Share
 
Comments

Shri Narendra Modi addressed audience at DAV School, Chennai via video conferencing

  • The Chief Minister offered his tribute to Varadarajanji, a humble RSS worker who inspired by Guruji Gowalkar, built up a massive educational infrastructure.
  • In the 21st century, Asia will rule the world and India in particular will lead: CM.
  • Fundamentally Gujarat has changed access to tertiary education and has increased the number of colleges from 442 in 2001 to 1,762 in 2011, says Narendra Modi.
 

On August 3, 2012, Gujarat Chief Minister Shri Narendra Modi addressed the students and staff of DAV School, Adambakkam, Chennai, via video conferencing on the occasion of the school’s 28th Annual celebrations. The Chief Minister said the celebration becomes important as it is taking place in the year of 150th birth anniversary of Swami Vivekanandaji. He wished great success to the school, students and teachers and asked them to celebrate years of dedication and commitment put in by the people running the institute. Shri Modi also praised the institute’s authorities who worked hard since the inception days and scaled new heights.

The Chief Minister offered his tribute to Varadarajanji, a humble RSS worker who inspired by Guruji Golwalkar, built up a massive educational infrastructure. He said in the 21st century, Asia will rule the world and India in particular will lead.  Shri Modi was impressed with the range of activities the school had undertaken for the students. To name a few: intellectual development, cultural, artistic & literary, yoga and meditation, sports and physical education, and citizenship training.

Narendra Modi said officials of government of Gujarat went to every household and launched a state-wide drive in 2003 for enrolling students into schools. Adding to this, he said, special thrust has been given to the enrolment of girl child in Gujarat. The programme runs under the name of Shala Praveshotsav and Kanya Kelavani. The Chief Minister also emphasized on the fact that these two schemes benefitted the children of the state and the government has thus been able to reduce the dropout ratio from 20.5% in 2001-02 to 2.09% in 2010-11. He also spoke on Gunotsav, an annual quality education campaign that is being undertaken by the Gujarat government since past two years.

Shri Modi said fundamentally Gujarat has changed access to tertiary education and has increased the number of colleges from 442 in 2001 to 1,762 in 2011. The state has set up universities like National Law University, Children’s University, Sanskrit University, Sports University and Indian Institute of Teacher's Education. Through ‘Vanche Gujarat’ 60 lakh people read together at one point of time, the Chief Minister said adding that to build youth power in the state, the first and foremost thing is to reach out to children and universalize access to secondary education, thus increasing the percentage of people taking higher education. Adding to this, Narendra Modi said Gujarat government is also organising world’s biggest sports events like the Yoga Demonstration, Chess competition and Khel Mahakumbh.

Shri Modi also said eMPOWER is an initiative undertaken by the Gujarat government to provide and enhance skills of the youth today. iCREATE is another programme which the Gujarat government has initiated to promote innovation among the youth. Narendra Modi conveyed his regards to Dr. J. Jayalalithaaji and said under her leadership Tamil Nadu will progress in the field of education. He also gave his best wishes to the students of DAV school.

Read Text Speech: CM addressed gathering at DAV School, Chennai

Explore More
PM Modi addressing at the Joint Meeting of U.S Congress in Washington DC

Share a Picture
|

PM Modi addressing at the Joint Meeting of U.S Congress in Washington DC
India tops chart on progress on financial inclusion, says BCG report

Media Coverage

India tops chart on progress on financial inclusion, says BCG report
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Sports must be a part of everyone's lives: PM Modi
July 23, 2016
Share
 
Comments
PM Modi interacts with youngsters at launch of Reliance Foundation Youth Sports
Sports must me a part of everyone's lives, says PM Narendra Modi
Sports can be a great means of national integration: PM Modi
We must not be left down by defeat. It should inspire us to work hard and shine: PM

आप सब को मेरी बहुत शुभकामनाएं हैं। खेल अपने आपमें सामान्य व्यक्ति के जीवन का हिस्सा होना चाहिए और अगर खेल को हम जिंदगी का हिस्सा नहीं बनाते हैं तो जीवन एक प्रकार से विकसित नहीं होता है। कुछ लोगों के दिमाग में ऐसा भरा पड़ा है कि physical health के लिए खेल जरूरी है। ये बहुत ही सीमित सोच है। व्यक्तित्व के संपूर्ण विकास के लिए, overall development के लिए खेल जीवन का हिस्सा होना बहुत अनिवार्य है। खेल से समाज-जीवन भी विकसित होता है, राष्ट्र-जीवन भी विकसित होता है।

