहाज में जा रहे होते हैं, रेल से जा रहे है और वहां अन्य यात्री उन्हें देखते हैं तो सब तालियों से उनका गौरव गान करते हैं और वे वहां से गुजरते हैं। ये सामान्य स्वभाव बना हुआ है। हमारे देश में जब विशिष्ट परिस्थिति पैदा होती है, पराक्रम की बात आती है तब तो एकदम से देशभक्ति उमड़ पड़ती है, लेकिन फिर धीरे धीरे सब ठंडा हो जाता है। सेना के साथ, सुरक्षा बलों के साथ, एक आत्मीय, गौरवपूर्ण, सम्मानजनक नाता जोड़ने का कल्चर हमेशा बना रहना चाहिए। विशिष्ट अवसरों पर ही बना रहे ये काफी नहीं है।

इसलिए मैंने इस बार सेना के जवानों को संदेश भेजा है और देशवासियों को भी कहा है कि आप भी मेरे साथ इस संदेश में जुड़िए।

भाइयो-बहनो, आज मैं सबसे पहले इन सारे मंत्रियों का, उनके मंत्रालयों का आभार व्यक्त करता हूं क्योंकि मेरे संसदीय क्षेत्र में आपने इतनी सारी योजनाएं लागू कीं और मेरे यहां के मतदाताओं की सुविधा के लिए आपने इतना बढ़िया-बढ़िया काम किया। मैं पहले आपका आभार व्यक्त करता हूं। मैं रेलवे विभाग के अधिकारियों का अभिनंदन करना चाहता हूं कि आपने मेरे स्वभाव को भली भांति समझ कर के प्रकल्प को समय से पहले पूरा कर दिया। वरना सरकारें ऐसी होती हैं कि शिलान्यास एक सरकार करती है, उद्घाटन दूसरी या तीसरी सरकार के नसीब में आता है। सरकारें आती हैं, जाती हैं, बदल जाती हैं लेकिन वो पत्थर वहीं पड़ा रहता है।

ये ऐसी सरकार है कि शिलान्यास भी हम ही करते हैं और उद्घाटन भी हम ही करना चाहते हैं। योजनाएं समय सीमा में होनी चाहिए। निर्धारित बजट में होनी चाहिए। हो सके तो समय भी बचना चाहिए, धन भी बचना चाहिए और काम उत्तम होना चाहिए। ये कल्चर विकसित करने का प्रयास दिल्ली में जो आपने सरकार बैठाई है वो कोशिश कर रही है और मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि ये हर क्षेत्र में होने वला है।

आपने देखा होगा, हमारे जितने मंत्री यहां बोले, जितनी आपको कार्यक्रम की योजनाएं बताईं उसके साथ-साथ समय भी बताया। क्योंकि मेरा एक आग्रह रहता है, मैं कार्यक्रम पर या किसी फाइल पर साइन करता हूं तो पूछता हूं जरा ये बताओ पूरा कब करोगे? योजनाएं सिर्फ अखबारों में छपने के लिए नहीं होती हैं, सिर्फ अखबारों में वाहवाही के लिए नहीं होती हैं, योजनाएं जनसामान्य के जीवन में बदलाव लाएं इसे कार्यान्वित करने के लिए होती हैं। और इस सरकार का आग्रह है कि हम जो योजनाएं लाएंगे, लागू करके रहेंगे।

अभी आपने यहां देखा, सुकन्या समृद्धि योजना। जिस दिन हमने यह योजना घोषित की होगी, अखबार में भी आई होगी, कुछ लोगों ने जाना, कुछ लोगों ने नहीं जाना और बात आई-गई हो गई लेकिन हम ऐसे नहीं करते, हम पीछे लगे रहते हैं कि बताओ भई कर रहे हो कि नहीं? सभी बच्चियों को लाभ पहुंच रहा है कि नहीं पहुंच रहा है? पीछे लग रहे हो कि नहीं लग रहे हो? तो देखो, कर रहे हैं।

