Reflections

Reflections

What has been the mandate, the motto of our Government? It’s the altruistic and encompassing ‘Sabka Sath Sabka Vikas’. By ‘Sabka Sath’; our benevolent Prime Minister …
JP Nadda
March 27, 2017
शेयर करें
In the past three years, the Modi government has undertaken a series of sweeping economic reforms. In fact, if the 1991 liberalization efforts are characterized as Reforms 1.0, and if the …
Jayant Sinha
March 27, 2017
शेयर करें
विश्व अर्थव्यवस्था के सुस्त विकास के बीच भारत ने विकास के बैटन को थाम लिया है और वैश्विक विकास के दिशा निर्देशक के रूप में उभरा है। अगले दशक में, बढ़ती हुई पीपीपी जीडीपी की वृद्धि के संदर्भ में, भा…
Jayant Sinha
March 17, 2017
शेयर करें
भारत कितनी बड़ी शक्ति बन सकता है? क्या “महानता” आर्थिक, सैनिक और राजनीतिक शक्ति की संकेत है या फिर ये किसी देश की अपनी सामर्थ्य से ज्यादा कोशिश करने की परिवर्तनशील योग्यता का प्रतीक है?…
Samir Saran
March 17, 2017
शेयर करें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इंदिरा गांधी के बाद देश का सबसे ताकतवर प्रधानमंत्री कहा जाने लगा है। अब तो विपक्ष के वरिष्ठ नेता भी इस बात को मानने लगे हैं। हाल ही में कांग्रेस के एक बहुत ही वरिष्ठ ने…
Baijayant Jay Panda
March 17, 2017
शेयर करें
भारत की वर्तमान वित्तीय स्थिति को स्वर्ण युग माना जा रहा है और न्यूनतम नकदी अर्थव्यवस्था की दिशा में किये गये प्रयास ही इसे इस दिशा में आगे ले जा रहे हैं। रिपोर्टों के मुताबिक हाल-फिलहाल तक देश में…
Nandan Nilekani
March 16, 2017
शेयर करें
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अद्वितीय, गतिशील और दूरदर्शी नेतृत्व के तहत हमारी सरकार ’सबका साथ सबका विकास’ के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। ’सब…
JP Nadda
March 16, 2017
शेयर करें
भारत के नागरिकों ने बड़ी उम्मीदों के साथ 2014 में भारत को बदलने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बहुमत के साथ चुना था। कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए शासन के पिछले 10 वर्षों को अत्यधिक भ्रष्टाचा…
Piyush Goyal
March 12, 2017
शेयर करें
1959 में आर्थर बोनेर ने India’s masses: The Public Cant be reached के नाम से एक लेख लिखा। बोनेर ने राष्ट्रवाद के विकास के लिए एक सामान्य उद्देश्य के रूप में प्रभावी संचार की कमी पर प्रकाश डाल…
Ankhi Das
March 12, 2017
शेयर करें
देश के रक्षा मंत्रालय की छवि वर्षों से एक ऐसी विशालकाय संस्था के रूप में बनी हुई थी जिसे हिलाना-डुलाना बेहद मुश्किल है और जहां काम कछुआ चाल से होता है। इस मंत्रालय के जिम्मे देश की रक्षा ही नहीं, ब…
Nitin A. Gokhale
March 12, 2017
शेयर करें