भारत जैसे देश जहां पर करीब-करीब 100 भाषाएं हों, 1700 dialects हो, भांति-भांति के पहनावे हो, भांति-भांति के खान-पान हो। हमारे देश में तो एक छोर से दूसरे छोर तक district level की टीमें अगर खेलती रहें, 12 महीनें खेलती रहें तो खेल ही नहीं National Integration का ये सबसे बड़ा एक आधार बन सकता है। और इसलिए भारत में खेल तो व्यक्तित्व के विकास के साथ, समाज के अंदर एक lubrication के लिए, क्योंकि जो sports हो तो sportsman spirit आता है और जब sportsman spirit होता है तो एक प्रकार से पारिवारिक जीवन में, सामाजिक जीवन में, राष्ट्र जीवन में ये lubrication का काम करता है, खुलापन लाता है, दूसरों को स्वीकारने का सामर्थ्य देता है।

खेल में जीतने का जितना आनंद होता है, उससे ज्यादा पराजय को पचाने की एक बहुत बड़ी ताकत खेल से आती है। जो व्यक्ति जिंदगी में खेलता रहता है। कभी लुढ़क जाता है फिर कभी उठकर खड़ा हो जाता है, वो कभी जिंदगी के और अवसरों पर हार नहीं मानता है। खेल एक जीवन के अंदर ऐसे गुणों को विकास करता है, जीवन भर जूझने का सामर्थ्य देता है, खिलाड़ी कभी हार नहीं मानता है। जो खिलाड़ी सिर्फ शारीरिक खेल खेलता है, उसकी मैं बात नहीं करता हूं। जो शरीर और मन से खेल से जुड़ा हुआ होता है, वो इसको पा सकता है और इसलिए sports का अपने जीवन में, राष्ट्र के जीवन में महत्व होना चाहिए।

आप सब आज फुटबाल खेलने की शुरुआत कर रहे हैं, match कर रहे हैं और मैं Reliance sports foundation को बधाई देता हूं कि उन्होंने देश की युवा पीढ़ी के साथ जुड़कर के खेल को महत्व देना का प्रयास किया है। Talent को खोजना, ये सबसे बड़ा काम होता है और जब तक व्यापक स्तर पर हमारे बाल मित्रों को खेलने का मौका नहीं मिलता है, Talent का पता ही नहीं चलता है और आज sports के साथ, glamour भी आई है और उसके कारण कभी-कभी परिवार के लोग भी बच्चों को खिलाड़ी तो बनाना चाहते हैं लेकिन सुबह 4 बजे मेहनत करने की बात आए तो थोड़े पीछे रह जाते हैं तो पहले इसमें glamour आए, भले ही उसमें celebrity का status बन जाए लेकिन खेल कठोर परिश्रम के बिना आगे नहीं बढ़ सकता है।

मुझे विश्वास है कि Reliance foundation के द्वारा लगातार sports को बढ़ावा देने के लिए grass route पर अनेक विभिन्न स्पर्धाएं चलती रहेंगी और स्पर्धाओं में से talent निकलेंगी और जितनी स्पर्धा से talent निकलेंगी, उतना ज्यादा लाभ होगा। मेरी Reliance foundation को, नीता बहन को बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं और आप सभी विद्यार्थियों को, आप बाल मित्रों को, sports के जीवन में पराजय को हमेशा अवसर मानना, पराजय से कभी परेशान मत होना। पराजय सिखाता है, बहुत कुछ सिखाता है और जो खेलता नहीं है वो न जीतता है और न ही पराजित होता है। जीतता भी वही है, पराजित भी वो ही होता है जो खेलता है और खिलता भी वही है जो खेलता है।

जो खेले, वो खिले अगर आप खेलते ही नहीं है तो खिल भी नहीं सकते हैं। और इसलिए व्यक्तित्व का विकास करना है, खुद को खिलते हुए देखना है। जैसे कमल का फूल खिलता है, जैसे एक पौधा खिलता है, वैसे ही जीवन भी खिलता है और खेल खिलने के लिए एक सबसे बड़ी औषध है, सबसे बड़ा अवसर है, सबसे बड़ी challenge भी है। और इसलिए मैं आज आप सब बाल मित्रों के माध्यम से खेल जगत से जुड़े हुए सबको शुभकामनाएं देता हूं। Sports शब्द, उस एक शब्द से हम खेल जगत की दिशा क्या हो, खेल जगत की दृष्टि क्या हो इसको भलीभातिं व्याखित कर सकते हैं। जब हम sports कहते हैं: S stands for Skill, P stand for Perseverance, O stands for Optimism, R stands for Resilience, T stands for Tenacity, S stands for Stamina, इन सब चीजों को लेकर हम पूरी अपनी रचना करेंगे तो हमको बहुत सफलता मिलेगी और आज इस अवसर पर मैं आप सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं, I wish you all the best.