यहां आपने देखा, मुझे कुछ परिवारों को गैस सिलेंडर देने का अवसर मिला। हमें मालूम है गैस सिलेंडर पाना पहले कितनी दिक्कत का काम हुआ करता था। सिफारिश लगानी पड़ती थी। सांसद के अगल-बगल घूमना पड़ता था। बड़े-बड़े अफसर भी एमपी को पकड़ते थे कि साहब मेरी ट्रांसफर यहां हुई है मैं यहां आया हूं जरा गैस का कनेक्शन मिल जाए मुझे, देखिए न बड़ी मुसीबत है। एमपी को 25 कूपन मिला करती थी गैस का कनेक्शन दिलवाने के लिए। और वो एमपी 25 कूपन लेकर घूमता रहता था, उसके पीछे 200-200 लोग घूमते रहते थे कि साहब एक कूपन मुझे भी दीजिए। ये सब चला गया। सरकार सामने से गरीबों को ढूंढ रही है, गरीबों के घर को ढूंढ रही है।

मेरा सपना है कि 3 साल में हिंदुस्तान के गरीब परिवारों के घर में जहां लकड़ी का चूल्हा जलता है, जहां खाना पकाने में हर मां के भीतर बहुत धुंआ जाता है, उन माताओं को धुंए से बचाना है। गरीब के घर में गैस का चूल्हा जलाना है। ये कोशिश कर रहा हूं।

लेकिन इसके साथ-साथ, आज वाराणसी में गैस पाइपलाइन के कार्यक्रम का शिलान्यास हो रहा है। रसोईघर में नल से पानी भी हर घर में आता होगा या नहीं उसका मुझे मालूम नहीं। अभी भी घर से बाहर पानी लेने के लिए लोगों को शायद जाना पड़ता होगा। मेरी कोशिश है और खासकर के काशी की माताएं बहनें मुझे आशीर्वाद दीजिए कि रसोई घर में नल ऑन करने से गैस आ जाएंगी, खाना पकना शुरू हो जाएगा। निर्धारित समय में सैकड़ों करोड़ों रुपया खर्च करके गैस की पाइपलाइन बिछाने की दिशा में आज कार्य आरंभ हो रहा है।

अर्थव्यवस्था में ऊर्जा का बड़ा महत्व होता है। गैस आधारित इकोनॉमी, फर्टिलाइजर के उत्पादन में गैस की जरूरत होती है। उसके लिए जगदीशपुर-हल्दिया पाइपलाइन का जो काम था वो तो होना ही है लेकिन उसके साथ हमने देश के सात शहरों, विशेष कर पूर्वी हिंदुस्तान में, पाइपलाइन से गैस देना तय किया है। ये शहर हैं वाराणसी, रांची, कटक, पटना, जमशेदपुर भुवनेश्वर, कोलकाता। उसके तहत आज मेरे संसदीय क्षेत्र के घरों में पाइपलाइन से गैस पहुंचाने की दिशा में काम हो रहा है।

यातायात में भी जहां आप पेट्रोल डीजल से गाड़ियां चलाते हैं, अब सीएनजी से गाड़ी चला पाएंगे। पेट्रोल-डीजल से सीनएनजी सस्ता भी पड़ता है, पर्यावरण को भी फायदा करता है। यहां करीब 20 लाख वाहन हैं जिन्हें फायदा मिलेगा जब सीएनजी के स्टेशन लग जाएंगे। और इन सातों शहरों में बहुत बड़ी मात्रा में वाहन हैं, तो पर्यावरण को बहुत बड़ा लाभ होगा। देश को विदेशों से पेट्रोलियम लाना पड़ता है, उसमें भी आर्थिक रूप से देश की बचत होगी। तो एक ऐसी योजना जो जनसुविधा वाली भी है और भावी पीढ़ी के भविष्य के लिए भी पर्यावरण की रक्षा करने वाली है।

