Share
 
Comments 37 Comments
""An occasion to build national character""

Series of initiatives announced

  1. Pradhanmantri Jan-Dhan Yojana to provide for a bank account, a debit card and an insurance amount of Rs. one lakh, for the poor
  2. Digital Infrastructure a priority to empower Indians
  3. Swachh Bharat initiative to be launched on October 2nd
  4. Toilets in all schools within a year
  5. Saansad Adarsh Gram Yojana to be launched
  6. New institution to replace Planning Commission
l2014081555809  _ 684

Prime Minister, Shri Narendra Modi, today called upon all citizens to contribute to the cause of building national character. Addressing the nation for the first time from the ramparts of the Red Fort on the 68th Independence Day, he said, it is an occasion for introspection for all, as to how his or her acts would weigh on the scale of National Interest. Let all actions be in the National Interest, and be seen as a contribution towards nation building, the Prime Minister said.

 Greeting the people of India on Independence Day, Shri Narendra Modi stated that he was addressing them not as "Pradhan Mantri" but as "Pradhan Sewak" – the first servant.

 Prime Minister Narendra Modi announced a series of initiatives aimed at empowering the common man, and unleashing the potential of India's youth.

In a major new scheme to universalize banking access and financial inclusion, the Prime Minister announced the Pradhanmantri Jan-Dhan Yojana which will provide for a bank account, a debit card and an insurance amount of Rs. one lakh, to poor families.

 A nationwide "Skill India" movement will be initiated to provide skills which ensure employability.

MAS_3725  _ 684

 The Prime Minister also announced a vision of "Come and Make in India" inviting manufacturers from across the world to invest in India, and help boost India's industrial growth. He called upon the youth of India to unleash their entrepreneurial spirit and work towards manufacturing in India, the various items that add to our import bill. Let "Made in India" become a synonym of excellence, he added.

 Emphasizing that digital infrastructure is a priority to empower the citizens, Shri Narendra Modi announced his Government's resolve to work towards Digital India, which would provide information and services to the people in a timely and effective manner.

 Stressing on the need for cleanliness, the Prime Minister announced his Government's resolve for "Swachh Bharat" – a vision which will be launched on October 2nd this year, to be accomplished by 2019, on the 150th birth anniversary of Mahatma Gandhi. In a related initiative, the Prime Minister said the first step towards "Swachh Bharat" begins with immediate effect, through a commitment to build toilets in all schools, including separate toilets for girls, within one year.

 The Prime Minister announced the launch of the Saansad Adarsh Gram Yojana, under which each Member of Parliament would be invited to make one model village in his constituency, by 2016. He said a complete blueprint for this scheme would be announced on October 11th, the birth anniversary of Shri Jayaprakash Narayan.

MAN_9012_684

 Shri Narendra Modi announced that a new institution would be created to replace the Planning Commission. This new institution would respect the federal structure of the country, he asserted.

 Thanking all Members of Parliament, including the Opposition Parties for a productive session of Parliament, the Prime Minister said his Government wished to move forward by consensus.

 Referring to reports of the positive change in work culture of the Union Government since he took over as Prime Minister, the Prime Minister said he was taken aback by such news reports – since it should be the norm for Government Servants to work with due diligence. The Prime Minister said the fact that this should make news, shows how low our collective standards of duty and responsibility have fallen. The Prime Minister called upon society to give up the selfish attitude of 
"Mera Kya, Mujhe Kya."

 The Prime Minister also said he was appalled by the discord and disunity among various Government departments that he saw after assuming office. He assured the people that he would resolve this issue, so that the Government of India worked not as an assembled entity, but as an organic entity. The Prime Minister said development and good governance were the only two tracks which could take the nation forward.

l2014081555812 _ 684

 The Prime Minister expressed dismay at the rising number of rape incidents in the country. Pointing out that daughters are asked a lot of questions in a family, he called upon parents to question their sons also, and keep a tab on their activities. Every rapist is someone's son, the Prime Minister said. In a similar vein, he called upon misguided youth who had taken to terrorism or Maoism, to give up violence and return to the national mainstream.

crowd_684_1

 The Prime Minister quoted Shri Aurobindo and Swami Vivekananda, reflecting on their vision to see India as a 
"Jagatguru" once again, and called upon all Indians to help convert this vision into reality.