ये मेरा साफ मत रहा है कि अगर हम सोचें भारत का कोई इलाका आगे बढ़ जाए तो देश आगे बढ़ जाएगा ये संभव नहीं है। देश तभी आगे बढ़ेगा जब हिंदुस्तान के हर कोने में विकास हो, विशेषकर हिंदुस्तान के पूर्वी इलाके में विकास हो। चाहे वो पूर्वी उत्तर प्रदेश हो, चाहे बिहार हो, बंगाल हो, झारखंड हो, उड़ीसा हो, पूर्वोत्तर के प्रदेश हों, असम हो - ये सारा क्षेत्र आर्थिक गतिविधि का केंद्र बनाना है तो हमें इस प्रकार की सुविधाओं से उसे जोड़ना होगा।

पिछले दिनों आपने देखा होगा काशी की संगीत की दुनिया को हैरिटेज में स्थान मिला। वो काशी के लिए गौरव का विषय था। ये सर्वविद्या का केंद्र है। संगीत के क्षेत्र में काशी ने देश और दुनिया को बहुत कुछ दिया है। उस विरासत को हैरिटेज के रूप में दुनिया के अंदर स्थान मिला. उसी से प्रेरणा लेकर के आज काशी का पोस्टल स्टैंप .. और मैं चाहूंगा काशी के लोग तो अपनी डाक में काशी का ही ये पोस्टल स्टैंप लगाने की आदत डालें। वो अपने आप में आपका परिचय बढ़ाता है। एक बार पोस्टल स्टैंप जाता है तो दुनिया में टूरिज्म के लिए वो कारण होता है। उससे एक पहचान मिलती है। काशी का गौरव गान होता है। बहुत पहले शहरों की डाक टिकट की कल्पना हुई थी हमारे देश में, लेकिन वो मामला आगे बढ़ा नहीं। हमने काशी को इस काम के लिए चुना। फिर से एक बार शुरुआत हुई है और इसके कारण हमारे इस पुरातन शहर की एक पहचान नए तरीके से दुनिया के सामने पहुंचाने में ये एक काम होगा।

आज यहां किसानों के लिए भी एक बहुत बड़े महत्वपूर्ण राजा तालाब प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। हमारे किसान बड़े शहरों के अगल बगल में सब्जी पैदा करते हैं। ये राजा तलाब एक ऐसी जगह है जो पूरब, पश्चिम और उत्तर में रोड़ और रेल की कनेक्टिविटी में केंद्र बिंदु है। यही वो इलाका है जहां हमारे किसान सबसे ज्यादा सब्जी, फलों और फूलों की खेती करते हैं। अगर उनको इस प्रकार की सुविधा मिले और उनके लिए बर्बादी बच जाए और परिवहन की सुविधा हो जाए तो हमारे किसान को सबसे ज्यादा फायदा होगा। और ये व्यवस्था ऐसी है कि इस इलाके के किसानों के लिए बहुत फायदेमंद होने वाली है। वो अपनी मर्जी से जब दाम मिलेगा तो माल बेच सकता है नहीं तो तब तक अपना माल सुरक्षित रख सकता है। सुविधा मिल जाए, व्यवस्था मिल जाए, परिवहन की व्यवस्था से वो जुड़ जाए तो किसान न सिर्फ इस इलाके में बल्कि वो कोलकाता से लेकर दिल्ली तक कहीं पर भी अपनी सब्जियां बेचने के लिए पहुंचा सकता है। यहां की फूलगोभी वगैरह तो बड़ी प्रसिद्ध है। यहां की चीजें बड़ी स्वादिष्ट हैं। मां गंगा का आशीर्वाद है यहां के कृषि उत्पादन पर। उसका एक अनोखा टेस्ट भी है। तो इसके कारण बाजार में उसकी एक पहचान बनेगी।

आज हमारे मनोज सिन्हा जी ने काशी को एक और गौरव दिया। डाक विभाग हमारे यहां की बहुत पुरातन व्यवस्था है। जब तक तकनीकी नहीं आई थी डाकिया हर घर में इंतजार का कारण हुआ करता था। डाक आए या न आए लेकिन हर परिवार राह देखता था कि डाकिया आकर तो नहीं चला गया? अगर बेटा बाहर रहता है तो वो हर दिन डाकिए को याद करते थे। डाक का अपना एक महत्व है।

नए समय में डाक का स्वरूप अब बदल चुका है। हम डाक को बैंकिग क्षेत्र में तब्दील कर रहे हैं। पोस्ट ऑफिस बैंकिग सुविधा उपलब्ध करवाएंगे। देश में आज जितनी बैंकों की शाखाएं हैं उतनी ही अकेली डाकघरों की शाखाएं हैं। डेढ़ लाख से ज्यादा। वे सब बैंकिंग का काम करेंगी। वो जब एक नया जोन बनता है तो यहां कि सुविधाओं पर एक विशेष निगरानी बनती है, कुशलता आती है और परिणाम मिलता है। वो काम करने के लिए एक क्षेत्रीय व्यवस्था काशी के आस पास के जिलों को जोड़कर के बनी है। नए जोन का निर्माण किया गया है।

आजकल ई-कॉमर्स का मामला बहुत बढ़ रहा है। लोग ऑनलाइन अपनी चीजें खरीदते हैं। लेकिन वो वक्त दूर नहीं होगा जब पोस्ट ऑफिस डिलीवरी के बहुत बड़े केंद्र बनेंगे। आज मनरेगा के पैसे देने हों, स्कॉलरशिप के पैसे देने हों, पेंशन के पैसे देने हों - बैंकों की शाखा कम हैं। ये सुविधा बढ़ने के कारण जो बुजुर्ग लोग हैं, विद्यार्थी हैं, विधवाएं हैं उनको डाक और बैंक जुड़ने के कारण ये सुविधाएं सरलता से उपलब्ध होंगी। ये होने के कारण व्यापारी वर्ग को भी खासकर छोटे-छोटे व्यापारियों को अपना कारोबार चलाने के लिए एक नई सुविधा उपलब्ध होगी। इस काम को भी आज आपके सामने प्रस्तुत किया है।

रेल हमारे देश की बहुत पुरानी व्यवस्था है। जब संसद में बजट आता और रेल मंत्री हजारों लाखों करोड़ की घोषणाएं कर दें, कोई सांसद उनकी सुनता नहीं था, लेकिन जैसे ही वे बोलना शुरू होते थे कि फलाने शहर से फलाने शहर तक एक डिब्बा जोड़ दिया जाएगा तो तुरंत सांसद तालियां बजानी शुरू करते थे। फलानी जगह पर स्टॉपेज दिया जाएगा, तालियां बजती थीं। फलानी जगह पर नई ट्रेन लगाई जाएगी तो तालियां बजती थीं। रेलवे बजट इसी पर सीमित हो गया कि किस सांसद के कौन से इलाके में ट्रेन रुकेगी या नहीं रुकेगी, जाएगी या नहीं जाएगी। यहां पर रेल सीमित हो गई।

रेल भारत का इतना बड़ा नेटवर्क है लेकिन उसके हाल चाल रूप रंग ढंग पिछली शताब्दी के हैं। हमने सपना देखा है कि रेल को आधुनिक बनाने की आवश्यकता है। रेल की गति बढ़ाने की आवश्यकता है। रेल के इलेक्ट्रिकल कनवर्जन की आवश्यकता है। गेज कनवर्जन की आवश्यकता है। दूर-सुदूर इलाकों से जोड़ने की आवश्यकता है और इसलिए एक बहुत बड़ा प्लान जैसा हमारे रेल मंत्री जी कह रहे थे, आजादी के बाद जितने रूपये खर्च किए गए, जितना काम नहीं हुआ पिछले ढाई साल में और पिछले महीनों में हमने इतना काम किया है। और इसी के तहत ये जब इलाहाबाद डबल लाइन हो जाएगी, नया पुल बन जाएगा, गति भी बढ़ेगी, व्यापार को भी फायदा होगा। एक बार इस प्रकार का गतिशील आधारभूत ढांचा उपलब्ध हो जाता है तो आर्थिक गतिविधि भी तेज हो जाती है। ये सिर्फ पटरियों का खेल नहीं है, ये सिर्फ एक ट्रेन दौड़ने वाला खेल नहीं है, ये पूरी अर्थव्यवस्था को बदल देता है। इस काम के लिए ये बड़ा अहम कदम आज हमने यहां उठाया है। उसका भी लाभ आपको मिलने वाला है।