Explore More
PM Modi addressing at the Joint Meeting of U.S Congress in Washington DC

Share a Picture
|

PM Modi addressing at the Joint Meeting of U.S Congress in Washington DC
India's smartphone revolution: 35 units, 37,000 jobs in 2 years

Media Coverage

India's smartphone revolution: 35 units, 37,000 jobs in 2 years
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Museum at Rashtrapati Bhavan is a great attempt to bring the past back to life: PM
July 25, 2016
Share
 
Comments
Publications released today are Granths. They will leave a mark in history: PM Modi
Contribution of President Mukherjee to India is immense: PM Modi
We can learn from President Mukherjee how people from diverse political backgrounds can work together: PM

 

उपस्थित सभी वरिष्ठ महानुभाव,

राष्ट्रपति जी के कार्यकाल का आज चार वर्ष पूर्ण होने पर मैं आदर्णीय राष्ट्रपति जी को हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं, अभिनन्दन करता हूं, शुभकामनाएं देता हूं। आपके चार साल के कार्यकाल में अधिक समय मुझे आपके साथ प्रधानरूपमंत्री के रूप में कार्य करने सौभाग्य मिला। मैं दिल्ली की दुनिया में नया था। ये सारा माहौल मेरे लिये नया था। ऐसे समय राष्ट्रपति जी ने एक Guardian की तरह एक Mentor की तरह बहुत से विषयों पर मुझे उंगली पकड़ कर चलाया। ऐसा सौभाग्य बहुत कम लोगों को मिलता है, जो मुझे मिला है।

आज यहां कई ग्रंथों का लोकार्पण हुआ है। मैं किताब नहीं कह रहा हूं ग्रंथ कह रहा हूं। मैं ग्रंथ इसलिए कह रहा हूं कि इनमें वो चीजें समाहित हैं, जो कल्पना के दायरे से नहीं इतिहास के झरोखे से निकली हुई है। और जो चीजें इतिहास के झरोखे से निकलती है। वे आने वाले पीढ़ियों के मन-मंदिर में एक अमिट छाया छोड़कर के जाती है। और उस अर्थ में ये जो प्रकाशन है, वो प्रकाशन इतिहास का हिस्सा बनने जा रहा है। मैं इस कार्य के लिए राष्ट्रपति जी को और उनकी पूरी Team को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

अभी Museum देखने का सौभाग्य मिला। श्रीमान घोष का इतना उत्साह था कि अगर ओमिता ने रोका न होता तो शायद हम रात को ग्यारह बजे यहां आते। और आपमें से जिसको भी इस Museum को देखने का समय मिले। मैं आग्रह करूंगा पूरा दिन निकालकर के आइए, इतनी बारीकियां हैं। इतनी विविधता है। और इतिहास को पुनर्जीवित करने का एक अद्भुत प्रयास है। ये ऐसा Museum है, जहां इतिहास, कला, कल्पना शक्ति और Technology ये चारों का मिलन है और इसलिए जो भी इससे जुड़ेगा। वो इन चारों के माध्यम से इतिहास को जी सकता है। सिर्फ इतिहास को जान सकता है, ऐसा नहीं, वो कुछ पल के लिए इतिहास को जी सकता है। और इस अर्थ में मैं समझता हूं की जिस वैज्ञानिक तरीके से, जिस Research के साथ और जो कलात्मक रूप से उसका Presentation किया है, उसके लिए श्रीमान घोष और उनकी पूरी Team को मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं। और उनका अभिनन्दन करता हूं।


राष्ट्रपति जी ने भारत के जीवन में तो बहुत बड़ा योगदान दिया है। एक लंबा कार्यकाल रहा है उनका सार्वजनिक जीवन का। लेकिन चार साल की अल्पावधि में आपने राष्ट्रपति भवन को भी बहुत कुछ दिया है। एक प्रकार से राष्ट्रपति भवन सामान्य मानव, को इतिहास को और भारत के सर्वोच्च स्थान को एक प्रकार से उन्होंने मिलन बिन्दू बनाया है। और ये हमने आपमें आपका बहुत बड़ा योगदान इस परिसर के संदर्भ में मैं देखता हूं। और सबसे बड़ी खुशी की बात यह है, मेरा राजनीतिक Background अलग है। राष्ट्रपति जी का राजनीतिक Background अलग है। लेकिन लोकतंत्र में भिन्न विचार प्रभावों से पले बड़े व्यक्ति भी किस प्रकार से कंधे से कंधा मिलाकर के काम कर सकते हैं। ये राष्ट्रपति जी के पास रह कर के हर पल हम अनुभव कर सकते हैं।

भारत सरकार की जितनी योजनाएं हैं। कई राज्य ऐसे होंगे, जिनको शायद भारत सरकार की कुछ योजनाएं लागू करने में या लागू किये तो, बोलने में थोड़ा झिझक रहती होगी। मैं आज बड़े गर्व के साथ कहता हूं कि भारत सरकार की जितनी योजनाएं, ये राष्ट्रपति भवन परिसर..ये भी एक छोटा सा गांव है। दस हाजर से ज्यादा लोग यहां रहते हैं। इस गांव के रूप में उन सारी योजनाओं को यहां लागू करने का प्रयास हुआ है। चाहे Renewable Energy की बात हो। Water conversation की बात हो। Environment related initiatives हों। हर चीज को Digital India तो यहां Digital राष्ट्रपति भवन। एक प्रकार से भारत सरकार की सारी योजनाओं को miniature रूप में यहां पर लागू करने का भरपूर प्रयास राष्ट्रपति जी ने किया है। किसी ओर व्यक्ति की दल की सरकार हो, उसके बावजूद भी उस सरकार के कार्यक्रम राष्ट्रपति भवन के भी कार्यक्रम बनने चाहिए। ये ऊंचाई आदर्णीय प्रणव दा ही दिखा सकते हैं। और इसलिए मैं उनका हृदय से वंदन करता हूं। अभिनन्दन करता हूं।

मुझे विश्वास है और इतिहास जीवन को एक जड़ी बूटी के रूप में काम आता है। जो इतिहास को भूल जाते हैं। वो एक प्रकार से जीवन के रस कस को खो देते हैं। मंदिर में जो मूर्तियां होती हैं। पत्थर से ही अलंकृत होती हैं। लेकिन सालों साल अनेक लोगों की भक्ति से वो भगवान का रूप धारण कर लेती है। ऐतिहासिक स्थानों के हर पत्थर उस पत्थर का भी अपना एक इतिहास होता है। हर पत्थर चीख – चीख कर के बीते हुए कल की बात बता करके आने वाले कल के लिए रास्ता दिखाने की ताकत रखता है। लेकिन आवश्यकता होती है। उस पत्थर को भी सुनने के लिए सामर्थ पैदा करने की। इस Museum के द्वारा पत्थर को बोलने की ताकत दी गई है। हम उसे सुनने की ताकत लें। और नई आने वाली पीढ़ी को कुछ पाने देने के लिए एक नया सार्थ प्राप्त करें।

मैं फिर एक बार इस प्रयास के लिए सबका अभिनन्दन करता हूं। आदर्णीय राष्ट्रपति जी का फिर से एक बार चार वर्ष पूर्ण हो कर के अगले वर्ष के लिए हम सबको बहुत ही उत्तम मार्गदर्शन मिले। इसके लिए अपेक्षा करते हुए प्रेरणा के लिए आभार व्यक्त करते हुए आप सबका बहुत – बहुत धन्यवाद।