आज बिजली के लिए भी एक लोकार्पण हुआ। बिजली होती तो है लेकिन ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता कि बिजली के कारखाने में बिजली बनने से बिजली मिलती नहीं है। बिजली का कारखाना भी लग गया, तार भी लग गए तो उससे बिजली नहीं आ जाती। जैसे पानी के बहाव को पहुंचाने कि लिए बांध की जरूरत पड़ती है या ट्यूबवेल से जरिए पानी को ऊपर ले जाकर टंकी में भरने के बाद पानी नीचे पहुंचता है, वैसे बिजली को भी इस प्रकार के सब-स्टेशन की जरूरत पड़ती है जिससे बिजली को आगे पहुंचाने के लिए धक्का लगता है।

ये बड़ा खर्चीला काम होता है लेकिन सब-स्टेशन न हो तो बिजली आती है, जाती है, कभी टीवी जल जाते हैं, कभी मोटर जल जाती है, कभी एसी जल जाता है, स्थिरता नहीं आती। क्वालिटी पावर नहीं मिलता है। इसके लिए बुनियादी ढांचे की आवश्यकता होती है। लेकिन ज्यादातर सरकारों को इस प्रकार के खर्च करने से डर लगता है। उनको लगता है ठीक है लोग चला लेंगे, बिजली आई न आई वो थोड़े दिन चलाते रहेंगे। नहीं, क्वालिटी बिजली होती है तो आर्थिक विकास का एक बहुत बड़ा सरल रास्ता हो जाता है। उद्योगपति भी पैसे तब लगाते हैं जब क्वालिटी बिजली मिलती है। आती है, जाती है, पूछते हैं, करते हैं, हुआ, नहीं हुआ इन बातों से कभी विकास नहीं होता है। ये जो पावर के सब-स्टेशन डाले गए हैं जिसका उद्घाटन हुआ है वो क्वालिटी पावर की गारंटी देते हैं।

एक प्रकार से आज किसी एक समारोह में करीब-करीब 5000 करोड़ रुपये का काम काशी की धरती को अर्पित हो रहा है।

ये छोटा काम नहीं है। और बड़ी-बड़ी योजनाएं मैं कहूं तो आज सात योजनाएं मेरे काशी वासियों के सामने लोकार्पण के रूप में या शिलान्यास के रूप में मैंने रखी हैं। एक तरह से ये सप्तर्षि है। जैसे आकाश में सप्तर्षि दिशा का काम करते हैं, सप्तर्षि को देखकर के समंदर में नाविक अपनी दिशा तय करता है, पहले के जमाने में जंगलों से गुजरने वाले लोग सप्तर्षि को देख अपना रास्ता तय करते थे। काशी की विकास की राह तैयार करने वाला ये सप्तर्षि आज मुझे यहां की धरती को दने का अवसर मिला है।

काशी का अविरल प्यार मुझे मिलता रहा है। भरपूर प्यार मिलता रहा है। मैं आपका ह्दय से बहुत-बहुत आभारी हूं और मुझे विश्वास है कि विकास की यात्रा तेज गति से पूरे पूर्वी भारत को बदलाने का काम करेगी और काशी अपनी ताकत दिखा कर रहेगी इस विश्वास के साथ आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद।